RAS 2018 Rajasthan’s Main Dialects and their Area | RAS GK

RAS 2018 Rajasthan’s Main Dialects and their Area | RAS GK

RAS 2018 Rajasthan’s Main Dialects and their Area | RAS GK

RAS 2018 Rajasthan’s Main Dialects and their Area | Rajasthan GK

RAS 2018 Rajasthan’s Main Dialects and their Area | RAS GK

Rajasthani Language

Rajasthan’s main dialects and their area/ राजस्थान की मुख्य बोलियां एवं उनके क्षेत्र

Marwari –

  • It has been called as Marubhasha in Qurvalayala.
  • Its ancient name is Marubhasha. This is the principal dialect of Western Rajasthan.
  • The 8th century can be considered as the beginning of Marwari language.
  • Marwari is the richest and most important language of Rajasthan, both in terms of expanse and literature.
  • It extends to Jodhpur, Bikaner, Jaisalmer, Pali, Nagaur, Jalore and Sirohi districts.
  • Pure Marwari is only spoken in Jodhpur and its surrounding districts. 
  • Marwari’s literary form is called ‘dingle’.
  • It originated from Gujari degeneration.
  • Most of Jain literature and Meera’s Pads are written in this language.
  • Popular poetry composed in the Marwari language are , ‘Rajiye Ra Sorath’, ‘Veli Kisan Rukamani Rei’, ‘Dhola Maravan’, ‘Mumal’ etc.
  • Its origin is believed to be from Gurujari degeneration of Shaursaini./इसकी उत्पत्ति शौरसैनी के गुर्जरी अपभ्रंश  से मानी जाती है।
  • Marwari has the following dialects: Mewari, Bagari, Shekhawati, Bikaneri, Thali, Khairadi, Nagauri, Devdawati, Gaudwadi. 

Mewari –

  • The region of Udaipur and its surroundings is called Mewar, hence the dialect of this place is called Mewari. 
  • This is the important language of Rajasthan after Marwari.
  • The evolutionary form of the Mewari language starts from the 12th and the 13th centuries.
  • The pure form of Mewari is seen only in the villages of Mewar.
  • Mewari has a rich collection of folk literature.
  • There are also some plays written by Maharana Kumbha in this language.

 

Dundhaari – 

  • The language spoken in eastern districts of Jaipur, Kishangarh, Tonk, Lava and Ajmer-Meerwara, excluding northern jaipur, is known as  Dundhaari.
  • The effects of Gujarati, Marwari and Brajbhashasha are found equally on this . Abundant literature is produced in it in both prose and verse.
  • Saint Dadu and his disciples made compositions in this language.
  • This dialect is also called Jaipuri or Jhadshahi.
  • The major dialects of the language are – Torawati, Rajawati, Chaurasi (Shahpura), Nagarchol, Kishangari, Ajmeri, Kothari, Haroti etc.

Mewati –

  • The area of ​​Alwar and Bharatpur districts is known as Mewat because of the majority of Mew castes. So the language is called Mewati.
  • It is extended to the north-western part of Kishangarh, Tijara, Ramgarh, Govindgarh, Laxmangarh Tehsils of Alwar, Deeng and Nagar tehsils, and Gurgaon district of Haryana and Mathura district of Uttar Pradesh.
  • From the point of origin and  development, Mewati works as the bridge between Western Hindi and Rajasthani.
  • The effect of Brajbhasha on Mewati dialect is very high./मेवाती बोली पर ब्रजभाषा का प्रभाव बहुत अधिक है।
  • The literature of the Lal Dasi and Charandasi sampradaays has been written  in the Mewati language.
  • The wriings of the disciples of Charandas – Dayabai and Sahawabai are in this language.
  • On the basis of location , many forms of Mewati dialect are seen, like – Khadi Mewati, Rathi Mewati, Kather Mewati, Bhayana Mewati, Beghoti, Meo and Brahmin Mewati .

Malawi – 

  • This is the language spoken in the Malvi regions.
  • In this dialect, some features of both Marwari and Dundhari are found.
  • The effect of Marathi is also reflected .
  • Malviya is a good to listen and soft language.

Nimadi – 

  • It is considered to be Malvi’s sub-dialect. It is also called the southern Rajasthani. This has effects of Gujarati, Bhili and Khandeshi.

Torawati –

  • Southern part of Jhunjhunun district, east and south-eastern part of Sikar district and some northern part of Jaipur district is called Torawati.
  • So the dialect here is called Torawati.
  • Katheri dialect is prevalent in the southern part of Jaipur district, while Chaurasi is prevalent in the southwestern part of Jaipur district and western part of Tonk district.
  • Nagarchol is spoken in the western part of Sawai Madhopur district and in the southern and eastern parts of Tonk district.
  • Rajavati dialect is prevalent in the eastern part of Jaipur district. 

Vagadi –

  • The ancient name of the combined states of Dungarpur and Banswara wes Vagad.
  • So here the language is called Vagadi. There is more influence of Gujarati on this.
  • This language is spoken in the areas of the southern part of Mewar, southern Aravalli region and hills of Malwa.
  • It is also popular in Bhils.
  • Bhili dialect is its sub-dialect.

तोरावाटी –

झुंझुनूँ जिले का दक्षिणी भाग, सीकर जिले का पूर्वी एवं दक्षिणी-पूर्वी भाग तथा जयपुर जिले के कुछ उत्तरी भाग को तोरावाटी कहा जाता है।

अतः यहाँ की बोली तोरावाटी कहलायी।

कठेड़ी बोली जयपुर जिले  के दक्षिण भाग में प्रचलित है जबकि चौरासी जयपुर जिले  के दक्षिणी-पश्चिमी एवं टोंक जिले के पश्चिमी भाग में प्रचलित है।

नागरचोल  सवाईमाधोपुर जिले के पश्चिमी भाग एवं टोंक  जिले के दक्षिणी एवं पूर्वी भाग में बोली जाती है।

जयपुर जिले के पूर्वी भाग में राजावाटी बोली प्रचलित है।

वागड़ी –

डूँगरपुर एवं बांसवाड़ा के सम्मिलित राज्यों का प्राचीन नाम वागड़ था।

अतः यहाँ की भाषा वागड़ी कहलायी। इस पर गुजराती का प्रभाव अधिक है।

यह भाषा  मेवाड़ के दक्षिणी भाग, दक्षिणी अरावली प्रदेश तथा मालवा की पहाड़ियों तक के क्षेत्र में बोली जाती है।

यह भीलों में भी प्रचलित है।

भीली बोली इसकी सहायक बोली है।

खैराडी –

शाहपुरा (भीलवाड़ा) बूँदी आदि के कुछ इलाकों में बोली जाने वाली बोली , जो मेवाड़ी , ढूँढाड़ी, एवं हाडौती का मिश्रण है। 

 

 

RAS 2018 Rajasthan’s Main Dialects and their Area PDF –

Rajasthani-Language-Part-2

Khairadi –

  • The dialect spoken in some areas of Shahpura (Bhilwara), Bundi etc., which is a mixture of Mewari, Dundhari and Haroti.

Haroti –

  • Due to being governed by Hada Rajputs, the area of ​​Kota, Bundi, Baran and Jhalawar was called Haroti and here the dialect is called Haroti.
  • This is a dialect of  Dundhari.
  • The first use of haroti as language  was made in Kellogg’s Hindi Grammar in 1875 AD.
  • After this, Abraham Grierson recognized Haroti as dialect in his book too.
  • Most of the compositions of the suryamal mishran are in the Haroti language.
  • At present, Haroti is the main dialect of Kota, Bundi, Baran and northern part of Jhalawar.
  • The languages spoken are Nagarchol in the north of Haroti, Syaipuri in the north-east, Malvi in the south and east.

Ahirwati (Rathi) –

  • Being the language of the ‘Abheer’ caste, it is also called Ahirwati or Hirwal.
  • The language of this area is called ‘Rath’.
  • It is mainly spoken in Baharod and Mundawar Tehsil of Alwar, Kotputli tehsil of Jaipur, Gurgaon, Mahendragarh, Narnaul, Rohtak districts  in Haryana, and in the southern part of Delhi.
  • This is the dialect lying between Banguru (Haryanvi) and Mewati.
  • Hamdir Raso epic of Jodhpur, Bhima Vilas Kavya of Shankar Rao, Alibkshi Khyal Loknatya etc. have been composed in this dialect.

मारवाड़ी –

  • कुवलयमाला में इसे ही मरुभाषा कहा गया है।
  • इसका प्राचीन नाम मरुभाषा  ही है। यह पश्चिमी राजस्थान की प्रधान बोली है।
  • मारवाड़ी का आरम्भ काल 8 वीं सदी से माना जा सकता है।
  • विस्तार एवं साहित्य दोनों ही दृष्टियों से मारवाड़ी राजस्थान की सर्वाधिक समृद्ध एवं महत्त्वपूर्ण भाषा है।
  • इसका विस्तार जोधपुर, बीकानेर,  जैसलमेर, पाली, नागौर, जालौर एवं सिरोही जिलों तक है।
  • विशुद्ध मारवाड़ी केवल जोधपुर व इसके आसपास के जिलों में ही बोली जाती है।
  • मारवाड़ी के साहित्यिक रूप को ‘डिंगल’ कहा जाता है।
  • इसकी उत्पत्ति गुर्जरी अपभ्रंश से हुई।
  • जैन साहित्य एवं मीरा के अधिकाँश पद इसी भाषा में लिखे गए हैं।
  • ‘राजिये रा सोरठ’, ‘वेळी किसन रुकमणि री’, ‘ढोला मरावण’, ‘मूमल’ आदि लोकप्रिय काव्य मारवाड़ी भाषा में ही रचित  हैं।
  • मारवाड़ी की निम्न बोलियां हैं – मेवाड़ी,  बागड़ी, शेखावाटी, बीकानेरी, थली, खैराडी, नागौरी,देवडावाटी,  गौड़वाडी।

मेवाड़ी –

  • उदयपुर एवं उसके आसपास के क्षेत्र को मेवाड़ कहा जाता है, इसलिए यहाँ की बोली मेवाड़ी कहलाती है।
  • यह मारवाड़ी के बाद राजस्थान की महत्त्वपूर्ण बोली है।
  • मेवाड़ी भाषा का विकसीत रूप 12 वीं और 13 वीं शताब्दी से मिलने लगता है।
  • मेवाड़ी का शुद्ध रूप मेवाड़ के गावों में ही देखने को मिलता है।
  • मेवाड़ी   में लोक साहित्य का विपुल भण्डार है।
  • महाराणा कुम्भा द्वारा रचित  कुछ नाटक इसी भाषा में हैं। 

ढूँढाड़ी –

  • उत्तरी जयपुर को छोड़कर शेष जयपुर, किशनगढ़, टोंक, लावा तथा अजमेर-मेरवाड़ा के पूर्वी अंचलों में बोली जाने वाली भाषा को ढूँढाड़ी   कहा जाता है।
  • इस पर गुजराती, मारवाड़ी एवं ब्रजभाषा का प्रभाव सामान रूप से मिलता है। ढूँढाडी में गद्य और पद्य दोनों में प्रचुर साहित्य रचा गया।
  • संत दादू एवं उनके शिष्यों ने इसी भाषा में रचनाएँ की।
  • इसी बोली को जयपुरी या झाड़शाही भी  कहते हैं।
  • ढूँढाड़ी की प्रमुख बोलियाँ –  तोरावाटी, राजावाटी, चौरासी(शाहपुरा), नागरचोल, किशनगढ़ी, अजमेरी, कोठड़ी, हाड़ौती  आदि हैं। 

मेवाती –

  • अलवर एवं भरतपुर जिलों का क्षेत्र मेव जाती की बहुलता के कारण मेवात के नाम से जाना जाता  है। अतः यहाँ की भाषा को मेवाती कहते हैं।
  • यह अलवर की किशनगढ़, तिजारा, रामगढ़, गोविंदगढ़, लक्ष्मणगढ़ तहसीलों तथा भरतपुर की कामां, डींग व नगर तहसीलों के पश्चिम्मोत्तर भाग तक तथा हरयाणा के गुड़गाँव जिला व उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले तक  विस्तृत है।
  • उद्भव एवं विकास की दृष्टि से मेवाती पश्चिमी हिंदी एवं  राजस्थानी के मध्य सेतु का कार्य करती है।
  • लाल दासी एवं चारणदासी संत सम्प्रदायों का साहित्य मेवाती भाषा में ही रचा गया है।
  • चरणदास  की शिष्याएँ दयाबाई एवं सहजोबाई की रचनाएँ इसी बोली में हैं।
  • स्थान भेद के आधार पर मेवाती बोली के कई रूप देखने को मिलते हैं, जैसे – खड़ी मेवाती, राठी मेवाती, कठेर मेवाती, भयाना मेवाती, बीघोती, मेव व ब्राह्मण मेवाती  आदि।  

मालवी –

  • यह मालवी  क्षेत्रों में बोली जाने वाली भाषा है|
  • इस बोली  में मारवाड़ी  एवं ढूँढाड़ी दोनों की कुछ विशेषताएं पायी  जाती हैं।
  • कहीं-कहीं मराठी का भी प्रभाव झलकता है।
  • मालवी एक कर्णप्रिय एवं कोमल  भाषा है।

नीमाड़ी –

  • इसे मालवी की उपबोली  माना जाता है। इसको दक्षिणी राजस्थानी भी कहा जाता है। इस पर गुजराती, भीली  एवं खानदेशी का प्रभाव है। 

हाड़ौती – 

  • हाडा राजपूतों द्वारा शासित होने के कारण कोटा, बूँदी, बारां एवं झालावाड़ का क्षेत्र हाड़ौती कहलाया और यहाँ की बोली हाड़ौती।
  • यह ढूँढाड़ी की एक उपबोली है।
  • हाड़ौती का भाषा के अर्थ में प्रयोग सर्वप्रथम केलॉग की हिंदी ग्रामर में सन 1875 ई.  में किया गया था।
  • इसके बाद अब्राहम ग्रियर्सन ने अपने ग्रन्थ में भी हाड़ौती को बोली के रूप  में मान्यता दी।
  • सूर्यमल्ल मिश्रण की अधिकाँश रचनाएँ हाड़ौती भाषा में हैं।
  • वर्तमान में हाड़ौती कोटा, बूँदी, बाराँ तथा झालावाड़ के उत्तरी भाग की प्रमुख बोली है।
  • हाड़ौती  के उत्तर में नागरचोल, उत्तर-पूर्व  में स्यैपुरी, पूर्व तथा दक्षिण में मालवी बोली जाती है|

अहीरवाटी (राठी) –

  • ‘आभीर’  जाती के क्षेत्र की बोली होने के कारण इसे अहीरवाटी  या हीरवाल भी कहा जाता है।
  • इस बोली के क्षेत्र को ‘राठ’ कहा जाता है।
  • यह मुख्यतः अलवर की बहरोड़  व मुंडावर तहसील, जयपुर की कोटपूतली तहसील के उत्तरी भाग, हरियाणा के गुडगाँव, महेन्द्रगढ़, नारनौल, रोहतक जिलों एवं दिल्ली  के दक्षिणी भाग में बोली जाती है।
  • यह बाँगरु(हरियाणवी)   एवं मेवाती के बीच की बोली है।
  • जोधपुर का हम्मीर रासौ महाकाव्य, शंकर राव का भीम विलास काव्य, अलीबख्शी ख्याल लोकनाट्य  आदि की रचना इसी बोली में की गयी है|

Rangari –

  • The Rangari dialect, a mixture of Malvi and Marwari is  in use among the Rajputs of Malwa.

Shekhawati –

  • Marwari’s sub-dialect. This  language is spoken language in Shekhawati area (Sikar, Jhunjhunu, and some areas of Churu district) of Shekhawati. It is affected by Marwari and Dondhari.

Goudwadi –

  • This is Marwari’s dialect spoken in Bali (Pali) to the eastern part of Ahoh Tehsil in Jalore district.
  • Bisaldev Raso is the main composition of this dialect.
  • Balvi, Sirohi, Mahahadi etc. are its sub-dialects.

Devadavati –

  • It is also sub-dialect of Marwari, which is spoken in Sirohi area. Its second name is Sirohi.

Important Facts 

  • Famous Italian scholar and linguist Dr. L. P. Tessitori told that the emergence of West Rajasthani from shaurseni degeneration.
  • Mr. Tasisori spent most of his time in Bikaner and he died there.
  • Sir George Greeyarson has projected the emergence of Rajasthani from nagar degeneration.
  • Dr. Purushottam Menaria is also a supporter of this opinion.
  • Dr. Sunita Kumar Chatterjee tells that the  origin of Rajasthani is from Saurashtri degeneration.
  • Sri Kanhaiyalal Manikyalal Munshi and Dr. Motilal Menariya believe that the origin of Rajasthani is from gurjari degeneration of Saurasaini.
  • This opinion is more true. 

Rajasthani script – Mudia and Devanagari/

  • Marks, lines, pictures etc. which express the expressions and thoughts is called script.
  • Thus, the way to mark/write the language is called script.
  • In other words, the nature of written expression of language is called script.
  • Each language has its own unique script, through which the literary form of the language is manifested.
  • Through our script, our expressed speech can be protected in writing for a long time.
  • The initial scripture of human civilization was a pictorial script.
  • Other scripts of India have been developed from our country’s initial script ‘Brahmi script’. 
  • The present Devanagari script has evolved from the Brahmi script.
  • Most of the  letters of the Rajasthani script  (vowels and consonants) are similar to Devanagari script.
  • The form of some characters has a minute difference.
  • Slowly, this difference is also going away with the influence of Hindi.
  • Rajasthani script is written in ghaseet form.
  • The pure form of this script was mainly used in the courts (offices) and offices (offices), which is called ‘Kamdari script’. 
  • The letter ‘L’ is used exclusively in Rajasthani script.
  • There are different sounds of ‘L’ and ‘L’.
  • The use of both has different meanings.
  • In Rajasthani language, there are sounds of Talavya ‘sh’ and ‘Murdhanya’ ‘sh’ but in Rajasthani script there is the use of Dantya ‘s’ for them.
  • Similarly, there is no independent sign of ‘jya’ in Rajasthani script. Instead, they write ‘ghay’ instead.

Mudiya script –

  •  The Rajasthani script is used by traders and mahajan people not  written purely in their books, using its rough script.
  • The letters of the Mudiya script are called the Mudiya alphabet.
  • These  words(without matra) are written in a round form.
  • For this reason, they are called as Mudia Akshar.
  • In this script, the sentence can be written completely without raising the pen.
  • There is no use of nukta under the letters, in this script.
  • This script has been used in the areas of Rajasthan, Gujarat, Maharashtra etc. from 16th century to 1950 AD. 
  • It use has gradually reduced .
  • The credit of the invention of the Mudiya Alphabet is given to Raja Todramal, the head of Revenue Department of Mughal Emperor Akbar.

रांगड़ी –

  • मालवा के राजपूतों में मालवी एवं मारवाड़ी के मिश्रण से बनी रांगड़ी बोली भी प्रचालीत  है।

शेखावाटी –

  • मारवाड़ी की उपबोली शेखावाटी राज्य के शेखावाटी क्षेत्र (सीकर, झुंझुनू, तथा चूरू जिले के कुछ क्षेत्र) में बोली जाने वाली भाषा है जिस पर मारवाड़ी एवं ढूँढाड़ी का प्रभाव है।

गौड़वाड़ी –

  • जालौर जिले की आहोर तहसिल के पूर्वी भाग से प्रारम्भ होकर बाली (पाली) में बोली जाने वाली यह मारवाड़ी की उपबोली है।
  • बीसलदेव रासौ इस  बोली की मुख्य रचना है।
  • बालवी, सिरोही, महाहडी  आदि इसकी उपबोलियाँ हैं। 

देवडावटी –

  • यह भी मारवाड़ी की  उपबोली है जो सिरोही क्षेत्र में बोली जाती है।  इसका दूसरा नाम सिरोही है।

महत्त्वपूर्ण तथ्य –

  • प्रसिद्ध इटालियन विद्वान् एवं भाषाशास्त्री डॉ. एल पी तेस्सितोरी  ने पश्चिम राजस्थानी की उत्पत्ति शौरीसेना अपभ्रंश से बताई।
  • श्री तेस्सितोरी ने अपना अधिकाँश समय बीकानेर में ही गुजारा एवं वहीं उनका देहांत हुआ।
  • सर जॉर्ज ग्रीयर्सन ने राजस्थानी का उद्भव शौरसैनी ने नागर अपभ्रंश से होना प्रतिपादित किया है।
  • डॉ. पुरुषोत्तम मेनारिया भी इसी मत के समर्थक हैं।
  • डॉ.  सुनीता कुमार चटर्जी इसकी उत्पत्ति शौरसेनी के सौराष्ट्री अपभ्रंश से बताते हैं।
  • श्री कन्हैयालाल माणिक्यलाल मुंशी एवं डॉ. मोतीलाल मेंनारिया राजस्थानी की उत्पत्ति शौरसैनी के गुर्जरी अपभ्रंश से मानते हैं।
  • यही मत अधिक सही है।

राजस्थानी लिपि – मुड़िया व देवनागरी –

  • भावों और विचारों को व्यक्त करने वाले चिह्नों, रेखाओं, चित्रों आदि को लिपि कहा जाता है।
  • इस प्रकार भाषा को अंकित करने की रीति लिपि कहलाती है।
  • दूसरे शब्दों में भाषा  की लिखित अभिव्यक्ति के स्वरुप को लिपि(script) कहते हैं।
  • प्रत्येक भाषा की अपनी एक विशिष्ट लिपि होती है, जिसके माध्यम से ही भाषा का साहित्यिक रूप प्रकट होता है।
  • लिपि के माध्यम से हमारी व्यक्त वाणी चिरकाल तक लिखित रूप में सुरक्षित रह सकती है।
  • मानव सभ्यता की प्रारम्भिक लिपि भाव चित्रात्मक लिपि थी।
  • हमारे देश की  प्रारम्भिक लिपि ‘ब्राह्मी लिपि’ से ही भारत की अन्य लिपियाँ विकसित हुई हैं।
  • वर्तमान देवनागरी लिपि   ब्राह्मी लिपि से विकसित हुई है।
  • राजस्थानी भाषा की लिपि ‘राजस्थानी लिपि’ के अधिकाँश अक्षर (स्वर व व्यंजन) देवनागरी लिपि से मिलते-जुलते  हैं।
  • मात्र कुछ अक्षरों की बनावट से थोड़ा अंतर आता है।
  • धीरे-धीरे हिंदी के प्रभाव से यह अंतर भी अब शैने-शैने मिटता जा रहा है।
  • राजस्थानी लिपि लकीर खींचकर घसीट रूप में लिखी जाती है।
  • इस लिपि   विशुद्ध रूप मुख्य रूप से अदालतों(न्यायालयों) व  दफ्तरों (कार्यालयों) में प्रयुक्त किया जाता था, जिसे ‘कामदारी लिपि’ कहा जाता है।
  • राजस्थानी लिपि में  ‘ळ’ अक्षर का विशेष रूप से प्रयोग किया जाता है।
  • ‘ल’ एवं ‘ळ’ की अलग-अलग ध्वनियाँ हैं।
  • दोनों के प्रयोग का अलग-अलग अर्थ होता है।
  • राजस्थानी भाषा में तालव्य ‘श’ एवं मूर्धन्य ‘ष’ की ध्वनियाँ  तो हैं परन्तु राजस्थानी लिपि में इनके लिए दंत्य ‘स’ का ही प्रयोग होता है।
  • इसी प्रकार राजस्थानी लिपि में ‘ज्ञ’ का स्वतंत्र संकेत नहीं है। बल्कि इसके स्थान पर ‘ग्य’ ही लिखते हैं।

मुड़िया लिपि –

  • राजस्थानी लिपि को व्यापारी एवं महाजन लोग अपने बहीखातों में विशुद्ध रूप से न लिखकर इसकी अशुद्ध लिपि प्रयुक्त करते हैं।
  • मुड़िया लिपि के अक्षरों को मुड़िया अक्षर कहते हैं।
  • ये बिना मात्रा वाले शब्द मोड़कर लिखे जाते हैं।
  • इसी कारण इनका नाम मुड़िया अक्षर पड गया।
  • इस लिपि में बिना कलम उठाये वाक्य पूर्ण किया जा सकता है।
  • मुड़िया लिपि में अक्षरों के नीचे नुक्ता लगाने का प्रचलन नहीं है।
  • इस लिपि का प्रयोग 16 वीं शताब्दी से 1950 ई.  तक राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र आदि क्षेत्रों में किया जाता रहा है।
  • वर्तमान में इसका प्रयोग धीरे-धीरे कम हो गया है।
  • मुड़िया अक्षरों के आविष्कार का श्रेय मुग़ल सम्राट अकबर के राजस्व विभाग  के मुखिया राजा टोडरमल को दिया जाता है।

For More Important Articles You Can Visit On Below Links :

 

RAS 2018 Ancient Civilization of Rajasthhan | Rajasthan GK | 

Rajasthan Art and Culture – Custom and Costumes of Rajasthan Part 1/3 | RAS 2018

RAS 2018 | Rajasthan Art and Culture- Rajasthani Language Part 1/2 | Rajasthan GK

Tribes of Rajasthan Part 2/3 | Rajasthan GK | Rajasthan Art and Culture | RAS 2018

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!