UPSC IAS Exam Preparation | Study Material (History) for IAS | HCS | RAS

UPSC IAS Exam Preparation | Study Material (History) for IAS | HCS | RAS

UPSC IAS Exam Preparation | Study Material (History) for IAS | HCS | RAS

UPSC IAS Exam Preparation | Study Material (History) for IAS | HCS | RAS

UPSC IAS Exam Preparation | Study Material (History) for IAS | HCS | RAS

World War and Russian revolution

Peace treaties

  • The victorious powers or the Allies, met in a conference first in Versailles, a suburb of Paris, and later in Paris, between January and June 1919.
  • Though the number of countries represented at the conference was 27, the terms of the peace treaties were really decided by three countries-Britain, France and USA.
  • The defeated countries were not represented at the conference.
  • The victorious powers also excluded Russia from the conference.
  • The terms of the treaty were thus not the result of negotiations between the defeated and the victorious powers but were imposed on the defeated by the victors.
  • The main treaty was signed with Germany on 28 June 1919. It is called the Treaty of Versailles.
  • She was dispossessed of all her colonies which were taken over by the victors.
  • German colonies in SouthWest Africa and East Africa were given to Britain, Belgium, South Africa and Portugal.
  • China was aligned with the Allies during the war and was even represented at the Paris Conference.
  • But her areas under German possession of control were not restored to China instead they were given away to Japan.
  • Germany was also required to pay for the loss and damages suffered by the Allies during the war.
  • It was intended as a world organization of all independent states.
  • It aimed at the preservation of peace and security and peaceful settlement of international conflicts, and bound its members ‘ not to resort to war’
  • One of its important provisions was with regard to sanctions.
  • According to this provision, economic and military action would be taken against any country which committed aggression.
  • The League was never an effective organization.
  • In the 1930s when many countries resorted to aggression, the League was either ignored or defied.
  • An important feature of the peace treaties which indicates its nature was the decision with regard to the colonies of the defeated powers.

UPSC IAS Exam Preparation

शांति संधियाँ

शान्ति समझौते :

  • विजेता शक्तियों अथवा मित्र राष्ट्र पेरिस के उपनगर वर्साय में पहले मिले तथा उसके बाद उनकी बैठक पेरिस में जनवरी से जून 1919 के बीच हुई |
  • हालाँकि सम्मेलन का प्रतिनिधित्व करने वाले देशों की संख्या 27 थी, किंतु शांति संधियों की शर्तें वास्तव में केवल तीन देशों – ब्रिटेन, फ्रांस तथा संयुक्त राज्य अमेरिका, के द्वारा तय की गयीं |
  • पराजित देशों का प्रतिनिधित्व सम्मेलन में नहीं किया गया |
  • विजेता शक्तियों ने रूस को भी सम्मेलन में शामिल नहीं किया |
  • संधि की शर्तें इस तरह पराजित एवं विजेता देशों के बीच वार्ताओं का परिणाम नहीं थीं बल्कि ये शर्तें विजेताओं द्वारा पराजित देशों पर थोपी गयी थीं |
  • मुख्य संधि पर हस्ताक्षर जर्मनी में 28 जून 1919 को किया गया | इसे वर्साय की संधि कहा जाता है |
  • उसे अपने सभी उपनिवेशों से बेदखल कर दिया गया तथा इन उपनिवेशों को विजेताओं ने ले लिया |
  • दक्षिण-पूर्वी अफ्रीका तथा पूर्वी अफ्रीका के जर्मन उपनिवेशों को ब्रिटेन, बेल्जियम, दक्षिण अफ्रीका, एवं पुर्तगाल को दे दिया गया |
  • चीन युद्ध के दौरान मित्र राष्ट्रों के साथ था तथा यहाँ तक कि वह पेरिस सम्मेलन का प्रतिनिधि भी था |
  • किन्तु जर्मन नियंत्रणाधिकार  वाले उसके क्षेत्रों को चीन को वापिस नहीं किया गया तथा उन्हें जापान को दे दिया गया |
  • जर्मनी को मित्र राष्ट्रों को युद्ध के दौरान हुई क्षति एवं नुकसान की भरपाई भी करनी थी |
  • यह सभी स्वतंत्र राष्ट्रों के वैश्विक संगठन के रूप में अभिप्रेत था |
  • इसका लक्ष्य शांति का संरक्षण तथा अंतर्राष्ट्रीय संघर्षों का शांतिपूर्ण समाधान  करना एवं अपने सदस्यों को युद्ध ना करने के लिए बाध्य करना था |  
  • इसका एक महत्वपूर्ण प्रावधान प्रतिबंधों के सम्बन्ध में था |
  • इस प्रावधान के अनुसार, यदि कोई भी देश आक्रमण करता तो उसपर आर्थिक एवं सैन्य कार्यवाही की जा सकती थी |
  • यह संघ कभी भी एक प्रभावी संगठन नहीं बन सका |
  • 1930 के दशक में, जब कई देशों ने आक्रमण का सहारा लिया, तब इस संगठन को या तो नज़रअंदाज किया गया या फिर  इसकी अवहेलना की गयी |
  • शांति संधियों की एक महत्वपूर्ण विशेषताइसके द्वारा  पराजित देशों के उपनिवेशों के सम्बन्ध में लिए गए निर्णय थे जो इसकी प्रकृति को दर्शाते थे |

Peace treaties

  • The publication of secret treaties by the Soviet government exposed these claims.
  • The Soviet Union which had repudiated all the secret agreements did not receive any spoils which had been promised to the Russian emperor.
  • The League of Nations also recognised this division of the spoils.

Consequences of the war and the Peace Treaties:

  • The First World War was the most frightful war that the world had so far seen.
  • The number of persons who fought in the war is staggering.
  • The total number of those killed and dead in the war are estimated at about nine million.
  • The air raids, epidemics and famines killed many more among the civilian populations.
  • The political institutions as they had been evolving in various countries also suffered a serious setback
  • The war and the peace treaties transformed the political map of the world, particularly of Europe.
  • Three ruling dynasties were destroyed -the Romanov in Russia during the war itself, the Hohenzollern in Germany and the Habsburg in Austria-Hungary.
  • The role played by the soldiers from Asia and Africa in winning the war for one group of nations of Europe against another shattered this myth.
  • Many Asian leaders had supported the war effort in the hope that, once the war was over, their countries would be given freedom.
  • These hopes were, however, belied.
  • All these factors strengthened nationalist movements in the colonies. In some countries, the first stirrings of nationalism were felt after the war.

Conditions in Russia before revolution:

  • By the early years of the twentieth century, political movements based on the ideas of socialism had emerged in a number of countries in Europe.
  • With the outbreak of the First World War, however, the socialist movement in most countries of Europe suffered a setback.
  • During this period, however, unrest was brewing in Russia.
  • The Russian Revolution took place in 1917, affecting the course of world history for many decades.

शांति संधियाँ

  • सोवियत सरकार ने इन गुप्त संधियों को प्रकाश में लाकर इन दावों की पोल खोल दी |
  • सोवियत संघ जिसने सभी गुप्त समझौतों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था, उसे कोई भी विजयोपहार नहीं मिला  जिसका रुसी सम्राट को वादा किया गया था |
  • राष्ट्रसंघ ने भी लूट (विजयोपहार ) के विभाजन को स्वीकार किया |

युद्ध के परिणाम तथा शांति संधियाँ :

  • प्रथम विश्व युद्ध दुनिया द्वारा अब तक देखा गया सबसे भयावह युद्ध था |
  • युद्ध में लड़ने वाले लोगों की संख्या चौंकाने वाली है|
  • इस युद्ध में मारे गए लोगों की अनुमानित संख्या नब्बे लाख है |
  • हवाई हमले, महामारियाँ, तथा अकाल, की वजह से नागरिक आबादी में बहुत अधिक लोगों की मौत हो गयी |
  • विभिन्न देशों में विकसित हो रहे राजनीतिक संस्थानों को भी गंभीर नाकामयाबी का सामना करना पड़ा |
  • युद्ध एवं शांति संधियों ने विश्व, विशेष रूप से यूरोप  के राजनीतिक नक़्शे को बदल दिया |
  • तीन सत्तारूढ़ राजवंशों का पतन हो गया –रूस में युद्ध के दौरान ही  रोमानोव,  जर्मनी में होहेनज़ोलर्न तथा ऑस्ट्रिया-हंगरी में हाब्सबर्ग राजवंश |
  • यूरोप के देशों के एक समूह के लिए दूसरे के विरुद्ध युद्ध को जीतने में एशिया तथा अफ्रीका के सैनिकों द्वारा निभाई गयी भूमिका ने इस मिथक को तोड़ दिया |
  • कई एशियाई नेताओं ने युद्ध के प्रयास का इस उम्मीद में समर्थन किया था कि, जैसे ही युद्ध समाप्त होगा, उनके देशों को आज़ादी दे दी जाएगी|
  • ये उम्मीदें, हालाँकि, झूठी साबित हुईं |
  • इन सभी कारकों ने  उपनिवेशों में राष्ट्रवादी आंदोलनों को मजबूत किया तथा युद्ध के बाद राष्ट्रवाद की पहली सरगर्मी महसूस की गयी |

क्रांति के पहले रूस की स्थिति :

  • बीसवीं शताब्दी के आरंभिक वर्षों तक, समाजवाद के विचारों पर आधारित राजनीतिक आंदोलनों का उदय यूरोप के कई देशों में हुआ था |
  • प्रथम विश्व युद्ध के शुरू हो जाने से, हालाँकि, यूरोप के अधिकांश देशों में समाजवादी आंदोलनों को असफलता का सामना करना पड़ा |
  • इस अवधि के दौरान, रूस में लेकिन अशांति पैदा हो रही थी |
  • रूस की क्रांति 1917 में हुई, जिसने कई दशकों तक विश्व इतिहास के पथ को प्रभावित किया |

Russian Revolution

  • For the small holdings they acquired, they had to pay heavy redemption dues for decades.
  • Land hunger of the peasants was a major social factor in the Russian society.
  • Industrialization began very late in Russia, in the second half of the nineteenth century.
  • Then it developed at a fairly fast rate, but more than half of the capital for investment came from foreign countries.
  • Whether factories were owned by foreigners or Russians, the conditions of work were horrible.
  • The workers had no political rights and no means of gaining even minor reforms.
  • The only people who supported the Czar were the nobility and the upper layers of the clergy.
  • All the rest of the population in the vast Russian empire was hostile.

Growth of revolutionary movements in Russia:

  • There were many peasant rebellions in Russia before the nineteenth century but they were suppressed.
  • Many Russian thinkers had been influenced by developments in Western Europe and wanted to see similar changes in Russia.
  • Their efforts had helped to bring about the abolition of serfdom.
  • This, however, turned out to be a hollow victory.
  • One group which was in a minority (hence known as the Mensheviks) favoured a party of the type that existed in countries like France and Germany and participated in elections to the parliaments of their countries.
  • The majority, known as the Bolsheviks, were convinced that in a country where no democratic rights existed and where there was no parliament, a party organized on parliamentary lines would not be effective.
  • More than a thousand of them were killed and thousands of others were wounded.
  • This day is known as Bloody Sunday. The news of the killings provoked unprecedented disturbances throughout Russia.
  • Even sections of the army and the navy revolted.
  • Beginning as committees to conduct strikes, they became the instruments of political power
  • In October, the Czar yielded and announced his manifesto granting freedom of speech, press and association, and conferred the power to make laws upon an elected body called the ‘Duma’ .
  • The Czar’s manifesto contained principles which would have made Russia a constitutional monarchy like England.

रूस की क्रांति

  • उनके स्वामित्व वाले छोटे जोतों के लिए, उन्हें दशकों के मोचन बकाये का भुगतान करना पड़ता था |
  • किसानों की भू-तृष्णा रुसी समाज में एक प्रमुख सामाजिक कारक था |
  • रूस में औद्योगीकरण काफी देर से, उन्नीसवीं सदी के दूसरे भाग में शुरू हुआ |
  • उसके बाद इसने काफी तीव्र गति से विकास किया, किंतु निवेश के लिए आधी से अधिक पूँजी विदेशी देशों से आई थी |
  • कारखानों का मालिक रुसी हो अथवा विदेशी, कार्य की परिस्थितियाँ भयावह थीं |
  • श्रमिकों के पास कोई राजनीतिक अधिकार नहीं थे तथा यहाँ तक कि मामूली सुधारों का भी कोई साधन नहीं था |
  • जार का समर्थन केवल पुरोहित वर्ग के संपन्न लोगों ने एवं कुलीनों ने किया |
  • विशाल रुसी साम्राज्य में शेष आबादी जार के विरुद्ध थी |

रूस में क्रांतिकारी आंदोलनों की उत्पत्ति :

  • रूस में उन्नीसवीं शताब्दी से पूर्व कई कृषक विद्रोह हुए किंतु उनका दमन कर दिया गया था  |  
  • कई रुसी विचारक पश्चिमी यूरोप में घटित घटनाओं से प्रभावित थे तथा वे वैसे ही बदलाव रूस में भी चाहते थे |
  • उनके प्रयासों से दासत्व का उन्मूलन हो सका |
  • किंतु यह, आगे चलकर एक खोखली जीत साबित हुई |
  • एक समूह जो अल्पसंख्यक था (अतः  उसे मेनशेविक के नाम से जाना जाता था ) ने उस तरह की पार्टी का समर्थन किया फ़्रांस तथा जर्मनी जैसे देशों में मौजूद थी तथा उन देशों के संसदीय चुनावों में भाग लेती थी |
  • बहुसंख्यक समूह, जिन्हें बोल्शेविकों के नाम से जाना जाता था, वे इस बात पर यकीन करते थे कि एक ऐसे देश में जहाँ लोकतांत्रिक अधिकार नहीं हैं तथा जहाँ कोई संसद नहीं है, वहां संसदीय तर्ज़ पर गठित कोई पार्टी प्रभावी नहीं होगी |
  • उनमें हज़ारों लोग मारे गए तथा हज़ारों अन्य लोग ज़ख्मी हो गए |
  • इस दिन को खूनी रविवार के नाम से जाना जाता है | इन हत्याओं ने समूचे रूस में  अभूतपूर्व उपद्रव को भड़का दिया |
  • यहाँ तक कि थलसेना तथा जलसेना की इकाइयों ने भी विद्रोह कर दिया |
  • हड़ताल का आयोजन करने वाली समितियों के रूप में शुरुआत करके, वे राज-सत्ता का साधन बन गए |
  • अक्टूबर में, जार झुका तथा उसने घोषणापत्र जारी किया जिसमें अभिव्यक्ति, प्रेस तथा संगठन की स्वतंत्रता प्रदान की गयी थी तथा ड्यूमा नामक एक  निर्वाचित निकाय को क़ानून बनाने की शक्ति प्रदान की गयी थी |
  • जार के घोषणापत्र में वे सिद्धांत निहित थे जो रूस को  इंग्लैंड की तरह एक संवैधानिक राजतंत्र वाला देश बनाते |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!