UPSC IAS 2018 History – Online Notes || HCS Online Exam Preparation

UPSC IAS 2018 History – Online Notes || HCS Online Exam Preparation

UPSC IAS 2018 History – Online Notes || HCS Online Exam Preparation

UPSC IAS 2018 History – Online Notes || HCS Online Exam Preparation

UPSC IAS 2018 History – Online Notes || HCS Online Exam Preparation

World from 1919 to World War II

Fascism in Italy

  • A number of political movements which arose in Europe after the First World War are generally given the name ‘fascist’
  • The common features of these movements were their hostility to democracy and socialism, and the aim of establishing dictatorships.
  • They succeeded, in many countries of Europe, such as, Hungary, Italy, Poland, Portugal, Germany, Spain.
  • Their success in Italy and Germany had the most serious consequences.
  • The Italian government at the time was dominated by capitalists and landlords.
  • These sections began to support anti democratic movements which promised to save them from the danger of socialism as well as to satisfy their colonial aspirations.
  • The movement started by Mussolini was one such movement. His armed gangs were used by landlords and industrialists to organize violence against socialists and communists.
  • In 1926 all political parties except Mussolini’s party were banned.
  • The victory of fascism in Italy not only led to the destruction of democracy and the suppression of socialist movement, it also led to the preparation for war.
  • The victory of fascism in Italy was neither the result of a victory in elections nor of a popular uprising.

Nazism in Germany:

  • Within eleven years of the fascist capture of power in Italy, Nazism triumphed in Germany.
  • Nazism which was the German version of fascism was much more sinister than the original Italian version
  • The Nazis, under the leadership of Adolf Hitler, established the most barbarous dictatorship of modern times.
  • Germany had sought to satisfy her imperial ambitions through war but she had suffered defeat.
  • He glorified the use of force and brutality, and the rule by a great leader and ridiculed internationalism, peace and democracy.
  • He preached extreme hatred against the German Jews who were blamed not only for the defeat of Germany in the First World War but for all the ills of Germany.
  • The dreadful ideas of the Nazis found favour with the army, the industrialists, the big landowners and the anti republican politicians.
  • In 1929 occurred the most serious economic crisis which affected all the capitalist countries of the world.

UPSC IAS 2018 History

इटली में फासीवाद :

  • यूरोप में प्रथम विश्व युद्ध के बाद शुरू हुए कई आंदोलनों को आमतौर पर फासीवाद का नाम दिया गया है |
  • इन आंदोलनों की समान विशेषता लोकतंत्र एवं समाजवाद के विरुद्ध उनकी शत्रुता तथा तानाशाही व्यवस्था की स्थापना का लक्ष्य था |
  • यूरोप के कई देशों में उन्हें सफलता मिली, जैसे कि हंगरी, इटली, पोलैंड, पुर्तगाल, जर्मनी, स्पेन |
  • इटली एवं जर्मनी में उनकी सफलता के गंभीर परिणाम हुए |
  • उस समय की इतालवी सरकार पर पूंजीपति एवं भूस्वामी हावी थे |
  • इन वर्गों ने गैर-लोकतांत्रिक आंदोलनों का समर्थन करना शुरू कर दिया, जिन आंदोलनों ने उन्हें समाजवाद के ख़तरे से बचाने तथा साथ ही उनकी औपनिवेशिक महत्वाकांक्षाओं को भी संतुष्ट करने का आश्वासन दिया था |
  • मुसोलिनी द्वारा शुरू किया गया आंदोलन भी एक ऐसा ही आंदोलन था | उसके सशस्त्र गिरोहों का प्रयोग उद्योगपतियों तथा भूस्वामियों के द्वारा समाजवादियों तथा साम्यवादियों के विरुद्ध हिंसा का आयोजन करने के लिए किया जाता था |
  • 1926 में, मुसोलिनी की पार्टी को छोड़कर सभी राजनीतिक दलों पर प्रतिबंध लगा दिया गया |
  • इटली में फासीवाद की जीत ना केवल लोकतंत्र के विनाश एवं समाजवादी आंदोलन के दमन की वजह बनी बल्कि यह युद्ध की तैयारियों की वजह भी बनी |
  • इटली में फासीवाद की जीत ना तो चुनावों में जीत का परिणाम थी और ना ही लोकप्रिय आंदोलन का|

जर्मनी में नाज़ीवाद :

  • इटली में सत्ता पर फासीवादियों के कब्ज़े के ग्यारह वर्षों के भीतर, जर्मनी में नाज़ीवाद की विजय हुई |
  • नाज़ीवाद, जो फासीवाद का जर्मन संस्करण था, वह वास्तविक इतालवी संस्करण से कहीं ज्यादा भयावह था |
  • एडोल्फ हिटलर के नेतृत्व में नाज़ियों ने आधुनिक काल की सबसे बर्बर तानाशाही व्यवस्था  की स्थापना की |
  • जर्मनी ने युद्ध के माध्यम से अपनी साम्राज्यवादी महत्वाकांक्षाओं को संतुष्ट करने का प्रयास किया था किंतु उसे हार का सामना करना पड़ा  |
  • उसने बल तथा निष्ठुरता के प्रयोग, तथा एक महान नेता द्वारा शासन  का महिमामंडन किया तथा अन्तर्राष्ट्रवाद, शांति, एवं लोकतंत्र का उपहास उड़ाया |
  • उसने जर्मन यहूदियों के खिलाफ अत्यधिक घृणा का प्रचार किया जिन्हें प्रथम विश्व युद्ध में ना केवल जर्मनी की हार का बल्कि जर्मनी की सभी बुराइयों का जिम्मेदार ठहराया गया था |
  • नाज़ियों के भयानक विचारों को सेना, उद्योगपतियों, बड़े भूस्वामियों, तथा अलोकतांत्रिक ताकतों का समर्थन मिला हुआ था |
  • 1929 में सबसे विकट आर्थिक मंदी आई जिसने दुनिया के सभी पूँजीवादी देशों को प्रभावित किया |

Developments in Britain and France:

  • The two major countries of Europe which did not succumb to fascist movements were Britain and France.
  • However, both these countries were faced with serious economic difficulties.
  • In 1921, there were 2 million unemployed persons in Britain.
  • In 1924, the first Labour Party government came to power. However, it did not remain in power for long.
  • In 1931, the National government comprising the Conservative, the Labour and the Liberal parties was formed.
  • Fascist movement rose its head and there was violence in the streets.
  • Ultimately, to meet the threat posed by fascist and other anti democratic forces, a government comprising Socialist, Radical Socialist and Communist parties was formed in 1936.
  • This is known as the Popular Front government and it lasted for about two years.

United States emerges as the Strongest power:

  • One of the most important features of the period after the First World War was the decline in the supremacy of Europe in the  world and the growing importance of the United States of America.
  • She had, in fact, emerged as the richest and the most powerful country in the world at the end of the war.
  • This was clear from the important role that she played during the framing of the peace treaties.
  • She had made tremendous industrial progress and was beginning to make heavy investments in Europe.
  • However, in spite of this progress, the United States was frequently beset with serious economic problems.
  • These problems were the result of the capitalist system.
  • The worldwide economic crisis began in 1929 was originated in USA.
  • The economies of the colonies of the European countries were also affected.
  • The Depression resulted in large scale unemployment, loss of production, poverty and starvation.
  • It continued throughout the 1930s even though after 1933, the economies of the affected countries began to recover.

ब्रिटेन तथा फ्रांस में घटित घटनाएँ :

  • फ्रांस तथा ब्रिटेन यूरोप के दो बड़े देश थे जो फासीवादी आंदोलनों के सामने नहीं झुके |
  • हालाँकि, इन दोनों देशों को गंभीर आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ा |
  • 1921 में, ब्रिटेन में बेरोज़गार लोगों की संख्या 20 लाख थी |
  • 1924 में, लेबर पार्टी की पहली सरकार सत्ता में आई | हालाँकि यह लम्बे समय तक सत्ता में नहीं रह सकी |
  • 1931 में, राष्ट्रीय सरकार का गठन किया गया  जिसमें कंजर्वेटिव, लेबर तथा लिबरल पार्टियाँ शामिल थीं |
  • फासीवादी आंदोलन ने अपना सिर उठा लिया तथा सड़कों पर हिंसा होने लगी |
  • आखिरकार, फासीवादियों तथा अन्य अलोकतांत्रिक ताकतों द्वारा उत्पन्न खतरे से निपटने के लिए वर्ष 1936 में एक सरकार का गठन हुआ जिसमें समाजवादी, उग्र समाजवादी तथा साम्यवादी पार्टियाँ शामिल थीं |
  • इस सरकार को पॉपुलर फ्रंट गवर्नमेंट के नाम से जाना जाता है तथा यह सरकार 2 वर्षों तक चली |

संयुक्त राज्य का महाशक्ति के रूप में उदय :

  • प्रथम विश्व युद्ध के बाद की अवधि की सबसे महत्वपूर्ण विशेषताओं में से एक विशेषता यह थी कि विश्व में यूरोप की सर्वोच्चता का पतन हो गया था तथा संयुक्त राज्य अमेरिका के महत्व में वृद्धि हुई थी |
  • यह , वास्तव में, युद्ध के अंत में विश्व के सबसे शक्तिशाली तथा धनी देश के रूप में उभरा था |
  • यह शांति संधियों को तय करने में उसके द्वारा निभायी गयी अहम भूमिका से स्पष्ट हो गया था |
  • इसने शानदार औद्योगिक प्रगति की थी तथा इसने यूरोप में भारी निवेश करना शुरू कर दिया था |
  • हालाँकि, इस प्रगति के बावजूद, संयुक्त राज्य गंभीर आर्थिक समस्याओं से लगातार घिरा रहा |
  • ये समस्याएँ पूँजीवादी व्यवस्था का परिणाम थीं |
  • 1929 में शुरू हुई विश्वव्यापी आर्थिक मंदी की उत्पत्ति संयुक्त राज्य अमेरिका में हुई थी |
  • यूरोपीय देशों के उपनिवेशों की अर्थव्यवस्थाएँ भी प्रभावित हुईं |
  • इस मंदी का परिणाम बड़े पैमाने पर बेरोज़गारी, उत्पादन में कमी, गरीबी तथा भुखमरी के रूप में हुआ |
  • यह 1930 के दशक तक जारी रही किन्तु 1933 के बाद, प्रभावित देशों की अर्थव्यवस्थाएँ पुरानी स्थिति में लौटने लगीं |

The Emergence of the Soviet Union:

  • The period after the First World War saw the emergence of the Soviet Union as a major power and she began to play a crucial role in world affairs.
  • Russia’s participation in the First World War and the long period of civil war and foreign intervention which followed the revolution had completely shattered the economy of the country.
  • There was a severe shortage of food. The production of industrial goods had fallen far below the pre-war level.
  • They were not allowed to sell it in the market.
  • These measures had created unrest among the peasants and other sections of society but were accepted because they were considered essential to defend the revolution.
  • After the civil war ended, these measures were withdrawn and in 1921, the New Economic Policy was introduced.
  • Major changes were introduced in agriculture.
  • The small landholdings or farms were considered not very productive. To increase production, it was considered essential to introduce tractors and other farm machinery. It was thought that this could be done only if the size of the farms was large.
  • The government pursued the policy of collectivization vigorously and by 1937 almost all cultivable land was brought under collective farms.
  • The rich peasants who opposed collectivization were severely dealt with.
  • The main centres of the revolution in 1917 were in Russia.
  • In the following years, the revolution spread to many other parts of the old Russian empire and the Bolshevik Party formed governments in the areas inhabited by non Russian nationalities.
  • After the death of Lenin in 1924 many serious differences arose within the ruling Communist Party the only political party which existed
  • There was also serious struggle for power between different groups and individual leaders. In this struggle, Stalin emerged victorious.
  • In 1927, Trotsky who had played an important role in the revolution and had organized the Red Army was expelled from the Communist Party.
  • However, the Western countries did not agree to the Soviet proposals. They continued to regard the Soviet Union as a danger to them and hoped that the fascist countries would destroy her.
  • Their hostility to the Soviet Union led to the appeasement of fascist powers paved the way for the Second World War.

सोवियत संघ का उदय :

  • प्रथम विश्व युद्ध के बाद की अवधि में सोवियत संघ का उदय एक प्रमुख शक्ति के रूप में हुआ तथा वह वैश्विक मामलों में महत्वपूर्ण भूमिकाएँ निभाने लगा |
  • प्रथम विश्व युद्ध में रूस की भागीदारी तथा लम्बे समय तक गृह युद्ध एवं विदेशी हस्तक्षेप के बाद हुई क्रांति ने इस देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया था |
  • भोजन की गंभीर कमी थी | औद्योगिक वस्तुओं का उत्पादन युद्ध-पूर्व स्तर से बहुत नीचे आ चुका था |
  • उन्हें इन उत्पादों को बाज़ार में बेचने की अनुमति नहीं दी गयी |
  • इन उपायों से किसानों तथा समाज के अन्य वर्गों में असंतोष का भाव उत्पन्न हुआ किंतु इन उपायों को स्वीकार कर लिया गया क्योंकि क्रांति की रक्षा करने के लिए इन्हें अनिवार्य माना गया था|
  • गृह युद्ध की समाप्ति के बाद, इन आदेशों को वापस ले लिया गया तथा नयी आर्थिक नीति प्रस्तुत की गयी |
  • कृषि में बड़े बदलाव लाये गए |
  • छोटी जोतों अथवा कृषि भूमियों को बहुत उत्पादक नहीं माना जाता था | उत्पादन बढ़ाने के लिए, ट्रैक्टर तथा अन्य कृषि मशीनों का प्रयोग अनिवार्य था | ऐसा माना गया कि यह तभी संभव है जब खेतों का आकार विशाल होता |
  • सरकार ने उत्साहपूर्वक समूहीकरण की नीति का अनुसरण किया तथा वर्ष 1937 तक, लगभग सभी कृषि योग्य भूमियों को सामूहिक खेतों के अंतर्गत शामिल किया जा चुका था |
  • समूहीकरण का विरोध करने वाले धनी किसानों से सख्ती से निपटा गया |
  • 1917 की क्रांति के मुख्य केंद्र रूस में थे |
  • आने वाले वर्षों में, यह क्रांति पुराने रुसी साम्राज्य के कई अन्य हिस्सों में भी फ़ैल गयी तथा बोल्शेविक पार्टी ने गैर-रुसी राष्ट्रीयताओं द्वारा अधिवासित क्षेत्रों में भी सरकार का गठन कर लिया|
  • 1924 में लेनिन की मृत्यु के बाद, एकमात्र मौजूदा पार्टी- सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी, के भीतर कई मतभेद उत्पन्न होने लगे |
  • विभिन्न समूहों तथा नेताओं के बीच भी सत्ता के लिए के लिए गंभीर संघर्ष हुआ | इस संघर्ष में, स्टालिन की जीत हुई |
  • 1927 में त्रोत्स्की, जिसने क्रांति मे अहम भूमिका निभायी थी तथा जिसने लाल सेना का गठन किया था, उसे कम्युनिस्ट पार्टी से बाहर निकाल दिया गया|
  • हालाँकि, पश्चिमी देश सोवियत संघ के प्रस्तावों पर सहमत नहीं हुए | वे अभी भी सोवियत संघ को अपने लिए एक ख़तरा मानते थे तथा उन्हें उम्मीद थी कि फासीवादी देश उसे नष्ट कर देंगे |
  • सोवियत संघ के प्रति उनकी शत्रुता फासीवादी ताक़तों के तुष्टिकरण की वजह बनी जिसने द्वितीय विश्व युद्ध का मार्ग प्रशस्त किया |  

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!