Posted on Leave a comment

HCS Sociology 2018 Exam | Study Content for Online Exam Preparation

HCS Sociology 2018 Exam | Study Content for Online Exam Preparation

HCS Sociology 2018 Exam | Study Content for Online Exam Preparation

Max Weber-

Reasons for dissatisfaction of Weber with Marx’s Historical- Materialist analysis:

  • Weber thought that it was highly unlikely that history develops according to any kind of grand plan. For Weber, human action is much more contingent than this in the sense that nobody can predict what all circumstances and contexts of action will be. Regarding Marx’s idea, for ex., that capitalism must follow feudalism, Weber pointed out that capitalism is not unique to modern society. Modern industrial capitalism, is just one type, one variety of the different kinds of capitalism that, under different historical circumstances, could have developed.
  • Weber said that historical-materialist approach gave too much attention to the economic realm and thus underestimated what goes on in other aspects of social life. To understand the origins of modern capitalism, it is necessary to look at developments in the political, legal and religious spheres as well as in the economic sphere.
  • Materialist theories inevitably give priority to material phenomena, ideational phenomena, including ideas, values and beliefs, but also the way social actors construct intellectual representations of reality in their mind, also need to be taken into account.

Weber provided an alternative to historical-materialist approach which can be studied as-

  • his comments about the development of a new kind of rationality, which became integral to the Western world view from the 16th century onwards;
  • his detailed description in The Protestant Ethic and the Spirit of Capitalism of how new variant of the business or commercial spirit of capitalism coincided with the emergence of a particular kind of Protestant religious ethic in Northern Europe at around the same time;
  • his comments about the inevitable spread of bureaucracy.

मैक्स वेबर –

मार्क्स के ऐतिहासिक-भौतिकवादी विश्लेषण से वेबर की असंतुष्टि के कारण :

  • वेबर ने सोचा कि यह बहुत असंभव है कि इतिहास का विकास किसी विराट योजना के साथ होता है | वेबर के लिए, मानव क्रिया इतनी आकस्मिक है कि कोई यह अनुमान नहीं लगा सकता कि कार्यों की परिस्थितयाँ तथा सन्दर्भ क्या होंगे | मैक्स के विचार के अनुसार,उदाहरण के लिए- पूँजीवाद को सामंतवाद का अवश्य अनुसरण करना चाहिए, वेबर ने बताया कि   आधुनिक समाज के लिए पूँजीवाद अनन्य नहीं है| आधुनिक औद्योगिक पूँजीवाद, विभिन्न प्रकार के पूँजीवादों का केवल एक प्रकार, केवल एक किस्म है, जो विभिन्न ऐतिहासिक परिस्थितियों के अंतर्गत विकसित हो सकता था |
  • वेबर ने कहा कि ऐतिहासिक-भौतिकवाद दृष्टिकोण ने आर्थिक क्षेत्र पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया तथा इस प्रकार जीवन के अन्य पहलुओं में क्या चल रहा है, उसे कम करके आंका गया | आधुनिक पूंजीवाद के मूल को समझने के लिए, राजनीतिक, कानूनी, धार्मिक क्षेत्र के साथ-साथ आर्थिक क्षेत्र में भी विकास को देखना आवश्यक है |
  • भौतिकवादी सिद्धांत भौतिक घटनाओं, विचारधारात्मक घटनाओं जिनमें विचार, मूल्य तथा विश्वास शामिल हैं, उनको अधिक प्राथमिकताएं देते हैं , किन्तु जिस तरह सामाजिक कर्ताओं ने उनके दिमाग में बौद्धिक प्रतिनिधित्व का निर्माण किया है, उसे भी ध्यान में रखना चाहिए |

वेबर ने ऐतिहासिक-भौतिकवादी दृष्टिकोण का एक विकल्प प्रदान किया, जिसका इस तरह अध्ययन किया जा सकता है –

  • नयी तरह की तर्कसंगतता के विकास के बारे में उनकी टिप्पणियां, जो 16वीं शताब्दी के बाद से  पश्चिमी दुनिया के विचारों का अभिन्न अंग बन गयी |
  • प्रोटेस्टेंट नैतिक सिद्धांतों तथा पूँजीवाद की भावना के बारे में उनका विस्तृत विवरण, कि किस प्रकार नए तरह के व्यापार अथवा पूंजीवाद की वाणिज्यिक भावना का उद्भव उत्तरी यूरोप में एक ही समय में विशेष प्रकार के प्रोटेस्टेंट नैतिक सिद्धांतों के उदय के साथ हुआ|
  • नौकरशाही के अनिवार्य प्रसार के बारे में उनकी टिप्पणियां |

Rationality:

  • Weber agreed with Marx that modern capitalism had become the dominant characteristic of modern industrial society. But for Weber, the originating cause, the fundamental root of this development, was not ‘men making history’ or ‘the class struggle’ but the emergence of a new approach to life based around a new kind of rational outlook.
  • The main intention of the new rationality was to replace vagueness and speculation with precision and calculation.
  • The new rationality was all about controlling the outcomes of action, of eliminating fate and chance, through the application of reason.
  • Weber called the new outlook instrumental rationality because it took the degree to which it enabled social actors to achieve the ends they had identified as its main criteria for judging whether an action was or was not rational.
  • Instrumental rationality was also a ‘universal rationality’ as it affected the way in which decisions to act were made, not just in economic affairs, but across the full spectrum of activity.

तर्कसंगतता :

  • वेबर मार्क्स से सहमत थे कि पूँजीवाद आधुनिक औद्योगिक समाज की प्रमुख विशेषता बन चुका था | किन्तु वेबर के लिए, उत्पत्ति का कारण, इस विकास की बुनियादी जड़, मानव निर्माण का इतिहास अथवा वर्ग संघर्ष नहीं था बल्कि एक नए प्रकार के तर्कसंगत दृष्टिकोण के आधार पर उभरा वाला जीवन के प्रति नया दृष्टिकोण था |
  • नयी तर्कसंगतता का मुख्य उद्देश्य अस्पष्टताओं तथा अटकलों को गणना तथा यथार्थता के द्वारा विस्थापित करना था |
  • नयी तर्कसंगतता कारण के अनुप्रयोग के माध्यम से कार्य के परिणामों को नियंत्रित करने, भाग्य तथा इत्तेफाक को समाप्त करने के बारे में थी |
  • वेबर ने नए दृष्टिकोण को सहायक तर्कसंगतता कहा क्योंकि इसने वह सीमा लिया जिसके लिए इसने सामाजिक कर्ताओं को उन छोरों को प्राप्त करने में सक्षम बना दिया जिनको उन्होंने “कोई कार्य तर्कसंगत है या नहीं” इसकी जांच करने हेतु मुख्य मापदंड के रूप में चिन्हित किया था |
  • सहायक तर्कसंगतता एक सार्वभौमिक तर्कसंगतता भी थी क्योंकि इसने उस प्रक्रिया को प्रभावित किया जिसमें कार्य करने के निर्णय लिए जाते थे, ना केवल आर्थिक मामलों में बल्कि क्रिया के समूचे वर्णक्रम में |

Rationalisation:

  • The term ‘rationalisation’ was used by Weber to describe what happens when the different institutions and practices that surround social action take on the techniques of instrumental rationality.
  • Weber agreed with Marx about the great significance for historical development of developments in the economic sphere, he argued that the massive expansion of the economic sphere as it entered its industrial stage was itself a consequence and not a cause of the spread of the new instrumental rationality.
  • Weber noted that the uptake of instrumental rationality through rationalisation can be seen to be a driving force behind all forms of modernisation in modern society.
  • While factors identified by Marx, such as property relations, class conflict and development in the means of production, play an important role in how, at a lower and more descriptive level of analysis, the specific consequences are worked out, each of these is, according to Weber, an outlet for the underlying urge to become increasingly rational.
  • Recalling Durkheim’s analysis of social solidarity and the new individualism, one might say that the instrumental rationality identified by Weber provides an important source of collective consciousness in modern society. Rationalisation and its consequences regulate the behaviour of social actor and thus contribute to social order.

युक्तिकरण :

  • शब्द “युक्तिकरण ” का इस्तेमाल वेबर के द्वारा इस चीज को परिभाषित करने के लिए किया गया था कि “क्या होता है जब विभिन्न संस्थाएं तथा प्रथाएं जिनसे सामाजिक क्रिया घिरी होती है, सहायक तर्कसंगतता की तकनीक को ग्रहण करती हैं |
  • वेबर ने आर्थिक क्षेत्र के विकास में ऐतिहासिक विकास के प्रमुख महत्व के संबंध  मार्क्स के साथ सहमति व्यक्त की, उन्होंने तर्क दिया कि आर्थिक क्षेत्र का व्यापक विस्तार, इसके औद्योगिक चरण में पंहुचने का स्वयं एक परिणाम था ना  कि नयी औद्योगिक तर्कसंगतता के प्रसार का कारण था |
  • वेबर ने कहा कि युक्तिकरण के माध्यम से सहायक तर्कसंगतता का उदय आधुनिक समाज में आधुनिकीकरण के सभी रूपों के पीछे की एक प्रेरक शक्ति के रूप में देखी जा सकती है |
  • मार्क्स के द्वारा चिन्हित कारक, जैसे कि संपत्ति सम्बन्ध, वर्ग संघर्ष, तथा उत्पादन के साधनों में विकास, विश्लेषण के निम्नतर तथा विवरणात्मक स्तर पर,  किस प्रकार विशिष्ट परिणामों का अर्थ निकाला जाता है, इसमें एक महवपूर्ण भूमिका निभाते हैं | वेबर के अनुसार, इनमें से प्रत्येक तेजी से तर्कसंगत बनने की अन्तर्निहित आवश्यकता के लिए एक बहिर्द्वार हैं |
  • दुर्खीम के सामाजिक एकता और व्यक्तिवाद के विश्लेषण को याद करते हुए, कोई व्यक्ति कह सकता  है कि वेबर के द्वारा चिन्हित तर्कसंगतता आधुनिक समाज में सामूहिक चेतना का एक महत्वपूर्ण स्रोत प्रदान करती है | तर्कसंगतता तथा इसके परिणाम सामाजिक कर्ता के व्यवहार को विनियमित करते हैं तथा इस प्रकार सामाजिक व्यवस्था में योगदान देते हैं |

HCS Sociology 2018 Exam
Formal and substantive rationality:

  • Weber makes a distinction between the rationality of something in terms of how useful it is in a purely practical sense (its formal reality) and how rational it is in terms of the ends it serves (its substantive reality).
  • Ex., It is evident that the industrial division of labour is a more rational way of producing things than feudal agriculture. What is less clear is that whether the decision to apply this type of organisation is entirely rational one given that there is no guarantee that the general quality of life is also bound to improve.
  • For Weber, one of the most difficult challenges of social theory is to account for the judgements social actors make, not so much over the best means for achieving something, but over which ends they feel are worth pursuing.
  • The potential conflict between formal and substantive rationality is itself a consequence of the modernist perspective that emerged from the European Enlightenment. In pre-modernity crucial decisions about ultimate ends simply did not arise because the originating force in the universe as considered was nature or God. Having displaced nature with society and having marginalised the notion of the divine presence with the introduction of a strong concept of human self-determination, social actors in modern society have to make choices that have been created by powerful new technical means at their disposal.
  • Reflecting the instrumentality of the new outlook, Weber felt that as social actors become more and more obsessed with expressing formal rationality by improving the techniques they have for doing things, they become less and less interested in why they are doing them. The connection between means and ends becomes increasingly weakened even to the extent that ends come to be defined in terms of the unquestioned desirability of developing yet more means.
  • Marx had defined social conflict in terms of the struggle for economic resources, Weber added that important struggles also took place between one value system and another. Capitalism dominated modern society not because it is good at developing new techniques for producing things (it expresses very high levels of formal rationality, or, in Marx terms, is very dynamic in developing the means of production) but because it engages sufficiently at the level of ideas for social actors to believe that this is a rational way to proceed.

The rational iron cage:

  • Weber regrets the loss of high ideals and of meaning in existence that results from rationalization.
  • Modern man is trapped in a rational “iron cage of commodities and regulations” and he has lost his humanity. At the same time, he believed that he has achieved the highest stage of development.

औपचारिक तथा मूल तर्कसंगतता :

  • वेबर किसी चीज की तर्कसंगतता के बीच इस संदर्भ में भेद करते हैं कि यह शुद्धतया व्यावहारिक रूप से कितनी उपयोगी है (इसकी औपचारिक वास्तविकता ) तथा जिसे यह सेवा प्रदान करती है, उस छोर के लिए यह कितनी तर्कसंगत (इसकी मूल वास्तविकता )  है |  
  • उदाहरण – यह स्पष्ट है कि श्रम का औद्योगिक विभाजन सामंती कृषि की तुलना में वस्तुओं के उत्पादन का अधिक तर्कसंगत तरीका है | वह चीज जो कम स्पष्ट है वह यह है कि क्या इस तरह की व्यवस्था को लागू करने का निर्णय पूरी तरह से तर्कसंगत निर्णय है अथवा नहीं,  जबकि जीवन की सामान्य गुणवत्ता भी बेहतर होने के लिए बाध्य है |
  • वेबर के लिए, सामाजिक सिद्धांत की सबसे मुश्किल चुनौतियों में से एक सामाजिक कर्ताओं द्वारा लिए गए निर्णयों के प्रति उत्तरदायी होना है, किसी चीज को प्राप्त करने के सर्वोत्तम साधनों के लिए नहीं , बल्कि उन छोरों के प्रति जिनका पीछा करना वे उचित समझते हैं |
  • औपचारिक तथा मूल तर्कसंगतता के बीच का संघर्ष स्वयं आधुनिकतावादी विचारधारा का एक परिणाम है जो यूरोपीय ज्ञान से उभरा है | आधुनिकता के पूर्व अंतिम छोरों के बारे में महत्वपूर्ण विचारों का उदय नहीं हुआ क्योंकि ब्रह्माण्ड में उत्पत्ति की शक्ति के रूप में  प्रकृति या ईश्वर को माना जाता था | समाज द्वारा प्रकृति के विस्थापन तथा मानव आत्म-निर्णय की मजबूत अवधारणा के आगमन के साथ दैवीय उपस्थिति की धारणा को हाशिये पर रखते हुए, आधुनिक समाज में सामाजिक कर्ता को चुनाव करना पड़ता है, जिनका निर्माण उनकी सेवा में नए शक्तिशाली तकनीकी साधनों के द्वारा किया गया है |
  • नए दृष्टिकोण की महत्वपूर्ण भूमिका को दर्शाते हुए, वेबर ने महसूस किया कि चूँकि सामाजिक कर्ता चीजों को करने की तकनीकों में सुधार से औपचारिक तर्कसंगतता को व्यक्त करने की आसक्ति से बहुत ज्यादा युक्त हो जाते हैं, इसलिए वे  उन चीजों को करने के तरीकों में कम से कम रूचि लेते हैं | साधनों तथा छोरों के बीच जुड़ाव तेजी से उस सीमा तक कम हो जाता है की छोरों को विकासशील किन्तु अधिक साधनों की निर्विवाद वांछनीयता के सन्दर्भ में परिभाषित किया जाने लगता है |
  • मार्क्स ने वर्ग संघर्ष को आर्थिक संसाधनों के लिए संघर्ष के रूप में परिभाषित किया था | वेबर ने उसमें जोड़ा कि एक मूल्य प्रणाली तथा दूसरे मूल्य प्रणाली के बीच संघर्ष भी हुए | पूँजीवाद आधुनिक समाज पर इसलिए हावी नहीं हुआ कि यह वस्तुओं के उत्पादन  हेतु नयी तकनीकों को विकसित करने में अच्छा है (यह बेहद उच्च  औपचारिक तर्कसंगतता को अभिव्यक्त करता है, अथवा, मार्क्स के अनुसार यह उत्पादन के साधनों के विकास में बेहद गतिशील है ) बल्कि इसलिए क्योंकि यह सामाजिक कर्ताओं हेतु विचारों के स्तर पर पर्याप्त रूप से संलग्न होता है ताकि वे यह मान लें कि आगे बढ़ने के लिए यह एक तर्कसंगत तरीका है |

तर्कसंगतता का लौह पिंजरा : .

  • वेबर उच्च आदर्शों तथा अस्तित्व में अर्थ की हानि के लिए खेद व्यक्त करते हैं, जो युक्तिकरण के परिणामस्वरूप होता है |
  • आधुनिक व्यक्ति वस्तुओं तथा नियमों के एक तर्कसंगत लौह पिंजरे में फंसा हुआ है तथा उसने अपनी मानवता खो दी है | इसी समय, वह मानता था कि उसने विकास की सबसे ऊँची अवस्था को प्राप्त कर लिया है |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS 2018 Online Exam | Sociology Max Weber – Social action, Ideal types Study Notes

HCS 2018 Online Exam | Sociology Max Weber – Social action, Ideal types Study Notes

HCS 2018 Online Exam | Sociology Max Weber – Social action, Ideal types Study Notes

Max Weber:-

Max Weber (1864 – 1920):

  • Weber is accused of producing bourgeois social theory as opposed to the proletarian social theory of Marx. He came from a wealthy established family, and thus had the benefits of a privileged education and good social and career prospects.
  • Weber worked in a society in which the dominant political issue was the decline of the liberal, Protestant and highly individualistic attitude of the established middle class, and the emergence of an authoritarian, militarised, bureaucratic regime that accompanied the rise of the ‘new Germany’.
  • For Weber and many of his contemporaries, the demise of traditional liberal values of personal responsibility and autonomy, and their replacement with a much more paternalistic notion of national service, was a matter of great concern.
  • Weber become involved in the heated discussions about the role of social-scientific study, and the difference between this and the natural sciences, taking place in Germany around 1900. These philosophical debates began with the revival of one of the old chestnuts of philosophy and social theory, which is the distinction between empirical knowledge and rational knowledge.

मैक्स वेबर:-

मैक्स वेबर (1864-1920) :

  • वेबर को मार्क्स के श्रमिक सामाजिक सिद्धांत के खिलाफ पूंजीवादी सामाजिक सिद्धांत को प्रतिपादित करने का आरोपी माना जाता है  | वह एक स्थापित धनी परिवार से थे और इस प्रकार उनके पास एक अच्छी शिक्षा का लाभ था और अच्छे सामाजिक व करियर संभावनाओं का भी |
  • वेबर एक ऐसे समाज में कार्य करते थे जिसमें स्थापित मध्यवर्ती वर्ग के उदारवादी, प्रतिवादी व अत्यधिक व्यक्तिगत रवैया और एक सत्तावादी, सैन्य, नौकरशाह शासन का उदय, जिससे ‘नए जर्मनी’ का उदय हुआ, महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दा था |
  • वेबर और उनके समकालीनों के लिए व्यक्तिगत दायित्व व स्वायत्तता के पारंपरिक उदारवादी मूल्यों की समाप्ति और राष्ट्रीय सेवा के एक अधिक पैतृक धारणा के साथ उन्हें बदलना एक अधिक चिंता का विषय था |
  • वेबर सामाजिक-वैज्ञानिक अध्ययन के भूमिका के महत्वपूर्ण चर्चा में शामिल हुए, और इस व प्राकृतिक विज्ञानों के बीच अंतर 1900 के आसपास जर्मनी में आने लगा था | इन दार्शनिक वादों की शुरुआत दर्शन और सामाजिक सिद्धांत के एक पुराने सुर्खी के पुनर्जीवन के साथ हुई, जो कि अनुभवजन्य ज्ञान विवेकी ज्ञान के बीच अंतर है |

Immanuel Kant (1724 – 1804):

  • A German philosopher, Immanuel Kant argued that while knowledge of the real world was something that comes through our physical senses, it can only be made sense of once this information has been structured and organised by the mind. Kant’s position is dualistic because he accepts the necessary combination of sense perception and cognitive reason. Hegel is monistic as he emphasises the absolute primacy of intellectual reason alone.
  • Kant tried to reconcile his rationalist view with the strict objectivism and empiricism of John Locke (1632 – 1704) and David Hume (1711 – 1796) who argued that all our ideas and concepts, including both physical sensations and intellectual reflections, are derived from practical experience of the world around us and not from pre-existing capacities of the human mind. From an empiricist viewpoint, there cannot be any knowledge or consciousness until after we have had physical contact with the material world around us. This dispute over 2 kinds of knowledge is useful to study the nature of social-scientific knowledge.
  • Kant argued that the free individual was intuitively capable of moral self-direction. As natural objects, the behaviours of individuals could be investigated according to the same scientific methodologies that would be appropriate for any natural object. As moral subjects, individuals are not part of the natural world, for God has given the individual free choice to act in either a moral or an immoral fashion. A civilized society is one that encourages individuals to act morally. But society cannot deterministically generate morality because moral action is always an outcome of free will.
  • The Kantian emphasis on the dualism of the individual – the view of man as both natural object and moral subject – strongly influenced Simmel and Weber. For Simmel and Weber, sociology, unlike biology or chemistry, had to come to terms with the fact that, to some extent, the individual was not, and could not be, constrained by determinate laws.
  • The younger followers of Kant or ‘neo- Kantians’, and other interested including Weber, turned their attention to –

(a) They wanted to challenge the idea that the kind of knowledge generated by the natural sciences was the only kind of knowledge available.

(b) They wanted to show that the 2 kinds of science had to be different because they were looking at two fundamentally different kinds of phenomena.

(c) If these points are valid, then it was obvious that 2 distinct methodologies were required to investigate them.

Methodenstreit:

  • The philosophical debates between the positivists and anti-positivists, which began in Germany in the latter part of the 19th century, are known as Methodenstreit.

इम्मानुअल कान्त (1724-1804) :

  • एक जर्मन दार्शनिक, इम्मानुअल कान्त का तर्क था कि जहाँ वास्तविक दुनिया का ज्ञान वह था जो हमारे भौतिक बोध द्वारा आता था, इसे सिर्फ एक बार का बोध तभी बनाया जा सकता था यदि इस सूचना की सरंचना और संगठन मन द्वारा किया जाता हो | कान्त का पद द्वैतवादी है क्योंकि वह संवेदन बोध व ज्ञान-सम्बन्धी तर्क के अनिवार्य मेल को स्वीकारते हैं | हेगल मोनिस्टिक है क्योंकि वह सिर्फ बौद्धिक तर्क के निरपेक्ष उत्कृष्टता पर जोर डालते हैं |
  • कान्त ने अपने तर्कवादी दृष्टिकोण को जॉन लॉक (1632 – 1704) और डेविड ह्यूम (1711 – 1796) के निष्पक्षतावाद और अनुभवजन्यवाद से मिलाने की कोशिश की जिनका तर्क यह था कि हमारे सभी विचार और धारणाएं, भौतिक संवेदनाएं और बौद्धिक मीमांसाएँ दोनों सहित, हमारे आसपास के विश्व के व्यावहारिक अनुभव से प्राप्त होते हैं न कि मानव मन के पूर्व-मौजूदा क्षमताओं से | एक अनुभववादी दृष्टिकोण से कोई ज्ञान या चेतना नहीं हो सकती जब तक कि हमारे आसपास के भौतिक विश्व के साथ हमारी भौतिक संपर्क न हो | ज्ञान के 2 प्रकार के बीच यह विवाद सामाजिक -वैज्ञानिक ज्ञान के प्रकृति के अध्ययन के लिए उपयोगी है |
  • कान्त का तर्क था कि स्वतन्त्र व्यक्ति नैतिक स्व-निर्देश के लिए सहज रूप से समर्थ था | प्राकृतिक वस्तुओं की तरह व्यक्तयों के व्यवहार का भी समान वैज्ञानिक प्रणाली के अनुसार परीक्षण किया जा सकता है जो कि किसी अन्य प्राकृतिक वस्तु के लिए उचित होती | नैतिक विषयों के रूप में, व्यक्ति प्राकृतिक विश्व का हिस्सा नहीं है, क्योंकि ईश्वर ने व्यक्ति को किसी नैतिक या अनैतिक रूप से कार्य करने के लिए स्वतन्त्र विकल्प दिया है | एक सभ्यात्मक समाज वह है जो व्यक्तियों को नैतिक रूप से कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करे | लेकिन समाज निर्धारणात्मक नैतिकता का निर्माण नहीं कर सकता क्योंकि नैतिक कार्य स्वतन्त्र इच्छा का परिणाम है |
  • व्यक्ति के द्वैतामक  – इंसान का प्राकृतिक व नैतिक वस्तु के रूप में दृष्टिकोण – पर कान्तीय जोर ने बहुत अधिक सिम्मेल और वेबर को प्रभावित किया | सिम्मेल व वेबर के लिए समाजशास्त्र को, जीवविज्ञान व रसायनविज्ञान के बिलकुल उलट, तथ्यों के साथ सन्दर्भों पर आना पड़ता कि कुछ हदों तक व्यक्ति न तो निर्धारित नियमों द्वारा विवश किया जाता था और न ही किया जा सकता है |
  • कान्त के युवा अनुयायी या ‘नव कान्तवादी’ और वेबर सहित अन्य रूचि रखने रखने वालों ने अपना ध्यान मोड़ा –

(अ) वे इस विचार को चुनौती देना चाहते थे कि प्राकृतिक विज्ञानों द्वारा सृजित ज्ञान का प्रकार उपलब्ध एकमात्र ज्ञान का प्रकार था |

(ब) वे दिखाना चाहते थे कि विज्ञान के 2 प्रकारों को अलग होना चाहिए क्योंकि वे घटना के 2 मुलभूत अलग प्रकारों की खोज कर रहे थे |

(स) यदि ये बिंदु वैध हैं, तो यह स्पष्ट था कि उनके निरीक्षण के लिए 2 अलग प्रणालियों की आवश्यकता थी |

मेथोदेन्स्त्रेइत :

  • प्रत्यक्षवादी और गैर-प्रत्यक्ष्वादियों के बीच दार्शनिक विवादों, जो 19वीं शताब्दी के बाद के भाग में जर्मनी में शुरू हुआ, को मेथोदेन्स्त्रेइत से जाना जाता है |

Difference between the natural world and the social or cultural world as given by Wilhelm Dilthey:

  • The natural world can only be observed and explained from the outside, while the world of human activity can be observed and comprehended from the inside, and is only intelligible because we ourselves belong to this world and have to do with the products of minds similar to our own.
  • The relations between phenomena of the natural world are mechanical relations of causality, whereas the relations between phenomena of the human world are relations of value and purpose.

HCS 2018 Online Exam | Sociology
Various Scholars:

William Dilthey (1833 – 1911):

  • Dilthey believed that since social or cultural science studied acting individuals with ideas and intentions, a special method of understanding (Verstehen) was required, while natural science studied soulless things and, consequently, it did not need to understand its objects.

Wilhelm Windelband (1848 – 1915):

  • He proposed a logical distinction between natural and social sciences on the basis of their methods.
  • Natural sciences use a ‘nomothetic’ or generalizing method, whereas social sciences employ an ‘ideographic’ or individualizing procedure, since they are interested in the non-recurring events in reality and the particular or unique aspects of any phenomenon.
  • He argued that the kinds of knowledge generated by the natural and the social sciences were different as they were looking at 2 different levels of reality. The natural scientists were concerned with material objects and with describing the general laws that governed their origins and interactions, social and cultural scientists were concerned with the ethical realm of human action and culture.
  • Although knowledge of natural phenomena could be achieved directly through observation and experimentation, knowledge of human motivation, of norms and patterns of conduct, and of social and cultural values, had to be based on a more abstract process of theoretical reasoning.

Heinrich Rickert (1863 – 1936):

  • He argued that the natural sciences are ‘sciences of fact’ and so questions of value were necessarily excluded from the analysis.
  • The social sciences are ‘sciences of value’ because they are specifically concerned with understanding why social actors choose to act in the ways that they do.

Influence of these perspectives on Weber:

  • Weber accepted the positivists’ argument for the scientific study of social phenomena and appreciated the need for arriving at generalizations if sociology had to be a social science.
  • He criticized the positivists for not taking into account the unique meanings and motives of the social actors into consideration.
  • He argued that sociology, given the variable nature of the social phenomena, could only aspire for limited generalizations (‘thesis’, as he called), not universal generalizations as advocated by the positivists.
  • Weber appreciated the neo-Kantians for taking into cognizance the subjective meanings and motives of the social actors to understand the social reality but also stressed the need for building generalizations in social sciences. Natural reality is distinguished from the social reality by the presence of ‘Geist’. By virtue of it, humans respond to external stimuli in a meaningful way.
  • Weber partly accepted Marx’s view on class conflict (economic factors) in society but argued that there could be other dimensions of the conflict as well such as status, power etc. Weber was also skeptical about the inevitability of revolution as forecasted by Marx.  He accepted Marxian logic of explaining conflict and change in terms of interplay of economic forces but criticized Marxist theory as mono-causal economic determinism. Weber argued that the social science methodology should be based on the principle of causal pluralism.

विल्हेल्म दिल्थे द्वारा दिए गए प्राकृतिक विश्व और सामाजिक या सांस्कृतिक विश्व के बीच अंतर :

  • प्राकृतिक विश्व को सिर्फ बाहर से ही अवलोकन और व्याख्या किया जा सकता है, जबकि मानव क्रियाकलापों के दुनिया का अवलोकन और उसका सम्मलेन अन्दर से किया जा सकता है, और सिर्फ सुगम है क्योंकि हम स्वयं ही इस दुनिया का हिस्सा है और हमारे स्वयं के समान ही मन के उत्पादों से लेना देना है |
  • प्राकृतिक दुनिया के घटना के बीच संबध कारणत्व के यांत्रात्मक सम्बन्ध हैं, जबकि मानवीय दुनिया के घटना के सम्बन्ध मूल्य व प्रयोजन के सम्बन्ध हैं |

विभिन्न विद्वान् :

विलियम दिल्थे (1833 – 1911) :

  • दिल्थे का मानना था कि क्योंकि सामाजिक या सांस्कृतिक विज्ञान ने विचारों व इरादों के साथ कार्य करने वाले व्यक्तियों का अध्ययन किया, समझ की एक विशेष प्रणाली-विज्ञान की आवश्यकता थी (वेर्स्तेहें), जबकि प्राकृतिक विज्ञान ने निष्प्राण वस्तुओं का अध्ययन किया और इसके परिणामस्वरूप इसे इसके वस्तुओं को समझने की आवश्यकता नहीं थी |

विल्हेल्म विन्देल्बंद (1848 – 1915) :

  • उन्होंने अपने प्रणालियों पर आधारित प्राकृतिक व सामाजिक विज्ञानों के बीच एक तार्किक अंतर का प्रस्ताव दिया |
  • प्राकृतिक विज्ञान एक ‘संवर्धित’’ या सामान्यीकृत प्रणाली का प्रयोग करता है, जबकि सामाजिक विज्ञानें एक ‘विचारधारा’ या व्यक्तिगत प्रक्रिया का उपयोग करते हैं, क्योंकि वास्तविक में ये गैर-आवर्ती घटनाओं में रुचिकर होते हैं और किसी घटना के विशेष या अनोखे पहलुओं में |
  • उनका तर्क था कि सामाजिक और प्राकृतिक विज्ञानों द्वारा सृजित ज्ञान के प्रकार अलग थे क्योंकि वे वास्तविकता के 2 अलग स्तरों पर आधारित थे | प्राकृतिक वैज्ञानिक भौतिक वस्तुओं व सामान्य नियमों, जो उनके मूलों व परस्पर क्रिया को संचालित करते थे, के व्याख्या के बारे में चर्चा करते थे, जबकि सामाजिक व सांस्कृतिक वैज्ञानिक मानव क्रिया व संस्कृति के नैतिक क्षेत्र के बारे में चर्चा करते थे |
  • हालाँकि प्राकृतिक घटना का ज्ञान अवलोकन व प्रयोगकार्य द्वारा प्रत्यक्ष प्राप्त किया जा सकता है, मानव प्रेरणा, आचरण के मानदंड व प्रारूप, सामाजिक और सांस्कृतिक मूल्यों के ज्ञान को सैद्धांतिक तर्क के एक अधिक अमूर्त प्रक्रिया पर आधारित होना था |

हैनरिक रिकर्ट (1863 – 1936) :

  • इनका तर्क था कि प्राकृतिक विज्ञान ‘तथ्य के विज्ञान’ हैं और इसलिए विश्लेषण से अनिवार्य रूप से  मूल्यों के प्रश्नों को बाहर कर दिया गया |
  • सामाजिक विज्ञान ‘मूल्य के विज्ञान’ हैं क्योंकि ये इस बात से विशेषकर सम्बंधित होते हैं कि क्यों सामाजिक कर्ताएं तरीकों में कार्य करना चयन करते हैं जो वे करते हैं |

वेबर पर इन परिप्रेक्ष्यों का प्रभाव :

  • वेबर ने सामाजिक घटना के वैज्ञानिक अध्ययन के लिए प्रत्यक्षवादियों के तर्कों को माना  और सामान्यीकरण पर आने की जरुरत को स्वीकार यदि समाजशास्त्र को एक सामाजिक विज्ञान होना था |
  • उन्होंने अनोखे अर्थों को समावेश नहीं करने व सामाजिक कर्ताओं के उद्देश्यों को विचार में नहीं लेने के लिए प्रत्यक्षवादियों की आलोचना की |
  • उनका तर्क था कि समाजशास्त्र, सामाजिक घटना के अचर प्रकृति को देखते हुए, सिर्फ सीमित सामान्यीकरण के लिए महत्वाकांक्षी (‘थीसिस’ जैसा वह कहते थे) था, न कि प्रत्यक्षवादियों जिसका पक्ष लेते थे उस सार्वभौमिक सामान्यीकरण के लिए |
  • वेबर ने सामाजिक वास्तविकता की समझ के लिए सामाजिक कर्ताओं के व्यक्तिपरक अर्थों और उद्देश्यों को संज्ञान में लेने के लिए नव कान्तीवादियों की सराहना की लेकिन सामाजिक विज्ञानों में सामान्यीकरणों के निर्माण पर भी जोर दिया | प्राकृतिक वास्तविकता ‘वास्तविकता’ की उपस्थिति द्वारा सामाजिक वास्तविकता से अलग है | इसके आधार पर मानव बाह्य उत्प्रेरकों में एक सार्थक तरीके से प्रतिक्रिया करते हैं |
  • वेबर ने आंशिक रूप से समाज में वर्ग टकराव (आर्थिक कारकों) पर मार्क्स के दृष्टिकोण को स्वीकार किया लेकिन तर्क दिया कि दर्जे, शक्ति इत्यादि जैसे मतभेद के अन्य आयाम भी हो सकते हैं | मार्क्स के पूर्वानुमान के अनुसार क्रांति के अनिवार्यता के बारे में वेबर भी उलझन में थे | उन्होंने आर्थिक शक्तियों के परस्पर क्रिया के सन्दर्भ में परिवर्तन व मतभेद को व्याख्या करने के मार्क्सवादी तर्क को स्वीकार किया लेकिन मार्क्सवादी सिद्धांत की एकल-करणीय आर्थिक नियतिवाद के रूप में आलोचना की | वेबर ने तर्क दिया कि सामाजिक विज्ञान प्रणाली को करणीय बहुलवाद के सिद्धांत पर आधारित होना चाहिए |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Sociology Topic Karl Marx – Class struggle, Alienation | HCS Exam 2018

Sociology Topic Karl Marx – Class struggle, Alienation | HCS Exam 2018

Sociology Topic Karl Marx – Class struggle, Alienation | HCS Exam 2018

MARX – CLASS STRUGGLE:-

Marx – Class, Class Struggle and Social Change:

  • According to Marx, in all stratified societies, there are 2 major social groups – a ruling class and a subject class. The ruling class derives its power from its ownership and control of the forces of production.
  • The systems of stratification, as per Marx derive from the relationships of social groups to the forces of production. A class is a social group whose members share the same relationship to the forces of production. Ex., during feudal epoch, there are 2 main classes – feudal nobility and landless serfs.

Marx believed that Western society had developed through 4 main epochs:

  • Primitive Communism
  • Ancient society
  • Feudal society
  • Capitalistic society

Primitive Communism is represented by the prehistoric societies and is the only example of a classless society. Societies were based on a socialist mode of production. In hunting and gathering band, the land and its products were communally owned and all members of society shared the same relationship to the forces of production.

  • Classes emerge when the productive capacity of society expands beyond the level required for subsistence. This occurs when the agriculture becomes the dominant mode of production. Only some individuals work to produce the food while others specialize in other tasks. This division of labour of the hunting and gathering band was replaced by an increasingly more complex and specialized division. Surplus wealth was produced which lead to exchange of goods and development of trading. This was accompanied by the development of a system of private property.
  • Private property and the accumulation of surplus wealth form the basis for the development of class societies. In particular, they provide the preconditions for the emergence of a class of producers and a class of non-producers.
  • From a Marxian perspective, the relationship between the major social classes is one of mutual dependence and conflict. Ex., nature of ownership and production in capitalist society.

मार्क्स -वर्ग संघर्ष:-

मार्क्स-वर्ग, वर्ग संघर्ष, तथा सामाजिक परिवर्तन :

  • मार्क्स के अनुसार, सभी स्तरीकृत समाजों में, दो प्रमुख सामाजिक समूह होते हैं – एक शासक वर्ग तथा एक प्रजा वर्ग | शासक वर्ग  अपनी शक्तियां उत्पादन शक्तियों के नियंत्रण एवं स्वामित्व से प्राप्त करता है |
  • स्तरीकरण की व्यवस्था, मार्क्स के अनुसार, उत्पादन की शक्तियों के लिए सामाजिक समूहों के संबंधों से उत्पन्न होती है  | एक वर्ग कोई सामाजिक समूह है जिसके सदस्यों का सम्बन्ध उत्पादन की शक्तियों के साथ एक समान है | उदाहरण – सामंती युग के दौरान, 2 मुख्य वर्ग थे – सामंती ठाकुर एवं भूमिहीन कृषक |

मार्क्स का यह मानना था कि पश्चिमी समाज चार मुख्य माध्यमों से विकसित हुआ है :

  • प्राचीन साम्यवाद
  • प्राचीन समाज
  • सामंतवादी समाज
  • पूंजीवादी समाज  

प्राचीन साम्यवाद का प्रतिनिधित्व प्रागैतिहासिक समाजों के द्वारा किया जाता है तथा यह वर्गहीन समाज का एकमात्र उदाहरण है | समाज उत्पादन के सामाजिक प्रारूप पर आधारित थे| शिकार तथा एकत्रित दल में ,  भूमि तथा उसके उत्पादों पर सामुदायि स्वामित्व था तथा समाज के सभी सदस्यों का सम्बन्ध उत्पादन की शक्तियों से एक जैसा था |

वर्ग तब उभरते हैं जब समाज की उत्पादक क्षमता निर्वाह हेतु आवश्यक स्तर से अधिक हो जाती है | | यह तब होता है जब कृषि उत्पादन का प्रमुख साधन बन जाता है | केवल कुछ व्यक्ति ही भोजन उत्पादित करने के लिए कार्य करते हैं जबकि अन्य लोग अन्य कार्यों में विशेषज्ञ होते हैं | शिकारी तथा एकत्रीकरण दल के बीच श्रम का विभाजन  एक अधिक जटिल तथा विशेषज्ञ विभाजन के द्वारा विस्थापित कर दिया गया | अधिशेष धन का निर्माण हुआ जो वस्तुओं के आदान-प्रदान एवं व्यापार के विकास की वजह बना | इसके साथ ही निजी संपत्ति की प्रणाली का विकास हुआ

  • निजी संपत्ति एवं अधिशेष धन के संचयन ने वर्ग-समाजों के आधार का निर्माण किया |  विशेष रूप से , वे उत्पादकों के एक वर्ग तथा गैर-उत्पादकों के एक वर्ग की पूर्वापेक्षा प्रदान करते हैं  |
  • मार्क्सवादी दृष्टिकोण से, प्रमुख सामाजिक वर्गों के बीच सम्बन्ध पारस्परिक निर्भरता एवं संघर्ष में से एक है | उदाहरण – पूंजीवादी समाज में स्वामित्व तथा उत्पादन  की प्रकृति|

Sociology Topic Karl Marx
Basic characteristics of a Capitalist economy:

  • Capital – Money used to finance the production of commodities for private gain.
  • Capitalism involves the investment of capital in the production of commodities with the aim of maximizing profit.
  • Capital is privately owned by the minority which is gained from the exploitation of the working class.
  • Marx argues that capital, as such, produces nothing. Only labour produces wealth. Yet the wages they receive are far below the value of goods they produce.
  • The difference between the value of wages and commodities is known as ‘surplus value’. This surplus value is appropriated in the form of profit by the capitalists. Since they are non-producers, the bourgeoisie are therefore exploiting the proletariat, the real producers of wealth.
  • In all class societies, the ruling class exploits and oppresses the subject class.

पूंजीवादी अर्थव्यवस्था की मूल विशेषताएं :

  • पूँजी – निजी लाभ हेतु वस्तुओं के उत्पादन के लिए पूँजी लगाने में प्रयुक्त धन |
  • पूँजीवाद में लाभ को अधिकतम करने के  उद्देश्य से वस्तुओं के उत्पादन में पूँजी का निवेश शामिल है |
  • पूँजी का निजी स्वामित्व अल्पसंख्यक वर्ग के पास होता है जो श्रमिक वर्ग के दोहन से प्राप्त की जाती है |
  • मार्क्स यह तर्क देते हैं कि पूँजी, जैसे, कुछ भी उत्पादित नहीं करती है | केवल श्रमिक धन का उत्पादन करते हैं | फिर भी जो मजदूरी उन्हें मिलती है वह उनके द्वारा उत्पादित वस्तुओं के मूल्य से काफी कम होती है |
  • मजदूरी और वस्तुओं के मूल्य का अंतर “अधिशेष मूल्य” के रूप में जाना जाता है | यह अधिशेष मूल्य पूंजीपतियों के द्वारा लाभ के रूप में विनियोजित किया जाता है | चूँकि वे गैर-उत्पादक हैं, इसलिए पूंजीपति वाढ, श्रमिक वर्ग का शोषण कर रहा है, जो धन के वास्तविक उत्पादक हैं |
  • सभी वर्ग समाजों में , शासक वर्ग, प्रजा वर्ग का शोषण एवं दमन करता है |

Power of ruling class:

  • From a Marxian perspective, political power derives from economic power. Since the superstructure of society – the major institutions, values and belief systems – is seen to be largely shaped by the economic infrastructure, the relations of production will be reproduced in the superstructure. Particularly, the political and legal systems will reflect ruling class interests. Ex., the various ownership rights of the capitalist class will be enshrined in and protected by the laws of the land.
  • The position of the dominant class is supported by beliefs and values which are systematically generated by the infrastructure. Marx refers to the dominant concepts of class societies as ruling class ideology since they justify and legitimate ruling class domination and project a distorted picture of reality. Ex., the emphasis on freedom in capitalist society, illustrated by phrases such as ‘the free market’, ‘free democratic societies’ and ‘the free world’, is an illusion which disguises the wage slavery of the proletariat.
  • Ruling class ideology produces ‘false class consciousness’, a false picture of the nature of relationship between social classes. Members of both classes tend to accept the status quo as normal and natural and are largely unaware of the true nature of exploitation.
  • In Marx’s words, the relations of production constitute ‘the real foundation on which rise legal and political superstructures and to which correspond definite forms of social consciousness. The mode of production in material life determines the general character of the social, political and spiritual processes of life’.

शासक वर्ग की शक्ति :

  • मार्क्सवादी दृष्टिकोण के अनुसार, राजनीतिक शक्ति आर्थिक शक्ति से प्राप्त होती है | चूँकि समाज की अधिरचना – प्रमुख संस्थान, मूल्य एवं विश्वास प्रणालियाँ, को बड़े पैमाने पर आर्थिक ढाँचे के द्वारा आकार दिया जाता है, इसलिए उत्पादन के सम्बन्ध अधिरचना में फिर से निर्मित होंगे | विशेष रूप से राजनीतिक तथा वैधानिक तंत्र शासक वर्ग के हितों को प्रतिविम्बित करेंगे | उदाहरण – पूंजीपति वर्ग के विभिन्न स्वामित्व अधिकार प्रतिष्ठापित होंगे तथा उन्हें देश के कानूनों के द्वारा संरक्षण प्रदान किया जाएगा |
  • प्रभावी वर्ग की स्थिति विश्वासों एवं मूल्यों से समर्थित होती है जो व्यवस्थित रूप से आधारिक संरचना से उत्पन्न होते हैं | मार्क्स वर्ग समाजों की प्रमुख अवधारणाओ को शासक वर्ग की विचारधारा के रूप में संदर्भित करते हैं क्योंकि वे शासक वर्ग के शासन को उचित तथा तर्कसंगत बनाती हैं तथा वास्तविकता की एक  विकृत तस्वीर पेश करती हैं | उदाहरण – पूंजीवादी समाज में स्वतंत्रता पर जोर की “मुक्त बाजार”, “मुक्त लोकतांत्रिक समाज” तथा “मुक्त विश्व” जैसे वाक्यांशों से व्याख्या की गयी है, जो एक भ्रम है तथा श्रमिक वर्ग की मजदूरी दासता को छिपाते हैं |  
  • शासक वर्ग की विचारधारा “झूठी वर्ग चेतना” का निर्माण करती है, सामाजिक वर्गों के बीच संबंधों की प्रकृति की झूठी तस्वीर | दोनों वर्गों के सदस्य सामान्य और प्राकृतिक रूप में यथास्थिति को स्वीकार करते हैं एवं शोषण की वास्तविक प्रकृति से बड़े पैमाने पर अनजान है |
  • मार्क्स के शब्दों में , उत्पादन के सम्बन्ध वास्तविक आधार का निर्माण करते हैं जिसपर वैधानिक तथा राजनीतिक अधिरचनाओं का उदय होता है तथा ये सामाजिक चेतना के निश्चित रूपों के अनुरूप होते हैं | भौतिक जीवन में उत्पादन के साधन जीवन की  सामाजिक, राजनीतक, एवं आध्यात्मिक प्रक्रियाओं के सामान्य चरित्र का निर्धारण करते हैं |

Class struggle:

  • Marx believed that the class struggle was the driving force of social change. He said ‘The history of all societies up to the present is the history of the class struggle’. A new historical epoch is created by the development of superior forces of production by new social group. Ex., the merchants and industrialists accumulated capital, laid the foundations for industrial manufacturers, factory production and the system of wage labour. The superiority of the capitalist mode of production led to a rapid transformation of the structure of society.
  • The class struggles of history have been between minorities. Ex., capitalism developed from the struggle between the feudal aristocracy and the emerging capitalist class.
  • Major changes in history have involved the replacement of one form of private property by another and of one type of production technique by another. Ex., capitalism involves the replacement of privately owned land and an agricultural economy by privately owned capital and an industrial economy.
  • Marx believed that the class struggle which would transform capitalist society would involve none of these processes. The protagonists would be the bourgeoisie and the proletariat, a minority vs. a majority. Private property would be replaced by communally owned property. Industrial manufacture would remain the basic technique of production in the society which would replace capitalism.
  • Marx believed that the basic contradictions contained in a capitalist economic system would lead to its eventual destruction. The proletariat would overthrow the bourgeoisie and seize the forces of production. Property would be communally owned. This will led to the formation of a classless society. Since history is the history of the class struggle, history would end now. The communist society which replaces capitalism will contain no contradictions, no conflicts of interest and therefore be unchanging.

वर्ग संघर्ष :

  • मार्क्स का यह मानना था कि वर्ग संघर्ष सामाजिक परिवर्तन की प्रेरणा शक्ति थी |  उन्होंने कहा “अबतक के सभी समाजों का इतिहास, वर्ग संघर्ष का इतिहास है” | नए सामाजिक समूह के द्वारा उत्पादन के श्रेष्ठतर साधनों के विकास द्वारा एक नए ऐतिहासिक युग का निर्माण होता है | उदाहरण – व्यापारी तथा उद्योगपतियों ने पूँजी का संचयन किया, औद्योगिक संरचनाओं, फैक्ट्री उत्पादन एवं मजदूरी शर्म की व्यवस्था  की नींव डाली| पूंजीवादी उत्पादन की श्रेष्ठता के कारण समाज की संरचना में तेजी से परिवर्तन हुआ |
  • इतिहास का वर्ग संघर्ष अल्पसंख्यकों के बीच रहा है | उदाहरण – पूँजीवाद का विकास, सामंती अभिजात्य वर्ग एवं उभरते पूंजीपति वर्ग के बीच संघर्ष के कारण हुआ |
  • इतिहास में प्रमुख परिवर्तनों में निजी संपत्ति के एक रूप का दूसरे रूप द्वारा प्रतिस्थापन एवं उत्पादन तकनीक के एक प्रकार का दुसरे प्रकार द्वारा प्रतिस्थापन शामिल रहा है | उदाहरण – पूँजीवाद में  निजी स्वामित्व वाली भूमि तथा कृषि आधारित अर्थव्यवस्था का निजी स्वामित्व वाली पूँजी तथा औद्योगिक अर्थव्यवस्था द्वारा प्रतिस्थापन शामिल है |
  • मार्क्स का यह मानना था कि वर्ग संघर्ष जो पूंजीवादी समाज को बदल देगा उसमें इनमें से किसी भी तरह की प्रक्रियाएं शामिल नहीं होंगी | इसके अगुआ पूंजीपति एवं श्रमिक होंगे, अर्थात् अल्पसंख्यक बनाम बहुसंख्यक |  निजी संपत्ति की जगह सार्वजनिक स्वामित्व वाली संपत्ति होगी | समाज में औद्योगिक निर्माण उत्पादन की बुनियादी तकनीक होगी, जो पूँजीवाद का स्थान लेगी |
  • मार्क्स का यह मानना था कि पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में निहित विरोधाभासों का अंततः विनाश हो जाएगा | श्रमिक वर्ग, पूंजीपति वर्ग को उखाड़ फेंकेगा एवं उत्पादन की शक्तियों पर अधिकार कर लेगा | संपत्ति पर सार्वजनिक स्वामित्व होगा | और इस तरह ये वर्गविहीन समाज के गठन को प्रेरित करेगा | चूँकि इतिहास, वर्ग संघर्ष का इतिहास है, इसलिए इतिहास का अब अंत हो जाएगा | साम्यवादी समाज, जो पूंजीवादी समाज का स्थान लेगा, उसमें किसी तरह के विरोधाभास, हितों के टकराव  नहीं होंगे तथा इसलिए यह अपरिवर्तित रहेगा |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Sociology Study Notes | Topic Sociological Thinkers | HCS 2018 Exam

HCS Sociology Study Notes | Topic Sociological Thinkers | HCS 2018 Exam

HCS Sociology Study Notes | Topic Sociological Thinkers | HCS 2018 Exam

Karl Marx – Social & Intellectual Background:-

Social and intellectual background of Karl Marx (1818 – 1883):

  • Karl Marx’s life coincided with the beginning of a change in the European countries from agrarian to industrial societies. Marx obtained most of his basic empirical data for his theory of development of capitalism from England.
  • The intellectual background for Marx’s theories involved progress of Germany to match more developed countries and this debate was carried out by G.W.F. Hegel.
  • Hegel tried to show that human history had a goal – creation of a reasonable state and the realization of the concept of freedom. Marx was influenced by Hegel’s historical method in which development and change through dialectic contradictions are the primary components. He rejected Hegel’s emphasis on spiritual forces in history and criticized belief of young Hegelian movement (of which he was a part for sometime) that philosophical analysis would lead to change in and liberation of Germany. He stressed human social conditions, specifically their material production important to historical development.
  • Marx was inspired from French Socialist tradition that arose during French Revolution of 1789 and continued till the revolutions of 1830 and 1848. This tradition aimed at arising a new and more radical revolution of 1789 in which the new class, the industrial workers or proletariat would take power and abolish all classes. Some reform oriented socialists (“utopian socialists”) like Saint Simon, Charles Fourier wanted to build a socialist society through state reforms or by creating small local societies in which division of labour was abolished and people lived in harmony. Marx incorporated some of their criticism of the modern capitalist industrial society into his own theories.
  • Marx was also influenced by British Economists Adam Smith, David Ricardo who had analysed the new capitalist market economy. Marx took up their labour theory of value – value of commodity is determined by the quantity of work put into it. Marx objected to the Ricardian socialists (demonstrated injustice of a system in which workers created all value but received only part of it for themselves) and in his ‘theory of surplus’ tried to explain why the workers only received a part of the value they created.

कार्ल मार्क्स – सामाजिक व बौद्धिक पृष्ठभूमि:-

कार्ल मार्क्स की सामाजिक व बौद्धिक पृष्ठभूमि (1818 – 1883) :

  • कार्ल मार्क्स के जीवन में बदलाव की शुरुआत यूरोपीय देशों में कृषि से औद्योगिक समाजों में बदलाव की शुरुआत के साथ हुई | मार्क्स को अपने पूंजीवादी के सिद्धांत के लिए मूल अनुभवजन्य जानकारी इंग्लैंड से प्राप्त हुई |
  • मार्क्स के सिद्धांतों के बौद्धिक पृष्ठभूमि ने जर्मनी के प्रगति को शामिल किया ताकि अधिक विकसित देशों से बराबरी हो और इसे वाद का रूप जी. डबल्यू. एफ. हेगल ने दिया |
  • हेगल ने यह दिखाने की कोशिश की कि मानव इतिहास के पास एक लक्ष्य था – एक उचित राष्ट्र का निर्माण और आजादी के धारणा का एहसास | मार्क्स हेगल की एतिहासिक प्रणाली से प्रभावित थे जिसमें द्वंदात्मक विरोधाभासों द्वारा परिवर्तन व विकास प्राथमिक घटक हैं | उन्होंने इतिहास में आध्यात्मिक तत्वों पर जोर देने के हेगल के सिद्धांत को नकारा और युवा हेगलवादी आन्दोलन (जिसके वे स्वयं ही कभी हिस्सा थे) के विश्वास की आलोचना की कि दार्शनिक विश्लेषण से जर्मनी में परिवर्तन आएगा और जर्मनी को मुक्ति मिलेगी | उन्होंने मानव सामाजिक परिस्थितियों पर अधिक जोर दिया खासकर ऐतिहासिक विकास में उनके महत्वपूर्ण भौतिक उत्पादन पर |
  • मार्क्स फ़्रांसिसी समाजवादी परंपरा से प्रेरित थे जो 1789 के फ़्रांसिसी क्रांति से शुरू हुआ और 1830 व 1848 के क्रांतियों तक जारी रहा | इस परंपरा का लक्ष्य एक नया और अधिक कट्टरवादी 1789 के क्रांति को जन्म देना था जिसमें एक नया वर्ग, औद्योगिक श्रमिक या श्रमजीवी  वर्ग समस्त शक्ति को रखेंगे और सभी वर्गों को समाप्त करेंगे | कुछ सुधार उन्मुख समाजवादी (“अव्यवहार्य मायविचारक समाजवादी”) जैसे संत साइमन, चार्ल्स फौरिएर राष्ट्र सुधारों द्वारा या छोटे स्थानीय समाजों के निर्माण द्वारा एक समाजवादी समाज बनाना चाहते थे जिसमें श्रम विभाजन समाप्त कर दिया गया और लोग सौहाद्रपूर्ण तरीके से रहते थे | मार्क्स ने अपने स्वयं के सिद्धांतों में आधुनिक पूंजीवादी औद्योगिक समाज के उनकी कुछ समीक्षाओं का निगमन किया |
  • मार्क्स एडम स्मिथ, डेविड रिकार्डो जैसे ब्रिटिश अर्थशास्त्रियों से प्रभावित थे, जिन्होंने नए पूंजीवादी बाजार अर्थव्यवस्था को विश्लेषित किया | मार्क्स ने उनके महत्त्व के श्रम सिद्धांत को अपनाया – जिसमें यह कहा गया कि किसी वस्तु का महत्त्व उसमें लगाए गए कार्य के परिमाण से निर्धारित होती है | मार्क्स ने रिकार्डोवादी समाजवादियों पर आपत्ति जताई ( एक प्रणाली में अन्याय को प्रदर्शित किया जिसमें यह बताया कि समस्त महत्त्व का निर्माण तो श्रमिक करते हैं लेकिन उन्हें अपने लिए इसका एक हिस्सा मात्र प्राप्त होता है ) और अपने ‘अधिशेष के सिद्धांत’ में उन्होंने यह बताने की कोशिश की कि क्यों श्रमिकों को उस महत्त्व का एक हिस्सा मिला जिसका निर्माण उन्होंने किया |

HCS Sociology Study Notes
Hegel – Idealism:-

  • According to Hegel, the ultimate purpose of human existence was to express the highest form of human Geist or ‘Spirit’. This Spirit was not a physical or material entity but an abstract expression of the moral and ethical qualities and capacities, the highest cultural ideals were the ultimate expression of what it is to be a human being. For Hegel, material life was the practical means through which this quest for the ultimate realisation of human consciousness, the search for a really truthful awareness of reality, could be expressed.
  • For rationalists, human knowledge and understanding are more about what goes on inside our minds than outside of them. For Hegel, reason and thought are not simply part of reality, they are reality. Therefore, the laws and principles that govern human thought must also be the laws and principles that govern the whole of reality.
  • Hegel suggested that the minds of all human beings are essentially the same, we are all part of the same overarching consciousness.
  • According to Hegel, the process by which the quest for the ultimate truth is carried on involves a dialectical process in which one state of awareness about the nature of reality (thesis) is shown to be false by a further and higher state of awareness (antithesis) and is finally resolved in a final and true state of awareness (synthesis). Hegel uses this approach to suggest that the contradictions or imperfections of the family and of civil society (corresponding with thesis and antithesis) are finally resolved by the institutions of the state, which correspond with the new ethical synthesis.

हेगल – विचारवाद:-

  • हेगल के अनुसार, मानव अस्तित्व का आखिर प्रयोजन मानव आत्मा के उच्चतम रूप को व्यक्त करना था | आत्मा एक भौतिक या जिस्मानी इकाई नहीं थी बल्कि नैतिक व नीतिपरक गुणों व क्षमताओं का सार अभिव्यक्ति थी, एक मनुष्य होना का अर्थ क्या है यह सबसे बड़े सांस्कृतिक विचार ही परम अभिव्यक्ति थी | हेगल के लिए, जिस्मानी जीवन व्यावहारिक साधन था जिसके जरिये मानव चेतना के परम एहसास का यह रहस्य, सच्चाई के वास्तविक सच्ची जागरूकता की खोज को व्यक्त किया जा सकता था |
  • बुद्धिजीवियों के लिए, मानव ज्ञान और समझ वैसे ही है जैसे कि हमारे मन के बाहर होने से ज्यादा हमारे मन में जो भी होती हैं | हेगल के लिए, कारण और विचार वास्विकता के हिस्सा मात्र नहीं हैं, बल्कि वास्तविकता ही है | इसलिए, नियम व सिद्धांत जो मानव विचार को नियंत्रित करते हैं उन्हें वे नियम व सिद्धांत बनने चाहिए जो पूर्ण वास्तविकता को नियंत्रित करें |
  • हेगल ने यह सुझाया कि सभी मनुष्यों के मस्तिष्क अनिवार्यतः समान होते हैं, हम सब उसी व्यापक चेतना के सभी भाग है |
  • हेगल के अनुसार, वह प्रक्रिया, जिसके द्वारा परम सत्य की खोज की जाती है, में एक द्वंदात्मक प्रक्रिया शामिल होती है, जिसमें वास्तविकता की प्रकृति (थीसिस) के बारे में जागरूकता की एक अवस्था को जागरूकता की एक अधिक बड़ी अवस्था (प्रतिपक्ष) द्वारा गलत दिखाया जाता है और आखिरकार जागरूकता की एक अंतिम व सच्ची अवस्था (संकलन) में सुलझती है | हेगल इस दृष्टिकोण का प्रयोग यह सुझाव देने के लिए करते हैं कि नागरिक समाज व परिवार के विरोधाभास या अपूर्णता (थीसिस व प्रतिपक्ष से सम्बंधित) को राष्ट्र के संस्थानों द्वारा अंतिम में मिटाया जाता है, जो नए नैतिक संकलन के अनुरूप होते हैं |

Hegel’s Idea of Sublation:

  • This term was used by Hegel to describe the need social actors have to feel at ease with their understanding of reality and how they fit into it. Lack of sublation shows itself as a feeling of estrangement, of not fitting in, of being at odds with the world and being confused about the nature of reality.
  • Hegel felt that estrangement arose because uncertainty about the nature of reality ‘out there’ caused us to be uncertain about reality ‘in here’. The extent to which we do not understand the objective world around us is also the extent to which we are ignorant about our subjective inner nature.

Young Hegelians:

  • They proposed a counter-thesis of their own. They applied the thesis, antithesis and synthesis to Hegel’s own philosophical system.
  • Ludwig Feuerbach, argued that by subordinating the material world to the realm of consciousness and ideas, Hegel’s obsession with the coming of the great universal Spirit, was not in the least bit rational or objective in the scientific sense and was nothing more than a form of religious mysticism.
  • Rather than describing how social actors might overcome their sense of estrangement from material reality, Hegel said that it was not objective reality that was the problem but simply the inadequacy of social actors’ understanding of it.

हेगल की सब्लेषण का विचार :

  • हेगल द्वारा इस धब्द का प्रयोग यह दिखाने के लिए किया गया था कि सामाजिक कर्ताओं को वास्तविकता की उनकी समझ में आसानी से एहसास के जरूरत है और वे इसमें किस तरह शामिल है | सब्लेषण की कमी खुद को एक मनमुटाव के एहसास के रूप में दिखाती है, नहीं शामिल हो पाने के रूप में, दुनिया के साथ बाधाओं के रूप में और वास्तविकता के प्रकृति के बारे में संशय के रूप में दिखाती है |
  • हेगल ने महसूस किया कि मनमुटाव का जन्म इसलिए हुआ क्योंकि ‘बाहर के’ वास्तविकता के प्रकृति के बारे में अनिश्चितता ने ‘अन्दर के’ वास्तविकता के बारे में हम में अनिश्चितता फैला दी | बाहरी दुनिया के जिस सीमा तक हम नहीं जान पाते हैं अपने अन्दर के उसी हद तक व्यक्तिपरक प्रवृत्ति के बारे में हम अज्ञानी रहते हैं |

युवा हेगालियन :

  • उन्होंने स्वयं की एक काउंटर-थीसिस को प्रस्तावित किया | उन्होंने थीसिस, प्रतिपक्ष और संकलन को हेगल की खुद के दार्शनिक प्रणाली पर लागू किया |
  • लुडविग फ्युरबैच ने तर्क दिया कि विचारों और चेतना के दायरे तक भौतिक दुनिया को सीमित कर , विशाल सार्वभौमिक आत्मा का आगमन के साथ हेगल का जुनून, वैज्ञानिक तरीके से जरा सा भी तर्कसंगत या निष्पक्ष नहीं था और यह धार्मिक रहस्यवाद से ज्यादा कुछ नहीं था |
  • बजाय इसका वर्णन करने की कि कैसे सामाजिक कर्ता भौतिक वास्तविकता से मनमुटाव के उनके भावना से उबरे, हेगल ने कहा कि समस्या यह नहीं थी कि यह निष्पक्ष वास्तविकता नहीं थी लेकिन यह थी कि इसके समझ के लिए सामाजिक कर्ताओं की अपर्याप्तता |

Marx:

  • While giving Hegel, ‘that mighty thinker’, credit for developing a number of very important insights, Marx argued that he had not applied them correctly and therefore reached incomplete conclusions about true nature of real reality.
  • Marx’s social theory can be thought of as the new synthesis emerging out of collision of Hegel’s thesis and the Young Hegelians’ antithesis.

मार्क्स :

  • हेगल, ‘एक महान विचारक’, को बहुत सी महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि के विकास के लिए श्रेय देते समय, मार्क्स ने तर्क दिया कि उसने उनको सही रूप से नहीं लागू किया और इसलिए असली वास्तविकता के सत्य प्रवृत्ति के बारे में अपूर्ण निष्कर्षों पर पहुंचे |
  • मार्क्स की सामाजिक सिद्धांत को हेगल की थीसिस और युवा हेगालियनों के प्रतिपक्ष के टकराव से उत्पान हुए नए संकलन के रूप में देखा जा सकता है |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel