RAS 2018 GK Notes Major Festival of Rajasthan | Part 2

RAS 2018 GK Notes Major Festival of Rajasthan | Part 2

RAS 2018 GK Notes Major Festival of Rajasthan | Part 2

RAS 2018 GK Notes Major Festival of Rajasthan | Part 2

RAS 2018 GK Notes Major Festival of Rajasthan | Part 2

31. Amla Navami / Akshay Navami (Kartik Shukla-9): –

  • On this day,  the amla tree is worshiped and amla is taken in food. By doing this fast, the fruit of fasting, poojan, tarpana etc. becomes renewable. Therefore it is also called Akshay Navami.

Devothni Gyaras (Kartik Shukla-11): –

  • It is called Prabodhini Ekadashi. On this day Lord Vishnu awakens after being four months in sleep. Auspicious works starts from this day.
  • By bathing in the morning and  in the courtyard of the house, feet of Lord Vishnu are formed  in artistic form. Lord Vishnu is worshiped by the Kadamb flowers and the flowers of Tulsi. 

33. Kartik Poornima: –

  • On this day, Mahadevji had killed a ruler named Tripurasur. That is why it is also called ‘Tripura Purnima’.
  • On this day bath is done in Ganga or Pushkar. The fast of the Kartik month and the bath which starts with Sharad Purnima and the Kartik full moon is complete. The fair fills  at Pushkar on this day.

34. Makar Sankranti: –

  • It is always celebrated on 14th January. It has special significance due to sunlight on Capricorn in this solstice. Sesame laddus, papdi, barfi etc. are made a day before Sankranti.
  • On this day, donations are made with open heart . In Jaipur, on  this day everyone flies kites. There is also a practice to make happy their mother in laws on this day. Suhagin women give up to thirteen things of suhag  to thirteen suhaginas. 

35. Til Chauth (Magh Krishna-4): –

  • On this day, tilkutta food is offered to  Shri Ganesh ji and Chaukat Mata.It is also known as Sankat Chauth.

36. Shattila Ekadashi (Magh Krishna-11): –

  • their supreme god is Lord Vishnu. The donation of black cow and black til on this day has special significance. Due to the use of 6 types of sesame, it is called Shatatila Ekadashi.

37. Mauni Amavas (Magh Amavasya): –

  • People remain Silent on this day. This day is also Manu’s ‘Birthday’. It is believed that due to remaining in silence,  self-power increases and the person who completes the fast by holding silence gets the post of a muni. 

38. Basant Panchami (Magh Shukla-5): –

  • This day is considered the first day of the advent of the Rituraj Basant. Lord Sri Krishna is worshipped in this festival, therefore, in Braj Pradesh today, the leela of  Radha and Krishna is created. From this day, the faags start to fly, which runs through Phalguna’s full moon.
  • The golden  wheat and barley are offered to God.  On this day, Kamdev and Ratti are worshipped chiefly. On this day people wear yellow cloth and they eat yellow sweet rice in houses. 

39. Magh Poornima: –

  • The full moon of Magh Month is of great significance. This is the last symbol of bathing festivals. On this day,after bathing  Vishnu Puja is sone , Shraddra Karma is done and beggars are given domations. Ganga bathing on this day also has special significance.

40. Shivratri (Falgun Krishna -13): –

  • This is the birth anniversary of Shiva. On this day, devotted hold a fast and recite Shiva Purana. On the second day, hawan  of barley, sesame seeds, kheer and Bilv patras is done by feeding the Brahmins and fast is completed. 

41. Dhundh (Falgun Sadi-11): –

  • On haing a child, worshiping of Gyaras before Holi is done. When a boy is born there Dhundh is worshipped the same year

42. Holi (Phalguna Poornima): –

  • On this day on Hiranakshyap’s command, his sister Holika takes Prahad in the lap and enters  fire, but Prahad is saved and Holika gets burnt.
  • Therefore, this festival is celebrated in memory of Bhakta Prahlad. On this day all women worship Holi by a raw cotton , water lota, coconut etc.
  • In the water, green gram with raw gram flour and raw wheat is roasted and brought home. 
  • When Holi is burnt, men take out the pole because this is considered a symbol of devotee Prahad.

43. Dhulandi (Chaitra Krishna-1): –

  • Dhulandi is celebrated on the second day of Chaitra month Krishna Pratipada on the second day of Holi. On this day the residual ash of Holi is worshipped  and all play holi with colorful Gulal.

44. Ghudla Festival  (Chaitra Krishna-8): –

  • This festival is celebrated in the Marwar area of ​​Rajasthan from Chaitra Krishna Ashtami to Chaitra Shukla Tritiya. On this day the women gather and go to the potter’s house and keep the lamp in a  holed pot and return home singing songs. 
  • This pitcher is later shed in the tank. On this festival, a fair is filled on Chaitra Sudi  Teej.

45. Sheetla Ashtami (Chaitra Krishna-8): –

  • On this day, Shitala Mata is worshiped and cold food is eaten. All food is cooked on the evening of Saptami. Shitla Mata is worshiped  when the child has small pimples / chickenpox .

46. New Year (Chaitra Shukla 1): –

  • New Year of Hindus begins on this day. The festival of Gudi Padwa is also celebrated on this day.

47. Arundhati vrat (Chaitra Shukla-1): –

  • This fast starts with Chaitra Shukla and ends with Chaitra Shukla Tritiya. 
  • This fast is done for the women. Women should take this fast to avoid the cycle  of birth and death.

48. Sinjara: –

  • This festival symbolizes love for daughter and daughter-in-law. A day before Gangaur and Teej  Sinjara is sent, in which saris, make-up material, bangles, mahindi, roli, dessert etc. are snet to  daughter and daughter-in-law.

49. Gangaur (Chaitra Shukla-3): –

  • This is an important festival of married ladies. This is a symbol of Shiva and Parvati’s fondest love. In Ganagaur, ‘Gan’is symbol of  Mahadev’s and ‘Gauri’ is a symbol of Parvati.
  • On this day, the unmarried girls  wish for good grooms and married women wish for their untiring good luck for their husbands.
  • Ganagaur worship begins with Chaitra Krishna Ekam and this sequence continues till Chaitra Shukla Tritiya. On this day, there is  Gangaur sawari. Gangaur of Jaipur and Udaipur is famous.

50. Ashokashtami (Chaitra Shukla-8): –

  • This day Ashoka tree is  worshipped.

51. Ramnavami (Chaitra Shukla-9): –

  • This festival is celebrated as the birth anniversary of Lord Rama. The Ramayana is recited on this day.
  • Devotees bathe in the river Saryu and earn virtue benefits. This is the celebrated on the last Nawratra.

52 .Akha Teija  or Akshaya Tritiya (Vaishak Shukla 3): –

  • Farmers celebrate this festival with the wishes of rain by worshiping seven grains and ploughs in the state. According to the shastras, this day is considered the beginning of Satyuga and Tretayug. The   knowledge gained and charity performed on this day are very fruitful.
  • This is the only time in the whole year. when thousands of marriages, especially child marriages, are held in the state on this day.

53. Vat Savitri fast or Badmavas (Jayesth Amavasya): –

  • This fast is done by woman to achieve  good fortune. In this fast women pray for the health of the son and husband by worshiping banyan trees. The story of Wat Savitri is heard by women.

54. Nirjala Ekadashi (Jyestha Shukla Ekadashi): –

  • In this fast, water is not drunk from sunrise of Ekadashi till sunrise of Dvadasi. This fast gets the best results.

55. Peepal Poornima: –

  • This  is celebrated on Vaishakh Purnima .Buddha Purnima is also celebrated on this day. 

56. Yogini Ekadashi (Ashadh Krishna-11): –

  • By fasting on Ekadashi, all sins are destroyed.

57. Devashayani Ekadashi: –

  • On the day of Ashad Shukla , Lord Vishnu falls asleep for four months. No auspicious work is done for four months from this day.

58. Guru Purnima (Aashadh Purnima): –

  • On this day, Guru-worship is done and gifts are  given to gurus. It is also called Vyaas Poornima.

59. Saavan Somwar: –

  • This fasting  is done on all the Mondays of  Shraavan month.
  • Shivji is worshipped on this day. These are also called Van Somvar because food is prepared from home and is eaten on some picturesque site in the forest.

60. Mangala Gori Pooja: –

  • On every Tuesday of the month of Shravan, Goddess gauri is  worshipped.

61. Nag Panchami (Shravan Krishna 5): –

  • This is the festival of snakes. This day  serpent is worshiped. Somewhere this festival is celebrated as Shravan Shukla Panchami.

62. Nidri Navami (Shravan Krishna-9): –

  • In order to avoid snake attacks, the mongoose  is worshiped on Shravan Navratri, which is called the Nidari Navami.

63. Kamika Ekadashi (Shravan Krishna-11): –

  • Lord Vishnu is worshiped in this fast.

64. Hariyali Amavas (Shravan Amavasya): –

  • On this day, Kheer and Malpu are made. They feed  Brahmins. People celebrate with their families visiting gardens or other delightful places.

65. Jaljhulani / Devjulani Ekadashi: –

  • On the day of Bhadrapad Shukla-11, idols are placed in paalkis and it is  bathed near the reservoir after after being taken to the reservoir in the procession. 

31.  आँवला नवमी/अक्षय नवमी (कार्तिक शुक्ला -9)

  • इस दिन आँवले के वृक्ष की पूजा की जाती है व भोजन में आँवला अवश्य लिया जाता है। इस व्रत को करने से व्रत, पूजन, तर्पण आदि का फल अक्षय हो जाता है। इसलिए इसे अक्षय नवमी भी कहते हैं।

देवउठनी ग्यारस (कार्तिक शुक्ला-11) :-

  • इसे प्रबोधिनी एकादशी कहते हैं। इस दिन भगवान विष्णु चार माह तक निंद्रावस्था में रहने के बाद जागते हैं। इस दिन से ही मांगलिक कार्य प्रारम्भ हो जाते हैं।
  • प्रातःकाल स्नान करके घर के आँगन में चौक पुर कर भगवान विष्णु के चरणों को कलात्मक रूप में अंकित करते हैं। भगवान विष्णु की कदम्ब पुष्पों तथा तुलसी की मंजरियों द्वारा पूजा की जाती है। 

33. कार्तिक पूर्णिमा :-

  • इस दिन महादेवजी ने त्रिपुरासुर नामक राक्षक का वध किया था। इसलिए इसे ‘त्रिपुर पूर्णिमा’ भी कहते हैं।
  • इस दिन गंगा या पुष्कर में स्नान किया जाता है। कार्तिक माह के व्रत व स्नान जो शरद पूर्णिमा से आरम्भ होते हैं व कार्तिक पूर्णिमा को पूर्ण होते हैं। इस दिन पुष्कर में मेला भरता है। 

34. मकर संक्रांति :-

  • यह सदैव 14 जनवरी को ही मनाई जाती है। इस संक्रांति में मकर राशि पर सूर्यहोने के कारण इसका विशेष महत्व है। संक्रांति के एक दिन पूर्व तिल के लड्डू, पपड़ी, बर्फी आदि बनाये जाते हैं।
  • इस दिन दिल खोलकर दान करते हैं। जयपुर में इस दिन सभी पतंग उड़ाते हैं। इस दिन रूठी सास को मनाए जाने की भी प्रथा है। सुहागिन स्त्रियाँ सुहाग की तेरह वस्तुएँ कलप कर तेरह सुहागिनों को देती हैं। 

35. तिल चौथ (माघ कृष्णा-4) :-

  • इस दिन श्री  गणेश जी व चौथ माता के तिलकुट्टे का भोग लगाया जाता है। इसे संकट चौथ भी कहते हैं।

36. षट्तिला एकादशी (माघ कृष्णा-11) :-

  • इसके अधिष्टता देव भगवान विष्णु है।  इस दिन काली गाय और काले तिलों के दान का विशेष महत्व है। 6 प्रकार के तिलों का प्रयोग होने से  इसे षट्तिला एकादशी कहते हैं।

37. मौनी अमावस (माघ अमावस्या) :-

इस दिन मौन व्रत किया जाता है। यह दिन मनु का ‘जन्म दिवस’ भी है। ऐसा माना जाता है कि मौन रहने से आत्मबल में वृद्धि होती है व मौन धारण करके व्रत का समापन करने वाले व्यक्ति को मुनि का पद प्राप्त होता है।

38. बसंत पंचमी (माघ शुक्ला-5) :-

  • यह दिन ऋतुराज बसंत के आगमन का प्रथम  दिवस माना जाता है। भगवान श्रीकृष्ण इस उत्सव के अधिदेवता हैं इसलिए ब्रज प्रदेश में आज के दिन राधा और कृष्ण की लीलाएँ रचाई जाती हैं। इस दिन से फ़ाग उड़ाना प्रारम्भ करते हैं जिसका क्रम फाल्गुन की पूर्णिमा तक चलता है।
  • गेहूँ  और जौ की स्वर्णिम बालियाँ भगवान को अर्पित की जाती हैं। बसंत ऋतू कामोद्वीपक होती है। इस दिन कामदेव और राति का प्रधान रूप से पूजन करते हैं। इस दिन लोग पिले वस्त्र पहनते हैं व घरों में पीले मीठे चावल बनाकर खाते हैं। 

39. माघ पूर्णिमा :-

  • माघ मास की पूर्णिमा का धार्मिक दृष्टि से बड़ा महत्व है। स्नान पर्वों का यह अंतिम प्रतीक है।  इस दिन स्नानादि से निवृत होकर विष्णु पूजन, पितृ श्राद्र कर्म तथा भिखारियों को दान देने का विशेष महत्व है। इस दिन गंगा स्नान करने का भी विशेष महत्व है।

40. शिवरात्रि (फाल्गुन कृष्णा-13) :-

  • यह शिवजी का जन्मोत्स्व है। इस दिन श्रदालुगण व्रत रखते हैं व शिव पुराण का पाठ करते हैं। दूसरे दिन प्रातः जौ, तिल, खीर, बिल्व पत्रों का हवन करके ब्राह्मणों को भोजन कराकर व्रत का पारण किया जाता है। 

41. ढूँढ़ (फाल्गुन सदी-11) :-

  • बच्चा होने पर ढूँढ होली से पहले वाली ग्यारस को पूजते हैं। जब किसी के यहाँ लड़का पैदा हो तो उसी वर्ष ढूँढ पूजी जाती है।

42.होली (फाल्गुन पूर्णिमा) :-

  • इस दिन हिरणकश्यप की आज्ञा पर उनकी बहन होलिका प्रह्राद को गोद में लेकर अग्नि में प्रविष्ट होती है लेकिन प्रह्राद बच जाता है  व होलिका जल जाती है।
  • अतः भक्त प्रह्राद की स्मृति में इस पर्व को मनाया जाता है। इस दिन सब स्त्रियाँ कच्चे सूत की कुकड़ी, जल का लोटा, नारियल आदि द्वारा होली की पूजा करती हैं।
  • हौली में कच्चे चने युक्त हरी डालियाँ व कच्चे गेहूँ की बालियाँ आदि भूनकर घर लाई जाती हैं। 
  • होली जलने पर पुरुष होली के डंडे को बहार निकलते हैं क्योकि इस डंडे को भक्त प्रह्राद का प्रतीक माना जाता है।

43. धुलंडी (चैत्र कृष्णा-1) :-

  • चैत्र माह की कृष्णा प्रतिपदा को होली के दूसरे दिन धुलंडी मनायी जाती है। इस दिन होली की अवशिष्ट राख की वंदना की जाती है व रंग गुलालादि से सभी होली खेलते है।   

44. घुड़ला का त्यौहार (चैत्र कृष्णा-8) :-

  • यह त्यौहार राजस्थान के मारवाड़ क्षेत्र में चैत्र कृष्णा अष्टमी से लेकर चैत्र शुक्ला तृतीया तक ही मनाया जाता है। इस दिन स्त्रियाँ एकत्रित होकर कुम्हार के घर जाकर छिद्र किये हुए एक घड़े में दीपक रखकर अपने घर में गीत गाती हुई लौटती हैं। 
  • यह घड़ा बाद में तलाब में बहा दिया जाता है। इस त्यौहार पर चैत्र सुदी तीज को मेला भरता है।

45. शीतला अष्टमी (चैत्र कृष्णा-8) :-

  • इस दिन शीतला माता की पूजा की जाती है व ठण्डा  भोजन किया जाता है। समस्त भोजन सप्तमी की संध्या को ही बनाकर रखा जाता है। बच्चे के चेचक निकलने पर शीतला माता की ही पूजा की जाती है।

46. नववर्ष (चैत्र शुक्ला 1 ):-

  • हिन्दुओं का नववर्ष इसी दिन प्रारम्भ होता है। इस दिन गुड़ी पड़वा का त्यौहार भी मनाया जाता है।

47. अरुधंति व्रत (चैत्र शुक्ला-1) :-

  • यह व्रत चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा से आरम्भ होता है और चैत्र शुक्ला तृतीया को समाप्त होता है।
  • स्त्रियाँ के चरित्रोत्थान के लिए यह वृत्त किया जाता है। जन्म जन्मातर के वैधव्य दोष से बचने के लिए स्त्रियों को यह व्रत अवश्य करना चाहिए।

48. सिंजारा :-

  • यह त्यौहार पुत्री और पुत्रवधु के प्रति प्रेम का प्रतीक है। गणगौर व तीज के एक दिन पूर्व सिंजारा भेजा जाता है जिसमें साड़ी, शृंगार की सामग्री, चूड़ी, महेंदी, रोली, मिठाई आदि पुत्री तथा पुत्रवधु के लिए भेजी जाती है।

49. गणगौर (चैत्र शुक्ला-3) :-

  • यह सुहागिन स्त्रियों का महत्वपूर्ण त्यौहार है। यह शिव व पार्वती के अखड़ प्रेम का प्रतीक पर्व है। गणगौर में ‘गण’ महादेव का व ‘गौरी’ पार्वती का प्रतीक है। 
  • इस दिन कुँवारी कन्याएँ मनपसंद वर प्राप्ति का तथा विवाहित स्त्रियाँ अपने अखंड सौभाग्य की कामना  करती है।
  • चैत्र कृष्णा एकम से ही  गणगौर पूजन आरम्भ हो जाता है व चैत्र शुक्ला तृतीया तक यह क्रम चलता रहता है। इस दिन गणगौर की सवारी निकली जाती है। जयपुर और उदयपुर की गणगौर प्रसिद्ध है।

50. अशोकाष्टमी (चैत्र शुक्ला-8) :-

  • इस दिन अशोक वृक्ष के पूजन का विधान है।

51. रामनवमी (चैत्र शुक्ला-9) :-

  • मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के जन्म दिवस के रूप में यह त्यौहार मनाया जाता है। इस दिन रामायण का पाठ किया जाता है। 
  • श्रदालुगण सरयू नदी में स्नान करके पुण्य लाभ कमाते हैं। यह अंतिम नवरात्रा को मनाई जाती है।

52.आखा तीज या अक्षय तृतीया (वैशाख शुक्ला 3) :-

  • राज्य में कृषक सात अन्नों तथा हल का पूजन करके शीघ्र वर्षा की कामना के साथ यह त्यौहार मनाते हैं। शास्त्रानुसार इस दिन से सतयुग और त्रेतायुग का आरम्भ माना जाता है क्योंकि इस दिन किया हुआ तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फलदायक होता है।
  • संपूर्ण वर्ष में यह एकमात्र अबूझ सावा है। इस दिन राज्य में हजारों विवाह विशेषतः बाल विवाह सम्पन्न होते है। 

53.  वट सावित्री  व्रत या बड़मावस (ज्येष्ठ अमावस्या ) :-

  • इस व्रत से स्त्री को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इस व्रत के अंर्तगत स्त्रियाँ बड़ या बरगद की पूजा कर पुत्र और पति की आरोग्यता के लिए प्रार्थना करती है। वट सावित्री की कथा सुनी जाती है।

54. निर्जला एकादशी (ज्येष्ठ शुक्ला एकादशी ):-

  • इस व्रत में एकादशी के सूर्योदय से द्वादशी के सूर्योदय तक जल ग्रहण नहीं किया जाता है। इस व्रत से श्रेष्ठ  फल की प्राप्ति होती है।

55. पीपल पूर्णिमा  :-

यह वैशाख पूर्णिमा को मनाई जाती है। इस दिन बुद्ध पूर्णिमा भी मनाई जाती है।

56. योगिनी एकादशी (आषाढ़ कृष्णा-11) :-

  • एक एकादशी का व्रत करने से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं।

57. देवशयनी एकादशी  :-

  • आषाढ़ शुक्ला 11 के दिन भगवान विष्णु चार माह के लिए सो जाते हैं। इस दिन से चार माह तक कोई भी मांगलिक कार्य सम्पन्न नहीं किये जाते हैं।

58. गुरु पूर्णिमा (आषाढ़ पूर्णिमा) :-

  • इस दिन गुरु-पूजन होता है व यथा शक्ति गुरूजी को भेंट की जाती है। इसे व्यास पूर्णिमा भी कहते है।

59. सावन के सोमवार :-

  • यह व्रत श्रावण मास के सभी सोमवारों को करते है। 
  • इस दिन शिवजी की पूजा की जाती है। इन्हे वन सोमवार भी कहते है क्योकि घर से खाना तैयार कर वन में किसी सुरम्य स्थल पर जाकर भोजन किया जाता है।

60. मंगला गोरी पूजा :-

  • श्रावण मास के प्रत्येक मंगलवार को गोरी की पूजा व व्रत किया जाता है।

61. नाग पंचमी ( श्रावण कृष्ण 5) :-

  • यह नागों का त्यौहार है। इस दिन सर्प की पूजा की जाती है। कहीं-कहीं यह त्यौहार श्रावण शुक्ला पंचमी को भी मनाया जाता है।

62. निड़री नवमी (श्रावण कृष्णा-9) :-

  • सर्पों के आक्रमण से बचने के लिए श्रावण नवमी को नेवलों की पूजा की जाती है जिसे निड़री नवमी कहते है। 

63. कामिका एकादशी (श्रावण कृष्णा-11) :-

  • इस व्रत में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है।

64. हरियाली अमावस (श्रावण अमावस्या) :-

  • इस दिन खीर व मालपूए भोजन में बनाते हैं। ब्राह्मणों को भोजन कराते हैं। लोग अपने परिवारजनों के साथ उधान अथवा अन्य रमणीय स्थलों पर जाकर आनंद मनाते हैं।

65. जलझुलनी/देवझूलनी एकादशी :-

  • भाद्रपद शुक्ला-11 के दिन देव मूर्तियों को पालकियों और विमानों (बेवाण) में विराजमान कर जुलुस में गाजे बाजे के साथ जलाशय के पास ले जाकर स्नान करवाया जाता है। 

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!