RAS 2018 | Art and Culture – Tribes of Rajasthan | Rajasthan GK

RAS 2018 | Art and Culture – Tribes of Rajasthan | Rajasthan GK

RAS 2018 | Art and Culture – Tribes of Rajasthan | Rajasthan GK

RAS 2018 | Art and Culture – Tribes of Rajasthan | Rajasthan GK

RAS 2018 | Art and Culture – Tribes of Rajasthan | Rajasthan GK

 

Meena Tribe:

  • They constitute major bulk of tribal population of Rajasthan.
  • Nearly 50% of Meenas are concentrated in Jaipur, Dausa, Sawai Madhopur, Rajsamand and Udaipur.

Origin of Meena Tribe

  • From traditional point of view, the origin of this tribe is related to fish.
  • Chandra Raj Bhandari, in his book titled Bhagwaan Mahaveer, has noted that there was a kingdom known as Mastasya kuru, situated in the southern part of Rajasthan on the western banks of Yamuna.
  • The rulers of this kingdom where known as Meenas.
  • Present day Meenas are said to be their descendants.
  • Also from regional point of view, a large number of meenas are settled in this region only.

Categories of meena tribe

  • Two main categories are  –
    • Zamidar Meena and
    • Chowkidar Meena
  • Meenas in southern part of state are considered to be of low origin whereas in the northeastern part, they are considered upper class.
  • The two meena classes maintain a lot of distance and no marital relations are found between them.

Social life of Meena Tribe

  • Marital ties, blood relations and kinship relations have utmost importance in the social life of Meena tribe.
  • They can also adopt children or people of any age
  • In adoption, preference  is given to primary or close kins.
  • In ancient days, they used to capture the women folk of the defeated enemies and marry them as a reward for winning the battle.
  • These days,  they marry according to hindu traditions.
  • Divorce is common among meenas and mode of divorce is also simple.
  • Both man and woman have rights to divorce each  other under certain circumstances.
  • The divorced women also have right to go for a second marriage.
  • The family of Meena tribe is joint in nature, similar to hindu joint family.
  • Both male and female work together equally.
  • Meena women are generally brave and hard working.
  • They cooperate with menfolk in agriculture, handicraft, cottage industry and even warfare.
  • Meenas are followers of hindu religion.
  • They generally worship power and Godess Durga, and lord Shiva.

Economy of the Meena tribe

  • Chaukidar Meenas work as watchmen for livelihood.
  • They consider themselves of higher status than other section of Meena.
  • They are accomplished in committing theft, dacoity and other criminal activities. Some of them adopted it as a chief means of their livelihood.
  • However, now, this habit is changing and they are adhering themselves to law abiding life.
  • As a result of reservation, lot of meenas are getting educated and placed at high posts in government.

मीणा जनजाति:

  • वे राजस्थान की जनजातीय आबादी में  सबसे अधिक हैं।
  • लगभग 50% मीणा आबादी जयपुर, दौसा, सवाई माधोपुर, राजसमंद और उदयपुर में केंद्रित हैं।

मीणा जनजाति की उत्पत्ति

  • पारंपरिक दृष्टिकोण से, इस जनजाति का मूल मछली से संबंधित है
  • चंद्र राज भंडारी ने अपनी किताब में भगवान महावीर नामित किया है, ने कहा है कि यमुना के पश्चिमी तट पर राजस्थान के दक्षिणी हिस्से में स्थित मस्तस्य कुरु नामक एक राज्य है।
  • इस राज्य के शासकों  को मीणा के नाम से जाना जाता था।  
  • वर्तमान  के मीणाओं   को उनका वंश कहा जाता है।  
  • क्षेत्रीय दृष्टि से भी, बड़ी संख्या में मीणा इस क्षेत्र में बसे हुए  हैं।

जनजाति की श्रेणियाँ

  • दो मुख्य श्रेणियां हैं –
    • ज़मीदार मीणा और
    • चौकीदार मीणा
  • राज्य के दक्षिणी भाग में  मीणाओं को निम्न मूल का माना जाता है, जबकि पूर्वोत्तर भाग में, उन्हें उच्च वर्ग का  माना जाता है।
  • ये दो मीणा जातियां आपस में काफी  दूरी बनाए रखती हैं और इन दोनों के बीच वैवाहिक संबंध  भी नहीं मिलते हैं।

मीणा जनजाति का सामाजिक जीवन

  • मीणा  जनजाति के सामाजिक जीवन में वैवाहिक संबंध, रक्त संबंध और रिश्तों के  सम्बन्धों को अत्यंत महत्त्व दिया जाता है।
  • वे किसी भी उम्र के बच्चों को  अपना सकते हैं।
  • गोद लेने में, प्राथमिकता  या तो करीबी रिश्तेदारों को या नजदीकी लोगों को दी जाती है।
  • प्राचीन दिनों में, वे पराजित शत्रुओं की महिला  को पकड़ लेते थे और लड़ाई जीतने के एक पुरस्कार के रूप में उनसे शादी करते थे।
  • इन दिनों, वे हिंदू परंपराओं के अनुसार शादी करते हैं।  
  • मीणाओं  में तलाक आम है और तलाक की प्रक्रिया भी सरल है।
  • कुछ परिस्थितियों में पुरुष और स्त्री दोनों को एक-दूसरे को तलाक देने का अधिकार है
  • तलाकशुदा महिलाओं को भी दूसरी शादी के लिए जाने का अधिकार है।
  • मीना जनजाति का परिवार प्रकृति में संयुक्त है, हिंदू संयुक्त परिवार के समान है।
  • पुरुष और महिला दोनों समान रूप से मिलकर काम करते हैं
  • मीणा महिलाएं आम तौर पर बहादुर और कड़ी मेहनत करने वाली होती हैं।
  • वे कृषि, हस्तकला, कुटीर उद्योग और यहां तक कि युद्ध में  भी पुरुषों के साथ सहयोग करती हैं।
  • मीणा  हिंदू धर्म के अनुयायी हैं।
  • वे आम तौर पर शक्ति ,  देवी दुर्गा की पूजा करते हैं, और भगवान शिव की भी  पूजा करते हैं।

मीणा जनजाति की अर्थव्यवस्था

  • चौकीदार मीना आजीविका के लिए चौकीदार के रूप में काम करते हैं।  
  • वे स्वयं को  को अन्य मीणाओं के मुकाबले उच्च स्तर का मानते हैं।  
  •  वे चोरी, डकैती और अन्य आपराधिक गतिविधियों में पारंगत होते हैं। उनमें से कुछ ने तो इसे अपनी आजीविका के प्रमुख साधन के रूप में अपनाया हुआ है ।
  • हालांकि, अब यह आदत बदल रही है और वे कानून को पालन करने वाले जीवन की तरफ बढ़ रहे  हैं।
  • आरक्षण की नीति के परिणामस्वरूप, बहुत से मीणा शिक्षित हो रही हैं और सरकार में उच्च पदों पर पहुँच रहे  है।

RAS 2018 | Art and Culture – Tribes of Rajasthan | Rajasthan GK PDF Download

Tribes-of-rajasthan-Part-2

Bhil Tribe:

  • It is second major tribe of Rajasthan.
  • The people of thuis tribe are mainly  settled in Bhilwara, banswara, Dungarpur, Udaipur, Sirohi, Chittorgarh, etc.
  • They are stable agriculturists and a patriarchial tribe.
  • They are traditionally good archers.

Origin

  • There are many opinions regarding their origin.
  • Anthropologists consider them to be descendants of Mundas as mundari words are frequently used in their language.
  • Prof. Guha connects them to the Proto-Australoid race.
  • According to Col. Tod, Bhils were residents of Aravali range in Mewar state. They helped Maharana Pratap in his fight against Akbar.
  • Sanskrit literature relates Bhils to ‘Nishad’ or ‘Pulind’ caste.
  • Etymologically, the word ‘Bhil’ denotes Bowman or Archer.
  • It is a word from dravidian language, which means arrow.
  • The Bhils are short statured people with deep blackish complexion , broad nose, rough hairs, red eyes and elevated jaws.
  • The womenfolk are relatively good looking and beautiful than their male counterparts.
  • The complexion of women folk is wheatish in colour and their body is well built and attractive.
  • Bhils generally wear cheap and very little clothes, due to their poverty.
  • The menfolk generally cover their body with a towel like piece of cloth known as Falu, wrapped around waist.
  • They cover upper body with sleevless jacket and a turban as their headgear.
  • At home, they wear the undergarment – langot.
  • Womenfolk wear Falu, also known as kachwo.
  • Now they have also started donning blouses to cover the upper part of their body.
  • The womenfolk are interested in wearing ornaments like silver chain or necklace (Hasli) , Nath – in nose, earrings, bangles in arms, Bor- on their forehead.
  • They generally dwell in small villages of 20 to 200 hutments.
  • Their houses are known as ‘Koo’.
  • Their houses are rectangular in shape. The walls are made up of bamboo or stone .
  • They desert their own settlements and search for new whenever some epidemic breaks out and cattle start dying in small number.
  • While selecting a new residence, they give prime importance to the availability of a water source nearby.

Food

  • The staple food of Bhils is Maize and rice.
  • They also eat non-vegetarian food because of scarcity of agricultural products.
  • They are habitual drinkers of intoxicants such as Mahava – local wine prepared from seeds of  Mahuwa plant.
  • They are heavy drinkers and spend half of their day to day earning on intoxicants.

Social Organization

  • They live in joint families and the patriarch is the chief of the family.
  • All the powers are vested in the family chief/ father.
  • Women contribute a great deal in household activities and agriculture.
  • A Bhil village, typically comprises of people from the same lineage.
  • The village chief is called ‘Tadvi’ and ‘Bansao’.
  • Bhil husbands do not divorce their wives but the wives can do so.
  • The bhils are brave and fearless people.
  • They are known for their faithfulness to their masters.
  • The small village of Bhil is known as ‘Fala’, while big one is known as ‘Paal’.
  • Panchayat is a very powerful organization of the Bhil society.
  • Bhils have strong feeling of collective responsibility. So whenever an outsider hurts a Bhil, they consider it as a attack on the whole village and avenge it collectively.

Religion

  • They follow hindu religion and worship Mahadev, Ram, Durga, Hanuman, Ganesh etc.
  • They also burn their dead bodies like hindus and observe various death rites and rituals as hindus.

भील जनजाति:

  • यह राजस्थान की दूसरी प्रमुख जनजाति है।  
  • इस जनजाति के लोग मुख्य रूप से भीलवाड़ा, बंसवाड़ा, डुंगरपुर, उदयपुर, सिरोही, चित्तौड़गढ़ आदि में बेस हुए  हैं।
  • वे स्थिर किसान हैं और यह एक पुश्तैनी जनजाति हैं।  
  • वे पारंपरिक रूप से अच्छे धनुर्धर होते हैं।  

मूल

  • उनके मूल के बारे में कई राय है।  
  • मानवविज्ञानी मानते हैं कि वे मुंद वंश के  हैं क्योंकि उनकी भाषा में बार-बार मुंदरी शब्दों का  इस्तेमाल किया जाता है।
  • प्रो. गुहा उन्हें प्रोटो-ऑस्टेलोयड नस्ल से जोड़ते हैं।
  • कर्नल टॉड के अनुसार, भील मेवाड़ राज्य में अरवली रेंज के निवासियों थे। अकबर के खिलाफ उनकी लड़ाई में उन्होंने महाराणा प्रताप की मदद की।
  • संस्कृत साहित्य भिलओं को ‘निशाद’ या ‘पुलिंद’ जाति से संबोधित करते हैं।
  • शाब्दिक रूप से  ‘भील’ शब्द  धनुर्धर या तीरंदाज़  को दर्शाता है।
  • यह द्रविडीयन भाषा  का एक शब्द है, जिसका अर्थ है तीर।  
  • भिल छोटे आकार वाले लोग होते हैं, जो काले रंग के होते हैं , इनकी नाक व्यापक,  बाल रूखे, लाल आँखें और ऊंचा जबड़े होते हैं।
  • महिलाएं अपने पुरुष समकक्षों की तुलना में अपेक्षाकृत अच्छी लगती हैं और सुंदर होती  हैं।
  • महिलाओं  का रंग गेहूंआ होता  है और उनका शरीर अच्छी तरह से निर्मित और आकर्षक होता है।
  • भील आमतौर पर अपनी  गरीबी के कारण सस्ते और बहुत कम कपड़े पहनते हैं।
  • पुरुष आम तौर पर अपने शरीर को एक तौलिया के साथ ढकते  हैं जिसे फलु के रूप में जाना जाता है, इसे कमर के चारों ओर लपेटा जाता है।
  • वे ऊपरी शरीर को निर्बाध जैकेट और एक पगड़ी   से अपने सिर को ढकते हैं।
  • घर में, वे  नीचे लंगोट पहनते हैं।
  • महिलावर्ग फालु  पहनते हैं, जिन्हें कछवो भी कहा जाता है।  
  • अब उन्होंने ब्लाउज का उपयोग अपने शरीर के ऊपरी भाग को ढकने  के लिए शुरू कर दिया है।
  • महिलाओं को चांदी की चेन या हार (हस्ली), नाथ – नाक, कान की बाली, हाथों में चूड़ी, बोर-  उनके गले में पहनने में रुचि होती है।
  • वे आम तौर पर 20 से 200 झोपड़ियों के छोटे गांवों में रहते हैं।
  • उनके घर को ‘कु’ के नाम से जाना जाता है।  
  • उनके घर आकार में आयताकार होते हैं। दीवारें बांस या पत्थर से बनी होती हैं।  
  • जब कोई  महामारी फ़ैल  जाती है और मवेशी अधिक  संख्या में मरने लगती हैं तो  वे अपनी बस्तियों को छोड़ देते हैं और नई बस्ती की खोज करते हैं।  
  • एक नए निवास का चयन करते समय, वे पास में  जल स्रोत की उपलब्धता को काफी महत्व देते हैं।

भोजन

  • भीलों का मुख्य भोजन मक्का और चावल है।  
  • कृषि उत्पादों की कमी के कारण वे गैर-शाकाहारी भोजन भी खाते हैं।
  • वे  महवा  जैसे मादक  पदार्थों का  इस्तेमाल करते  हैं – ये महुवा  पौधे के बीज से स्थानीय  शराब तैयार  होती है
  • वे बहुत अधिक पीते हैं और अपने आधे दिन की कमाई नशे में ही लगा देते हैं ।

सामाजिक संस्था

  • वे संयुक्त परिवारों में रहते हैं और पुरुष/पिता ही   परिवार का प्रमुख है।
  • सभी  शक्तियां   परिवार के प्रमुख  / पिता में निहित हैं।  
  • महिला  घरेलू गतिविधियों  और कृषि में काफी योगदान  देती हैं।
  • एक भील गांव में , आम तौर पर एक ही वंश के लोग होते हैं।
  • गांव के प्रमुख को ‘तदवी’ और ‘बांसाओ’ कहा जाता है।
  • भील पति अपनी पत्नी को तलाक नहीं देते , लेकिन पत्नियां ऐसा कर सकती हैं।
  • भील बहादुर और निडर व्यक्ति होते हैं।
  • वे अपने स्वामी के प्रति अपनी वफ़ादारी/सच्चाई के लिए जाने जाते हैं|
  • भिलों के छोटे से गांव को ‘फला’ कहा  जाता है, जबकि बड़े गाँव को ‘पाल’ के नाम से जाना जाता है|
  • पंचायत भील समाज का एक बहुत शक्तिशाली संगठन होता है।  
  • भीलों में  सामूहिक जिम्मेदारी की मजबूत भावना होती है। इसलिए जब भी कोई बाहरी व्यक्ति किसी भील को कष्ट देता है, तो वे इसे पूरे गांव पर हमले के रूप में मानते हैं और इसका सामूहिक रूप से बदला लेते हैं।

धर्म

  • वे हिन्दू धर्म का पालन करते हैं और महादेव, राम, दुर्गा, हनुमान, गणेश आदि  की पूजा करते हैं
  • वे  मरे हुए शवों को हिन्दुओं की तरह  जला देते हैं और उनके विभिन्न मौत के संस्कार और अनुष्ठान हिंदूओं जैसे ही होते  हैं। 

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!