UPSC | IAS 2018 Study Notes || History Notes || HCS Online Preparation

UPSC | IAS 2018 Study Notes || History Notes || HCS Online Preparation

UPSC | IAS 2018 Study Notes || History Notes || HCS Online Preparation

UPSC | IAS 2018 Study Notes || History Notes || HCS Online Preparation

UPSC | IAS 2018 Study Notes || History Notes || HCS Online Preparation

World War

The First World War:

  • In 1914, a war began in Europe which soon engulfed almost the entire world.
  • It affected the economy of the entire world the casualties suffered by the civilian population from bombing of the civilian areas and the famines and epidemics, caused by the war far exceeded those suffered by the armies.
  • The battles of the war were fought in Europe, Asia, Africa and the Pacific.

Causes of First World War

Imperialist Rivalries:

  • The imperialist conquest of Asia and Africa was accompanied with conflicts between the imperialist countries.
  • If an imperialist country was excluded from a certain area, it could find some other area to conquer.
  • Sometimes wars did break out between imperialist countries as happened, for instance, between Japan and Russia.

Germany:

  • After the unification of Germany had been achieved, it made tremendous economic progress.
  • By 1914, it had left Britain and France far behind in the production of iron and steel and in many manufactures.

Conflicts within Europe:

  • Besides the conflicts resulting from rivalries over colonies and trade, there were conflicts among the major European powers over certain developments within Europe.
  • There were six major powers in Europe at this time-Britain, Germany, Austria-Hungary, Russia, France and Italy.

UPSC | IAS 2018

प्रथम विश्व युद्ध :

  • 1914 में, यूरोप में युद्ध शुरू हुआ जिसने जल्द ही पूरी दुनिया को अपने आगोश में ले  लिया |
  • इसने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया तथा नागरिक इलाकों में बमबारी एवं अकाल, तथा महामारियों की वजह से जिन हताहतों का सामना आम नागरिकों को करना पड़ा, वे उन हताहतों से अधिक थीं जिनका सामना सेनाओं को करना पड़ा था |
  • युद्ध की लड़ाइयाँ यूरोप, एशिया, अफ्रीका, तथा प्रशांत महासागर के क्षेत्र में लड़ी गयी थीं |

प्रथम विश्व युद्ध के कारण :

साम्राज्यवादी प्रतिद्वंद्विता :

  • एशिया तथा अफ्रीका  के साम्राज्यवादी विजय के साथ ही साम्राज्यवादी देशों के बीच संघर्ष की स्थिति उत्पन्न हुई |
  • यदि किसी साम्राज्यवादी देश को किसी क्षेत्र से बाहर कर दिया जाता था, तो यह देश किसी अन्य क्षेत्र पर अपना अधिकार करने के लिए ढूँढ़ लेता  था|
  • कभी कभी साम्राज्यवादी देशों के बीच युद्ध भी हुए, उदाहरण के लिए जापान एवं रूस के बीच |

जर्मनी :

  • अपने एकीकरण के बाद जर्मनी ने  आश्चर्यजनक आर्थिक तरक्की की |
  • 1914 तक, इसने लोहे तथा स्टील के उत्पादन में तथा कई विनिर्माण में ब्रिटेन तथा फ्रांस को काफी पीछे छोड़ दिया था |

यूरोप के भीतर संघर्ष :

  • उपनिवेशों तथा व्यापार के मुद्दे पर प्रतिस्पर्धा का परिणाम संघर्षों के रूप में होने के अतिरिक्त, यूरोप की प्रमुख शक्तियों के बीच यूरोप के भीतर कुछ घटनाओं को लेकर भी संघर्ष चल रहे थे |
  • इस समय यूरोप में छः प्रमुख शक्तियाँ थीं – ब्रिटेन, जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी, रूस, फ्रांस तथा इटली |

The First World war

Formation of Alliances:

  • European countries began to form themselves into opposing groups.
  • They also started spending vast sums of money to increase the size of their armies and navies, to develop new and more deadly weapons, and to generally prepare themselves for war.
  • Europe Was gradually becoming a vast armed camp

Incidents preceding the war:

  • The outbreak of the war was preceded by a series of incidents which added to the prevailing tension and ultimately led to the war.

Clash over Morocco:

  • In 1904, Britain and France had entered into a secret agreement (Britain was to have a free hand in Egypt, and France was to take over Morocco).
  • The agreement became known to Germany and aroused her indignation.
  • The German emperor went to Morocco and promised the Sultan of Morocco his full support for its independence.

The outbreak of war:

  • The war was precipitated by an incident which would not have created much stir if Europe had not stood divided into two hostile armed camps, preparing for war for many years
  • On 28 june 1914 Archduke Francis Ferdinand, the heir to the throne of Austria-Hungary , was assassinated at Sarajevo, capital of Bosnia. (It had been annexed by Austria only a few years earlier.)

प्रथम विश्व युद्ध

गठबन्धनों का निर्माण :

  • यूरोपीय देशों ने खुद को विरोधी समूहों में शामिल करना शुरू कर दिया |
  • उन्होंने अपनी सेनाओं और नौसेनाओं के आकार में वृद्धि करने के लिए, नए और अधिक घातक हथियारों का विकास करने के लिए, तथा आम तौर पर कहा जाए तो युद्ध के लिए खुद को तैयार करने के लिए भारी रकम खर्च करना शुरू कर दिया।
  • यूरोप धीरे-धीरे एक विशाल सशस्त्र छावनी बन रहा था |

युद्ध के पहले घटित घटनाएँ :

  • युद्ध की शुरुआत के पहले एक श्रृंखला में घटनाएँ घटित हुईं थीं जिन्होंने पहले से प्रबल तनाव में वृद्धि कर दिया तथा अंततः युद्ध की वजह बनीं |

मोरक्को के लिए संघर्ष :

  • 1904 में, ब्रिटेन तथा फ्रांस एक गुप्त समझौते में शामिल हुए ( जिसके तहत ब्रिटेन को मिस्र में खुली छूट मिलनी थी तथा फ़्रांस को मोरक्को का अधिग्रहण करना था )
  • इस समझौते के बारे में जर्मनी को पता चल गया तथा इसने उसकी नाराजगी को बढ़ा दिया |
  • जर्मनी के सम्राट मोरक्को गए तथा मोरक्को के सुलतान को उनके देश की स्वतंत्रता प्राप्ति में पूर्ण सहायता करने का वादा किया |

युद्ध की शुरुआत :

  • युद्ध की उत्पत्ति एक घटना से हुई थी जिससे बहुत ज्यादा विप्लव नहीं होता यदि यूरोप कई वर्षों से युद्ध की तैयारी करते हुए दो शत्रुतापूर्ण सशस्त्र छावनियों में विभाजित नहीं हुआ होता |
  • 28 जून 1914 को, ऑस्ट्रिया-हंगरी की सत्ता के वारिस  आर्चड्युक फ्रांसिस फर्डिनेंड की बोस्निया की राजधानी साराजेवो में हत्या कर दी गयी | ( इसपर ऑस्ट्रिया के द्वारा कुछ वर्षों पूर्व ही कब्ज़ा किया गया था )

The course of war:

  • Germany had hoped that through a lightning strike through Belgium, she would be able to defeat France within a few weeks and then turn against Russia.
  • The plan seemed to succeed for a while and the German troops were within 20 km of Paris.
  • Russia had opened attacks on Germany and Austria and some German troops had to be diverted to the eastern front.
  • Soon the German advance on France was halted and the war in Europe entered a long period of stalemate.
  • In the meantime the war had spread to many other parts of the world and battles were fought in West Asia, Africa and the Far East.

End of the war:

Efforts to bring the war to an end:

  • In early 1917, a few socialist parties proposed the convening of an international socialist conference to draft proposals for ending the war without annexations and recognition of the right of peoples to self-determination. However, the conference could not be held.
  • However, these proposals were rejected.
  • The Pope also made proposals for peace but these too were not taken seriously.
  • Though these efforts to end the war did not get any positive response from the governments of the warring countries, antiwar feelings grew among the people.
  • There was widespread unrest and disturbances and even mutinies began to break out.
  • Germany became a republic and the German emperor Kaiser William II fled to Holland.
  • The new German government signed an armistice on 11 November 1918 and the war was over.
  • The news was received with tremendous Jubilation all over the world

युद्ध का घटनाक्रम :

  • जर्मनी को उम्मीद थी कि बेल्जियम के माध्यम से एक त्वरित प्रहार द्वारा, वह फ्रांस को कुछ हफ़्तों में पराजित करने में कामयाब हो जाएगा एवं उसके बाद रूस की तरफ बढेगा |
  • यह योजना कुछ हद तक सफल रही एवं जर्मन सैनिक पेरिस के 20 किमी के भीतर थे |
  • रूस ने जर्मनी तथा ऑस्ट्रिया  पर हमलों की शुरुआत कर दी थी तथा कुछ जर्मन सैनिकों को पूर्वी मोर्चे पर जाना पड़ा था |
  • जल्द ही फ्रांस पर जर्मनी की बढ़त रुक गयी तथा यूरोप में यह युद्ध गतिरोध की एक लम्बी अवधि में प्रवेश कर गया |
  • तब तक, यह युद्ध विश्व के कई अन्य भागों तक फ़ैल चुका था तथा पश्चिमी एशिया, अफ्रीका, एवं सुदूर पूर्व में लड़ाइयाँ लड़ी गयीं |

युद्ध की समाप्ति

युद्ध को समाप्त करने के प्रयास :

  • 1917 के आरम्भ में कुछ समाजवादी दलों ने बिना किसी राज्य-हरण के युद्ध को समाप्त करने तथा लोगों के स्वतंत्रता के अधिकार को स्वीकार करने हेतु रूपरेखा तैयार करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समाजवादी सम्मेलन को आहूत करने का प्रस्ताव दिया | हालाँकि, यह सम्मेलन आयोजित नहीं किया जा सका |
  • हालाँकि, इन प्रस्तावों को अस्वीकार कर दिया गया|
  • पोप ने भी शान्ति प्रस्ताव दिया किन्तु इन्हें भी गंभीरता से नहीं लिया गया |
  • यद्यपि युद्ध को समाप्त करने के इन प्रस्तावों को युद्ध में शामिल देशों की सरकारों से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली, किंतु लोगों में युद्ध विरोधी  भावनाओं का जन्म हुआ |
  • बड़े पैमाने पर अशांति एवं उपद्रव हुए तथा यहाँ तक कि सैन्य-विद्रोह होने भी शुरू हो गए |
  • जर्मनी एक गणतंत्र बन गया तथा जर्मन सम्राट कैसर विलियम द्वितीय हॉलैंड भाग गया |
  • नयी जर्मन सरकार ने  11 नवंबर 1918 को युद्धविराम संधि पर हस्ताक्षर कर दिया  तथा युद्ध समाप्त हो गया |
  • इस समाचार का स्वागत पूरी दुनिया में बेहद आनंदोत्सव के साथ किया गया |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply