RAS Study Material, Geography Notes for RAS | IAS Pre & Mains Exam

RAS Study Material, Geography Notes for RAS | IAS Pre & Mains Exam

RAS Study Material, Geography Notes for RAS | IAS Pre & Mains Exam

RAS Study Material, Geography Notes for RAS | IAS Pre & Mains Exam

RAS Study Material, Geography Notes for RAS | IAS Pre & Mains Exam

Forest and Wildlife Resources

Ecosystem

  • An ecosystem is a community of living organisms in conjunction with the nonliving components of their environment like air, water and mineral interacting as a system.
  • Human beings are also an integral part of the ecosystem. They utilise the vegetation and wildlife.
  • The greed of human beings has resulted into over utilisation of these resources and creating ecological imbalance.
  • As a result some of the plants and animals have reached the verge of extinction.

Biodiversity

  • Biodiversity is the variability among living organisms from all sources, including terrestrial, marine, and other aquatic ecosystems and the ecological complexes of which they are part.
  • This includes diversity within species, between species, and of ecosystems.
  • Biodiversity is important in human-managed as well as natural ecosystems.
  • Humans actions that influence biodiversity, affect the wellbeing of themselves and others.

Flora and fauna in India

  • Like its flora, India is also rich in its fauna. It has approximately 90,000 animal species.
  • India has nearly 8 per cent of the total number of species in the world (estimated to be 1.6 million).
  • The country has about 2,000 species of birds ( 13% of the world’s total) 2,546 species of fish,(nearly 12% of the world’s stock)

Wildlife in India

  • The elephants are the most majestic animals among the mammals and found in the hot wet forests of Assam, Karnataka and Kerala.
  • One-horned rhinoceroses-–swampy and marshy lands of Assam and West Bengal.
  • Wild assArid areas of the Rann of Kachchh
  • CamelsThar Desert

पारिस्थितिकी तंत्र

  • पारिस्थितिकी तंत्र  से हमारा अभिप्राय जीवों के उस समुदाय है जो अपने पर्यावरण में निर्जीव घटकों जैसे वायु, जल और खनिजों  के साथ निर्वहन करता है , ये उनके लिए एक तंत्र की तरह कार्य करते है |
  • मनुष्य भी पारिस्थितिक तंत्र का एक अभिन्न अंग हैं। वे वनस्पति और वन्य जीवों का उपयोग करते हैं |
  • मनुष्य ने अपने लालच के कारण इन संसाधनों का अति-उपयोग किया है  जिससे की पारिस्थितिकी में असन्तुलन पैदा हो गया है |
  • इसके  परिणामस्वरूप कुछ पौधे और जानवर विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गए हैं।

जैव विविधता

  • जैव विविधता से हमारा अभिप्राय जीवों में विद्यमान सभी तरह की विभिन्नता से है जिसमे स्थल,समुन्द्र एवं अन्य जलीय तंत्र ,तथा जिस पारिस्थितिक समष्टि में ये सब आते है वह सम्मिलित है |
  • इसमें प्रजातियों-प्रजातियों तथा पारिस्थितिक तंत्र के बीच विविधता सम्मिलित है।
  • मानव-प्रबंधित और प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र में जैव विविधता महत्वपूर्ण स्थान रखती है |
  • मनुष्य  के क्रियाकलाप जिनसे जैव विविधता प्रभावित होती है परिणामस्वरूप उस से  स्वयं मनुष्य तथा अन्य प्राणी भी प्रभावित होते है |

भारत में पादप तथा जंतु

  • अपनी वनस्पति विविधता की भांति ,भारत जैव  विविधता में भी समृद्ध है।यहाँ लगभग 90,000 जैव प्रजातियां हैं |
  • भारत में  दुनिया की कुल प्रजातियों की संख्या का लगभग 8 प्रतिशत भाग है (अनुमानित 1.6 मिलियन)
  • देश में पक्षियों की लगभग 2,000 प्रजातियां (दुनिया के कुल में से 13%) 2,546 प्रजातियां मछलियां हैं, (जो की दुनिया का लगभग 12% है ) |

भारत में वन्यप्राणी जीवन

  • स्तनधारी प्राणियों में हाथी सबसे विशाल आकार वाला जानवर है,यह असम, कर्नाटक और केरल के उष्ण बरसाती जंगलो में पाया जाता है |
  • एक सींग वाले गैंडे -असम और पश्चिम बंगाल की कीचड़दार और दलदली भूमि पर पाए जाते है |
  • जंगली गधा – कच्छ के रण के शुष्क क्षेत्रों में पाया जाता है |
  • ऊंट — थार रेगिस्तान

RAS Study Material

Classification of species

Based on the International Union for Conservation of Nature and Natural Resources (IUCN), species can be classified as:

  • Normal Species:

Species whose population levels are considered to be normal for their survival, such as cattle, sal, pine, rodents, etc.

  • Endangered Species:

Species which are in danger of extinction and their survival is difficult if the negative factors responsible for decline in their population continue to operate.

  • Rare Species:

Species with small population may move into the endangered or vulnerable category if the negative factors affecting them continue to operate.

Example: Himalayan brown bear, wild Asiatic buffalo, desert fox and hornbill, etc.

  • Endemic Species:

Species which are found in any particular area usually isolated by natural or geographical barriers.

Examples : Andaman teal, Nicobar pigeon, Andaman wild pig, mithun in Arunchal Pradesh.

Reasons for depletion of forest

Forest Conservation:

  • Very important for the survival and prosperity of humankind.
  • Preserves the ecological diversity and our life support systems – water, air and soil.
  • Preserves the genetic diversity of plants and animals for better growth of species and breeding.

For forest conservation, India has adopted new forest policy to emphasise sustainable forest management which has the following provisions:

  • Bringing 33 per cent of the geographical areas under forest cover;
  • Maintaining environmental stability and to restore forests where ecological balance was disturbed
  • Conserving the natural heritage of the country, its biological diversity and genetic pool.

प्रजातियों का वर्गीकरण

  • प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ (IUCN)) के आधार पर, प्रजातियों को निम्नानुसार वर्गीकृत किया जा सकता है:-
  • सामान्य प्रजाति:-

ऐसी प्रजातियां प्रजाति जिनकी आबादी का स्तर उनके अस्तित्व के लिए सामान्य माना जाता है, जैसे पशु, साल ,चीड़ , कृन्तक आदि।

  • लुप्तप्राय (संकटग्रस्त )प्रजातियां:

ये वे जातियां है जिनके लुप्त होने का खतरा है |जिन विषम परिस्थितियों के कारण इनकी संख्या कम हुई है,यदि वे जारी रहती है तो इन जातियों का जीवित रहना कठिन है |

  • दुर्लभ जातियां :

इन जातियों की संख्या बहुत कम या सुभेद्य है  और यदि इनको प्रभावित करने वाली विषम परिस्थितियां नहीं परिवर्तित होती है टी यह संकटग्रस्त जातियों की श्रेणी में आ सकती है |

उदाहरण के लिए : हिमालयी भूरा भालू, जंगली एशियाई भैंस, रेगिस्तानी  लोमड़ी और धनेश (हॉर्नबिल) आदि।

  • स्थानिक प्रजातियां : प्राकृतिक या भौगोलिक सीमाओं से अलग विशेष क्षेत्रों में पाई जाने वाली जातियां |

उदाहरण के लिए :  अंडमानी टील,निकोबारी कबूतर,अंडमानी जंगली सुअर और अरुणाचल के मिथुन इन जातियों के उदाहरण है |

वनों के कटाव के कारण

वन संरक्षण:-

  • मानव जाति के अस्तित्व और समृद्धि के लिए बहुत महत्वपूर्ण है |
  • यह पारिस्थितिक विविधता और हमारे जीवन के लिए आवश्यक प्रणाली जैसे जल,वायु तथा मृदा |
  • पौधों और जानवरों की आनुवंशिक विविधता को संरक्षित जिससे की ये प्रजातियां बेहतर तरीके से  प्रजनन और विकास कर सकें |

वनों के संरक्षण के लिए,भारत ने  स्थायी वन प्रबंधन पर जोर देते हुए नई वन नीति अपनाई है  जिसमें निम्नलिखित प्रावधान हैं:-

  • वनीय आच्छादित क्षेत्र में भौगोलिक क्षेत्रों का 33 प्रतिशत हिस्सा लाने का लक्ष्य |
  • पर्यावरणीय स्थिरता को बनाए रखना तथा उन जगहों पर  जंगलों को पुनर्स्थापित करना जहां पारिस्थितिक संतुलन बिगड़ा हुआ है |
  • देश की प्राकृतिक विरासत , इसकी जैविक विविधता और आनुवंशिक भंडार को सरंक्षित करना |

Social forestry

  • Urban forestry  is Raising and management of trees on public and privately owned lands in and around urban centres such as greenbelts, parks, roadside avenues, industrial and commercial green belts, etc.
  • Rural forestry  is Promoting agro-forestry and community  forestry.
  • Agro-forestry is the raising of trees and agriculture crops on the same land inclusive of the waste patches. It combines forestry with agriculture.

Farm forestry

  • It is a process under which farmers grow trees for commercial and non-commercial purposes on their farm lands.
  • Several lands such as the margins of agricultural fields, grasslands and pastures may be used for raising trees under non-commercial farm forestry.

Types and Distribution of Forest

Reserved Forests:

  • An area notified under the provisions of Indian Forest Act or the State Forest Acts having full degree of protection.
  • In Reserved Forests, all activities are prohibited unless permitted.
  • Jammu and Kashmir, Andhra Pradesh, Uttarakhand, Kerala, Tamil Nadu, West Bengal, and Maharashtra have large percentages of reserved forests of its total forest area

Protected Forests:

  • An area notified under the provisions of Indian Forest Act or the State Forest Acts having limited degree of protection.
  • In Protected Forests, all activities are permitted unless prohibited.
  • Bihar, Haryana, Punjab, Himachal Pradesh, Odisha and Rajasthan have a bulk of it under protected forests.

सामाजिक वानिकी

  • शहरों और इनके इर्द-गिर्द निजी व सार्वजनिक भूमि ,जैसे – हरित पट्टी,पार्क,सड़को के साथ जगह,औद्योगिक और वाणिज्यिक स्थलों पर वृक्ष लगाना और उनका प्रबंध शहरी वानिकी के अंतर्गत आता है |
  • ग्रामीण वानिकी में कृषि-वानिकी और सामुदायिक कृषि  वानिकी को बढ़ावा दिया जाता है।
  • कृषि वानिकी का अर्थ है कृषियोग्य तथा बंजर भूमि पर पेड़ और फसलें एक साथ लगाना | इसका अभिप्राय है वानिकी और खेती एक साथ करना |

फ़ार्म वानिकी

  • फ़ार्म वानिकी के अंतर्गत किसान अपने खेतों में  व्यापारिक महत्व वाले या दूसरे पेड़ लगाते है |
  • इस योजना के तहत कई प्रकार की भूमि जैसे-खेतों की मेड़ें,चरागाह,घासस्थल आदि में वृक्ष लगाए जाते है

वनों के प्रकार तथा उनका वितरण

आरक्षित वन:

  • वह क्षत्र जो भारतीय वन सरंक्षण अधिनियम अथवा राज्य वन सरंक्षण अधिनियम के अंतर्गत आता है वह हर हालत में सरंक्षण योग्य है |
  • आरक्षित वनों में बिना अनुमति के हर प्रकार की गतिविधि पर रोक है |
  • जम्मू -कश्मीर, आंध्र प्रदेश, उत्तराखंड, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में इसके कुल वन क्षेत्र में से  आरक्षित वनों का प्रतिशत बहुत अधिक है |

रक्षित वन:

  • भारतीय वन सरंक्षण अथवा राज्य सरंक्षण अधिनियम के अनुसार वे वन जिनका संरक्षण सीमित है रक्षित वनों के अंतर्गत आते है |
  • प्रतबंधित रहने तक  संरक्षित वनों में किसी भी प्रकार की गतिविधि नहीं की जा सकती |
  • बिहार, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा और राजस्थान में संरक्षित वनों के अंतर्गत वनों का एक विशाल हिस्सा आता है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!