Posted on Leave a comment

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

Geophysical Phenomenon : Volcanism

Volcanism

  • Volcanism is the phenomenon of eruption of molten rock (magma) onto the surface of the Earth or a solid-surface planet or moon, where lava, pyroclastics and volcanic gases erupt through a break in the surface called a vent.
  • Such vents or openings occur in those parts of the earth’s crust where the rock strata are relatively weak.

Causes of Volcanism

  • Tremendous amount of heat generated by the chemical reactions of radioactive substances deep within the interior of the earth.
  • Heat captured at the center of earth during earth’s formation.

Lava types in Volcanism

Andesitic/ Acidic /Composite / Strato Volcanic lava

  • Highly viscous lava with a high melting point.
  • Light-colored, of low density
  • Have a high percentage of silica.
  • They flow slowly and seldom travel far before solidifying. The resultant cone is therefore steep sided.

Basic or Basaltic or Shield lava

  • Hottest lavas, about 1,000°C. (1,830°F.) and are highly fluid.
  • Dark colored like basalt
  • Rich in iron and magnesium but poor in silica.

HCS Complete Study Material

ज्वालामुखीयता

  • ज्वालामुखीयता  पृथ्वी अथवा किसी कठोर सतह वाले ग्रह या चन्द्रमा  की सतह पर पिघली हुई चट्टान (मैग्मा) का विस्फोट है जहाँ लावा, पायरोप्लास्टिक और ज्वालामुखीय गैसें सतह के विखंडित होने से निकलने लगती है जिसे निकास नालिका (वेंट) कहते  है |
  • इस तरह की निकास नलिका अथवा छिद्र पृथ्व्वी की पर्पटी के उस भाग में पाए जाते है जहाँ पर चट्टान की सतह अपेक्षाकृत दुर्बल हो |

ज्वालामुखी के कारण

  • पृथ्वी के गहन आंतरिक भाग में रेडियोधर्मी पदार्थों के रासायनिक अभिक्रियाओं द्वारा प्रचुर मात्रा में ऊष्मा का निकलना |
  • पृथ्वी के गठन के दौरान पृथ्वी के केंद्र पर ऊष्मा का एकत्रित होना |

ज्वालामुखी में  लावा के प्रकार

एंडेसाइट/अम्लीय/मिश्रित/सयोंजक ज्वालामुखी लावा

  • लावा अत्यधिक शयन एवं उच्च गलनांक वाला होता है |
  • रंग में हल्का एवं निम्न घनत्व वाला होता है |
  • सिलिका का उच्च प्रतिशत पाया जाता है |
  • जमने से पहले ये धीरे धीरे चलते है कभी कभी लम्बी दुरी तक भी | इसलिए परिणामस्वरूप जो शंकु बनता है वह सीधे किनारे का होता है |

बेसाल्टिक अथवा शील्ड लावा

  • सबसे अधिक गर्म लावा, लगभग 1,000 डिग्री सेल्सियस (1,830 डिग्री फ़ारेनहाइट) और अत्यधिक प्रवाही है।
  • बेसाल्ट की तरह यह गहरे रंग का होता है |
  • लौह और मैग्नीशियम में समृद्ध लेकिन सिलिका की कमी होती है |

Types of volcanoes

On the basis of nature of eruption

Active Volcano:

  • Keeps on ejecting volcanic material at frequent intervals.

Example: Mt Etna (Italy), Mt Stromboli -Lighthouse of the Mediterranean sea, Barren Island in India.

Dormant Volcano:

  • One in which eruption has not occurred for a long time but can occur any time in future.

Cinder Cone Volcanoes:

  • Cinders are extrusive igneous rocks.
  • A more modern name for cinder is Scoria.
  • Cinder cones are the simplest type of volcano.

Caldera:

  • These are the most explosive of the earth’s volcanoes.
  • Usually so explosive that when they erupt they tend to collapse on themselves rather than building any tall structure.

Mid-Ocean Ridge Volcanoes

  • These volcanoes occur in the oceanic areas.
  • There is a system of mid-ocean ridges more than 70,000 km long that stretches through all the ocean basins.

ज्वालामुखी के प्रकार

विस्फोट की प्रकृति के आधार पर

सक्रिय ज्वालामुखी:

  • यह लगातार अंतराल पर ज्वालामुखी सामग्री को निकालते रहता है।

उदाहरण: माउंट एटना (इटली), माउंट स्ट्रोंबोली- भूमध्यसागरीय का बिजली घर , भारत में बैरन द्वीप

निष्क्रिय ज्वालामुखी:

  • जिन में विस्फोट लंबे समय तक नहीं हुआ है, लेकिन भविष्य में किसी भी समय हो सकता है।

सिंडर शंकु ज्वालामुखी:

  • सिंडर निःस्त्रावण की आग्नेय चट्टानें है |
  • सिंडर का आधुनिक नाम स्कोरिया है।
  • सिंडर शंकु ज्वालामुखी का सबसे सरल प्रकार है |

ज्वालामुखी कुंड

  • ये पृथ्वी पर पाए जाने वाले सबसे अधिक विस्फोटक ज्वालामुखी हैं |
  • आम तौर पर ये इतने विस्फोटक होते हैं कि जब इनमे विस्फोट होता है तब वे ऊँचा ढांचा बनाने की बजाय स्वयं नीचे धंस जाते है |

मध्य महासागरीय कटक ज्वालामुखी

  • इन ज्वालामुखियों का उद्गार महासागरों में होता है |
  • मध्य महासागरीय कटक एक श्रृंखला है जो 70,000 किमी से अधिक लंबी है और जो सभी महासागरीय बेसिनों में फैली  है |

Distribution of volcanoes in the world

  • Since the 16th century, around 480 volcanoes have been reported to be active.
  • Of these, nearly 400 are located in and around the Pacific Ocean and 80 are in the mid-world belt across the Mediterranean Sea, Alpine-Himalayan belt and in the Atlantic and Indian Oceans.

Regions with active volcanism along ‘Pacific Ring of Fire’

  • Aleutian Islands into Kam­chatka, Japan, the Philippines, and Indonesia Pacific islands of Solomon, New Hebrides, Tonga and North Island, New Zealand.
  • Andes to Central America (particularly Guatemala, Costa Rica and Nicaragua), Mexico and right up to Alaska.

Great Rift region

  • In Africa some volcanoes are found along the East African Rift Valley.

Example:

  • Kilimanjaro and Mt. Kenya, both probably extinct.
  • The only active volcano of West Africa is Mt. Cameroon.
  • There are some volcanic cones in Madagascar, but active eruption has not been known so far.

The West Indian islands

  • The West Indian islands have experienced some violent ex­plosions in recent times. E.g. Pelee.
  • The Lesser Antilles (Part of West Indies Islands) are made up mainly of volcanic islands and some of them still bear signs of volcanic liveliness.

Mediterranean volcanism

  • Mainly associated with the Alpine folds, e.g. Vesuvius, Stromboli (Light House of the Mediterranean) and those of the Aegean islands.

Destructive Effects of Volcanoes

  • Can be a greatly damaging natural disaster. The damage is caused by advancing lava which engulfs whole cities.
  • Showers of cinders and bombs can cause damage to life.
  • Violent earthquakes associated with the volcanic activity and mudflows of volcanic ash saturated by heavy rain can bury nearby places.

विश्व में ज्वालामुखियों का आबंटन

  • 16 वीं शताब्दी के बाद से लगभग 480 ज्वालामुखी सक्रिय पाए गए हैं।
  • इनमें से लगभग 400 प्रशांत महासागर में और 80 विश्व बेल्ट में भूमध्य सागर के आस पास, अल्पाइन-हिमालयन बेल्ट और अटलांटिक और हिन्द महासागर में पाए जाते है |   

‘प्रशांत रिंग ऑफ़ फायर’ में  सक्रिय ज्वालामुखी क्षेत्र:-

  • अल्यूत द्वीपसमूह में कमचटका,जापान फिलीपींस और सोलोमन के इंडोनेशिया प्रशांत द्वीपों में  न्यू हेब्रिड्स, टोंगा और उत्तरी द्वीप न्यूज़ीलैंड |
  • एंडिस से मध्य अमेरिका (विशेष रूप से ग्वाटेमाला, कोस्टा रिका और निकारागुआ), मैक्सिको एवं दायी ओर  अलास्का तक

ग्रेट रिफ्ट क्षेत्र

  • अफ्रीका में पूर्वी अफ्रीकी रिफ्ट घाटी के साथ कुछ ज्वालामुखी पाए जाते हैं।

उदाहरण:

  • किलिमंजारो और माउंट केन्या, दोनों लगभग मृत ज्वालामुखी है |
  • पश्चिम अफ्रीका का एकमात्र सक्रिय ज्वालामुखी माउंट कैमरून है
  • मेडागास्कर में कुछ ज्वालामुखीय शंकु हैं, लेकिन सक्रिय विस्फोट अब तक ज्ञात नहीं है |

पश्चिम भारतीय द्वीपसमूह

  • पश्चिम भारतीय द्वीपों ने हाल के दिनों में कुछ तीव्र विस्फोट झेलें है जैसे माऊंट  पीली
  • लघु एंटिल्स (वेस्ट इंडीज द्वीपसमूह का हिस्सा) मुख्य रूप से ज्वालामुखीय द्वीपों के बने होते हैं और इनमें से कुछ अभी भी ज्वालामुखीय जीवंतता के संकेत देते हैं |

भूमध्य ज्वालामुखीवाद

  • यह मुख्य रूप से अल्पाइन वलितों से संबंधित है जैसे वेसुवियस पर्वत,स्ट्राम्बोली  (भूमध्य सागर का बिजली घर) एवं वे सब जो एजियन द्वीपों में है |

ज्वालामुखी के विध्वंसकारक प्रभाव

  • यह बहुत ही हानिकारक प्राकृतिक आपदा हो सकता है
  • लावा की मात्रा बढ़ने से सारा शहर खतरे की चपेट में आ सकता है |
  • सिंडरों और बम के झड़ने से जीवन को भी नुकसान पहुँचता है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Exam Preparation | History Study Material | IAS | UPSC Exam

HCS Exam Preparation | History Study Material | IAS | UPSC Exam

HCS Exam Preparation | History Study Material | IAS | UPSC Exam

Movements Before Indian National Congress

Factors in growth of Modern Nationalism

Moderate phase and Early Congress (1858-1905)

Indian nationalism is the product of a mix of various factors:

  • Worldwide upsurge of the concepts of nationalism and right of self-determination initiated by the French Revolution.
  • Indian Renaissance.

Understanding of Contradiction in Indian and Colonial Interests

  • Colonial rule was the major cause of India’s economic backwardness and that the interests of the Indians involved the interests of all sections and classes- peasants, artisans, handicrafts men, workers, intellectuals, the educated and the capitalists.
  • The nationalist movement arose to take up the challenge of these contradictions inherent in the character and policies of colonial rule.

Western Thought and Education

  • It gave a new direction to Indian political thinking, although the English system of education had been conceived by the rulers in the interest of efficient administration.
  • The English language helped nationalist leaders from different linguistic regions to communicate with each other.

Role of Press and Literature

  • An unprecedented growth of Indian owned English and vernacular newspapers was seen, despite numerous restrictions imposed on the press by the colonial rulers from time to time.
  • The press while criticising official policies, on the one hand, urged the people to unite, on the other.

Impact of Contemporary Movements Worldwide

  • Rise of a number of nations on the ruins of Spanish and Portuguese empires in South America, and the national liberation movements of Greece and Italy in general and of Ireland in particular deeply influenced the nationalist ranks.

HCS Exam Preparation

आधुनिक राष्ट्रवाद के उदय के कारण

उदारवादी  चरण तथा आरंभिक कांग्रेस (1858- 1905 )

भारतीय राष्ट्रवाद विभिन्न कारकों के मिश्रण का उत्पाद था :-

  • पूरी दुनिया में राष्ट्रवाद की अवधारणाओ का उदय तथा फ्रांस की क्रांति के साथ आत्म-विशवास की भावना का विकास हुआ
  • भारतीय पुनर्जागरण

भारतीय और औपनिवेशिक हितों में विरोधाभास

  • भारत के आर्थिक पिछड़ेपन का कारण औपनिवेशिक शासन था, तथा  भारतीयों के हितों में सभी वर्गों एवं श्रेणियों जैसे किसानों, कारीगरों, हस्तशिल्पकारों,कामगारों,  बुद्धिजीवियों, शिक्षित तथा पूंजीवादियों के हित शामिल थे |
  • राष्ट्रवादी आंदोलन का उदय इन विरोधाभासों की चुनौती स्वीकार करने के लिए हुआ जो औपनिवेशिक शासन की नीतियों एवं चरित्र में निहित थीं |  

पाश्चात्य चिन्तन तथा शिक्षा का प्रभाव  

  • इसने भारतीय राजनीतिक चिन्तन  को एक नयी दिशा दी, हालाँकि अंग्रेजी शिक्षा प्रणाली पर शासकों द्वारा कुशल प्रशासन के हित में विचार किया गया था |
  • अंग्रेजी भाषा ने विभिन्न भाषाई क्षेत्रों से ताल्लुक रखने वाले राष्ट्रवादी नेताओं को एक दूसरे के साथ संवाद स्थापित करने में सहायता की |

प्रेस तथा साहित्य की भूमिका :

  • समय-समय पर औपनिवेशिक शासकों के द्वारा प्रेस पर लगाए गए प्रतिबंध के बावजूद  भारतीय स्वामित्व वाले अंग्रेजी तथा स्थानीय भाषाओं के अखबारों में एक अभूतपूर्व वृद्धि देखी गयी |
  • सरकारी नीतियों की आलोचना करते हुए प्रेस ने दूसरी तरफ लोगों से एकजुट होने की अपील की |

तत्कालीन विश्वव्यापी घटनाओं का प्रभाव :

  • दक्षिण अमेरिका में स्पैनिश एवं पुर्तगाली उपनिवेश की समाप्ति से अनेक नए राष्ट्रों का उदय हुआ,इसके अतिरिक्त यूनान एवं इटली के स्वतंत्रता आंदोलनों एवं आयरलेंड की घटनाओं को अत्यंत प्रभावित किया |

Political associations before INC

Political associations before the Indian National Congress:

  • Dominated by wealthy and aristocratic elements
  • Local or regional in character

Through long petitions to the British Parliament, they demanded:

  • Administrative reforms
  • Association of Indians with the administration
  • Spread of education.

Political Associations in Bengal

  • The Bangabhasha Prakasika Sabha was formed in 1836 by associates of Raja Rammohan Roy.
  • The Zamindari Association, more popularly known as the ‘Landholders’ Society’, was founded to safeguard the interests of the landlords.

The East India Association

  • Organized by Dadabhai Naoroji in 1866 in London to discuss the Indian question and influence public men in England to promote Indian welfare.
  • Later, branches of the association were started in prominent Indian cities.

The Indian League:

  • Started in 1875 by Sisir Kumar Ghosh with the object of “stimulating the sense of nationalism amongst the people” and of encouraging political education.

Political Associations in Bombay

The Poona Sarvajanik Sabha

  • Was founded in 1867 by Mahadev Govind Ranade and others, with the object of serving as a bridge between the government and the people.

The Bombay Presidency Association

  • Was started by Badruddin Tyabji, Pherozeshah Mehta and K.T. Telang in 1885.

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पहले के  राजनीतिक संगठन :

  • इनका नेतृत्व मुख्यतया: समृद्ध एवं प्रभावशाली वर्ग द्वारा किया गया  
  • इन संस्थाओं का स्वरूप स्थानीय या क्षेत्रीय था

ब्रिटिश संसद में लम्बी याचिकाओं के माध्यम से, उन्होंने निम्नलिखित की माँग की : –

  • प्रशासनिक सुधार
  • प्रशासन में भारतीयों की भागीदारी को बढ़ावा  |
  • शिक्षा का प्रसार

बंगाल में राजनीतिक संगठन :

  • बंगभाषा प्रकाशिका सभा का गठन 1836 में राजा राममोहन राय के सहयोगियों के द्वारा किया गया था |
  • ज़मींदारी एसोसिएशन जिसे लेंडहोल्डरस  एसोसिएशन के नाम से जाना जाता है  

ईस्ट इंडिया एसोसिएशन

  • इसकी स्थापना दादाभाई नौरोजी के द्वारा 1866 में लंदन में भारत के मसले पर विचार करने तथा इंग्लैंड में प्रसिद्ध पुरुषों को भारतीय कल्याण को बढ़ावा देने के लिए प्रभावित करने के उद्देश्य से की गयी |
  • बाद में, इस संगठन की शाखाएँ मुख्य भारतीय शहरों में शुरू की गयीं |

इंडियन लीग

  • 1875 में शिशिर कुमार घोष ने इंडियन लीग की स्थापना की जिसका उद्देश्य लोगों में राष्ट्रवाद की भावना जागृत करना तथा राजनीतिक शिक्षा को प्रोत्साहित करना था |

बम्बई  में राजनीतिक संगठन

पूना सार्वजनिक सभा

  • इसकी स्थापना 1867 में महादेव गोविन्द रानाडे तथा अन्य के द्वारा  सरकार तथा लोगों के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करने के उद्देश्य से की गयी थी|

बॉम्बे प्रेसीडेंसी एसोसिएशन

  • इसकी शापना बदरुद्दीन तैयबजी, फिरोजशाह मेहता एवं के.टी तेलंग के द्वारा 1885 में की गयी थी

Indian National Congress:

  • On 28 December 1885, the Indian National Congress was founded at Gokuldas Tejpal Sanskrit College in Bombay, with 72 delegates in attendance.
  • Hume assumed office as the General Secretary, and Womesh Chandra Banerjee was elected President.

Aims and Objectives of the Congress

  • To politicise and politically educate people
  • To establish the headquarters for a movement

Methods of political work of the early Moderates  (1885-1905)

  • Important leaders: Dadabhai Naoroji, Pherozeshah Mehta, D.E. Wacha, W.C. Bonnerjea, S.N. Banerjee
  • These leaders were staunch believers in ‘liberalism’ and ‘moderate’ politics and aimed to be labelled as moderates to distinguish them from the neo-nationalist of the early twentieth century who were referred to as the Extremists.
  • The moderate political activity involved constitutional agitation within the confines of law and showed a slow but orderly political progress.

Contributions of Early nationalist:

  • Economic Critique of British Imperialism
  • They opposed the transformation of a basically self-sufficient Indian economy into a colonial economy

An evaluation of the early nationalist:

  • They represented the most progressive forces of the time.
  • They were able to create a wide national awakening of all Indians having common interests and they need to rally around a common programme against a common enemy, and above all, the feeling of belonging to one nation.

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

  • 28 दिसम्बर 1885 को बॉम्बे के गोकुलदास तेजपाल संस्कृत कॉलेज में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना हुई थी, जहाँ 72 प्रतिनिधि मौजूद थे |
  • ह्युम ने महासचिव का पद धारण किया, तथा उमेश चन्द्र बनर्जी को अध्यक्ष चुना गया |   

कांग्रेस के लक्ष्य तथा उद्देश्य “

  • भारतीयों को राजनीतिक लक्ष्यों से परिचित कराना तथा राजनीतिक शिक्षा देना
  • आंदोलन के लिए मुख्यालय की स्थापना करना |

आरंभिक नरमपंथियों के राजनीतिक कार्यों की पद्धतियाँ ( 1885-1905 ) :

  • महत्वपूर्ण नेता : दादाभाई नौरोजी, फिरोजशाह मेहता, डी.ई.वाचा, डब्ल्यू.सी बनर्जी, एस.एन बनर्जी
  • ये नेता उदारवाद नीतियों  तथा अहिंसक विरोध प्रदर्शन में विश्वाश रखते थे  इनकी यह विशेषता इन्हें बीसवीं शताब्दी के प्रथम दशक में उभरने वाले नव राष्ट्रवादियों जिन्हें उग्रवादी कहते थे,से पृथक करती थी |  
  • उदारवादी कानून के दायरे में रहकर अहिंसक एवं सवैंधानिक प्रदर्शनों के पक्षधर थे  

आरंभिक राष्ट्रवादियों के योगदान :

  • ब्रिटिश साम्राज्यवाद के आर्थिक आलोचक |
  • उन्होंने मूल रूप से आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था को एक औपनिवेशिक अर्थव्यवस्था में बदलने का विरोध किया |

आरंभिक राष्ट्रवादियों का मूल्यांकन  :

  • उन्होंने तत्कालीन भारतीय समाज को नेतृत्व प्रदान किया |
  • वे साझा हितों वाले सभी भारतीयों में एक समान जागरूकता पैदा कर पाने में सक्षम थे, तथा उन्हें समान शत्रु के खिलाफ एक साझा कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट होने की आवश्यकता थी तथा इन सबसे अधिक एक राष्ट्र से सम्बंधित होने की भावना के संचार की आवश्यकता थी |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Exam Study Material | Prelims & Mains Exam 2018 | UPSC | IAS

HCS Exam Study Material | Prelims & Mains Exam 2018 | UPSC | IAS

HCS Exam Study Material | Prelims & Mains Exam 2018 | UPSC | IAS

Landform And Their Evolution

Deserts

  • About 1/5th of the world’s land is made up of deserts.
  • Deserts which are absolutely barren, where nothing grows are known as true deserts.
  • Almost all the deserts are confined within 15-30 degree parallels to N – S of equator known as trade wind desert or tropical deserts.

Types of desert:

Hamada / Rocky Desert

  • Consist of large stretches of bare rocks, swept clear of sand & dust by wind.
  • Exposed rocks are thoroughly smoothened, polished and highly sterile.

Badlands

  • Consists of gully & ravines formed on hill slopes & rock surfaces by the extent of water action.
  • Not fit for agriculture & survival

Mountain Deserts

  • Deserts which are found on the highlands such as on plateaus and mountain ranges, where erosion has dissected the desert highland into rough chaotic peaks and uneven ranges.
  • Their steep slopes consist of Wadis (dry valleys) with sharp and irregular edges carved due to action of frost.

Wind:

  • Wind is one of the most dominant agents in hot deserts.
  • With its great speed, it causes erosional and depositional activities in the desert.
  • The landforms created by such erosional and depositional activities of wind are called as Aeolian Landforms.

रेगिस्तान

  • दुनिया की कुल जमीन का लगभग 1/5 वां  हिस्सा रेगिस्तान है।
  • रेगिस्तान जो बिल्कुल बंजर हैं और जहां कुछ भी नहीं उगता है वही असली मायने में रेगिस्तान कहलाता है
  • लगभग सभी रेगिस्तान भूमध्य रेखा के उत्तरी ध्रुव और  दक्षिणी ध्रुव के 15-30 डिग्री समानांतर के भीतर ही सीमित होते हैं  जिन्हे व्यापारिक पवन रेगिस्तान या उष्णकटिबंधीय रेगिस्तान कहा जाता है।

HCS Exam Study Material

रेगिस्तान के प्रकार:

हमादा / रॉकी रेगिस्तान

  • हमादा डेजर्ट, अनावृत चट्टानों के बड़े हिस्सों से बनते हैं एवंम  रेत और धूल हवा से बह जाते हैं।
  • अनावृत चट्टान बिलकुल चिकनी , परिष्कृत और अत्यधिक बंजर होती है।

उत्खात

  • इनमे अवनालिका तथा कंदराएँ शामिल है जो पर्वतीय ढलानों एवं चट्टानों की सतह पर जल की क्रिया से  बनते है |
  • कृषि और उत्तरजीविता के लिए उपयुक्त नहीं है

पर्वतीय मरुस्थल  

  • उच्च भूमि जैसे पठारों और पर्वत श्रृंखलाओं पर पाए जाने रेगिस्तान, जहाँ पर अपरदन ने उच्चभूमि रेगिस्तान को विश्रृंखल शिखरों तथा असमान श्रृंखला में विच्छेदित कर दिया है |
  • इनकी खड़ी ढलानों में वादी (सूखी घाटियां) पाई जाती है,तुषार की क्रिया द्वारा इनके किनारे तीखे तथा अनियमित होते है |

पवन :

  • उष्ण मरुस्थलों के दो प्रभावशाली अनाच्छादनकर्ता कारको  में पवन एक महत्वपूर्ण अपरदन का कारक है
  • पवन अपनी तेज गति से,  रेगिस्तान में अपरदित और निक्षेपित क्रियाएं करती है,  जो स्थलाकृतियां इस प्रकार पवन द्वारा बनाई जाती है उन्हें  वातज स्थलरूप कहते हैं

Erosional landforms of  Winds

Pediments

Landscape evolution in deserts is primarily concerned with the formation and extension of pediments.

  • Gently inclined rocky floors close to the mountains at their foot with or without a thin cover of debris, are called pediments.
  • Such rocky floors form through the erosion of mountain front through a combination of lateral erosion by streams and sheet flooding.

Deflation Hollows and Caves

  • Weathered mantle from over the rocks or bare soil, gets blown out by persistent movement of wind currents in one direction.
  • This process may create shallow depressions called deflation hollows.

Zeugen:

  • Tabular masses which have a layer of soft rocks lying beneath a surface layer of more resistant rocks.
  • Difference in erosional effect of the wind on soft & resistant rock surfaces, carve them into weird looking ridge & furrow landscape.

Mesas and Buttes

  • Mesa is a flat, table like land mass with a very resistant horizontal top layer & very steep sides, may be formed in canyon region.
  • The hard stratum on the surface resist denudation by both wind & water thus protects the underlying layer of rocks from being eroded.

Isenberg (Island Mountain)

  • They are basically isolated residual hills rising abruptly from the ground level
  • Characterized by very steep slopes and rather rounded tops.

Ventifacts & Dreikanter

  • Ventifacts are generally pebbles faceted and edged by sand blasting
  • Rock fragments weathered from mountains.

वायु द्वारा निर्मित अपरदित स्थलरूप

पैडिमेंट

मरुस्थलों में भूदृश्य का विकास मुख्यत    पैडिमेंट का निर्माण व उसका ही विकसित रूप है

  • पर्वतों के पाद पर मलबे रहित अथवा मलबे सहित  मंद ढाल वाले चट्टानी तल पैडिमेंट कहलाते हैं |
  • पैडिमेंट का निर्माण पर्वतीय अग्रभाग के अपरदन मुख्यत सरिता के क्षितिजअपरदन व चादर   बाढ़ दोनों के संयुक्त अपरदन से होता है |

अपवाहन गर्त तथा गुहा

  • पवन के एक ही दिशा में  स्थाई प्रवाह से चट्टानों की अपक्षय जनित पदार्थ या असंगठित मिट्टी का अपवहन होता है |
  • इस प्रक्रिया में उथले गर्त  बनते हैं जिन्हें अपवाहन गर्त कहते हैं |

न्यूज़न :

  • अधिक प्रतिरोधी चट्टानों की सतह परत के नीचे टेबलनुमा पिंड जिनकी सतह मृदु चट्टानों द्वारा निर्मित होती है |
  • मृदु तथा प्रतिरोधी चट्टानों की सतह पर वायु द्वारा जनित अपरदन में अंतर होता है , यह उन्हें विचित्र कटकों तथा कुंड स्थलरूपों में बदल देता है |  

ढलुआ पठार और  बुटी

  • ढलुआ पठार चपटा, मेज के आकार का स्थलरूप है जिसकी क्षैतिज शीर्ष परत प्रतिरोधी है एवं इनके किनारे नुकीले होते है तथा ये केनियन क्षेत्र में निर्मित होते है |
  • सतह पर उपस्थित  कठोर तह हवा और पानी दोनों के अनाच्छादन का विरोध करती है ,इस प्रकार चट्टानों की भीतरी  परत अपरदन से सुरक्षित रहती है |

आइज़नबर्ग (द्वीप पर्वत)

  • ये मूल रूप से पृथक अवशिष्ट पहाड़ियाँ होती है जो निरंतर भू स्तर से वृद्धि कर रही है |
  • इनकी ढलान तीव्र होती है एवं इनके शीर्ष गोलाकार होते है |

वायुघृष्टाश्मः एवं त्रिकोणक

  • वायुघृष्टाश्मः आम तौर पर कंकड़ के जैसे होते है एवं इनके किनारों का निर्माण रेत के ब्लास्ट से होता है
  • चट्टानों के खंड पर्वतों से प्राप्त होते है |

Depositional landform of winds

  • Materials eroded and transported by winds must come to rest somewhere.
  • The finest dust travels enormous distances in the air sometimes as long as 2300 miles before they settle down.
  • The dust from Sahara desert is sometimes blown across the Mediterranean to fall as blood rains in Italy or on the glaciers of Switzerland.

Dunes

  • Hills of sand formed by the accumulation of sand & shaped by the movement of winds, a striking characteristic of erg or sandy desert.
  • Can be classified as active or live dunes, constantly on move or inactive fixed dunes, rooted with vegetation

Barchan dune

  • Crescent or moon shaped live dunes which advance steadily in the particular direction of prevailing winds.
  • Initiated probably by a chance accumulation of sand across an obstacle, such as patch of grass or a heap of rocks.

Seif or longitudinal dunes

  • Long narrow ridges of sand, often over a hundred miles long, lying parallel to the direction of the prevailing winds, with their crestline rises & falls in alternate peaks and saddles in regular successions.
  • Dominant wind blows straight along the corridor between the lines of the dunes so that they are swept clear of sand & remain smooth.

वायु द्वारा निर्मित निक्षेपित  स्थलरूप

  • अपरदित पदार्थ जो वायु द्वारा  बहा कर लाये जाते है कहीं न कहीं अवश्य रुकते है |
  • सबसे हल्की धूल वायु नीचे गिरने से पहले बहुत लम्बी दुरी तय करती है ,कभी कभी तो  2300 मील की दूरी भी |
  • सहारा रेगिस्तान से धूल कभी-कभी भूमध्यसागरीय क्षेत्र तक बहती है एवं इटली अथवा स्विट्जरलैंड के ग्लेशियरों में संक्षेपित बौछार के रूप में गिरती है |

टिब्बा

  • टिब्बे से हमारा अभिप्राय रेत के संचय द्वारा बनाई गई रेत की पहाड़ियों से है ,जिनको वायु की गति द्वारा आकार मिलता है ,ये एक रेतीले मरुस्थल अथवा अर्ग की  उल्लेखनीय विशेषता है |
  • इन्हे सक्रिय या जीवित जो लगातार गतिमान हो अथवा निष्क्रिय या स्थिर टिब्बे के रूप में विभाजित किया जा सकता है ,इनमे वनस्पतियां उगी होती है

बरकान टिब्बे

  • अर्धचन्द्राकार बालू के टिब्बे जो लगातार प्रवाहित वायु की दिशा में बढ़ते रहते है |
  • ये संभवतः रेत के संचयीकरण से किसी अवरोध जैसे घास के पैच अथवा चट्टानों का ढेर द्वारा निर्मित होते है |

सील अथवा अनुदैर्ध्य टिब्बा

  • ये रेत के संकीर्ण कटक है,जो 100 मील तक लम्बे होते है,एवं प्रवाहित वायु के समांतर दिशा में विद्यमान होते है,इनकी शीर्ष रेखा में वृद्धि होती है तथा प्रत्येक चोटी के अंतराल के बाद पतन होता है एवं क्रमबद्ध तरीके से ये वहां गिर जाते है |
  • मुख्य रूप से वायु बालुका टीलों की रेखा के बीच कॉरिडोर से बहती है  एवं उनमे से रेत बहा दी जाती है एवं वे चिकने रह जाते है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Best Study Material (History) for Haryana Civil Services (HCS) Exam 2018

Best Study Material (History) for Haryana Civil Services (HCS) Exam 2018

Best Study Material (History) for Haryana Civil Services (HCS) Exam 2018

Socio Religious Movement

Religious movements in South

Southern India religious Movement

Sri Narayana Guru Dharma Paripalana (SNDP) Movement

  • This movement was an example of a regional movement born out of conflict between the depressed, classes and upper non-Brahmin castes.
  • Started by Sri Narayana, Guru Swamy among the Ezhavas of Kerala, who were a caste of toddy-tappers and were considered to be untouchables.

Self-Respect Movement

  • Started by E.V. Ramaswamy Naicker, and Balija Naidu, in the mid 1920s.
  • The movement aimed at nothing short of a rejection of the brahmanical religion and culture which Naicker felt was the prime instrument of exploitation of the lower castes.

Temple Entry Movement

  • In 1924, Vaikom Satyagraha led by K.P. Kesava, was launched in Kerala demanding the throwing open of Hindu temples and roads to the untouchables.
  • Gandhi undertook a tour of Kerala in support of the movement.

Religious movements among Muslims:

  • Wahabi/Walliullah Movement
  • Ahmadiya Movement Syed Ahmed Khan
  • Aligarh Movement
  • Deoband Movement

Wahabi Movement:

  • Shah Walliullah (1702-62) inspired this essentially revivalist response to western influences and the degeneration which had set in among Indian Muslims.
  • He was the first Indian Muslim leader of the 18th century to organize Muslims around the two-fold ideals of this movement.

Ahmadiyya Movement

  • Founded by Mirza Ghulam Ahmed in 1889. Based on liberal principles.
  • It described itself as the standard-bearer of Mohammedan Renaissance, and based itself, like the Brahmo Samaj, on the principles of universal religion of all humanity, opposing jihad (sacred war against non-Muslims).

Best Study Material

दक्षिणी भारत धार्मिक आन्दोलन

दक्षिणी भारत धार्मिक आन्दोलन

श्री नारायण गुरु धर्मं परिपालन (एस.एन.डी.पी.) आन्दोलन

  • यह आन्दोलन दलित और ऊपरी गैर ब्राह्मण जातियों के संघर्ष से पैदा हुए क्षेत्रीय आन्दोलन का उदाहरण था |
  • केरल के एझावा के श्री नारायण, गुरु स्वामी के द्वारा इसकी शुरुआत की गई थी, जो कि ताड़ी-टैपरों की जाति थी और जिन्हें अछूत माना जाता था |

स्वाभिमान आन्दोलन

  • इ.वी. रामास्वामी नैक्कर और बलीजा नायडू द्वारा 1920 के मध्य में इसकी शुरुआत की गई थी |
  • इस आन्दोलन का लक्ष्य कुछ और नहीं बल्कि ब्राह्मणीय धर्म और संस्कृति को अस्वीकार करना था, जो कि नैक्कर के विचार से निचली जातियों के शोषण का प्रमुख कारण था |

मंदिर प्रवेश आन्दोलन

  • वायकोम सत्याग्रह की शुरुआत केरल में 1924 में के. पी. केसव के द्वारा की गई, जिसकी मांग यह थी कि हिन्दू मंदिरों और सड़कों को अछूतों के लिए भी खोला जाये |
  • गांधीजी ने आन्दोलन का समर्थन केरल में एक यात्रा कर किया |

मुस्लिमों में धार्मिक आन्दोलन :

  • वहाबी / वाल्लिउल्लाह आन्दोलन
  • अहमदीय आन्दोलन सैयद अहमद खान
  • अलीगढ़ आन्दोलन
  • देवबंद आन्दोलन

वहाबी आन्दोलन :

  • शाह वालिउल्लाह (1702-62) ने पश्चिमी प्रभावों के बीच अनिवार्य रूप से इस  पुनरुत्थानवादी प्रतिक्रिया और अधःपतन को प्रेरित किया जो भारतीय मुसलमानों के बीच बस चूका था|
  • वह 18वीं सदी के पहले भारतीय मुस्लिम नेता थे जिन्होंने इस आन्दोलन के दो-चार आदर्शों के आसपास मुस्लिमों को संगठित किया |

अहमदिया आन्दोलन

  • मिर्ज़ा ग़ुलाम अहमद द्वारा 1889 में शुरू की गई | यह उदार सिद्धांतों पर आधारित था |
  • यह अपने आप को मुस्लिम पुनर्जागरण के मानक वाहक के रूप में वर्णित करता है, ब्रह्म समाज की तरह स्वयं सभी मानवता के सार्वभौमिक धर्म के सिद्धांतों पर आधारित, जिहाद (गैर-मुस्लिमों के खिलाफ पवित्र युद्ध) का विरोध करता है |

Religious movements among Muslims

Aligarh Movement

  • By Syed Ahmed Khan, a loyalist member of the judicial service of the Government.
  • Became a member of the Imperial Legislative Council in 1878 and loyalty earned him a knighthood in 1888.

The Deoband School

  • Organized by the orthodox section among the Muslim ulema as a revivalist movement with the twin objectives of propagating pure teachings of the Quran and Hadis among Muslims and keeping alive the spirit of jihad against the foreign rulers.
  • Established in Deoband in Saharanpur district (United Provinces) in 1866 by Mohammad Qasim Nanotavi (1832-80) and Rashid Ahmed Gangohi (1828-1905)

Religious movements among parsis:

Rahnumai Mazdayasnan Sabha:

  • Founded in 1851 by a, group of English-educated Parsis for the “regeneration of the social conditions of the Parsis and the restoration of the Zoroastrian religion to its pristine purity”.

Religious movements among Sikhs

Singh Sabha Movement

  • Founded at Amritsar in 1873
  • Objectives: To make available modern western education to the Sikhs, and to counter the proselytising activities of Christian missionaries, Hindu revivalists.

Akali Movement:

  • An offshoot of Singh Sabha Movement.
  • Aimed at liberating the Sikh gurdwaras from the control of corrupt Udasi Mahants who were a loyalist and reactionary lot, enjoying government patronage.

मुसलमानों के धार्मिक आंदोलन

अलीगढ़ आन्दोलन

  • सरकार के न्यायिक सेवा के एक ईमानदार सदस्य सैयद अहमद खान द्वारा चलाया गया|
  • 1878 में शाही विधायी परिषद् का सदस्य बने और इनके इमानदारी के कारण इन्हें 1888 में नाइटहुड की उपाधि से सम्मानित किया गया |

देवबंद शाखा

  • यह उदारवादी आन्दोलन के विरोध में कुछ रूढ़िवादी मुस्लिम उलेमाओं द्वारा शुरू किया गया आन्दोलन था जोकि कुरान और हदीस के आधार पर इस्लाम के वास्तविक सार की शिक्षा देना चाहता था और इन्होने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जिहाद की संकल्पना का भी प्रतिपादन किया|
  • मुहम्मद कासिम ननौतावी (1832-80) और रशीद अहमद गंगोही (1828-1905) द्वारा 1866 में सहारनपुर जिला (संयुक्त रियासतें) में देवबंद में स्थापित |

पारसियों के बीच धार्मिक आन्दोलन :

रहनुमाई माजदयासन सभा :

  • अंग्रेजी शिक्षा प्राप्त पारसियों के एक समुदाय ने 1851 में रहनुमाई माजदयासन सभा गठित की। इसका उद्देश्य पारसी समाज का पुर्नरुद्धार तथा पारसी धर्म की प्राचीन सभ्यता को पुर्नःस्थापित करना था।

सिखों के बीच धार्मिक आन्दोलन :

सिंह सभा आन्दोलन

  • 1873 में अमृतसर में स्थापित |
  • लक्ष्य : सिखों को आधुनिक पश्चिमी शिक्षा उपलब्ध कराना, और ईसाई मिशनरियों, हिन्दू पुनरुद्धार के धर्म परिवर्तनकारी गतिविधियों का सामना करना

अकाली आन्दोलन :

  • सिंह सभा आन्दोलन की एक शाखा
  • इसका लक्ष्य सिख गुरुद्वारों को भ्रष्ट उदासी महंतों के नियंत्रण से मुक्त कराना था, जो कि सरकारी सरंक्षण का लाभ ले रहे ईमानदार और अत्यधिक प्रतिक्रियावादी थे |

India religious reform movement

Arya Samaj

  • Founder: Dayanand Saraswati (or Mulshankar, (1824-83)
  • Born in the old Morvi state in Gujarat in a brahmin family.
  • He wandered as an ascetic for fifteen years (1845-60) in search of truth.
  • The first Arya Samaj unit was formally set up by him at Bombay in 1875

Arya samaj work:

  • Fixed the minimum marriageable age at twenty-five years for boys and sixteen years for girls.
  • Encouraged intercaste marriages and widow remarriages.
  • Demanded equal status for women
  • Helped the people in crises like floods, famines and earthquakes.

Principles of the Arya Samaj:

  1. God is the primary source of all true knowledge
  2. God, as all-truth, all-knowledge, almighty, immortal, creator of Universe, is alone worthy of worship
  3. The Vedas are the books of true knowledge

Legislative Measures for Women

  • Bengal Regulation (1829) banning sati
  • Hindu Widows’ Remarriage Act, 1856.
  • Age of Consent Act, 1891
  • Sarda Act, 1930
  • Special Marriage Act, 1954

अखिल भारतीय धार्मिक आन्दोलन

आर्य समाज

  • संस्थापक : दयानंद सरस्वती ( या मूलशंकर 1824-83)
  • एक ब्राह्मण परिवार में गुजरात में पुराने मोरवी राज्य में जन्म लिया |
  • वे सत्य की खोज में 15 वर्षों तक एक तपस्वी के रूप में भटकते रहे |
  • औपचारिक रूप से पहली आर्य समाज इकाई की स्थापना उनके द्वारा 1875 में बॉम्बे में की गई |

आर्य समाज के कार्य :

  • लड़कों के लिए न्यूनतम वैवाहिक आयु 25 वर्ष और लड़कियों के लिए 16 वर्ष करना
  • अंतरजातीय  विवाह व विधवा पुनर्विवाह को प्रोत्साहित किया |
  • महिलाओं के लिए समान दर्जे की मांग की |
  • बाढ़, सूखे और भूकंप जैसे संकट के समय लोगों की मदद की |

आर्य समाज के सिद्धांत :

  1. भगवान सभी प्रकार के ज्ञान का मुख्य स्त्रोत हैं|
  2. ईश्वर सर्व-सत्य है, सर्व-ज्ञानी है, सर्वशक्तिमान है,अनश्वर है, ब्रह्मांड के निर्माता है, और केवल वहीं पूजनीय है|
  3. वेद ही सच्चे ज्ञान की पुस्तक हैं

महिलाओं के लिए उठाये गए  सवैंधानिक कदम

  • सती प्रतिबन्ध करने के लिए बंगाल विनियमन (1829)
  • हिन्दू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम, 1856
  • 1891 एज ऑफ़ कंसेन्ट अधिनियम
  • शारदा अधिनियम, 1930
  • विशेष विवाह अधिनियम, 1954

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Online HCS Prelims 2018 || Geography Study Material – Frontier IAS

Online HCS Prelims 2018 || Geography Study Material – Frontier IAS

Online HCS Prelims 2018 || Geography Study Material – Frontier IAS

Landforms And Their Evolution

Waves and currents

  • The coastline under the constant action of waves, tides and currents, is undergoing changes from day to day.
  • Coastal processes are the most dynamic and hence most destructive.
  • Some of the changes along the coasts take place very fast.
  • At one place, there can be erosion in one season and deposition in another.

Corrasion

  • Waves armed with rock debris of all sizes & shapes charge against the base of the cliffs, & wear them back by corrasion.
  • On-coming currents & tides complete the work by sweeping the eroded material into the sea.

Hydraulic action

  • In their forward surge, waves splashing against the coast may enter joints and crevices in the rocks.
  • The air imprisoned inside is immediately compressed but when the waves retreat, the compressed air expands with explosive violence.

Solvent action

  • On limestone coasts, the solvent action of the sea water on calcium carbonate sets up chemical changes in the rocks & disintegration takes place

Despite a great variety of coastal features, coastline may be divided into two basic types:

  • Coastline of Submergence
  • Coastline of Emergence

Online HCS Prelims 2018

तरंगे एवं धाराएं

  • तरंगों, ज्वार और धाराओं की निरंतर क्रिया के कारण  समुद्र तट, दिन-प्रतिदिन परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है।
  • तटीय प्रक्रियाएं  सर्वाधिक क्रियाशील है और इसी कारण अत्यधिक विनाशकारी होती है |
  • तट पर कुछ परिवर्तन अत्यंत शीघ्रता से होते हैं |
  • एक ही स्थान पर एक मौसम में अपरदन तथा दूसरे मौसम में निक्षेपण हो सकता है |

अपघर्षण

  • सभी आकार और आकृति  के चट्टानों के मलबे साथ लेकर तरंगें भृगु के तल पर चोट करती है और अपघर्षण के द्वारा उनका अपरदन करती है |
  • आने वाली धाराएं और ज्वार अपरदित पदार्थ को  बहाकर समुद्र में ले जाती हैं |

जलगति क्रिया

  • तरंग अपने प्रवाह में जब तट से टकराते हैं तो वे चट्टानों की दरारों और जोड़ों में घुस जाते हैं |
  • उनमें कैद हवा तुरंत संकुचित हो जाते हैं लेकिन जब तरंगों का अवनमन होता है ये संकुचित हवा विस्फोट के साथ फैलते हैं |

विलायक क्रिया

  • चूनापत्थर के तटों पर समुद्री जल की कैल्शियम कार्बोनेट के ऊपर विलायक क्रिया चट्टानों में रासायनिक बदलाव लाती है जिससे उनमे विघटन होता है |

बहुधा प्रकार के तटीय आकृति होने के बावजूद तटरेखा को  दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है |

  • जलमग्न तटरेखा
  • उनमग्न तट रेखा  

Coastline of Submergence

  • Formed due to sinking of the land or rise of the sea level
  • Including such coasts are Ria coasts, Fjord coasts, Estuarine coasts & Dalmatian/Longitudinal coasts

Coastline of Emergence

  • Formed due to the uplift of the land or fall in the sea level
  • Generally less common & include uplifted lowland coast & emergent upland coast

Waves and currents erosional landform

Wave-cut cliffs

  • Usually found where erosion is the dominant shore process.
  • Cliffs are common on the high rocky coasts.
  • Almost all sea cliffs are steep and may range from a few metre to 30 metre or even more.

Capes & Bays

  • On exposed coasts, the continual action of waves on the rocks of varying resistance causes the coastline to be eroded irregularly.
  • This is particularly pronounced where hard rocks occur in alternate band with softer rocks.

Wave Cut Terrace:

  • At the foot of cliffs there may be a flat or gently sloping platform covered by rock debris derived from the sea cliff behind.
  • Such platforms occurring at an elevation above the average height of waves is called as a wave-cut terrace.

जलमग्न तटरेखा

  • इसका निर्माण स्थल खंड के नीचे धसने या समुद्र तल के ऊपर उठने से होता है |
  • इस प्रकार के तट हैं – रिया तट, फियोर्ड तट, नदमुख तट, डाल्मेशियन तट

उनमग्न तटरेखा

  • इसका निर्माण स्थलखंड के ऊपर उठने या समुद्र तल के नीचे होने पर होता है |
  • साधारणतः असामान्य और इस प्रकार के तट – उठा हुआ  निम्न भूमि का तट, उनमग्न उच्च भूमि का तट

तरंगों और धाराओं का भूगर्भीय आकार

तरंग घर्षित भृगु

  • ऐसे तट जहा अपरदन प्रमुख क्रिया है वहां तरंग घर्षित भृगु पाए जाते हैं |
  • आम तौर पर उच्च चट्टान के तट पर भृगु मिलते हैं |
  • लगभग सभी समुद्र भृगु की ढाल तीव्र होती है जो कुछ मीटर से लेकर 30 मीटर या इससे भी अधिक हो सकती है |

रास तथा खाड़ी

  • तटों पर मौजूद विभिन्न प्रतिरोध वाले चट्टानों पर तरंगों की लगातार क्रियाओं से तटरेखा अनियमित रूप से अपरदित होती है |
  • ये उस स्थान पर  विशेष रूप से स्पष्ट होते हैं जहाँ कठोर और मुलायम चट्टान एकान्तर पट्टियों में होते हैं |

तरंग घर्षित वेदिकाएं

  • भृगु की तलहटी पर एक मंद ढाला वाला या समतल प्लेटफार्म होता है जो समुद्री भृगु से प्राप्त शैल मलबे से ढंका होता है |
  • अगर ये प्लेटफार्म तरंगों की ऊंचाई से अधिक ऊंचाई पर मिलते हैं  तो इन्हें तरंग घर्षित वेदिकाएं कहते हैं |

Depositional landform of Waves

Beaches and Dunes

  • Beaches are characteristic of shorelines that are dominated by deposition, but may occur as patches along even the rugged shores.
  • Most of the sediment making up the beaches comes from land carried by the streams and rivers or from wave erosion.
  • Beaches are temporary features.
  • The sandy beach which appears so permanent may be reduced to a very narrow strip of coarse pebbles in some other season.

Sand dunes:

  • Just behind the beach, the sands lifted and winnowed from over the beach surfaces will be deposited as sand dunes.
  • Sand dunes forming long ridges parallel to the coastline are very common along low sedimentary coasts.

Lagoons:

  • A lagoon is a shallow body of water separated from a larger body of water by barrier islands or reefs.
  • Lagoons would eventually turn into a swamp which would subsequently turn into a coastal plain.

Offshore bar:

  • A ridge of sand and shingle formed in the sea in the offshore zone (from the position of low tide waterline to seaward) lying approximately parallel to the coast is called an offshore bar.
  • The offshore bars and barriers commonly form across the mouth of a river or at the entrance of a bay.

Spits:

  • Sometimes such barrier bars get keyed up to one end of the bay, they are called spits.
  • Spits may also  develop attached to headlands/hills.

तरंगों द्वारा निर्मित निक्षेपित स्थलरूप

पुलिन और रेत टिब्बे

  • तटों की प्रमुख विशेषता पुलिन की उपस्थिति है जहाँ निक्षेपण हावी होता है, यद्यपि उबड़-खाबड़ तटों पर भी ये टुकड़ों में पाए जाते हैं |
  • वे अवसाद जिनसे पुलिन निर्मित होते हैं, अधिकतर थल से नदियों व सरिताओं द्वारा या तरंगों के अपरदन द्वारा बहाये गए पदार्थ होते हैं
  • पुलिन अस्थायी स्थलाकृति है |
  • कुछ रेत पुलिन जो स्थायी प्रतीत होते हैं, किसी और मौसम में स्थूल कंकड़-पत्थर की तंग पट्टियों में परिवर्तित हो जाते हैं |

रेत टिब्बे

  • पुलिन के ठीक पीछे, पुलिन तट से उठायी गयी रेत रेत टिब्बे के रूप में निक्षेपित होती है |
  • तटरेखा के समानांतर लम्बाई में कटकों के रूप में बने रेत टिब्बे निम्न तलछटों पर अक्सर देखे जा सकते हैं |

लैगून

  • लैगून उथले जल का पिंड होता है जो विशाल जलीय पिंड से बैरियर रीफ या बैरियर द्वीप  के द्वारा अलग किये जाते हैं |
  • लैगून अंततः दलदल में बदल जाता है जो बाद में एक तटीय मैदान में परिवर्तित हो जाता है |

अपतट रोधिक:

  • समुद्री तट पर समुद्र के सामानांतर पायी जाने वाली रेत और शिंगिल की कटक को अपतट रोधिक कहते हैं
  • अपतटीय रोध व रोधिकाएँ प्रायः या तो खाड़ी के प्रवेश पर या नदी के मुहानों के सम्मुख बनती है |

स्पिट :

  • कई बार इन रोधिकाओं का एक सिरा खाड़ी से जुड़ जाता है तो इन्हे स्पिट कहते हैं |
  • शीर्षस्थल से एक शिरा जुड़ने पर भी स्पिट विकसित होता है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Exam Complete Study Material 2018 (Prelims+Mains+Interview)

HCS Exam Complete Study Material 2018 (Prelims+Mains+Interview)

HCS Exam Complete Study Material 2018 (Prelims+Mains+Interview)

Socio religious movements

  • The dawn of the nineteenth century witnessed the birth of a new vision: a modern vision among some enlightened sections of the Indian society.
  • This enlightened vision was to shape the course of events for decades to come and even beyond.
  • This process of reawakening, sometimes, but not with full justification, defined as the ‘Renaissance’.

How British rule was different from previous intruders:

  • Most of the earlier intruders who came to India had settled within her frontiers, were absorbed by her superior culture and had become part of the land and its people.
  • British conquest came at a time when India, in contrast to an enlightened Europe of the eighteenth century affected in every aspect by science arid scientific outlook, presented the picture of a stagnant civilisation and a static and decadent society.

Factors which gave rise to reform movements:

  • Hinduism had become a compound of magic, animism and superstition.
  • Presence of colonial government on Indian soil.
  • Various ills plaguing Indian society—obscurantism, superstition, polytheism, idolatry.

Social Base

  • Newly emerging middle class and traditionally as well as western educated intellectuals.

Ideological Base

  • The important intellectual criteria which gave these reform movements an ideological unity were rationalism, religious universalism and humanism.

These reform movements could broadly be classified in two categories:

  • Reformist movements: the Brahmo Samaj, the Prarthana Samaj, the Aligarh movement
  • Revivalist movements:  Arya Samaj and the Deoband movement.

Reform Movements among Hindus:

Bengal:

  • Raja Ram-mohan Roy and Brahmo Samaj
  • Debendranath Tagore and Tattvabodhini Sabha

Southern India

  • Sri Narayana Dharma Paripalana Movement
  • Self-respect Movement

HCS Exam Complete Study Material

सामाजिक धार्मिक आंदोलन

  • उन्नीसवीं सदी की भोर ने एक नई दूरदर्शिता  के आरम्भ को देखा: यह आधुनिक संकल्पना भारतीय समाज के कुछ प्रबुद्ध वर्गों के बीच थी |
  • यह प्रबुद्ध संकल्पना आने वाले दशकों तथा इसके बाद की घटनाओं को एक नया रंग रूप देने वाली थी |
  • इस प्रक्रिया को पुन: जागृति कहा गया, परन्तु इसके पीछे कोई तर्क नहीं था, इसे ‘पुनर्जागरण’ के रूप में भी परिभाषित किया गया |

ब्रिटिश शासन अन्य आक्रमणकारियों से कई प्रकार से भिन्न था |

  • भारत में आने वाले अधिकांश आक्रमणकारी भारत में ही बस गए, वे इसकी श्रेष्ठतर संस्कृति में घुल मिल गए और भारत की धरा तथा आमजन का ही हिस्सा बन गए |
  • किन्तु अंग्रेज़ों का आगमन भारत में ऐसे समय में हुआ जब यूरोप में आधुनिक पाश्चात्य संस्कृति की बयार बह रही थी एवं मानवतावाद,तर्कवाद,विज्ञान एवं वैज्ञानिक अन्वेषण की अपनी महत्ता स्थापित करते जा रहे थे |

सुधार आंदोलन को जन्म देने वाले कारक-

  • हिन्दू समाज बुराइयों,बर्बरता एवं अंधविश्वासों से ओत प्रोत था |  
  • भारत की भूमि पर उपनिवेशी शासन की उपस्थिति |
  • भारतीय समाज में व्याप्त विभिन्न कुरीतियां यथा-भेदभाव,छुआछूत,अंधविश्वास,बहुपत्नी प्रथा तथा मूर्तिपूजा |

सामजिक आधार

  • नव उभरता माध्यम वर्ग और पारंपरिक के साथ-साथ पश्चिमी शिक्षित बौद्धिक

आदर्श आधार

  • वे महत्वपूर्ण बौद्धिक मापदंड जो इन आन्दोलनों को एक आदर्शात्मक एकता प्रदान करते थे, वे थे – तर्कवाद, धार्मिक सार्वभौमिकता और मानवता |

इन सुधार आंदोलनों को मुख्य रूप से दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता हैं :

  • सुधारक आन्दोलन : ब्रह्म समाज, प्रार्थना समाज, अलीगढ़ आन्दोलन
  • पुनरुत्थानवादी आन्दोलन : आर्य समाज और देवबंद आन्दोलन

हिन्दुओं में सुधार आन्दोलन :

  • राजा राम मोहन राय और ब्रह्म समाज
  • देबेन्द्रनाथ टैगोर और तत्वबोधिनी सभा

दक्षिणी भारत

  • श्री नारायण धर्म परिपालन आन्दोलन
  • आत्मसम्मान आन्दोलन

Brahmo Samaj

All India

  • Ramakrishna Movement and Vivekananda
  • Dayanand Saraswati and Arya Samaj
  • Theosophical Movement

Raja Rammohan Roy and Brahmo Samaj:

  • The father of Indian Renaissance
  • In 1831, he went to England to argue the case of Akbar II before the board of control.

Contribution for Women:

  • Roy was a determined crusader against the inhuman practice of sati.
  • Started his anti-sati struggle in 1818.

Contribution for Education:

  • Supported David Hare’s efforts to found the Hindu college in 1817, while Roy’s English school taught mechanics and Voltaire’s philosophy.
  • Established a Vedanta college ( In 1825) where courses in both Indian learning and Western social and physical sciences were offered.

Debendranath Tagore

  • Father of Rabindranath Tagore
  • Product of the best in the traditional Indian learning and the new thought of the West.
  • In 1839, founded the Tattvabodhini Sabha to propagate Ram Mohan Roy’s ideas.

ब्रह्म समाज

अखिल भारतीय

  • रामकृष्ण आन्दोलन और विवेकानंद
  • दयानंद सरस्वती और आर्य समाज
  • थियोसोफिकल आन्दोलन

राजा राम मोहन राय और ब्रह्म समाज :

  • भारतीय नवीनीकरण के जनक
  • 1831 में वे अकबर II के मामले के लिए नियंत्रण समिति के समक्ष अपना तर्क रखने इंग्लैंड गए |

महिलाओं के लिए योगदान :

  • राय अमानवीय सती प्रथा के खिलाफ लड़ने वाले एक बहुत सशक्त योद्धा थे |
  • 1818 में उन्होंने अपना सती प्रथा विरोधी आन्दोलन शुरू किया |

शिक्षा में योगदान :

  • डेविड हैरे के प्रयासों का समर्थन 1817 में हिन्दू कॉलेज को स्थापित कर किया, वही राय के अंग्रेजी विद्यालय में मैकेनिक और वोल्टेअर के दर्शन को पढाया जाता था |
  • वेदांत कॉलेज (1825 में) स्थापित किया जहाँ पढ़ाई भारतीय तरीके और पश्चिमी सामाजिक व भौतिक विज्ञान दोनों में उपलब्ध थे |

देबेन्द्र नाथ टैगोर

  • रबीन्द्रनाथ टैगोर के पिता जी |
  • पारंपरिक भारतीय सीख व पश्चिमी नए विचार के सर्वश्रेष्ठ उदाहरण |
  • 1839 में इन्होने तत्वबोधिनी सभा की स्थापना राम मोहन राय के विचारों का प्रचार करने के लिए किया |

Movements of Western India

Western India

Paramhans Mandali

  • 1849 – founded in Maharashtra
  • Its founders believed in one God and were primarily interested in breaking caste rules.

Prarthana Samaj :

  • founded by Keshab Chandra Sen in Bombay in 1863.
  • Earlier, the Brahmo ideas spread in Maharashtra where the Paramhansa Sabha was founded in 1849.

There was a four-point social agenda also:

  • Disapproval of caste system,
  • Women’s education
  • Widow remarriage
  • Raising the age of marriage for both males and females.

The Servants of India Society :

  • Gopal Krishna Gokhale, the liberal leader of Indian National Congress, founded the Servants of India Society in 1905.

Aims of the society:

  • To train national missionaries for the service of India
  • To promote, by all constitutional means, the, true interests of the Indian people

Social Service League

  • Founded by Narayan Malhar Joshi in Bombay.

Aim:

  • To secure for the masses better and reasonable conditions of life and work .
  • Organized many schools, libraries, reading rooms, and cooperative societies.

पश्चिमी भारत के आन्दोलन

पश्चिमी भारत

परमहंस मंडली

  • 1849 में महाराष्ट्र में स्थापित हुई|
  • इसके संस्थापक एक ईश्वर में विश्वास करते थे और मुख्य रूप से जाति नियमों को तोड़ने में उनकी रूचि थी |

प्रार्थना समाज :

  • 1863 में बॉम्बे में केशव चन्द्र सेन द्वारा स्थापित किया गया|
  • आरम्भ में  ब्रह्म विचार महाराष्ट्र में फैले जहाँ परमहंस सभा की स्थापना 1849 में हुई थी |

इसमें चार बिन्दुओ का  सामाजिक मुद्दा भी था :

  • जाति प्रथा की अस्वीकार्यता
  • महिला शिक्षा
  • विधवा पुनर्विवाह
  • पुरुष व महिला दोनों के लिए विवाह की आयु को बढ़ाना |

भारतीय समाज सेवक :

  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उदारवादी नेता गोपाल कृष्ण गोखले ने 1905 में भारतीय समाज सेवक की स्थापना की |

समाज के लक्ष्य :

  • भारतीय सेवा के लिए राष्ट्रीय मिसनरियों को प्रशिक्षित करना |
  • संवैधानिक तरीकों से, भारतीय लोगों के सारे सच्चे हितों को बढ़ावा देना |

सामाजिक सेवा लीग

  • नारायण मनोहर जोशी द्वारा बॉम्बे में स्थापित की गई   |

लक्ष्य :

  • जनता की भलाई ,उनके जीवन व कार्य की उचित  परिस्थितियों को सुरक्षित करना |
  • कई विद्यालयों, पुस्तकालयों, पाठ्य कमरों और सहकारी सोसाइटी का गठन करना |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Online Study Content of Geography || HCS Notes (2018)

HCS Online Study Content of Geography || HCS Notes (2018)

HCS Online Study Content of Geography || HCS Notes (2018)

Landforms And Their Evolution

Groundwater

Groundwater: The part of rain or snow-melt water which accumulates in the rocks after seeping through the surface is called underground water or simply groundwater.

  • The rocks through which water can pass easily are called as permeable rocks while the rocks which do not allow water to pass are called as impermeable rocks.
  • After vertically going down to some depth, the water under the ground flows horizontally through the bedding planes, joints or through the materials themselves.
  • Although the amount of groundwater varies from place to place, its role in shaping the surface features of the earth is quite important.
  • The works of groundwater are mainly seen in rocks like limestone, gypsum or dolomite which are rich in calcium carbonate.

On the basis of variability, water tables are of two types:

  • Permanent water table: in which the water will never fall below a certain level and wells dug up to this depth provide water in all seasons;
  • Temporary water tables: which are seasonal water tables.
  • The surface water percolates well when the rocks are permeable, thinly bedded and highly jointed and cracked.
  • After vertically going down to some depth, the water under the ground flows horizontally through the bedding planes, joints or through the materials themselves.

Groundwater erosional landforms

Swallow holes:

Small to medium sized rounded to sub-rounded shallow depressions called swallow holes which forms on the surface of rocks like limestone by the action of the solution.

Sinkhole:

A sinkhole is an opening more or less circular at the top and funnel-shaped towards the bottom with sizes varying in area from a few sq. metre to a hectare and with depth from a less than half a metre to thirty metres or more.

Valley sink:

When sinkholes and dolines join together because of slumping of materials along their margins or due to roof collapse of caves, long, narrow to wide trenches called valley sinks or Uvalas form.

Lapies:

Lappies are the irregular grooves and ridges formed when most of the surfaces of limestone are eaten by solution process.

भौमजल

भौमजल : वर्षा या हिमपात द्वारा पिघले  पानी का एक हिस्सा जो सतहों से निकलने के बाद चट्टानों में जमा होता है, वह भूमिगत जल या भूजल जल कहलाता है |

  • वे चट्टानें जिनसे जल आसानी से गुजर सकता है उन्हें पारगम्‍य चट्टानें कहते है जबकि वो चट्टानें जो जो जल को स्वयं में से ना गुजरने दें , वे अपारगम्य चट्टान कहलाती है |
  • लंबवत गहराई पर जाने के बाद जल धरातल के नीचे चट्टानों की संधियों,छिद्रों व संस्तरण तल से होकर क्षैतिज अवस्था में बहना आरम्भ करता है |
  • हालांकि भौम जल की मात्रा स्थानों के अनुसार भिन्न भिन्न होती है एवं पृथ्वी की सतह को आकार देने में इसकी भूमिका अहम है |
  • भूमिगत जल का कार्य मुख्य  रूप से चूना पत्थर, जिप्सम,डोलोमाइट जिनमे कैंल्शियम कार्बोनेट की प्रधानत्ता होती है |

विभिन्नता के आधार पर  जल स्तर दो प्रकार के होते है-

  • स्थायी जल स्तर वह है जिसमे जल का स्तर एक निश्चित मात्रा  से नीचे नहीं जाता है और इस गहराई तक  खोदे जाने वाले कुएं  सभी मौसमों में पानी प्रदान करते हैं |
  • अस्थायी जल स्तर : ये मौसम आधारित है |
  • जब चट्टाने पारगम्य,कम सघन,अत्यधिक जोड़ों/संधियों और दरारों वाली हों,तो धरातलीय जल का अंत: स्रवण आसानी से होता है |
  • लंबवत  गहराई पर जाने के बाद, जब धरातल के नीचे चट्टानों की संधियों, छिद्रों ,व संस्तरण तल से होकर क्षैतिज अवस्था में बहना आरम्भ करता है |

भौमजल अपरदित स्थलरूप

विलयन रंध्र

चूना पत्थर चट्टानों के तल पर घुलन क्रिया द्वारा छोटे एवं माध्यम आकार के घोल गर्तों का निर्माण होता है जिनके विलय पर इन्हे विलयन रंध्र कहा जाता है |

घोलरंध्र

घोलरंध्र एक प्रकार के छिद्र होते हैं जो ऊपर से वृत्ताकार और नीचे कीप की आकृति के होते हैं और इनका क्षेत्रीय विस्तार कुछ वर्ग मीटर से हेक्टेयर तक तथा गहराई आधा मीटर से 30 मीटर या उससे अधिक होती है |

घाटी रंध्र

  • जब घोलरंध्र एवं डोलाइन कंदराओं  की छत के गिरने से या पदार्थों के स्खलन द्वारा आपस में मिल जाते हैं तो लम्बी तंग एवं विस्तृत खाइयां बनती है जिन्हे घाटी रंध्र  या युवाला कहा जाता है |

लेपिस

  • जब चूनापत्थर के अधिकतर सतहों को विलयन प्रक्रिया द्वारा क्षतिग्रस्त कर दिया जाता है जिसके कारण पतले एवं अनियमित कटक रह  जाते हैं जिन्हे लेपिस कहा जाता है |

HCS Online Study Content

Groundwater erosional landforms

Caves:

  • Forms in the areas where there are alternative beds of rocks (non-soluble) with limestone or dolomite in between or in areas where limestone are dense, massive and occurring as thick beds.
  • Water percolates down either through the materials or through cracks and joints and moves horizontally along bedding planes.

Stalactites and stalagmites

  • They are formed when the calcium carbonates dissolved in groundwater get deposited once the water evaporates.
  • These structures are commonly found in limestone caves.
  • Stalactites are calcium carbonate deposits hanging as icicles while Stalagmites are calcium carbonate deposits which rise up from the floor.

Glaciers:

  • Glaciers are a mass of ice moving under its own weight. They are commonly found in the snow-fields.
  • Types of Glaciers: continental glaciers, ice caps, piedmont glaciers and valley glaciers.

Ogives:

  • These are alternating wave crests and valleys (troughs) that appear as dark and light bands of ice on glacier surfaces.
  • They are linked to seasonal motion of glaciers; the width of one dark and one light band generally equals the annual movement of the glacier.

Fjord:

  • Very deep glacial trough filled with seawater and making up shorelines.
  • A fjord is formed when a glacier cuts a U-shaped valley by ice segregation and this valley gradually gets filled with the seawater.

Horns and Aretes

  • Horns are sharp pointed and steep-sided peaks.
  • Formed by headward erosion of cirque wall.

भौमजल अपरदित स्थलरूप

कन्दराएँ

  • ऐसे प्रदेश में निर्मित होते हैं  जहाँ चट्टानों के एकान्तर संस्तर हो (अघुलनशील) और इनके बीच में अगर चूनापत्थर और डोलोमाइट चट्टानें हो या जहाँ सघन चूना पत्थर चट्टानों के संस्तर हो |
  • पानी दरारों और संधियों से रिसकर शैल संस्करण के साथ क्षैतिज अवस्था में बहता है |

स्टैलैकटाइट और स्टैलेगमाइट

  • जब भौम जल में घुले कैल्शियम कार्बोनेट जल के वाष्पीकृत होने के कारण निक्षेपित हो जाते हैं तब इनका निर्माण होता है |
  • ये आकृति सामान्यतः चूनापत्थर की कंदराओं में पाई जाती है |
  • स्टैलैकटाइट कैल्शियम कार्बोनेट के निक्षेप होते हैं जो हिमस्तम्भ के जैसे लटके  हुए होते हैं जबकि स्टैलेगमाइट कैल्शियम कार्बोनेट के निक्षेप होते हैं जो फर्श से ऊपर की तरफ बढ़ते हैं |

हिमनद

  • हिमनद विशाल आकार की बर्फराशि होते हैं जो अपने भार के कारण प्रवाह करते हैं | ये आम तौर पर हिम क्षेत्र में पाए जाते हैं|
  • हिमनद के प्रकार – महाद्वीपीय हिमनद, हिमटोप, घाटी हिमनद और पर्वतपदीय हिमनद |

ओजाइव:

  • ये प्रत्यावर्ती धाराएं है जिनमे चोटियां  तथा घाटियां क्रमश: हिम के अँधेरे और रौशनी वाले  बेंड के रूप में हिमनद की सतह पर प्रकट होती है |
  • ये हिमनदों की मौसमीय गति से जुड़ें होते है ,समान्यतः हिमनद की वार्षिक  गति के साथ प्रत्येक अँधेरे एवं रौशनी वाले बेंड की चौड़ाई बराबर होती है |

फियोर्ड

  • बहुत गहरे हिमनद गर्त जो समुद्री जल से भरे होते हैं और तटरेखा बनाते हैं |
  • जब बर्फ के पिघलने  की वजह से एक हिमनद U आकार की घाटी को काटती है और ये घाटी समुद्री अल से भर जाते हैं तब फियोर्ड का निर्माण होता है |

हॉर्न और  अरेट

  • हॉर्न तीव्र किनारों वाली नुकीली चोटी होती है |
  • सर्क की दीवारों का शीर्ष अपरदन से इनका निर्माण होता है |

Glacial depositional landforms

Eskers

  • When glaciers melt in summer, the water which formed as a result of melting accumulates beneath the glacier and flows like streams in channels beneath that ice.
  • Very coarse material like boulders, blocks and some minor fractions of rock debris are carried away by these streams.

Drumlins

  • They are smooth oval-shaped ridge-like structures composed mainly of glacial till.
  • It shapes like an inverted spoon with the highest part is called as Stoss End and the lowest narrow part is called as Tail End.

Glacial Cycle of Erosion

Youth

  • The stage is marked by the inward cutting activity of ice in a cirque.
  • Aretes and horns are emerging. The hanging valleys are not prominent at this stage.

Maturity

  • Hanging valleys start emerging.
  • The opposite cirques come closer and the glacial trough acquires a stepped profile which is regular and graded.

Why are world’s highest mountains at the equator?

  • Scientists have solved the mystery of why the world’s highest mountains sit near the equator.
  • Colder climates are better at eroding peaks. In colder climates, the snowline on mountains starts lower down, and erosion takes place at lower altitudes.
  • There are a few exceptions [that are higher], such as Everest, but extremely few.
  • When you then go to Canada or Chile, the snowline altitude is around 1,000m, so the mountains are around 2.5km.

हिमनद निक्षेपित स्थलरूप

एस्कर

  • जब हिमनद ग्रीष्म ऋतु में पिघलते हैं तो पिघलने से प्राप्त जल हिमनद के नीचे एकत्रित होकर बर्फ के नीचे नदी धारा में प्रवाहित होता है |
  • यह जलधारा अपने साथ बड़े गोलाश्म, चट्टानी टुकड़े और छोटा चट्टानी मलबा बहकर लाती है

ड्रमलिन

  • ये हिमनद मृतिका के अंडाकार, समतल कटकनुमा स्थलरूप हैं |
  • इनकी आकृति उलटे चम्मच  की तरह होती है जिनके ऊँचे भाग को स्टॉस कहा जाता है और निचला संकीर्ण भाग पृच्छ छोर कहलाता है |

हिमनद अपरदन- चक्र

युवावस्था

  • इस अवस्था में  सर्क में बर्फों की अंदरूनी कटाव की क्रिया होती है |
  • अरेत और हॉर्न प्रकट होते हैं | लटकती घाटी इस अवस्था में उन्नत नहीं  होती हैं |

प्रौढ़ावस्था

  • लटकती घाटी प्रकट होने लगती  हैं |
  • विपरीत सर्क नजदीक आने लगते हैं और हिमनद गर्त एक विशिष्ट रूप रेखा प्राप्त करते हैं जो वर्गीकृत एवं सुव्यवस्थित होते हैं |

क्यों भूमध्य रेखा पर विश्व के सबसे  बड़े पर्वत स्थित हैं ?

  • वैज्ञानिकों ने इस रहस्य को सुलझा लिया है की  क्यों भूमध्य रेखा पर विश्व के सबसे ऊँचे पर्वत स्थित हैं |
  • शीत जलवायु  चोटी के अपरदन में महत्वपूर्ण हैं | शीत जलवायु में पर्वतों की हिमरेखा नीची आने लगती है और कम ऊंचाई पर इनका अपरदन होता है |
  • हालाँकि कुछ अपवाद है जैसे – एवरेस्ट जो ज्यादा ऊँचे होते हैं लेकिन ये अपवाद काफी कम हैं |
  • जब आप कनाडा या चिली जाते हैं तो वहां हिमरेखा की ऊंचाई 1000 मी और पर्वत की ऊंचाई 2 .5 किमी होती है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Mission HCS Exam 2018 (Haryana Civil Services Exam) || History Content

Mission HCS Exam 2018 (Haryana Civil Services Exam) || History Content

Mission HCS Exam 2018 (Haryana Civil Services Exam) || History Content

Revolt of 1857

  • The revolt of 1857 was a product of the character and policies of rule.
  • The cumulative effect of British expansionist policies, economic exploitation and administrative innovations over the years had adversely affected the positions of all— rulers of Indian states, sepoys, zamindars, peasants, traders, artisans, pundits, maulvis, etc.

Economic Causes

  • Traditional economic fabric of the Indian society was destroyed by the colonial policies of the East India Company.
  • Imposition of the new and a highly unpopular revenue settlement on  peasantry.
  • Emergence of moneylenders and traders as the new landlords.

Political Causes

  • The East India Company’s greedy policy of aggrandizement accompanied by broken pledges and oaths .
  • Policies like ‘Subsidiary Alliance’ and ‘Doctrine of Lapse’.

Socio-Religious Causes

  • Racial overtones and a superiority complex
  • The activities of Christian missionaries
  • The attempts at socio religious reform such as abolition of sati, support to widow-remarriage were seen by a large section of the population as interference in the social and religious domains of Indian society by outsiders.

Influence of outside events:

  • First Afghan War (1839-42)
  • Punjab Wars (1845-49)
  • Crimean War (1853-56)

Beginning and spread:

The revolt began at Meerut, 58 km from Delhi, on May 10, 1857 and then, gathering force rapidly, soon embraced a vast area.

Spread in:

North: Punjab

South: Narmada

East: Bihar

West: RajputanaMission HCS Exam 2018

1857 का विद्रोह

  • 1857 का विद्रोह सरकार की नीतियों व चरित्र का परिणाम था |
  • ब्रिटिश की विस्तारवादी नीतियों, आर्थिक शोषण व प्रशासनिक नवीनताओं के कई वर्षों के कार्यान्वन  ने भारत के सभी वर्गों जैसे भारतीय शासकों, सिपाहियों, जमींदारों, किसानों, व्यापारियों, कलाकारों, पंडितों, मौलवियों इत्यादि सभी पर नकारात्मक प्रभाव डाला |

आर्थिक कारण

  • भारतीय समाज के पारंपरिक आर्थिक वस्त्र उद्योग को ईस्ट इंडिया कंपनी की औपनिवेशिक नीतियों ने नष्ट कर दिया |
  • कृषक वर्ग पर एक नए व अत्यधिक अप्रिय राजस्व  व्यवस्था को थोपा दिया गया |
  • ऋणदाताओं व व्यापारियों का नए स्वामियों के रूप में उद्भव हुआ |

राजनीतिक कारण

  • ईस्ट इंडिया कम्पनी की विस्तार की लालची नीति जिसमे कई गठबंधन और शर्तें तोड़ी गई |    
  • ‘सहायक संधि ’ व ‘हड़प के सिद्धांत’ जैसी नीतियाँ |

सामाजिक धार्मिक कारण

  • जातीय व्यवस्था और एक दुसरे से श्रेष्ठ बनने  भावना |
  • ईसाई धर्म प्रचारकों की गतिविधियाँ  |
  • सामाजिक-धार्मिक सुधार जैसे सती प्रथा की समाप्ति, विधवा-पुनर्विवाह का समर्थन आदि से समाज के एक बड़े वर्ग को लगा की यह भारतीय  सामाजिक व्यवस्था पर प्रहार है |

विदेशी घटनाओं का प्रभाव  :

  • प्रथम अफ़ग़ान युद्ध (1839-42)
  • पंजाब युद्ध (1845-49)
  • क्रीमियन युद्ध (1853-56)

शुरुआत और विस्तार :

विद्रोह की शुरुआत दिल्ली से 58 किलोमीटर  दूर मेरठ में 10 मई, 1857 को हुई और तब से लोग एकत्र होना शुरू हुए और धीरे धीरे एक विशाल क्षेत्र में फ़ैल गए | यह

उत्तर : पंजाब

दक्षिण : नर्मदा

पूर्व  : बिहार

पश्चिम : राजपुताना

Resentment in various cantonments before the Meerut incident:

  • 19th Native Infantry at Berhampur: Refused to use the newly introduced Enfield rifle and broke out in mutiny in February 1857 was disbanded in March 1857.
  • 34th Native Infantry: Mangal Pandey, fired at the sergeant major of his unit at Barrackpore.  He was overpowered and executed on April 6 while his regiment was disbanded in May.
  • On April 24, ninety men of 3rd Native Cavalry refused to accept the greased cartridges.
  • On May 9, eighty-five of them were dismissed, sentenced to 10 years’ imprisonment.
  • This sparked off a general mutiny among the Indian soldiers stationed at Meerut.
  • Lieutenant Willoughby, the officer-in charge of the magazine at Delhi, offered some resistance, but was overcome.
  • The aged and powerless Bahadur Shah Zafar was proclaimed the emperor of India.

Who participated in the revolt:

  • The peasantry
  • The artisans
  • The shopkeepers
  • Day laborers
  • Zamindars
  • Religious mendicants
  • Priests

Storm Centers and leaders of the revolt:

  • At Delhi: General Bakht Khan (who had led the revolt of Bareilly troops and brought them to Delhi).
  • At Kanpur: Nana Saheb(the adopted son of the last Peshwa, Baji Rao II).
  • At Lucknow: Begum Hazrat Mahal

Suppression of revolt

  • The revolt was finally suppressed.
  • The British captured Delhi on September 20, 1857 after prolonged and bitter fighting.
  • John Nicholson, the leader of the siege, was badly wounded and later succumbed to his injuries.
  • With the fall of Delhi the focal point of the revolt disappeared.
  • Nana Saheb, defeated at Kanpur, escaped to Nepal in early 1859, never to be heard of again.
  • By the end of 1859, British authority over India was fully re-established.

मेरठ घटना से पहले विभिन्न छावनियों में असंतोष

  • बेरहमपुर में 19वीं देशी  सेना ने नए एनफील्ड राइफल का इस्तेमाल करने के लिए मना कर दिया और फरवरी 1857 में एक सैन्य विद्रोह का रूप ले लिया एवं  मार्च 1857 में सेना को भंग कर दिया गया
  • 34 वीं भारतीय  सेना के सैनिक मंगल पांडे ने बैरकपुर में अपनी सैन्य इकाई के सारजेंट पर गोली चला दी  
  • 24 अप्रैल को नब्बे सैनिकों के तीसरी देशी  घुड़सवार सेना ने चर्बी वाले ग्रीस कारतूस को स्वीकार करने से मना कर दिया |
  • 9 मई को, उनमें से 85 को हटा दिया गया, सभी को 10 वर्षों की कैद मिली |
  • इस घटना ने   मेरठ में तैनात भारतीय सिपाहियों में एक बगावत का बीज बो दिया |
  • दिल्ली के शस्त्रागार प्रमुख लेफ्टिनेंट विलौबी ने इसे कुचलने की कोशिश की लेकिन असफलता हाथ लगी |
  • बागी सिपाहियों द्वारा वृद्ध और शक्तिहीन बहादुरशाह जफ़र को भारत का सम्राट घोषित कर दिया गया | |

विद्रोह भाग लेने वाले मुख्य वर्ग :

  • कृषक-वर्ग
  • कलाकार
  • दूकानदार
  • दैनिक मजदूर
  • जमींदार
  • धार्मिक भिक्षुक
  • पुजारी

विद्रोह के केंद्र व प्रमख नेता

  • दिल्ली में : जनरल बख्त खान (जिन्होंने बरेली की सेना का नेतृत्व किया और उन्हें दिल्ली तक लाया )
  • कानपूर में : नाना साहेब (अंतिम पेशवा, बाजीराव II के दत्तक पुत्र ) |
  • लखनऊ में  : बेगम हजरत महल |

विद्रोह का दमन

  • अंत में विद्रोह का दमन कर दिया गया |
  • ब्रिटिशों ने एक लम्बे और कड़ी लड़ाई के बाद 20 सितम्बर, 1857 को दिल्ली पर कब्ज़ा कर लिया |
  • घेराबंदी का नेतृत्व करने वाले  नेता जॉन निकोल्सन बुरी तरह से घायल हो गए थे और चोटों के कारण बाद में उनकी मृत्यु हो गई |
  • दिल्ली की हार के साथ विद्रोह का मुख्य केंद्र नष्ट हो गया |
  • नाना साहेब कानपुर की हार के बाद 1859 में  नेपाल की ओर कूच कर गये , जिसके बाद उनका कुछ पता नही चला
  • 1859 के अंत तक ब्रिटिश शासन पूरे भारत पर फिर से स्थापित हो गया |

Causes of failure of revolt

  • Limited territorial spread (The eastern, southern and western parts of India remained more or less unaffected).
  • Certain classes and groups did not join and, in fact, worked against the revolt.
  • Big zamindars acted as “breakwaters to storm”
  • Most Indian rulers refused to join and often gave active help to the British.
  • The Indian soldiers were poorly equipped materially, fighting generally with swords and spears and very few guns and muskets.

Hindu-Muslim unity factor

  • During the entire revolt, there was complete cooperation between Hindus and Muslims at all levels: people, soldiers, leaders.
  • All rebels acknowledged Bahadur Shah Zafar, a Muslim, as the emperor and the first impulse of the Hindu sepoys at Meerut was to march to Delhi, the Mughal imperial capital.
  • Rebels and sepoys, both Hindu and Muslim, respected each other’s sentiments.

Nature of the revolt

Views differ on the nature of the 1857 revolt.

  • Sir John Seeley: It was a mere ‘Sepoy Mutiny’ to some British historians-“a wholly unpatriotic and selfish Sepoy Mutiny with no native leadership and no -popular support”
  • However, it is not a complete picture of the event as it involved many sections of the civilian population and not just the sepoys.
  • Dr K. Datta : To have been “in the main a military outbreak, which was taken advantage of by certain discontented princes and landlords, whose interests had been affected by the new political order”.
  • Dr S.N. Sen: fight for religion but ended as a war of independence.

विद्रोह के असफलता के कारण

  • सीमित क्षेत्रीय विस्तार (भारत के पूर्वी, दक्षिणी और पश्चिमी भाग करीब करीब अप्रभावित रह गए ) |
  • कुछ वर्ग और समूहों ने तो विद्रोह में भाग नहीं लिया बल्कि वे तो बगावत के खिलाफ थे |
  • बड़े जमींदारों ने “तूफ़ान को तोड़नेवालों” के रूप में कार्य किया |
  • अधिकतर भारतीय शासकों ने इस विद्रोह में शामिल होने से मना  कर दिया और हमेशा अपनी मदद ब्रिटिशों को दी |
  • भारतीय सिपाहियों के पास बहुत ही खराब हथियार थे जो सामान्यतः तलवार और भालों से लड़ते थे, और बहुत कम उनके पास बंदूक और मस्कट थे |

हिन्दू-मुस्लिम एकता कारक

  • पूरे विद्रोह के दौरान, आम लोग, सैनिक, नेता सभी स्तरों पर हिन्दुओं व मुस्लिमों के बीच सम्पूर्ण सामंजस्य था |
  • सभी क्रांतिकारियों ने एक मुस्लिम शासक बहादुरशाह जफ़र को सम्राट माना और हिन्दू सिपाहियों का पहला कदम मेरठ से दिल्ली की ओर बढना था जो कि मुग़ल शाही राजधानी था |
  • हिन्दू और मुस्लिम दोनों क्रन्तिकारी और सिपाहियों ने एक-दूसरे की भावनाओं का क़द्र किया |

विद्रोह का स्वरूप

1857 विद्रोह के स्वरूप के कई अलग-अलग दृष्टिकोण हैं |

  • सर जॉन सीली : यह कुछ ब्रिटिश इतिहासकारों के लिए सिर्फ एक ‘सिपाही बगावत’ मात्र था, पूर्ण रूप से बिना किसी देशभक्ति के और स्वहितकारी सिपाही बगावत जिसमें न तो कोई नेतृत्व था और न ही कोई प्रसिद्द समर्थन |
  • हालाँकि, यह पूरी घटना का सही दृश्य नहीं प्रस्तुत करता है, क्योंकि इसमें सिर्फ सिपाही ही नहीं शामिल थे बल्कि आम आबादी का एक बड़ा वर्ग भी शामिल था |
  • डॉ. के. दत्ता :  “मुख्य रूप से एक सैन्य प्रकोप में, जिसका फायदा कुछ असंतुष्ट रियासतों व जमींदारों द्वारा उठाया गया था, जिनका हित नए राजनीतिक शासन द्वारा प्रभावित हुआ था” किया गया है |
  • डॉ. एस. एन. सेन : विद्रोह के लिए लड़ाई जो स्वतंत्रता के युद्ध में समाप्त हुआ |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

HCS Exam 2018 Study Notes || Online Exam Preparation || Geography

HCS Exam 2018 Study Notes || Online Exam Preparation || Geography

HCS Exam 2018 Study Notes || Online Exam Preparation || Geography

Landform and Their Evolution

Landforms

  • Once the surface of the earth is formed, the geomorphic agents like running water, ground water, wind, glaciers, waves perform erosion and deposition.
  • Deposition follows erosion and the depositional surfaces too are ultimately subjected to erosion.
  • Erosion and deposition both causes changes on the surface of the earth.
  • Each geomorphic agent produces its own assemblage of landforms.
  • Each geomorphic process and agent leave their distinct imprints on the landforms they produce.

Examples of landform :

  • Typical landforms include hills, mountains, plateaus, canyons, and valleys.
  • Other shoreline features are bays, peninsulas, and seas, including mid-ocean ridges, volcanoes, and the great ocean basins.

Landforms once formed may change in their shape, size and nature slowly or fast due to:

  • Continued action of geomorphic processes and agents.
  • Due to changes in climatic conditions
  • Due to vertical or horizontal movements of landmasses,
  • Intensity of processes

On the basis of their function of erosion and deposition, landforms are divided into:

  • Erosional or destructional landform
  • Depositional or constructional landform
  • Many varieties of landforms develop by the action of each of the geomorphic agents depending upon especially on:
  • the type and structure i.e. folds, faults, joints, fractures,

On the basis of process that create them:

  • Under each of the geomorphic regimes i.e. running water,  groundwater, glaciers, waves, and winds.
  • In humid regions, which receive heavy rainfall, running water is considered the most important of the geomorphic agents in bringing about the degradation of the land surface.

HCS Exam 2018 Study Notes

भू-आकृति

  • एक बार पृथ्वी की सतह बनती है तो भू-आकृतिक कारक जैसे-प्रवाहित जल,भूमिगत जल,वायु ,हिमनद तथा तरंग अपरदन तथा निक्षेपण करते है |
  • अपरदन के पश्चात निक्षेपण होता है ,और निक्षेपित तल भी फिर से अपरदित होते है |
  • अपरदन तथा निक्षेपण धरातलीय स्वरूप को बदल देते है |
  • प्रत्येक भू-आकृतिक कारक एक विशेष प्रकार का   स्थलरूप समुच्चय बनाता है |
  • प्रत्येक प्रक्रिया व कारक अपने द्वारा बनाये गए स्थलरूपों पर अपनी एक अनोखी छाप छोड़ते है |

स्थलरूपों के उदाहरण:

  • विशेष प्रकार के स्थलरूपों में पहाड़ियां,पर्वत , पठार, केनियन तथा घाटियां शामिल है |
  • अन्य तटरेखीय विशेषताएं है -खाड़ियां,महाद्वीप एवं महासागर जिनमे मध्य-महासागरीय गर्त, ज्वालामुखी एवं विशाल महासागरीय द्रोणियां है |  

एक बार  निर्मित होने के बाद स्थलरूप अपनी आकृति , माप ,तथा प्रकृति धीरे अथवा तीव्र तरीके से बदलते है,जिनका कारण है

  • भू-क्रियाओं तथा उनके कारकों द्वारा की गई लगातार गति द्वारा
  • जलवायु संबंधी बदलाव
  • वायुशिराओं के उर्ध्वाधर अथवा क्षैतिज संचलन के कारण
  • भू-आकृतिक प्रक्रियाओं की गहनता से

अपरदन एवं निक्षेपण के कार्य के आधार पर स्थलरूपों को निम्न प्रकार से विभाजित किया जा सकता है-

  • अपरदनात्मक स्थलरूप
  • निक्षेपणात्मक स्थलरूप
  • प्रत्येक कारक द्वारा कई प्रकार के स्थलरूप विकसित होते है ये निम्न प्रकार से निर्भर करते है(चट्टानों के संर्दभ में) –
  • प्रकार तथा सरंचना यथा मोड़,भ्रंश ,जोड़ ,विभंग

वे प्रक्रियाएं जिनके द्वारा ये बने है :-

  • प्रत्येक भू-आकृतिक कारक पर  अर्थात प्रवाहित जल,भौम जल , हिमनद , तरंगे एवं वायु |
  • आर्द्र प्रदेशों में, जहाँ अत्यधिक वर्षा होती है,प्रवाहित जल सबसे महत्वपूर्ण भू-आकृतिक कारक है जो धरातल के निम्नीकरण के लिए उत्तरदायी है |

River erosion and transportation

Corrasion takes place, in two distinct ways.

  • Lateral Corrasion:

This is sideways erosion which widens the V-shaped valley.

  • Vertical Corrasion:

This is the downward action which deepens the river channel.

Corrosion or Solution:

  • This is the Chemical or solvent action of water on soluble or partly-soluble rocks with which the river comes into contact.
  • Example:  Calcium carbonate in Limestone is easily dissolved and removed in solution.

Hydraulic Action:

  • This is the mechanical loosening and sweeping away of materials by the river water itself.

Erosional landforms of running water

Gorge vs Canyon:

  • A Gorge is a deep valley with very steep to straight sides and a Canyon is characterised by steep step-like side slopes and may be as deep as a gorge.
  • A gorge is almost equal in width at its top as well as its bottom.
  • In contrast, a Canyon is wider at its top than at its bottom.

Potholes

  • Forms because of stream erosion aided by the abrasion of rock fragments.
  • These are more or less circular depressions over the rocky beds of hill-streams.

Incised and Entrenched Meanders:

  • An entrenched river refers to a river that is confined to a canyon or gorge.
  • It is relatively narrow with very little or no flood plain.
  • It often has meanders already developed into landscapes. An entrenched river usually forms a rapid downcutting of the river channel before it changes its course.

नदी अपरदन तथा परिवहन

अपघर्षण दो तरीकों से होता है –

  • पार्श्व अपघर्षण

यह सिरों पर  होने वाला घर्षण है जो V आकार की घाटी को चौड़ा करता है |

  • लंबवत अपघर्षण

यह नीचे की तरफ होने वाली क्रिया है नदी चैनल को गहरा करती है |

 संक्षारण

  • यह घुलनशील या आंशिक रूप से घुलनशील चट्टानों पर पानी की रासायनिक या विलायक द्वारा उस चट्टान पर की गई क्रिया है जिसके साथ नदी संपर्क में आती है।
  • उदाहरण: चूना पत्थर में कैल्शियम कार्बोनेट आसानी से मिलाया  और निकाला जा सकता है |

जलीय क्रिया

  • यह नदी जल द्वारा स्वयं के पदार्थों का यांत्रिक शिथिलन एवं बहाव है |

प्रवाहित जल का अपरदित स्थलरूप

गॉर्ज एवं कैनियन

  • गॉर्ज एक गहरी घाटी है जिसके पार्श्व तीव्र ढाल के होते हैं |एक कैनियन के किनारे भी खड़ी ढाल वाले होते हैं और यह भी गॉर्ज की भांति गहरा होता है |
  • गॉर्ज की चौड़ाई इसके तल व ऊपरी भाग में लगभग समान होती है|
  • इसके विपरीत कैनियन का ऊपरी भाग तल की अपेक्षा अधिक चौड़ा होता है |

जलगर्तिका

  • नदी तल में अपरदित छोटे चट्टानी टुकड़ों से बनते हैं |
  • ये पहाड़ी क्षेत्रों में नदी तल में छोटे गर्त होते हैं |

अधःकर्तित विसर्प या गभीरीभूत विसर्प

  • गभीरीभूत नदी ऐसे नदी को कहा जाता है जो गॉर्ज और कैनियन तक ही सीमित रहती  हैं |
  • यह अपेक्षाकृत संकरी  होती है और इसका अल्प या नगण्य बाढ़-मैदान होता है |
  • इनमे विसर्प होते हैं जो पहले से ही भू-दृश्य में विकसित होते हैं |गभीरीभूत नदी अपना रास्ता बदलने से पहले नदी चैनल के अंदरूनी भाग को तीव्र रूप से  काटती है |

Depositional Landforms of running water

Alluvial Fans

  • Formed when streams flowing from higher levels break into foot slope plains of low gradient.
  • Coarse load carried by streams flowing over mountain slopes becomes too heavy for the streams to be carried over gentler gradients.
  • It gets dumped and spread as a broad low to high cone shaped deposit called alluvial fan.

Deltas

  • Deltas are like alluvial fans but here the load carried by the rivers is dumped and spread into the sea.
  • If this load is not carried away far into the sea or distributed along the coast, it spreads and accumulates as a low cone.
  • Deposits making up deltas are very well sorted with clear stratification.

Floodplains

  • Deposition develops a floodplain just as erosion makes valleys.
  • Floodplain is a major landform of river deposition.
  • Large sized materials are deposited first when stream channel breaks into a gentle slope.

Natural levees

  • Found along the banks of large rivers.
  • Low, linear and parallel ridges of coarse deposits along the banks of rivers.
  • During flooding as the water spills over the bank, the velocity of the water comes down and large sized and high specific gravity materials get dumped in the immediate vicinity of the bank as ridges.

Braided Channels

  • When rivers carry coarse material, there can be selective deposition of coarser materials causing formation of a central bar.
  • This central bar diverts the flow towards the banks and thus increases lateral erosion on the banks.

प्रवाहित जल का निक्षेपित स्थलरूप

जलोढ़ पंख

  • जब नदी उच्च स्थलों से बहती हुई गिरिपाद या मंद ढाल के स्थानों में प्रवेश करती है तो जलोढ़ पंख का निर्माण होता है |
  • पर्वतीय क्षेत्र में बहने वाली नदियां भारी व स्थूल आकर के नद्य भार का मंद ढालों पर वहन करने में असमर्थ हो जाती है |
  • तो यह शंकु के आकार में निक्षेपित हो जाता है जिसे जलोढ़ पंख कहते हैं |

डेल्टा

  • डेल्टा जलोढ़ पंख की भांति ही होते हैं लेकिन यहाँ नदी अपने साथ लाये हुए पदार्थों को समुद्र के किनारे बिखेर देती है |
  • अगर यह भार समुद्र में दूर तक नहीं ले जाय गया हो तो यह तट के साथ ही निम्न शंकु के रूप में फ़ैल जाता है|
  • डेल्टा का निक्षेप व्यव्यस्थित होता है और इनका जलोढ़ स्तरित होता है |

बाढ़-मैदान

  • जिस प्रकार अपरदन से घाटियां बनती है उसी प्रकार निक्षेपण से बाढ़ के मैदान बनते हैं |
  • बाढ़ के मैदान नदी निक्षेपण के मुख्य स्थलरूप हैं
  • जब नदी तीव्र ढाल से मंद ढाल में प्रवेश करती है तो बड़े आकर के पदार्थ पहले ही निक्षेपित हो जाते हैं

प्राकृतिक तटबंध :

  • बड़ी नदियों के किनारों पर पाए जाते हैं|
  • ये नदियों के पार्श्वों में स्थूल पदार्थों के रैखिक, निम्न तथा सामानांतर कटक के रूप में पाए जाते हैं |
  • बाढ़ के दौरान जब बाढ़ तटों पर फैलता है तो जल का वेग कम होने के कारण बड़े आकर का मलबा नदी  के पार्श्व तटों पर लम्बे कटकों के रूप में जमा हो जाता है |

गुम्फित नदी

  • जब नदी द्वारा प्रवाहित नद्य भार का निक्षेपण उसके मध्य में लम्बी रोधिका के रूप में हो जाता है|
  • इस मध्य रोधिका के  कारण नदी धारा दो शाखाओं में विभाजित हो जाती हैऔर यह प्रवाह किनारों पर क्षैतिज  अपरदन करता है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

Posted on Leave a comment

Haryana Civil Services (HCS) Online Exam Material || UPSC | IAS

Haryana Civil Services (HCS) Online Exam Material || UPSC | IAS

Haryana Civil Services (HCS) Online Exam Material || UPSC | IAS

Expansion and consolidation of British Power 

Subsidiary Alliance

  • States had to disband their army and British army was stationed permanently in Indian ruler state and ruler had to pay for the services rendered by the army.
  • Sometimes a small territory was given by rulers instead of annual subsidy.
  • The ruler was told it was to protect them from outside attacks.

Subsidiary alliance disadvantages to Indian states

They lost:

  • the right of self-defence, right of maintaining diplomatic relations.
  • right of employing foreign experts
  • Right of settling its disputes with its neighbours
  • All vestiges of sovereignty in external matters became increasingly subservient to the British Resident interference by resident in the day to day administration of the state give rise to internal decay of the protected state.

Subsidiary alliances advantages to British India

  • Can maintain a large army at the cost of the Indian states
  • Enabled to fight wars far away from their own territories
  • Since any war would occur in the territories either of the British ally or of the British enemy

Subsidiary alliance and Indian states

Hyderabad

  • Treaty of subsidiary alliance was signed with Hyderabad in 1801
  • Nizam of Hyderabad was first to sign Subsidiary alliance.
  • The pay for army was so high that nawab had to surrender half of his kingdom

Mysore

  • Tipu loved his independence and so he never agreed to subsidiary alliance
  • He worked hard to strengthen forces against British.

Haryana Civil Services

सहायक सन्धि की नीति

  • राज्यों को अपनी सेना को भंग करना पड़ा और भारतीय शासक राज्य में केवल ब्रिटिश सेना ही स्थायी बनी रही और अन्य शासक को सेना की सेवा प्राप्त करने के लिए शुल्क देना पड़ता था |
  • कभी-कभी वार्षिक शुल्क के कई शासक अपने राज्य का छोटा सा हिस्सा दे देते थे |
  • उस राज्य के शासक को यह कहा जाता की यह सेवा उन्हें बाहरी आक्रमणों से बचाने के लिए है |

सहायक सन्धि भारतीय राज्यों के लिए नुकसानदायक सिद्ध हुई  |

उनके द्वारा उठाया गया नुकसान

  • आत्मरक्षा का अधिकार,राजनयिक संबंधों को बनाए  रखने का अधिकार |
  • विदेशी विशेषज्ञों को अपने दरबार में  नियुक्त करने का अधिकार |
  • अपने पड़ोसी राज्यों के साथ विवाद सुलझाने का अधिकार
  • संप्रभुता के सभी बाहरी मसले ब्रिटिश प्रतिनिधि के अधीन आ गए जिसमे वह राज्य के प्रशासन में दिन-प्रतिदिन हस्तक्षेप करता था जिसके फलस्वरूप संरक्षित राज्य का आंतरिक विनाश आरम्भ हो गया |

ब्रिटिश को सहायक गठबंधन की नीति के लाभ

  • भारतीय राज्यों की लागत (शुल्क) पर एक बड़ी सेना को बनाए रख सकते थे |
  • अपने गृह क्षेत्रों से दूर युद्ध लड़ने में सक्षम हुए |
  • चूंकि अगर किसी प्रकार का युद्ध होता है तो वह ब्रिटिश सहयोगी अथवा ब्रिटिश शत्रु के क्षेत्र में ही होगा |

सहायक गठबंधन और भारतीय राज्य

हैदराबाद

  • हैदराबाद के साथ सहायक गठबंधन की संधि 1801 में की गई |
  • हैदराबाद के निजाम ने सबसे पहले गठबंधन की नीति को अपनाया |
  • सैन्य सेवाओं का शुल्क इतना अधिक था की नवाब को अपना आधा राज्य कम्पनी को देना पड़ा |

मैसूर

  • टीपू सुलतान को अपनी स्वतंत्रता से प्रेम था इसलिए उसने गठबंधन की नीति को नहीं अपनाया
  • उन्होंने ब्रिटिश के खिलाफ अपनी सेना को मजबूत करना आरम्भ कर दिया |

Subsidiary Alliance Advantages to British

Carnatic

  • In 1801, Wellesley forced a new treaty upon the puppet nawab of Carnatic.
  • According to treaty he had to cede half of kingdom to company in return for pension.

Marathas

  • Only major power which was not under British control
  • Wellesley began aggressive interference in their internal affairs.
  • Peshwa was nominal head of confederacy.
  • They were busy in fighting among themselves and not seen the foreign threat.
  • Wellesley had offered subsidiary alliance to Peshwa and Sindhia but Peshwa had declined because of farsightedness of Nana Phadnis.

Expansion under Lord Hastings (1813 – 22)

  • Even after defeat at 2nd Anglo-Maratha war, Marathas had not lost the hope and they had made a last try to regain the independence and old prestige in 1817.
  • Peshwa led and tried to organize a united front with the Maratha chiefs.
  • Peshwa attacked British residency at Poona in Nov. 1817

Consolidation of British Power

The consolidation of British Power (1818 – 57)

  • 1818- 57 – conquered whole of India
  • Sindh and Punjab – conquered
  • Awadh and other petty states – annexed

The conquest of Sindh

  • It was result of Anglo – Russian rivalry and fear of British that Russia might attack India through Afghanistan or Persia.
  • To counter this British government decided to increase its control over Afghanistan or Persia.

ब्रिटिश को सहायक संधि के फायदे

कर्नाटक

  • सन 1801 वेलेस्ली ने कर्नाटक के कठपुतली नवाब पर नई संधि को को थोप दिया |
  • इस संधि के अनुसार पेंशन के बदले उन्हें अपना आधा राज्य कम्पनी को सौंप दिया |

मराठा

  • यह एकमात्र बड़ी शक्ति थी जो ब्रिटिश नियंत्रण में नहीं थी |
  • वेलेस्ली ने इनके आंतरिक मामलों में आक्रामक रूप से हस्तक्षेप शुरू कर दिया |
  • पेशवा सयुंक्त राज्य का नाममात्र मुखिया रह गया था |
  • वे आपस में लड़ते रहे और विदेशी खतरे को भांप नहीं सके |
  • वेलेस्ले ने पेशवा और सिंधिया को सहायक संधि का प्रस्ताव दिया परन्तु पेशवा ने नाना फडणवीस की दूरदर्शिता के कारण इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया  

लॉर्ड हेस्टिंग्स के अधीन विस्तार (1813-22)

  • दूसरी एंग्लो-मराठा युद्ध में हार के बाद भी, मराठों ने उम्मीद नहीं छोड़ी और उन्होंने 1817 में अपनी स्वतंत्रता तथा पुरानी प्रतिष्ठा हासिल करने की आखिरी कोशिश की |
  • पेशवा ने नेतृत्व करते हुए मराठा प्रमुखों के साथ एक संयुक्त मोर्चे को व्यवस्थित करने का प्रयास किया।
  • पेशवा ने 1817 के नवंबर में पूना में ब्रिटिश निवास पर आक्रमण किया

ब्रिटिश शक्ति का मजबूतीकरण

ब्रिटिश शक्ति का मजबूतीकरण (1818 – 57)

  • 1818- 57 के दौरान सम्पूर्ण भारत पर विजय प्राप्त कर ली गई |
  • सिंध और पंजाब पर विजय प्राप्त कर ली गई |
  • अवध और अन्य छोटे राज्य कब्जे में ले लिए गए |

सिंध पर विजय

  • यह एंग्लो-रूसी प्रतिद्वंद्विता और अंग्रेजों के डर का परिणाम था कि रूस अफगानिस्तान अथवा फारस के माध्यम से भारत पर आक्रमण कर सकता है।
  • इससे निपटने के लिए ब्रिटिश सरकार अफगानिस्तान अथवा फारस पर अपना नियंत्रण बढ़ाने का फैसला किया।

The conquest of Punjab

  • Political instability and rapid changes of government followed in Punjab after the death of Maharaja Ranjit Singh in June 1839.
  • Though power fell into patriotic leaders but army was not well disciplined and so British thought of seizing this opportunity and looking greedily towards Punjab.
  • British had signed a treaty of perpetual friendship with Ranjit singh in 1809.
  • British agent, Broadfoot in Ludhiana repeatedly indulged in hostile actions and gave provocations.
  • So, they thought of saving themselves by embroiling army with British.
  • In 1845, British started preparing to march towards Punjab.

Dalhousie and the Policy of Annexation (1848 – 56)

  • Lord Dalhousie (Real name James Andrew Ramsay) served as Governor General of India from 1848 to 1856.
  • During this period, Second Anglo-Sikh War (1849) was fought in which the Sikhs were defeated again and Dalhousie was successful in annexing the whole of Punjab to the British administration.
  • He annexed many states by doctrine of lapse.

States annexed under Doctrine of lapse –

  • Satara – 1848
  • Jaitpur & Sambhalpur – 1849
  • Nagpur and Jhansi – 1854
  • Tanjore and Arcot – 1855
  • Udaipur (chhattisgarh) and oudh – 1856
  • Refused to extend pay or pension to adopted son of Baji Rao II, Nana Saheb, after death of Baji Rao II
  • He wanted to annex the kingdom of Awadh, but there were some difficulties.

पंजाब पर विजय

  • जून 1839 में महाराजा रणजीत सिंह की मृत्यु के बाद पंजाब में राजनीतिक अस्थिरता फैली तथा सरकार में तेज़ी से बदलाव हुए |
  • यद्यपि सत्ता देशभक्त नेताओं के पास थी परन्तु सेना पूरी तरह अनुशासित नहीं थी इसलिए ब्रिटिश ने इस अवसर का फायदा उठाकर पंजाब को कब्जे में लेने का सोचा |
  • ब्रिटिशों ने 1809 में रंजीत सिंह के साथ स्थायी मित्रता की संधि की |
  • ब्रिटिश प्रतिनिधि लुधियाना में कई बार राज्य विरोधी गतिविधियों तथा स्थानीय लोगों को भड़काने में संलिप्त पाए गए |
  • इसलिए, उन्होंने ब्रिटिश सेना के साथ मुकाबला करने का निर्णय लिया जिससे वो सुरक्षित रह सकते थे |
  • 1845 में, ब्रिटिश सेना ने पंजाब की ओर कूच करने की तैयारी आरम्भ कर दी |

डलहौज़ी और राज्य विस्तार की नीति (वास्तव में हड़प नीति,1848 – 56)

  • लॉर्ड डलहौज़ी (वास्तविक नाम जेम्स एंड्रयू रामसे) ने 1848 से 1856 तक भारत के गवर्नर जनरल के रूप में कार्य किया।
  • इनके कार्यकाल में दूसरा एंग्लो-सिख युद्ध (1849) लड़ा गया,जिसमे सिखों को फिर से पराजित किया गया और डलहौज़ी पंजाब को ब्रिटिश प्रशासन के अधीन लाने में सफल हुआ |
  • इन्होने हड़प नीति को आधार बनाकर कई प्रांतो को अपने अधीन किया |

व्यपगत सिद्धान्त के अंतर्गत हड़पे गए प्रांत

  • सातारा – 1848
  • जैतपुर और संभलपुर – 184 9
  • नागपुर और झाँसी – 1854
  • तंजावुर और आरकोट – 1855
  • उदयपुर (छत्तीसगढ़) और अवध -1856
  • बाजी राव द्वितीय के निधन के बाद बाजी राव द्वितीय के दत्तक पुत्र नाना साहब को पेंशन देने से मना कर दिया गया |
  • वह अवध के राज्य पर कब्जा करना चाहता था, लेकिन इसमें कुछ मुश्किलें थीं।

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel