Study Material IAS Exam- World after Second World war || History

Study Material IAS Exam- World after Second World war || History

Study Material IAS Exam- World after Second World war || History

Study Material IAS Exam- World after Second World war || History

Study Material IAS Exam- World after Second World war || History

World after Second World war

  • The world has been completely transformed during the years since the end of the Second World War in 1945.
  • A large number of nations in Asia and Africa which had been suffering under colonial rule emerged as independent nations.
  • The United States had emerged as the biggest power after the First World War.
  • The Soviet Union also emerged as a mighty power after the Second World War, in spite of the terrible devastation that she suffered during the war

Immediate Consequences of Second World War:

  • The first major declaration had been issued by Britain and USA in 1941.
  • It stated that Britain and the United States would not seek any territory.
  • Early in 1942 was issued, the United Nations Declaration.
  • This Declaration supported the one issued by Britain and USA earlier.

Yalta Conference

  • Early in 1945, when Germany was on the verge of defeat, the heads of the three big nations met at Yalta in the Soviet Union.
  • Here they agreed on a number of issues such as how to deal with Germany and the non-German territories which had been liberated from Germany.
  • The Yalta Conference also took the decision to set up a new organisation to replace the League of Nations.

Europe after the Second World War

  • Poland, Hungary, Romania, Bulgaria and Czechoslovakia had been liberated from German occupation by the Soviet armies.
  • By the end of 1948, the governments of all these countries were dominated by the Communist parties which was a significant development after the Second World War.

Study Material IAS

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद दुनिया

  • वर्ष 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद के वर्षों में दुनिया पूरी तरह से बदल चुकी है |
  • एशिया तथा अफ्रीका में कई देशों का स्वतंत्र राष्ट्रों के रूप में उदय हुआ जो पहले औपनिवेशिक शासन से पीड़ित थे |
  • प्रथम विश्व युद्ध के बाद संयुक्त राज्य महाशक्ति के रूप में उभरा |
  • द्वितीय विश्व युद्ध में कई तबाहियों का सामना करने के बावजूद द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सोवियत संघ भी एक शक्तिशाली ताकत के रूप में उभरा |

द्वितीय विश्व युद्ध के तात्कालिक परिणाम :

  • प्रथम प्रमुख घोषणा ब्रिटेन तथा संयुक्त राज्य अमेरिका के द्वारा 1941 में जारी की गयी थी |
  • इसमें कहा गया था कि ब्रिटेन एवं संयुक्त राज्य किसी प्रदेश की माँग नहीं करेंगे |
  • 1942 के आरंभ में संयुक्त राष्ट्र घोषणापत्र जारी किया गया |
  • इस घोषणापत्र ने पूर्व में ब्रिटेन तथा संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा जारी किये गए घोषणापत्र का समर्थन किया |

याल्टा सम्मेलन :

  • 1945 के आरंभ में, जब जर्मनी हार के कगार पर था, तीन बड़े राष्ट्रों के प्रमुख सोवियत संघ के याल्टा में मिले |
  • यहाँ पर वे कई मुद्दों पर सहमत हुए जैसे कि जर्मनी से मुक्त कराये गए जर्मन एवं गैर-जर्मन क्षेत्रों का समाधान कैसे करना है |
  • याल्टा सम्मेलन में राष्ट्र संघ के स्थान पर एक नए संगठन की स्थापना का भी निर्णय लिया गया |

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप :

  • पोलैंड, हंगरी, रोमानिया, बुल्गारिया, तथा चेकोस्लोवाकिया को सोवियत संघ की सेनाओं द्वारा जर्मन कब्ज़े से मुक्त करवाया गया |
  • 1948 के अंत तक, इन सभी देशों की सरकारों पर साम्यवादी दल हावी थे जो द्वितीय विश्व युद्ध के बाद की एक महत्वपूर्ण घटना थी |

Fall of Berlin wall in Germany:

  • The division of Germany had been a source of tension in Europe and a major factor in the Cold War.
  • East Berlin was the capital of East Germany (German Democratic Republic or GDR) while West Berlin which was located within the GDR territory was treated as a part of West Germany (Federal Republic of Germany or FRG).
  • In 1961, the GDR authorities built a wall between East and West Berlin .
  • The building of the wall became a further source of tension in Europe.

France and Italy: Rise of Communism:

France

  • In the first government formed in France after the war, the Communist Party of France was represented.
  • However, it quit the government in 1947 because of differences over economic policies and over the question of independence for the countries comprising IndoChina.

Italy:

  • In the Italian government, the Communist Party and the Socialist Party were an important force.
  • In 1946, monarchy was abolished and Italy became a republic.
  • In 1947 the Christian Democratic Party came to power and the Communist Party quit the government.

The Cold War

  • Since the end of the First World War, the United States had emerged as the strongest power in the world.
  • Her power was both in the spheres of economic and military strength.
  • After she acquired the atom bomb, the awareness of her power was further strengthened.
  • Next to the United States the mightiest power in the world after the Second World War was the Soviet Union.

जर्मनी में बर्लिन की दीवार का पतन :

  • जर्मनी का विभाजन यूरोप में तनाव तथा शीत युद्ध का मूल एवं प्रमुख कारण था |
  • पूर्वी बर्लिन पूर्वी जर्मनी ( जर्मन लोकतांत्रिक गणराज्य )  की राजधानी थी जबकि पश्चिमी बर्लिन   जो जर्मन लोकतांत्रिक गणराज्य के क्षेत्र में पड़ता था, उसे पश्चिमी जर्मनी (फ़ेडरल रिपब्लिक ऑफ़ जर्मनी )  का हिस्सा माना जाता था|
  • 1961 में, पूर्वी जर्मनी के प्राधिकरणों ने पूर्वी एवं पश्चिमी बर्लिन के बीच एक दीवार का निर्माण कर दिया |
  • इस दीवार का निर्माण यूरोप में तनाव का एक अन्य कारण बन गया |

फ्रांस एवं इटली : साम्यवाद का उदय :

फ्रांस

  • युद्ध के बाद फ्रांस में गठित पहली सरकार में फ्रांसीसी साम्यवादी पार्टी का प्रतिनिधित्व था |
  • हालाँकि, 1947 में आर्थिक नीतियों पर मतभेद  तथा इंडो-चाइना में शामिल देशों की स्वतंत्रता के मसले पर यह सरकार से बाहर हो गयी |

इटली :

  • इतालवी सरकार में, साम्यवादी दल तथा समाजवादी दल एक प्रमुख बल थे |
  • 1946 में , राजतंत्र का उन्मूलन कर दिया गया एवं इटली एक गणतंत्र बन गया |
  • 1947 में, इसाई प्रजातांत्रिक दल सत्ता में आया तथा साम्यवादी पार्टी ने सरकार का त्याग कर दिया |

शीत युद्ध :

  • प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद से, संयुक्त राज्य का उदय दुनिया में महाशक्ति के रूप में हुआ |
  • वह आर्थिक एवं सैन्य दोनों क्षेत्रों में मजबूत था |
  • परमाणु बम प्राप्त करने के बाद, उसकी ताकत की अभिज्ञता और अधिक मजबूत हुई |
  • द्वितीय विश्व युद्ध के बाद संयुक्त राज्य के बाद दूसरी महाशक्ति के रूप में सोवियत संघ उभरा |

MIlitary Blocs

NATO:

  • In 1949, North Atlantic Treaty Organization (NATO) was formed for defense against the Soviet Union.
  • The members of this alliance were the United States, Canada, Denmark, Norway, Iceland, Portugal, Britain, France, Belgium, Holland and Luxemburg.
  • Turkey, Greece, the Federal Republic of Germany and Spain became its members later.

SEATO

  • In 1954 Southeast Asia Treaty Organization (SEATO) was set up with the United States, Britain, France, Australia, New Zealand, Thailand, the Philippines and Pakistan as members.

Baghdad Pact

  • In 1955 the Baghdad Pact was brought into being.
  • It consisted of Britain, Turkey, Iraq, Pakistan and Iran.

WARSAW Pact

  • As against these Western and Western sponsored alliances, the Soviet Union and the socialist countries of Europe -Poland, Czechoslovakia, Hungary, Romania, Bulgaria and the German Democratic Republic formed the Warsaw Pact.
  • Under this pact, the Soviet Union stationed her troops in these countries.
  • However, the Soviet Union and the other members of the Warsaw Pact did not have any military bases in other parts of the world.

End of Cold War

  • In the 1970s and early 1980s, some beginnings were made to end Cold War.
  • Agreements were reached between the United States and the Soviet Union to eliminate some categories of carriers of nuclear weapons and to reduce the number of certain types of weapons installed in certain areas.

सैन्य गुट

नाटो :

  • 1949 में, सोवियत संघ के विरुद्ध रक्षा के लिए उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन का गठन किया गया  |
  • इस गठबंधन के सदस्यों में संयुक्त राज्य, कनाडा, डेनमार्क, नॉर्वे, आइसलैंड, पुर्तगाल, ब्रिटेन, फ्रांस, बेल्जियम, हॉलैंड, तथा लक्ज़मबर्ग शामिल थे |
  • तुर्की, ग्रीस तथा जर्मनी बाद में इसके सदस्य बन गए |

सीटो

  • 1954 में, दक्षिण एशिया संधि संगठन की स्थापना की गयी जिसके सदस्यों में संयुक्त राज्य, ब्रिटेन, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, थाईलैंड, फिलीपींस, तथा पाकिस्तान जैसे देश शामिल थे |

बग़दाद समझौता :

  • 1955 में, बग़दाद समझौता अस्तित्व में आया |
  • इसमें ब्रिटेन, तुर्की, इराक, पाकिस्तान तथा ईरान शामिल थे |

वारसा समझौता :

  • इन पश्चिमी देशों  एवं पश्चिम समर्थित गठबंधनों के खिलाफ सोवियत संघ तथा यूरोप के अन्य समाजवादी देश- पोलैंड, चेकोस्लोवाकिया, हंगरी, रोमानिया, बुल्गारिया, तथा जर्मन लोकतांत्रिक गणराज्य ने एक नए समझौते का निर्माण किया |
  • इस समझौते के तहत, सोवियत संघ ने अपने सैनिकों को इन देशों में तैनात कर दिया |
  • हालाँकि सोवियत संघ तथा वारसा समझौते के अन्य सदस्यों के पास विश्व के अन्य हिस्सों में सैन्य अड्डे नहीं थे |

शीत युद्ध का अंत :

  • 1970 के दशक तथा 1980 के दशक के आरंभ में, शीत युद्ध को समाप्त करने के लिए कुछ कदम उठाये गए |
  • संयुक्त राज्य तथा सोवियत संघ के बीच परमाणु हथियारों के वाहकों की कुछ श्रेणियों को समाप्त करने के लिए तथा कुछ क्षेत्रों में स्थापित किये गए निश्चित प्रकार के हथियारों को कम करने के लिए  कुछ समझौते हुए |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply