RAS 2018 Exam Preparation | Forts of Rajasthan Part 1 | Rajasthan Art and Culture

RAS 2018 Exam Preparation | Forts of Rajasthan Part 1 | Rajasthan Art and Culture

RAS 2018 Exam Preparation | Forts of Rajasthan Part 1 | Rajasthan Art and Culture

RAS 2018 Exam Preparation | Forts of Rajasthan Part 1 | Rajasthan Art and Culture

RAS 2018 Exam Preparation | Forts of Rajasthan Part 1 | Rajasthan Art and Culture

  • The story of the construction of the fort is related to the story of human history.
  • In prehistoric times, humans lived in caves and trees and protected themselves from  wild animals and other people of the forest.
  • This was also the place to  protect them from wrath of nature.
  • This sense of security gave rise to the notion of fort building. The gradual rise of the post of king made it even more important.
  • Since that time, fortification has become an important indispensable requirement.
  • Consequently, the tradition of building fortresses started.
  • Rajasthan has been the land of bravery since ancient times.
  • There are many gorgeous and huge fortresses present in evry part of Rajasthan  with the saga of sacrifice of warriors.
  • Rajasthan is said to be the region of fortresses .
  • There is an ancient tradition of fortification in Rajasthan.
  • The main objective of fortification is to protect the territory from the invasion of enemies and to save residents from the vandalism of the invaders.
  • These forts of the past were of special importance during the time of war and struggle.
  • These forts are silent witnesses of many wars and incidents of sacrifice and  adventures.
  • These impregnable  fortresses have many courageous stories associated with them and are always inspiration for the public of Rajasthan .
  • Rajasthani poets have made these fortresses immortal with their poetry.
  • In Rajasthan, the reason behind the tradition of building such huge fortress was its  geographical location and political situation.
  • Fort was also a important requirement for the military power of the monarchical regime in the ancient and medieval period.
  • The existence of the state relied only on fortification.
  • Even the fall of the fort was the indication of the destruction of the state’s existence.
  • This is the reason that there essentialy used to be a fort at the capital of each state and it was protected from strong and  high rampant in which there was also residence of citizens .
  • The fortresses and fortresses of Rajasthan are excellent and unique in terms of architecture.
  • There are more or less the following characteristics in all the forts of Rajasthan: –
  • The strong ramparts, giant walls, deep canals or crossings around the fort, the Sihalakhana (arsenal) inside the fort, the reservoir or water (Tanka), food reserves, the secret entrance of the fort, the tunnel and the houses of the soldiers.
  • The first classification of fortifications is available in Manusmriti.
  • Kautilya and Manu have described Giri fort as the best.
  • Various types of theories of fortification  are described in the Shukraneeti and Narapati Jayacharya texts.
  • Forts of Rajasthan can be classified mainly as follows: –
    • Giri Fort
    • Jal fort
    • Mahi fort
    • Forest fort
    • Dhandav fort
    • Parikh fort etc.
  • दुर्ग निर्माण की कहानी मानव के इतिहास की कहानी से जुडी है।
  • प्रागैतिहासिक काल में मानव गुफाओं और वृक्षों पर रह कर हिंसक वन्य पशुओं और जंगल के अन्य लोगों से अपना बचाव करता था।
  • प्रकृति के प्रकोप से रक्षित रहने के भी साधन ये स्थान ही थे।
  • सुरक्षा की इस भावना ने ही दुर्ग-निर्माण की धारणा को जन्म दिया। धीरे-धीरे विकासमान व्यवस्था में राजा के पद का प्रतिष्ठापन हुआ
  • उस समय से दुर्ग-निर्माण एक महत्त्वपूर्ण अपरिहार्य आवश्यकता बन गया।
  • फलस्वरूप दुर्गों  के निर्माण की परम्परा चल पड़ी है।
  • राजस्थान प्राचीन समय से ही वीरता और शौर्य   की भूमि रही है।
  • यहाँ  के प्रायः प्रत्येक  अंचल में वीर रणबांकुरों   बलिदान की गाथा समेटे हुए भव्य और विशाल दुर्ग विद्यमान हैं।
  • राजस्थान को गढ़ों एवं दुर्गों का प्रदेश कहा जाता है।
  • राजस्थांन में दुर्ग निर्माण की प्राचीन परंपरा रही है।
  • दुर्ग निर्माण का प्रमुख उद्देश्य शत्रुओं के आक्रमण से अपने प्रदेश की रक्षा एवं निवासियों को आक्रमणकारियों की बर्बरता से बचाना होता है।
  • स्वर्णिम अतीत के प्रहरी इन किलों  का सतत युद्ध और संघर्ष के काल में विशेष महत्त्व था।
  • ये दुर्ग अनेक युद्धों और त्याग व बलिदान की घटनाओं के मूक साक्षी हैं और उनकी रोमांचक दास्तान संजोये हुए हैं।
  • राजस्थान के जनमानस के लिए ये अभेद्य दुर्ग एवं इनसे जुड़े शौर्यपूर्ण कहानियां सदा से ही प्रेरणास्त्रोत हैं।
  • राजस्थानी कवियों ने इन दुर्गों को अपनी काव्य से अमर कर दिया है।
  • राजस्थान में इतनी प्रचुर संख्या में गढ़ और दुर्ग निर्माण  की परंपरा के पीछे यहाँ की भौगौलिक स्थिति तथा तत्कालीन राजनीतिक परिस्थितियां रही।
  • प्रचीन एवं मध्ययुग में राजतंत्रात्मक शासन-व्यवस्था  के होते सैन्य शक्ति के साथ दुर्ग भी एक स्मारक आवश्यकता थी।
  • राज्य का अस्तित्व तब दुर्ग-रक्षा पर ही निर्भर करता था।
  • यहाँ तक की दुर्ग का पतन राज्य के अस्तित्व के नाश का ही पर्याय होता था।
  • यही कारण है की प्रत्येक राज्य की राजधानी अनिवार्यतः दुर्ग में हुआ करती थी या फिर सुदृढ़ एवं ऊँची प्राचीर से सुरक्षित होती थी जिसमे राजकीय परिग्रह सहित नागरिकों के आवास भी बने होते थे।
  • राजस्थान के दुर्ग व किले स्थापत्य की दृष्टि से उत्कृष्ट और अनूठे हैं।
  • राजस्थान के सभी दुर्गों में कमोबेश निम्न विशेषताएँ देखने को मिलती हैं : –
  • सुदृढ़ प्राचीर, विशाल परकोटा, अभेद्य बुर्जे,  किले के चारों तरफ गहरी नहर या पारिखा, किले के भीतर सिहालखाना (शास्त्रागार), जलाशय अथवा पानी के टाँके, अन्न भण्डार, किले का गुप्त प्रवेश द्वार, सुरंग, राजप्रासाद तथा सैनिकों के आवास गृह।
  • मनुस्मृति में सर्वप्रथम दुर्गों का वर्गीकरण उपलब्ध होता है।
  • कोटिल्य व मनु ने गिरी दुर्ग को सर्वश्रेस्ठ  बताया है।
  • शुक्रनीति  व नरपति जायचार्य ग्रंथों में दुर्ग निर्माण के सिद्धांत व दुर्ग के विभिन्न प्रकार बताये गए हैं।
  • राजस्थान के दुर्गों को प्रमुखतः निम्न प्रकार वर्गीकृत किया जा सकता है : –
    • गिरी दुर्ग
    • जल दुर्ग
    • मही दुर्ग या स्थल दुर्ग
    • वन दुर्ग
    • धांदव दुर्ग
    • पारिख दुर्ग आदि।

RAS 2018 Exam Preparation | Forts of Rajasthan Part 1 PDF –

Forts-of-Rajasthan-Part-1-1

Giri Fort

  • The fort which is situated on a high hill or mountain, and has four mountain ranges.

The chief Giri forts of Rajasthan are : –

Fortress of Chittor –

  • The pride of Rajasthan, the best of forts and palace of valor and strength  is the sacred place of sacrifice; Chittorgarh fort is situated on a huge mountain peak of Aravali ranges near the confluence of the Gandhari and Bedch rivers.
  • It was built by Maurya Raja (Chitrangad).
  • Maharana Kumbha extended and expanded it.
  • This fort is also called Chitrakoot fort.
  • Guhil ruler Bapa Raval won this fort in 734 AD from Maurya ruler Maan Maurya.
  • The enemy tried many times to attack this fort, the rulers and the brave soldiers of this fort protected the fort by giving up their lives .
  • Many brave soldiers, while protecting the fort,  sacrificed their lives by wearing saffron turbans and the queens present in the fort, brave ladies jumped into the burning pyre to protect their virtues and laid up  their lives.
  • This brave work in the fort is called ‘saka’.
  • In Chittorgarh Fort happened three historic  Sakas.
  • 1) In the year 1303, there was a war between Allauddin Khilji and Chittor Rana Ratan Singh.
  • In this war Rani Padmini did Jauhar and Rana Ratan Singh and hundreds of brave soldiers   Veer Gora and Badal sacrificed their lives.
  • Khilji handed the fort to his son Khijrakhan and named it Khajrabad. After some time, he handed it over to Maldivev Sonarga.
  • 2) In 1534, the War of Sultan Bahadur Shah with Maharana Vikramaditya of Gujarat, in which brave Raval Baghsingh of devaliya( pratapgarh) sacrificed his life fighting near Paddanpol Gate.
  • A chabotra is constructed in his memories.
  • Hadi Rani Karmavati and other heroes performed jauhar.
  • Queen Karmavati sent rakhi to Humayun before this war and asked for help.
  • 3) The war between Mughal Emperor Akbar and Rana Uday Singh in 1567, in which Jaimal patta and Kalla Rathod sacrificed their lives.
  • There are chhatris of Rathor Kalla and Thakur Jaimal Between Bhairavpol and Hanumanpole.
  • At Rampol there is a platform of the Raval Patta.
  • The fortress of Chittoor famous for the events of valor and sacrifice is also a unique fort  in terms of architecture.
  • Strong ramparts, seven impenetrable entrances, advanced and huge turret, crooked rug to reach the fort and long curved path etc. have made it an invincible fortress.
  • Maharana Kumbha renovated this fort and named it vichitrakoot fort.
  • At the same time, Kumbha built a chariot doorway and seven gateways.
  • Its main and first entrance door is Padan pole.
  • Along with it is the monument of Rawat Bagh Singh of Pratapgarh who, in 1534 AD, battled gallantly in the second saka of the fort , in fight with Bahadur Shah’s army, he laid up his life.
  • After this, there are Bhairavpol, Hanuman Pol, Ganesh Pol, Jodalpole and Lakshmanpol respectively.
  • Seventh and the last door is Rampole.
  • Near it there was memorial of Patta Sisodia, who 1567 AD,  fought with attackers and sacrificed his life.
  • Here are worth visiting  places like Vijay Stambh, Kumbhshyam Temple, Mira Bai Mandir, Jain Kirti Stambh, Gora-Badal Mahal, Navlakkha Burj, Bhimtal Kund, Chitrang Mori Pond etc.
  • Made in the shape of whale fish, this fort is the largest living fort in Rajasthan.
  • The construction of Vijay Stambh situated in Chittorgarh fort was done by Rana Kumbha for the celebration of victory over Sultan Mahmud Khaliji of Madu.
  • The main attraction of the fort is the palace of Rani Padmini and in the south of It is the palace of Gora-Badal. The cemetary of chittor royal family-mahasati  is situated here .
  • The seven-storey Jain Kirti stambh is situated near the eastern ramparts of the fort.
  • The main sources of water  supply in the fort are: Ratneshwar Talab, Kumbh Sagar, Gomukh Waterfall, Hathibaav fort, Bhimtal Talab,  Chitrang Mori Pond etc.
  • Fateh Prakash Mahal, located inside the fort, has been converted into a museum.
  • Between the second door of Chittorgarh Fort (Bhairavpole) and the third door (Hanumanpole) is the chhatri of Jaimal Medtiya and Kalla Rathod who responded with great power to Akbar’s army in the third saka of Chittoor of 1567 AD.
  • Both of these sacrificed their lives in this war.
  • Akbar got enthralled with the gallantry of Jaimal and patta Sisodia and made their statues of marble  on two elephants outside the entrance of Agra Fort.
  • The Vijay stambh situated in Chittorgarh fort is about 120 feet high.
  • It construction started in 1440 AD and ended in 1448 AD.
  • In this stambh are engraved artistic statues of legendary Hindu deities.
  • For this reason, this column is called the ‘unique treasure of mythical Hindu sculpture’ or ‘encyclopedia of Indian sculpture’.
  • Basically this is a Vishnu Stambh.
  • In 2013, it was included in the list of ‘UNESCO World Heritage’ sites.
  • Other constructions in the fort include Banveer’s wall, Kumbha mahal, Kalika Mata Mandir, Kukadeshwar Mahadev Temple, Adivarha temple, artillery, Bamashah’s mansion etc.
  • Colonel James Tod has compared the ‘Tarzan of Rome’ to the Vijay Stambh.
  • The architect of the Vijay Stambh were Jaita, and his son Napa, Poma and Punja etc. .
  • The author of the Jain Kirti stambh was the poet Atri and Mahesh.
RAS 2018 Exam Preparation

Chittorgarh Fort

गिरी दुर्ग

  • वह दुर्ग  जो किसी उच्च गिरी या पर्वत पर अवस्थित हो तथा जिसके चारों और पर्वत श्रेणियां हों।

राजस्थान के प्रमुख गिरी दुर्ग निम्न हैं :-

चित्तोड़  का किला –

  • राजस्थान का गौरव, गढ़ों का सिरमौर वीरता एवं शौर्य की स्थली है त्याग व बलिदान का पावन तीर्थ चित्तौड़गढ़ दुर्ग ग़ंभीरी और बेडच नदियों के संगम स्थल के समीप अरावली पर्वतमाला के एक विशाल पर्वत शिखर पर  बना हुआ है।
  • इसे मौर्या राजा (चित्रांगद)  ने बनवाया था।
  • महाराणा  कुम्भा ने इसका विस्तार एवं परिवर्धन किया था।
  • इस दुर्ग को चित्रकूट दुर्ग भी कहते हैं।
  • गुहिलवंशिये बापा रावल ने मौर्य शासक मान  मौर्य से 734 ई. में यह दुर्ग जीता।
  • इस दुर्ग पर विजय हेतु शत्रुओं  ने कई बार आक्रमण किये जिनका इस दुर्ग के शासकों व रणबाँकुरों ने अपनी जी-जान लगाकर रक्षा की।
  • कई बार दुर्ग की रक्षा करते हुए वीर सैनिकों ने केसरिया बाना पहनकर अपने प्राणों की बलि दी तथा दुर्ग  में उपस्थित रानियों, वीर क्षत्राणियों ने अपने सतीत्व की रक्षा के लिए जलती चिता कूदकर अपने प्राण न्योछावर किये।
  • दुर्ग में ये वीरतापूर्ण कार्य ‘साके’ कहलाते हैं।
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग  में तीन इतिहास प्रसिद्ध साके हुए हैं।
  • 1) सन 1303 में अल्लाउद्दीन खिलजी व  चित्तोड़ के राणा रतनसिंह के मध्य युद्ध।
  • इस युद्ध में रानी पद्मिनी ने जौहर किया तथा राणा रतनसिंह व सैंकड़ों रणबांकुरों के साथ वीर गोरा व बादल वीरगति को प्राप्त हुए।
  • खिलजी ने दुर्ग अपने पुत्र खिज्रखाँ को सौंपकर उसका नाम खिज्राबाद रख दिया। कुछ समय  बाद उसने इसे मालदेव सोनगरा को सौंप दिया।
  • 2) सन 1534 में गुजरात के सुल्तान बहादुरशाह तथा अल्पवय महाराणा विक्रमादित्य के मध्य युद्ध, जिसमे देवलिया  प्रतापगढ़ के वीर रावल बाघसिंह पाडनपोल दरवाजे के बाहर लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए।
  • यहाँ इनकी स्मृति में चबूतरा बना हुआ है।
  • हाड़ी रानी कर्मवती और अन्य वीरांगनाओं ने जौहर किया।
  • इसी युद्ध के पूर्व रानी कर्मवती ने हुमायूँ को राखी भेजकर सहायता की माँग की थी।
  • 3)सन 1567 में मुग़ल बादशाह अकबर व राणा उदयसिंह के मध्य युद्ध, जिसमे वीर जयमल पत्ता व कल्ला राठोड वीरगति को प्राप्त हुए।
  • भैरवपोल  व हनुमानपोल के बीच वीरवार राठोड कल्ला और ठाकुर जयमल की छतरियां  हैं।
  • रामपोल के भीतर रावल पत्ता का चबूतरा है।
  • वीरता और बलिदान की घटनाओं के लिए प्रसिद्ध चित्तोड़ दुर्ग स्थापत्य की दृष्टि से भी अपने ढंग का निराला दुर्ग है।
  • सुदृढ़ और घुमानदार प्राचीर, सात अभेद्य प्रवेश द्वार, उन्नत और विशाल बुर्ज, किले  पर पहुंचने का टेढ़ा मेढ़ा और लम्बा सर्पीला मार्ग आदि विशेषताओं ने इसे एक अभेद दुर्ग  बनाया है।
  • महाराणा कुम्भा ने इस दुर्ग का जीर्णोद्धार करवाकर इसे विचित्रकूट  दुर्ग बना दिया था।
  • साथ ही कुम्भा ने यहाँ रथमार्ग व सात प्रवेशद्वार बनवाये थे।
  • इसका मुख्य व पहला प्रवेश द्वार पाड़न पोल है।
  • इसके साथ ही प्रतापगढ़ के रावत बाघसिंह का स्मारक है जिन्होंने 1534 ई.  में दूसरे साके में बहादुरशाह की सेना से वीरतापूर्वक जूझते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिये।
  • इसके बाद क्रमशः भैरवपोल, हनुमान पोल, गणेश पोल, जोडलपोल एवं लक्ष्मणपोल  हैं।
  • सातवां व अंतिम दरवाजा रामपोल है।
  • इसके पास ही पत्ता सिसोदिया का स्मारक है जिसने 1567 ई.  के तीसरे साके में आक्रांता से जूझते हुए अपने प्राण न्योछावर किये।
  • यहाँ विजय स्तम्भ, कुम्भश्याम मंदिर, मीरा बाई मंदिर, जैन कीर्ति स्तम्भ, गोरा- बादल  महल, नवलक्खा बुर्ज, भीमलत कुंड, चित्रांग मोरी तालाब आदि दर्शनीय स्थल हैं।
  • व्हेल मछली के आकार में बना यह दुर्ग राजस्थान का सबसे बड़ा लिविंग फोर्ट है।
  • चितोड़गढ़ दुर्ग में स्थित विजय स्तम्भ का निर्माण राणा कुम्भा ने माडु के सुलतान महमूद खिलजी पर विजय के उपलक्ष्य में कराया था।
  • दुर्ग का प्रमुख आकर्षण रानी पद्मिनी के महल हैं तथा इनकी के दक्षिण में गोरा-बादल के महल हैं। चित्तोड़ राजपरिवार का शमसान स्थल महासती यहाँ स्थित है।
  • किले  की पूर्वी प्राचीर के निकट सात मंजिला जैन कीर्ति स्तम्भ है।
  • दुर्ग में जलापूर्ति के मुख्य स्त्रोत हैं -रत्नेश्वर तालाब, कुम्भ सागर, गोमुख झरना, हाथीकुंड, भीमतल तालाब, झालीबाव तालाभ, चित्रांग मोरी तालाब आदि।
  • दुर्ग के अंदर स्थित फतह प्रकाश महल को संग्रहालय बना दिया गया है।
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग के दुसरे दरवाजे(भैरवपोल) एवं तीसरे दरवाजे (हनुमानपोल)  के बीच 1567 ई. के चित्तोड़ के तीसरे साके में अकबर की सेना को अपने पराक्रम से जवाब देने वाले जयमल मेड़तिया एवं कल्ला राठोड की छतरियां हैं।
  • ये दोनों इस युद्ध में वीरगति को प्राप्त हुए थे।
  • अकबर ने जयमल ऍम पत्ता सिसोदिया की वीरता से मुग्ध होकर इन दोनों की हाथी पर सवार संगमरमर की प्रतिमाएँ  आगरा के किले में प्रवेश द्वार के बाहर लगवाई।
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग में स्थित विजय स्तम्भ लहभग 120 फ़ीट ऊंचाई का है।
  • इसका निर्माण 1440ई. में प्रारम्भ हुआ तथा 1448 ई. में बनकर तैयार हुआ।
  • इसमें पौराणिक हिन्दू देवी-देवताओं की अत्यंत सजीव व कलात्मक प्रतिमाएं उकेरी गयी हैं।
  • इसी कारण इस स्तम्भ को ‘पौराणिक हिन्दू मूर्तिकला का अनुपम खजाना’ या ‘भारतीय मूर्तिकला का विश्वकोश’  कहा जाता है।
  • मूलतः यह एक विष्णु स्तम्भ है।
  • वर्ष 2013 में इस दुर्ग  को ‘यूनेस्को की विश्व विरासत’ स्थलों की सूची में शामिल किया गया।
  • दुर्ग  में अन्य निर्माण में  बनवीर की दीवार, कुम्भा महल, कालिका  माता मंदिर, कुकड़ेश्वर महादेव मंदिर, आदिवराह का मंदिर, तोपखाना, भामाशाह की हवेली आदि हैं।
  • विजय स्तम्भ को कर्नल जेम्स टॉड ने ‘रोम के टार्जन’ की उपमा दी है।
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग में स्थित विजय स्तम्भ के वास्तुकार जैता तथा उसके पुत्र नापा, पोमा व पूंजा आदि थे।
  • जैन कीर्ति स्तम्भ के लेखक कवी अत्रि एवं महेश थे।

 

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!