PCS 2018 History Study Notes | Civil Services Examination

PCS 2018 History Study Notes | Civil Services Examination

PCS 2018 History Study Notes | Civil Services Examination

PCS 2018 History Study Notes | Civil Services Examination

PCS 2018 History Study Notes | Civil Services Examination

Paleolithic, Mesolithic, Neolithic, Chalcolithic Age-

The stone age-

The earth is 4000 million years old. Evolution of earth crust shows four stages, Fourth stage being Quaternary, which comprises of:

  • Pleistocene (20 Lakh – 10000 years)
  • Holocene   (10000 years– Present)
  • Man is said to have appeared on the earth in the early Pleistocene, when true Ox, true elephant and true horse also originated.
  • The early man seems to have moved around in Africa.
  • The fossils of early man have not been found in India.
  • It appears that India was settled later than Africa, although the lithic technology of the subcontinent broadly evolved in the same manner as it did in Africa.
  • The Old Stone Age or the Paleolithic culture of India developed in the Pleistocene period of the Ice Age.

Paleolithic Age (Old Stone Age):

  • Man in the Paleolithic age in India used tools of stone roughly dressed by crude shipping, which have been discovered throughout the country except the alluvial plains of Indus, Ganga, and Yamuna rivers.

Paleolithic age-

  • These tools were used for hunting, gathering as man has no knowledge of cultivation.
  • The Paleolithic age continued till 9,000 BC and is divided into three phases according to the nature of the stone tools used by the people and also according to the nature of change in the climate.
  • Early Paleolithic Age (5 Lakh – 50000 BC)
  • Middle Paleolithic Age(50000– 40000 BC)
  • Upper Paleolithic Age(40000 – 10000 BC)

Early Paleolithic age-

Early/ Lower Paleolithic Age

Time Period: 5 Lakh – 50000 BC

  • No knowledge of Cultivation
  • Lived in rock-shelters (Bhimbetka, MP)
  • Stone used: Quartzite
  • Occupation: Solely living on hunting, Crude chipping,  food gathering and fishing.
  • Famous Sites: Soan or Sohan Valley (Punjab), Belan Valley (Mirzapur District, UP),Didwana(Rajasthan) and Bhimbetka, MP.
  • Burial: No burial found
  • Pottery: No pottery found
  • Climate: In this period climate became less humid.

पाषाण काल-

  • पृथ्वी लगग 4000 मिलियन वर्ष पुरानी है।पृथ्वी की भूपर्पटी का विकास चार चरणों में हुआ है चौथा चरण चतुर्थ कल्प कहलाता है | इसे निम्नलिखित भागों में बांटा गया है –
  • अत्यंत नूतन युग (प्लायस्टोसीन :20 लाख – 10000 वर्ष )  
  • नूतनतम युग (होलोसीन : 10000 वर्ष- वर्तमान )
  • मनुष्य की उत्पत्ति अत्यंतनूतन युग से मानी जाती है,इस समय तीन बड़े स्तनधारी बैल,हाथी तथा घोड़े का उद्भव भी हुआ है |
  • सम्भवतः मनुष्य ने अफ्रीका की ओर प्रस्थान किया था |
  • आरम्भिक मनुष्य की उत्पत्ति के अवशेष भारत में नहीं पाए  जाते है |
  • ऐसा प्रतीत होता है कि भारत की स्थापना अफ्रीका के बाद हुई है,हालांकि उपमहाद्वीप की लिथिक तकनीक मोटे तौर पर उसी तरह विकसित हुई, जैसे अफ्रीका में हुई।
  • भारत की पुरा पाषाण युग संस्कृति का विकास हिमयुग की अत्यंत नूतन काल से हुई है |

पुरा पाषाण युग

  • पुरा पाषाण युग में भारत का मनुष्य पत्थर के औजारों का उपयोग करता था जो कच्चे माल द्वारा बने होते है,जो जलोढ़ मैदानी इलाकों,गंगा और यमुना नदी को छोड़कर देश के सभी भागों में खोजे गए थे |

पाषाण युग-

  • इन उपकरणों का इस्तेमाल शिकार के लिए , तथा भोजन एकत्र करने के लिए किया जाता क्योंकि इस समय तक मनुष्य को कृषि का ज्ञान नहीं था |
  • पाषाण युग 9000 ईसा पूर्व तक जारी रहा और इसे लोगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले पत्थर के औजार के अनुसार और जलवायु में परिवर्तन की प्रकृति के अनुसार तीन चरणों में बांटा गया-
  • प्रारंभिक पाषाण युग (5 लाख – 50000 ईसा पूर्व)
  • मध्य पाषाण युग (50000-40000 ईसा पूर्व)
  • उत्तर पाषाण युग (40000 – 10000 ईसा पूर्व)

प्रारंभिक पाषाण काल-

प्रारंभिक पाषाण काल

समयावधि : 5 लाख – 50000 ईसा पूर्व

  • इस काल में खेती का कोई ज्ञान नहीं था |
  • इस काल खंड के मनुष्य चट्टानों से बने आश्रयों में रहते थे (भीमबेटका शैलाश्रय ,मध्य प्रदेश )
  • इस समय उपयोग किया जाने वाला प्रमुख पत्थर क्वार्टजाइट था |
  • व्यवसाय: शिकार पर आश्रित , कच्ची लकड़ी की छिलाई,भोजन एकत्र करना और मछली पकड़ना।
  • प्रसिद्ध स्थल : सोन या सोहन घाटी (पंजाब), बेलान घाटी (मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश), डीडवाना (राजस्थान) और भीमबेटका शैलाश्रय ,मध्य प्रदेश
  • कब्रगाह : शवाधान नहीं पाए गए है |
  • मिट्टी के बर्तन: कोई मिट्टी का बर्तन नहीं पाया गया है |

जलवायु: इस अवधि में जलवायु अल्प आर्द्र थी।

Middle Paleolithic age-

Middle Paleolithic Age

  • Time Period: 50000 – 40000 BC
  • Stone used: Quartzite
  • Occupation: Hunting, food gathering and fishing
  • Famous sites: The artifacts of this age found at several places on the river Narmada and also at several places, south of the Tungabhadra River.
  • Tools used: The Middle Paleolithic industries are mainly based upon flakes. These flakes show many regional variations in different parts of India.

The principal tools are varieties of Blades, Points, and Scrapers of flakes.

Flake tools. They are lighter, more precise.

  • Blades: Parallel working edges.
  • Scraper: parallel working edges on the sides, similar to blade, with the difference being blades are much longer than they are wide. This is also a flake tool.
  • Points: sharpened up to a tip like a point. These are sometimes grafted onto a wooden handle, for which a shoulder is present.

Upper Paleolithic age-

Upper paleolithic age:

  • Time Period: 40000 – 10000 BC
  • Men of modern types ( Homo-sapiens)
  • Stone used: Chert, Jasper
  • Occupation: Hunting, food gathering and fishing.
  • Homo-sapiens come in.
  • Famous sites: Blades and bruins have been found in Andhra Pradesh, Karnataka, Maharashtra, Central Madhya Pradesh, Southern Uttar Pradesh, South Bihar.
  • Caves and Rock Shelters in upper Paleolithic phase have been discovered at Bhimbetka near Bhopal.
  • Climate: Climate became comparatively warm
  • Technology: Flints, Marked the appearance of new flint industries

Flint Tools

  • Burins: unlike a point, the tip is flat like the end of a Screwdriver.
  • Bone tools: Eg. Harpoon: used for fishing as fishing hooks. May be one sided or two sided.

मध्य पाषाण काल-

मध्य पाषाण काल

  • समयावधि : 50000 – 40000 ईसा पूर्व
  • यहाँ उपयोग किया जाने वाला पत्थर क्वार्टजाइट है |
  • व्यवसाय: शिकार, भोजन एकत्र करना और मछली पकड़ना |
  • प्रसिद्ध स्थल : इस युग की कलाकृतियां नर्मदा नदी और तुंगभद्रा नदी के दक्षिण में कई स्थानों पर पाई जाती है |
  • उपयोग किये जाने वाले औजार:मध्य पाषाण युग के मुख्य उद्योग पाषाण के सूक्ष्म खंडो पर आधारित थे |इन खंडो में क्षेत्र के अनुसार विभिन्नता पाई जाती थी |
  • प्रमुख उपकरण विभिन्न प्रकार के ब्लेड,नोकदार हथियार  और पत्थरों के अवशेष होते थे |

सूक्ष्म पत्थर खंड के औजार :ये हल्के एवं ठीक ढंग से बने होते है

  • ब्लेड:समांतर काम करने वाले किनारे |
  • कुदाली :दोनों तरफ काम करने वाले समांतर छोर,यह ब्लेड के समान ही होता है ,फर्क बस इतना है की ब्लेड लम्बे होते है जबकि कुदाली चौड़ी होती है जो पत्थर के सूक्ष्म खंड से बनती है |
  • नुकीले हथियार : बहुत ज्यादा नुकीले होते है,इनकी नोक बिंदु जैसी होती है| इन्हे लकड़ी के हैंडल में गाड़ दिया जाता है एवं पकड़ने के लिए स्कंध भी होता है |

उत्तर पाषाण  युग-

उत्तर पौराणिक युग:

  • समयावधि: 40000 – 10000 ईसा पूर्व
  • आधुनिक प्रकार के पुरुष (होमो-मनुष्य)
  • उपयोग किये जाने वाले पत्थर : बिल्लौर ,जैस्पर (सूर्यकांत मणि)
  • व्यवसाय: शिकार, भोजन एकत्र करना और मछली पकड़ना
  • होमो-मनुष्य पाए जाते है |
  • प्रसिद्ध स्थल: ब्लेड और तक्षणी आंध्र प्रदेश कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य मध्य प्रदेश, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, दक्षिण बिहार में पाए जाते थे |
  • ऊपरी पौराणिक चरण में गुफा तथा शैलाश्रय भोपाल के पास भीमबेटका में पाए जाते थे |
  • जलवायु: यहाँ जलवायु अपेक्षाकृत गर्म थी |
  • प्रौद्योगिकी:चकमक पत्थर,नए चकमक उद्योगों की उपस्थिति को चिह्नित किया

चकमक उपकरण

  • तक्षणी: एक नुकीले हथियार के विपरीत,तक्षणी की नोंक एक पेचकश के सिरे की तरह थोड़ी सी चपटी होती है |
  • अस्थि निर्मित उपकरण: उदाहरण के लिए हापून: जो मछली पकड़ने के हुक की तरह प्रयोग किया जाता था | यह एक तरफा अथवा दो तरफा हो सकता है |

Neolithic age-

Neolithic age

  • Time Period: 5000 – 1800 BC
  • Technology: Polished Tools.
  • Stone used: Dyke, Basalt, Dolomite.
  • Occupation: Hunting, food gathering and fishing came to an end.
  • Characterized by cultivation of plants and domestication of animals
  • The development of agriculture and cultivation of cereals transformed the nomadic hunters into sedentary farmers.
  • This led to the beginning of village settlements, manufacture of new types of tools and greater control over nature for exploitation of natural resources.
  • Neolithic tools such as ground stone, celts, adzes, chisels, axes, saws, and burins have been found across India.
  • Earliest evidence of Neolithic culture have been found at Mehrgarh on bank of river Bolan (Baluchistan) 7000 BC showing beginning of agriculture and domestication of animals.

Famous sites:

  • North:Kashmir (dwelling pits, range of ceramics, variety of stone and bone tools and absence of microlith).
  • South: South of Godavari
  • East: Assam, Garo Hills
  • Bhimbetka in Madhya Pradesh, Belan Valley in Uttar Pradesh and Narmada Valley have prehistoric art belonging to all the 3 phases.

Bhimbetka Rock Shelters

  • Bhimbetka rock shelters are located in Raisen District of Madhya Pradesh, 45 km south of Bhopal at the southern edge of the Vindhyachal hills.
  • These served as shelters for Paleolithic age man for more than 1 lakh years.
  • This is the most exclusive Paleolithic site in India which contains the rock carvings and paintings.

Chalcolithic age-

Holocene: Chalcolithic Age (1800 – 1000 BC)

  • Also known as Stone-copper age.
  • Marked by use of copper(1st metal used in India) as well as stone.
  • Culture was limited from Udaipur to Malwa and Maharashtra.

Economy

  • Economic base of these cultures was associated with agriculture and cattle rearing.
  • This was supplemented by wild game and fishery as well as attested by archaeological evidences.

Agriculture:

  • Barley was the main crop besides wheat, rice, gram, pea, bajra, jowar etc
  • Cultivation & cattle rearing along with established the knowledge of crop rotation ( Inamgaon)
  • Knowledge of Irrigation & Harvesting

Domestication of animals:

  • Excavations have shown that the people domesticated animals like goat, sheep, dog, horse  etc.
  • Wild animals like various types of deer, buffalo,  rhino.
  • Bones of fish, turtle etc. are found.

Pattern of Settlement

  • Excavations also reveal various structures like fortification, granaries, embankments as are seen at  Eran of Malwa Culture and at Inamgaon of Jorwe culture.
  • The distinctive house pattern in various sites is rectangular and circular.
  • The Malwa houses at Daimabad, Inamgaon, Navdatoli are large in size having partition wall made  up of mud chulhas are common.

Various object:

  • Copper objects comprise arrowheads, bangles, rings, beads and flat axes.
  • Daimabad yielded a large copper hoard comprising copper rhinoceros, elephant, two wheeled chariots, buffalo etc.

Pottery tradition

  • Pottery was Painted and was mostly black on red.

Religious Beliefs

  • Female figures of clay both baked and unbaked have been discovered.
  • A headless female figure from Nevasa and terracotta female figurines from Inamgaon too have been discovered.

नवपाषाण युग-

नवपाषाण युग

  • समय अवधि: 5000 – 1800 ईसा पूर्व
  • प्रौद्योगिकी: पॉलिश उपकरण
  • उपयोग किये जाने वाले पत्थर:डाइक,बेसाल्ट, डोलोमाइट |
  • व्यवसाय: शिकार, भोजन एकत्र करना और मछली पकड़ना समाप्त हो गया।
  • पौधों की खेती और पशुओं को पालतू बनाना
  • कृषि और अनाज की खेती के विकास ने खानाबदोश शिकारी को स्थिर किसानों में बदल दिया।
  • इससे गांव की बस्तियों की शुरुआत हुई ,नए प्रकार के उपकरणों का निर्माण हुआ और प्राकृतिक संसाधनों के शोषण के लिए प्रकृति पर अधिक नियंत्रण हुआ।
  • भूगर्भक पत्थर, सेल्ट,बसूला,छेनी,कुल्हाड़ि,आरी, और तक्षीण नवपाषाण उपकरण पूरे भारत में पाए गए |
  • नवपाषाण संस्कृति का सबसे पुराना सबूत 750 ईसा पूर्व के बोलन (बलूचिस्तान) नदी के किनारे मेहरगढ़ में पाए गए हैं जिसमें कृषि की शुरूआत और जानवरों को पालतू बनाना शामिल है |

प्रसिद्ध स्थल:

  • उत्तर में : कश्मीर (आवासीय गड्ढे, मिट्टी के विभिन्न पात्र,विभिन्न प्रकार के पत्थर तथा अस्थि उपकरण एवं सूक्ष्म पाषाण के उपकरण अनुपस्थित पाए गए
  • दक्षिण में : गोदावरी के दक्षिण में
  • पूर्व में : असम, गारो की पहाड़ियां
  • मध्य प्रदेश में भीमबेटका उत्तर प्रदेश में बेलान घाटी और नर्मदा घाटी में सभी 3 चरणों से प्रागैतिहासिक कला है।

भीमबेटका शैलाश्रय

  • भीमबेटका शैलाश्रय मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में भोपाल से 45 किमी दक्षिण में विंध्याचल पहाड़ियों के दक्षिणी छोर पर स्थित है।
  • इन आश्रयों ने पुरा पाषाण के मनुष्य के लिए  1 लाख से अधिक वर्षों के लिए निवास की भूमिका निभाई है |
  • यह भारत में सबसे विशिष्ट पुरा पाषाण स्थल शैल नक्काशियां और चित्रकारी शामिल है |

ताम्र पाषाण युग-

नूतनतम युग : ताम्र पाषाण युग ( 1800 – 1000 इसा पूर्व )

  • इसे ताम्र पाषाण काल भी कहा जाता है |
  • क्यूंकि इसकी पहचान ताम्बे और पत्थर के उपयोग से जानी जाती है |(भारत में उपयोग की जाने वाली प्रथम धातु)
  • यह संस्कृति उदयपुर से मालवा और महाराष्ट्र तक सीमित थी।

अर्थव्यवस्था

  • इन संस्कृतियों का आर्थिक आधार कृषि और पशु पालन के साथ जुड़ा था।
  • यह जंगली खेल और मत्स्य पालन का पूरक थी,तथा पुरातात्विक घटनाएं भी इसके साक्ष्य है |

कृषि:

  • गेहूं, चावल, ग्राम, मटर, बाजरा, ज्वार आदि के अलावा जौ मुख्य फसल थी
  • खेती तथा पशुपालन के साथ साथ फसल चक्रण का ज्ञान भी था (इनामगांव)
  • सिंचाई और फसल कटाई का भी ज्ञान था

पशुओं को पालतू बनाना

  • खुदाई से पता चला है कि लोगों के पास  बकरी, भेड़, कुत्ते, घोड़े आदि जैसे पालतू जानवर थे |
  • विभिन्न प्रकार के हिरण, भैंस, गेंडा जैसे जंगली जानवर भी थे |
  • मछली की हड्डियां ,कछुआ आदि पाए गए हैं।

बसने की क्रिया का स्वरूप

  • विभिन्न स्थानों पर घरों के विभिन्न स्वरूप पाए गए है,इनमे आयताकार तथा वृत्ताकार स्वरूप है |
  • खुदाई से एरन की मालवा संस्कृति तथा ज़ोरवे संस्कृति के इनामगांव में दुर्ग,अन्नागार,बाँध आदि देखे गए है |
  • दायमाबाद, इनामगांव, नवदत्तोली में माल्वा के घर बड़े आकार के होते थे , जिनकी दीवार एवं चूल्हे मिटटी के बने होते थे |

विभिन्न वस्तुएं

  • ताम्बे की वस्तुओं में तीर,चूड़ियाँ,अंगूठी,मनके तथा सपाट कुल्हाड़ियाँ थी |
  • दायमाबाद में ताम्बे के विशाल ढेर पाए गए है जिनमे ताम्बे के गेंडे, हाथी, दो पहियों वाले रथ, भैंस आदि पाए गए है |

मिट्टी के बर्तनों की परंपरा

  • मिट्टी के बर्तनों पर चित्रकारी की गई थी इनमे लाल रंग पर काला रंग प्रमुख था |

धार्मिक विश्वास

  • एक महिला की मिटटी की प्रतिमा का चित्र पाया गया, जो पकाया हुआ अथवा बिना पकाया हुआ दोनों तरह का था
  • नेवासा से बिना सर वाली महिला का चित्र तथा  टेराकोटा से बना महिला का चित्र इनामगांव में  पाया गया

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!