Posted on 1 Comment

Haryana Civil Services : HCS 2020 online course batch from 13th March

Haryana Civil Services : HCS 2020 online course batch from 13th March 2020

Haryana Civil Services ( HCS) 2020 exam notification is likely to come in April – May 2020. Haryana Public Service Commission ( HPSC) has planning to conduct hcs exam every year like other pcs exams are conducted. For that commission has also changed the pattern of the exam for HCS 2020. This change in pattern will help students to manage their preparation in a better way. Now below given scheme is the exam new pattern

Prelims 2020 : New PatternLast time 2018-2019 : old Pattern
In prelims MCQ ( multiple choice questions) are asked. Each paper will be 2 hours duration , OMR sheet will be given to students to fill their answers
2 Papers: 1st General Studies and 2nd CSAT ( civil services Aptitude Test) 100 MCQ each paper : 2*100 = 200 MCQ 100 Marks each paper : 2*100 = 200 Marks. Negative Marking : 0.25 i.e. one fourth will be deducted for each wrong question, un-attempted question no marks will be deducted or will be allotted. 
Prelims exam is a screening test and in final merit list prelims marks will not be added. 

  Same – for new pattern there is no change in prelims  pattern 
Mains 2020 : New PatternLast time 2018 – 2019 Old Pattern
Mains exam :  descriptive writing and each paper 3 hours , total 4 papers are their in mains exam.
1 Hindi Paper : 100 Marks
2 English Paper : 100 Marks
3 GS ( General Studies ) Paper : 200 Marks
4 Optional paper : 200 Marks ( one out of a list of 27 optional subjects you have choose) : Note – it is not necessary that in Graduation you should have the same subject eg if you have done Graduation in Mechanical Engineering , you can also choose History as your optional subject 
Total Marks : 600 
Mains exam :  descriptive writing and each paper 3 hours 
1 Hindi Paper : 100 Marks
2 English Paper : 100 Marks
3 GS ( General studies) : 100 Marks
4 2 Optional subjects : each subject of 150 Marks = 300 Marks 
Total Mains marks : 600
Interview : 75 marksInterview : 75 marks 
In final merit list : mains and interview marks are combined to calculate the merit.

Frontier IAS online coaching batch

New online batch is starting from 13th March 2020, students are advised to enroll for this course.

Watch below video for understanding about the exam

Fee structure : This is an integrated course and will cover Prelims and Mains. So day wise program which will be begin from 13th March will have Prelims and Mains i.e. writing skills model.

Fee : Rs 25000/-

A special discount of 50% till 13th March admission : Rs 12500/-

Click here to join this course

Those who are preparing for HCS and UPSC they should join integrated course for HCS and UPSC Fee is Rs 17500 /- after 50% on Rs 35000/-

After 50% discount till 13th March (UPSC+HCS) : Fee is just Rs 17500/- Click to join

Posted on Leave a comment

Haryana Awards & Honour :: Haryana GK- Study Material

Haryana Awards & Honour :: Haryana GK- Study Material

Haryana Awards & Honour :: Haryana GK- Study Material Awards and Prizes in Haryana Literary Awards
Lifetime Achievement Awards
  • This Award is given to the litterateur who have served throughout his Life.
  • The Cash Prize of this Award is 5 Lacs rupees.
Haryana Sahitya Akademi Awards
  • The cash prize of this Award is 2.5 Lacs rupees.
  • With the cash Prize a statue of  Goddess Saraswati , with the Inscribed citation on copper sheet.
साहित्यिक पुरस्कार लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • यह पुरस्कार उन साहित्यकारों को दिया जाता है जिन्होंने पूरी जिंदगी साहित्य की सेवा की है |
  • इस पुरस्कार की नकद राशि 5 लाख रुपये है |
हरियाणा साहित्य अकादमी पुरस्कार
  • इस पुरस्कार की नकद राशि 2.5 लाख रुपये है |
  • नकद इनाम के साथ ही, ताम्रपत्र पर अंकित उद्धरण के साथ देवी सरस्वती की मूर्ति दी जाती है |
Educational Awards
State Teacher Award Given every year to excellent performing teachers in two categories:
  1. Primary Teacher
  2. Secondary Teacher
Industrial Awards
Chief Minister Award
  • State Labour Welfare Board give this Award on state level to Dedicated and hardworking with Chief Minister Ratna Award and Chief Minister Bhushan Award.
  • On District Level also awards are given Chief Minister Labour Veer Awards.
शिक्षा सम्मान राज्य शिक्षक सम्मान प्रत्येक वर्ष उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों को दो श्रेणियों में दिया जाता है :
  1. प्राथमिक शिक्षक
  2. माध्यमिक शिक्षक
औद्योगिक सम्मान
मुख्यमंत्री सम्मान
  • राज्य श्रमिक कल्याण बोर्ड मुख्यमंत्री रत्न सम्मान तथा मुख्यमंत्री भूषण सम्मान के साथ राज्य स्तर पर इस सम्मान को समर्पित और मेहनती लोगों को देता है |
  • जिला स्तर पर भी मुख्यमंत्री श्रम वीर सम्मान प्रदान किये जाते हैं |
New Sports Awards according to New Sports Policy – on 12.01.2015
Eklavya Award This award is given to Junior Players On the basis of Bhim Awards .This award is given to 5 sportsperson every year, In which three Individual and Two team players are included.
Cash Prize  – 1 Lakh Rupees
12.01.2015 को बनी नयी खेल नीति के अनुसार नए खेल सम्मान – एकलव्य सम्मान यह सम्मान भीम पुरस्कारों के आधार पर जूनियर खिलाड़ियों को दिया जाता है | यह पुरस्कार प्रत्येक वर्ष 5 खिलाड़ियों को प्रदान किया जाता है | जिसमें तीन एकल तथा दो टीम खिलाड़ी होते हैं | नकद राशि- 1 लाख रुपये
For More Articles You Can Visit On Below Links : Continue reading Haryana Awards & Honour :: Haryana GK- Study Material
Posted on Leave a comment

Famous Personalities of Haryana, Sports in Haryana || Online Material

Famous Personalities of Haryana, Sports in Haryana || Online Material

Famous Personalities of Haryana, Sports in Haryana || Online Material Sports in Haryana Haryana in Rio Olympics
  • Total Players in Olympics -118
  • Players from Haryana – 20
Players From Haryana Yogeshwar Dutt , Sonipat
  • Indian freestyle wrestler.
  • He was awarded the Padma Shri by the Government of India in 2013.He won a gold medal at the 2014 Commonwealth Games.
रियो ओलंपिक में हरियाणा
  • ओलंपिक में कुल खिलाड़ी- 118
  • हरियाणा के खिलाड़ी – 20
हरियाणा के खिलाड़ी योगेश्वर दत्त
  • भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान
  • वर्ष 2013 में इन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया | वर्ष 2014 के राष्ट्रमंडल खेलों में इन्होने स्वर्ण पदक अपने नाम किया था |
Vikas, Bhiwani
Indian male boxer from Bhiwani district in Haryana, who won a gold medal in the 2010 Asian Games in the Lightweight category and a gold medal at the 2018 Commonwealth Games.
विकास, भिवानी 
हरियाणा के भिवानी जिले के भारतीय पुरुष मुक्केबाज जिन्होंने 2010 के एशियाई खेलों में लाइटवेट भार वर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया तथा साथ ही वर्ष 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में भी इन्होने स्वर्ण पदक जीता | 
Famous Sports and their Sportsperson
Athletics
  • Geeta Juthi
  • Chandram
  • Neelam J. Singh
  • Captain Hawa Singh
  • Sabar Ali
प्रसिद्ध खेल तथा उनके खिलाड़ी
एथेलेटिक्स
  • गीता जुत्शी
  • चंदराम
  • नीलम जे सिंह
  • कैप्टन हवा सिंह
  • सबर अली
For More Articles You Can Visit On Below Links : Continue reading Famous Personalities of Haryana, Sports in Haryana || Online Material
Posted on Leave a comment

Haryana GK- Languages and Literature || Know Your Haryana

Haryana GK- Languages and Literature || Know Your Haryana

Haryana GK- Languages and Literature || Know Your Haryana

Haryana : Literary Journals

  • First Hindi  – Newspaper of Haryana ‘Jain Prakash’ was published by editor Jiyalal Jain in 1885.
  • In 1889 , a newspaper ‘Jat Samachar’ was published by Babu Kanhaiya lal From Gurugram.
  • In 1923 , Shree Ram Sharma Introduced ‘Haryana Tilak’ in Urdu.
हरियाणा : साहित्यिक पत्रिकाएँ
  • हरियाणा का पहला हिंदी समाचार पत्र- जैन प्रकाश  वर्ष 1885 में संपादक जियालाल जैन के द्वारा प्रकाशित किया गया था |
  • 1889 में, एक समाचार पत्र  ‘जाट समाचार’  का प्रकाशन गुरुग्राम से बाबू कन्हैया लाल द्वारा किया गया |  
  • 1923 में, श्री राम शर्मा ने उर्दू में हरियाणा तिलक की शुरुआत की |
Haryanvi Saang
  • Haryana’s Saang tradition started in 1730. However, Ramleela and Rasleela were started in 16th century.
  • Haryana’s First successful saang was Sheela Sethani.
  • Resident of Meerut Kishanlal Bhatt is considered the first Saangi of Haryana.
हरियाणवी सांग
  • हरियाणा की सांग परंपरा की शुरुआत 1730 ईस्वी में हुई | हालाँकि रामलीला और रासलीला की शुरुआत 16वीं सदी में हो चुकी थी |
  • हरियाणा का प्रथम सफल सांग शीला सेठानी था |
  • मेरठ के निवासी कृष्णलाल भट्ट को हरियाणा का प्रथम सांगी माना जाता है |
Newspapers and Journals
  • Haryana and Rifa -e -Aam Published by Pandit Deen Dayal Upadhyay vyakhyan Vachaspati in 19th Centuary From Jhajjar and in 1889 , ‘Khair Sandesh’ was published from Ambala.
  • Jat Gazette was published in year 1916 and Haryana Tilak in year 1923 , and both the newspapers were weekly are still publishing .
  • In Haryana  Magazines , two magazines are very famous  , The first one is ‘Haryana Shodh Patrika ’ and ‘Journal of Haryana Studies’ , both were being published from Rewari in 1966-67.
समाचार पत्र तथा पत्रिकाएँ
  • उन्नीसवीं शताब्दी में झज्जर से पंडित दीनदयाल उपाध्याय व्याख्यान वाचस्पति द्वारा हरियाणा तथा रिफ़ा-ए-आम का प्रकाशन किया गया तथा 1889 में, अंबाला से ‘खैर संदेश’ प्रकाशित हुआ |
  • जाट गजट को 1916 में प्रकाशित किया गया था तथा वर्ष 1923 से हरियाणा तिलक का प्रकाशन शुरू हुआ | ये दोनों ही अखबार साप्ताहिक थे तथा अभी भी प्रकाशित हो रहे हैं |
  • हरियाणा की पत्रिकाओं में, दो पत्रिकाएँ प्रसिद्ध हैं, पहली पत्रिका ‘हरियाणा शोध पत्रिका’ है तथा दूसरी ‘जर्नल ऑफ़ हरियाणा स्टडीज’ है, दोनों पत्रिकाएँ 1966-67 में रेवाड़ी से प्रकाशित हो रही थीं |
For More Articles You Can Visit On Below Links : Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Best Tourist Places in Haryana || Haryana GK- Study Material

Best Tourist Places in Haryana || Haryana GK- Study Material

Best Tourist Places in Haryana || Haryana GK- Study Material   Tourism Spots and Nicknames of cities in  Haryana Tourism Spots/ पर्यटन स्थल
Ambala/ अम्बाला 
  • Kingfisher/ किंगफ़िशर
Bhiwani/ भिवानी
  • Red Robin / लाल रोबिन
Dadri
  • Dairango/ डैरंगो
Panipat/ पानीपत
  • Sky Lork/ स्काई लार्क
  • Kala Amb/ कला अम्ब  
  • Blue Jay/ ब्लू जे
Kurukshetra/ कुरुक्षेत्र
  • Neelkanti Krishna Dam/ नीलकंठी कृष्ण धाम
  • Parakeet (Pipli) /पराकीट (पीपली )
Rewari/रेवाड़ी
  • Jungle Babbler (Dharuhera)/ जंगल बबलर (धाडूहेरा)
  • Landpiper/ लैंडपाइपर
Some Other Miscellaneous Facts
  • Haryana is known as Milk Bucket Of India.
  • Morni Hills is known as Queen of Hills.’
  • Science City of Haryana  – Ambala ( 2nd in Sonipat )
  • Cyber ​​City of Haryana – Gurgaon
  • Mini Cuba ( for boxing ) – Bhiwani
For More Articles You Can Visit On Below Links : Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Famous Personalities of Haryana- Haryana GK

Famous Personalities of Haryana- Haryana GK

Famous Personalities of Haryana- Haryana GK

Bollywood Personality

Sonu Nigam

  • Singer , Actor
  • From Faridabad

सोनू निगम

  • गायक, अभिनेता
  • फरीदाबाद से

Richa Sharma

  • Singer
  • from Faridabad

ऋचा शर्मा

  • गायिका
  • फरीदाबाद से

Parineeti Chopra

  • Actress
  • From Ambala

परिणिति चोपड़ा

  • अभिनेत्री
  • अम्बाला से

Sunil Grover

  • Actor , Comedian
  • From Sirsa

सुनील ग्रोवर

  • अभिनेता, कॉमेडियन
  • सिरसा से

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Art and Craft || Haryana Special- Study Material & Notes

Art and Craft || Haryana Special- Study Material & Notes

Art and Craft || Haryana Special- Study Material & Notes

Famous Craft Work of Haryana

The handicraft industry of Haryana offers an extensive range of art and craft including pottery making, handlooms, woven furniture and woodcarving. The handloom culture of Haryana is widespread. The textile town, Panipat is popular for its rugs and upholstery fabric. Moreover, pottery of Haryana is also famous because of their artistic decorative pots. Rohtak district makes some beautiful pitchers with clay. The villages of Haryana are centers of these local crafts. Other crafts of Haryana include tilla juttis of Rewari, educational toys of Gurgaon and much more.

हरियाणा का प्रसिद्ध शिल्प कार्य

हरियाणा का हस्तशिल्प उद्योग कला एवं शिल्प की एक विस्तृत श्रृंखला को समाहित करता है जिसमें मिट्टी के बर्तनों का निर्माण, हथकरघा, बुनी हुई फर्नीचर सामग्रियाँ तथा  लकड़ी पर की जाने वाली नक्काशी शामिल है | हरियाणा की हथकरघा संस्कृति विस्तृत है | वस्त्र शहर, पानीपत अपनी कालीनों तथा असबाब रेशे के लिए लोकप्रिय है | हरियाणा अपने कलात्मक सजावटी बर्तनों के लिए भी प्रसिद्ध है | रोहतक जिले में चिकनी मिट्टी से कुछ बेहद ख़ूबसूरत घड़ों का निर्माण किया जाता है | हरियाणा के गाँव इन स्थानीय शिल्पों के केंद्र हैं | हरियाणा के अन्य शिल्पों में रेवाड़ी की तिल्ला जूतियाँ, गुडगाँव के शिक्षानिक खिलौने तथा कई अन्य चीजें शामिल हैं |

Weaving and Embroidery

Pottery

Pottery making in Haryana is as popular as in any other state of India. Pots are made of clay, which come very cheap and easy, which is why this craft is so common in most places. The potter works on a wheel with clay to create the pots and other things like toys.  And the women of the family make the designs and colors the pots and toys.

बुनाई और कढ़ाई

मृद्भांड अथवा मिट्टी के बर्तनों का निर्माण

हरियाणा में मृद्भांड निर्माण उतना ही लोकप्रिय है जितना कि भारत के अन्य राज्यों में | घड़ों का निर्माण मिट्टी से किया जाता है जो काफी सस्ती एवं आसानी से उपलब्ध है | यही कारण है कि यह शिल्प अधिकांश स्थानों में बेहद आम है | कुम्हार चाक पर मिट्टी का प्रयोग करके घड़ों और अन्य वस्तुओं जैसे खिलौनों का निर्माण करता है | तथा परिवार की महिलायें डिजाईन बनाती हैं तथा साथ ही घड़ों और खिलौनों रंगाई भी करती हैं |

Museums in Haryana

Sri Krishna Museum(1987) ,Kurukshetra

The Sri Krishna Museum is wonderful place which reflects the history of Mahabharata and depicts many scenes, it is worth visiting for excellent art works by Great but unknown Indian artists over the ages.

हरियाणा के संग्रहालय

श्री कृष्ण संग्रहालय ( 1987), कुरुक्षेत्र

श्री कृष्ण संग्रहालय एक शानदार स्थल है जो महाभारत के इतिहास को दर्शाता है तथा कई दृश्यों का वर्णन करता है |  महान किंतु गुमनाम भारतीय कलाकारों द्वारा कई अवधियों में की गयी रचनाओं को देखने के लिए इस स्थान की यात्रा अवश्य की जानी चाहिए |

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Education System in Haryana || Haryana GK – Study Content & Notes

Education System in Haryana || Haryana GK – Study Content & Notes

Education System in Haryana || Haryana GK – Study Content & Notes

Education System in Haryana

Educational Status of Haryana(Census , 2011)

  • Haryana Literacy Rate – 75.60 %
  • Haryana Male Literacy Rate – 84.60 %
  • Haryana Female Literacy Rate – 65.9 %
  • Literate Population – 1,65,98,988
  • Literate Male Population – 97,94,067

हरियाणा की शैक्षिक स्थिति (जनगणना, 2011)

  • हरियाणा साक्षरता दर – 75.60%
  • हरियाणा पुरुष साक्षरता दर – 84.60%
  • हरियाणा महिला साक्षरता दर – 65.9%
  • साक्षर जनसंख्या – 1,65,98,988
  • साक्षर पुरुष जनसंख्या – 9 7, 9 4,067

Major Deemed University

National Brain Research Institute

  • First announcement of the National Brain Research Centre by Dr. Manju Sharma, Secretary, Department of Biotechnology was on 14th November 1997.
  • The institute at Manesar was formally dedicated to the nation by the Hon’ble President of India, Dr. A.P.J. Kalam on December 16, 2003.

Indian National Defence University (INDU)- is a under construction university of defence by the Government of India which will be established at Binola on Delhi-Jaipur NH 48 in Gurgram district of Haryana state in India.

मेजर डीम्ड यूनिवर्सिटी

राष्ट्रीय मस्तिष्क अनुसंधान संस्थान

  • जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव डॉ मंजू शर्मा द्वारा राष्ट्रीय मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र की पहली घोषणा 14 नवंबर 1997 को हुई थी।
  • मानेसर का संस्थान भारत के माननीय राष्ट्रपति डॉ एपीजे कलाम द्वारा औपचारिक रूप से 16 दिसंबर, 2003 को देश को समर्पित किया गया था।

भारतीय राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (आईएनडीयू)- भारत सरकार के द्वारा एक निर्माणाधीन विश्वविद्यालय है जो भारत के हरियाणा राज्य के गुरुग्राम जिले में दिल्ली-जयपुर एनएच 48 पर बिनोला में स्थापित किया जाएगा।

Major University of Haryana

Maharshi Dayanand University

  • Established  in 1976
  • Located in Rohtak

Central University

  • Situated in Jant Pali (Mahendergarh)
  • Established under central University  Act , 2009
  • This university is running temporarily in Narnaul Govt. College

हरियाणा के मुख्य विश्वविद्यालय

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय

  • 1976 में स्थापित।
  • रोहतक में स्थित है।

केंद्रीय विश्वविद्यालय

  • जंतपाली (महेंद्रगढ़) में स्थित है।
  • केंद्रीय विश्वविद्यालय अधिनियम, 2009 के तहत स्थापित है।
  • यह विश्वविद्यालय नारनौल सरकारी  कॉलेज में अस्थायी रूप से चल रहा है।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

Classification of Power:-

  • According to Weber, Power is defined as, “the chance of a man or a number of men to realize their own will in a communal action even against the resistance of others who are participating in the action”.
  • Power is an aspect of social relationships.
  • An individual or group do not hold power in isolation, they hold it in relation  to others.
  • Power is therefore, power over others.

Depending on the circumstances surrounding its use, sociologists classify power in two categories:

  • Legitimate Power: When power is used in a way that is generally recognised as socially right and necessary, it is called legitimate power.
  • Illegitimate Power: Power used to control others without the support of social approval is referred to as illegitimate power.
  • Authority is that form of power which is accepted as legitimate, as right and just, and therefore obeyed on that basis.
  • When power is legitimized it becomes authority and only then it is accepted by people voluntarily.
  • Coercion is that form of power which is not regarded as legitimate by those subject to it.
  • E.g. Govt. agents demanding and receiving sales tax from a shopkeeper are using legitimate power; gangsters demanding and receiving protection money from the same shopkeeper by threat of violence uses illegitimate power.
  • When power gets institutionalized and comes to be accepted as legitimate by those  on whom it is being exercised, it is termed authority.
  • Max Weber argued that the nature of authority is shaped by the manner in which legitimacy is acquired.
  • Weber identified three ideal types of authority systems:
    1. Traditional Authority
    2. Charismatic Authority
    3. Legal-Rational Authority

Traditional Authority

  • The traditional authority is the characteristic of those societies where the ‘traditional action’ is predominant.
  • Traditional action is based on established custom.
  • An individual acts in a certain way because of an ingrained habit, because things have always been done that way.
  • In such societies where traditional action is a predominant mode of behaviour, exercise of power is seen as legitimate when it is consonance with the tradition and conforms to the customary rules.
  • Such type of authority was termed by Weber as Traditional Authority.

Weber identified two forms of traditional authority:

  1. Patriarchalism
  2. Patrimonialism

Patriarchalism

  • In Patriarchalism, authority is distributed on the basis of gerontocratic principles.
  • Thus the right to exercise authority is vested in the eldest male member.
  • This type of authority is found in case of very small scale societies like the Bushmen of Kalahari desert or in case of extended kin groups in agrarian societies like lineage or joint families in India.

Patrimonialism

  • According to Weber, patriarchal domination has developed by having subordinate sons of the patriarch or other dependents take over land and authority from the ruler, and a patrimonial state can develop from it.
  • In the patrimonial states, such as Egypt under the Pharaohs, ancient China, the Inca state, the Jesuit state in Paraguay, or Russia under the czars, the ruler controls his country like a giant princely estate.
  • The master exercises unlimited power over his subjects, the military force and the legal system.
  • Patrimonial dominance is a typical example of the traditional exercise of power in which the legitimacy of the ruler and the relationships between him and his subjects are derived from tradition.
  • Patrimonialism is characterized by the existence of hereditary office of a king or a chief and an administrative staff consisting of courtiers and favourites who together from a nascent bureaucracy.
  • The king or the chief exercises absolute and arbitrary power according to customary rules.

शक्ति का वर्गीकरण –

  • वेबर ने, शक्ति को, “किसी एक व्यक्ति व व्यक्तियों के एक समूह का एक सांप्रदायिक क्रिया में उनके स्वयं के इच्छा को उसी क्रिया में भाग ले रहे अन्य के विरोध के विरुद्ध पहचानने के अवसर” के रूप में परिभाषित किया है |
  • शक्ति सामाजिक संबंधों का एक पहलू है |
  • एक व्यक्ति या समूह शक्ति अधिग्रहण व्यक्तिगत सम्बन्ध में नहीं, बल्कि अन्य के संबंधों में करते हैं |
  • इसलिए शक्ति, अन्यों के ऊपर शासन है |

इसके प्रयोग के आसपास की परिस्थितियों के आधार पर समाजशास्त्रियों ने शक्ति का वर्गीकरण दो श्रेणियों में किया है :

  • वैध शक्ति : जब शक्तियों का प्रयोग उस विधि में किया जाता है जो कि सामान्यतः सामाजिक रूप से उचित व अनिवार्य हो, तो इसे वैध शक्ति कहा जाता है |
  • अवैध शक्ति : जब शक्तियों का प्रयोग सामाजिक सहमति के बिना दूसरों पर नियन्त्रण करने के लिए किया जाता है तो इसे अवैध शक्ति कहा जाता है |
  • जब शक्ति वैध होती है तो यह प्राधिकार बन जाता है और सिर्फ तभी लोगों द्वारा इसे एच्छिक रूप से स्वीकार किया जाता है |
  • उदाहरण के लिए सरकारी सेवकों का दुकानदारों से विक्रय कर की मांग करना व उसे प्राप्त करना, वैध शक्तियों का प्रयोग करना है | वही दूसरी तरफ गैंगस्टर्स का हिंसा के प्रयोग द्वारा धमकी देकर समान दुकानदारों से मांग करना व उसे प्राप्त करना अवैध शक्तियों का प्रयोग करना है |
  • जन शक्तियां संस्थात्मक हो जाती है और उनके द्वारा, जिनपर इनका प्रयोग किया जाता है, इसे वैध रूप में स्वीकार किया जाता है तो इसे प्राधिकार शब्द से जाना जाता है |
  • मैक्स वेबर ने तर्क दिया कि प्राधिकार का स्वरूप उन तरीकों द्वारा निर्मित होता है जिसमें इसे वैधता की आवश्यकता होती है |
  • वेबर ने प्राधिकार प्रणालियों को तीन आदर्श प्रकार की व्याख्या की हैं :
    1. पारंपरिक प्राधिकार
    2. करिश्माई प्राधिकार
    3. क़ानूनी-तर्कसंगत प्राधिकार

प्राधिकार प्रणालियाँ

  • पारंपरिक प्राधिकार उन समाजों की विशेषता है जहाँ ‘पारंपरिक क्रिया’ प्रभावी है |
  • पारंपरिक क्रिया स्थापित रीतियों पर आधारित होती है |
  • एक व्यक्ति एक पक्की आदत के कारण एक निश्चित तरीके से कार्य करता है, क्योंकि चीजें हमेशा उन्ही तरीकों से की जाती रही हैं |
  • ऐसे समाजों में जहाँ पारंपरिक क्रिया व्यवहार का एक प्रभावी तरीका है, तो शक्ति का प्रयोग वैध रूप में देखा जाता है जब यह परंपरा के अनुरूप होती है व परंपरागत नियमों के अनुरूप होता है |
  • इस प्रकार के प्राधिकार को वेबर ने पारंपरिक प्राधिकार के रूप में परिभाषित किया है |
  • वेबर ने पारंपरिक प्राधिकार के दो प्रारूपों की व्याख्या की है :
  1. पित्तंत्रात्वाद
  2. वंशवाद

पित्तंत्रात्वाद

  • पित्तंत्रात्वाद में, अधिकार का वितरण वृद्ध-तंत्री सिद्धांतों के आधार पर किया जाता है |
  • इस प्रकार शक्तियों के प्रयोग का अधिकार सबसे बुजुर्ग सदस्य में निहित होता है |
  • इस प्रकार के प्राधिकार लघु स्तरीय समाजों जैसे कालाहारी मरुभूमि के बुशमेन या भारत में संयुक्त परिवारों या वंशावली जैसे कृषि समाजों में विस्तारित परिजन समूह के मामले में देखा जा सकता है |

वंशवाद

  • वेबर के अनुसार, कुलपति या अन्य आश्रितों के अधीनस्थ के बेटे द्वारा पितृसत्तात्मक वर्चस्व का विकास हुआ है जो कि शासक से भूमि व अधिकार को ले लेते हैं व इससे एक वंशवाद राष्ट्र की स्थापना की जा सकती है |
  • सत्तारूढ़ राष्ट्रों में जैसे मिस्त्र के फिरौन, प्राचीन चीन, इन्का राज्य, पैराग्वे में ईसाई राज्य या रूस के ज़ार में शासक अपने देश का नियंत्रण एक विशाल राजसी संपत्ति की तरह करता है |
  • शासक अपने प्रजा, सैन्य शक्ति व क़ानूनी प्रणाली के ऊपर असीमित शक्तियों का प्रयोग करता है |
  • वंशावली का प्रभुत्व शक्ति के पारंपरिक प्रयोग का एक प्रमुख उदाहरण है जिसमें शासक की वैधता और उसके व उसके प्रजा के बीच के सम्बन्ध परंपरा से उत्पन्न होते हैं |
  • वंशवाद को एक राजा या एक प्रमुख के वंशानुगत पद के अस्तित्व और दरबारियों व प्रियों से सजे हुए प्रशासनिक स्टाफ, जो  एक नए नौकरशाही से बनता है, के द्वारा बताया जाता है |
  • राजा या प्रमुख परम्परावादी नियमों के अनुसार पूर्ण व विवेकाधीन शक्तियों का प्रयोग करता है |

Charismatic Authority

  • Charisma refers to a certain quality of an individual’s personality by virtue of which he is set apart from ordinary men and treated as endowed with supernatural, superhuman or exceptional power or qualities.
  • These qualities are regarded as of divine origin and on the basis of them the individual concerned is treated as a leader and is revered.
  • Charismatic authority gains prominence in the times of crisis when other forms of authority prove inadequate to deal with the situation.
  • At such times, heroes who help to win the wars or people with the reputation for therapeutic wisdom come to regarded as saviours in times of epidemics or prophets in times of general moral crisis come to acquire charismatic authority.
  • The charismatic staff is chosen in terms of the charismatic qualities of its members not on the basis of social privilege or from the point of view of social loyalty.
  • There is nothing as appointment, career or promotion. There is only a call of the leader on the basis of his charismatic qualities.
  • There is no hierarchy, the leader merely intervenes in general or in individual cases when he considers the members of his staff inadequate to a task which they have been entrusted with.
  • Often there is no definite sphere of authority and of competence though there may be territorial mission.
  • There is no such thing as salary or benefit. Followers lived primarily in communal relationship with their leaders.
  • There is no system of formal rules or legal principles or judicial process oriented to them.
  • The charismatic movement, with its charismatic authority differs on several important points from both traditional organizations and bureaucracy.
  • Charisma is a force that is fundamentally outside everyday life and whether it be political or religious charisma, it is a revolutionary force in history that is capable of breaking down both traditional and rational patterns of living.
  • The forces of a charismatic leader lies outside the routine of everyday life and the problem arises when it is incorporated in a routine everyday life.
  • Weber termed it as “Routinization of Charisma” happens when the leader and the followers want to make ‘it possible to participate in normal family relations or at least to enjoy a secure social position.
  • When this happens charismatic message is changed into dogma, doctrine, regulations, law or rigid tradition and the charismatic movement develops into either a traditional or a bureaucratic organization or a combination of both.

करिश्माई प्राधिकार

  • करिश्मा का अर्थ एक व्यक्ति के व्यक्तित्व के एक निश्चित विशेषता जिसके कारण उसे साधारण व्यक्तियों से अलग कर लिया जाता है और अलौकिक, अमानवीय या असाधारण शक्तियों या विशेषताओं से संपन्न की तरह माना जाता है |
  • इन विशेषताओं को दिव्य मूल की तरह माना जाता है और इसके आधार पर सम्बंधित व्यक्ति को नेता माना जाता है और सम्मानित किया जाता है |
  • संकट के समय करिश्माई प्राधिकरण का महत्त्व कई गुना बढ़ जाता है जब परिस्थिति से निपटने के लिए प्राधिकरण के अन्य रूप अपर्याप्त साबित हो जाते हैं |
  • ऐसे परिस्थितियों में, वे नायक जो युद्ध जीतने में सहायक होते हैं या चिकित्सीय ज्ञान के लिए प्रसिद्ध व्यक्ति महामारी के समय रक्षक के रूप में माने जाते हैं या सामान्य नैतिक संकट, जो कि करिश्माई प्राधिकार के लिए उत्पन्न होते हैं, के समय भविष्यवक्ता के रूप में माने जाते हैं |
  • करिश्माई स्टाफ इसके सदस्यों के करिश्माई गुणों के सन्दर्भों में चयन किये जाते हैं न कि सामाजिक विशेषाधिकार के आधार पर या सामाजिक वफादारी के दृष्टिकोण से |
  • इसमें नियुक्ति, करियर या पदोन्नति जैसी कोई परिस्थिति नहीं होती है | इसमें सिर्फ और सिर्फ एक सदस्य की करिश्माई गुणों के आधार पर नेता के रूप में उसका चयन किया जाता है |
  • इसमें कोई पदक्रम नहीं होता है, नेता सिर्फ सामान्य या व्यक्तिगत मामलों में ही हस्तक्षेप करता है जब वह अपने स्टाफ के सदस्यों को उस कार्य के लिए अपर्याप्त मानता है जो उन्हें सौंपी जाती है |
  • प्रायः प्राधिकार या क्षमता का कोई निश्चित क्षेत्र नहीं होता है, हालाँकि कोई क्षेत्रीय मिशन हो सकता है |
  • इसमें वेतन या लाभ जैसी कोई वस्तु नहीं होती है | अनुयायी अपने नेताओं के साथ सांप्रदायिक रिश्ते में मुख्यतः रहते हैं |
  • इसमें लोगों से जुड़े हुए औपचारिक नियमों या क़ानूनी सिद्धांतों या न्यायिक प्रक्रिया की कोई व्यवस्था नहीं होती है |
  • करिश्माई आन्दोलन, अपने करिश्माई प्राधिकार के साथ कई महत्वपूर्ण दृष्टिकोणों जैसे कि पारंपरिक संगठनों व नौकरशाही दोनों में ही परिवर्तित होते हैं |
  • चाहे यह करिश्मा राजनीतिक हो या धार्मिक, यह एक ताकत है जो कि मूल रूप से दैनिक जीवन से अलग होता है और यह इतिहास में एक क्रांतिकारी ताकत है जो लोगों के पारंपरिक व विवेकी दोनों तरह के शैलियों को तोड़ने में सक्षम है |
  • एक करिश्माई नेता की शक्तियां दैनिक जीवन के दिनचर्या से अलग होती हैं और समस्या तब उत्पन्न होती हैं जब इसे दैनिक जीवन के दिनचर्या के साथ शामिल किया जाता है |
  • वेबर ने कहा है कि “करिश्मा का दिनचर्याकरण” तब होता है जब नेता व उसके अनुयायी चाहते हैं कि यह संभव हो कि सामान्य पारिवारिक सम्बन्ध भी इसमें भागीदार बनें व या कम से कम एक सुरक्षित सामाजिक स्थिति के वे हिस्सेदार बनकर उसका आनंद लें |
  • जब यह स्थिति उत्पन्न होती है तो करिश्माई सन्देश, सिद्धांतवाद या डॉक्ट्रिन, विनियमन, कानून या अनम्य परंपरा में परिवर्तित हो जाता है और करिश्माई आन्दोलन या तो एक पारंपरिक या एक नौकरशाही संगठन या दोनों का एक समुच्चय में विकसित हो जाता है |

Reasons behind instability of charismatic authority

  • Charismatic authority is the product of a crisis situation and lasts so long as the crisis lasts. Once the crisis is over, it has to adapted to everyday matters.
  • Striving for security – This means legitimizing on one hand of the position of authority and on the other hand of the economic advantages enjoyed by the followers of the leader.
  • Objective necessity of adaptation of the patterns of order, of the organization and of the administrative staff to the normal, everyday needs and conditions of carrying on the administration.
  • There is a problem of succession which renders charismatic authority unstable since basis of authority is the personal charisma of the leader.
  • Discontinuity is inevitable since it is not easy to find a successor who also possesses those charismatic qualities.
  • One of the solutions to the problem of discontinuity is to transform the charisma of the individual into the charisma of the office which can be translated to every incumbent of the office by ritual means. E.g. the transmission of the charisma of a royal authority by anointing or by coronation.

करिश्माई प्राधिकरण के अस्थायित्व के कारण

  • करिश्माई प्राधिकरण एक आपातकालीन परिस्थिति की देन है और जब तक यह संकट नहीं ख़त्म हो जाता है तब तक यह प्राधिकरण भी चलता रहता है | एक बार संकट के ख़त्म होने के बाद, इसे दैनिक मामलों को अपनाना ही पड़ता है |
  • सुरक्षा हेतु प्रयासरत – इसका अर्थ है कि प्राधिकार के एक तरफ वैध होना और दूसरी तरफ नेता के अनुयायी द्वारा आर्थिक लाभों का आनंद लेना |
  • आदेश, संगठन व प्रशासनिक स्टाफ के शैलियों को सामान्य, दैनिक जरूरतों व प्रशासन के संचालित परिस्थितियों में अपनाये जाने का अनिवार्य लक्ष्य |
  • इसमें उत्तराधिकार की समस्या होती है जो कि करिश्माई प्राधिकरण को अस्थायी बना देता है क्योंकि प्राधिकरण का आधार नेता का निजी करिश्मा होता है |
  • इसकी निरंतरता का समापन होना अपरिहार्य है क्योंकि इसमें यह संभव नहीं होता है कि समान करिश्माई गुणों वाले किसी एक उत्तराधिकारी का चयन किया जा सके |
  • निरंतरता के समापन का एक समाधान यह है कि निजी करिश्मा को पद की करिश्मा में परिवर्तित कर दिया जाए, जिसका हस्तांतरण अनुष्ठानी माध्यमों द्वारा पद के प्रत्येक पदधारी में किया जा सकता है | उदाहरण के लिए एक शाही प्राधिकरण के करिश्मा का अभिषेक या राज्याभिषेक द्वारा संचरण |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Sociology Study Notes | Topic Sociological Thinkers | HCS 2018 Exam

HCS Sociology Study Notes | Topic Sociological Thinkers | HCS 2018 Exam

HCS Sociology Study Notes | Topic Sociological Thinkers | HCS 2018 Exam

Karl Marx – Social & Intellectual Background:-

Social and intellectual background of Karl Marx (1818 – 1883):

  • Karl Marx’s life coincided with the beginning of a change in the European countries from agrarian to industrial societies. Marx obtained most of his basic empirical data for his theory of development of capitalism from England.
  • The intellectual background for Marx’s theories involved progress of Germany to match more developed countries and this debate was carried out by G.W.F. Hegel.
  • Hegel tried to show that human history had a goal – creation of a reasonable state and the realization of the concept of freedom. Marx was influenced by Hegel’s historical method in which development and change through dialectic contradictions are the primary components. He rejected Hegel’s emphasis on spiritual forces in history and criticized belief of young Hegelian movement (of which he was a part for sometime) that philosophical analysis would lead to change in and liberation of Germany. He stressed human social conditions, specifically their material production important to historical development.
  • Marx was inspired from French Socialist tradition that arose during French Revolution of 1789 and continued till the revolutions of 1830 and 1848. This tradition aimed at arising a new and more radical revolution of 1789 in which the new class, the industrial workers or proletariat would take power and abolish all classes. Some reform oriented socialists (“utopian socialists”) like Saint Simon, Charles Fourier wanted to build a socialist society through state reforms or by creating small local societies in which division of labour was abolished and people lived in harmony. Marx incorporated some of their criticism of the modern capitalist industrial society into his own theories.
  • Marx was also influenced by British Economists Adam Smith, David Ricardo who had analysed the new capitalist market economy. Marx took up their labour theory of value – value of commodity is determined by the quantity of work put into it. Marx objected to the Ricardian socialists (demonstrated injustice of a system in which workers created all value but received only part of it for themselves) and in his ‘theory of surplus’ tried to explain why the workers only received a part of the value they created.

कार्ल मार्क्स – सामाजिक व बौद्धिक पृष्ठभूमि:-

कार्ल मार्क्स की सामाजिक व बौद्धिक पृष्ठभूमि (1818 – 1883) :

  • कार्ल मार्क्स के जीवन में बदलाव की शुरुआत यूरोपीय देशों में कृषि से औद्योगिक समाजों में बदलाव की शुरुआत के साथ हुई | मार्क्स को अपने पूंजीवादी के सिद्धांत के लिए मूल अनुभवजन्य जानकारी इंग्लैंड से प्राप्त हुई |
  • मार्क्स के सिद्धांतों के बौद्धिक पृष्ठभूमि ने जर्मनी के प्रगति को शामिल किया ताकि अधिक विकसित देशों से बराबरी हो और इसे वाद का रूप जी. डबल्यू. एफ. हेगल ने दिया |
  • हेगल ने यह दिखाने की कोशिश की कि मानव इतिहास के पास एक लक्ष्य था – एक उचित राष्ट्र का निर्माण और आजादी के धारणा का एहसास | मार्क्स हेगल की एतिहासिक प्रणाली से प्रभावित थे जिसमें द्वंदात्मक विरोधाभासों द्वारा परिवर्तन व विकास प्राथमिक घटक हैं | उन्होंने इतिहास में आध्यात्मिक तत्वों पर जोर देने के हेगल के सिद्धांत को नकारा और युवा हेगलवादी आन्दोलन (जिसके वे स्वयं ही कभी हिस्सा थे) के विश्वास की आलोचना की कि दार्शनिक विश्लेषण से जर्मनी में परिवर्तन आएगा और जर्मनी को मुक्ति मिलेगी | उन्होंने मानव सामाजिक परिस्थितियों पर अधिक जोर दिया खासकर ऐतिहासिक विकास में उनके महत्वपूर्ण भौतिक उत्पादन पर |
  • मार्क्स फ़्रांसिसी समाजवादी परंपरा से प्रेरित थे जो 1789 के फ़्रांसिसी क्रांति से शुरू हुआ और 1830 व 1848 के क्रांतियों तक जारी रहा | इस परंपरा का लक्ष्य एक नया और अधिक कट्टरवादी 1789 के क्रांति को जन्म देना था जिसमें एक नया वर्ग, औद्योगिक श्रमिक या श्रमजीवी  वर्ग समस्त शक्ति को रखेंगे और सभी वर्गों को समाप्त करेंगे | कुछ सुधार उन्मुख समाजवादी (“अव्यवहार्य मायविचारक समाजवादी”) जैसे संत साइमन, चार्ल्स फौरिएर राष्ट्र सुधारों द्वारा या छोटे स्थानीय समाजों के निर्माण द्वारा एक समाजवादी समाज बनाना चाहते थे जिसमें श्रम विभाजन समाप्त कर दिया गया और लोग सौहाद्रपूर्ण तरीके से रहते थे | मार्क्स ने अपने स्वयं के सिद्धांतों में आधुनिक पूंजीवादी औद्योगिक समाज के उनकी कुछ समीक्षाओं का निगमन किया |
  • मार्क्स एडम स्मिथ, डेविड रिकार्डो जैसे ब्रिटिश अर्थशास्त्रियों से प्रभावित थे, जिन्होंने नए पूंजीवादी बाजार अर्थव्यवस्था को विश्लेषित किया | मार्क्स ने उनके महत्त्व के श्रम सिद्धांत को अपनाया – जिसमें यह कहा गया कि किसी वस्तु का महत्त्व उसमें लगाए गए कार्य के परिमाण से निर्धारित होती है | मार्क्स ने रिकार्डोवादी समाजवादियों पर आपत्ति जताई ( एक प्रणाली में अन्याय को प्रदर्शित किया जिसमें यह बताया कि समस्त महत्त्व का निर्माण तो श्रमिक करते हैं लेकिन उन्हें अपने लिए इसका एक हिस्सा मात्र प्राप्त होता है ) और अपने ‘अधिशेष के सिद्धांत’ में उन्होंने यह बताने की कोशिश की कि क्यों श्रमिकों को उस महत्त्व का एक हिस्सा मिला जिसका निर्माण उन्होंने किया |

HCS Sociology Study Notes
Hegel – Idealism:-

  • According to Hegel, the ultimate purpose of human existence was to express the highest form of human Geist or ‘Spirit’. This Spirit was not a physical or material entity but an abstract expression of the moral and ethical qualities and capacities, the highest cultural ideals were the ultimate expression of what it is to be a human being. For Hegel, material life was the practical means through which this quest for the ultimate realisation of human consciousness, the search for a really truthful awareness of reality, could be expressed.
  • For rationalists, human knowledge and understanding are more about what goes on inside our minds than outside of them. For Hegel, reason and thought are not simply part of reality, they are reality. Therefore, the laws and principles that govern human thought must also be the laws and principles that govern the whole of reality.
  • Hegel suggested that the minds of all human beings are essentially the same, we are all part of the same overarching consciousness.
  • According to Hegel, the process by which the quest for the ultimate truth is carried on involves a dialectical process in which one state of awareness about the nature of reality (thesis) is shown to be false by a further and higher state of awareness (antithesis) and is finally resolved in a final and true state of awareness (synthesis). Hegel uses this approach to suggest that the contradictions or imperfections of the family and of civil society (corresponding with thesis and antithesis) are finally resolved by the institutions of the state, which correspond with the new ethical synthesis.

हेगल – विचारवाद:-

  • हेगल के अनुसार, मानव अस्तित्व का आखिर प्रयोजन मानव आत्मा के उच्चतम रूप को व्यक्त करना था | आत्मा एक भौतिक या जिस्मानी इकाई नहीं थी बल्कि नैतिक व नीतिपरक गुणों व क्षमताओं का सार अभिव्यक्ति थी, एक मनुष्य होना का अर्थ क्या है यह सबसे बड़े सांस्कृतिक विचार ही परम अभिव्यक्ति थी | हेगल के लिए, जिस्मानी जीवन व्यावहारिक साधन था जिसके जरिये मानव चेतना के परम एहसास का यह रहस्य, सच्चाई के वास्तविक सच्ची जागरूकता की खोज को व्यक्त किया जा सकता था |
  • बुद्धिजीवियों के लिए, मानव ज्ञान और समझ वैसे ही है जैसे कि हमारे मन के बाहर होने से ज्यादा हमारे मन में जो भी होती हैं | हेगल के लिए, कारण और विचार वास्विकता के हिस्सा मात्र नहीं हैं, बल्कि वास्तविकता ही है | इसलिए, नियम व सिद्धांत जो मानव विचार को नियंत्रित करते हैं उन्हें वे नियम व सिद्धांत बनने चाहिए जो पूर्ण वास्तविकता को नियंत्रित करें |
  • हेगल ने यह सुझाया कि सभी मनुष्यों के मस्तिष्क अनिवार्यतः समान होते हैं, हम सब उसी व्यापक चेतना के सभी भाग है |
  • हेगल के अनुसार, वह प्रक्रिया, जिसके द्वारा परम सत्य की खोज की जाती है, में एक द्वंदात्मक प्रक्रिया शामिल होती है, जिसमें वास्तविकता की प्रकृति (थीसिस) के बारे में जागरूकता की एक अवस्था को जागरूकता की एक अधिक बड़ी अवस्था (प्रतिपक्ष) द्वारा गलत दिखाया जाता है और आखिरकार जागरूकता की एक अंतिम व सच्ची अवस्था (संकलन) में सुलझती है | हेगल इस दृष्टिकोण का प्रयोग यह सुझाव देने के लिए करते हैं कि नागरिक समाज व परिवार के विरोधाभास या अपूर्णता (थीसिस व प्रतिपक्ष से सम्बंधित) को राष्ट्र के संस्थानों द्वारा अंतिम में मिटाया जाता है, जो नए नैतिक संकलन के अनुरूप होते हैं |

Hegel’s Idea of Sublation:

  • This term was used by Hegel to describe the need social actors have to feel at ease with their understanding of reality and how they fit into it. Lack of sublation shows itself as a feeling of estrangement, of not fitting in, of being at odds with the world and being confused about the nature of reality.
  • Hegel felt that estrangement arose because uncertainty about the nature of reality ‘out there’ caused us to be uncertain about reality ‘in here’. The extent to which we do not understand the objective world around us is also the extent to which we are ignorant about our subjective inner nature.

Young Hegelians:

  • They proposed a counter-thesis of their own. They applied the thesis, antithesis and synthesis to Hegel’s own philosophical system.
  • Ludwig Feuerbach, argued that by subordinating the material world to the realm of consciousness and ideas, Hegel’s obsession with the coming of the great universal Spirit, was not in the least bit rational or objective in the scientific sense and was nothing more than a form of religious mysticism.
  • Rather than describing how social actors might overcome their sense of estrangement from material reality, Hegel said that it was not objective reality that was the problem but simply the inadequacy of social actors’ understanding of it.

हेगल की सब्लेषण का विचार :

  • हेगल द्वारा इस धब्द का प्रयोग यह दिखाने के लिए किया गया था कि सामाजिक कर्ताओं को वास्तविकता की उनकी समझ में आसानी से एहसास के जरूरत है और वे इसमें किस तरह शामिल है | सब्लेषण की कमी खुद को एक मनमुटाव के एहसास के रूप में दिखाती है, नहीं शामिल हो पाने के रूप में, दुनिया के साथ बाधाओं के रूप में और वास्तविकता के प्रकृति के बारे में संशय के रूप में दिखाती है |
  • हेगल ने महसूस किया कि मनमुटाव का जन्म इसलिए हुआ क्योंकि ‘बाहर के’ वास्तविकता के प्रकृति के बारे में अनिश्चितता ने ‘अन्दर के’ वास्तविकता के बारे में हम में अनिश्चितता फैला दी | बाहरी दुनिया के जिस सीमा तक हम नहीं जान पाते हैं अपने अन्दर के उसी हद तक व्यक्तिपरक प्रवृत्ति के बारे में हम अज्ञानी रहते हैं |

युवा हेगालियन :

  • उन्होंने स्वयं की एक काउंटर-थीसिस को प्रस्तावित किया | उन्होंने थीसिस, प्रतिपक्ष और संकलन को हेगल की खुद के दार्शनिक प्रणाली पर लागू किया |
  • लुडविग फ्युरबैच ने तर्क दिया कि विचारों और चेतना के दायरे तक भौतिक दुनिया को सीमित कर , विशाल सार्वभौमिक आत्मा का आगमन के साथ हेगल का जुनून, वैज्ञानिक तरीके से जरा सा भी तर्कसंगत या निष्पक्ष नहीं था और यह धार्मिक रहस्यवाद से ज्यादा कुछ नहीं था |
  • बजाय इसका वर्णन करने की कि कैसे सामाजिक कर्ता भौतिक वास्तविकता से मनमुटाव के उनके भावना से उबरे, हेगल ने कहा कि समस्या यह नहीं थी कि यह निष्पक्ष वास्तविकता नहीं थी लेकिन यह थी कि इसके समझ के लिए सामाजिक कर्ताओं की अपर्याप्तता |

Marx:

  • While giving Hegel, ‘that mighty thinker’, credit for developing a number of very important insights, Marx argued that he had not applied them correctly and therefore reached incomplete conclusions about true nature of real reality.
  • Marx’s social theory can be thought of as the new synthesis emerging out of collision of Hegel’s thesis and the Young Hegelians’ antithesis.

मार्क्स :

  • हेगल, ‘एक महान विचारक’, को बहुत सी महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि के विकास के लिए श्रेय देते समय, मार्क्स ने तर्क दिया कि उसने उनको सही रूप से नहीं लागू किया और इसलिए असली वास्तविकता के सत्य प्रवृत्ति के बारे में अपूर्ण निष्कर्षों पर पहुंचे |
  • मार्क्स की सामाजिक सिद्धांत को हेगल की थीसिस और युवा हेगालियनों के प्रतिपक्ष के टकराव से उत्पान हुए नए संकलन के रूप में देखा जा सकता है |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel