Posted on Leave a comment

History of Haryana- Mahatma Gandhi in Haryana || Study Material

History of Haryana- Mahatma Gandhi in Haryana || Study Material

History of Haryana- Mahatma Gandhi in Haryana || Study Material

Haryana State and Gandhi Ji

Mahatma Gandhi in Haryana

  • The purpose of Mahatma Gandhi’s visit to Haryana is mainly related to two subjects.
  • The first non-cooperation movement and the establishment of order by restoring communal riots spread after the partition of India.  Haryana.
  • Gandhiji from Africa on January 9, 1915 Came to India Gandhiji called for nationwide strike against the Rowlatt Act on March 30, 1919. Later, he changed this date to April 6. In Haryana.  In most places, there was a strike on both the days.

हरियाणा में महात्मा गाँधी

  • महात्मा गाँधी की हरियाणा यात्रा का उद्देश्य मुख्य रूप से दो विषयों से सम्बंधित था |
  • पहला असहयोग आंदोलन और दूसरा भारत के विभाजन के बाद हुए सांप्रदायिक दंगों को रोककर क़ानून व्यवस्था की स्थापना करना|
  • गाँधी जी 9 जनवरी 1915 को अफ्रीका से भारत वापस आये | 30 मार्च 1919 को गाँधी जी ने रौलेट एक्ट के विरुद्ध देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया | बाद में उन्होंने इस तारीख को बदलकर 6 अप्रैल कर दी | अधिकाँश स्थानों पर, ये दोनों दिन हड़ताल हुए |

Gandhiji’s arrest

  • On the invitation of Swami Shraddhanand and other leaders, Gandhiji went on tour from Bombay on April 6, 1919 to Delhi and Punjab (Haryana).
  • The government was nervous about the news of their arrival and Gandhiji was called to Palwal, When the train stopped there, stopped them from going ahead and arrested on April 8, 1919, it was Gandhi’s first arrest in India.

गाँधी जी की गिरफ़्तारी

  • स्वामी श्रद्धानंद और अन्य नेताओं के आमंत्रण पर, गाँधीजी 6 अप्रैल 1919 को बॉम्बे से दिल्ली और पंजाब की यात्रा पर गए |
  • सरकार उनके आने की खबर से बेचैन थी तथा गाँधी जी को पलवल बुलाया गया, जब ट्रेन वहाँ रुकी, तो उन्हें आगे जाने से रोक दिया गया और 8 अप्रैल 1919 को गिरफ्तार कर लिया | यह गाँधी जी की भारत में पहली गिरफ़्तारी थी |  

Gandhiji in Panipat

  • In Panipat , There were majority of Muslims , though majority of Muslims had gone to Pakistan. Patriot Maulana Laucala said, ‘I will die only in my own nation.’ They took Gandhiji on 9th December, 1947 in Panipat.
  • Gandhiji appealed to keep peace with Muslims and also taught Punjab’s Chief Minister Dr. Gopichand Bhargava that ‘Be a good leader, be a good administrator.’

पानीपत में गाँधी जी

  • पानीपत में मुसलमान बहुसंख्यक थे, यद्यपि अधिकाँश मुस्लिम पाकिस्तान जा चुके थे | देशभक्त मौलाना लुकाला ने कहा था  “मैं केवल अपने राष्ट्र में मरूँगा| ” वे गाँधी जी को 9 दिसम्बर 1947 को पानीपत लेकर आयें |
  • गाँधी जी ने मुस्लिमों से शांति बनाए रखने की अपील की तथा साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री डॉ. गोपीचंद भार्गव को भी यह शिक्षा दी कि ‘एक अच्छे नेता बनो, एक अच्छे प्रशासक बनो |’

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Revolution of 1857 || Haryana GK Study Notes- History Discussion

Revolution of 1857 || Haryana GK Study Notes- History Discussion

Revolution of 1857 || Haryana GK Study Notes- History Discussion

Revolution of 1857

  • East India Company had two main functions in India- To expand the empire and economic exploitation.
  • With the accumulated influence of this entire policy, it had adverse impacts on all the sections, kings of Princely states, soldiers, landlords, peasants,  and maulwis except the western educated section living in cities who were dependent on the company for their livelihood.

1857 की क्रांति

  • ईस्ट इंडिया कंपनी के भारत में दो प्रमुख कार्य थे साम्राज्य बढ़ाना और आर्थिक शोषण। अंग्रेजो  की धन लोलुपता की कोई सीमा नहीं थी।
  • इस समस्त शोषण नीति से संचित प्रभाव से भारत में सभी वर्गों, रियासतों के राजाओं, सैनिको, जमींदारों, कृषकों, मौलवियों, केवल नगरों में पाश्चात्य शिक्षा प्राप्त वर्ग जो अपनी जीविका के लिए कंपनी पर निर्भर थे, उनको छोड़कर शेष सभी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।

Revolution in the Gurugram District

  • 300 soldiers of Delhi went to attack Gurugram on May 13. William Ford, the Collector Magistrate, tried to stop the rebels  at Bijwasan, 12 kilometers away from Gurugram, but he failed to do so.
  • On the second day, the rebels attacked on Gurugram. Ford ran away from Gurugram. In this mission, the rebels got Rs. 7,84,000 from the treasury of Gurugram. As soon as this news came to light, the people of Gurugram also revolted.

जिले  गुरुग्राम में क्रांति

  • दिल्ली के 300 सैनिक 13 मई को गुरुग्राम पर आक्रमण करने के लिए गए। विलियम फोर्ड कलेक्टर मजिस्ट्रेट ने विद्रोहियों को गुरुग्राम से 12 किलोमीटर दूर दिल्ली की तरफ बिजवासन के स्थान पर रोकना चाहा परंतु वह असफल रहा।
  • दूसरे दिन सुबह गुरुग्राम पर विद्रोहियों ने आक्रमण कर दिया। फोर्ड गुरुग्राम छोड़कर भाग गया। विद्रोहियों को इस अभियान में 7,84,000 रुपये गुरुग्राम के खज़ाने से हाथ लगे। इन बातों की खबर मिलते ही गुरुग्राम की जनता भी भड़क उठी।

Revolution in Hisar district

  • In the third week of May, Revolution in Hisar was started by the army squads of Haryana Light Infantry situated in Hisar, Hansi, and Sirsa.
  • The public here also followed the troops from their  heart and soon the revolution in the entire district got erupted. The revolutionaries in the Hisar district were led by the  assistant patrolling officer of Bhatt, Shahjada Muhammad Azim.

हिसार जिले में क्रांति

  • हिसार जिले में क्रांति का श्री गणेश मई के तीसरे सप्ताह में हिसार हाँसी और सिरसा में स्थित हरियाणा लाइट इफेंटरी के सैनिक दस्तों ने किया।
  • यहां की जनता ने भी हृदय से सैनिको का अनुकरण किया और शीघ्र ही सारे जिले में क्रांति भड़क उठी। हिसार जिले में क्रांतिकारियों का नेतृत्व भट्ट के सहायक पेट्रोल अधिकारी शहजादा मुहमद आजिम ने किया।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

History Notes- Socio-Religious Movements || Know your Haryana

History Notes- Socio-Religious Movements || Know your Haryana

History Notes- Socio-Religious Movements || Know your Haryana

Socio – Religious Movements in Haryana  and Advent of British in India

  • The promoter of Arya Samaj was Swami Dayanand. He had established this organisation on 10 april 1875 in Bombay  to remove the malpractices in the Hinduism and build a healthy society.
  • Coming from Punjab, Swami ji first time came to Ambala on July 17 1878. He had to stay in this place to change his train because he had to go to Rudki. But the true arrival of Swami Ji took place in 1880 AD when Swami Ji stayed in Rewari, the famous town of Haryana.

हरियाणा में सामाजिक व धार्मिक आंदोलन :-

  • आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानंद थे। उन्होंने इस संस्था की स्थापना हिंदू समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने तथा एक स्वस्थ समाज के निर्माण हेतू 10 अप्रैल 1875 को बम्बई में की थी।
  • स्वामी जी पहली बार पंजाब से आते हुए हरियाणा के शहर अंबाला में 17 जुलाई 1878 को आए। इस स्थान पर स्वामी जी को रेलगाड़ी बदलने के लिए ठहरना पड़ा था क्योंकि यहां से उन्हें रूड़की जाना था। लेकिन स्वामी जी का सही मायने में आगमन 1880 ई० में हुआ, जब स्वामी जी ने हरियाणा की प्रसिद्ध नगरी रेवाड़ी में आकर ठहरे।

Arrival of the British in India

  • Arrival of the British in Haryana : After the third battle of Panipat in 1761, the Afghans returned to North and Marathas had to go to South. The jats and sikhs were left to fill this naught.
  • Delhi has always been the heart of the political life of Haryana  and neighbouring regions. After the decline of the Mughal Empire in the beginning of 18th century, it fell rapidly.

भारत में ब्रिटिशों का आगमन

  • हरियाणा में ब्रिटिशों का आगमन 1761 में पानीपत की तीसरी लड़ाई के बाद, अफगान उत्तर लौट आए और मराठों को दक्षिण में जाना पड़ा, सिखों और जाटों को शून्य को भरने के लिए छोड़ दिया गया।
  • दिल्ली हमेशा हरियाणा और पड़ोसी इलाके के राजनीतिक जीवन का दिल रहा है। 18 वीं शताब्दी की शुरुआत से मुगल साम्राज्य के विघटन के बाद यह तेजी से गिरावट आई थी।

Partition of Haryana

  • In 1805,  the british split Haryana into two parts due to administrative and political reasons. A small part of the allotted area was kept under direct control of the company. The bigger one was divided and handed over to the various rulers.  Allotted regions included Panipat, Sonipat, Samalkha, Ganaur, Palam, Palwal, Nuh, Nagina, Haithin, Firozpur, Jhirka, Sohna, and Rewari.
  • This area was administered by the officer regident of the East India Company and they directly reported to the Governor General. The second bigger part was divided into various Princely states and handed over to the loyal local kings and the Nawabs. But, this system was not good with the people of Haryana, who are of independent nature and do not like if someone interferes in their matters. But, by 1809 AD, The british had completely established their control over Haryana.

हरियाणा का विभाजन

  • 1805 में, अंग्रेजों ने प्रशासनिक और राजनीतिक कारणों से हरियाणा को दो हिस्सों में विभाजित किया। आवंटित किए गए क्षेत्र नामक एक छोटा सा हिस्सा सीधे कंपनी के नियंत्रण में रखा गया था। बड़ा हिस्सा विभाजित किया गया था और विभिन्न स्थानीय शासक को सौंप दिया गया था, जो अंग्रेजों के प्रति वफ़ादारी  थे। आवंटित किए गए प्रदेशों में पानीपत, सोनीपत समालखा , गणौर, पालम, पलवल, नुह, नगीना, हैथिन, फिरोजपुर झिरखा, सोहना और रेवाड़ी के अंतर्गत के क्षेत्र शामिल थे।
  • इस क्षेत्र को निवासी ईस्ट इंडिया कंपनी के अधिकारी रेजिडेंट  द्वारा प्रशासित किया गया था और उन्होंने सीधे गवर्नर जनरल को बताया। दूसरा बड़ा हिस्सा विभिन्न रियासतों में बांटा गया था और वफादार स्थानीय राजाओं और नवाबों को सौंप दिया गया था। लेकिन, ये व्यवस्था हरियाणा के लोगों के साथ बहुत अच्छी नहीं थी, जो प्रकृति से स्वतंत्र हैं और स्वतंत्र मामलों को अपने मामलों में दखल देने की तरह नहीं हैं। लेकिन 1809 तक, अंग्रेजों ने हरियाणा के क्षेत्र पर पूर्ण नियंत्रण स्थापित किया था।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Haryana During Maratha Period

  • After the death of Aurangzeb, Anarchy spread everywhere. Civil war broke out between the sons of Aurangzeb.
  • Taking the advantage of this situation, the local Sardars became independent but the situation of haryana became worst.
  • Many local powers emerged here too but they maintained the peace and order in their regions. Faujdar Khan in Farukh Nagar, Rao Nand Ram in Rewari, Shahdad Khan in Hisar, and Menjombal Khan in Kunjpura were main among them.
  • The regions of Rohtak, Panipat, Sonipat, and Karnal were under Mughals only for the name. In such circumstances, the Marathas came.

मराठा शासनकाल के दौरान हरियाणा

  • औरंगज़ेब की मृत्यु के बाद चारों तरफ अराजकता फैल गई। औंरगजेब के पुत्रों में गृहयुद्ध आंरभ हो गया।
  • इस रिथति का लाभ उठाकर स्थानीय सरदार स्वतंत्र हो गए। लेकिन हरियाणा की स्थिति काफी खराब हो गई।
  • यहां भी कई स्थानीय शक्तियां उभरकर आ गई पर उन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में शांति तथा व्यवस्था को कायम रखा। इनमें फरुख नगर में फौजदार खां, बल्लभगढ़ में गोपाल सिंह, रेवाड़ी में राव नंदराम, हिसार में सहदाद खां और कुंजपुरा में मेनजोंबल खा मुख्य थे।
  • रोहतक, पानीपत, सोनीपत और करनाल के क्षेत्र केवल नाममात्र के ही मुगलों के अधीन थे। ऐसी परिस्थितियों में मराठों का आगमन हुआ।

Third Battle of Panipat

  • When Ahmed Shah Abdali got the news of the rights of the Marathas on Punjab, he left Kabul in 1761 AD and moved towards Punjab.
  • At this time he also got the support of Nawab of Ruhla and Nawab of Awadh. Soon he took control of Punjab and reached Tarawadi via Lahore, Goindwal Sirhind and Ambala .
  • Here, Peshwa sent Sadashiv Rao Bhau to fight the invaders, and gave an army to his son, Vishwas Rao and sent him  to the north.
  • Malhar Rao Janak ji and Jat Raja Surajmal met on the way, near chambal and came along with him.

पानीपत का तीसरा युद्ध

  • जब अहमदशाह अब्दाली को पंजाब पर मराठों के अधिकार का समाचार मिला तो वह 1761 ई० में काबुल छोड़कर पंजाब की तरफ बढ़ा।
  • इस समय उसे रूहेला और अवध के नवाब का सहयोग भी प्राप्त था। शीघ्र ही उसने पंजाब पर अधिकार कर लिया और लाहौर, गोइंदवाल सरहीद, अंबाला होते हुए तरावड़ी तक आ पहुंचा।
  • इधर पेशवा ने आक्रमणकारी का मुकाबला करने के लिए सदाशिव राव भाऊ, और अपने बेटे विश्वास राव को एक सेना देकर जिसके पास सैनिक साजो सामान तथा पैसे की कमी थी उत्तर की तरफ रवाना किया।
  • रास्ते में चंबल के पास मल्हार राव जनको जी और जाट राजा सूरजमल भी उसके साथ आ मिले।

Maratha reinstatement

  • Due to the death of Mirza Najaf, the Delhi Darbar was once again haunted by political conspiracy.
  • Badshah Shah Alam who was very old at this time was unable to stop them. So he invited Maratha Sardar Mahadji Scindia to help.
  • Scindia reached Delhi for this immediately. Nobody had the courage to oppose Scindia.
  • Emperor immediately appointed Scindia as the Chief General of the Imperial Army and the Director of State of Delhi.

मराठों का पुनःअधिकार  

  • मिर्जा नजफ के मरते ही दिल्ली दरबार एक बार फिर राजनैतिक षड़यंत्रे का अड्डा बन गया।
  • बादशाह शाह आलम जो इस समय बहुत बूढा हो चुका था इन्हें रोकने में असमर्थ था। अतः उसने मराठा सरदार महादजी सिंधिया को सहायता करने के लिए आमंत्रित किया।
  • सिंधिया इसके लिए तुरंत दिल्ली आ पहुंचा। किसी में भी इतना साहस नहीं था कि सिंधिया को विरोध कर सके।
  • बादशाह ने तुरंत सिंधिया को शाही सेना का प्रधान सेनापति और दिल्ली राज्य का संचालक नियुक्त कर दिया।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Mughal Period- History Important GK notes || Online Preparation

Mughal Period- History Important GK notes || Online Preparation

Mughal Period- History Important GK notes || Online Preparation

Mughal Period

First battle of Panipat :

  • Haryana state which is situated in the middle of Delhi and Lahore, has been a battlefield during the entire medieval period due to its significant geographical condition. Whatever external aggressor came to India with the purpose of occupying Delhi, took this area as a battlefield.
  • To lay the foundation of the Mughal empire, Panipat was selected.
  • Babur in his autobiography Tuzk-i-babri himself writes that “from acquirement of Kabul( 1526 AD)  to the victory of Panipat, I never dropped the idea of Conquering India.
  • Ibrahim Lodhi was the sultan of India when Babur attacked.

पानीपत का प्रथम युद्ध

  • हरियाणा प्रदेश जो कि दिल्ली और लाहौर के मध्य में स्थित है, अपनी महत्वपूर्ण भौगोलिक रिथति के कारण संपूर्ण मध्यकाल में लड़ाइयों का मैदान रहा है। जो भी बाहरी आक्रमणकारी दिल्ली पर अधिकार करने के उद्देश्य से भारत आया उसने इस क्षेत्र को युद्ध मैदान के रूप में अपनाया।
  • मुगल साम्राज्य की नीव रखने के लिए पानीपत के मैदान को चुना I
  • बाबर अपनी आत्मकथा ‘तुज्के – बाबरी में स्वयं लिखता है कि “काबुल की प्राप्ति से लेकर (1526 ई०) पानीपत की विजय तक मैंने कभी भी हिंदुस्तान जीतने का विचार नहीं छोड़ा I
  • बाबर के आक्रमण के समय इब्राहिम लोधी दिल्ली का सुल्तान था।

Second Battle of Panipat

  • After the death of Humayun , Hemu captured the Delhi throne on 7 October , 1556.
  • This is how, He became Hemchandra Vikramaditya , He also issued Coins on his Name.
  • On 5th November , 1556 Bairam khan defeated Hemu and killed him.
  • After that , Akbar son of Humayun got the throne of Delhi and he divided Delhi Province into 15 parts.

पानीपत की दूसरी लड़ाई

  • हुमायूँ की मृत्यु के बाद, हेमू ने 7 अक्टूबर, 1556 को  दिल्ली की गद्दी पर कब्ज़ा कर लिया |
  • इस प्रकार, वह हेमचन्द्र विक्रमादित्य बना, उसने अपने नाम पर सिक्के भी जारी किये |
  • 5 नवम्बर, 1556 को, बैरम खान ने हेमू को पराजित करके उसकी हत्या कर दी |
  • इसके बाद, हुमायूँ के पुत्र अकबर को दिल्ली की गद्दी मिल गयी और उसने दिल्ली प्रांत को 15 हिस्सों में विभाजित कर दिया |

Third Battle of Panipat

  • Third battle of Panipat was fought between Marathas and Ahmad Shah Abdali.
  • On 14 January , 1761  , Third Battle of Panipat was fought in which Marathas  was defeated.
  • Before returning back, Abdali placed the northern part of Haryana (which now includes Ambala, Jind, Kurukshetra, and Karnal districts ) under the control of his governor of Sirhind  Jain Khan and let the rest of his area continue to be the part of Mughal empire.

पानीपत की तीसरी लड़ाई

  • पानीपत की तीसरी लड़ाई मैराथन और अहमद शाह अब्दाली के बीच लड़ी गयी थी |
  • 14 जनवरी 1761 को, पानीपत की तीसरी लड़ाई लड़ी गयी थी जिसमें मराठों की हार हुई थी |
  • अब्दाली ने वापस लोटने से पहले पूर्व हरियाणा प्रदेश के उत्तरी भाग को ( जिसमे आजकल के अम्बाला , जींद , कुरक्षेत्र , तथा  करनाल जिले सम्मिलित है ) सरहिंद के अपने गवर्नर जैन खान  के अधीन कर दिया और शेष बचे हुए अपने क्षेत्र की मुग़ल साम्राज्य का पूर्ववत भाग बना रहने दिया I

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Haryana GK- Pratihara Rule/Sufi Movement in Haryana || Online Material

Haryana GK- Pratihara Rule/Sufi Movement in Haryana || Online Material

Haryana GK- Pratihara Rule/Sufi Movement in Haryana || Online Material

Pratihara Rule in Haryana

  • After Harshavardhana’s death, his vast empire soon became separated into small parts. The underlying powers were trying to be independent.
  • But what happened in Haryana after the death of Harsha is not known.
  • We know from Waqapati’s Godwahas that in the early eighth century, the area of ​​Haryana came under the control of King Yashovarman of Kannauj.
  • But soon afterwards, King Lalitaditya Muktapid of Kashmir defeated Yashovarman and took over the area.
  • So many small powers started raising their heads in Haryana and its surroundings.
  • From the Lakhimpur record of ruler Dharmapala of Pala dynasty, we know that Tomar and Bhadanak of Haryana accepted the greatness of Dharmapala.

हरियाणा में प्रतिहारों का शासन

  • हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात उसका विशाल साम्राज्य शीघ्र ही छिन्न भिन्न हो गया। अधिनस्थ शक्तियां स्वतंत्र होने का प्रयास करने लगी थी।
  • लेकिन हर्ष की मृत्यु के बाद हरियाणा में क्या हुआ यह ज्ञात नहीं है।
  • हमें वाकपति के गोडवाहों से ज्ञात होता है कि आठवीं शताब्दी के प्रारंभिक वर्षों में हरियाणा का क्षेत्र कन्नौज के राजा यशोवर्मन के अधिकार में आ गया था।
  • लेकिन कुछ ही समय पश्चात कश्मीर के राजा ललितादित्य मुक्तापीड ने यशोवर्मन को पराजित करके उस क्षेत्र पर अपना अधिकार कर लिया।
  • अतः हरियाणा और उसके आसपास के क्षेत्र में कई छोटी-छोटी शक्तियां सिर उठाने लगी।
  • पाल वंश के शासक धर्मपाल के लखीमपुर अभिलेख से हमें पता चलता है कि हरियाणा के तोमर व भादानक धर्मपाल की महानता को स्वीकार करते थे।

Munger’s war and defeat of Dharmapala:

  • King Chakrayuddha  of Kannauj was ruling in the guard of the Pala king Dharmapala.
  • On receiving notification of the defeat of Chakra yuddha , Dharmapal announced  war against Nagabhata II. Nagabhata II defeated Dharmapala in this war.
  • Proof of this is obtained from the records of Gwalior, Jodhpur and Chapasu inscriptions.
  • Thus, Nagabhata defeated the rulers of Kannauj and Bengal and established himself in northern India.

मुंगेर का युद्ध और धर्मपाल की हार :

  • कन्नौज का राजा चक्रा युद्ध पाल राजा धर्मपाल के संरक्षण में राज्य कर रहा था।
  • चक्रा युद्ध की हार की सूचना पाते ही धर्मपाल ने नागभट्ट द्वितीय के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी। नागभट्ट द्वितीय ने इस युद्ध में धर्मपाल को पराजित किया।
  • इस बात के साक्ष्य हमें ग्वालियर, जोधपुर व चाप्सु अभिलेखों से प्राप्त होते हैं।
  • इस प्रकार नागभट्ट ने कन्नौज और बंगाल के शासकों को पराजित कर उत्तरी भारत में अपनी धाक जमा ली।

Sufi Movement in Haryana-

  • Fariduddin Shakarganji
  • He established the Chisti order in Haryana. Sufi Matts were established at Hansi (Hisar) Panipat, Karnal and Ambala.
  • His full name is Sheikh-ul-Islam Maulana Diwana Baba Fariduddin Ganj-e-Shakar Suleman Aujodhani. In short, he is known as Baba Farid.
  • He was the disciple of Mohammad Bakhtiar Kaki.

हरियाणा में सूफी आंदोलन-

  • फरीदुद्दीन शकर्गनजी
  • उन्होंने हरियाणा में चिस्ती केआदेश की स्थापना की। सूफी मठ हांसी (हिसार) पानीपत, करनाल और अंबाला में स्थापित किए गए थे।
  • उनका पूरा नाम शेख-उल-इस्लाम मौलाना दीवाना बाबा फरीदुद्दीन गंज-ए-शकर सुलेमान औजोधनी है। संक्षेप में, वह बाबा फरीद के रूप में जाना जाता है।
  • वह मोहम्मद बख्तियार काकी का शिष्य था।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Harsh Period – History Study Material || Online Preparation

Harsh Period – History Study Material || Online Preparation

Harsh Period – History Study Material || Online Preparation

Republic to Empire

  • Following the collapse of the Maurya Empire, the Republic Government system was established in Haryana state. Yaudheyas had an important role in establishing the Republic.
  • It is known from Mahabharata, Ashtadhyayi and arthshastra that the system of Yaudheyas was a republicanist.
  • It is also known from the Bharatpur records of Yaudheyas that these people used to choose their ruler. It also mentions the titles such as Maharaja, Maha Senapati etc.

which was run by various administrative officials.

  • It is also evidence from the word Gana on coins of Yaudheyas. There is a difference of opinion between scholars about who Yaudheyas were.
  • Most scholars believe that the Yaudheya word originated from the word yoddha, Which means hero/warrior or fighter race.

साम्राज्य के लिए गणतंत्र

  • मौर्य साम्राज्य के पतन के बाद हरियाणा प्रदेश में गणतंत्र शासन प्रणाली की स्थापना हुई। गणतंत्रात्मक शासन स्थापित करने वाली शक्तियों में यौधेयों का प्रमुख स्थान है।
  • महाभारत अष्टाध्यायी तथा अर्थशास्त्र से ज्ञात होता है कि कि यौधेयों की शासन प्रणाली गणतंत्रात्मक थी।
  • यौधेयो के भरतपुर अभिलेख से भी ज्ञात होता है कि ये लोग अपने शासक का चुनाव करते थे। इसमें महाराजा, महा सेनापति आदि उपाधियों का भी उल्लेख है।

जिसका कार्य विभिन्न प्रशासनिक अधिकारी चलाते थे।

  • यौधेयों के सिक्कों पर गण शब्द का पाया जाना भी इस बात का प्रमाण है। यौधेय कौन थे।इस संबंध में विद्वानों में मतभेद है।
  • अधिकतर विद्वान मानते हैं कि यौधेय शब्द की उत्पति योद्धा से हुई है। जिसका अर्थ वीर अथवा लड़ाकू जाति से है।

Agra Republic:

  • After the collapse of the Mauryans, the people of Agroha region in Haryana established their independent kingdom.
  • Information about this kingdom is known from a few coins. First of all, 10 copper coins of Agroha were found, out of which 9 coins were found from Barwala of Rogers.
  • The location of origin of the  coin which is present in the Indian Museum nowadays is not known exactly. The nine coins found by Rogers  are kept in the British Museum.
  • In 1938-39, HL Srivastava had excavated Agroha ancient site, Where he found 51 copper coins of Agroha kept in a single pot.

अग्र गणराज्य :

  • मोर्यों के पतन के पश्चात, हरियाणा के अग्रोहा क्षेत्र में अग्र गणराज्य के लोगों ने अपना स्वतंत्र राज्य स्थापित किया।
  • इस गणराज्य के बारे में जानकारी कुछ सिक्कों के माध्यम से हुई। सर्वप्रथम अग्रो के 10 तांबे के सिक्के मिले जिनमें से 9 सिक्के रोजर्स के बरवाला से मिले।
  • एक सिक्का जो आजकल भारतीय संग्रहालय में है उसका ठीक से पता नहीं है कि वह किस रथान से प्राप्त हुआ था।रोजर्स को पाये गए नौ सिक्कों को ब्रिटिश संग्रहालय में रखा है।
  • सन् 1938-39 में एच० एल० श्रीवास्तव ने अग्रोहा पुरारथल उत्खनन किया था। जहां पर उसे एक मृद्माण्ड में रखे अग्रो के 51 तांबे के सिक्के मिले।

Administration during Harsh’s reign: –

  • At the time of Harsh, tehsil was called “Pathak or Peth” and the state was called “bhakti”.
  • “Village” was the smallest unit of administration and 1/6 tax was taken.

The method of tax was: –

  • i) Hiranya method: – Taxes taken in cash are also in the form of currency.
  • ii) Part method: – Taxes taken as grain
  • iii) Rituals: – Gift to the King.

हर्ष के समय प्रशासन :-

  • हर्ष के समय तहसील को “पाठक या पेठ” कहा जाता था और सूबे को “भक्ति” कहा जाता था|
  • “गाँव” प्रशासन की सबसे छोटी इकाई थी और 1/6 टैक्स लिया जाता था |

टैक्स की 3 विधि थी :-

i) हिरण्य विधि :- नगद लिया जाने वाला कर वो भी मुद्रा के रूप में |

ii) भाग विधि :- अनाज के रूप में लिया जाने वाला कर

iii) बलिविधि :- राजा को उपहार देना |

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Vedic Civilization- Ancient History | Haryana GK Study Notes

Harappan Civilization – Haryana GK | History

Sources of Ancient History of Haryana | HCS Online Preparation

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Vedic Civilization- Ancient History | Haryana GK Study Notes

Vedic Civilization- Ancient History | Haryana GK Study Notes

Vedic Civilization- Ancient History | Haryana GK Study Notes

Vedic Civilisation (1500-1000 BC)

  • This is the earliest civilisation in Indian history, of which we have written records that we understand.
  • It is named after the Vedas, the early literature of the Hindu people, the Vedic civilisation flourished along the river Saraswati, in a region that now consists of the modern Indian states of Haryana and Punjab.
  • The use of Vedic Sanskrit continued upto the 6th century BC. Vedic is synonymous with Aryans and Hinduism, which is another name for religious and spiritual thought that has evolved from the Vedas.
  • When Aryans came to India, they first settled in Haryana. Scholars are still confused from where they had come.

वैदिक सभ्यता ( 1500-1000 ईसा पूर्व )

  • यह भारतीय इतिहास की सबसे आरंभिक सभ्यता है, जिसके लिखित अभिलेख हमारे पास हैं जिन्हें हम समझ सकते हैं |
  • इसका नाम वेदों के नाम पर रखा गया है, जो हिंदुओं का आरंभिक साहित्य है, वैदिक सभ्यता सरस्वती नदी के आसपास फली-फूली, यह वह क्षेत्र है जिसमें अब पंजाब एवं हरियाणा के आधुनिक भाग आते हैं |
  • वैदिक संस्कृत का प्रयोग छठी शताब्दी ईसा पूर्व तक जारी रहा | वैदिक आर्यों तथा हिन्दू धर्म का पर्याय है, जो वेदों से विकसित धार्मिक एवं आध्यात्मिक विचारों का एक अन्य नाम है |
  • आर्य कबीले जब भारत आये तो वे सबसे पहले हरियाणा में ही बसे। ये लोग कहां से आये इस विषय पर विद्वानों में मतभेद आज भी जारी है।

Historicity of the Mahabharata war  :

  • Mahabharata is an important text of the ancient Indian literature.
  • It is an epic. Scholars have differences regarding the incidents characterized in this epic that whether they are true or not. Means, Many scholars doubt the historicity of the Mahabharata War.
  • At the beginning of the epic Mahabharata, there is a poem titled “ Jai”, which was composed by Maharshi Vedvyas, who was contemporary of this war and had seen the war directly.
  • We find names of some kings related to Pre-Vedic literature. Such as Yayati, Nuhus, Puru, Bharat, Devashi, Shantanu, Dhritrashtra, Vichitravirya etc.

महाभारत युद्ध की ऐतिहासिकता :

  • महाभारत प्राचीन भारतीय साहित्य का एक महत्वपूर्ण ग्रंथ है।
  • यह एक महाकाव्य है। इस महाकाव्य में वर्णित घटनाओं के संबंध में विद्वानों में यह मतभेद है कि ये घटनाएं काल्पनिक है अथवा वास्तविक अर्थात बहुत से विद्वान महाभारत युद्ध की ऐतिहासिकता के बारे में संदेह करते हैं।
  • महाभारत महाकाव्य के प्रारंभ में ही एक ऐतिहासिक कविता है जिसका शीर्षक है ‘जय’ इसकी रचना महर्षि वेदव्यास ने की थी जो कि इस युद्ध के समकालीन था और उसने इस युद्ध को प्रत्यक्ष रूप से देखा था।
  • पूर्व वैदिक, साहित्य के कुछ राजाओं के नाम मिलते हैं जैसे, ययाति, नुहुस, पुरु, भरत देवाषि, शांतनु, धर्तराष्ट्र, विचित्रवीर्य आदि।

Other important facts of the Vedic Period :

  • The language of the Vedas is Sanskrit. So Brahmin texts have been prepared to read them.

Such as :

i) Rigveda ( knowledge of religion ) – Aitreya and  Kaustaki Brahmin texts.

ii) Yajurveda ( method of Yajna ) : Shatpath and Taittiriya Brahmin texts.

iii) Sama Veda (music ) : Panchvish Brahmin text.

iv) Atharva Veda ( Black magic ) – Gopath Brahmin text.

वेदिक काल के अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • वेदों की भाषा कठिन संस्कृत हैं। इसीलिए उनको पढ़ने के लिए ब्राह्मण ग्रंथ बनाये गए है।

जैसे  :

i) ऋग्वेद (धर्म का ज्ञान) – ऐतरेय  व कौस्तकी ब्राह्मण ग्रंथ

ii) यजुर्वेद (यज्ञ की विधि) – शतपथ  व तैतरैय ब्राह्मण ग्रंथ

iii) सामवेद (संगीत) – पंचविष ब्राह्मण ग्रंथ

iv) अथर्ववेद (जादू टोना) गोपथ ब्राह्मण ग्रंथ

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Harappan Civilization – Haryana GK | History

Harappan Civilization – Haryana GK | History

Harappan Civilization – Haryana GK | History

Harappan Civilization

  • Harappan civilisation and Vedic civilisation almost grew together at the banks of river Saraswati in Haryana.
  • Haryana has many important places of Harappan civilization.
  • With the help of  excavations and surveys of these sites, archaeologists have discovered that the Harappans settled here between 2300 and 1700 B.C. The most important places are Mitathal, Banawali, Rakhigarhi, and Balu .
  • Haryana was the outermost location of the ancient Indus Valley Civilisation with centres such as Banawali and Rakhigarhi.
  • Rakhigarhi : Rakhigarhi is about to rewrite the 5000 year old history of our civilisation.
  • The most extensive centre, Rakhigarhi, is now a village in Hisar district.

हड़प्पा की सभ्यता

  • हड़प्पा सभ्यता और वैदिक सभ्यता का विकास लगभग एक साथ हरियाणा की सरस्वती नदी के किनारे हुआ |
  • हरियाणा में हड़प्पा संस्कृति के कई महत्वपूर्ण स्थल है।
  • इन स्थलों के उत्खननो व सर्वेक्षणों से पुरातत्ववेताओं ने पता लगाया है कि हड़प्पा लोग यहां c 2300 से 1700 B.C. के बीच में आकर बसे । इन रथलों में सबसे महत्वपूर्ण, मीताथल, बनावली, राखीगढ़ी व बालु प्रमुख है।
  • हरियाणा प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता का बाह्यतम स्थान था जिसके केंद्र बनावली और राखीगढ़ी थे |
  • राखीगढ़ी : राखीगढ़ी हमारी सभ्यता के 5000 साल पुराने इतिहास को फिर से लिखने वाली है |
  • सबसे व्यापक केंद्र, राखीगढ़ी, अब हिसार जिले का एक गाँव है |

Harappan Civilization

  • Kunal : Kunal seems to be a pre-Harappan site. Two silver crowns presumably worn by the king and queen along with gold and silver jewellery has been found here in an earthen jar.
  • This is the first time that a regal crown has been found in the sub-continent. This site brings to light that the Harappans went through three stages of development from pit houses to regular rectangular and square dwellings above the surface.
  • Agroha : The Agroha mound goes back to the 3rd century BC and is where, Harappan coins were discovered apart from stone sculptures, Terracotta seals, iron and copper implements, shells and a host of other things.

Common Features :

  • After the excavation of all the places associated with Harappa in Haryana, following common features have been found .
  • Town Planning : The complete area of the city developed by the people of Harappan Culture in Haryana was covered with a protection wall.
  • This wall was usually 6 to 12 m wide and its average height was about 4 meters.

हड़प्पा की सभ्यता

  • कुनाल : कुनाल हड़प्पा से पहले का स्थल मालूम पड़ता है | मिट्टी के पात्र से सोने तथा चाँदी के आभूषणों के साथ ही चाँदी के दो मुकुट पाए गए हैं जिसे संभवतः राजा और रानी पहना करते होंगे |
  • यह पहला अवसर है जब उपमहाद्वीप में शाही मुकुट पाया गया है | इस स्थल से पता चलता है कि हड़प्पा के लोग विकास के तीन चरणों से होकर गुज़रे | गड्ढे में बने घरों में निवास करने के बाद वे सतह के ऊपर सम आयताकार तथा वर्गाकार घरों में भी रहे |
  • अग्रोहा : अग्रोहा का टीला ईसा पूर्व तीसरी शताब्दी का है तथा यह वह स्थल है जहाँ पत्थर की मूर्तियों, टेराकोटा मुहरों, लोहे और ताम्बे से निर्मित और्जार ,तथा शंख के अलावा हड़प्पा कालीन सिक्के पाए गए थे |

सामान्य विशेषताएं :

  • हरियाणा के हड़प्पा से संबंधित सभी स्थानों की खुदाई के बाद निम्नलिखित सामान्य विशेषताएं पाई गई हैं।
  • नगर योजना : हरियाणा में हड़प्पा संस्कृति के लोगों द्वारा विकसित नगर का संपूर्ण क्षेत्र एक सुरक्षा दिवार से घिरा होता था।
  • यह दिवार सामान्यतः 6 से 12 मीटर तक चौड़ी होती थी तथा इसकी औसतन ऊंचाई लगभग 4 मीटर होती थी।

Harappan Civilization

  • There are many rooms in the houses. 6 to 8 rooms are there in the  big houses while smaller houses have 3 to 5 rooms.
  • The kitchen was built with a big room in which a gas stove and furnace have been found. There was a jar digged in the land to collect.
  • Every house had a toiled and a bathroom.
  • There was an earthenware having wide mouth in the toilet which was used to store water.
  • Pottery: The pottery of this age was built on the  potter’s wheel. They are well baked.
  • These earthenwares are They are well baked.
  • These potteries are built using well clay soil and generally they are red in colour.

Decline of the Harappan Civilization

  • There is no unanimous view pertaining to the cause for the decline of the Harappan culture.
  • The actual reason for the decline of the Harappan civilization is still a mystery, archaeologist have proposed a number of theories regarding the decline of the civilization.
  • Some also believe that the change in the course of the river also played a role in the decline of the civilization.
  • Whatever the cause of the decline of the Harappan civilization.

हड़प्पा की सभ्यता

  • घर कई-कई कमरों के बने हैं। बड़े घरों में 6 से लेकर आठ तक कमरे हैं जबकि छोटे घरों में 3 से लेकर पांच तक कमरे हैं।
  • रसोईघर बड़े कमरे के साथ बनी होती थी जिसमें एक चूल्हा तथा भट्ठी तथा तन्दूर होते थे। चूल्हों के पास जमीन में संग्रह करने के लिए एक जार गड़ा होता था।
  • प्रत्येक घर में एक शौचालय व स्नानगृह भी बना होता था।
  • शौचालय में चौड़े मुंह का एक बड़ा मृद् झण्ड रखा जाता था जिसे पानी संग्रह करने के लिए प्रयोग किया जाता था।
  • मृद्माण्ड : इस काल के मृद्माण्ड चाक पर बने है।इन्हें भली भांति पकाया गया है।
  • ये मृद्माण्ड भली भांति गुथी हुई मिट्टी के बने हैं। सामान्यतः ये लाल रंग के है।

हड़प्पा सभ्यता का पतन :

  • हड़प्पा सभ्यता के पतन के सम्बन्ध में  एकमत दृष्टिकोण नहीं है |
  • हड़प्पा सभ्यता के पतन का वास्तविक कारण अभी भी एक रहस्य है | पुरातत्वविदों ने इस सभ्यता के पतन के सम्बन्ध में कई सिद्धांतों का प्रतिपादन किया है |
  • कुछ का यह भी मानना है कि नदी के मार्ग में परिवर्तन की भी इस सभ्यता के पतन में भूमिका रही है |
  • हड़प्पा सभ्यता के पतन का कारण कुछ भी हो सकता है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Sources of Ancient History of Haryana | HCS Online Preparation

Sources of Ancient History of Haryana | HCS Online Preparation

Sources of Ancient History of Haryana | HCS Online Preparation

Sources of Ancient Period of Haryana

  • Haryana is located between 27°39 to 30°55 north latitude and 74.28 ° to 77°36 east longitude. The hills of Shivalik in the north of this region, the mountains of Aravali and the dry region of Rajasthan in the south and the Ghaggar river forms its western boundary.
  • The river Yamuna determines the eastern boundary of this region and separates it from Uttar Pradesh.

We can divide the sources of history of Haryana into three parts.
1. Sources of History of Ancient Haryana
2. Source of History of Medieval Haryana
3. Sources of History of Modern Haryana

  1. Sources of History of Ancient Haryana: Sources that can be used in the history of ancient Haryana can also be divided into two parts-
    (i) Literary sources,
    (ii) Archaeological sources

(i) Literary Source: There are many types of literary material which sheds light on our ancient history, which we can broadly divided into two parts:
Indian source and
Foreign source.

(ii) Archaeological Sources: Haryana area is rich in archaeological material. By doing survey, there are many regions that are from the earliest to the medieval period. Some places have archaeological excavations like Mitchal, Sugh, Dhaulpur, Bhagwanpura, Raja Karna Fort, Baalu, Sis Wal, Agroha, Banvali, Rakhi Cadhi etc.

Coins: Coins were found from different parts of Haryana state. These are all important sources of political, social and economic history of Haryana.

हरियाणा के इतिहास के स्रोत

  • हरियाणा प्रदेश 27.39° से 30.55 उत्तरी अक्षांश और 74.28° से 77.36° पूर्व रेखांश के मध्य स्थित  है। इसके उत्तर में शिवालिक की पहाड़ियाँ इसके दक्षिण में अरावली की पहाड़ियों और राजस्थान का मरू प्रदेश हैं ,घग्गर नदी इसकी पश्चिमी सीमा बनाती है।
  • यमुना नदी इस प्रदेश की पूर्वी सीमा निर्धारित करती है तथा इसको उत्तर प्रदेश से अलग करती है।

हम हरियाणा के इतिहास के स्रोतों को तीन भागों में बांट सकते हैं।

  1. प्राचीन हरियाणा के इतिहास के स्रोत
  2. मध्यकालीन हरियाणा के इतिहास के स्रोत
  3. आधुनिक हरियाणा के इतिहास के स्रोत
  1. प्राचीन हरियाणा के इतिहास के स्रोतः प्राचीन हरियाणा के इतिहास के निर्माण में काम आने वाले स्रोतों को भी दो भागों में बांटा जा सकता है-

(i) साहित्यिक स्रोत,

(ii) पुरातात्विक स्रोत

(i) साहित्यिक स्रोतः हमारे प्राचीन इतिहास पर प्रकाश डालने वाली साहित्यिक सामग्री कई प्रकार की है जिसको मोटे तौर पर हम दो भागों में बांट सकते हैं:

  • भारतीय स्रोत और
  • विदेशी स्रोत।

(ii) पुरातात्विक स्रोतः हरियाणा क्षेत्र पुरातात्विक सामग्री के संबंध में बहुत की समृद्ध है। सर्वेक्षण करके इस क्षेत्र से अनेक पुरा स्थल जो आदिकाल से लेकर, मध्यकाल के है, सामने आए हैं। कुछ स्थानों पर पुरातात्विक उत्खनन भी हुए हैं जिनमें मिताचल, सुघ, धौलपुर, भगवानपुरा, राजा कर्ण का किला, बालू, सीस वाल, अग्रोहा, बनावली, राखी गढ़ी आदि शामिल हैं ।

सिक्केः हरियाणा प्रदेश के विभिन्न इलाकों से हमें सिक्के तथा सिक्के ढालने के सांचे मिले हैं। ये सभी हरियाणा के राजनैतिक, सामाजिक व आर्थिक इतिहास के महत्वपूर्ण स्रोत है।

Source of History of Medieval Haryana: Before 1966, Haryana was not a separate political entity. So no efforts were made to source its history.

  • But since Haryana emerged as a separate political entity, the discovery and research work of various sources of work started to create its medieval history.

Historical and literary works: These creations can also be divided into two parts. Works of non-Haryanvi writers and works of Haryanvi authors

  • In the first category of books, the oldest book is of Alberuni is ‘Tehkikaate Hind’. This book is of Mahmud Ghajnavi’s time. In addition to the attack on Mahmud on Thanesar, there is also information about the then social life of Haryana.
  • ‘Tarikhe Subutagin’ gives us a description of the victory of Mahmud’s nephew, Masood, in the year 1038 AD when he defeated Hansi.
  • Nizami’s book ‘Tajul Masir’ gives us the details about the invasions of Mahmoud Gauri. In this book, the author gives important details of Tarain’s second war, while there is no mention of the first war.
  • In his book Tabaqat-i-Nasiri, The writer Minhaz has mentioned the word ‘Haryana’ for the first time. Apart from this, the book also mentions the social and economic life of Haryana as well as discussion of political events.
  • In the time of Tughlaq, an African traveller Ibn Batuta came to India. He left a lot of information in his book ‘Kitabhul Rahla’. In this, the political, religious, and economic status of the Hansi, Hisar and Sirsa regions has also been mentioned.
  • According to Ibn Batuta, there was a red rice in the Sirsa region which had a special demand in Delhi.
  • Details about the History of Akbar’s time are found in  Abul Fazal’s ‘Akbarnama’ and Ain-i-Akbari. And Bada’uni text ‘Muntakhab-ut-Tawarikh’ has details about Haryana’s political, administrative, social and economic history.
  • Maulana Azad’s text Darbar-i-Akbari has details about the second battle of Panipat fought by Hemu.

मध्यकालीन हरियाणा के इतिहास के स्रोतः सन् 1966 से पहले हरियाणा प्रदेश एक पृथक राजनैतिक इकाई नहीं था। इसलिए इसके इतिहास की रचना के लिए स्रोतों का कोई प्रयास नहीं किया गया।

  • लेकिन जबसे हरियाणा एक पृथक राजनैतिक इकाई के रूप में उभर कर आया तबसे इसके मध्यकालीन इतिहास का निर्माण करने के लिए काम में आने वाले विभिन्न स्रोतों की खोज और शोध कार्य आरंभ हुआ।

ऐतिहासिक व साहित्यिक कृतियांः इन कृतियों को भी दो भागों में विभाजित किया जा सकता है। गैर हरियाणवी लेखकों की कृतियां और हरियाणवी लेखकों की कृतियां।

  • प्रथम वर्ग की पुस्तकों में सबसे प्राचीन अलबेरुनी की पुस्तक ‘तहकीकाते हिंद’ है। यह ग्रंथ महमूद गजनवी के समय का है। इसमें महमूद के थानेसर पर आक्रमण के अतिरिक्त हरियाणा के तत्कालीन सामाजिक जीवन के बारे में भी जानकारी मिलती है।
  • बहावी की पुस्तक ‘तारीखे सुबुक्तगीन’ से हमें महमूद के भतीजे मासूद द्वारा 1038 ई० में हाँसी विजय का वर्णन मिलता है।
  • निजामी के ग्रंथ ‘ताजुल मासिर’ में महमूद गौरी के आक्रमणों का विवरण मिलता है। इस पुस्तक में लेखक तराईन के दूसरे युद्ध का महत्वपूर्ण ब्यौरा देता है जबकि प्रथम युद्ध का कोई जिक्र नहीं करता।
  • मिन्हाज की पुस्तक “तबकाते-नासिरी” में लेखक ने सबसे पहले हरियाणा शब्द का उपयोग किया है। इसके अलावा इस पुस्तक में राजनीतिक घटनाओं की चर्चा के साथ-साथ हरियाणा के सामाजिक व आर्थिक जीवन का भी उल्लेख मिलता है।
  • तुगलकों के समय में एक अफ्रीकी यात्री इब्न बतुता भारत आया। उसने बहुमुल्य जानकारी अपने ग्रंथ ‘किताबुल रहला’ के रूप में छोड़ी। इस में हाँसी, हिसार व सिरसा क्षेत्र के राजनैतिक उल्लेख के साथ-साथ सामाजिक, धार्मिक व आर्थिक स्थिति का भी उल्लेख किया गया है।
  • इब्न बतुता के अनुसार सिरसा क्षेत्र में इस समय लाल रंग का चावल होता था जिसकी दिल्ली में विशेष मांग थी।
  • अकबर के समय के इतिहास की जानकारी अबुल फजल के ‘अकबरनामा’ और ‘आईने अकबरी’ व बदायूंनी के ग्रंथ “मुंतखुब-उल-त्वारिख” में हरियाणा के राजनीतिक, प्रशासनिक, सामाजिक व आर्थिक इतिहास की जानकारी मिलती है।
  • मौलाना आजाद के ग्रंथ ‘दरबारे अकबरी’ में हेमु द्वारा लड़ी गई पानीपत की दूसरी लड़ाई का सुंदर वर्णन किया गया है।

Published Content :

  • Newspapers and Journals : In the last phase of 19th century in Haryana, some newspapers began to publish. These include Rifa-e-aam that was published by Pandit Deen Dayal. “Khair Sandesh” was published in 1899 from Ambala but unfortunately it is not fully available.
  • Jat Gazette in 1916 and ‘Haryana Tilak’ in 1923 were published from Rohtak. Both were weekly newspapers  .
  • They contain very important content related to Haryana’s history. “The Tribune”, ‘Civil and Military Gazette’ also contain important information related to Haryana.
  • Three Government Journals – Haryana Journal of Education, Sapt Sindhu, and Jana Sahitya also highlight on history of Haryana.
  • Government Report – Haryana was a part of Punjab till 1966 AD. So, the government reports were published by Punjab Government.
  • These include Punjab and Ministration Report, Session Report, and Land Settlement Report. Apart from these, Punjab Board of Economic Inquiries has published Economic, Social surveys of many villages.

Different Scholars have given diffrent names to Haryana:

  • Dr. Buddha Prakash – Abhirayana
  • Yadunath Sarkar – Hariyal
  • In the Mahapuran composed by Pushpdant – Haryana
  • Dr. H.R Gupta – Aryana means home of Aryans.

प्रकाशित सामग्री :

  • समाचार पत्र एवं पत्रिकाएं: हरियाणा में 19वीं सदी के अंतिम चरण में कुछ समाचार पत्र निकलने शुरू हुए इनमें “रिफाए आम” झज्जर से जिस पं० दीन दयालु ने निकाला “खैर संदेश 1899 में अंबाला से प्रकाशित हुआ लेकिन दुर्भाग्य ये पूर्ण रूप से उपलब्ध नहीं है।
  • ‘जाट गजट’ 1916 ई० में तथा ‘हरियाणा तिलक’ 1923 ई० में रोहतक से प्रकाशित हुए थे। दोनों अखबार साप्ताहिक थे।
  • इनमें हरियाणा के इतिहास से संबंधित काफी महत्वपूर्ण सामग्री मिलती है। ‘द ट्रिब्यून’, ‘सिविल एण्ड मिलिट्री गजट’ में भी हरियाणा से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां हैं।
  • तीन सरकारी पत्रिकाएं- ‘हरियाणा जनरल आफ ऐजूकेशन’, ‘सप्त सिंधु’ और ‘जन साहित्य’ से भी हरियाणा के आधुनिक इतिहास पर महत्वपूर्ण प्रकाश पड़ता है।
  • सरकारी रिपोर्ट- हरियाणा 1966 ई० तक पंजाब राज्य का एक भाग था अतः सरकारी रिपोर्ट पंजाब सरकार द्वारा प्रकाशित है।
  • इनमें पंजाब एण्ड मिनिस्ट्रेशन रिपोर्ट, सेसन रिपोर्ट, भूमि बंदोबस्त रिपोर्ट तथा पंजाब बोर्ड आफ इक्नोमिक इनक्वायरी में काफी गांवों का आर्थिक, सामाजिक सर्वेक्षण छपा है

अलग-अलग विद्वानों ने हरियाणा को अलग-अलग नाम दिए हैं

  • डॉक्टर बुद्ध प्रकाश  – अभिरयाणा
  • यदुनाथ सरकार  – हरियाल
  • पुष्पदंत द्वारा रचित महापुराण में  – हरियाणा
  • डॉक्टर एच आर गुप्ता – आर्यना अर्थात आर्यों का घर

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel