Posted on Leave a comment

Executives and Legislature of Haryana- Study Material & Notes

Executives and Legislature of Haryana- Study Material & Notes

Executives and Legislature of Haryana- Study Material & Notes

Executives and Legislature  of Haryana

Formation Of Haryana

  • At the time of Independence Of India Haryana was a part of Punjab Province.
  • In 1949 , Bhimsen Sachhar was the chief Minister Of this State , During His tenure a dispute on Language was occurred , to overcome this Problem, A Sachhar Formula was created Which was Implemented on 1st October , 1949.
  • According to Sachhar Formula , The Province Of Punjab was divided into Two region:
    1. Punjabi Region
    2. Hindi Region

हरियाणा का गठन

  • भारत की आजादी के समय हरियाणा पंजाब प्रांत का हिस्सा था।
  • 1949 में, भीमसेन सच्चर इस प्रांत के मुख्यमंत्री थे, उनके कार्यकाल के दौरान  भाषा को लेकर विवाद हुआ था, इस समस्या को दूर करने के लिए  एक सच्चर फॉर्मूला बनाया गया था जिसे 1 अक्टूबर, 1949 को कार्यान्वित किया गया।
  • सच्चर फॉर्मूला के अनुसार, पंजाब प्रांत को दो क्षेत्र में बांटा गया:
    1. पंजाबी क्षेत्र
    2. हिंदी क्षेत्र

Ministry Of Haryana

  • According to 91st Amendment , 2003  , 15% of members can be included in Ministry , in Haryana it is Disputed that If there will be 13 ministers or 14 ministers in cabinet. on This dispute decision is pending.
  • At present we have 14 ministers in cabinet in Haryana.

हरियाणा मंत्रालय

  • 91 वें संशोधन के अनुसार, 2003 में 15% सदस्यों को मंत्रालय में शामिल किया जा सकता है, हरियाणा में यह विवादित है कि कैबिनेट में 13 मंत्री या 14 मंत्री होंगे। इस विवाद निर्णय पर लंबित है।
  • वर्तमान में हरियाणा में कैबिनेट में हमारे 14 मंत्री हैं।

Legislature Of Haryana

  • The primary role of legislative assembly is to frame bills.
  • It also passes Annual Budget and Finance bills.
  • The governor is appointed by the president of India(Art. 155).
  • The governor’s duties for state are similar to duties of president for the country.
  • The governor can summon and prologue the assembly or can even dissolve the same.

हरियाणा के विधानमंडल

  • विधानसभा की प्राथमिक भूमिका विधेयक को तैयार करना है।
  • यह वार्षिक बजट और वित्तीय विधेयक  भी पास करता है।
  • राज्यपाल को भारत के राष्ट्रपति (art. 155) द्वारा नियुक्त किया जाता है।
  • राज्य के लिए राज्यपाल के कर्तव्य देश के राष्ट्रपति के कर्तव्यों के समान हैं।
  • राज्यपाल विधानसभा को बुला सकता है और प्रस्ताव दे सकता है या उसे भी भंग कर सकता है।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Fairs and Religious Places in Haryana State | Study Material | Geography

Fairs and Religious Places in Haryana State | Study Material | Geography

Fairs and Religious Places in Haryana State | Study Material | Geography

Fairs and Religious Places  in Haryana

Religious Status Of Haryana

Most Of the People of Haryana Believe in Hindu Dharma , But With this there are other people who believe in  Sikhism ,Muslim, Christian,Buddhism and Jainism Dharma. People who resides here are 88.2% hindu , 5.8% Muslims , 5.5% Sikhs , 0.3% Jain and 0.1% Cristian.

Religious Places Of Haryana:-

Jyotisar Sarovar    

 Jyotisar is a town on the Kurukshetra-Pehowa road, in the Kurukshetra district of Haryana, India. It is at this place where Krishna delivered the Bhagavad Gita to Arjuna to remove his confusion and dilemma and prepared him to face stronger and greater warriors like Bhishma and Karna in the Mahabharata War.

हरियाणा की धार्मिक स्थिति

हरियाणा के अधिकांश लोग हिन्दू धर्म में विश्वास करते हैं, लेकिन इसके साथ ही यहां अन्य लोग भी हैं जो सिख धर्म, मुस्लिम, ईसाई, बौद्ध धर्म और जैन धर्म में विश्वास करते हैं। यहां रहने वाले लोगो में 88.2% हिंदू, 5.8% मुस्लिम, 5.5% सिख, 0.3% जैन और 0.1% ईसाई हैं।

हरियाणा के धार्मिक स्थान: –

ज्योतिसार सरोवर

ज्योतिसर भारत के हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले में कुरुक्षेत्र-पेहोवा रोड पर स्तिथ एक शहर है। यह वह जगह है जहां कृष्ण ने अर्जुन को भगवद् गीता का उपदेश दिया था और उसे अपने भ्रम और दुविधा को दूर करके महाभारत युद्ध में भीष्म और कर्ण जैसे मजबूत और महान योद्धाओं का सामना करने के लिए तैयार किया था|

Chanderkoop

It is situated near Kurukshetra’s shrine. It has well and a temple, which was got built by Dharamraj Yudhishthira after the War.

Valmiki Ashram

It is located opposite Thanesar Railway Station in Kurukshetra. Baba Lakshman Giri had taken samadhi as well as the Valmiki temple is the famous site to be visited.

चंद्रकूप

यह कुरुक्षेत्र के मंदिर के पास स्थित एक कुआँ है जिसे युद्ध के बाद धर्मराज युधिष्ठिर ने बनाया था।

वाल्मीकि आश्रम

यह कुरुक्षेत्र में थानेसर के रेलवे स्टेशन के सामने स्थित है। बाबा लक्ष्मण गिरि ने यहां समाधि ली थी। वाल्मीकि मंदिर भी एक प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल है।

Dini Masjid      

In this Masjid, a 1100 year old temple of Mahavir is present. This Masjid is made during the period of Aurangjeb on this temple , But In 1974 It reformed as a temple.

Geeta Bhawan

It is located at the northern bank of Kurukshetra shrine (the Sarovar). It was set up by the king of Rewa in 1921. It has a palace like structure in which statues of Lord Krishna, Durga and Lord Shankar are placed.

दीनी मस्जिद

इस मस्जिद में, महावीर का एक 1100 वर्ष पुराना मंदिर मौजूद है। यह मस्जिद इस मंदिर पर औरंगजेब की अवधि के दौरान बनाया गया है, लेकिन 1974 में इसका  एक मंदिर के रूप में सुधार हुआ।

गीता भवन

यह कुरुक्षेत्र मंदिर (सरोवर) के उत्तरी तट पर स्थित है। यह 1921 में रीवा के राजा द्वारा स्थापित किया गया था। इसमें महल की तरह एक सरंचना  है जिसमें भगवान कृष्ण, दुर्गा और भगवान शंकर की मूर्तियां रखी गई हैं।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Forest and Wildlife – Study Material (Geography) || Exam Preparation

Forest and Wildlife – Study Material (Geography) || Exam Preparation

Forest and Wildlife – Study Material (Geography) || Exam Preparation

Forest and Wildlife

  • Haryana is primarily an agricultural state with almost 80% of its land under cultivation.
  • The geographical area of the state is 44212 sq. km which is 1.3% of India’s geographical area.
  • only 3.9% of Haryana’s geographical area is under notified forests.
  • As per India State of Forest Report, FSI, 2013, the Forest Cover in the state is 1586 sq.km which is 3.59% of the state’s geographical area and the Tree Cover in the state is 1282 sq. km which is 2.90% of the geographical area.

वन एवं वन्यजीव

  • हरियाणा मुख्य रूप से एक कृषि प्रधान राज्य है जिसकी लगभग 80 प्रतिशत भूमि कृषि के अंतर्गत आती है |
  • इस राज्य का भौगोलिक क्षेत्रफल 44212 वर्ग किमी है जो भारत के भौगोलिक क्षेत्रफल का 1.3 प्रतिशत है |
  • हरियाणा के भौगोलिक क्षेत्र का केवल 3.9 प्रतिशत भाग ही अधिसूचित वनों के अंतर्गत आता है |
  • भारतीय राज्य वन रिपोर्ट, FSI, 2013 के अनुसार राज्य में वनाच्छादन 1586 वर्ग किमी है जो राज्य के भौगोलिक क्षेत्रफल का 3.59 प्रतिशत है तथा राज्य में वृक्ष आच्छादन 1282 वर्ग किमी का है जो भौगोलिक क्षेत्रफल का 2.90 प्रतिशत है |

Types of Forests

The state has four types of forests. Broadly there are two types-

(a) Tropical dry deciduous(Majority of the forests) – Found in the area with the average rainfall of just 20-40 cms.

(b) Sub Tropical pine forests – Found in the area with an average rainfall of 100 cms.

  • Sal forests dominate the reserve forests in the Siwaliks of Yamuna Nagar district.

वनों के प्रकार

इस राज्य में चार प्रकार के वन पाए जाते हैं | व्यापक रूप से दो प्रकार हैं :-

(a) शुष्क पर्णपाती ( अधिकांश वन ) – ये वन उन क्षेत्रों में पाए जाते हैं जहाँ औसत वर्षा केवल 20 से 40 सेमी होती है |

(b) उपोष्णकटिबंधीय चीड़ के जंगल – उन क्षेत्रों में पाए जाते हैं जहाँ औसत वर्षा 100 सेमी होती है |

  • यमुना नगर जिले की शिवालिक पहाड़ियों पर पाए जाने वाले साल के वन आरक्षित वनों में प्रमुख हैं |

Breeding Centres

  1. Chinkara Breeding Centre

It was established in 1985 and situated in Kairu village, Tosham(Bhiwani).

  1. Crocodile Breeding Centre

It was established in 1930 by a mahant of nearby temple. Later in 1980, Forest Department, Haryana took over it. It is located in Bhor Saidan Village of Kurukshetra.

प्रजनन केंद्र

  1. चिंकारा प्रजनन केंद्र

इसकी स्थापना वर्ष 1985 में की गयी थी तथा यह कैरू गाँव , तोशाम (भिवानी ) में स्थित है |

  1. मगरमच्छ प्रजनन केंद्र

इसकी स्थापना वर्ष 1930 में पास के ही एक मंदिर के महंत द्वारा की गयी थी | बाद में वर्ष 1980 में, हरियाणा के वन विभाग ने इसे अपने अधिकार में ले लिया | यह कुरुक्षेत्र के भोर सैदां गाँव में स्थित है |

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate, Soils and rivers of Haryana

Climate

Haryana has continental climate with extreme heat in summer and bitter cold winters. Rainfall is low and erratic.

  1. Temperature : Very hot summers and very cold winters are characteristics of haryana’s climate. The maximum temperature in May and June reaches 48 degrees. January is the coldest month with the temperature reaching almost freezing temperature(0 degree).
  2. Rainfall : The rainy season is from July to September. The range of rains vary from 160mm to 751mm. Rainfall is unevenly distributed with Shiwalik hills being the wettest. The average rainfall in state is 45 cm.

जलवायु

हरियाणा की जलवायु महाद्वीपीय है।यहाँ ग्रीष्मकालीन मौसम में अधिक गर्मी और सर्दी में अधिक सर्दी होती है। यहाँ वर्षा कम और अनियमित है।

  1. तापमान : बहुत तेज गर्मी और बहुत अधिक सर्दी हरियाणा की पहचान है।यहाँ मई और जून में अधिकतम तापमान 48 डिग्री तक पहुंचता है। जनवरी सबसे ठंडा महीना है जहां तापमान लगभग ठंडे तापमान (0 डिग्री) तक पहुंच जाता है।
  2. बारिश : बरसात का मौसम जुलाई से सितंबर तक होता है। बारिश की सीमा 160 मिमी से 751 मिमी तक भिन्न-भिन्न होती है। यहाँ वर्षा असमान रूप से वितरित है शिवलिक पहाड़ियों में सबसे ज्यादा बारिश होती है | राज्य में वर्षा का औसत  45 सेमी है।

Rivers and Lakes

  1. Yamuna – It enters Haryana near Kalesar forest in Yamuna Nagar district. It flows along the districts of Yamuna Nagar, Karnal, Panipat, Sonipat and leaves Haryana near Hasanpur in district Faridabad.
  2. Ghaggar – It is a seasonal river. It is believed to be the remaining evidence of the river Saraswati. It enters Haryana near Pinjore. It passes through Ambala and Hisar and then enters Rajasthan.

नदियां और झीलें

  1. यमुना – यह यमुना नगर जिले के कालेसर जंगल के पास से हरियाणा में प्रवेश करती है। यह यमुना नगर, करनाल, पानीपत, सोनीपत जिलों से होकर बहती है और फरीदाबाद में हसनपुर के पास हरियाणा से बाहर निकलती  है।
  2. घग्गर – यह एक मौसमी नदी है। माना जाता है कि यह सरस्वती नदी का शेष सबूत है। यह पिंजौर के पास से हरियाणा में प्रवेश करती है। यह अंबाला और हिसार से गुजरती है और फिर राजस्थान में प्रवेश करता है।

Soils

  1. Very light soil :

This soil is rich in lime. It is also known as sandy loam soil. This soil dries very soon and have very weak power of soaking water. This soil is found in dry places like southern parts of sirsa, Hisar, Fatehabad, Bhiwani and Mahendragarh.

  1. Light Soil :

It is a soil with mixed  characteristics of sandy loam soil and loam soils. This soil is rich in sand and comparatively high power of soaking water. This soil is found in Hisar, Bhiwani, Rewari, Sirsa, Jhajjar and Gurugram.

मृदा

  1. बहुत हल्की मिट्टी :

यह मिट्टी चूना में समृद्ध है। इसे बलुआ दोमट मिटटी के रूप में भी जाना जाता है। यह मिट्टी बहुत जल्द सूख जाती है और इसकी पानी सोखने की शक्ति बहुत कमजोर होती है। यह मिट्टी सिरसा, हिसार, फतेहाबाद, भिवानी और महेंद्रगढ़ के दक्षिणी हिस्सों जैसे शुष्क स्थानों में पाई जाती है।

  1. लाइट मृदा :

यह बलुआ दोमट मिटटी और दोमट मिटटी के बीच की मिटटी होती है। यह मिट्टी बालू में समृद्ध है और इसकी पानी सोखने की शक्ति तुलनात्मक रूप से अच्छी है। यह मिट्टी हिसार, भिवानी, रेवारी, सिरसा, झज्जर और गुरुग्राम में पाई जाती है।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Geographical Landscape- Haryana Gk Notes in English/Hindi || Geography

Geographical Landscape- Haryana Gk Notes in English/Hindi || Geography

Geographical Landscape- Haryana Gk Notes in English/Hindi || Geography

Geographical Landscape

  • Haryana is a North-Western state of India. It is located between 27°39 to 30°55 north latitude and 74.28 ° to 77°36 east longitude.
  • Haryana is sprawled over an area of 44212 sq km and ranked 21st in terms of area in the country(while, 18th in term of population).

भौगोलिक लैंडस्केप

  • हरियाणा भारत का उत्तर-पश्चिमी राज्य है। यह 27°39 से 30°55 उत्तर अक्षांश और 74.28 ° से 77°36 पूर्व रेखांश के बीच स्थित है।
  • हरियाणा 44212 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और क्षेत्र की द्रिष्टि से देश में 21 वें स्थान पर है( जनसंख्या की द्रिष्टि से देश में 18 वें स्थान पर) ।

Hisar Division :

  • Districts : Hisar, Fatehabad, Sirsa, Jind.
  • Sub-Divisions : Sirsa, Mandi Dabwali, Ellenabad, Kalanwali, Jind, Safeedo, Narvana, Julana, Uchana, Hisar, Hansi, Barwala, Narnaund, Fatehabad, Tohana, Ratiya.
  • Tehsils : Hisar, Mandi Adampur, Hansi, Narnaund, Barwala, Bass,  Fatehabad, Tohana, Ratiya, Sirsa, Mandi Dabwali, Ellenabad, Nathusari Chopta, Kalanwali, JInd, Safidon, Uchana, Narwana, Julana, Alewa.

हिसार डिवीजन :

  • जिले : हिसार, फतेहाबाद, सिरसा, जींद।
  • उप-डिवीजन : सिरसा, मंडी डबवाली, ऐलनाबाद , कलांवली, जींद, सफीदो, नरवाना, जुलाना, उचाना, हिसार, हांसी, बरवाला, नारनौंद, फतेहाबाद, टोहाना, रतिया।
  • तहसील : हिसार, मंडी आदमपुर, हांसी, नारनौंद, बरवाला, बास, फतेहाबाद, टोहाना, रतिया, सिरसा, मंडी डबवाली, ऐलनाबाद, नाथूसरी चौपटा, कलांवली, जींद, सफीदो, उचाना, नरवाना, जुलाना, अलेवा

Geographical division

1. Yamuna Ghaggar Plain (Altitude 220-280m)

It is the largest part of the state and made up of alluvium deposits in the watershed basin of the rivers Ghaggar and Yamuna and their tributaries. Trees like Jamun, Neem, Mango, Banyan, Peepal and Sheesham are found here. Here is more heat in summer and more cold in winter.

2. Shiwalik Hills

The average height of the hills ranges between 900m to 2300m. It mainly lies in North-Eastern part of haryana(in the Districts of Ambala, Panchkula and Yamuna Nagar). The highest point of the region is Karoh Peak (1499 m).

भौगोलिक विभाजन

1. यमुना घागर मैदान – (ऊंचाई 220-280 मीटर)

यह राज्य का सबसे बड़ा हिस्सा है। यह घघगर और यमुना और उनकी सहायक नदियों द्वारा घाटी में लाये गए जलोढ़ से बना है। गर्मियों में यहां अधिक गर्मी और सर्दी में अधिक ठण्ड पड़ती है। जामुन, नीम, आम, बरगद, पीपल और शीशम जैसे पेड़ यहां पाए जाते हैं।

2. शिवालिक की पहाड़ियां

इन पहाड़ियों की औसत ऊंचाई 900 मीटर से 2300 मीटर के बीच है। यह मुख्य रूप से हरियाणा के उत्तर-पूर्वी हिस्से (अंबाला, पंचकुला और यमुना नगर के जिलों में) में स्थित है। इस क्षेत्र का उच्चतम बिंदु करोह चोटी (1499 मीटर) है।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

History of Haryana- Mahatma Gandhi in Haryana || Study Material

History of Haryana- Mahatma Gandhi in Haryana || Study Material

History of Haryana- Mahatma Gandhi in Haryana || Study Material

Haryana State and Gandhi Ji

Mahatma Gandhi in Haryana

  • The purpose of Mahatma Gandhi’s visit to Haryana is mainly related to two subjects.
  • The first non-cooperation movement and the establishment of order by restoring communal riots spread after the partition of India.  Haryana.
  • Gandhiji from Africa on January 9, 1915 Came to India Gandhiji called for nationwide strike against the Rowlatt Act on March 30, 1919. Later, he changed this date to April 6. In Haryana.  In most places, there was a strike on both the days.

हरियाणा में महात्मा गाँधी

  • महात्मा गाँधी की हरियाणा यात्रा का उद्देश्य मुख्य रूप से दो विषयों से सम्बंधित था |
  • पहला असहयोग आंदोलन और दूसरा भारत के विभाजन के बाद हुए सांप्रदायिक दंगों को रोककर क़ानून व्यवस्था की स्थापना करना|
  • गाँधी जी 9 जनवरी 1915 को अफ्रीका से भारत वापस आये | 30 मार्च 1919 को गाँधी जी ने रौलेट एक्ट के विरुद्ध देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया | बाद में उन्होंने इस तारीख को बदलकर 6 अप्रैल कर दी | अधिकाँश स्थानों पर, ये दोनों दिन हड़ताल हुए |

Gandhiji’s arrest

  • On the invitation of Swami Shraddhanand and other leaders, Gandhiji went on tour from Bombay on April 6, 1919 to Delhi and Punjab (Haryana).
  • The government was nervous about the news of their arrival and Gandhiji was called to Palwal, When the train stopped there, stopped them from going ahead and arrested on April 8, 1919, it was Gandhi’s first arrest in India.

गाँधी जी की गिरफ़्तारी

  • स्वामी श्रद्धानंद और अन्य नेताओं के आमंत्रण पर, गाँधीजी 6 अप्रैल 1919 को बॉम्बे से दिल्ली और पंजाब की यात्रा पर गए |
  • सरकार उनके आने की खबर से बेचैन थी तथा गाँधी जी को पलवल बुलाया गया, जब ट्रेन वहाँ रुकी, तो उन्हें आगे जाने से रोक दिया गया और 8 अप्रैल 1919 को गिरफ्तार कर लिया | यह गाँधी जी की भारत में पहली गिरफ़्तारी थी |  

Gandhiji in Panipat

  • In Panipat , There were majority of Muslims , though majority of Muslims had gone to Pakistan. Patriot Maulana Laucala said, ‘I will die only in my own nation.’ They took Gandhiji on 9th December, 1947 in Panipat.
  • Gandhiji appealed to keep peace with Muslims and also taught Punjab’s Chief Minister Dr. Gopichand Bhargava that ‘Be a good leader, be a good administrator.’

पानीपत में गाँधी जी

  • पानीपत में मुसलमान बहुसंख्यक थे, यद्यपि अधिकाँश मुस्लिम पाकिस्तान जा चुके थे | देशभक्त मौलाना लुकाला ने कहा था  “मैं केवल अपने राष्ट्र में मरूँगा| ” वे गाँधी जी को 9 दिसम्बर 1947 को पानीपत लेकर आयें |
  • गाँधी जी ने मुस्लिमों से शांति बनाए रखने की अपील की तथा साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री डॉ. गोपीचंद भार्गव को भी यह शिक्षा दी कि ‘एक अच्छे नेता बनो, एक अच्छे प्रशासक बनो |’

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Revolution of 1857 || Haryana GK Study Notes- History Discussion

Revolution of 1857 || Haryana GK Study Notes- History Discussion

Revolution of 1857 || Haryana GK Study Notes- History Discussion

Revolution of 1857

  • East India Company had two main functions in India- To expand the empire and economic exploitation.
  • With the accumulated influence of this entire policy, it had adverse impacts on all the sections, kings of Princely states, soldiers, landlords, peasants,  and maulwis except the western educated section living in cities who were dependent on the company for their livelihood.

1857 की क्रांति

  • ईस्ट इंडिया कंपनी के भारत में दो प्रमुख कार्य थे साम्राज्य बढ़ाना और आर्थिक शोषण। अंग्रेजो  की धन लोलुपता की कोई सीमा नहीं थी।
  • इस समस्त शोषण नीति से संचित प्रभाव से भारत में सभी वर्गों, रियासतों के राजाओं, सैनिको, जमींदारों, कृषकों, मौलवियों, केवल नगरों में पाश्चात्य शिक्षा प्राप्त वर्ग जो अपनी जीविका के लिए कंपनी पर निर्भर थे, उनको छोड़कर शेष सभी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।

Revolution in the Gurugram District

  • 300 soldiers of Delhi went to attack Gurugram on May 13. William Ford, the Collector Magistrate, tried to stop the rebels  at Bijwasan, 12 kilometers away from Gurugram, but he failed to do so.
  • On the second day, the rebels attacked on Gurugram. Ford ran away from Gurugram. In this mission, the rebels got Rs. 7,84,000 from the treasury of Gurugram. As soon as this news came to light, the people of Gurugram also revolted.

जिले  गुरुग्राम में क्रांति

  • दिल्ली के 300 सैनिक 13 मई को गुरुग्राम पर आक्रमण करने के लिए गए। विलियम फोर्ड कलेक्टर मजिस्ट्रेट ने विद्रोहियों को गुरुग्राम से 12 किलोमीटर दूर दिल्ली की तरफ बिजवासन के स्थान पर रोकना चाहा परंतु वह असफल रहा।
  • दूसरे दिन सुबह गुरुग्राम पर विद्रोहियों ने आक्रमण कर दिया। फोर्ड गुरुग्राम छोड़कर भाग गया। विद्रोहियों को इस अभियान में 7,84,000 रुपये गुरुग्राम के खज़ाने से हाथ लगे। इन बातों की खबर मिलते ही गुरुग्राम की जनता भी भड़क उठी।

Revolution in Hisar district

  • In the third week of May, Revolution in Hisar was started by the army squads of Haryana Light Infantry situated in Hisar, Hansi, and Sirsa.
  • The public here also followed the troops from their  heart and soon the revolution in the entire district got erupted. The revolutionaries in the Hisar district were led by the  assistant patrolling officer of Bhatt, Shahjada Muhammad Azim.

हिसार जिले में क्रांति

  • हिसार जिले में क्रांति का श्री गणेश मई के तीसरे सप्ताह में हिसार हाँसी और सिरसा में स्थित हरियाणा लाइट इफेंटरी के सैनिक दस्तों ने किया।
  • यहां की जनता ने भी हृदय से सैनिको का अनुकरण किया और शीघ्र ही सारे जिले में क्रांति भड़क उठी। हिसार जिले में क्रांतिकारियों का नेतृत्व भट्ट के सहायक पेट्रोल अधिकारी शहजादा मुहमद आजिम ने किया।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

History Notes- Socio-Religious Movements || Know your Haryana

History Notes- Socio-Religious Movements || Know your Haryana

History Notes- Socio-Religious Movements || Know your Haryana

Socio – Religious Movements in Haryana  and Advent of British in India

  • The promoter of Arya Samaj was Swami Dayanand. He had established this organisation on 10 april 1875 in Bombay  to remove the malpractices in the Hinduism and build a healthy society.
  • Coming from Punjab, Swami ji first time came to Ambala on July 17 1878. He had to stay in this place to change his train because he had to go to Rudki. But the true arrival of Swami Ji took place in 1880 AD when Swami Ji stayed in Rewari, the famous town of Haryana.

हरियाणा में सामाजिक व धार्मिक आंदोलन :-

  • आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानंद थे। उन्होंने इस संस्था की स्थापना हिंदू समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने तथा एक स्वस्थ समाज के निर्माण हेतू 10 अप्रैल 1875 को बम्बई में की थी।
  • स्वामी जी पहली बार पंजाब से आते हुए हरियाणा के शहर अंबाला में 17 जुलाई 1878 को आए। इस स्थान पर स्वामी जी को रेलगाड़ी बदलने के लिए ठहरना पड़ा था क्योंकि यहां से उन्हें रूड़की जाना था। लेकिन स्वामी जी का सही मायने में आगमन 1880 ई० में हुआ, जब स्वामी जी ने हरियाणा की प्रसिद्ध नगरी रेवाड़ी में आकर ठहरे।

Arrival of the British in India

  • Arrival of the British in Haryana : After the third battle of Panipat in 1761, the Afghans returned to North and Marathas had to go to South. The jats and sikhs were left to fill this naught.
  • Delhi has always been the heart of the political life of Haryana  and neighbouring regions. After the decline of the Mughal Empire in the beginning of 18th century, it fell rapidly.

भारत में ब्रिटिशों का आगमन

  • हरियाणा में ब्रिटिशों का आगमन 1761 में पानीपत की तीसरी लड़ाई के बाद, अफगान उत्तर लौट आए और मराठों को दक्षिण में जाना पड़ा, सिखों और जाटों को शून्य को भरने के लिए छोड़ दिया गया।
  • दिल्ली हमेशा हरियाणा और पड़ोसी इलाके के राजनीतिक जीवन का दिल रहा है। 18 वीं शताब्दी की शुरुआत से मुगल साम्राज्य के विघटन के बाद यह तेजी से गिरावट आई थी।

Partition of Haryana

  • In 1805,  the british split Haryana into two parts due to administrative and political reasons. A small part of the allotted area was kept under direct control of the company. The bigger one was divided and handed over to the various rulers.  Allotted regions included Panipat, Sonipat, Samalkha, Ganaur, Palam, Palwal, Nuh, Nagina, Haithin, Firozpur, Jhirka, Sohna, and Rewari.
  • This area was administered by the officer regident of the East India Company and they directly reported to the Governor General. The second bigger part was divided into various Princely states and handed over to the loyal local kings and the Nawabs. But, this system was not good with the people of Haryana, who are of independent nature and do not like if someone interferes in their matters. But, by 1809 AD, The british had completely established their control over Haryana.

हरियाणा का विभाजन

  • 1805 में, अंग्रेजों ने प्रशासनिक और राजनीतिक कारणों से हरियाणा को दो हिस्सों में विभाजित किया। आवंटित किए गए क्षेत्र नामक एक छोटा सा हिस्सा सीधे कंपनी के नियंत्रण में रखा गया था। बड़ा हिस्सा विभाजित किया गया था और विभिन्न स्थानीय शासक को सौंप दिया गया था, जो अंग्रेजों के प्रति वफ़ादारी  थे। आवंटित किए गए प्रदेशों में पानीपत, सोनीपत समालखा , गणौर, पालम, पलवल, नुह, नगीना, हैथिन, फिरोजपुर झिरखा, सोहना और रेवाड़ी के अंतर्गत के क्षेत्र शामिल थे।
  • इस क्षेत्र को निवासी ईस्ट इंडिया कंपनी के अधिकारी रेजिडेंट  द्वारा प्रशासित किया गया था और उन्होंने सीधे गवर्नर जनरल को बताया। दूसरा बड़ा हिस्सा विभिन्न रियासतों में बांटा गया था और वफादार स्थानीय राजाओं और नवाबों को सौंप दिया गया था। लेकिन, ये व्यवस्था हरियाणा के लोगों के साथ बहुत अच्छी नहीं थी, जो प्रकृति से स्वतंत्र हैं और स्वतंत्र मामलों को अपने मामलों में दखल देने की तरह नहीं हैं। लेकिन 1809 तक, अंग्रेजों ने हरियाणा के क्षेत्र पर पूर्ण नियंत्रण स्थापित किया था।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Haryana During Maratha Period

  • After the death of Aurangzeb, Anarchy spread everywhere. Civil war broke out between the sons of Aurangzeb.
  • Taking the advantage of this situation, the local Sardars became independent but the situation of haryana became worst.
  • Many local powers emerged here too but they maintained the peace and order in their regions. Faujdar Khan in Farukh Nagar, Rao Nand Ram in Rewari, Shahdad Khan in Hisar, and Menjombal Khan in Kunjpura were main among them.
  • The regions of Rohtak, Panipat, Sonipat, and Karnal were under Mughals only for the name. In such circumstances, the Marathas came.

मराठा शासनकाल के दौरान हरियाणा

  • औरंगज़ेब की मृत्यु के बाद चारों तरफ अराजकता फैल गई। औंरगजेब के पुत्रों में गृहयुद्ध आंरभ हो गया।
  • इस रिथति का लाभ उठाकर स्थानीय सरदार स्वतंत्र हो गए। लेकिन हरियाणा की स्थिति काफी खराब हो गई।
  • यहां भी कई स्थानीय शक्तियां उभरकर आ गई पर उन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में शांति तथा व्यवस्था को कायम रखा। इनमें फरुख नगर में फौजदार खां, बल्लभगढ़ में गोपाल सिंह, रेवाड़ी में राव नंदराम, हिसार में सहदाद खां और कुंजपुरा में मेनजोंबल खा मुख्य थे।
  • रोहतक, पानीपत, सोनीपत और करनाल के क्षेत्र केवल नाममात्र के ही मुगलों के अधीन थे। ऐसी परिस्थितियों में मराठों का आगमन हुआ।

Third Battle of Panipat

  • When Ahmed Shah Abdali got the news of the rights of the Marathas on Punjab, he left Kabul in 1761 AD and moved towards Punjab.
  • At this time he also got the support of Nawab of Ruhla and Nawab of Awadh. Soon he took control of Punjab and reached Tarawadi via Lahore, Goindwal Sirhind and Ambala .
  • Here, Peshwa sent Sadashiv Rao Bhau to fight the invaders, and gave an army to his son, Vishwas Rao and sent him  to the north.
  • Malhar Rao Janak ji and Jat Raja Surajmal met on the way, near chambal and came along with him.

पानीपत का तीसरा युद्ध

  • जब अहमदशाह अब्दाली को पंजाब पर मराठों के अधिकार का समाचार मिला तो वह 1761 ई० में काबुल छोड़कर पंजाब की तरफ बढ़ा।
  • इस समय उसे रूहेला और अवध के नवाब का सहयोग भी प्राप्त था। शीघ्र ही उसने पंजाब पर अधिकार कर लिया और लाहौर, गोइंदवाल सरहीद, अंबाला होते हुए तरावड़ी तक आ पहुंचा।
  • इधर पेशवा ने आक्रमणकारी का मुकाबला करने के लिए सदाशिव राव भाऊ, और अपने बेटे विश्वास राव को एक सेना देकर जिसके पास सैनिक साजो सामान तथा पैसे की कमी थी उत्तर की तरफ रवाना किया।
  • रास्ते में चंबल के पास मल्हार राव जनको जी और जाट राजा सूरजमल भी उसके साथ आ मिले।

Maratha reinstatement

  • Due to the death of Mirza Najaf, the Delhi Darbar was once again haunted by political conspiracy.
  • Badshah Shah Alam who was very old at this time was unable to stop them. So he invited Maratha Sardar Mahadji Scindia to help.
  • Scindia reached Delhi for this immediately. Nobody had the courage to oppose Scindia.
  • Emperor immediately appointed Scindia as the Chief General of the Imperial Army and the Director of State of Delhi.

मराठों का पुनःअधिकार  

  • मिर्जा नजफ के मरते ही दिल्ली दरबार एक बार फिर राजनैतिक षड़यंत्रे का अड्डा बन गया।
  • बादशाह शाह आलम जो इस समय बहुत बूढा हो चुका था इन्हें रोकने में असमर्थ था। अतः उसने मराठा सरदार महादजी सिंधिया को सहायता करने के लिए आमंत्रित किया।
  • सिंधिया इसके लिए तुरंत दिल्ली आ पहुंचा। किसी में भी इतना साहस नहीं था कि सिंधिया को विरोध कर सके।
  • बादशाह ने तुरंत सिंधिया को शाही सेना का प्रधान सेनापति और दिल्ली राज्य का संचालक नियुक्त कर दिया।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Mughal Period- History Important GK notes || Online Preparation

Mughal Period- History Important GK notes || Online Preparation

Mughal Period- History Important GK notes || Online Preparation

Mughal Period

First battle of Panipat :

  • Haryana state which is situated in the middle of Delhi and Lahore, has been a battlefield during the entire medieval period due to its significant geographical condition. Whatever external aggressor came to India with the purpose of occupying Delhi, took this area as a battlefield.
  • To lay the foundation of the Mughal empire, Panipat was selected.
  • Babur in his autobiography Tuzk-i-babri himself writes that “from acquirement of Kabul( 1526 AD)  to the victory of Panipat, I never dropped the idea of Conquering India.
  • Ibrahim Lodhi was the sultan of India when Babur attacked.

पानीपत का प्रथम युद्ध

  • हरियाणा प्रदेश जो कि दिल्ली और लाहौर के मध्य में स्थित है, अपनी महत्वपूर्ण भौगोलिक रिथति के कारण संपूर्ण मध्यकाल में लड़ाइयों का मैदान रहा है। जो भी बाहरी आक्रमणकारी दिल्ली पर अधिकार करने के उद्देश्य से भारत आया उसने इस क्षेत्र को युद्ध मैदान के रूप में अपनाया।
  • मुगल साम्राज्य की नीव रखने के लिए पानीपत के मैदान को चुना I
  • बाबर अपनी आत्मकथा ‘तुज्के – बाबरी में स्वयं लिखता है कि “काबुल की प्राप्ति से लेकर (1526 ई०) पानीपत की विजय तक मैंने कभी भी हिंदुस्तान जीतने का विचार नहीं छोड़ा I
  • बाबर के आक्रमण के समय इब्राहिम लोधी दिल्ली का सुल्तान था।

Second Battle of Panipat

  • After the death of Humayun , Hemu captured the Delhi throne on 7 October , 1556.
  • This is how, He became Hemchandra Vikramaditya , He also issued Coins on his Name.
  • On 5th November , 1556 Bairam khan defeated Hemu and killed him.
  • After that , Akbar son of Humayun got the throne of Delhi and he divided Delhi Province into 15 parts.

पानीपत की दूसरी लड़ाई

  • हुमायूँ की मृत्यु के बाद, हेमू ने 7 अक्टूबर, 1556 को  दिल्ली की गद्दी पर कब्ज़ा कर लिया |
  • इस प्रकार, वह हेमचन्द्र विक्रमादित्य बना, उसने अपने नाम पर सिक्के भी जारी किये |
  • 5 नवम्बर, 1556 को, बैरम खान ने हेमू को पराजित करके उसकी हत्या कर दी |
  • इसके बाद, हुमायूँ के पुत्र अकबर को दिल्ली की गद्दी मिल गयी और उसने दिल्ली प्रांत को 15 हिस्सों में विभाजित कर दिया |

Third Battle of Panipat

  • Third battle of Panipat was fought between Marathas and Ahmad Shah Abdali.
  • On 14 January , 1761  , Third Battle of Panipat was fought in which Marathas  was defeated.
  • Before returning back, Abdali placed the northern part of Haryana (which now includes Ambala, Jind, Kurukshetra, and Karnal districts ) under the control of his governor of Sirhind  Jain Khan and let the rest of his area continue to be the part of Mughal empire.

पानीपत की तीसरी लड़ाई

  • पानीपत की तीसरी लड़ाई मैराथन और अहमद शाह अब्दाली के बीच लड़ी गयी थी |
  • 14 जनवरी 1761 को, पानीपत की तीसरी लड़ाई लड़ी गयी थी जिसमें मराठों की हार हुई थी |
  • अब्दाली ने वापस लोटने से पहले पूर्व हरियाणा प्रदेश के उत्तरी भाग को ( जिसमे आजकल के अम्बाला , जींद , कुरक्षेत्र , तथा  करनाल जिले सम्मिलित है ) सरहिंद के अपने गवर्नर जैन खान  के अधीन कर दिया और शेष बचे हुए अपने क्षेत्र की मुग़ल साम्राज्य का पूर्ववत भाग बना रहने दिया I

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel