Rajasthani Literature RAS GK 2018 | Study Material | Exam Preparation

Rajasthani Literature RAS GK 2018 | Study Material | Exam Preparation

Rajasthani Literature RAS GK 2018 | Study Material | Exam Preparation

Rajasthani Literature RAS GK 2018 | Study Material | Exam Preparation

Rajasthani Literature RAS GK 2018 | Study Material | Exam Preparation

Rajasthani literature –

  • Rajasthan has an important place in the country’s history and cultural splendor.
  • The residents of Rajasthan have contributed a lot  to the rise of Indian culture, art and literature for centuries.
  • The artists here have done the work of preserving the cultural heritage of the country through their artistic compositions.
  • The literature in Rajasthani  language holds a special place in the entire Indian literature.
  • The ancient literature of Rajasthan is an indicator of the dignity, maturity and vibrantness of this language and its vastness.
  • Even though many texts were destroyed, a huge repository of handwritten literature and folk literature is still available today. 

Due to the stylistic and thematic differences of the creators of this prolific Rajasthani literature, the following can be divided  into five parts. –

  • Jain literature
  • Chaaran literature
  • Brahmin literature
  • Saint literature
  • folk literature

Jain literature –

  • Jain literature also known as Jain Sahitya composed by  Jain Acharya, Munis, Yates and Shravakas and their Lectures influenced by Jainism.
  • This literature is stored in abundance in lumbs of different  ancient temples. This literature is a religious literature which is available in both prose and verse. 

Charan literature –

  • The literature produced by the singers of various castes of Rajasthan like Charan, Bhat  and others is called Charan Sahitya.
  • Charan literature is mainly composed in verse. There are a lot of heroic rituals in it.

Brahmin literature –

  • Brahmin literature is available in relatively small quantities in Rajasthani literature. Kanharde Prabandh, Hammirayan, Bisaldev Raso, Ranmal Chhand etc. are the texts belonging to  this category.

Saint literature –

  • During the Bhakti movement in the medieval period, in the calm and mild climate of Rajasthan, there have been born many saints and sages on this land.
  • These saints have composed the prolific literature for the welfare of God and for the welfare of people, in the public language .

social literature

  • There is immense fame of the literature of Rajasthani literature in the folk style prevailing in the general public. This literature is present in the form of folk tales, folk tunes, myths, proverbs, riddles and folk songs etc.

Features of Rajasthani literature –

  • Rajasthani literature has been composed in specific linguistic styles of prose-verse such as khyaat, vaat, veli, vachnika, dawavait  etc.
  • In Rajasthan literature, wonderful coordination of heroic literature  is found.
  • Here the poets have been rich with the pen as well as with sword.
  • So they have  done wonderful co-ordination of these two contradictory  literary writings.
  • Nurturing life ideals and life values ​​In Rajasthani literature, adequate importance has been given to life values ​​and ideals such as divine love, self-respect, self-determination, protection of the protection, protection of women, protecting the virtues of women, duties towards the motherland etc. 

Age of Rajasthan literature and major works

  • Veeragatha period or Adikal (8th century to early 15th century)
  • Middle Ages from the late half of the fifteenth century till the first half of the 19th century)
  • Modern period (from the late 19th century to the present)

Ancient period or Veergatha period

  • The early period of Rajasthani literature (Adikal) is called as veergathakaal by Various writers such as  Acharya Ramchandra Shukla.
  • According to him, the literature composed in this period is Veer Ras(bravery) dominant. Some of the compositions of this period are heroic and some contain love poetry too. 
  • In the earliest compositions of early times, there is a ‘Quvalayamala’ composed by a Jain Muni Udhotan Suri, in which the Rajasthani language is  introdued as ‘Marubhasha’.
  • The brief description of important literature and literary works of this period is as follows:
  • Neminath Baramasah: This book is written by Jain poet Palhana. It describes the 22th Tirthankar Neminath of Jainism. ‘Neminath barahamasa’  is the first barahmasa of the Gurjar language.
  • Prithviraj Raso: It describes the life, character and wars of Prithviraj Chauhan-III, the last Chauhan emperor of Ajmer. This poem is epic of Veer Ras  by Chandrabardai written in Pingal. Chandrabardai was a friend and court poet of Prithviraj Chauhan. 
  • Bisaldev Raso – This book, written by Naranp
  • ]ati Nalh, describes the love story of the Chauhan ruler of Ajmer, Bisaldev (Vigrahraj IV) and his queen Rajmati.
  • Ranmal Chand – This is a heroic verse containing 70 verses. This contains the description of the battle of  Subedar Muazzfar Shah of Patan with Rathore Raja Ranmal of Eder.
  • It was composed by Sridhar Vyas. Durga Saptashati is his another composition. He was contemporary of Vyas Raja Rampal.
  • Prithviraj Vijay – The sequence of Jainak in Sanskrit poetic language  describes the lineage of Prithviraj Chauhan and his achievements. It contains authentic information about Ajmer’s development and its surroundings. 

Vijaypal Raso –

  • In this heroic rhetoric of Nall Singh, in Pingal language, the description of victories in war founght by  Yaduvanshi King Vijaypal of Vijaygarh (Karauli) is found.
  • Nallsingh, the Yaduvanshi king of Vijaygarh was a dependent  poet of Vijaypal.

Dhola maru ra dua: –

  • It is Rajasthan’s best-known poetry written by poet Kallol. The text of the Dingle language, of shringaar ras , is a description  of Dhola and Marwani.

Hammir Mahakavya

  • In this volume of Sanskrit language, Jain Muni Nainchandra Sury has described the Chauhan rulers of Ranthambore.

Brahasfut Siddhant –

  •  It was composed by Brahmagupta. He was born in Bhinmal (Jalore) to  Jishnu. He was an intelligent scholar of astronomy and numerology.

Sisupala Vadh –

  • This epic was composed by Mahakavi Maagh. He was born in Bhinmal (Jalore). 

राजस्थानी साहित्य –

  • राजस्थान का देश के इतिहास एवं सांस्कृतिक वैभव में महत्त्वपूर्ण स्थान है।  
  • राजस्थान के संघर्षशील व्यक्तित्व के धनी  निवासियों ने शताब्दियों से भारतीय संस्कृति, कला एवं साहित्य के उत्थान में योगदान दिया है
  • यहाँ के साहित्यकारों ने अपनी कलात्मक रचनाओं  के माध्यम से देश कि सांस्कृतिक विरासत को बचाये रखने का कार्य किया है।
  • राजस्थानी भाषा के साहित्य की सम्पूर्ण भारतीय साहित्य में अपनी एक अलग पहचान है।  
  • राजस्थान का प्राचीन साहित्य अपनी विशालता म अगाधता  में इस भाषा की गरिमा, प्रौढ़ता एवं जीवंतता का सूचक है।  अनेकानेक ग्रंथों के नष्ट हो जाने के बावजूद आज भी हस्तलिखित साहित्य एवं लोक साहित्य का विशाल भंडार आज भी उपलब्ध है।

इस विपुल राजस्थानी साहित्य के निर्माणकर्ताओं की शैलीगत एवं विषयगत भिन्नताओं के कारण निम्न पांच भागों में विभक्त किया जा सकता है –

  • जैन साहित्य
  • चारण साहित्य
  • ब्राह्मण साहित्य
  • संत साहित्य
  • लोक साहित्य

जैन साहित्य –

  • जैन धर्मावलम्बियों यथा – जैन आचार्यों, मुनियों, यतियों एवं श्रावकों तथा जैन धर्म से प्रभावित साहित्यकारों द्वारा वृहद् मात्रा में रचा गया साहित्य जैन साहित्य कहलाता है।  
  • यह साहित्य भिन्न प्राचीन मंदिरों के ग्रंथगारों में विपुल मात्रा में संग्रहित है।  यह साहित्य धार्मिक साहित्य है जो गद्य एवं पद्य दोनों में उपलब्ध होता है।

चारण साहित्य

  • राजस्थान की चारण, भाट, दाढ़ी आदि गायक जातियों द्वारा रचित कृतियों को सम्मिलित रूप से चारण साहित्य कहते हैं।  
  • चारण साहित्य मुख्यतः पद्य में  रचा गया है। इसमें वीर रसात्मक कृतियों का बाहुल्य है।  

ब्राह्मण साहित्य

  • राजस्थानी साहित्य में ब्राह्मण साहित्य अपेक्षाकृत कम मात्रा में  उपलब्ध होता है। कान्हड़दे प्रबंध, हम्मीरयाण, बीसलदेव रासो, रणमल छंद आदि इस श्रेणी के ग्रन्थ हैं।  

संत साहित्य

  • मध्यकाल में भक्ति आंदोलन  की धारा में राजस्थान की शांत एवं सौम्य जलवायु में इस भूभाग पर अनेक संत-महात्माओं का आविर्भाव  हुआ।
  • इन संतों ने ईश्वर भक्ति में एवं जन-सामान्य के कल्याणार्थ विपुल साहित्य की रचना यहाँ की लोक भाषा में की है।  

लोक साहित्य

  • राजस्थानी साहित्य में सामान्यजन द्वारा प्रचलित लोक शैली में रचे गए साहित्य की भी अपार ख्याति है।  यह साहित्य लोक गाथाओं, लोकनाट्यों, प्रेमाख्यानों, कहावतों, पहेलियों एवं लोक गीतों के रूप में विधमान है। 

राजस्थानी साहित्य की विशेषताएं –

  • राजस्थानी साहित्य गद्य-पद्य की विशिष्ट लोकपरक शैलियों यथा – ख्यात, वात, वेळी, वचनिका, दवावैत आदि रूपों में रचा गया है।
  • राजस्थानी साहित्य में वीर रस एवं श्रृंगार रस का अद्भुत समन्वय देखने को मिलता है।  
  • यहाँ के कवि कलम एवं तलवार के धनी रहे।
  • अतः इन्होने इन दोनों विरोधाभासी रसों का अद्भुत समन्वय अपने साहित्य लेखन में किया है।
  • जीवन आदर्शों एवं जीवन मूल्यों का पोषण राजस्थानी साहित्य में मातृभूमि के प्रति दिव्य प्रेम, स्वामिभक्ति , स्वाभिमान, स्वधर्मनिष्ठा, शरणागत की रक्षा, नारी के शील की रक्षा आदि जीवन मूल्यों एवं आदर्शों को पर्याप्त महत्त्व दिया गया है। 

राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन एवं प्रमुख कृतियाँ

  • वीरगाथा काल या आदिकाल (8 वीं शती  से 15 वीं शताब्दी के पूर्वार्ध तक )
  • मध्यकाल पंद्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्ध  से 19 वीं शताब्दी के पूर्वार्ध तक )
  • आधुनिक काल (19 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध से वर्त्तमान तक )

प्रारम्भिक काल या वीर गाथा काल

  • राजस्थानी साहित्य के प्रारंभिक काल (आदिकाल ) को आचार्य रामचंद्र शुक्ल आदि विभिन्न साहित्यकारों ने वीरगाथाकाल कहा है।
  • उनके अनुसार इस काल में रचा गया साहित्य वीर रस प्रधान है। इस काल की कुछ रचनाएँ वीर रसात्मक है तो कुछ प्रेम काव्य भी है।
  • आदिकाल  की प्रारम्भिक रचनाओं में एक जैन मुनि उधोतन सूरी द्वारा रचित ‘कुवलयमाला’ है जिसमे राजस्थानी का परिचय ‘मरुभाषा’ के रूप में मिलता है। यद्यपि कुवलय माला राजस्थानी भाषा की रचना नहीं है।
  • इस काल  प्राप्त महत्त्वपूर्ण साहित्य व साहित्यकारों का संक्षिप्त वर्णन निम्न प्रकार है –
  • नेमिनाथ बारहमासा : यह ग्रन्थ जैन कवि पाल्हण   रचित है। इसमें जैन धर्म के 22 वे तीर्थंकर नेमिनाथ का वर्णन है। ‘नेमिनाथ बारहमासा’ मारु गुर्जर भाषा का पहला बारहमासा  है।
  • पृथ्वीराज रासौ : इसमें अजमेर के अंतिम चौहान सम्राट पृथ्वीराज चौहान तृतीये के जीवन चरित्र एवं युद्धों का वर्णन है। यह कवी चंद्रबरदाई द्वारा पिंगल में रचित वीर रस का महाकाव्य है। चंद्रबरदाई पृथ्वीराज चौहान का दरबारी कवी  व मित्र था।
  • बीसलदेव रासौ – नरपति नाल्ह द्वारा रचित इस ग्रन्थ  में अजमेर के चौहान शासक बीसलदेव (विगृहराज चतुर्थ) एवं उनकी रानी राजमती की प्रेमगाथा का वर्णन है।
  • रणमल छंद – यह 70 छंद का एक वीर काव्य है। इसमें पाटन के सूबेदार मुजफ्फर शाह एवं ईडर के राठोड राजा रणमल के युद्ध का वर्णन है।
  • यह श्रीधर व्यास द्वारा रचा गया। दुर्गा सप्तशती इनकी अन्य रचना है। श्रीधर व्यास राजा रणमल के समकालीन थे।
  • पृथ्वीराज विजय – जयानक के संस्कृत  भाषा के इस काव्य ग्रन्थ पृथ्वीराज चौहान के वंशाक्रम एवं उनकी उपलब्धियों का वर्णन किया गया है।  इसमें अजमेर के विकास एवं परिवेश की प्रामाणिक जानकारी है।

विजयपाल रासो –

  • नल्ल सिंह के पिंगल भाषा के इस वीर-रसात्मक  ग्रन्थ में विजयगढ़ (करौली) के यदुवंशी राजा विजयपाल  की दिग्विजय एवं युद्ध का वर्णन है।
  • नल्लसिंह  विजयगढ़ के यदुवंशी नरेश विजयपाल के आश्रित कवी थे।

ढोला मारु रा दूहा : –  

  • कवि कल्लोल द्वारा रचित यह राजस्थान का श्रेष्ठ प्रणय काव्य है। डिंगल भाषा के श्रृंगार स से परिपूर्ण इस ग्रन्थ में ढोला और मारवणी के प्रेमाख्यान  का वर्णन है।

हम्मीर महाकाव्य

  • संस्कृत भाषा के इस ग्रन्थ में जैन मुनि नयनचन्द्र सूरि  ने रणथम्बोर के चौहान शासकों का वर्णन किया है।

ब्रह्मस्फुट सिद्धांत –

  • इसकी रचना ब्रह्मगुप्त ने की थी। इनका जन्म भीनमाल (जालोर) में पिता ‘जिष्णु’ के यहाँ हुआ।  ये खगोलशास्त्र व अंकशास्त्र के प्रखर विद्वान थे।

शिशुपाल वध –

  • इस महाकाव्य की रचना महाकवि माघ ने की थी। इनका जन्म भीनमाल (जालोर)  में हुआ।

 

Medieval literature and Authors

Padmanabh:

  • This was the dependent poet of Chauhan Akhairaj of  Jalore.
  • He composed ‘Kanharde Prabandh’. This composition written in  literary style is a strong poetic work.
  • It describes the Jalore war between the rulers of Jalore, Kanharde Chauhan and Allauddin Khilji.

Vithu Suza –

  • Vithu Suza was contemporary of Bikaner ruler Rao Bika and Rao Lunkaran. He composed the ‘Rao Jaitasi Ro Chhad’. This text of the Dingal language describes the war between Babar’s son Kamran and Bikaner ruler Rao Jaatasi. 

Vithu Maha –

  • ‘Pabuji ra Chhand’, ‘Gogaji Rasawala’, ‘Karni ji ra Chhad’, ‘Chandji Rei Vel’, etc. are the main works.

Duda Visraal

  • His main composition is ‘Rathod Ratan Singh Rei Valley’, in which the ruler of jaitraan describes Ratan Singh’s war with the Mughals.

Keshavdas Gaadan

  • He was the poets of Jodhpur king Gaj Singh-I and worte in Dingle language. ‘Gajguuna Roopak Bandh’,  ‘Rao Amarsingh Raa Dua’, ‘Vivek Vaarta’, ‘Chand Gorakhnath’ etc. are his main works.

Girdhar Aasiya –

  • ‘Sagatrasau’ containing 943 verses written by hin is an important treatises, in which the heroic works of Maharana Pratap’s  brother Shaktisingh are mentioned.
  • Some books also mention the name of this book as Saatsatsingh Raso.

Abul Fazal –

  • He was one of the navratanas of emperor Akbar and the famous historian of that time. He belonged to Nagaur.
  • Nama Shaikh Mubarak was his father.
  • ‘Aayne Akbari’ is  his famous text.
  • Marwadi is also described in his text as one of the major languages of India .
  • His other book is ‘Akbarnama’. 

Ekling Mahatmay –

  • The text compiled by Kanha Vyas provides information about the genealogy of the Guhil rulers and the political and social organization of Mewar.

Padmavat:

  • This epic composed by Malik Mohammad Jaisi in 1543 AD describes the battle between Allauddin Khilji and Raval Ratan Singh, ruler of Mewar (AD 1301).
  • The reason for this war was the desire of Allauddin Khilji to achieve Ratan Singh’s  queen Padmini.

Hammir Hath, Surjan Charit:

  • Created by Chandra Shekhar, the dependent poet of Bundi ruler Rao Sajan. 

Jodhpur Maharaja Ajitsingh –

  • He was the son of Jodhpur Maharaja Jaswant Singh-I.
  • ‘Gajuddar’ Granth is the most important text  composed by him. This is based on the context of Bhagwat katha.
  • ‘Gunsaar’, ‘Bhavavirahi’ and ‘Durgabhasha Paath’ are his other works.

Poet Jodharaj –

  • He was the dependent poet of Maharaja Chandrabhan, the ruler of Neemrana.
  • He wrote the famous text ‘Hammir Raso’.
  • ‘Hammyar Raso’ is a Veer Ras poetry text which contains a detailed description of the genealogy of Rana Hammir Dev Chauhan and his war with Allauddin Khilji. 

Maharaja Sawai Pratapsingh-

  • Maharaja Sawai Pratap Singh, son of Jaipur Maharaja Sawai Madhav Singh,  was born in 1764 AD.
  • He used to write poetry in the name of ‘Brajnidhi’ His texts are published in the name  ‘Brajnidhi Granthavali’.

Maharaja Raja  BudhSingh:

  • Maharaja Raja Budasingh, son of Bundi King Rao Raja Anirudh Singh, composed the book ‘Nehtarang’. Its language is Braj.

Ajitoday –

  • Created by Jagjivan Bhatt It contains a detailed description of the historical events of Marwar, especially the Mughal relations of Maharaja Jaswant Singh and Ajit Singh. It is in Sanskrit language. 

Muhnot Nainsi: –

  • Born in Jodhpur city, Mohanot Nainsi  was the minister and minister of Maharaja Jaswant Singh-I of Jodhpour.
  • Angered by something, the Maharaja put both  Nainasi and his brother Sundarasi in prison.
  • Due to  tortures in captivity, both brothers committed suicide .
  • Along with being knowledge lover and History lover he was a man  of self-pride and brave nature.
  • Munshi Devi Prasad has called Nainsi as ‘Abul Fazal of Rajputana’. Nainsi wrote a famous book titled ‘Muhnot Nainsi Ri Khyat’. 
  • Apart from Marwar, there is a historical account of the various states of Rajasthan, as well as in the history of Gujarat, Kathiawar, Kutch, Bundelkhand, Baghelkhand and Central India.
  • Muhanot’s second famous granth is ‘Marwar Ra Paragana Ri Vigat’.
  • It is also called ‘Rajputana’s Gazetteer’.
  • Along with being a high ranked historian, Nainsi was also a well-known prose writer of dingle language.

Rajasthani Literature RAS GK 2018 PDF-

Rajasthani-literature-Part-1

मध्यकाल का साहित्य व साहित्यकार

पद्मनाभ :

  • ये जालौर के चौहान अखैराज के आश्रित कवी थे।
  • इन्होने ‘कान्हड़दे प्रबंध’ की रचना की।  साहित्यिक दृष्टि से प्रसाद शैली में लिखी यह रचना एक सशक्त काव्य  कृति है।
  • इसमें जालौर के शासक कान्हड़दे चौहान व अल्लाउदीन खिलजी के मध्य हुए जालौर युद्ध का वर्णन है।

विठू सूजा –

  • वीठू सूजा बीकानेर शासक राव बीका और राव लूणकरण के समकालीन थे।  इन्होने ‘राव जैतसी रो छंद’ की रचना की। डिंगल भाषा के इस ग्रन्थ में बाबर के पुत्र कामरान एवं बीकानेर शासक राव जैतसी के मध्य हुए युद्ध का वर्णन है।  

वीठू महा –

  • ‘पाबूजी रा छंद’, ‘गोगाजी रा रसावला’, ‘करणी जी रा छंद’, ‘चांदजी री वेल’ , आदि इनकी प्रमुख रचनाएँ हैं।  

दूदा विसराल –

  • इनकी प्रमुख रचना ‘राठोड रतनसिंह री वेली’ है, जिसमे जैतरण के शासक रतनसिंह का मुगलों के साथ हुए युद्ध का वर्णन है।

केशवदास  गाडण

  • ये जोधपुर महाराजा गजसिंह प्रथम के कृपापात्र व डिंगल  भाषा के कवी थे। ‘गजगुण रूपक बंध’ , ‘राव अमरसिंह रा दुहा’, ‘विवेक वार्ता’ , ‘छंद गोरखनाथ’ आदि इनकी प्रमुख रचनाएँ  हैं।

गिरधर आसिया –

  • इनके द्वारा लिखित ‘सगतरासौ’ 943 छंदों का महत्त्वपूर्ण प्रबंध-काव्य है, जिसमे महाराणा प्रताप के छोटे भाई शक्तिसिंह के वीरतापूर्ण कार्यों का उल्लेख है।
  • कुछ पुस्तकों में इस ग्रन्थ का नाम सगतसिंह रासौ भी मिलता है।

अबुल फजल –

  • ये बादशाह अकबर के नवरत्नों में से एक व उस समय के प्रसिद्ध इतिहासकार थे जो नागौर के थे।
  • इनके पिता का नम्म शेख मुबारक था।
  • ‘आईने अकबरी’ इनका प्रसिद्ध ग्रन्थ है।
  • इस ग्रन्थ में भारत की प्रमुख भाषाओँ में मारवाड़ी का नाम भी है।  

इनका अन्य ग्रन्थ ‘अकबरनामा’ है। 

एकलिंग महात्मय –

  • कान्हा  व्यास द्वारा रचित यह गुहिल शासकों की वंशावली एवं मेवाड़ के राजनैतिक व सामाजिक संगठन की जानकारी प्रदान करता है।

पद्मावत :

  • मलिक मोहम्मद जायसी द्वारा 1543 ई.  के लगभग रचित इस महाकाव्य में अल्लाउदीन खिलजी एवं मेवाड़ के शासक रावल रतनसिंह के मध्य हुए युद्ध (1301 ई.)  का वर्णन है।
  • इस युद्ध का कारण अल्लाउद्दीन खिलजी द्वारा रतनसिंह की रानी पद्मिनी को प्राप्त करने की इच्छा थी।

हम्मीर हठ, सुर्जन चरित :

  • बूंदी शासक राव सुर्जन के आश्रित कवि चंद्रशेखर द्वारा रचित। 

जोधपुर महाराजा अजीतसिंह –

  • जोधपुर के महाराजा जसवंतसिंह प्रथम के पुत्र थे।
  • ‘गाजुद्दार’ ग्रन्थ इनके द्वारा रचित ग्रंथों में सबसे महत्त्वपूर्ण ग्रन्थ है। यह भागवत कथा के प्रसंग  पर आधारित है।
  • ‘गुणसार’, ‘भावविरही’ व ‘दुर्गाभाषा पाठ’  इनकी अन्य कृतियाँ हैं।

कवि  जोधराज –

  • ये नीमराणा के अधिपति महाराजा चन्द्रभान के आश्रित कवि थे।
  • इन्होने प्रसिद्ध ग्रन्थ ‘हम्मीर रासौ’ लिखा था।
  • ‘हम्मीर रासौ’ एक वीर रस प्रधान काव्य ग्रन्थ है जिसमे रणथम्बोर शासक राणा हम्मीर देव चौहान की वंशावली व उनका अल्लाउद्दीन खिलजी से युद्ध का विस्तृत वर्णन है। 

महाराजा सवाई प्रतापसिंह-

  • जयपुर महाराजा सवाई माधवसिंह के पुत्र महाराजा सवाई प्रतापसिंह का जन्म सन 1764 ई.  में हुआ था।
  • ये ‘ब्रजनिधि’ के नाम से कविता लिखते थे। इनके ग्रंथ ‘ब्रजनिधि ग्रंथावली’ के नाम से प्रकाशित है।

महाराव राजा बुधसिंह :

  • बूँदी नरेश राव राजा अनिरुद्ध सिंह के पुत्र महाराव राजा बुधसिंह ने ‘नेहतरंग’ नामक रीतिग्रंथ की रचना की। इसकी भाषा ब्रजभाषा है।

अजीतोदय –

  • जगजीवन भट्ट द्वारा रचित। इसमें मारवाड़ की ऐतिहासिक घटनाओं, विशेषतः महाराजा जसवंतसिंह एवं अजीत सिंह के मुग़ल संबंधों का विस्तृत वर्णन है। यह संस्कृत भाषा में है। 

मुहणोत नैणसी : –

  • जोधपुर नगर में पिता जयमल के यहाँ जन्मे मुहणोत नैणसी जोधपुर महाराजा जसवंतसिंह प्रथम के कृपापात्र एवं मंत्री थे।
  • किसी बात से रुष्ट होकर महाराजा ने मुहणोत नैणसी और उनके भाई सुन्दरसी दोनों को ही कैद में डाल दिया।
  • बंदी जीवन में दी जाने वाली यातनाओं से उत्पन्न आत्मग्लानि  के कारण दोनों भाइयों ने कटार भौंककर आत्महत्या कर ली।
  • नैणसी आत्माभिमानी और वीर प्रकृति का होने के साथ विद्यानुरागी  और इतिहास प्रेमी भी थे
  • मुंशी देवीप्रसाद ने नैणसी को ‘राजपूताने का अबुल फजल’ कहकर पुकारा है। नैणसी  ने ‘मुंहता नैणसी री ख्यात’ नामक प्रसिद्ध ग्रन्थ लिखा। 
  • इसमें मारवाड़ के अतिरिक्त राजस्थान के विभिन्न राज्यों का ऐतिहासिक वृत्तांत तो मिलता ही है, साथ ही इसमें गुजरात, काठियावाड़, कच्छ, बुंदेलखंड, बघेलखण्ड और मध्यभारत के इतिहास पर भी प्रकाश डाला गया है।
  • मुहणोत नैणसी का दूसरा प्रसिद्ध ग्रन्थ ‘मारवाड़  रा परगनां री विगत’ है।
  • इसे ‘राजपूताने का गजेटियर’ भी कहा जाता है।
  • उच्च कोटि के इतिहासज्ञ होने  के साथ साथ नैणसी डिंगल भाषा के सिद्धहस्त गद्य लेखक भी थे। 

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!