UPSC IAS History Questions- Buddhism and Jainism | Frontier IAS

UPSC IAS History Questions- Buddhism and Jainism | Frontier IAS

UPSC IAS History Questions- Buddhism and Jainism | Frontier IAS

UPSC IAS History Questions- Buddhism and Jainism | Frontier IAS

UPSC IAS History Questions- Buddhism and Jainism | Frontier IAS Q1. Consider the following statements/निम्नलिखित कथनों पर विचार करें :
  1. Mahavira attained Kaivalya under a Sal tree at Jambikagrama./महावीर ने जम्भियग्राम में एक शाल वृक्ष के नीचे कैवल्य प्राप्त किया |
  2. Followers of parshvanath were called Nirgrantha./पार्श्वनाथ के अनुयायी निर्ग्रंथ  कहलाते है |
  3. Vishnu Purana and Bhagavad Purana describe Parshvanath as an incarnation of Narayana./विष्णु पुराण और भगवत पुराण पार्श्वनाथ को नारायण के अवतार के रूप में वर्णित करते है।
Which of the above statement/s is/are correct /इनमे से कौन से कथन सही है ?
  • Only 3
  • 1 and 2
  • 1 and 3
  • 1,2,3
Q2. Consider the following statements/निम्नलिखित कथनों पर विचार करें :
  1. In Jainism, Shruta Jnana is the knowledge revealed by scriptures./जैन धर्म में, श्रुत ज्ञान से अभिप्राय शास्त्रों द्वारा प्राप्त ज्ञान से है |
  2. Principle of Brahmacharya  is given by Parshvanath./ब्रह्मचार्य का सिद्धांत पार्श्वनाथ द्वारा दिया गया था |
  3. Mahavira preached for the first time in the five hills of Nalanda-Vipulchak./महावीर ने अपना पहला उपदेश नालंदा-विपुलचाक की पांच पहाड़ियों में दिया था |
Which of the above statement/s is/are correct /इनमे से कौन से कथन सही है ?
  • Only 3
  • 1 and 2
  • 1 and 3
  • 1,2,3
Q3. Consider the following statements/निम्नलिखित कथनों पर विचार करें :
  1. Jainism believed in Karma and the transmigration of soul./जैन धर्म का कर्म और आत्मा के पुनर्जन्म में विश्वास था |
  2. Jainism rejected the authority of the vedas and the Vedic rituals./जैन धर्म ने वेदों और वैदिक अनुष्ठानों के अधिकार को खारिज कर दिया
  3. Syadvada is also known as Anekantavada./स्याद्वाद को अनेकांतवाद भी कहा जाता है
Which of the above statement/s is/are correct /इनमे से कौन से कथन सही है ?
  • Only 1
  • 1 and 2
  • 1 and 3
  • 1,2,3
Q4. Consider the following statements/निम्नलिखित कथनों पर विचार करें :
  1. Jain literature discarded Sanskrit and adopted Prakrit language./जैन साहित्य ने संस्कृत को त्याग दिया और प्राकृत भाषा को अपनाया
  2. Main aim of Jainism was freedom from worldly bonds./जैन धर्म का मुख्य उद्देश्य सांसारिक बंधन से मुक्ति थी
  3. Jainism on Varna System condemned Varna system./जैन धर्म ने वर्ण व्यवस्था की निंदा की
Which of the above statement/s is/are correct/इनमे से कौन से कथन सही है  ?
  • Only 1
  • 1 and 2
  • 1 and 3
  • 1,2,3
Q5. Consider the following statements/निम्नलिखित कथनों पर विचार करें :
  1. Dilwara temple is the example of Jain architecture./दिलवाड़ा मंदिर जैन वास्तुकला का उदाहरण है।
  2. The second Jain Council was held in 512 AD at Vallabhi./दूसरी जैन संगीति 512 ईस्वी में वल्लभी  में आयोजित की गई थी।
  3. The sacred literature of the Svetambaras is written in a type of Prakrit called Ardha Magadhi Prakrit./श्वेतांबर का पवित्र साहित्य एक प्रकार की प्रकृत भाषा में लिखा गया जिसे अर्ध मगधी प्राकृत कहा जाता है|
Which of the above statement/s is/are correct /इनमे से कौन से कथन सही है ?
  • Only 3
  • 1 and 2
  • 1 and 3
  • 1,2,3
Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply