mobile-whatsapp-img
9817390373,8295688244
Baljit Dhaka
hcs prelims testseries image
hcs prelims mains testseries image
HCS Mains test series
upsc ias image
upsc ias image
upsc ias image

HCS Mains Hindi compulsory Paper - Frontier IAS

Validity: 9 Months
What you will get
Course Highlights
  • Based on latest Pattern
  • English Medium eBooks

HCS Mains Hindi compulsory Paper

हिंदी और हिंदी निबंध (कोड - 1252)

समय : 3 घंटे                                         अधिकतम अंक : 100

  1. हिंदी में अनुवाद कीजिये :                                                                                                                           (अंक 15)

Great men of science, literature and art belonged to no exclusive class or rank of life. They have come alike from colleges, workshops and farm houses, to the huts of poor men and the mansions of rich. Some of God's greatest apostles have come from "the ranks". The poorest have sometimes taken the highest places, nor have difficulties apparently the most insuperable proved obstacle in their way. Those very difficulties, in many instances would ever seem to have been their best helpers, by evoking their power of labour and endurance, and stimulating into life facilities which might otherwise have lain dormant. The instances of obstacles thus surmounted and of triumphs thus achieved are indeed so numerous as almost to justify the proverbs that with a will one can do anything. 

2. दूषित पेयजल आपूर्ति के विरोध में अध्यक्ष, जल संस्थान को एक शिकायती पत्र लिखिए|                                                 (अंक 10)

                                                                                             अथवा 

आपके बैंक खाते में अन्य किसी के द्वारा अवैध रूप से रुपया निकल लिए जाने के विरोध में , साइबर अपराध प्रकोष्ठ, पुलिस विभाग को एक शिकायती पत्र लिखिए|                                                                                                                                            (अंक 10)

3. निम्नलिखित अवतरण का सार एक तिहाई शब्दों में लिखिए:  (अंक -10 )


सौंदर्यशास्त्र एक विचित्र शास्त्र है| वह वस्तुतः एक मूल्यशास्त्र है| चूँकि हमारे जीवन की प्रधान दिशाएँ और तत्संबंधी जिज्ञासाएँ विभिन्न योगों में बदलती रहती है और बदलती रहेंगी, इसलिए इस शास्त्र का वैसा विकास नहीं हो पाता जिस प्रकार कि उदाहरणतः भौतिकशास्त्र  का है जिसमे परवर्ती विचारक पूर्ववर्ती चिन्तक के सिद्धांतो को या तो नई व्यवस्था में बाँधता है अथवा उनके कंधे पर खड़े होकर नवनवीन विकास के परिदृश्य देखता है| सौंदर्यशास्त्र, नीतिशास्त्र आदि मूल्यशास्त्र होने के कारण, वे सिद्धांत मुख्यतः प्रणालियों के समवाय के रूप में प्रस्तुत होते है| अंतिम निर्णय का भर हम पर ही रह जाता है कि उनमे से कौन से बात हमारे लिए स्वीकारणीय है और कौन से त्याज्य| आधुनिक सौंदर्यशास्त्र के क्षेत्र में तो सिद्धांतों का एक जंगल का जंगल खड़ा हो गया है|

4 (क)          सरल हिंदी में व्याख्या कीजिये:                              (अंक -5 )
मनुष्य लोकबद्ध प्राणी है, इससे वह अपने को उन कर्मो के गुण-दोष का भी भागी समझता है जिनसे उनका सम्बन्ध होता है, जिनके साथ वह देखा जाता है| पुत्र की अयोग्यता और दुराचार, भाई के दुर्गुण और असभ्य व्यव्हार आदि का ध्यान करके भी दस आदमियों के सामने सर नीचे होता है|यदि हमारा साथी हमारे सामने किसी तीसरे आदमी से बातचीत करने में भरी मूर्खता का प्रमाण देता है, भद्दी और ग्राम्य भाषा का प्रयोग करता है, तो हमे भी लज्जा आती है| जिसे लोग कुमार्गी जानते है, उसके साथ यदि हम कभी देवमंदिर के मार्ग पर भी देखे जाते है तो सिर झुका लेते है या बगलें झांकते है| बात यह है की जिसके साथ हम देखे जाते है, उसका हमारा कितनी बातों से कहाँ तक साथ है दुसरो को इसके अनुमान की पूरी स्वछन्दता रहती है , उसकी कल्पना की कोई सीमा हम तत्काल बाँध नहीं सकते|

                                                                                          अथवा 
इस देश में अनेक भाषाएँ है, अनेक जातियां हैं, इन जातियों की अपनी अपनी संस्कृति है| इन सभी जातियों की संस्कृति के सामान्य तत्वों का, उनके समुच्य का नाम भारतीय  संस्कृति है|  भारत की जातियों से भिन्न भारतीय संस्कृति की सत्ता कही नहीं है| वर्गों की, जनसाधारण की संस्कृति की कुछ जातीय विशेषताएं होती है|सामन्त वर्ग इंग्लैंड में भी था, यहां भी रहा है लेकिन नायिका भेद का प्रसार यहां की सामंती संस्कृति की जातीय विशेषता है|

सामन्त काल में जनसहित्ये यहां भी रचा गया , यूरोप में भी लेकिन संत साहित्य की कुछ अपनी जातीय विशेषताएं है| आधुनिक युग में साहित्य शरचन्द्र ने भी रचा है, वलयोलऔर भारती ने भी लेकिन बहुत से बातों में इनके समान होते हुए भी प्रेमचंद की अपनी जातीय विशेषताएं है| इसलिए संस्कृति की जातीय विशेषताओं के विकास के लिए जातीय गठन जरुरी है| 


(ख) सरल हिंदी में व्याख्या कीजिये:                                                                   (अंक 5)

जाको गुरु भी अंधला, चेला खरा निरंध |
अंधै अँधा ठेलिया, दुन्यूं कूप पंडत ||
पीछे लागा जाइथा, लोक वेद के साथि|
आगे थैं सतगुरु मिल्या, दीपक दिया हाथि|

अथवा 

प्रकृति के यौवन का श्रृंगार 
करेंगे कभी न बासी फूल,
मिलेंगे वे जाकर अतिशीघ्र
आह उत्सुक  है उनकी धूल 
पुरातनता का यह निर्मोक
सहन करती न प्रकृति पल एक, 
नित्य नूतनता का आनंद 
किया है परिवर्तन में टेक|

5  निम्नलिखित शब्दों के विलोम लिखिए:                                                             (अंक 5) 
(i) अज्ञ
(ii) क्षर 
(iii) तृष्णा 
(iv) इति
(v) ऋजु
(vi) प्राची 
(vii) निवृत्त
(viii) पल्ल्वन 
(ix) धीरोददात  
(x) संकल्प

6. निम्नलिखित शब्दों को शुद्ध कीजिये:                                                                     (अंक 5)
(i) अभिज्ञ 
(ii) इक्षा 
(iii) अन्ताक्षरी
(iv) उच्छिष्ट 
(v) अनुग्रहित 
(vi) गरिष्ट 
(vii) दन्तोष्ठ्य
(viii) प्रमाणित 
(ix) यक्षणी 
(x) मैथलीशरण 
 

7. निम्नलिखित युग्मों में दिए गए शब्दों को अपने बनाये वाक्यों में इस प्रकार प्रयोग कीजिये की दोनों का पारस्परिक अंतर यथासंभव स्पष्ट हो जाये "(अंक 5)
(i) अभेद - अभेद्य 
(ii) अजर - अजिर 
(iii) उपल - उत्पल 
(iv) मात्र - मातृ 
(v) रिक्थ - रिक्त  

8. निम्नलिखित मुहावरों/कहावतों का अर्थ लिखकर वाक्य में प्रयोग कीजिये -                                                         (अंक 5)
(i) अपनी खिचड़ी अलग पकाना 
(ii) उंगली पकड़कर  पंहुचा पकड़ना 
(iii) ऊँची दूकान, फीके पकवान 
(iv) खग जाने खग ही की भाषा 
(v) ओछे की प्रीति, बालू की भीति 

 9. (क) निम्नलिखित वाक्यांशों के लिए एक-एक शब्द लिखिए-                                                                          (अंक 2.5)
(i) गुरु के समीप या साथ रहने वाला विद्यार्थी 
(ii) जिस पर कोई कलंक न लगा हो 
(iii) जिसे अक्षर ज्ञान न हो 
(iv) दूसरे का दोष खोजने वाला 
(v) जो अपनी जन्मभूमि छोड़कर विदेश में निवास करता हो|
                                                                       

(ख) निम्नलिखित शब्दों का संधि विच्छेद कीजिये -                                                                                             (अंक 2.5)
(i) परीक्षण 
(ii) गंगोर्मि 
(iii) प्रत्यर्पण 
(iv) मध्वाचार्य 
(v) वनौषधि

10. निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर हिंदी में निबंध लिखिए -                                                                 (अंक 30)
(i) सांस्कृतिक राष्ट्रवाद 
(ii) विकास एवं पर्यावरण 
(iii) आधुनिक जीवन और सोशल मीडिया 
 (iv) संसद में महिला आरक्षण 
 (v) तकनीकी विकास और रोजगार 

HCS mains syllabus hindi compulsory paper