Polity Notes Topic Parliamentary System | IAS UPSC Exam 2018

Polity Notes Topic Parliamentary System | IAS UPSC Exam 2018

Polity Notes Topic Parliamentary System | IAS UPSC Exam 2018

Polity Notes Topic Parliamentary System | IAS UPSC Exam 2018

Polity Notes Topic Parliamentary System | IAS UPSC Exam 2018

Parliamentary vs. Presidential System/संसदीय बनाम राष्ट्रपति शासन व्यवस्था –

  • The two popular forms of government are Parliamentary and Presidential which are classified on the basis of nature of relations between Executive and the legislative organs of the government./सरकार के दो लोकप्रिय रूप संसदीय और राष्ट्रपति हैं, जिन्हें सरकार के कार्यकारी और विधायी अंगों के बीच संबंधों के प्रकृति के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है।
  • In Parliamentary system of government, the executive is responsible to the legislature for its policies. In Presidential system of government, the executive is not responsible to the legislature for its policies and is constitutionally independent of the legislature in respect of its term of office./सरकार की संसदीय प्रणाली में, कार्यकारी अपनी नीतियों के लिए विधायिका के लिए जिम्मेदार है। राष्ट्रपति सरकार की व्यवस्था में, कार्यकारी अपनी नीतियों के लिए विधायिका के लिए ज़िम्मेदार नहीं है और अपने कार्यालय के कार्यकाल के संबंध में विधायिका से स्वतंत्र रूप से स्वतंत्र है।
  • Parliamentary form of government is prevalent in Britain, Japan, Canada, India etc. Presidential form of government is prevalent in USA, Brazil, Russia, Sri Lanka etc./सरकार के संसदीय स्वरूप ब्रिटेन, जापान, कनाडा, भारत आदि में प्रचलित है सरकार के राष्ट्रपति रूप संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील, रूस, श्रीलंका आदि में प्रचलित है
  • Parliamentary government is also known as cabinet government or responsible government or Westminster form of government. Presidential is also known as non-responsible or non-parliamentary or fixed executive system of government./संसदीय सरकार को कैबिनेट सरकार या जिम्मेदार सरकार या वेस्टमिंस्टर सरकार के रूप में भी जाना जाता है। राष्ट्रपति को गैर-जिम्मेदार या गैर-संसदीय या निश्चित कार्यकारी प्रणाली के रूप में भी जाना जाता है।
  • Art. 74 and 75 deal with the Parliamentary system at the centre and Art. 163 and 164 in the states./अनुच्छेद 74 और 75 केंद्र में संसदीय प्रणाली और अनुच्छेद 163 और 164 राज्यों से सम्बंधित है
  • Ivor Jennings called the parliamentary system as ‘cabinet system’ because cabinet is the nucleus (centre) of power in a parliamentary system./आईवर जेनिंग्स ने संसदीय प्रणाली को ‘कैबिनेट सिस्टम’ कहा क्योंकि शक्ति का केंद्र बिंदु कैबिनेट होता है ।
  • Parliamentary government is known as responsible government because the cabinet is accountable to the Parliament and enjoys office till it has support of Parliament./संसदीय सरकार को उत्तरदायी सरकार के रूप में जाना जाता है क्योंकि कैबिनेट संसद के प्रति जवाबदेह है और जब तक संसद का समर्थन नहीं होता तब तक वह कार्यालय का आनंद उठाते हैं।
  • Parliamentary government is also described as ‘Westminster model of government’ after the location of the British Parliament, where the Parliamentary system originated./ब्रिटिश संसद के स्थान के बाद संसदीय सरकार को ‘सरकार के वेस्टमिंस्टर मॉडल‘ के रूप में भी वर्णित किया गया है, जहां संसदीय प्रणाली की उत्पत्ति हुई।

Features of Parliamentary Government/संसदीय सरकार की विशेषताएं –

Nominal and Real Executives/नामिक और वास्तविक कार्यकारी

    • The President (head of the state) is the nominal executive while the Prime Minister (head of the government) is the real executive./राष्ट्रपति (राज्य का प्रमुख) नाममात्र कार्यकारी है, जबकि प्रधान मंत्री (सरकार का मुखिया) वास्तविक कार्यकारी है।

Majority Party Rule/बहुमत पार्टी नियम

    • The political party securing majority seats in the Lok Sabha forms the government and its leader is appointed as Prime Minister by the President./लोकसभा में बहुमत सीट हासिल करने वाले राजनीतिक दल सरकार बनाते हैं और राष्ट्रपति द्वारा उसके नेता को प्रधान मंत्री के रूप में नियुक्त किया जाता है।
    • A coalition government can be formed if no single party has majority./एक गठबंधन सरकार बन सकती है अगर कोई भी पार्टी के पास बहुमत न हो।

Collective Responsibility/सामूहिक उत्तरदायित्व-

    • The ministers are collectively responsible to the Parliament in general, and to the Lok Sabha in particular./मंत्रीयों सामान्य रूप से संसद के लिए सामूहिक रूप से जिम्मेदार हैं, और विशेष रूप से लोकसभा के लिए।
    • It means Lok Sabha can remove council of ministers by passing a vote of no-confidence./इसका अर्थ है कि लोकसभा में गैर-विश्वास का वोट देकर मंत्रियों की परिषद को हटा दिया जा सकता है।

Political Homogeneity/राजनीतिक एकरूपता

    • Members of the same political party share the same political ideology./वही राजनीतिक दल के सदस्य समान राजनीतिक विचारधारा से सम्बंधित होते  हैं।
    • In a coalition government, ministers are bound by consensus./गठबंधन सरकार में, मंत्री  सर्वसम्मति से बंधे होते हैं

Double Membership/दोहरी सदस्यता

    • The ministers are members of both the Legislature and the Executive./मंत्री  विधायिका और कार्यपालिका दोनों के सदस्य होते  हैं

Leadership of the Prime Minister/प्रधानमंत्री का नेतृत्व

    • The Prime Minister is the leader of council of ministers, leader of the Parliament and the leader of the party in power./प्रधानमंत्री मंत्रियों की परिषद, संसद के नेता और सत्ता में पार्टी के नेता के नेता होते हैं।

Dissolution of the Lower House/निचले सदन के विघटन

    • The Lok Sabha can be dissolved by the President on recommendation of the Prime Minister./प्रधानमंत्री की सिफारिश पर राष्ट्रपति द्वारा लोकसभा को भंग किया जा सकता है।
    • Thus, Executive enjoys the right to get the Legislature dissolved in a parliamentary system./इस प्रकार, कार्यकारी एक संसदीय प्रणाली में विघटन विधेयक प्राप्त करने का अधिकार प्राप्त करता है।

Secrecy/गोपनीयता –

  • The ministers take the oath of secrecy before entering the office which is administered by the President./मंत्रियों ने राष्ट्रपति द्वारा प्रशासित कार्यालय में प्रवेश करने से पहले गोपनीयता की शपथ ली।

Merits of the Parliamentary System/संसदीय व्यवस्था के गुण –

Harmony between Legislature and Executive/विधानमंडल और कार्यकारी के बीच सामंजस्य

    • The Executive is a part of the legislature and both are interdependent at work./ कार्यकारी विधायिका का एक हिस्सा है और दोनों काम पर एक दूसरे पर निर्भर हैं।

Responsible Government/उत्तरदायी सरकार –

    • The ministers are responsible to the Parliament for all their acts of omission and commission./मंत्री अपने भूल एवं कार्याधिकार कार्यों के लिए संसद के प्रति उत्तरदायी होते हैं |
    • The Parliament exercises control over the ministers through various devices like question hour, discussions etc./ संसद मंत्रियों पर विभिन्न तरीकों जैसे – प्रश्नकाल, चर्चा, स्थगन प्रस्ताव आदि के माध्यम से नियंत्रण रखती है |

Prevents Despotism/निरंकुशता का प्रतिषेध –

  • The executive authority is vested in a group of individuals (council of ministers) and not in a single person./ कारकरी एक समूह में निहित होती है ( मंत्रिपरिषद) न कि एक व्यक्ति में |

Ready Alternative Government/वैकल्पिक सरकार की व्यवस्था

  • If ruling party loses its majority, the President can invite the opposition party to form the government./यदि सतारूढ़ दल बहुमत खो देती है तो राष्ट्रपति विपक्षी दल को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर सकता है |

Wide Representation/व्यापक प्रतिनिधित्व

  • While selecting executive, representation can be provided to all sections and regions./कार्यपालिका का चयन करते समय सारे वर्गों और क्षेत्रों को प्रतिनिधित्व प्रदान किया जाता है |

Other Possible Merits/अन्य संभावित गुण

  • Opposition political party has scope to offer a constructive criticism of government policies./विपक्षी राजनीतिक दल के पास सरकारी नीतियों को रचनात्मक आलोचना करने की शक्ति है |
  • It is responsible to public opinion./यह लोक राय के प्रति जिम्मेदार होती है |
  • It is flexible and elastic. Whenever there is a crisis, smooth change of government is possible./यह लचीला और लोचदार है | जब भी कोई संकट होता है तो सरकार का निर्विघ्न परिवर्तन संभव है |

Demerits of the Parliamentary System/संसदीय व्यवस्था के दोष –

Unstable Government/अस्थिर सरकार

  • The ministers depend on the mercy of the majority legislators for their continuity and survival in office./मंत्री विधायिका के बहुमत की दया पर निर्भर करते हैं ताकि वे अपना पद की निरंतरता और कार्यकाल को पूरा कर सके|
  • A no-confidence motion or political defection or evils of multiparty coalition can make the government unstable./एक अविश्वास प्रस्ताव या राजनीतिक दल परिवर्तन या बुरी बहुदलीय गठन सरकार को अस्थिर कर सकते हैं |
  • Ex. Government headed by Morarji Desai, Charan Singh, V P Singh etc./उदाहरण के लिए मोरारजी देसाई, चरण सिंह, वी. पी. सिंह की नेतृत्व वाली सरकारें|

No Continuity of Policies/नीतियों की अनिरंतरता

  • A change in the ruling party is usually followed by changes in the policies of the government./सतारूढ़ दल में परिवर्तन का सामान्य अर्थ है कि सरकार की नीतियों का परिवर्तन |
  • Ex. Janata government headed by Morarji Desai in 1977 reversed a large number of policies of the previous Congress Government./उदाहरण के लिए मोरारजी देसाई की नेतृत्व वाली सरकार में 1977 में पिछली कोंग्रेस सरकार  की कई सारी नीतियों को पलट दिया |

Dictatorship of the Cabinet/मंत्रिमंडल की निरंकुशता

  • When the ruling party enjoys absolute majority of the Parliament, the cabinet becomes autocratic as seen during Indira Gandhi and Rajiv Gandhi government./ जब सत्तारूढ़ दल संसद में पूर्ण बहुमत का आनंद लेती हैं तो मंत्रिमंडल निरंकुश हो जाती है जैसे कि इंदिरा गाँधी और राजीव गाँधी की सरकार के दौरान देखा गया |

No Separation of Powers/शक्तियों का पृथक्करण नहीं –

  • The Legislature and the Executive are together and inseparable./विधायिका और कार्यपालिका एक हैं और अलग नहीं हो सकते हैं |
  • The cabinet acts as the leader of legislature as well as the executive. Bagehot pointed out, ‘the cabinet is a hyphen that joins the buckle that binds the executive and legislative departments together’. So, there is a fusion of powers./कैबिनेट विधायिका और कार्यपालिका दोनों का नेता होती है | बेगहॉट के अनुसार, ‘कैबिनेट विधायिका और कार्यपालिका को जोड़ने में हाईफन की भूमिका निभाती है जो दोनों को जोड़ने के लिए बाध्य है |’ इस प्रकार यह शक्तियों का मेल है |

Government by Amateurs/अकुशल व्यक्तियों द्वारा सरकार का सञ्चालन –

  • The ministers are not experts in their fields./मंत्री अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ नहीं होते हैं |
  • The ministers devote most of their time to parliamentary work, cabinet meetings and party activities./मंत्री अपने समय का अधिकतर हिस्सा संसदीय कार्य, कैबिनेट बैठक और दल के गतिविधियों में बिताते हैं |

Features of Presidential Government/राष्ट्रपति व्यवस्था की विशेषताएं –

The American Constitution provides for the Presidential form of government./अमेरिकी संविधान ने राष्ट्रपति व्यवस्था को बताया है |

  • The President is both the head of the State and the head of government. As head of State, he occupies a ceremonial position. As head of the government, he leads the executive organ of government./राष्ट्रपति राष्ट्र और सरकार दोनों का प्रमुख होता है | राष्ट्र का प्रमुख होने के नाते वह अनुष्ठानिक पद ग्रहण करता है | सरकार का प्रमुख होने के नाते वह सरकार के कार्यकारी अंग का नेतृत्व करता है |
  • The President is elected by an electoral college for a fixed tenure of 4 years. He cannot be removed by Congress except by impeachment for a grave constitutional act./राष्ट्रपति निर्वाचक मंडल द्वारा 4 वर्ष के एक निश्चित समय के लिए चुना जाता है | वह एक गंभीर संविधानिक अधिनियम के महाभियोग के अलावा कोंग्रेस के द्वारा नहीं हटाया जा सकता है |
  • The President governs with the help of ‘Kitchen Cabinet’./राष्ट्रपति ‘गुप्त सलाहकारों’ की मदद से शासन करता है |
  • The President and his secretaries are not responsible to the Congress for their acts. They neither possess membership in the Congress nor attend its sessions./राष्ट्रपति और उसके सचिव कोंग्रेस के प्रति अपने कार्यों के लिए जिम्मेदार नहीं होते हैं | वे न तो इसके सदस्य होते है न ही इसके सत्र में भाग लेते है |
  • The President cannot dissolve the House of Representatives-the lower house of Congress./राष्ट्रपति कॉंग्रेस के निचले सदन- प्रतिनिधित्वों का सदन को भंग नहीं कर सकता है |
  • The doctrine of separation of powers is the basis of the American Presidential System./शक्तियों के पृथक्करण का सिद्धांत अमेरिकी राष्ट्रपति व्यवस्था का आधार है |

Merits of Presidential Government/राष्ट्रपति व्यवस्था के गुण –

  • The independence of three organs of government from each other increases efficiency in administration./सरकार के तीनों अंग के बीच एक दूसरे से स्वतंत्रता प्रशासन में कुशलता बढाती है |
  • The Presidential government is stable./राष्ट्रपति व्यवस्था स्थायी है |
  • The President can choose people with specialized knowledge as Ministers/ Secretaries./राष्ट्रपति विशेष ज्ञान वाले लोगों को मंत्री या सचिवों के रूप में चुन सकते हैं |
  • The decisions are quick as ultimate power to make decisions rests with the President./चूँकि निर्णय लेने की अंतिम शक्ति राष्ट्रपति के पास होती है इसलिए निर्णय तीव्र होते हैं |
  • There is less influence of party system. The parties do not waste time trying to dislodge the government. Political defections do not affect the stability of the government./इसमें दलों का प्रभाव कम होता है | दल सरकार को विस्थापित करने में अपना समय बर्बाद नहीं करते हैं | और राजनीतिक दलबदल सरकार के स्थायित्व को नहीं प्रभावित नहीं करते है |

Demerits of Presidential Government/राष्ट्रपति व्यवस्था के दोष –

  • The President is not responsible to the Legislature. It can make him authoritarian./राष्ट्रपति विधायिका के प्रति जिम्मेदार नहीं होता है | यह उसे सत्तावादी बनाता है |
  • Since the President as well as Legislature both are directly elected by the people, both assert their authority. This causes deadlock between Legislature and the President./चूँकि राष्ट्रपति और विधायिका दोनों लोगों के द्वारा प्रत्यक्षतः निर्वाचित किये जाते हैं, दोनों उनपर हक़ जमाते है | इसके कारण राष्ट्रपति और विधायिका में गतिरोध उत्पन्न हो जाता है |
  • Presidential government lacks flexibility. Election schedules are rigidly observed./राष्ट्रपति व्यवस्था में लचीलापन की कमी होती है | चुनाव के कार्यक्रमों को कड़ी तरह पालन किया जाता है |
  • The President has wide powers of patronage at his disposal, giving way to the ‘Spoils system’. He may offer government posts to his friends, relatives etc./राष्ट्रपति के पास अपने कार्यकाल के अंत में सरंक्षण की व्यापक शक्तियां होती है, जिसे ‘लूट प्रणाली’ भी कहा जाता है | वह सरकारी पदों को अपने मित्र, अपने सम्बन्धियों को दे सकता है |

Reasons for Adopting Parliamentary System/संसदीय प्रणाली अपनाने के कारण –

Familiarity with the System/व्यवस्थता से निकटता –

  • The Constitution makers were familiar with the Parliamentary system as it had been in operation in India during the British rule./संविधान निर्माता संसदीय प्रणाली से काफी निकट थे क्योंकि यह प्रणाली ब्रिटिश शासन के दौरान भारत में लागू था |

Preference to more responsibility/उत्तरदायित्व को अधिक वरीयता-

  • India has chosen Parliamentary system which gives more responsibility rather than Presidential system which gives more stability./भारत ने संसदीय प्रणाली को चुना क्यूंकि यह उत्तरदायित्व को अधिक वरीयता देता है जबकि राष्ट्रपति व्यवस्था स्थायित्व को अधिक तरजीह देता है |

Need to avoid Legislative-Executive conflicts/विधायिका एवं कार्यपालिका के टकराव को रोकने की आवश्यकता

  • The framers of the Constitution wanted to avoid conflicts between these two organs of government as the new democracy could not afford to take these risks./संविधान निर्माता सरकार के इन दो अंगों के बीच टकराव को रोकना चाहते थे क्यूंकि नया लोकतंत्र ये जोखिम नहीं बर्दाश्त कर सकता था |

Nature of Indian Society/भारतीय समाज की प्रकृति-

  • The Parliamentary system offers greater scope for giving representation to various section, interests and regions in the government. This promotes unity among people./ संसदीय प्रणाली में वृहद् पैमाने पर सरकार में विभिन्न वर्गों, हितों और क्षेत्रों के लोगों की प्रतिनिधित्व का अवसर होता है | यह लोगों के बीच एकता लाता है |

Distinction between Indian and British Models/भारतीय और ब्रिटिश मॉडल के बीच अंतर –

The Parliamentary system of government in India is largely based on the British parliamentary system./भारत में सरकार की संसदीय व्यवस्था ब्रिटिश संसदीय व्यवस्था पर आधारित है |

It differs from British system in the following respects/यह निम्नलिखित आधारों पर ब्रिटिश प्रणाली से अलग है:

  • India has a republican system (Head of the State is elected)in place of British monarchical system (Head of the State enjoys a hereditary position)./भारत में लोकतान्त्रिक प्रणाली (राष्ट्र का प्रमुख निर्वाचित किया जाता है ) है जबकि ब्रिटिश राजतान्त्रिक प्रणाली ( राष्ट्र का प्रमुख वंशानुगत पद का आनंद उठाता है ) है |
  • The British system is based on the doctrine of sovereignty of Parliament while Indian Parliament enjoys limited and restricted powers due to written Constitution, federal system, judicial review and fundamental rights./ब्रिटिश प्रणाली संसद की संप्रभुता के सिद्धांत पर आधारित है | जबकि भारतीय संसद लिखित संविधान, संघीय व्यवस्था, न्यायिक समीक्षा और मूल अधिकारों के कारण सीमित और प्रतिबंधित शक्तियां का उपयोग करती है |
  • In Britain, the Prime Minister must be a member of the Lower House (House of Commons) of the Parliament. But in India, the Prime Minister may be a member of any of the two Houses of Parliament./ब्रिटेन में प्रधान मंत्री संसद के निचले सदन का सदस्य (हाउस ऑफ़ कॉमन्स ) होना चाहिए | लेकिन भारत में प्रधान मंत्री संसद के किसी भी सदन का सदस्य हो सकता हैं |
  • Usually the members of Parliament alone are appointed as ministers in Britain. In India, a person who is not a member of Parliament can also be appointed as a minister, but for a maximum period of 6 months./सामान्यतः ब्रिटेन में अकेले संसद के सदस्य मंत्री बनाए जाते हैं | भारत में जो व्यक्ति संसद का सदस्य नहीं है वह भी मंत्री बन सकता है पर अधिकतम 6 महीने के लिए |
  • Britain has the system of legal responsibility of the minister while India has no such system./ब्रिटेन में कानून जिम्मेदारी की प्रणाली है जबकि भारत में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं |
  • ‘Shadow cabinet’ is a unique feature of British cabinet system. It is formed by the opposition party to balance the ruling cabinet and to prepare its members for future ministerial office./‘छाया कैबिनेट’ ब्रिटेन के प्रणाली का एक विशेष गुण है | यह विपक्षी दल द्वारा सत्तारूढ़ कैबिनेट को संतुलन प्रदान करने के लिए और इसके भावी मंत्रालय को तैयार करने के लिए गठित किया जाता है |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)    IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC IAS(Prelims+Mains+Interview)

 

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!