RAS 2018 Industrial Development in Rajasthan Part 1 | Rajasthan Economics

RAS 2018 Industrial Development in Rajasthan Part 1 | Rajasthan Economics

RAS 2018 Industrial Development in Rajasthan Part 1 | Rajasthan Economics

RAS 2018 Industrial Development in Rajasthan Part 1 | Rajasthan Economics

RAS 2018 Industrial Development in Rajasthan Part 1 | Rajasthan Economics

Industrial development during five year plans –

Condition before Independence in Rajasthan

  • Prior to the integration of Rajasthan in 1949, Rajasthan had many small states, lacking the means of electricity, water and transportation.
  • For this reason, it was not possible to develop large scale modern industries.
  • Before attaining independence, there were only seven cotton-textiles industries , two cement factories, and two sugar mills in Rajasthan.
  • Due  to lack of good beginning , even today, Rajasthan is considered to be a backward state from the industrial point of view. 

Position of Rajasthan in factory sector

  • Rajasthan has a very low position in India’s industrial economy.
  • Only 4.3% of the factories registered in India are located in Rajasthan .
  • In terms of employment in  factory sector, Rajasthan’s share in  India was 3.5%.
  • Rajasthan’s share was only 2.5% in net value added by manufacturing.
  • Therefore, the position of Rajasthan has been very low  in the factory sector.
  • Various indicators of factory sector, such as the number of factories, fixed capital, employment and manufacturing,  the share of Rajasthan lies between 3-4%, which is considered very low low. 
  • According to DES, Jaipur survey report  2011-12
    • Number of Reporting Factories – 7414,
    • The amount of fixed capital amounted to Rs 51,696 crore,
    • Number of employees – 4.52 lakh
    • The amount of net value added by manufacturing – 38155 crores.
  • Most of the small units are found in Rajasthan are small scale units.
  • More than half the units are engaged in the manufacture of metal materials, leather goods and non-metallic minerals.
  • The Government has given considerable emphasis on power generation for the industrialization of the state during the five year plans. 
  • Thermal and power plants have been established in the state.
  • Nuclear Power has also been developed in the state
  • At the beginning of the first five year plan, the installed capacity of power was only 13 MW, which was approximately 17440 MW at the end of 31, March 2016.
  • Similarly, the water availability  was also expanded in the cities and villages.
  • Roads were built and many concessions were given to entrepreneurs such as land allocation, reducing power cost and financial support etc.
  • As a result of these concessions, the number of factories has increased considerably. 

राजस्थान में आज़ादी से पहले की स्थिति

  • 1949  में राजस्थान के एकीकरण के पूर्व, राजस्थान में कई छोटे बड़े राज्य थे जिनमे, बिजली, पानी व यातायात के साधनों का अभाव था  
  • इस  कारण से बड़े पैमाने पर आधुनिक उद्योगों का विकास करना संभव नहीं था
  • स्वतंत्रता प्राप्ति के पूर्व राज्य में केवल सात सूती-वस्त्र मिलें, दो सीमेंट कि फैक्ट्री, व दो चीनी मील थी ।
  • अच्छी शुरुआत न होने के कारण, आज भी राजस्थान औद्योगिक दृष्टि से एक पिछड़ा हुआ राज्य माना जाता है ।

राजस्थान का भारत में फैक्ट्री क्षेत्र में स्थान

  • राजस्थान का भारत की औद्योगिक अर्थव्यवस्था में काफी नीचा स्थान है
  • इस वर्ष भारत में पंजीकृत फैक्ट्रियों का 4.3% हिस्सा ही राजस्थान में स्थित है ।
  • फैक्ट्री क्षेत्र में रोजगार की दृष्टि से राजस्थान का समस्त भारत में अंश 3.5% था ।
  • विनिर्माण द्वारा जोड़े गए शुद्ध मूल्य में भी राजस्थान का अंश 2.5% ही था ।
  • अतः राजस्थान का स्थान औद्योगिक दृष्टि से फैक्ट्री क्षेत्र में काफी नीचे रहा है ।
  • फैक्ट्री क्षेत्र के विभिन्न सूचकों, जैसे फैक्ट्रियों की संख्या, स्थिर पूंजी, रोजगार व विनिर्माण द्वारा वर्धित मूल्य में राजस्थान का अंश 3-4% के बीच आता है, जो काफी नीचे माना जाता है । 
  • DES, जयपुर के सर्वे के अनुसार राज्य में 2011-12 में
    • रिपोर्टिंग फैक्ट्रियों  की संख्या – 7414,
    • स्थिर पूंजी की राशि 51696 करोड़ रुपये,
    • कर्मचारियों की संख्या – 4.52 लाख
    • विनिर्माण द्वारा जोड़े गए शुद्ध मूल्य की राशि – 38155 करोड़ रही
  • राजस्थान में लघु इकाइयों में ज्यादातर, अति इकाइयाँ  लघु  पायी जाती हैं
  • आधी से अधिक इकाइयाँ धातु पदार्थों, चमड़े की वस्तुओं व अधात्विक खनिज पदार्थों के निर्माण में लगी हुई हैं ।
  • सरकार ने पंचवर्षीय योजनाओं में राज्य के औद्योगिकीकरण के लिए विद्युत सृजन पर काफी बल दिया है । 
  • राज्य में थर्मल व विद्युत संयंत्रों की स्थापना की गयी है
  • राज्य में अणुशक्ति का भी विकास किया गया है
  • प्रथम योजना के प्रारंभ में शक्ति की प्रस्थापित क्षमता केवल 13 मेगावाट थी जो 31, मार्च 2016  के अंत में लगभग 17440 मेगावाट हो गयी ।
  • इसी प्रकार पानी की व्यवस्था का भी नगरों व गावों में विस्तार किया गया ।
  • सड़कों का निर्माण किया गया तथा उद्यमकर्ताओं को कई प्रकार की रियायतें दी गयी जैसे – भूमि आवंटन, विद्युत  कम करना, वित्तीय सहायता आदि।
  • इन रियायतों के फलस्वरूप फैक्ट्रियों की संख्या काफी बढ़ी है । 

Position of industries in domestic product and   employment in Rajasthan Industries in net  domestic origin of state-

  • Nowadays, in the broad definition of the industrial sector it is considered to be equivalent to the secondary sector.
  • It includes mining, manufacturing and electricity, gas and water supply and construction.
  • State’s Net Value Upgradation (NVA) – On the values ​​of 2011-12 on the value of industries at fixed prices –
    • Mining and Stone removal – 7.3%
    • Manufacturing – 9.7%
    • Electricity, gas and water supply – 1.1%
    • Construction – 9.9%
    • Total – 28% 
  • It is clear from the table that the industrial contribution of ​​Rajasthan was 28% in 2015 in the net value addition.
  • In Rajasthan, the share of the state’s income in the state is still very low. It needs to be enhanced in the future.
  • In 2014-15, the contribution of net value added (NVA) to manufacturing, construction, electricity, gas and water supply at all-India level was 27.3%, while in Rajasthan it was about 29%. Therefore, this ratio is relatively high in Rajasthan compared to India.
  • Pure value addition is considered to be of particular importance in the manufacturing sector.
  • In Rajasthan it was estimated at around 10% in 2015-16.
  • Therefore, the share of manufacturing sector is still low .
  • Factory area or organized sector is primarily in registered area, whereas in the non-registered area there are rural and cottage industries, artisans etc.
  • In this, artisans produce goods by working at their home.
  • Still, the share of manufacturing has been reduced to about 10% in  (NVA), which is quite low. 

राजस्थान में उद्योगों का शुद्ध राज्य- घरेलु- उत्पत्ति तथा रोजगार में स्थान

उद्योगों का शुद्ध राज्य घरेलु उत्पत्ति में स्थान –

  • आजकल औद्योगिक क्षेत्र की व्यापक परिभाषा में इसे द्वितीयक क्षेत्र के बराबर माना जाने लगा है
  • इसमें खनन, विनिर्माण तथा विद्युत, गैस और जल-पूर्ति एवं निर्माण को शामिल करते हैं ।
  • राज्य की शुद्ध मूल्यवर्धन (NVA)  – स्थिर मूल्यों पर उद्योगों का स्थान 2011-12 के मूल्यों पर –
    • खनन व पत्थर निकालना – 7.3%
    • विनिर्माण –                     9.7%
    • विद्युत, गैस तथा जल-पूर्ति – 1.1%
    • निर्माण      –       9.9%
    • कुल      –      28% 
  • तालिका से स्पष्ट होता है कि औद्योगिक क्षेत्र का राजस्थान की शुद्ध मूल्यवर्धन में 2015-16 में 28% रहा था
  • राजस्थान में उद्योगों का राज्य की आय में अंश आज भी काफी कम है । इसे भविष्य में बढ़ाने की आवश्यकता है ।
  • 2014-15 में अखिल भारतीय स्तर पर विनिर्माण, निर्माण, विद्युत, गैस व जल पूर्ती का शुद्ध मूल्यवर्धन(NVA) में योगदान 27.3% रहा जबकि राजस्थान में यह लगभग 29% रहा था।  अतः राजस्थान में यह अनुपात भारत की तुलना में अपेक्षाकृत थोड़ा ऊँचा है ।
  • उद्योगों में विनिर्माण का अंश शुद्ध मूल्यवर्धन विशेष महत्त्वपूर्ण माना जाता है ।
  • राजस्थान में 2015-16 में यह लगभग 10% आँका गया था ।
  • अतः विनिर्माण क्षेत्र का अंश आज भी कम है
  • पंजीकृत क्षेत्र में फैक्ट्री क्षेत्र या संगठित क्षेत्र की प्रधानता होती है , जबकि गैर-पंजीकृत क्षेत्र में ग्रामीण व कुटीर उद्योग, दस्तकारियाँ आदि आते हैं ।
  • इसमें कारीगर अपने घर पर काम करके माल का उत्पादन करते हैं ।
  • अभी भी विनिर्माण का अंश शुद्ध मूल्यवर्धन (NVA) में लगभग 10% ही हो पाया है, जो काफी कम है ।  

 

Position of employment in industries in Rajasthan –

  • According to the 2011 census, the number of total workers (main + marginal) was 2.99 crore, which was 43.6% of the total population.
  • In the state
    • 62.1% of workers in agricultural work
    • 2.4% in domestic industries
    • 35.5% in other work
  • Efforts should be made to increase employment in industries by industrial development in the future.
  • For this, it is necessary to focus on the possibility of developing mining operations and small scale industries and various types of cottage industries in the state.
  • There are also development possibilities in the handloom sector in the state.
  • Many types of handicrafts can also be encouraged in the state.
  • In the field of electricity, gas and water supply, more workers can be given work.
  • This will increase industrial employment, increase the income of the people and improve their quality of life.
  • Foreign currency can also be earned more by exports of carpets, leather goods, handloom items and gems and jewelery etc. 

Industrial structure of Rajasthan

  • Under this, utility based industrial classification is studied.
  • In this, the relative importance of the following four types of industries is studied on the basis of employment or added net value contribution.
    • Industry of basic goods – such as steel, fertilizer, electricity etc.
    • Industries of capital goods like machinery, transport goods etc.
    • Industries of intermediate goods such as cotton yarn, paint, tire -tube  etc.
    • Industries of consumer goods – In these durable and non-sustainable consumer goods, items like sugar, salt, match, medicine are there. 

राजस्थान में उद्योगों का शुद्ध राज्य- घरेलु- उत्पत्ति तथा रोजगार में स्थान

उद्योगों का शुद्ध राज्य घरेलु उत्पत्ति में स्थान –

  • आजकल औद्योगिक क्षेत्र की व्यापक परिभाषा में इसे द्वितीयक क्षेत्र के बराबर माना जाने लगा है
  • इसमें खनन, विनिर्माण तथा विद्युत, गैस और जल-पूर्ति एवं निर्माण को शामिल करते हैं ।
  • राज्य की शुद्ध मूल्यवर्धन (NVA)  – स्थिर मूल्यों पर उद्योगों का स्थान 2011-12 के मूल्यों पर –
    • खनन व पत्थर निकालना – 7.3%
    • विनिर्माण –                     9.7%
    • विद्युत, गैस तथा जल-पूर्ति – 1.1%
    • निर्माण      –       9.9%
    • कुल      –      28% 
  • तालिका से स्पष्ट होता है कि औद्योगिक क्षेत्र का राजस्थान की शुद्ध मूल्यवर्धन में 2015-16 में 28% रहा था
  • राजस्थान में उद्योगों का राज्य की आय में अंश आज भी काफी कम है । इसे भविष्य में बढ़ाने की आवश्यकता है ।
  • 2014-15 में अखिल भारतीय स्तर पर विनिर्माण, निर्माण, विद्युत, गैस व जल पूर्ती का शुद्ध मूल्यवर्धन(NVA) में योगदान 27.3% रहा जबकि राजस्थान में यह लगभग 29% रहा था।  अतः राजस्थान में यह अनुपात भारत की तुलना में अपेक्षाकृत थोड़ा ऊँचा है ।
  • उद्योगों में विनिर्माण का अंश शुद्ध मूल्यवर्धन विशेष महत्त्वपूर्ण माना जाता है ।
  • राजस्थान में 2015-16 में यह लगभग 10% आँका गया था ।
  • अतः विनिर्माण क्षेत्र का अंश आज भी कम है
  • पंजीकृत क्षेत्र में फैक्ट्री क्षेत्र या संगठित क्षेत्र की प्रधानता होती है , जबकि गैर-पंजीकृत क्षेत्र में ग्रामीण व कुटीर उद्योग, दस्तकारियाँ आदि आते हैं ।
  • इसमें कारीगर अपने घर पर काम करके माल का उत्पादन करते हैं ।
  • अभी भी विनिर्माण का अंश शुद्ध मूल्यवर्धन (NVA) में लगभग 10% ही हो पाया है, जो काफी कम है ।  

राजस्थान में उद्योगों का रोजगार में स्थान –

  • 2011  की जनगणना के अनुसार कुल श्रमिकों( मुख्य+सीमान्त)  की संख्या 2.99 करोड़ थी जो कुल जनसंख्या का 43.6% था
  • राज्य में
    • 62.1% श्रमिक कृषिगत कार्यों में
    • 2.4% घरेलु उद्योगों में
    • 35.5% अन्य क्रियाओं में
  • भविष्य में राज्य का औद्योगिक विकास करके उद्योगों को रोजगार में अंश बढ़ाने का प्रयास किया जाना चाहिए ।
  • इसके लिए राज्य में खनन-कार्य व लघु-उद्योगों तथा विभिन्न प्रकार के कुटीर उद्योगों का विकास करने की संभावनाओं पर ध्यान दिया जाना आवश्यक है । 
  • राज्य में हथकरघा क्षेत्र में भी विकास की संभावनाएं हैं
  • राज्य में कई प्रकार की दस्तकारियों को प्रोत्साहन दिया जा सकता है ।
  • विद्युत,  गैस व जलापूर्ति के क्षेत्र में भी  अधिक श्रमिकों को काम दिया जा सकता है ।
  • इससे औद्योगिक रोजगार में वृद्धि होगी, लोगों की आमदनी बढ़ेगी तथा उनके जीवन स्तर में सुधार आएगा ।
  • गलीचों, चमड़े की वस्तुओं, हथकरघा की वस्तुओं तथा रत्न-आभूषण आदि के निर्यात से अधिक विदेशी मुद्रा भी अर्जित की जा सकती है 

राजस्थान का औद्योगिक ढांचा

  • इसके अंतर्गत उपयोग आधारित औद्योगिक वर्गीकरण का अध्ययन किया जाता है
  • इसमें निम्न चार प्रकार के उद्योगों का रोजगार अथवा जोड़े गए शुद्ध मूल्य में योगदान के आधार पर सापेक्ष महत्त्व देखा जाता है ।
    • आधारभूत वस्तुओं के उद्योग – जैसे इस्पात, उर्वरक, विद्युत आदि
    • पूँजीगत वस्तुओं के उद्योग जैसे मशीनरी, परिवहन का माल आदि
    • मध्यवर्ती वस्तुओं के उद्योग जैसे – कॉटन यार्न, रंग, टायर-तुबे आदि ।
    • उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योग -इसमें टिकाऊ व गैर टिकाऊ उपभोक्ता वस्तुओं में चीनी, नमक, माचिस, दवा आदि वस्तुएँ आती हैं । 

Infrastructure industries

  • The main industries in this category are: Cement, Basic Chemicals, Iron and Steel, Fertilizers and Insecticides, Copper, Brass, Aluminum, Zinc and Other Non-Ferrous Metals, Salt and Electricity.

Cement industry

  • There are many big cement factories in the state, such as Sawaimadhopur, Lakheri, Chittorgarh, Udaipur, Nimbahera, Beawar and  private sector factory in kota.
  • Two RICCO-assisted factories are operating in Modak (Kota) and Banas (Sirohi)
  • Mini cement plants have also been set up in the state – cement production has been started in Sirohi, Banswara and Jaipur districts. 
  • In the state, the main factories are Shree Cement, Ambuja Cement, ACC Bangur Cement, Binani Cement and Lakshmi Cement.
  • In the future, there is a plan to put establish big  cement factories in the state.
  • The state’s cement industry is considered to be the ‘hub’ of the industrial sector because limestone is abundant in here.

Chemical industry

  • It mainly comes from Rajasthan State Chemical Works, Deedwana.
  • It produces sodium sulphate and sodium sulfide.
  • Shriram Chemical Industries Ltd. in Kota Also comes under this category.
  • Rajasthan  Explosives Chemicals Limited was established in Dhaulpur in collaboration with  RIICO and IDL Chemical Ltd, hyderabad . Explosives are made here .
  • The Flourspar Beneficiation Plant was installed at a place called Mandō-ki-Paal in Dungarpur  district. It is used to make steel.
  • A Zinc-sludge plant at Udaipur and a copper smelting plant is also operating in Khetri.
  • Udaipur Phosphate and Fertilizers and Modi Alkalies and Chemical Limited Alwar also come under the category of basic industries. 

Capital goods industries

  • In the category of capital industries, are  – industrial machinery, refrigerators, air conditioners, machine tools, electrical machinery, electrical computers and parts, etc. .
  • Hindustan Machine Tools Ltd. in Ajmer And Kota Instrumentation Limited.
  • Ball Bearing are made in National Engineering Industries Limited in Jaipur. Commercial vehicles are made in Ashoka Leyland Ltd.  Alwar. There are also some more engineering industries of this type.
  • Thus there are also good number of factories of capital goods in Rajasthan. 

Industry of intermediate goods –

  •  The industries in this category have the following functions:
    • Cotton ginning, cleaning and billing,
    • Printing, dyeing and bleaching of cotton textiles,
    • Cleaning, dyeing and bleaching
    • Leather dyeing and preparation
    • Tire-tubes, paint and varnish etc.
  • Water meters are made in Jaipur.
  • In Kankroli near Udaipur There is a tyre factory, in which automobiles, tyres and tubes are made.

Consumer goods industry –

  • In Rajasthan there are many industries like  – cotton textiles, synthetic textiles, sugar, jaggery, vegetable ghee and vegetable oils, soaps, crockery, parts of bicycles, leather and rubber shoes, woolen goods (Bikaner), bidi (Mayur beedi industry, tonk) etc. .
  • In Rajasthan, however to some extent  of all types of utility-based industries are found,, the state. still Rajasthan has low status in the industrial economy of the country.
  • Contribution of basic industries in Rajasthan has increased in  value of employment and added, intermediate industries have increased considerably and there is a depletion of consumer industries.  

RAS 2018 Industrial Development in Rajasthan Part 1 PDF

Industrial-Development-in-Rajasthan-I

आधारभूत वस्तुओं के उद्योग

  • इस श्रेणी में मुख्य उद्योग निम्न हैं – सीमेंट, बेसिक रसायन, लोहा व इस्पात, उर्वरक व कीटनाशक, तांबा, पीतल, एल्युमीनियम, जस्ता व अन्य अलौह धातु, नमक एवं विद्युत

सीमेंट उद्योग

  • राज्य में सीमेंट के कई बड़े कारखाने कार्यरत हैं जैसे – सवाईमाधोपुर, लाखेरी, चित्तौडगढ़, उदयपुर, निम्बाहेड़ा, ब्यावर व कोटा में निजी क्षेत्र के हैं ।
  • रीको से सहायता प्राप्त दो कारखाने मोड़क(कोटा) तथा बनास(सिरोही) में चल रहे हैं
  • राज्य में मिनी सीमेंट प्लांट भी लगाए गए हैं – जिनमे सिरोही, बाँसवाड़ा व जयपुर जिलों में सीमेंट का उत्पादन होने लगा है ।
  • राज्य में श्री सीमेंट, अम्बुजा सीमेंट, एसीसी बांगड़ सीमेंट, बिनानी सीमेंट तथा लक्ष्मी सीमेंट के कारखाने प्रमुख हैं
  • भविष्य में भी राज्य में सीमेंट के बड़े कारखाने लगाने की योजना है ।
  • राज्य का सीमेंट उद्योग औद्योगिक क्षेत्र का ‘हब’ माना जाता है, क्योंकि यहाँ लाइमस्टोन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है ।  

रासायनिक उद्योग

  • इसमें मुख्यतया राजस्थान स्टेट केमिकल वर्क्स, डीडवाना आता है ।
  • यह सोडियम सलफेट व सोडियम सल्फाइड का उत्पादन करता है ।
  • कोटा में श्रीराम केमिकल इंडस्ट्रीज लि. भी इसी श्रेणी में आता है ।
  • धौलपुर में संयुक्त क्षेत्र में रीको व IDL केमिकल लि. हैदराबाद के परस्पर सहयोग से दी राजस्थान एक्सप्लोसिव्स   केमिकल्स लिमिटेड की स्थापना की गयी, जहाँ विस्फोटक बनाये जाते थे
  • डूंगरपुर जिले में मांडों-की-पाल नामक स्थान पर  फ्लोर्सपार बेनेफ़िशियेशन प्लांट लगाया गया था । यह  इस्पात बनाने में प्रयुक्त होता है ।
  • उदयपुर में जस्ता   गलाने का संयंत्र तथा खेतड़ी में ताँबा गलाने का संयंत्र कार्यरत है ।
  • उदयपुर फॉस्फेट एंड फर्टीलाइजर्स तथा    मोदी अल्कलीज एंड केमिकल लिमिटेड. अलवर भी आधारभूत  उद्योगों की श्रेणी में आते हैं ।  

पूँजीगत वस्तुओं के उद्योग

  • पूँजीगत उद्योगों की श्रेणी में औद्योगिक मशीनरी , रेफ्रीजिरेटर, एयर कंडीशनर, मशीनी औजार, विद्युत मशीनरी, विद्युत कंप्यूटर व पुर्जे, आदि आते हैं
  • अजमेर में हिंदुस्तान मशीन टूल्स लि. तथा कोटा   इंस्ट्रमेंटेशन लिमिटेड है
  • जयपुर में नेशनल इंजीनियरिंग इंडस्ट्रीज लिमिटेड में बाल बियरिंग एवं अशोका लिलैंड लि. अलवर में व्यापारिक वाहन बनाये जाते हैं । इसी प्रकार के कुछ और इंजीनियरिंग उद्योग भी हैं ।
  • इस प्रकार राजस्थान में पूंजीगत वस्तुओं के भी कारखाने हैं ।

मध्यवर्ती वस्तुओं के उद्योग –

  • इस श्रेणी के उद्योगों में निम्न कार्य हैं –
    • कॉटन जिनिंग, क्लीनिंग व बिलिंग,
    • सूती वस्त्रों की छपाई, रंगाई व ब्लीचिंग,
    • उन की सफाई, रंगाई व ब्लीचिंग
    • चमड़े   रंगाई व तैयारी
    • टायर-ट्यूब , पेंट व वार्निश आदि
  • जयपुर में पानी के मीटर बनाये जाते हैं
  • उदयपुर के पास कांकरोली में जे.के. टायर का कारखाना है, जिसमे ऑटोमोबाइल, टायर व ट्यूब बनाये जाते हैं । 

उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योग –

  • राजस्थान में सूती वस्त्र, सिंथेटिक वस्त्र, चीनी, गुड़, वनस्पति घी व वनस्पति तेल , साबुन, क्रोकरी, साइकिल के पुर्जे, चमड़े व रबड़ के जूते, ऊनी माल (बीकानेर) , बीड़ी (मयूर बीड़ी उद्योग, टोंक)  आदि उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योग आते हैं
  • राजस्थान में कुछ सीमा तक सभी प्रकार के उपयोग-आधारित उद्योगों की इकाइयाँ पायी जाती हैं,  फिर भी राज्य का देश की औद्योगिक अर्थव्यवस्था में नीचे स्थान है ।
  • राजस्थान में आधारभूत उद्योगों का योगदान रोजगार व जोडे  गए मूल्य में बढ़ा है, मध्यवर्ती उद्योगों का काफी बढ़ा है तथा उपभोक्ता उद्योगों का घटा है । 

 

For More Important Articles You Can Visit On Below Links :

RAS 2018 Ancient Civilization of Rajasthhan | Rajasthan GK | 

Rajasthan Art and Culture – Custom and Costumes of Rajasthan Part 1/3 | RAS 2018

RAS 2018 | Rajasthan Art and Culture- Rajasthani Language Part 1/2 | Rajasthan GK

Tribes of Rajasthan Part 2/3 | Rajasthan GK | Rajasthan Art and Culture | RAS 2018

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!