UPSC IAS Geography Exam Preparation notes | Prelims+Mains- Clear IAS

UPSC IAS Geography Exam Preparation notes | Prelims+Mains- Clear IAS

UPSC IAS Geography Exam Preparation notes | Prelims+Mains- Clear IAS

UPSC IAS Geography Exam Preparation notes | Prelims+Mains- Clear IAS

UPSC IAS Geography Exam Preparation notes | Prelims+Mains- Clear IAS

Industries

  • Industry implies the transformation of existing materials into something new, into goods that are used as end-products themselves, or are utilized to manufacture more goods.

Primary Industries

  • Use natural raw material
  • Examples Hunting-gathering, pastoral activities, fishing, forestry, agriculture, mining and quarrying

Secondary Industries

  • Make complex products using the material obtained from primary industry
  • Steel Automobiles, Railway engines
  • Wooden Pulp   Rayon
  • Fibers Readymade Garments

Secondary Industry can be sub classified into

  • Heavy IndustriesEngineering, metal goods, heavy chemicals, shipbuilding, locomotives
  • Light industriesElectronics, plastic, textile, cosmetic etc

Tertiary Industries

  • Not a branch of manufacturing but sells the product of primary and secondary industries via transport, trading, wholesale & retailing
  • Basically include Service providers industry

Classification of Industries

On the basis of strength of Labour:

  • Large-scale Industries
  • Medium-scale Industries
  • Small-scale Industries

On the basis of Ownership:

  • Private Sector Industries: Industries owned by individuals or firms such as Bajaj Auto or TISCO situated at Jamshedpur are called private sector industries.
  • Public Sector Industries: Industries owned by the state and its agencies, like Bharat heavy Electricals Ltd. or Bhilai Steel Plant or Durgapur Steel Plant and are public sector industries.

On the basis of source of Raw Material:

  • Agro-based Industries: Industries which obtain raw material from agriculture. Example: Cotton textile, jute textile, silk, sugar, vegetable oil and paper industry .
  • Mineral-based Industries: Industries that receive raw material primarily from minerals. Example: Iron and steel, aluminium and cement industries.

Another common classification of industries is based on the nature of the manufactured products:

  • Metallurgical Industries
  • Mechanical Engineering Industries
  • Chemical and Allied Industries
  • Textile Industries

UPSC IAS Geography Exam

उद्योग

  • उद्योग का मतलब है कि मौजूदा सामग्रियों के  कुछ ऐसे नए सामान में परिवर्तन जो अंत-उत्पादों के रूप में उपयोग किये जाते हैं या अधिक वस्तुओं के निर्माण के लिए उपयोग किये  जाते हैं|

प्राथमिक उद्योग

  • प्राकृतिक कच्चा माल का उपयोगThis is a very important topic for Civil Services exam. Frontier IAS provides online coaching for IAS / PCS / RAS / HCS, thus enhancing quality education.
  • उदाहरण –  शिकार-एकत्र करना, , मछली पकड़ना , वानिकी, कृषि, खनन और उत्खनन

द्वितीयक उद्योग

  • प्राथमिक उद्योग से प्राप्त सामग्री का उपयोग करके जटिल उत्पादों को बनाया जाता है |
  • स्टील → ऑटोमोबाइल, रेलवे इंजन
  • लकड़ी की लुगदी  → रेयान
  • फाइबर → रेडीमेड गारमेंट्स

द्वितीयक उद्योग को उप- वर्गीकृत किया जा सकता है

  • भारी उद्योग → इंजीनियरिंग, धातु के सामान, भारी रसायनों, जहाज निर्माण, लोकोमोटिव
  • हल्के  उद्योग → इलेक्ट्रॉनिक्स, प्लास्टिक, कपड़ा, कॉस्मेटिक आदि

तृतीयक उद्योग

  • विनिर्माण की कोई शाखा नहीं है, लेकिन परिवहन, व्यापार, थोक और खुदरा बिक्री के माध्यम से प्राथमिक और माध्यमिक उद्योगों के उत्पाद को इस उद्योग में बेचा जाता  है|
  • मूल रूप से सेवा प्रदाता उद्योग शामिल हैं |

उद्योगों  का वर्गीकरण

श्रमशक्ति के आधार पर :

  • वृहत उद्योग
  • मध्यम उद्योग
  • लघु उद्योग

स्वामित्व के आधार पर :

  • निजी क्षेत्र के उद्योग : वैसे उद्योग  जिनका स्वामित्व एक व्यक्ति या व्यक्तियों के समूह द्वारा किया जाता है जैसे बजाज ऑटो या जमशेदपुर में स्थित टिस्को, निजी क्षेत्र के उद्योग कहलाते हैं |
  • सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग :वैसे उद्योग जिनका स्वामित्व व संचालन सरकार द्वारा किया जाता है जैसे भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, भिलाई इस्पात संयंत्र या दुर्गापुर इस्पात संयंत्र, सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग कहलाते हैं |

कच्चे माल के स्रोत के आधार पर:

  • कृषि आधारित उद्योग:  ये उद्योग कृषि से कच्चा माल प्राप्त करते हैं | उदाहरण: कपास , जूट , रेशम, चीनी, वनस्पति तेल और पेपर उद्योग।
  • खनिज आधारित उद्योग: मुख्य रूप से खनिजों से कच्चे माल प्राप्त करने वाले उद्योग। उदाहरण: लोहा और इस्पात, एल्यूमीनियम और सीमेंट उद्योग।

उद्योगों का अन्य सामान्य वर्गीकरण निर्मित वस्तुओं के स्वरुप पर आधारित है:

  • धातुकर्म उद्योग
  • यांत्रिक इंजीनियरिंग उद्योग
  • रासायनिक और सम्बद्ध उद्योग
  • वस्त्र उद्योग

Factors responsible for location of Industries

  • Availability of Raw Material
  • Power Resources
  • Availability of water
  • Labour
  • Transportation
  • Availability of Market
  • Capital
  • Government Policies

IISCO

  • The Indian Iron and Steel Company (IISCO) set up its first factory at Hirapur and later on another at Kulti and in 1937 at Burnpur( west bengal).
  • All the three plants under IISCO are located very close to Damodar valley coal fields (Raniganj, Jharia, and Ramgarh).
  • Iron ore comes from Singhbhum in Jharkhand.
  • Water is obtained from the Barakar River, a tributary of the Damodar.

Integrated steel plants

After independence, during the Second Five Year Plan (1956-61), three new integrated steel plants were set up with foreign collaboration:

  • Rourkela in Odisha
  • Bhilai in Chhattisgarh
  • Durgapur in West Bengal

Bhilai steel plant

  • Established with Russian collaboration in Durg District of Chhattisgarh and started production in 1959.
  • The iron ore comes from Dalli-Rajhara mine.
  • Coal comes from Korba and Kargali coal fields.
  • The water comes from the Tandula Dam and the power from the Korba Thermal Power Station.

उद्योगों के स्थान के लिए जिम्मेदार कारक

  • कच्ची सामग्री की उपलब्धता
  • विद्युत संसाधन
  • पानी की उपलब्धता
  • श्रम
  • परिवहन
  • बाजार की उपलब्धता
  • पूंजी
  • सरकारी नीतियां

इंडियन आयरन एंड स्टील कंपनी

  • भारतीय आयरन एंड स्टील कंपनी (आईआईएससीओ) ने हीरापुर में अपना पहला कारखाना स्थापित किया और बाद में कुल्टी  में और 1937 में बर्नपुर (पश्चिम बंगाल) में स्थापित किया।
  • आईआईएससीओ के तहत सभी तीन संयंत्र दामोदर घाटी के कोयला क्षेत्रों (रानीगंज, झरिया और रामगढ़) के बहुत करीब स्थित हैं।
  • लौह अयस्क झारखंड में सिंहभूम से आता है।
  • पानी दामोदर की एक सहायक नदी बराकर नदी से प्राप्त किया जाता है।

एकीकृत इस्पात संयंत्र

स्वतंत्रता के बाद, दूसरे पंच वर्षीय योजना (1956-61) के दौरान , तीन नए एकीकृत इस्पात संयंत्र विदेशी सहयोग के साथ स्थापित किए गए थे:

  • ओड़िशा में राउरकेला
  • छत्तीसगढ़ में भिलाई
  • पश्चिम बंगाल में दुर्गापुर

भिलाई इस्पात संयंत्र

  • छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में रूसी सहयोग के साथ स्थापित और 1 9 5 9 में उत्पादन शुरू
  • लौह अयस्क डल्ली-राजहारा खानों  से आता है।
  • कोयला कोरबा और करगाली कोयला क्षेत्रों से आता है।
  • पानी तंदुला बांध से  और बिजली कोरबा ताप शक्तिगृह  से प्राप्त होती है |

Durgapur steel Plant

  • Durgapur Steel Plant, in West Bengal, was set up in collaboration with the government of the United Kingdom and started production in 1962.
  • This plant lies in Raniganj and Jharia coal belt
  • Gets iron ore from Noamundi
  • Durgapur lies on the main Kolkata-Delhi railway route.

Bokaro steel Plant

  • This steel plant was set up in 1964 at Bokaro with Russian collaboration.
  • This plant was set up on the principle of transportation cost minimisation by creating Bokaro-Rourkela combine.
  • Iron ore from the Rourkela region and the wagons on return take coal to Rourkela.

Aluminium Industry

  • Aluminium smelting is the second most important metallurgical industry in India.
  • The main operations of the Indian aluminium industry is mining of ores, refining of the ore, casting, alloying, sheet, and rolling into foils.
  • India is the fifth largest producer of bauxite in the world (Australia being first).

Major Production Centers

Korba – (Bharat Al. Co. Ltd):

  • Bauxite – Amarkantak – Phula- Kawahara region
  • Electricity- Korba Thermal Power Plant. Transport – Harwa- Nagpur Rail-line.

Renukoot (Hindustan Al. Co. Ltd):

  • Set up in 1988 as one of the biggest unit. Bauxite–Bagni Hills (Bihar) and Amarkantak  Mts.
  • Electricity – Rihand Dam.

दुर्गापुर स्टील प्लांट

  • पश्चिम बंगाल में दुर्गापुर स्टील प्लांट की स्थापना यूनाइटेड किंगडम की सरकार के सहयोग से की गई और 1 9 62 में उत्पादन शुरू किया गया ।
  • यह संयंत्र रानीगंज और झरिया कोयला क्षेत्र में स्थित है
  • नोआमुंडी से लौह अयस्क प्राप्त होता  है|
  • दुर्गापुर  कोलकाता-दिल्ली मुख्य  रेलवे मार्ग पर स्थित  है।

बोकारो स्टील प्लांट

  • This steel plant was set up in 1964 at Bokaro with Russian collaboration.
  • This plant was set up on the principle of transportation cost minimisation by creating Bokaro-Rourkela combine.
  • Iron ore from the Rourkela region and the wagons on return take coal to Rourkela.

एल्यूमिनियम उद्योग

  • एल्युमिनियम प्रगलन  भारत में दूसरा सबसे महत्वपूर्ण धातुकर्म उद्योग है।
  • भारतीय एल्यूमीनियम उद्योग का मुख्य संचालन अयस्क का खनन, अयस्क का परिष्करण, कास्टिंग, मिश्र धातु, शीट, और पर्ण है।
  • भारत दुनिया में बॉक्साइट का पांचवां सबसे बड़ा उत्पादक (ऑस्ट्रेलिया पहला  है)।

प्रमुख उत्पादन केंद्र :

कोरबा – (भारत अल्युमिनियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड):

  • बॉक्साइट – अमरकंटक – फुला-कावाहरा क्षेत्र
  • बिजली- कोरबा थर्मल पावर प्लांट

परिवहन – हारवा-नागपुर रेल लाइन

रेनुकूट (हिन्दुस्तान अल्युमिनियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड)

  • 1988 में सबसे बड़ी इकाई के रूप में स्थापित किया गया  |
  • बॉक्साइट : बागनी पहाड़ियां (बिहार) तथा अमरकंटक की पहाड़ियां

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!