Posted on Leave a comment

English vocabulary daily video + PDF for competition exams

English vocabulary daily video + PDF for competition exams

English vocabulary daily video + PDF for competition exams

 

Date PDF Video Hindi Medium Video English Medium
6th Nov Video
5th Nov Video
2nd Nov PDF Video Video
1st Nov PDF Video Video
31st Oct PDF Video Video
30th Oct PDF  Video Video
29th Oct PDF Video Video
27th Oct PDF Video Video
26th Oct PDF Video Video
25th Oct PDF Video Video
24th Oct PDF Video Video
23rd Oct PDF Video Video
22nd Oct PDF Video Video
20th Oct PDF Video Video
19th Oct PDF Video Video
18th Oct PDF Video Video
17th Oct PDF Video Video
16th Oct PDF Video Video
15th Oct PDF Video Video
13th Oct PDF Video Video
12th Oct PDF Video Video
11th Oct PDF Video Video
10th Oct PDF Video Video
9th Oct PDF Video Video
8th Oct PDF Video Video
6th Oct PDF Video Video
5th Oct PDF Video Video
4th Oct PDF Video Video
3rd Oct PDF Video
2nd Oct PDF Video
1st Oct PDF Video
Posted on Leave a comment

Essay paper topics and analysis I UPSC Civil Services mains examination 2018

ias

Essay paper topics and analysis I UPSC Civil Services mains examination 2018

Essay paper topics and analysis I UPSC Civil Services mains examination 2018

ESSAY PAPER: UPSC Civil Services Mains Examination – 2018

Section A

Write any one of the following essay in 1000-1200 words (125 marks )

1.alternative technologies for a climate change resilient India / जलवायु परिवर्तन के प्रति सुनम्य भारत हेतु वैकल्पिक तकनीके.

2.A good life is one inspired by love and guided by knowledge / एक अच्छा जीवन प्रेम से प्रेरित तथा ज्ञान से संचालित होता है.

3.Poverty anywhere is a threat to prosperity everywhere / कही पर गरीबी, हर जगह की समृद्धि के लिए खतरा है.

4.Management of Indian border disputes – a complex task / भारत के सीमा विवादों का प्रबंधन – एक जटिल कार्य

Section B

Write any one of the following essay in 1000-1200 words (125 marks)

1.Customary morality cannot be a guide to modern life / रूढिगत नैतिकता आधुनिक जीवन का मार्गदर्शक नहीं हो सकती है I

2.“The past’ is a permanent dimension of human consciousness and values / अतीत’ मानवीय चेतना तथा मूल्यों का एक स्थायी आयाम हैI

3.A people that values its privileges above its principles loses both / जो समाज अपने सिद्धांतो के ऊपर अपने विशेशाधिकारो को महत्त्व देता है, वह दोनों से हाथ धो बेठता हैI

4.Reality does not conform to the ideal, but confirms it / यथार्थ आदर्श के अनुरूप नहीं होता है, बल्कि उसकी पुष्टि करता है I

Watch this video for detailed analysis 

Essay paper topics

Essay paper topics

 

Essay paper topics Essay paper topics Essay paper topics Essay paper topics

Posted on Leave a comment

HCS Online Course 2018 | Best Study Material (History) | IAS | UPSC

HCS Online Course 2018 | Best Study Material (History) | IAS | UPSC

HCS Online Course 2018 | Best Study Material (History) | IAS | UPSC

American Revolution

Revolution

What is the revolution?

  • A revolution, means a drastic or radical change.
  • A revolution can be the sudden overthrow of an established government or system by force and bloodshed; it can also be a great change that comes slowly and peacefully.
  • Changes in political and social systems have often been brought about by revolutions.

Introduction:

Geographic discoveries led to discovery of many areas but North America became the special concentration for European because of the following reasons:

  • Natural resources
  • Suitable climate for human settlement
  • For the first time in history it gave the substitute like Potato, Tobacco etc for Indian goods therefore Queen Elizabeth started hiring Chartered companies to promote the settlement of people  in North America.

Causes of the war of American Independence:

1. Economic Exploitation:

  • The colonial policy of England in economic matters was the primary cause of resentment in the American colonies.
  • England’s policies did not encourage the American colonies to develop an economy of their own.
  • The English Parliament had forbidden them to use non-British ships in their trade.
  • Heavy duties were imposed on the import of goods in the colonies from other places.
  • The colonies were also forbidden to start certain industries, for example, iron works and textiles.

HCS Online Course

क्रान्ति

क्रांति क्या है ?

  • क्रांति का अर्थ है-  एक तीक्ष्ण अथवा क्रन्तिकारी  परिवर्तन |
  • एक क्रांति एक स्थापित सरकार अथवा व्यवस्था का बलपूर्वक अथवा रक्तपात के माध्यम से विनाश हो सकती है ; यह वह महान परिवर्तन भी हो सकती है जो धीरे-धीरे तथा शांतिपूर्वक आता है |
  • राजनीतिक तथा सामाजिक व्यवस्थाओं में परिवर्तन अक्सर क्रांति द्वारा लाये जाते हैं |

परिचय :

भौगोलिक खोजें कई क्षेत्रों के खोज की वजह बनी किंतु उत्तरी अमेरिका निम्नलिखित कारणों की वजह से यूरोपीय लोगों के  विशेष ध्यान का केंद्र बना :

  • प्राकृतिक संसाधन
  • मनुष्यों के बसने के लिए उपयुक्त जलवायु
  • इतिहास में पहली बार इसने भारतीय वस्तुओं के लिए आलू, तम्बाकू आदि जैसे विकल्प दिए, इसलिए महारानी एलिजाबेथ ने उत्तरी अमेरिका में लोगों को बसने हेतु प्रोत्साहित करने के लिए राजाज्ञा द्वारा स्थापित कंपनियों को नियुक्त करना शुरू कर दिया |

अमेरिकी स्वतंत्रता के लिए युद्ध के कारण :

  • आर्थिक शोषण :
  • आर्थिक मामलों में इंग्लैंड की औपनिवेशिक नीति अमरीकी उपनिवेशों में विद्रोह की मुख्य वजह थी |
  • इंग्लैंड की नीतियों ने अमेरिकी उपनिवेशों को अपनी खुद की अर्थव्यवस्था विकसित करने हेतु प्रोत्साहित नहीं किया |
  • इंग्लैंड की संसद ने उन्हें उनके व्यापार में गैर-ब्रिटिश जहाजों के प्रयोग से वंचित कर दिया |
  • अन्य स्थानों से उपनिवेशों में वस्तुओं के आयात पर भारी कर लगाए गए |
  • उपनिवेशों को कुछ निश्चित उद्योग शुरू करने से भी वंचित किया गया, उदाहरण के लिए, लौह कारखाने, वस्त्र उद्योग  |

Causes of the war of American Independence:

2. Policy of Mercantilism

  • Mercantile Capitalism was the British policy in the 18th century.
  • Government should regulate the economy at home and colonies abroad, so as to increase the national power and achieve a positive Balance of Trade.
  • This policy manifested in form of placing trade barriers on the colonies and establishing a monopoly of the British companies on trade done by the colonies.

3. Proclamation of 1763:

  • As a truce with the American Indians, who had started an armed rebellion at the end of the Seven year War, the British Parliament issued a “Proclamation of 1763” which banned the expansion by the US settlers to the west of Appalachian Mountains, as this area was now reserved for the native American Indians.
  • Another reason for issue of such a proclamation was the lobbying by the Aristocrats in Britain, who did not want the westward expansion.
  • They had bought land in the American colonies and made profits from the rents they extracted from the white settlers.

4. EXIM policy:

  • Britain’s complete monopoly over EXIM of certain products like potato, tobacco, sugarcane etc.

5. Role of Enlightenment Thinkers:

  • The Enlightenment or “Age of reason” was a movement that began in 1600s with ideas proposed by thinkers on the form of government and the rights of the people.
  • It reached its height in mid 1700s.

अमेरिकी स्वतंत्रता के लिए युद्ध के कारण :

2. वाणिज्यवाद की नीति

  • 18वीं शताब्दी में “व्यापारिक पूँजीवाद” अंग्रेजों की नीति थी |
  • सरकार को देश में घरेलु तथा  विदेश में विदेशी अर्थव्यवस्थाओं को विनियमित करना चाहिए ताकि राष्ट्रीय शक्ति में वृद्धि हो सके एवं व्यापार में एक सकारात्मक संतुलन प्राप्त किया जा सके |
  • यह नीति उपनिवेशों पर व्यापारिक बाध्यताएँ लगाने तथा उपनिवेशों द्वारा किये जाने वाले व्यापार पर ब्रिटिश कंपनियों का एकाधिकार स्थापित करने के रूप में प्रकट हुई |

3. 1763 की घोषणा :

  • सशस्त्र विद्रोह की शुरुआत करने वाले अमरीकी विद्रोहियों के साथ युद्ध के अंत में युद्धविराम संधि के रूप में, ब्रिटिश संसद ने 1763 की घोषणा जारी की, जिसने यू.एस. उपनिवेशकों द्वारा एपलाशियन पर्वतमाला  के पश्चिम की तरफ विस्तार पर प्रतिबंध लगा दिया, क्योंकि अब यह क्षेत्र मूल अमेरिकियों के लिए आरक्षित था |
  • ऐसी घोषणा करने का एक और कारण ब्रिटेन में कुलीनों द्वारा पक्ष जुटाव (लॉबिंग ) था, जो पश्चिम की तरफ विस्तार नहीं चाहते थे |
  • उन्होंने अमेरिकी उपनिवेशों में ज़मीनें खरीदी थीं तथा गोरे अधिवासियों से लगान वसूलकर लाभ कमाते  थे |

4. आयात-निर्यात नीति :

  • कुछ निश्चित वस्तुओं जैसे आलू, तम्बाकू, गन्ना आदि के आयात-निर्यात पर पूरी तरह से ब्रिटेन का एकाधिकार था |

5. आत्मज्ञान विचारकों की भूमिका :

  • प्रबोधन अथवा “तर्क का युग” एक आंदोलन था जिसकी शुरुआत  सरकार के रूप तथा लोगों के अधिकारों के मुद्दे पर विचारकों द्वारा प्रस्तावित विचारों के साथ  16वीं सदी के आसपास हुई थी |
  • 17वीं शताब्दी में यह आंदोलन अपने चरम पर पँहुच गया |

No taxation without representation:

  • The leaders in the Massachusetts colony called together representatives from other colonies to consider their common problems.
  • In this Massachusetts assembly, they agreed and declared that the English Parliament had no right to levy taxes on them. ‘No taxation without representation’ was the slogan they adopted.
  • And they threatened to stop the import of British goods.
  • The threat led English to repeal the Stamp Act, but Parliament still insisted that it had the right to levy taxes.

Proclamation of 1763:

  • Prohibited the colonists from purchasing lands beyond Appalachian Mountains.

Sugar Act of 1764:

  • Increased the duties on the sugar which affected the interests of the colonies.

Stamp Act of 1765:

  • Insisted on the use of British stamps in commercial and legal documents of the colonies.
  • The Quartering Act made it compulsory that colonists should provide food and shelter to English troops.
  • These Acts were opposed by the colonies.

The Townshend Laws

  • Charles Townshend, the Finance Minister of England imposed fresh taxes on glass, paper, tea, paints, etc in 1767.
  • It was known as Townshend laws.
  • The Americans protested it and boycotted the British goods.
  • On 5th March 1770, five Americans were killed by the British soldiers at Boston during the protest.

प्रतिनिधित्व के बिना करारोपण नहीं “

  • मैसाचुसेट्स उपनिवेश के नेताओं ने अन्य उपनिवेशों के नेताओं से उनकी साझा समस्याओं पर एक साथ विचार करने का आह्वान किया |
  • इस मैसाचुसेट्स विधानसभा में, उन्होंने सहमत होकर घोषणा की कि अंग्रेजी संसद को उन पर कर लगाने का कोई अधिकार नहीं है | उन्होंने “प्रतिनिधित्व के बिना करारोपण नहीं”  का नारा दिया |
  • तथा उन्होंने ब्रिटिश वस्तुओं के आयात को रोकने की धमकी दी |
  • यह धमकी इंग्लैंड द्वारा मुद्रांक कर को निरस्त करने की वजह बनी, लेकिन इसके बाद भी संसद ने इस बात पर ज़ोर दिया कि उसे कर लगाने का अधिकार है |

1763 की घोषणा :

  • उपनिवेशियों को एपलाशियन पर्वतमाला के दूसरी तरफ ज़मीन खरीदने से वंचित कर दिया गया |

1764 का चीनी अधिनियम :

  • चीनी पर करों को बढ़ा दिया गया जिससे उपनिवेशों के हित प्रभावित हुए |

1765 का मुद्रांक कर :

  • उपनिवेशों की वाणिज्यिक तथा वैधानिक दस्तावेजों में  ब्रिटिश मुद्रांको के प्रयोग पर ज़ोर दिया गया |
  • क्वार्टरिंग एक्ट ने  यह अनिवार्य कर दिया कि उपनिवेशियों को अंग्रेजी सैनिकों को भोजन तथा आश्रय प्रदान करना होगा |
  • उपनिवेशियों ने इस क़ानून का विरोध किया |

टाउनशेंड नियम

  • इंग्लैंड के वित्त मंत्री चार्ल्स टाउनशेंड ने शीशा, कागज़, चाय, रंगों आदि पर 1767 में नए कर लगा दिए |
  • ये नियम टाउनशेंड नियम के नाम से जाने गए |
  • अमरीकियों ने इसका विरोध किया तथा ब्रिटिश वस्तुओं का बहिष्कार करने लगे |
  • 5 मार्च 1770 को, बोस्टन में विरोध-प्रदर्शन के दौरान पाँच अमरीकियों की ब्रिटिश सैनिकों द्वारा हत्या कर दी गयी |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Haryana Civil Services 2018 (Study Notes) | Online Material- Geography

Haryana Civil Services 2018 (Study Notes) | Online Material- Geography

Haryana Civil Services 2018 (Study Notes) | Online Material- Geography

Climatic Regions of India

Introduction

  • The whole of India has a monsoon type of climate. But the combination of elements of the weather, however, reveal many regional variations.
  • These variations represent the subtypes of the monsoon climate.
  • A climatic region has a homogeneous climatic condition which is the result of a combination of factors.
  • Temperature and rainfall are two important elements which are considered to be decisive in all the schemes of climatic classification.

Koeppen’s Classification

  • Major climatic types of India based on Koeppen’s scheme.
  • Koeppen’s Classification of Climatic Regions of India is an empirical classification based on mean annual and mean monthly temperature and precipitation data.
  • Koeppen identified a close relationship between the distribution of vegetation and climate.
  • Koeppen’s scheme is based on the monthly values of temperature and precipitation.
  • Koeppen identified five major climatic types—tropical climates, dry climates, warm climates, snow climates and ice- climates.
  • He used letter symbols A, B, C, D and E to denote these climatic types.
  • These five types can be further subdivided into sub-types on the basis of seasonal variations in the distribution pattern of rainfall and temperature.

Subtypes of Climatic types:

  • a: hot summer, average temperature of the warmest month over 22°C
  • c: cool summer, average temperature of the warmest month under 22°C
  • f: no dry season
  • w: dry season in winter
  • s: dry season in summer
  • g: Ganges type of temperature; hottest month comes before the solstice and the summer rainy season.
  • h: average annual temperature under 18°C
  • m (monsoon): short dry season.

Haryana Civil Services 2018

परिचय

  • पूरे भारत में मानसून प्रकार की जलवायु होती है।परन्तु ऋतुओं के तत्वों मिश्रण से विभिन्न प्रकार की क्षेत्रीय विविधताएं पाई जाती है |
  • ये विविधताएं  जलवायु मानसून के ही उपभाग है |
  • जलवायु क्षेत्र की जलवायु स्थितियां एक समान होती है जो विभिन्न कारकों के मिश्रण का परिणाम है |
  • तापमान और वर्षा दो महत्वपूर्ण  कारक है जो जिनसे जलवायु पद्धति का वर्गीकरण होता है |

कोपेन का वर्गीकरण

  • भारत के प्रमुख जलवायु प्रकार कोपेन की पद्धति के आधार पर है |
  • कोपेन पद्धति के अनुसार भारत के जलवायु क्षेत्रों का वर्गीकरण एक आनुभविक पद्धति है जो वर्षा एवं तापमान के मध्यमान वार्षिक एवं मध्यमान मासिक आंकड़ों पर आधारित है |
  • कोपेन ने वनस्पति के वितरण और जलवायु के बीच एक घनिष्ठ संबंध की पहचान की |
  • कोपेन पद्धति तापमान और वर्षा की मासिक मात्रा पर निर्भर करती है |
  • कोपेन ने जलवायु को पांच प्रकार से विभक्त किया-
  • कोपेन ने  जलवायु प्रकार को दर्शाने के लिए  A, B, C, D और E अक्षरों का प्रयोग किया |
  • कोपेन ने पांच प्रमुख जलवायु प्रकारों की पहचान की ये है- उष्णकटिबंधीय जलवायु,शुष्क जलवायु ,कोष्ण जलवायु,तुषार जलवायु,हिम  जलवायु
  • इसके बाद कोपेन ने जलवायु को दर्शाने के लिए अक्षर प्रतीकों का उपयोग किया |
  • वर्षा और तापमान के वितरण पद्धति में मौसमी विविधताओं के आधार पर इन पांच प्रकारों को उप-प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है।

जलवायु प्रकारों के उपभाग-

  • a: उष्ण गर्मी, सबसे गर्म महीने का औसत तापमान 22 डिग्री सेल्सियस से अधिक होता है |
  • c: शांत गर्मियां , सबसे गर्म महीने का औसत तापमान 22 डिग्री सेल्सियस से कम होता है |
  • f: शुष्क मौसम नहीं होता है
  • w: सर्दियों में शुष्क मौसम
  • s: गर्मियों में शुष्क मौसम
  • g: गंगा के तापमान जैसा तापमान होता है ; सबसे महीना गर्म अयनांत और ग्रीष्म वर्षा ऋतू से पहले आता है।
  • h: औसत वार्षिक तापमान 18 डिग्री सेल्सियस के नीचे ही रहता है
  • m (मानसून): अल्पकालीन  शुष्क मौसम

Koeppen’s Classification

  • He identified five major climatic types, namely:

A -Tropical climates:

Where mean monthly temperature throughout the year is over 18°C.

Types:

  • Tropical wet (Af)- No dry season
  • Tropical Monsoon (Am)- Monsoonal, short dry season
  • Tropical wet and dry (Aw)- winter dry season

B-Dry climates:

  • Where precipitation is very low in comparison to temperature, and hence, dry. If dryness is less, it is semiarid (S); if it is more, the climate is arid(W).

Types:

  • Subtropical Steppe (BSh)- Low latitude semi arid or dry
  • Subtropical desert (BWh)- Low latitude arid or dry
  • Mid latitude Steppe (BSk)- Mid latitude semi arid or dry

C-Warm temperate climates:

Where mean temperature of the coldest month is between minus 3°C and 18°C.

Types:

  • Humid Subtropical (Cfa)- No dry season , warm summer
  • Mediterranean (Cs)- Dry hot summer

कोपेन का वर्गीकरण

  • कोपेन ने  पांच प्रमुख जलवायु प्रकारों की पहचान की, अर्थात्:

A-उष्णकटिबंधीय जलवायु:

  • जहां पूरे वर्ष का मासिक तापमान 18 डिग्री सेल्सियस से अधिक होता है|

प्रकार:

  • उष्णकटिबंधीय आर्द्र  (F) – कोई शुष्क मौसम नहीं होता है
  • उष्णकटिबंधीय मानसून (M) – मोनसूनल, शीत शुष्क मौसम
  • उष्णकटिबंधीय आर्द्र और शुष्क (Aw) – सर्दियों का शुष्क मौसम

B-शुष्क जलवायु

  • यहाँ तापमान की तुलना में वर्षा बहुत कम होती है ,इसलिए ये जलवायु शुष्क होती है | यदि शुष्कता कम हो तो यह अर्ध-शुष्क (S) होती है ,यदि शुष्कता ज्यादा  हो तो जलवायु शुष्क (W) होती है

प्रकार

  • उपोष्णकटिबंधीय स्टेपी (BSh)- कम अक्षांश वाले अर्ध शुष्क या सूखे
  • उपोष्णकटिबंधीय मरुस्थल (BWh)- कम अक्षांश वाले शुष्क या सूखे
  • मध्य अक्षांश स्टेपी (BSk)- मध्य अक्षांश वाले शुष्क अथवा सूखे

C-कोष्ण समशीतोष्ण जलवायु:

  • यहाँ सबसे ठंडे महीने का तापमान -3 डिग्री सेल्सियस और 18 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है |

प्रकार:

  • आर्द्र उपोष्णकटिबंधीय (Cfa)-शुष्क मौसम नहीं होता है , कोष्ण गर्मी |
  • भूमध्य (Cs) -शुष्क कोष्ण गर्मी

Climatic regions of India

Amw (Monsoon type with short dry winter season)

  • Region: Western coastal region, south of Mumbai
  • Annual rainfall over 300 cm

As(Monsoon type with dry season in high sun period)

  • Region: Coromandel coast = Coastal Tamil Nadu and adjoining areas of Andhra Pradesh
  • Annual rainfall: 75 – 100 cm [wet winters, dry summers]

Aw (Tropical Savannah type):

  • Region: Most parts of the peninsular plateau barring Coromandel and Malabar coastal strips
  • Annual rainfall: 75 cm

BShw (Semi-arid Steppe type):

  • Region: Some rain shadow areas of Western Ghats, large part of Rajasthan and contiguous areas of Haryana and Gujarat

Et (Tundra Type)

  • Region: Mountain areas of Uttarakhand
  • The average temperature varies from 0 to 10°C
  • Annual rainfall: Rainfall varies from year to year.

E (Polar Type)

  • Region: Higher areas of Jammu & Kashmir and Himachal Pradesh in which the temperature of the warmest month varies from 0° to 10°C

भारत के जलवायु क्षेत्र

Amw (इनका मानसून अल्पकालीन शुष्क सर्दी वाला होता है |)

  • क्षेत्र: पश्चिमी तटीय क्षेत्र ,मुंबई के दक्षिण में
  • वार्षिक वर्षा 300 cm से अधिक होती है |

As (यहाँ का मानसून प्रकार सूर्य  के उच्च ताप के साथ शुष्क होता है )

  • क्षेत्र: कोरोमंडल तट =  तमिलनाडु के तटीय क्षेत्र और आंध्र प्रदेश के आसपास के इलाके
  • वार्षिक वर्षा: 75 – 100 cm [आर्द्र सर्दियों, शुष्क ग्रीष्मकाल]

Aw (उष्णकटिबंधीय सवाना प्रकार):

  • क्षेत्र : कोरोमंडल तट तथा मालाबार तटीय पट्टी को छोड़कर प्रायद्वीपीय पठार के अधिकांश भाग |
  • वार्षिक वर्षा: 75 cm

BShw (अर्ध-शुष्क स्टेपी प्रकार की जलवायु ):

  • क्षेत्र: पश्चिमी घाट के कुछ वृष्टि छाया क्षेत्र, राजस्थान का विशाल हिस्सा और हरियाणा और गुजरात के निकटवर्ती इलाके |

Et (टुंड्रा प्रकार )

  • क्षेत्रः उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्र
  • औसत तापमान  0 से 10°C डिग्री सेल्सियस के बीच होता है
  • वार्षिक वर्षा: हर साल वर्षा अलग अलग होती है |

E (ध्रुवीय प्रकार)

  • क्षेत्र: जम्मू और कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के उच्च क्षेत्र ,जिनका सबसे गर्म महीने का तापमान 0 डिग्री से 10 डिग्री सेल्सियस तक रहता है।

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Sociology 2018 Exam | Study Content for Online Exam Preparation

HCS Sociology 2018 Exam | Study Content for Online Exam Preparation

HCS Sociology 2018 Exam | Study Content for Online Exam Preparation

Max Weber-

Reasons for dissatisfaction of Weber with Marx’s Historical- Materialist analysis:

  • Weber thought that it was highly unlikely that history develops according to any kind of grand plan. For Weber, human action is much more contingent than this in the sense that nobody can predict what all circumstances and contexts of action will be. Regarding Marx’s idea, for ex., that capitalism must follow feudalism, Weber pointed out that capitalism is not unique to modern society. Modern industrial capitalism, is just one type, one variety of the different kinds of capitalism that, under different historical circumstances, could have developed.
  • Weber said that historical-materialist approach gave too much attention to the economic realm and thus underestimated what goes on in other aspects of social life. To understand the origins of modern capitalism, it is necessary to look at developments in the political, legal and religious spheres as well as in the economic sphere.
  • Materialist theories inevitably give priority to material phenomena, ideational phenomena, including ideas, values and beliefs, but also the way social actors construct intellectual representations of reality in their mind, also need to be taken into account.

Weber provided an alternative to historical-materialist approach which can be studied as-

  • his comments about the development of a new kind of rationality, which became integral to the Western world view from the 16th century onwards;
  • his detailed description in The Protestant Ethic and the Spirit of Capitalism of how new variant of the business or commercial spirit of capitalism coincided with the emergence of a particular kind of Protestant religious ethic in Northern Europe at around the same time;
  • his comments about the inevitable spread of bureaucracy.

मैक्स वेबर –

मार्क्स के ऐतिहासिक-भौतिकवादी विश्लेषण से वेबर की असंतुष्टि के कारण :

  • वेबर ने सोचा कि यह बहुत असंभव है कि इतिहास का विकास किसी विराट योजना के साथ होता है | वेबर के लिए, मानव क्रिया इतनी आकस्मिक है कि कोई यह अनुमान नहीं लगा सकता कि कार्यों की परिस्थितयाँ तथा सन्दर्भ क्या होंगे | मैक्स के विचार के अनुसार,उदाहरण के लिए- पूँजीवाद को सामंतवाद का अवश्य अनुसरण करना चाहिए, वेबर ने बताया कि   आधुनिक समाज के लिए पूँजीवाद अनन्य नहीं है| आधुनिक औद्योगिक पूँजीवाद, विभिन्न प्रकार के पूँजीवादों का केवल एक प्रकार, केवल एक किस्म है, जो विभिन्न ऐतिहासिक परिस्थितियों के अंतर्गत विकसित हो सकता था |
  • वेबर ने कहा कि ऐतिहासिक-भौतिकवाद दृष्टिकोण ने आर्थिक क्षेत्र पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया तथा इस प्रकार जीवन के अन्य पहलुओं में क्या चल रहा है, उसे कम करके आंका गया | आधुनिक पूंजीवाद के मूल को समझने के लिए, राजनीतिक, कानूनी, धार्मिक क्षेत्र के साथ-साथ आर्थिक क्षेत्र में भी विकास को देखना आवश्यक है |
  • भौतिकवादी सिद्धांत भौतिक घटनाओं, विचारधारात्मक घटनाओं जिनमें विचार, मूल्य तथा विश्वास शामिल हैं, उनको अधिक प्राथमिकताएं देते हैं , किन्तु जिस तरह सामाजिक कर्ताओं ने उनके दिमाग में बौद्धिक प्रतिनिधित्व का निर्माण किया है, उसे भी ध्यान में रखना चाहिए |

वेबर ने ऐतिहासिक-भौतिकवादी दृष्टिकोण का एक विकल्प प्रदान किया, जिसका इस तरह अध्ययन किया जा सकता है –

  • नयी तरह की तर्कसंगतता के विकास के बारे में उनकी टिप्पणियां, जो 16वीं शताब्दी के बाद से  पश्चिमी दुनिया के विचारों का अभिन्न अंग बन गयी |
  • प्रोटेस्टेंट नैतिक सिद्धांतों तथा पूँजीवाद की भावना के बारे में उनका विस्तृत विवरण, कि किस प्रकार नए तरह के व्यापार अथवा पूंजीवाद की वाणिज्यिक भावना का उद्भव उत्तरी यूरोप में एक ही समय में विशेष प्रकार के प्रोटेस्टेंट नैतिक सिद्धांतों के उदय के साथ हुआ|
  • नौकरशाही के अनिवार्य प्रसार के बारे में उनकी टिप्पणियां |

Rationality:

  • Weber agreed with Marx that modern capitalism had become the dominant characteristic of modern industrial society. But for Weber, the originating cause, the fundamental root of this development, was not ‘men making history’ or ‘the class struggle’ but the emergence of a new approach to life based around a new kind of rational outlook.
  • The main intention of the new rationality was to replace vagueness and speculation with precision and calculation.
  • The new rationality was all about controlling the outcomes of action, of eliminating fate and chance, through the application of reason.
  • Weber called the new outlook instrumental rationality because it took the degree to which it enabled social actors to achieve the ends they had identified as its main criteria for judging whether an action was or was not rational.
  • Instrumental rationality was also a ‘universal rationality’ as it affected the way in which decisions to act were made, not just in economic affairs, but across the full spectrum of activity.

तर्कसंगतता :

  • वेबर मार्क्स से सहमत थे कि पूँजीवाद आधुनिक औद्योगिक समाज की प्रमुख विशेषता बन चुका था | किन्तु वेबर के लिए, उत्पत्ति का कारण, इस विकास की बुनियादी जड़, मानव निर्माण का इतिहास अथवा वर्ग संघर्ष नहीं था बल्कि एक नए प्रकार के तर्कसंगत दृष्टिकोण के आधार पर उभरा वाला जीवन के प्रति नया दृष्टिकोण था |
  • नयी तर्कसंगतता का मुख्य उद्देश्य अस्पष्टताओं तथा अटकलों को गणना तथा यथार्थता के द्वारा विस्थापित करना था |
  • नयी तर्कसंगतता कारण के अनुप्रयोग के माध्यम से कार्य के परिणामों को नियंत्रित करने, भाग्य तथा इत्तेफाक को समाप्त करने के बारे में थी |
  • वेबर ने नए दृष्टिकोण को सहायक तर्कसंगतता कहा क्योंकि इसने वह सीमा लिया जिसके लिए इसने सामाजिक कर्ताओं को उन छोरों को प्राप्त करने में सक्षम बना दिया जिनको उन्होंने “कोई कार्य तर्कसंगत है या नहीं” इसकी जांच करने हेतु मुख्य मापदंड के रूप में चिन्हित किया था |
  • सहायक तर्कसंगतता एक सार्वभौमिक तर्कसंगतता भी थी क्योंकि इसने उस प्रक्रिया को प्रभावित किया जिसमें कार्य करने के निर्णय लिए जाते थे, ना केवल आर्थिक मामलों में बल्कि क्रिया के समूचे वर्णक्रम में |

Rationalisation:

  • The term ‘rationalisation’ was used by Weber to describe what happens when the different institutions and practices that surround social action take on the techniques of instrumental rationality.
  • Weber agreed with Marx about the great significance for historical development of developments in the economic sphere, he argued that the massive expansion of the economic sphere as it entered its industrial stage was itself a consequence and not a cause of the spread of the new instrumental rationality.
  • Weber noted that the uptake of instrumental rationality through rationalisation can be seen to be a driving force behind all forms of modernisation in modern society.
  • While factors identified by Marx, such as property relations, class conflict and development in the means of production, play an important role in how, at a lower and more descriptive level of analysis, the specific consequences are worked out, each of these is, according to Weber, an outlet for the underlying urge to become increasingly rational.
  • Recalling Durkheim’s analysis of social solidarity and the new individualism, one might say that the instrumental rationality identified by Weber provides an important source of collective consciousness in modern society. Rationalisation and its consequences regulate the behaviour of social actor and thus contribute to social order.

युक्तिकरण :

  • शब्द “युक्तिकरण ” का इस्तेमाल वेबर के द्वारा इस चीज को परिभाषित करने के लिए किया गया था कि “क्या होता है जब विभिन्न संस्थाएं तथा प्रथाएं जिनसे सामाजिक क्रिया घिरी होती है, सहायक तर्कसंगतता की तकनीक को ग्रहण करती हैं |
  • वेबर ने आर्थिक क्षेत्र के विकास में ऐतिहासिक विकास के प्रमुख महत्व के संबंध  मार्क्स के साथ सहमति व्यक्त की, उन्होंने तर्क दिया कि आर्थिक क्षेत्र का व्यापक विस्तार, इसके औद्योगिक चरण में पंहुचने का स्वयं एक परिणाम था ना  कि नयी औद्योगिक तर्कसंगतता के प्रसार का कारण था |
  • वेबर ने कहा कि युक्तिकरण के माध्यम से सहायक तर्कसंगतता का उदय आधुनिक समाज में आधुनिकीकरण के सभी रूपों के पीछे की एक प्रेरक शक्ति के रूप में देखी जा सकती है |
  • मार्क्स के द्वारा चिन्हित कारक, जैसे कि संपत्ति सम्बन्ध, वर्ग संघर्ष, तथा उत्पादन के साधनों में विकास, विश्लेषण के निम्नतर तथा विवरणात्मक स्तर पर,  किस प्रकार विशिष्ट परिणामों का अर्थ निकाला जाता है, इसमें एक महवपूर्ण भूमिका निभाते हैं | वेबर के अनुसार, इनमें से प्रत्येक तेजी से तर्कसंगत बनने की अन्तर्निहित आवश्यकता के लिए एक बहिर्द्वार हैं |
  • दुर्खीम के सामाजिक एकता और व्यक्तिवाद के विश्लेषण को याद करते हुए, कोई व्यक्ति कह सकता  है कि वेबर के द्वारा चिन्हित तर्कसंगतता आधुनिक समाज में सामूहिक चेतना का एक महत्वपूर्ण स्रोत प्रदान करती है | तर्कसंगतता तथा इसके परिणाम सामाजिक कर्ता के व्यवहार को विनियमित करते हैं तथा इस प्रकार सामाजिक व्यवस्था में योगदान देते हैं |

HCS Sociology 2018 Exam
Formal and substantive rationality:

  • Weber makes a distinction between the rationality of something in terms of how useful it is in a purely practical sense (its formal reality) and how rational it is in terms of the ends it serves (its substantive reality).
  • Ex., It is evident that the industrial division of labour is a more rational way of producing things than feudal agriculture. What is less clear is that whether the decision to apply this type of organisation is entirely rational one given that there is no guarantee that the general quality of life is also bound to improve.
  • For Weber, one of the most difficult challenges of social theory is to account for the judgements social actors make, not so much over the best means for achieving something, but over which ends they feel are worth pursuing.
  • The potential conflict between formal and substantive rationality is itself a consequence of the modernist perspective that emerged from the European Enlightenment. In pre-modernity crucial decisions about ultimate ends simply did not arise because the originating force in the universe as considered was nature or God. Having displaced nature with society and having marginalised the notion of the divine presence with the introduction of a strong concept of human self-determination, social actors in modern society have to make choices that have been created by powerful new technical means at their disposal.
  • Reflecting the instrumentality of the new outlook, Weber felt that as social actors become more and more obsessed with expressing formal rationality by improving the techniques they have for doing things, they become less and less interested in why they are doing them. The connection between means and ends becomes increasingly weakened even to the extent that ends come to be defined in terms of the unquestioned desirability of developing yet more means.
  • Marx had defined social conflict in terms of the struggle for economic resources, Weber added that important struggles also took place between one value system and another. Capitalism dominated modern society not because it is good at developing new techniques for producing things (it expresses very high levels of formal rationality, or, in Marx terms, is very dynamic in developing the means of production) but because it engages sufficiently at the level of ideas for social actors to believe that this is a rational way to proceed.

The rational iron cage:

  • Weber regrets the loss of high ideals and of meaning in existence that results from rationalization.
  • Modern man is trapped in a rational “iron cage of commodities and regulations” and he has lost his humanity. At the same time, he believed that he has achieved the highest stage of development.

औपचारिक तथा मूल तर्कसंगतता :

  • वेबर किसी चीज की तर्कसंगतता के बीच इस संदर्भ में भेद करते हैं कि यह शुद्धतया व्यावहारिक रूप से कितनी उपयोगी है (इसकी औपचारिक वास्तविकता ) तथा जिसे यह सेवा प्रदान करती है, उस छोर के लिए यह कितनी तर्कसंगत (इसकी मूल वास्तविकता )  है |  
  • उदाहरण – यह स्पष्ट है कि श्रम का औद्योगिक विभाजन सामंती कृषि की तुलना में वस्तुओं के उत्पादन का अधिक तर्कसंगत तरीका है | वह चीज जो कम स्पष्ट है वह यह है कि क्या इस तरह की व्यवस्था को लागू करने का निर्णय पूरी तरह से तर्कसंगत निर्णय है अथवा नहीं,  जबकि जीवन की सामान्य गुणवत्ता भी बेहतर होने के लिए बाध्य है |
  • वेबर के लिए, सामाजिक सिद्धांत की सबसे मुश्किल चुनौतियों में से एक सामाजिक कर्ताओं द्वारा लिए गए निर्णयों के प्रति उत्तरदायी होना है, किसी चीज को प्राप्त करने के सर्वोत्तम साधनों के लिए नहीं , बल्कि उन छोरों के प्रति जिनका पीछा करना वे उचित समझते हैं |
  • औपचारिक तथा मूल तर्कसंगतता के बीच का संघर्ष स्वयं आधुनिकतावादी विचारधारा का एक परिणाम है जो यूरोपीय ज्ञान से उभरा है | आधुनिकता के पूर्व अंतिम छोरों के बारे में महत्वपूर्ण विचारों का उदय नहीं हुआ क्योंकि ब्रह्माण्ड में उत्पत्ति की शक्ति के रूप में  प्रकृति या ईश्वर को माना जाता था | समाज द्वारा प्रकृति के विस्थापन तथा मानव आत्म-निर्णय की मजबूत अवधारणा के आगमन के साथ दैवीय उपस्थिति की धारणा को हाशिये पर रखते हुए, आधुनिक समाज में सामाजिक कर्ता को चुनाव करना पड़ता है, जिनका निर्माण उनकी सेवा में नए शक्तिशाली तकनीकी साधनों के द्वारा किया गया है |
  • नए दृष्टिकोण की महत्वपूर्ण भूमिका को दर्शाते हुए, वेबर ने महसूस किया कि चूँकि सामाजिक कर्ता चीजों को करने की तकनीकों में सुधार से औपचारिक तर्कसंगतता को व्यक्त करने की आसक्ति से बहुत ज्यादा युक्त हो जाते हैं, इसलिए वे  उन चीजों को करने के तरीकों में कम से कम रूचि लेते हैं | साधनों तथा छोरों के बीच जुड़ाव तेजी से उस सीमा तक कम हो जाता है की छोरों को विकासशील किन्तु अधिक साधनों की निर्विवाद वांछनीयता के सन्दर्भ में परिभाषित किया जाने लगता है |
  • मार्क्स ने वर्ग संघर्ष को आर्थिक संसाधनों के लिए संघर्ष के रूप में परिभाषित किया था | वेबर ने उसमें जोड़ा कि एक मूल्य प्रणाली तथा दूसरे मूल्य प्रणाली के बीच संघर्ष भी हुए | पूँजीवाद आधुनिक समाज पर इसलिए हावी नहीं हुआ कि यह वस्तुओं के उत्पादन  हेतु नयी तकनीकों को विकसित करने में अच्छा है (यह बेहद उच्च  औपचारिक तर्कसंगतता को अभिव्यक्त करता है, अथवा, मार्क्स के अनुसार यह उत्पादन के साधनों के विकास में बेहद गतिशील है ) बल्कि इसलिए क्योंकि यह सामाजिक कर्ताओं हेतु विचारों के स्तर पर पर्याप्त रूप से संलग्न होता है ताकि वे यह मान लें कि आगे बढ़ने के लिए यह एक तर्कसंगत तरीका है |

तर्कसंगतता का लौह पिंजरा : .

  • वेबर उच्च आदर्शों तथा अस्तित्व में अर्थ की हानि के लिए खेद व्यक्त करते हैं, जो युक्तिकरण के परिणामस्वरूप होता है |
  • आधुनिक व्यक्ति वस्तुओं तथा नियमों के एक तर्कसंगत लौह पिंजरे में फंसा हुआ है तथा उसने अपनी मानवता खो दी है | इसी समय, वह मानता था कि उसने विकास की सबसे ऊँची अवस्था को प्राप्त कर लिया है |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

Industrial Revolution

Competition in trade and rise of Imperialism:

Tariff Barriers:

  • As England was the first country where industries developed, she gained almost complete control over world markets.
  • Even when people in other countries began to use machines they found they could not compete with England’s low prices.
  • Governments passed laws that required the payment of such a High tax on imported British manufactures that similar products made locally sold more as they were cheaper.
  • The levy of tariffs to protect new industries became a widespread practice.

Consequences of Industrialisation

  • Before the Industrial Revolution, most of the population of the world lived in villages and was dependent on agriculture.
  • Almost all economic needs of man were met within the village itself.
  • The towns and Cities that had arisen since the beginning of civilization were, centres of craft and of political and administrative control.

Positive impact of Industrialisation

  • The Industrial Revolution brought countries and peoples together.
  • Industrial Revolution created an international consciousness among peoples because the developments in one place began to influence the developments in other places.

Condition of industrial workers:

  • The Industrial Revolution produced a vast number of landless, toolless workers, who were wholly dependent on an employer.
  • They had to accept whatever wage the employer offered, for there were usually more workers than jobs.
  • Women and children were employed even in mines because they could be hired for less money.
  • Often they had to work from 15 to 18 hours a day with no rest periods.

HCS Prelims Mains 2018

व्यापार में प्रतिस्पर्धा तथा साम्राज्यवाद का उदय :

प्रशुल्क बाधाएँ :

  • चूँकि इंग्लैंड पहला देश था जहाँ उद्योगों का विकास हुआ, इसलिए उसने पूरे विश्व के बाज़ारों पर लगभग पूरी पकड़ बना ली |
  • यहाँ तक कि जब अन्य देशों के लोगों ने मशीनों का प्रयोग करना शुरू किया तो उन्होंने पाया कि वे इंग्लैंड की कम कीमतों का मुकाबला नहीं कर सकते हैं |
  • सरकारों ने  उन कानूनों को पारित किया जिनके तहत आयातित ब्रिटिश वस्तुओं पर उच्च कर के भुगतान को आवश्यक बनाया गया ताकि स्थानीय स्तर पर उत्पादित समरूप वस्तुओं को सस्ती होने के कारण  अधिक बेचा जा सके |
  • नए उद्योगों को संरक्षित करने के लिए प्रशुल्क उगाही का कार्य एक व्यापक चलन बन गया |

औद्योगीकरण के परिणाम

  • औद्योगिक क्रांति के पहले, विश्व की आबादी गाँवों में रहती थी तथा कृषि पर निर्भर थी |
  • मनुष्य की लगभग सभी आर्थिक आवश्यकताएँ गाँव में ही पूरी हो जाती थीं |
  • शहर तथा कस्बे जिनका उदय सभ्यता की शुरुआत से हुआ था, वे शिल्प तथा राजनीतिक एवं प्रशासनिक नियंत्रण के केंद्र थे |

औद्योगीकरण के सकारात्मक प्रभाव

  • औद्योगिक क्रांति लोगों तथा विभिन्न राष्ट्रों  को एकसाथ लेकर आयी|
  • औद्योगिक क्रांति ने लोगों के बीच  अंतर्राष्ट्रीय चेतना का निर्माण किया क्योंकि एक स्थान पर हुए विकास ने अन्य स्थानों पर विकास को प्रभावित किया |

औद्योगिक श्रमिकों की हालत :

  • औद्योगिक क्रांति ने बड़ी संख्या में भूमिहीन, साधनहीन  श्रमिकों को जन्म दिया जो पूरी तरह से नियोक्ता पर निर्भर थे |
  • नियोक्ता जो भी मजूदरी देता था, उन्हें स्वीकार करना पड़ता था, क्योंकि नौकरियों से अधिक संख्या श्रमिकों की थी |
  • महिलाओं तथा बच्चों से यहाँ तक कि खानों में भी काम करवाया जाता था क्योंकि उन्हें कम पैसे देकर काम पर रखा जा सकता था |
  • अक्सर उन्हें बिना किसी विश्राम अवधि के 15 से 18 घंटे काम करना पड़ता था |

Efforts to improve working conditions in industry

Labour Laws

  • A few humanitarian reformers and some landowners who were jealous of big businessmen combined with English workers to get the first laws to improve conditions of work.   
  • In 1802, England passed its first Factory Act, limiting the hours of work for children to twelve a day.

Trade Unions

  • Many of the laws to protect workers have been due to the pressure from workers’ trade unions.
  • When the English workers first formed trade unions, employers called them ‘unlawful combinations’ and laws were passed to curb such ‘evils’.

Right to vote:

  • English industrial workers did not have the right to vote in those days.
  • In the thirties and forties of the 19th century, a movement known as the ‘Chartist Movement‘, was launched to get the right of vote for workers.
  • Though the movement declined by the fifties of the 19th century, left its influence and through the Acts of 1867, 1882, 1918 and 1929 all adult citizens were enfranchised.

Government responsibility and Industrialisation

Laissez-faire

  • Protection for industrial workers could not have taken place without a change in the ideas of the responsibilities of governments.
  • When the Industrial Revolution was gaining strength in England and the same was generally true in other countries, the growing belief was that governments should not interfere with business and industry.

उद्योग में कार्यकारी परिस्थितियों को सुधारने के प्रयास :

श्रमिकों के लिए नियम

  • कुछ मानवीय सुधारक और कुछ जमींदार जो बड़े व्यवसायियों से ईर्ष्या करते थे, वे स्थानीय मजदूरों के साथ मिलकर काम की स्थिति में सुधार के लिए पहला कानून पारित करवाना चाहते थे |
  • 1802 में, इंग्लैंड में प्रथम कारखाना अधिनियम पारित किया गया, जिसमें बच्चों के कार्य के घंटे एक दिन में बारह तक सीमित कर दिए |

ट्रेड यूनियन

  • श्रमिकों की सुरक्षा वाले कई क़ानून श्रमिकों के ट्रेड यूनियन के तरफ से दबाव की वजह से बनाए गए थे|
  • जब अंग्रेज श्रमिकों ने पहली बार ट्रेड यूनियन बनाया, तब नियोक्ताओं ने उन्हें गैर-कानूनी संगठन कहा तथा इस तरह की बुराइयों को नियंत्रित करने के लिए कई क़ानून पारित किये गए |

मतदान का अधिकार :

  • अंग्रेज औद्योगिक श्रमिकों के पास उन दिनों वोट डालने का अधिकार नहीं था |
  • 19वीं शताब्दी के 30 एवं 40 के दशक में, श्रमिकों के लिए मतदान का अधिकार प्राप्त करने के उद्देश्य से एक आंदोलन की शुरुआत की गयी जिसे चार्टर आंदोलन के रूप में जाना गया |
  • हालाँकि उन्नीसवीं शताब्दी के 50वें दशक में यह आंदोलन समाप्त हो गया किंतु इसके प्रभावस्वरूप 1867, 1882, 1918 तथा 1929 के अधिनियमों के द्वारा सभी वयस्क नागरिकों को मताधिकार दे दिया गया

सरकार की जिम्मेदारी तथा औद्योगीकरण

अहस्तक्षेप (बीच में ना आने की नीति )

  • सरकार की जिम्मेदारियों के विचारों में परिवर्तन के बिना औद्योगिक श्रमिकों का संरक्षण नहीं किया जा सकता था |
  • जब औद्यगिक क्रांति इंग्लैंड में मजबूत हो रही थी तथा अन्य देशों में भी सामान्यतः ऐसा ही हो रहा था तो, उभरती हुई  मान्यता यह थी कि सरकार को व्यापार तथा उद्योग में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए |

Developments in Europe and America in the 18th and 19th century:

  • The basic features of these developments were the growth of democratic political systems, nationalism and socialism.
  • These developments began first in certain parts of Europe.
  • Since then, particularly from the 19th century, the establishment of democratic political systems and of independent states based on nationalism have been among the primary aims of peoples the world over.

Revolutionary and Nationalist movements

Feudalism to Nation states:

  • Under feudalism, societies were divided into classes some of which were privileged while the others were exploited.
  • A man’s entire life was determined at the time of his birth, depending on the class into which he was born.
  • Two main classes in the feudal society were feudal lords and serfs.
  • The political systems of the time were also determined by the prevailing social and economic system.

Middle class:

  • In economic life, this class gradually became very important.
  • However, it was obstructed in its growth by the outdated political systems based on privilege.
  • It could grow only if it also held the political power.

Working class:

  • This class also was opposed to the autocratic political systems.
  • Serfdom had declined in some countries but in most other countries of Europe, it was still the dominant feature of the social system.
  • There were many revolts of the serfs but they were suppressed.
  • However, during the period from the 17th to the 19th centuries, there arose movements in different parts of Europe to overthrow the existing political systems.

18वीं तथा 19वीं शताब्दी में अमेरिका तथा यूरोप में विकास :

  • इस विकास की बुनियादी विशेषताएँ लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रणालियों, राष्ट्रवाद तथा समाजवाद का विकास थीं |
  • ये घटनाक्रम  पहले यूरोप के कुछ हिस्सों में शुरू हुआ |  
  • तब से, विशेष रूप से 19वीं शताब्दी से, लोकतांत्रिक राजनीतिक व्यवस्था तथा राष्ट्रवाद आधारित स्वतंत्र राज्यों की स्थापना पूरे विश्व के लोगों के प्रमुख उद्देश्यों में शामिल थी |

सामंतवाद से राज्यों तक :

  • सामंतवाद के अंतर्गत समाज वर्गों में विभाजित था जिसमें से कुछ वर्ग के पास विशेषाधिकार होते थे, जबकि अन्य वर्ग शोषित थे |  
  • व्यक्ति का पूरा जीवन उसके जन्म के समय निर्धारित हो जाता था , जो इस बात पर निर्भर करती था  कि उसका जन्म किस वर्ग में हुआ है |
  • सामंतवादी समाज में दो प्रमुख वर्ग – सामंत तथा दास थे |
  • उस समय की राजनीतिक व्यवस्थायें भी प्रचलित सामाजिक तथा आर्थिक व्यवस्था द्वारा निर्धारित की जाती थीं |

मध्य वर्ग :

  • आर्थिक जीवन में, वर्ग धीरे-धीरे बहुत महत्वपूर्ण हो गया |
  • लेकिन, विशेषाधिकार पर आधारित पुरानी राजनीतिक व्यवस्थाओं ने इसकी उत्पत्ति में बाधाएँ उत्पन्न की |
  • इसका विकास केवल तभी हो सकता था जब इसके पास भी राजनीतिक सत्ता होती |

श्रमिक वर्ग:

  • यह वर्ग भी निरंकुश एकतंत्रीय राजनीतिक व्यवस्था के खिलाफ था |
  • कुछ देशों में दासत्व की समाप्ति हो गयी किंतु यूरोप के अधिकांश अन्य देशों में, यह अभी भी सामाजिक व्यवस्था की प्रभावी विशेषता बना हुआ था |
  • गुलामों ने कई विद्रोह किये किंतु उनका दमन कर दिया गया |
  • लेकिन, 17वीं से 19वीं शताब्दी की अवधि के दौरान, यूरोप के विभिन्न भागों में वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था को उखाड़ फेंकने  के लिए कई आंदोलन हुए |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Geography Study Material || HCS (Prelims+Mains+Interview)- 2018

HCS Geography Study Material || HCS (Prelims+Mains+Interview)- 2018

HCS Geography Study Material || HCS (Prelims+Mains+Interview)- 2018

Climatic Region of the World

Mediterranean type region

Distribution

  • Entirely confined to the western portion of continental masses, between 30° and 45° north and south of the equator.
  • Mediterranean Sea has the greatest extent of this type of ‘winter rain climate’, and gives rise to the name Mediterranean Climate.
  • The best developed form of this climatic type is found in central Chile.

Climate

  • Annual precipitation range= 35 – 90 cm.
  • The Mediterranean lands receive most of their precipitation in winter when the Westerlies shift equator wards.
  • In the northern hemisphere, the prevailing onshore Westerlies bring much cyclonic rain from the Atlantic (Typical to Mediterranean Climate).

Vegetation:

  • Small broad leave trees
  • Known as world’s orchard lands.
  • A wide range of citrus fruits (oranges, lemons, limes, and grapefruit) are grown.
  • The olive tree is probably the most typical of all Mediterranean cultivated vegetation.
  • The mountain pastures, with their cooler climate, support a few sheep, goats and sometimes cattle.

China type region

  • China Type climate is observed in most parts of China. The climate is also observed in southern parts of Japan.

Climate:

  • Intense heating within interiors sets up a region of low pressure in summer attracting tropical Pacific air stream (South-East Monsoon).
  • Monsoon does not ‘burst’ as suddenly, nor ‘pour’ as heavily as in India.

HCS Geography Study Material

भूमध्य प्रकार के क्षेत्र

वितरण

  • ये महाद्वीपों के पश्चिमी भागों तक ही सिमित है जो भूमध्य रेखा के 30 ° और 45 ° उत्तर और दक्षिण के मध्य स्थित है |
  • भूमध्य सागर में इस प्रकार की ‘सर्दियों की वर्षा जलवायु’ अधिक सीमा होती है ,इसे भूमध्य सागरीय जलवायु भी कहा जाता है |
  • इस प्रकार की उत्तम विकसित जलवायु मध्य चिली में पाई जाती है |

जलवायु

  • वार्षिक वर्षण सीमा  = 35 – 90 cm
  • भूमध्यसागरीय क्षेत्रों में अधिकांश वर्षा सर्दियों में होती है इस समय पच्छमी हवा विषुवत रेखा की ओर स्थान्तरित हो जाती है |
  • उत्तरी गोलार्ध में, तटीय पच्छमी हवा अटलांटिक से चक्रवातीय वर्षा लाती है (भूमध्यसागरीय जलवायु के लिए विशिष्ट)

वनस्पति:

  • चौड़े पत्तों वाले छोटे वृक्ष
  • इन्हे विश्व की बागान भूमि के रूप में जाना जाता है |
  • खट्टे फलों की एक विस्तृत श्रृंखला (संतरे ,नींबू, हरे नीबू और चिकोतरा) उगाई जाती हैं।
  • जैतून का पेड़ सम्भवतः भूमध्यसागरीय क्षेत्रों में उगाई जाने वाली वनस्पति में सबसे विशिष्ट है।
  • पहाड़ी चरागाह जिनकी जलवायु ठंडी होती है कुछ हद तक भेड़, बकरियों और मवेशियों को आश्रय प्रदान करते है |

चीन प्रकार के क्षेत्र

  • चीन प्रकार की जलवायु चीन के अधिकांश तथा जापान के दक्षिणी हिस्सों में देखी जा सकती है |

जलवायु:

  • आंतरिक भागों में तीव्र ताप गर्मी को अपनी ओर खींचने वाली उष्णकटिबंधीय प्रशांत वायु प्रवाह एक निम्न स्तरीय दाब क्षेत्र बना देती है |
  • मानसून अचानक से प्रस्फोट नहीं करता है ना ही मूसलधार बारिश होती है जैसी भारत में होती है |

British type region

Distribution:

  • This type of climate is typical to Britain, hence the name ‘British Type’.
  • Also called as North-West European Maritime Climate due to greater oceanic influence
  • The cool temperate western margins are under the influence of the Westerlies all-round the year.
  • There is a tendency towards an autumn or winter maximum of rainfall.

Climate

  • Moderately warm summers and fairly mild winters because of the warming effect brought by warm North Atlantic Drift.
  • The mean annual temperatures are usually between 5° C and 15° C.
  • The British type of climate has adequate rainfall throughout the year .

Taiga climate

Distribution:

  • Found only in the northern hemisphere (due to great east-west extent).     Experienced in the regions just below Arctic circle.
  • Stretches along a continuous belt across central Canada, some parts of Scandinavian Europe and most of central and southern Russian.
  • Absent in Southern Hemisphere because of Narrowness of the southern continents in the high latitudes.

Climate:

  • Summers are brief and warm reaching 20-25 °C whereas winters are long and brutally cold – always 30-40 °C below freezing.
  • In North America, the extremes are less severe, because of the continent’s lesser east-west stretch.
  • All over Russia, nearly all the rivers are frozen.
  • Maritime influence in the interiors is absent.

ब्रिटिश प्रकार के क्षेत्र

वितरण:

  • इस प्रकार की जलवायु  विशिष्ट रूप से ब्रिटेन में पाई जाती है इसलिए इन्हे “ब्रिटिश प्रकार ” की जलवायु भी कहा जाता है |
  • इन्हे अधिक महासागर प्रभाव के कारण उत्तर-पश्चिम यूरोपीय समुद्री जलवायु भी कहा जाता है |
  • ठंडी समशीतोष्ण पश्चिमी सीमाएं पुरे वर्ष पच्छमी हवा के प्रभाव में रहती है |
  • इनकी प्रवृत्ति पतझड़ अथवा अधिकतम वर्षा वाली सर्दी होती है |

जलवायु

  • गर्म उत्तरी अटलांटिक प्रवाह के प्रभाव के कारण  औसत दर्जे की उष्ण गर्मी एवं साफ़ मध्यम सर्दी होती है |
  • औसत वार्षिक तापमान आमतौर पर 5 डिग्री सेल्सियस और 15 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है
  • पूरे वर्ष के दौरान ब्रिटिश प्रकार की जलवायु में पर्याप्त वर्षा होती है।

ताइगा जलवायु

वितरण:

  • यह जलवायु केवल उत्तरी गोलार्ध में पाई जाती है  (पूर्व-पश्चिम के विशाल फैलाव के कारण ) आर्कटिक वृत्त  के ठीक नीचे स्थित क्षेत्रों में पाई जाती है |
  • यह मध्य कनाडा ,स्कैण्डिनेवियाई यूरोप,मध्य एवं दक्षिणी रूस की निरंतर पट्टियों पर पाई जाती है |
  • ये दक्षिणी गोलार्ध में नहीं पाई जाती है,जिसका कारण उच्च अक्षांशों में दक्षिणी महाद्वीपों की संकीर्णता है |

जलवायु:

  • गर्मियां छोटी होती है तथा तापमान 20-25 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है जबकि सर्दियां लम्बी तथा तीव्र ठंड वाली होती है |
  • उत्तरी अमेरिका में,चरम सीमाएं बहुत कम तीव्र  होती है जिसका कारण महाद्वीप का पूर्व-पश्चिम की और कम फैलाव है |
  • रूस में लगभग सारी नदियां जमी होती है |
  • आंतरिक भागों में समुद्री प्रभाव अनुपस्थित होता है

Laurentian climate

Distribution

  • Laurentian type of climate is found only in two regions and that too only in the northern hemisphere.

Climate:

  • Characterized by cold, dry winters and warm, wet summers.
  • Winter temperatures is below freezing-point and snowfall is quite natural.
  • Summers are as warm as the tropics (~25 °C).

Tundra climate

Distribution:

  • Found in regions north of the Arctic Circle and south of Antarctic Circle.
  • The lowlands – coastal strip of Greenland, the barren grounds of northern Canada and Alaska and the Arctic seaboard of Eurasia, have tundra climate.

Climate:

  • Very low mean annual temperature.
  • In mid-winter temperatures are as low as 40 – 50 °C below freezing.
  • Summers are relatively warmer.

लॉरेंटियन जलवायु

वितरण

  • लॉरेंटियन प्रकार की जलवायु केवल दो क्षेत्रों में पाई जाती है और ये दोनों क्षेत्र केवल उत्तरी गोलार्ध में है।

जलवायु:

  • यहाँ जलवायु ठंडी,शुष्क सर्दी तथा गर्म, आर्द्र ग्रीष्म होती है |
  • सर्दी का तापमान हिमांक से नीचे होता है तथा हिमपात स्वाभाविक होता है |
  • यहाँ की गर्मी उष्णकटिबंधीय  क्षेत्रों की भांति ही गर्म (~25 °C) होती है |

टुंड्रा जलवायु

वितरण:

  • ये आर्कटिक वृत के उत्तर तथा अंटार्कटिक वृत के दक्षिण में पाए जाते है |
  • निम्न क्षेत्र -ग्रीनलैंड की तटीय पट्टी, उत्तरी कनाडा और अलास्का की बंजर भूमि, यूरेशिया के आर्कटिक समुद्र तट की जलवायु टुंड्रा है |

जलवायु:

  • औसत वार्षिक तापमान बहुत कम है ।
  • सर्दियों के मध्य में तापमान 40 से 50 डिग्री सेल्सियस होता है यह तापमान हिमांक से नीचे होता है |
  • ग्रीष्मकाल अपेक्षाकृत गर्म होता हैं|

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Notes – Prelims Mains Complete Study Notes (History) | 2018

HCS Notes – Prelims Mains Complete Study Notes (History) | 2018

HCS Notes – Prelims Mains Complete Study Notes (History) | 2018

Industrial Revolution

Factors which led to Industrial Revolution and increased the demand of manufactured goods:

  • Decline of feudalism as an economic system towards the end of the middle Ages.
  • Renaissance and other developments.
  • The rise of towns and cities and the growth in trade .
  • Increase in the demand for goods which previously had been considered luxury goods and desire for many new goods also.

Capitalism

The new system of society which had been emerging in Europe from the 15th century is called capitalism.

Characteristics of Capitalism:

  • The instruments and the means by which goods are produced are owned by private individuals and the production is carried out for making profit.
  • The workers under this system do not own anything but work for a wage.
  • The owners of wealth who are called capitalists do not keep their wealth or consume it or use it for purposes of display but invest it to make profit.

Feudalism vs Capitalism

  • Economic life under feudalism was static as goods were produced for local consumption and there was no incentive to produce more by employing better means of producing goods for a bigger market.
  • Economic life under capitalism was fast moving with the aim of producing more and more goods for bigger markets so that more profits could be made.

HCS Notes

औद्योगिक क्रांति

वे कारक जिन्होंने औद्योगिक क्रांति को जन्म दिया व विनिर्मित वस्तुओं की मांग में वृद्धि हुई :

  • मध्य युग के अंत में आर्थिक प्रणाली के रूप में सामंतवाद का पतन |
  • पुनर्जागरण व अन्य विकास |
  • शहरों व कस्बों का उदय व व्यापार में वृद्धि |
  • उन वस्तुओं की मांग में वृद्धि जिसे पहले से ऐशोआराम की वस्तु समझा जाता था और अन्य वस्तुओं की भी मांग में वृद्धि |

पूंजीवाद

  • यूरोप में समाज की नई व्यवस्था जिसकी शुरुआत 15वीं शताब्दी में हुई पूंजीवाद कहलाई |

पूंजीवाद की विशेषताएं :

  • वे माध्यम व उपाय जिनके द्वारा वस्तुओं का उत्पादन किया जाता है, उनका स्वामित्व निजी व्यक्तियों के हाथ में होता है व उत्पादन का उद्देश्य लाभ कमाना होता है|
  • इस व्यवस्था में कार्यरत श्रमिकों को और कुछ नहीं सिर्फ उनकी मजदूरी प्राप्त होती है |
  • धन के स्वामी जिन्हें पूंजीपति कहा जाता है, वे अपने धन को न तो रखते हैं या न इसका उपभोग करते हैं या प्रदर्शनी के उद्देश्य के लिए इसका उपयोग नहीं करते हैं बल्कि लाभ कमाने के लिए उसका निवेश करते हैं |

सामंतवाद एवं  पूंजीवाद

  • सामंतवाद के तहत आर्थिक जीवन स्थिर था क्योंकि वस्तुओं का प्रयोग स्थानीय उपभोग के लिए किया जाता था और इसके अलावा बड़े बाजार के लिए वस्तुओं के उत्पादन के बेहतर तरीकों का प्रयोग कर अधिक उत्पादन के लिए कोई भी तरीका नहीं था |
  • पूंजीवाद में आर्थिक जीवन बड़ी तेज़ी से गति करता है जिसका एकमात्र उद्देश्य बड़े बाजारों के लिए वस्तुएं बनाकर अधिक से अधिक लाभ कमाना होता है |

Why Industrial Revolution started in England?

England in the 18th century was in the most favorable position for an industrial revolution, Because of following reasons:

1. Large trades:

  • Through her overseas trade, including trade in slaves, she had accumulated vast profits which could provide the necessary capital.

2. Colonisation:

  • She had acquired colonies which ensured a regular supply of raw materials.

3. Enclosure movement:

  • It had begun in the 18th century.
  • Big land-owners wanted consolidate their large land-holdings.

Transport revolution

Railways:

  • 1814: George Stephenson developed  steam engine to haul coal from mines to ports by railways.
  • 1830: the first railway train began to carry passengers and freight from liverpool to Manchester.
  • These events were followed by a great wave of railroad construction in England and the United States.

Postal revolution:

  • Improved transportation helped in carrying messages as well as people and goods.
  • Rowland Hill’s idea of the penny post-fast and cheap communication by letter-began to operate in England in the early 19th century.
  • Soon it was adopted in other countries, including India.
  • People could thus send letters to and from all parts of the country at the same low rate regardless of the distance.

औद्योगिक क्रांति की शुरुआत इंग्लैंड में ही क्यों हुई ?

निम्नलिखित कारणों से 18वीं शताब्दी में इंग्लैंड में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत के लिए अनुरूप परिस्थितियाँ थी :

1. बड़े व्यापार :

  • गुलामों के व्यापार सहित अपने विदेशी व्यापार से इंग्लैंड ने काफी धन जमा कर लिया था जो उसे अनिवार्य पूंजी प्रदान कर सकता था |

2. औपनिवेशीकरण :

  • इसके कब्जे में कई सारे उपनिवेश थे जिसने कच्चे सामग्रियों की एक नियमित पूर्ति को सुनिश्चित किया |

3. बाड़ाबंदी आंदोलन

  • यह 18वीं शताब्दी में प्रारंभ हुआ |
  • बड़े भूमि-स्वामी अपने विशाल अधिगृहित-भूमियों को संघटित करना चाहते थे |

परिवहन क्रांति

रेलवे :

  • 1814 : जॉर्ज स्टीफनसन ने खदानों से बंदरगाहों तक रेलवे द्वारा कोयले की ढुलाई के लिए वाष्प इंजन को विकसित किया |
  • 1830 : लिवरपूल से मेनचेस्टर तक यात्रियों व सामानों को ले जाने वाली पहली रेलगाड़ी प्रारंभ हुई
  • इन घटनाओं के साथ ही साथ इंग्लैंड व यूनाइटेड स्टेट्स में रेल एवं सड़क के निर्माण की एक बाढ़ से आ गई |

डाक क्रांति :

  • बेहतर आवागमन ने लोगों व वस्तुओं के साथ साथ संदेशों के आवागमन में भी सहायता की |
  • रोलैंड हिल की  पैनी पोस्ट की अवधारणा जिसमे बहुत ही तीव्रता से और कम लागत में संदेश भेजा जा सकता था, 19वीं सदी के प्रारंभ में इंग्लैंड में अस्तित्व में आई |
  • जल्द ही भारत सहित अन्य देशों में भी इसे अपनाया गया |
  • लोग अब सुदूर क्षेत्रों में भी देश के किसी भी कोने से कम लागत में अपना पत्र भेज सकते थे |

Agriculture revolution

Farm Mechanization:

  • The revolution in agriculture in fact had started before the Industrial Revolution.
  • There were changes in farming methods to produce more food, and to produce cash crops for the market and raw materials for industries.

Industrial Revolution in Other countries:

  • In the continent of Europe, the Industrial Revolution began to make some headway after 1815, after the defeat of Napoleon and the end of 23 years of war.
  • Then machines were introduced in France, Belgium, Switzerland and Germany.

France:

  • By 1850, was developing the iron industry though it had to import both iron ore and coal.

Germany:

  • It had, by 1865, occupied second place as a producer of steel, but with England far ahead in the lead.
  • After a late start, Germany’s industrial development took an amazing leap after 1870 when the German states were finally welded into one nation.

Russia:

  • It was the last of the big European powers to have an industrial revolution.
  • It was rich in mineral resources but lacked capital and free labour.

कृषि क्रांति :

फार्म मैकेनाइजेशन :

  • कृषि क्रांति की शुरुआत तो औद्योगिक क्रांति से पहले ही हो गई थी |
  • अधिक खाद्यान्नों के उत्पादन के लिए, बाजारों के लिए नकदी फसलों हेतु व उद्योगों के लिए कच्चे माल हेतु कृषि तरीकों में परिवर्तन किये गए थे |

अन्य देशों में औद्योगिक क्रांति :

  • यूरोप महाद्वीप में 1815 के कुछ समय बाद 23 वर्षों की लड़ाई और नेपोलियन की हार के बाद औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हो गई |
  • उसके बाद फ्रांस, बेल्जियम, स्विट्ज़रलैंड और जर्मनी में मशीनों की शुरुआत हो गई |

फ्रांस :

  • 1850 तक फ्रांस  लौह उद्योग को विकसित कर रहा था हालाँकि इसे लौह अयस्क व कोयला दोनों का आयात करना पड़ रहा था |

जर्मनी :

  • 1865 तक इसने स्टील उत्पादक के रूप में दूसरा स्थान प्राप्त कर लिया, लेकिन इंग्लैंड बहुत ज्यादा उत्पादन के साथ प्रथम स्थान पर था |
  • बहुत समय बाद, 1870 के बाद जर्मनी के औद्योगिक क्रांति ने तब एक अद्भुत छलांग लगाईं जब जर्मन राज्यों ने एक राष्ट्र का रूप ले लिया |

रूस :

  • यूरोपीय शक्तियों में यह अंतिम राष्ट्र था जिसमें औद्योगिक क्रांति की शुरुआत हुई |
  • यह खनिज संसाधनों में काफी संपन्न था लेकिन इसके पास पूंजी व  श्रमिकों की कमी थी |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS 2018 Online Exam | Sociology Max Weber – Social action, Ideal types Study Notes

HCS 2018 Online Exam | Sociology Max Weber – Social action, Ideal types Study Notes

HCS 2018 Online Exam | Sociology Max Weber – Social action, Ideal types Study Notes

Max Weber:-

Max Weber (1864 – 1920):

  • Weber is accused of producing bourgeois social theory as opposed to the proletarian social theory of Marx. He came from a wealthy established family, and thus had the benefits of a privileged education and good social and career prospects.
  • Weber worked in a society in which the dominant political issue was the decline of the liberal, Protestant and highly individualistic attitude of the established middle class, and the emergence of an authoritarian, militarised, bureaucratic regime that accompanied the rise of the ‘new Germany’.
  • For Weber and many of his contemporaries, the demise of traditional liberal values of personal responsibility and autonomy, and their replacement with a much more paternalistic notion of national service, was a matter of great concern.
  • Weber become involved in the heated discussions about the role of social-scientific study, and the difference between this and the natural sciences, taking place in Germany around 1900. These philosophical debates began with the revival of one of the old chestnuts of philosophy and social theory, which is the distinction between empirical knowledge and rational knowledge.

मैक्स वेबर:-

मैक्स वेबर (1864-1920) :

  • वेबर को मार्क्स के श्रमिक सामाजिक सिद्धांत के खिलाफ पूंजीवादी सामाजिक सिद्धांत को प्रतिपादित करने का आरोपी माना जाता है  | वह एक स्थापित धनी परिवार से थे और इस प्रकार उनके पास एक अच्छी शिक्षा का लाभ था और अच्छे सामाजिक व करियर संभावनाओं का भी |
  • वेबर एक ऐसे समाज में कार्य करते थे जिसमें स्थापित मध्यवर्ती वर्ग के उदारवादी, प्रतिवादी व अत्यधिक व्यक्तिगत रवैया और एक सत्तावादी, सैन्य, नौकरशाह शासन का उदय, जिससे ‘नए जर्मनी’ का उदय हुआ, महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दा था |
  • वेबर और उनके समकालीनों के लिए व्यक्तिगत दायित्व व स्वायत्तता के पारंपरिक उदारवादी मूल्यों की समाप्ति और राष्ट्रीय सेवा के एक अधिक पैतृक धारणा के साथ उन्हें बदलना एक अधिक चिंता का विषय था |
  • वेबर सामाजिक-वैज्ञानिक अध्ययन के भूमिका के महत्वपूर्ण चर्चा में शामिल हुए, और इस व प्राकृतिक विज्ञानों के बीच अंतर 1900 के आसपास जर्मनी में आने लगा था | इन दार्शनिक वादों की शुरुआत दर्शन और सामाजिक सिद्धांत के एक पुराने सुर्खी के पुनर्जीवन के साथ हुई, जो कि अनुभवजन्य ज्ञान विवेकी ज्ञान के बीच अंतर है |

Immanuel Kant (1724 – 1804):

  • A German philosopher, Immanuel Kant argued that while knowledge of the real world was something that comes through our physical senses, it can only be made sense of once this information has been structured and organised by the mind. Kant’s position is dualistic because he accepts the necessary combination of sense perception and cognitive reason. Hegel is monistic as he emphasises the absolute primacy of intellectual reason alone.
  • Kant tried to reconcile his rationalist view with the strict objectivism and empiricism of John Locke (1632 – 1704) and David Hume (1711 – 1796) who argued that all our ideas and concepts, including both physical sensations and intellectual reflections, are derived from practical experience of the world around us and not from pre-existing capacities of the human mind. From an empiricist viewpoint, there cannot be any knowledge or consciousness until after we have had physical contact with the material world around us. This dispute over 2 kinds of knowledge is useful to study the nature of social-scientific knowledge.
  • Kant argued that the free individual was intuitively capable of moral self-direction. As natural objects, the behaviours of individuals could be investigated according to the same scientific methodologies that would be appropriate for any natural object. As moral subjects, individuals are not part of the natural world, for God has given the individual free choice to act in either a moral or an immoral fashion. A civilized society is one that encourages individuals to act morally. But society cannot deterministically generate morality because moral action is always an outcome of free will.
  • The Kantian emphasis on the dualism of the individual – the view of man as both natural object and moral subject – strongly influenced Simmel and Weber. For Simmel and Weber, sociology, unlike biology or chemistry, had to come to terms with the fact that, to some extent, the individual was not, and could not be, constrained by determinate laws.
  • The younger followers of Kant or ‘neo- Kantians’, and other interested including Weber, turned their attention to –

(a) They wanted to challenge the idea that the kind of knowledge generated by the natural sciences was the only kind of knowledge available.

(b) They wanted to show that the 2 kinds of science had to be different because they were looking at two fundamentally different kinds of phenomena.

(c) If these points are valid, then it was obvious that 2 distinct methodologies were required to investigate them.

Methodenstreit:

  • The philosophical debates between the positivists and anti-positivists, which began in Germany in the latter part of the 19th century, are known as Methodenstreit.

इम्मानुअल कान्त (1724-1804) :

  • एक जर्मन दार्शनिक, इम्मानुअल कान्त का तर्क था कि जहाँ वास्तविक दुनिया का ज्ञान वह था जो हमारे भौतिक बोध द्वारा आता था, इसे सिर्फ एक बार का बोध तभी बनाया जा सकता था यदि इस सूचना की सरंचना और संगठन मन द्वारा किया जाता हो | कान्त का पद द्वैतवादी है क्योंकि वह संवेदन बोध व ज्ञान-सम्बन्धी तर्क के अनिवार्य मेल को स्वीकारते हैं | हेगल मोनिस्टिक है क्योंकि वह सिर्फ बौद्धिक तर्क के निरपेक्ष उत्कृष्टता पर जोर डालते हैं |
  • कान्त ने अपने तर्कवादी दृष्टिकोण को जॉन लॉक (1632 – 1704) और डेविड ह्यूम (1711 – 1796) के निष्पक्षतावाद और अनुभवजन्यवाद से मिलाने की कोशिश की जिनका तर्क यह था कि हमारे सभी विचार और धारणाएं, भौतिक संवेदनाएं और बौद्धिक मीमांसाएँ दोनों सहित, हमारे आसपास के विश्व के व्यावहारिक अनुभव से प्राप्त होते हैं न कि मानव मन के पूर्व-मौजूदा क्षमताओं से | एक अनुभववादी दृष्टिकोण से कोई ज्ञान या चेतना नहीं हो सकती जब तक कि हमारे आसपास के भौतिक विश्व के साथ हमारी भौतिक संपर्क न हो | ज्ञान के 2 प्रकार के बीच यह विवाद सामाजिक -वैज्ञानिक ज्ञान के प्रकृति के अध्ययन के लिए उपयोगी है |
  • कान्त का तर्क था कि स्वतन्त्र व्यक्ति नैतिक स्व-निर्देश के लिए सहज रूप से समर्थ था | प्राकृतिक वस्तुओं की तरह व्यक्तयों के व्यवहार का भी समान वैज्ञानिक प्रणाली के अनुसार परीक्षण किया जा सकता है जो कि किसी अन्य प्राकृतिक वस्तु के लिए उचित होती | नैतिक विषयों के रूप में, व्यक्ति प्राकृतिक विश्व का हिस्सा नहीं है, क्योंकि ईश्वर ने व्यक्ति को किसी नैतिक या अनैतिक रूप से कार्य करने के लिए स्वतन्त्र विकल्प दिया है | एक सभ्यात्मक समाज वह है जो व्यक्तियों को नैतिक रूप से कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करे | लेकिन समाज निर्धारणात्मक नैतिकता का निर्माण नहीं कर सकता क्योंकि नैतिक कार्य स्वतन्त्र इच्छा का परिणाम है |
  • व्यक्ति के द्वैतामक  – इंसान का प्राकृतिक व नैतिक वस्तु के रूप में दृष्टिकोण – पर कान्तीय जोर ने बहुत अधिक सिम्मेल और वेबर को प्रभावित किया | सिम्मेल व वेबर के लिए समाजशास्त्र को, जीवविज्ञान व रसायनविज्ञान के बिलकुल उलट, तथ्यों के साथ सन्दर्भों पर आना पड़ता कि कुछ हदों तक व्यक्ति न तो निर्धारित नियमों द्वारा विवश किया जाता था और न ही किया जा सकता है |
  • कान्त के युवा अनुयायी या ‘नव कान्तवादी’ और वेबर सहित अन्य रूचि रखने रखने वालों ने अपना ध्यान मोड़ा –

(अ) वे इस विचार को चुनौती देना चाहते थे कि प्राकृतिक विज्ञानों द्वारा सृजित ज्ञान का प्रकार उपलब्ध एकमात्र ज्ञान का प्रकार था |

(ब) वे दिखाना चाहते थे कि विज्ञान के 2 प्रकारों को अलग होना चाहिए क्योंकि वे घटना के 2 मुलभूत अलग प्रकारों की खोज कर रहे थे |

(स) यदि ये बिंदु वैध हैं, तो यह स्पष्ट था कि उनके निरीक्षण के लिए 2 अलग प्रणालियों की आवश्यकता थी |

मेथोदेन्स्त्रेइत :

  • प्रत्यक्षवादी और गैर-प्रत्यक्ष्वादियों के बीच दार्शनिक विवादों, जो 19वीं शताब्दी के बाद के भाग में जर्मनी में शुरू हुआ, को मेथोदेन्स्त्रेइत से जाना जाता है |

Difference between the natural world and the social or cultural world as given by Wilhelm Dilthey:

  • The natural world can only be observed and explained from the outside, while the world of human activity can be observed and comprehended from the inside, and is only intelligible because we ourselves belong to this world and have to do with the products of minds similar to our own.
  • The relations between phenomena of the natural world are mechanical relations of causality, whereas the relations between phenomena of the human world are relations of value and purpose.

HCS 2018 Online Exam | Sociology
Various Scholars:

William Dilthey (1833 – 1911):

  • Dilthey believed that since social or cultural science studied acting individuals with ideas and intentions, a special method of understanding (Verstehen) was required, while natural science studied soulless things and, consequently, it did not need to understand its objects.

Wilhelm Windelband (1848 – 1915):

  • He proposed a logical distinction between natural and social sciences on the basis of their methods.
  • Natural sciences use a ‘nomothetic’ or generalizing method, whereas social sciences employ an ‘ideographic’ or individualizing procedure, since they are interested in the non-recurring events in reality and the particular or unique aspects of any phenomenon.
  • He argued that the kinds of knowledge generated by the natural and the social sciences were different as they were looking at 2 different levels of reality. The natural scientists were concerned with material objects and with describing the general laws that governed their origins and interactions, social and cultural scientists were concerned with the ethical realm of human action and culture.
  • Although knowledge of natural phenomena could be achieved directly through observation and experimentation, knowledge of human motivation, of norms and patterns of conduct, and of social and cultural values, had to be based on a more abstract process of theoretical reasoning.

Heinrich Rickert (1863 – 1936):

  • He argued that the natural sciences are ‘sciences of fact’ and so questions of value were necessarily excluded from the analysis.
  • The social sciences are ‘sciences of value’ because they are specifically concerned with understanding why social actors choose to act in the ways that they do.

Influence of these perspectives on Weber:

  • Weber accepted the positivists’ argument for the scientific study of social phenomena and appreciated the need for arriving at generalizations if sociology had to be a social science.
  • He criticized the positivists for not taking into account the unique meanings and motives of the social actors into consideration.
  • He argued that sociology, given the variable nature of the social phenomena, could only aspire for limited generalizations (‘thesis’, as he called), not universal generalizations as advocated by the positivists.
  • Weber appreciated the neo-Kantians for taking into cognizance the subjective meanings and motives of the social actors to understand the social reality but also stressed the need for building generalizations in social sciences. Natural reality is distinguished from the social reality by the presence of ‘Geist’. By virtue of it, humans respond to external stimuli in a meaningful way.
  • Weber partly accepted Marx’s view on class conflict (economic factors) in society but argued that there could be other dimensions of the conflict as well such as status, power etc. Weber was also skeptical about the inevitability of revolution as forecasted by Marx.  He accepted Marxian logic of explaining conflict and change in terms of interplay of economic forces but criticized Marxist theory as mono-causal economic determinism. Weber argued that the social science methodology should be based on the principle of causal pluralism.

विल्हेल्म दिल्थे द्वारा दिए गए प्राकृतिक विश्व और सामाजिक या सांस्कृतिक विश्व के बीच अंतर :

  • प्राकृतिक विश्व को सिर्फ बाहर से ही अवलोकन और व्याख्या किया जा सकता है, जबकि मानव क्रियाकलापों के दुनिया का अवलोकन और उसका सम्मलेन अन्दर से किया जा सकता है, और सिर्फ सुगम है क्योंकि हम स्वयं ही इस दुनिया का हिस्सा है और हमारे स्वयं के समान ही मन के उत्पादों से लेना देना है |
  • प्राकृतिक दुनिया के घटना के बीच संबध कारणत्व के यांत्रात्मक सम्बन्ध हैं, जबकि मानवीय दुनिया के घटना के सम्बन्ध मूल्य व प्रयोजन के सम्बन्ध हैं |

विभिन्न विद्वान् :

विलियम दिल्थे (1833 – 1911) :

  • दिल्थे का मानना था कि क्योंकि सामाजिक या सांस्कृतिक विज्ञान ने विचारों व इरादों के साथ कार्य करने वाले व्यक्तियों का अध्ययन किया, समझ की एक विशेष प्रणाली-विज्ञान की आवश्यकता थी (वेर्स्तेहें), जबकि प्राकृतिक विज्ञान ने निष्प्राण वस्तुओं का अध्ययन किया और इसके परिणामस्वरूप इसे इसके वस्तुओं को समझने की आवश्यकता नहीं थी |

विल्हेल्म विन्देल्बंद (1848 – 1915) :

  • उन्होंने अपने प्रणालियों पर आधारित प्राकृतिक व सामाजिक विज्ञानों के बीच एक तार्किक अंतर का प्रस्ताव दिया |
  • प्राकृतिक विज्ञान एक ‘संवर्धित’’ या सामान्यीकृत प्रणाली का प्रयोग करता है, जबकि सामाजिक विज्ञानें एक ‘विचारधारा’ या व्यक्तिगत प्रक्रिया का उपयोग करते हैं, क्योंकि वास्तविक में ये गैर-आवर्ती घटनाओं में रुचिकर होते हैं और किसी घटना के विशेष या अनोखे पहलुओं में |
  • उनका तर्क था कि सामाजिक और प्राकृतिक विज्ञानों द्वारा सृजित ज्ञान के प्रकार अलग थे क्योंकि वे वास्तविकता के 2 अलग स्तरों पर आधारित थे | प्राकृतिक वैज्ञानिक भौतिक वस्तुओं व सामान्य नियमों, जो उनके मूलों व परस्पर क्रिया को संचालित करते थे, के व्याख्या के बारे में चर्चा करते थे, जबकि सामाजिक व सांस्कृतिक वैज्ञानिक मानव क्रिया व संस्कृति के नैतिक क्षेत्र के बारे में चर्चा करते थे |
  • हालाँकि प्राकृतिक घटना का ज्ञान अवलोकन व प्रयोगकार्य द्वारा प्रत्यक्ष प्राप्त किया जा सकता है, मानव प्रेरणा, आचरण के मानदंड व प्रारूप, सामाजिक और सांस्कृतिक मूल्यों के ज्ञान को सैद्धांतिक तर्क के एक अधिक अमूर्त प्रक्रिया पर आधारित होना था |

हैनरिक रिकर्ट (1863 – 1936) :

  • इनका तर्क था कि प्राकृतिक विज्ञान ‘तथ्य के विज्ञान’ हैं और इसलिए विश्लेषण से अनिवार्य रूप से  मूल्यों के प्रश्नों को बाहर कर दिया गया |
  • सामाजिक विज्ञान ‘मूल्य के विज्ञान’ हैं क्योंकि ये इस बात से विशेषकर सम्बंधित होते हैं कि क्यों सामाजिक कर्ताएं तरीकों में कार्य करना चयन करते हैं जो वे करते हैं |

वेबर पर इन परिप्रेक्ष्यों का प्रभाव :

  • वेबर ने सामाजिक घटना के वैज्ञानिक अध्ययन के लिए प्रत्यक्षवादियों के तर्कों को माना  और सामान्यीकरण पर आने की जरुरत को स्वीकार यदि समाजशास्त्र को एक सामाजिक विज्ञान होना था |
  • उन्होंने अनोखे अर्थों को समावेश नहीं करने व सामाजिक कर्ताओं के उद्देश्यों को विचार में नहीं लेने के लिए प्रत्यक्षवादियों की आलोचना की |
  • उनका तर्क था कि समाजशास्त्र, सामाजिक घटना के अचर प्रकृति को देखते हुए, सिर्फ सीमित सामान्यीकरण के लिए महत्वाकांक्षी (‘थीसिस’ जैसा वह कहते थे) था, न कि प्रत्यक्षवादियों जिसका पक्ष लेते थे उस सार्वभौमिक सामान्यीकरण के लिए |
  • वेबर ने सामाजिक वास्तविकता की समझ के लिए सामाजिक कर्ताओं के व्यक्तिपरक अर्थों और उद्देश्यों को संज्ञान में लेने के लिए नव कान्तीवादियों की सराहना की लेकिन सामाजिक विज्ञानों में सामान्यीकरणों के निर्माण पर भी जोर दिया | प्राकृतिक वास्तविकता ‘वास्तविकता’ की उपस्थिति द्वारा सामाजिक वास्तविकता से अलग है | इसके आधार पर मानव बाह्य उत्प्रेरकों में एक सार्थक तरीके से प्रतिक्रिया करते हैं |
  • वेबर ने आंशिक रूप से समाज में वर्ग टकराव (आर्थिक कारकों) पर मार्क्स के दृष्टिकोण को स्वीकार किया लेकिन तर्क दिया कि दर्जे, शक्ति इत्यादि जैसे मतभेद के अन्य आयाम भी हो सकते हैं | मार्क्स के पूर्वानुमान के अनुसार क्रांति के अनिवार्यता के बारे में वेबर भी उलझन में थे | उन्होंने आर्थिक शक्तियों के परस्पर क्रिया के सन्दर्भ में परिवर्तन व मतभेद को व्याख्या करने के मार्क्सवादी तर्क को स्वीकार किया लेकिन मार्क्सवादी सिद्धांत की एकल-करणीय आर्थिक नियतिवाद के रूप में आलोचना की | वेबर ने तर्क दिया कि सामाजिक विज्ञान प्रणाली को करणीय बहुलवाद के सिद्धांत पर आधारित होना चाहिए |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Online Preparation | Climatic Regions of The World- Geography Notes

HCS Online Preparation | Climatic Regions of The World- Geography Notes

HCS Online Preparation | Climatic Regions of The World- Geography Notes

Climatic Regions of The World

Climatic regions of the world are divided into twelve parts :

  • Equatorial region (Covered in last PPT)
  • Tropical Monsoon region (Covered in last PPT)
  • Savanna-Tropical Grassland region (Covered in last PPT)
  • Steppe- Temperate grassland region
  • Hot desert region
  • Continental desert region
  • Mediterranean type region
  • China type region
  • British type region
  • Laurentian Type region
  • Taiga type region
  • Tundra type region

Temperate grassland

Distribution

  • They lie in the interiors of the continents and in the Westerly wind belt mid-latitudes or temperate region
  • Bordering the deserts, away from the Mediterranean regions are the Temperate grasslands
  • Grasslands are practically treeless due to continentality (deep within the interiors of the continents where rain bearing winds don’t reach).

Grasslands, region and economic activity

Prairies

  • Region:North America (between the foothills of the Rockies and the Great Lakes)
  • Economic activity: Wheat  granaries, Extensive Ranching

Pustaz

  • Region:Hungary and surrounding regions
  • Economic activity: Abundant wheat production, Sugar from Sugar beet

HCS Online Preparation

दुनिया के जलवायु क्षेत्र

दुनिया के जलवायु क्षेत्रों को 12  भागों (वनस्पति वितरण के आधार पर) में बांटा गया है:

  • भूमध्यरेखीय क्षेत्र
  • उष्णकटिबंधीय मानसून क्षेत्र
  • चारागाह-उष्णकटिबंधीय घास के मैदान वाला क्षेत्र
  • स्टेपी-शीतोष्ण चरागाह क्षेत्र
  • गर्म रेगिस्तानी क्षेत्र
  • महाद्वीपीय रेगिस्तानी  क्षेत्र
  • भूमध्यसागरीय क्षेत्र
  • चीन के प्रकार के क्षेत्र
  • ब्रिटिश प्रकार के क्षेत्र
  • लॉरेंटियन प्रकार के क्षेत्र
  • ताइगा प्रकार के क्षेत्र
  • टुंड्रा प्रकार के क्षेत्र

शीतोष्ण चरागाह क्षेत्र

वितरण

  • ये महाद्वीपों के आंतरिक भागों तथा मध्य-अक्षांश वाली पश्चिमी वायु पट्टियों अथवा समशीतोष्ण क्षेत्रों में पाए जाते है |
  • ये रेगिस्तान को घेरते है, ये भूमध्य क्षेत्र से दूर स्थित समशीतोष्ण चरागाह है |
  • महाद्वीप के कारण चरागाह में वृक्ष नहीं होते है (ये महाद्वीपों के आंतरिक भागों में पाए जाते है जहाँ पर वर्षा वाली पवनें नहीं पहुँच पाती है)

चरागाह क्षेत्र तथा आर्थिक गतिविधि

प्रेरी

  • क्षेत्र: उत्तरी अमेरिका (रॉकी पर्वत शृंखला की तलहटी एवं विशाल झीलों के बीच पाई जाती है)
  • आर्थिक गतिविधि : गेहूं का भंडार, बड़े पैमाने पर पशुपालन

पुसटेज

  • क्षेत्र: हंगरी और आसपास के क्षेत्रों में
  • आर्थिक गतिविधि : प्रचुर मात्रा में गेहूं उत्पादन ,मीठे चुक़ंदर से चीनी

Temperate grassland

Natural Vegetation

  • Their greatest difference from tropical savannas is that steppes are practically treeless & grasses are much shorter.
  • Regions in N-Hemisphere, where the rainfall averages above 50 cm, the grasses are tall, fresh and nutritious and are better described as long prairie grass.

Examples : North America, Rich black earth of Russia –Ukraine .

Economic development

  • In recent years, the grasslands have been ploughed up for extensive, mechanized wheat cultivation and are now the ‘granaries of the world’ [Prairies].
  • Besides wheat, maize is increasingly cultivated in the warmer and wetter areas.

Desert

  • Deserts are regions where evaporation exceeds precipitation.
  • Deserts cover more than 1/5th of the Earth’s land, and they are found on every continent.
  • Despite the common conceptions of deserts as dry and hot, there are cold deserts as well.

Major hot deserts of the world include

  • Sahara Desert (Africa)
  • Thar Desert (India)
  • Libyan Desert (Africa)

Hot desert

Hot Desert Climate

  • The aridity of the hot deserts is mainly due to the effects of off-shore Trade Winds, hence they are also called Trade Wind Deserts.
  • Unbroken sunshine for the whole year, stable descending air and high pressure aloft

शीतोष्ण चरागाह क्षेत्र

प्राकृतिक वनस्पति

  • उष्णकटिबंधीय सवाना में मुख्य अंतर यह है की स्टेपी मैदानों में वृक्ष नहीं होते है एवं घास भी काफी छोटी होती है |
  • उत्तरी गोलार्ध में जहाँ औसत वर्षा 50 cm  है, वहां पर घास लम्बे,स्वच्छ तथा पौष्टिक होते है एवं इन्हे लम्बे प्रैरी घास के रूप में जाना जाता है |

उदाहरण के लिए : उत्तरी अमेरिका, रूस की काली जमीन – यूक्रेन

आर्थिक विकास

  • हाल के वर्षों में चरागाहों को विस्तृत और यंत्रीकृत गेहूं की खेती के जोता गया है एवं इन्हे ‘विश्व के अन्नभंडार ‘ के रूप में जाना जाता  है [प्रेरीज़] |
  • गेहूं के अलावा, गर्म और आर्द्र क्षेत्रों में मक्का बड़े पैमाने पर बोये जाने वाली फसल है |

मरुस्थल

  • मरुस्थल वे क्षेत्र है जहाँ वर्षण से अधिक वाष्पीकरण होता है |
  • मरुस्थल पृथ्वी के 1/5 भाग पर पाए जाते है ये प्रत्येक महाद्वीप में पाए जाते है |
  • शुष्क और गर्म भूमि की तरह मरुस्थल भी शुष्क और गर्म होते है |

दुनिया के प्रमुख गर्म रेगिस्तान हैं-

  • सहारा मरुस्थल (अफ्रीका)
  • थार मरुस्थल  (भारत)
  • लीबिया मरुस्थल  (अफ्रीका)

गर्म मरुस्थल

गर्म मरुस्थल जलवायु

  • गर्म मरुस्थल की शुष्कता मुख्य रूप से अपतटीय व्यापार पवनों की वजह से होती है इसलिए इन्हे व्यापार पवन रेगिस्तान भी कहा जाता है |
  • पूरे वर्ष निर्बाध सूर्य का प्रकाश होता है,हवाएं स्थिर रूप से अवरोहण करती है एवं ऊपर का दाब अधिक होता है |

Hot desert

Rainfall (Both Hot and Cold deserts):

  • An annual precipitation of less than 25 cm.
  • Atacama (driest place on earth) has practically no rain at all.
  • Rain normally occurs as violent thunderstorms of the convectional type.
  • It ‘bursts’ suddenly and pours continuously for a few hours over small areas.

Causes of aridity of  desert

  • Horse latitude: The hot deserts lie astride the horse latitudes or subtropical high pressure belts, where the air is descending, a condition least favorable for precipitation of any kind.
  • Rain shadow: Air descending leeward side from mountainous areas warms and dries by compression, little rainfall forms and aridity is the result (Patagonian desert due to rain shadow effect of Andes.

Desert vegetation

Vegetation:

  • Predominant vegetation:  xerophytic or drought-resistant.
  • Example: Cacti, thorny bushes, long-rooted wiry grasses and scattered dwarf acacias.
  • Trees are rare except where there is abundant groundwater to support clusters of date palms.
  • Along the western coastal deserts washed by cold currents as in the Atacama Desert, support a thin cover of vegetation.

गर्म मरुस्थल

वर्षण (गर्म और ठंडे मरुस्थल दोनों):

  • 25 सेमी से कम की वार्षिक वर्षा
  • आताकामा मरुस्थल (पृथ्वी का सबसे शुष्क स्थान) में किसी भी प्रकार की वर्षा नहीं होती है |
  • वर्षा सामान्य रूप से संवहनी प्रकार की तीव्र तड़ितझंझा होती है |
  • यह अचानक से विस्फोट करता है एवं कुछ घंटो के लिए छोटे क्षेत्रों में बौछार करता है |

मरुस्थल की आर्द्रता

  • अश्व अक्षांश :वह गर्म मरुस्थल जो अश्व अक्षांश अथवा उपोष्णकटिबंधीय उच्च दाब पेटियों पर फैला हुआ है , जहाँ पर पवनें अवरोहण करती है यहाँ की परिस्थितियां किसी भी प्रकार के वर्षण के लिए अनुकूल नहीं होती है |
  • वृष्टि छाया : वे पवनें जो पहाड़ी इलाकों से अनुवात की ओर चलती है वे संपीड़न की वजह से गर्म एवं शुष्क हो जाती है , निम्न वर्षा होती है परिणामस्वरूप आर्द्रता होती है (एंडीज़ के वृष्टि छाया के  प्रभाव के कारण पेंटागोनिया मरुस्थल )

मरुस्थल वनस्पति

वनस्पति

  • मुख्य वनस्पति : मरूद्भिद अथवा सूखा प्रतिरोधी
  • उदाहरण के लिए : कैक्टि, कांटेदार झाड़ियां , पुराने समय का तार जैसा घास और छोटे बबूल
  • केवल खजूर के पेड़ के लिए उपयुक्त भौम जल की उपलब्धता को छोड़कर यहाँ वृक्ष बहुत दुर्लभ है |
  • ये पश्चिमी तटीय रेगिस्तानों के साथ-साथ जो ठंडी धाराओं द्वारा साफ़ कर दिए जाते है जैसा आताकामा मरुस्थल में होता है,इनमे वनस्पति की पतली परत होती है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel