Online History Study Material I HCS I RAS I UPSC I Prelims I Mains – Frontier IAS

Online History Study Material I HCS I RAS I UPSC I Prelims I Mains – Frontier IAS

Online History Study Material I HCS I RAS I UPSC I Prelims I Mains – Frontier IAS

Online History Study Material I HCS I RAS I UPSC I Prelims I Mains – Frontier IAS

Online History Study Material I HCS I RAS I UPSC I Prelims I Mains – Frontier IAS

Sangam Age

The Sangam Period (1st- 3rd Century AD)

  • Sangam literally means ‘Union’. It was an assembly or Union of Tamil Poets.
  • Although it was compiled/written in 6-7th Century AD, it depicts the society of 1st-4th AD.
  • Three types of Tamil Literary pieces are found-Grammar, Poems and Epics.
  • It describes the period of Pandyas, Cheras and Cholas, the three important rival kingdoms of South India.
  • According to Legends, There were 3 sangams which took more than 10000 years to complete.
  • They were patronized by 197 kings.
  • 6598 poets participated.

Historical Information from Sangam Literature

  • In Sangam literature, three kingdoms are mentioned – Pandyas, Cheras and Cholas.
  • The literature informs us about the contemporary economy, like agriculture was well developed and land was fertile.
  • Cotton cloth industry was also well developed. Main center was Uraiyur.
  • They had well developed port cities like Muziri in Kerala.
  • Roman coins have been found at Arikamedu (Pondicherry) and a Roman Colony was also found there. Showing trade relations with Europe.
  • They used animal pulled carts for transportation.
  • Traders used to take their female folks with them unlike the traders of the north.
  • In the society, there were certain similarities and dissimilarities from the north:
  • The Varna ‘Kshatriya’ is almost missing in the south.
  • The Brahmins enjoyed the highest position in the South as in the north but second highest social significance was that of Vaishya.
  • Similar Vedic rituals were prevalent here like that of North.

1st Sangam:

  • Held at Madurai
  • Attended by gods and legendary sages under the chairmanship of Agastya, but no literary work of this Sangam is available.

2nd Sangam:

  • Held at Kapadapuram
  • All the literary works had perished except Tolkappiyam.
  • Under the chairmanship of Agastya

3rd Sangam:

  • Held at Madurai.
  • It was founded by Mudathirumaran.
  • Under the chairmanship of Nakkirar.
  • It was attended by a large number of poets who produced voluminous literature but only a few had survived.
  • These Tamil literary works remain useful sources to reconstruct the history of the Sangam Age.

Sangam Literature

  • The corpus of Sangam literature includes Tolkappiyam, Ettutogai, Pattuppattu, Pathinenkilkanakku, and the two epics Silappathigaram and Manimegalai.
  • Tolkappiyam authored by Tolkappiyar is the earliest of the Tamil literature.
  • It is a work on Tamil grammar but it provides information on the political and socio economic conditions of the Sangam period.
  • The Ettutogai or Eight Anthologies consist of eight works – Aingurunooru, Narrinai, Aganaooru, Purananooru, Kuruntogai, Kalittogai, Paripadal and Padirruppattu.

The Cheras

  • Occupied the portion of both Kerala and Tamil Nadu.
  • Their capital was Vanji and their important seaports were Tondi and Musiri.
  • Udiyangeral, Sengttuvan were the famous rulers of this dynasty.
  • Cheran Senguttuvan belonged to 2nd century A.D. His younger brother was Elango Adigal, the author of Silappathigaram.
  • Senguttuvan introduced the Pattini cult or the worship of Kannagi as the ideal wife in Tamil Nadu.

The Chola

  • The Chola kingdom called as Cholamandalam was situated to the North -east of Pandya kingdom between Pennar and Vellar rivers.
  • It corresponded to modern Tanjore and Tiruchchirappalli district.
  • Capital was first located at Uraiyur and then shifted to Puhar.
  • Puhar identical with kaveripattanam was the main port of Cholas and served as alternative capital of Cholas.
  • The earliest Chola king was Elara who conquered Sri Lanka and ruled over it for nearly 50 years.

Online History Study Material

संगम काल

  • संगम का शाब्दिक अर्थ है मिलन | यह तमिल कवियों का संघ अथवा मिलन था |
  • यद्यपि यह छठी से सातवीं शताब्दी ईस्वी में लिखा गया था , यह प्रथम से चौथी शताब्दी का वर्णन करता है |
  • तीन प्रकार के तमिल साहित्यिक अवशेष पाए जाते है-व्याकरण, कविताएं और महाकाव्य |
  • यह दक्षिण भारत के तीन महत्वपूर्ण प्रतिद्वंद्वी राज्य पाण्ड्य,चेर,चोल राजवंशों के काल खंड का वर्णन करता है |
  • एक अनुश्रुति के अनुसार,कुल तीन संगम थे जिन्होंने पूरा होने के लिए 10000 से अधिक वर्षों का समय लिया |
  • इनको 197 राजाओं का सरंक्षण प्रदान था |
  • संगम में 6598 कवियों ने भाग लिया था |

संगम साहित्य से प्राप्त ऐतिहासिक जानकारी

  • संगम साहित्य में, तीन राज्यों  पाण्ड्य, चेर और चोल का उल्लेख है |
  • संगम साहित्य हमे उस काल की अर्थव्यवस्था के बारे में बताता है जैसे कृषि का सुविकसित रूप और उपजाऊ भूमि |
  • सूती वस्त्र उद्योग सुविकसित था जिसका मुख्य केंद्र उरैयुर था |
  • इस काल खंड में बंदरगाह शहर भी अच्छी तरह से विकसित थे जैसे केरल का मुज़िरी शहर |
  • रोमन सिक्के अरिकामेडु पांडिचेरी में पाए गए है,यहाँ एक रोमन कॉलोनी भी पाई गई है जो यूरोप के साथ व्यापारिक संबंध दर्शाती है|
  • वे जानवरों द्वारा खींची जाने वाली गाड़ियों का उपयोग परिवहन के लिए करते थे |
  • यहाँ के व्यापारी लोग व्यापार के दौरान औरतों को भी साथ रखते थे जबकि उत्तरी लोग ऐसा नहीं करते थे |
  • उत्तर के समाज और संगम काल (दक्षिण ) के समाज में काफी सारी  समानताएं और असमानताएं थीं |
  • क्षत्रिय वर्ण दक्षिण में लगभग ना के बराबर था |
  • दक्षिण और उत्तर में ब्राह्मण सर्वोच्च स्थान पर ही थे,परन्तु दूसरा सामजिक वर्चस्व वाला तबका वैश्य था |
  • उत्तर के जैसे वैदिक अनुष्ठान भी प्रचलित थे |

प्रथम संगम:

  • मदुरै में आयोजित किया गया |
  • ऐसा कहा जाता है की अगस्त्य की अध्यक्षता में देवताओं और महान संतों ने इस संगीति में भाग लिया था परन्तु इसकी कोई साहित्यिक कृति उपलब्ध नहीं है।

दूसरी संगम:

  • यह कवत्तापुरम अथवा कपाटपुरम में आयोजित की गई थी |
  • तोल्काप्पियम को छोड़कर सारी साहित्यिक कृति नष्ट हो गई है |
  • यह अगस्तय की अध्यक्षता में आयोजित हुई |

तीसरी संगम:

  • यह मदुरै में आयोजित की गई |
  • इसकी स्थापना मुदाथीरमरण ने की  
  • इसकी अध्यक्षता नक्कीरर ने की थी |
  • इसमें बड़ी संख्या में कवियों ने भाग लेकर कई साहित्यों की रचना की थी परन्तु इनमे से कुछ ही आगे बढ़ने में सफल हुए |
  • ये तमिल साहित्यिक कृतियां संगम काल के इतिहास को पुनः धागे में पिरोने के लिए काफी सहायक सिद्ध हुई है |

संगम साहित्य

  • संगम साहित्य के संग्रह में तोल्काप्पियम,एतुतोगई, पत्तुपाटु,पादिनेनकिलकनक्कु एवं  शिलप्पदिगारम , मणिमेकलई तथा शिवगसिन्दामणि  जैसे महाकाव्य शामिल है |
  • तोल्काप्पियम तमिल साहित्य का प्राचीनतम ग्रंथ था जो तोल्काप्पियर द्वारा रचित था |
  • हालाँकि यह एक तमिल व्याकरण कृति थी परन्तु यह संगम काल की राजनीतिक और सामाजिक आर्थिक स्थितियों का उल्लेख करती है |
  •  एटुटोगई में आठ काव्य संग्रह है,नरेनई, अगानुरू,पुरानानुरू,कुरुंटोगई,कलीटोगई,परीपदल, पदिरिपटु |

चेर शासक

चेरइनका केरल और तमिलनाडु दोनों के हिस्से पर शासन था |

  • इनकी राजधानी वांजी (करूर) थी एवं महत्वपूर्ण समुद्री बंदरगाह टोन्डी एवं मुज़िरी थे |
  • उदियनजेरल,सेनगुटटूवन इस वंश के प्रसिद्ध शासक थे |
  • सेनगुटटूवन चेर दूसरी शताब्दी ईस्वी से संबंध रखते है | इनके छोटे भाई ‘इलांगो आदिगल’ थे जिन्होंने शिलप्पादिकारम की रचना की थी |
  • सेनगुटटूवन ने तमिलनाडु में कन्नगी की आदर्श पत्नी के रूप में पूजा अथवा पत्तिनी पूजा की शुरुआत की |

चोल

  • चोल साम्राज्य को चोलमंडलम भी कहा जाता है यह पाण्ड्य साम्राज्य के उत्तर-पूर्व में पेन्नार एवं वेल्लार नदी के बीच स्थित था |
  • यह आधुनिक तंजावुर एवं तिरुचिरापल्ली जिले में स्थित है|
  • इन्होने  उरैयुर को अपनी सर्वप्रथम राजधानी बनाया था बाद में इसे पुहार में ले गए |
  • पुहार कावेरीपट्ट्नम के सदृश थी,यह चोल चोलों की प्रमुख बंदरगाह थी एवं एक वैकल्पिक राजधानी की भूमिका भी निभाई |
  • इनका पहला महत्वपूर्ण चोल शासक अल्लार था जिन्होंने श्रीलंका पर विजय प्राप्त की थी एवं 50 वर्षों तक इस पर शासन किया |

The Pandyas

  • The Pandyas ruled over the present day southern Tamil Nadu.
  • Their capital was Madurai, situated on the banks of Vaigai river.
  • The Pandya were first mentioned by Megasthenes, who aid their kingdom was famous for pearls.
  • The Pandya territory included modern district of Tirunelveli, Ramand and Madurai in Tamil Nadu.
  • The Pandya kings profitted from trade with Roman empire and sent emissaries to Roman emperor Augustus an Trojan.

Sangam Polity

  • Hereditary monarchy was the form of government during the Sangam period.
  • The king had also taken the advice of his minister, court-poet and the imperial court or avai.

Titles adopted by kings –

  • Chera: Vanavaramban, Vanavan, Kuttuvan, Irumporai and Villavar.
  • Chola : Senni, Valavan and Killi.
  • Pandya: Thennavar and Minavar.

Each of the Sangam dynasties had a royal emblem:

  • Cholas – Tiger
  • Cheras – Bow
  • Pandyas – Carp

The king was assisted by a large body of officials who were divided into five councils.

They were:

  • Ministers (amaichar)
  • Priests (anthanar)
  • Military commanders (senapathi)
  • Envoys (thuthar)
  • Spies (orrar).
  • Each ruler had a regular army and their respective Kodimaram (tutelary tree).
  • Chief source of state’s income – Land revenue. While custom duty was also imposed on foreign trade.
  • Pattinappalai – custom officials employed in the seaport of Puhar.
  • Booty captured in wars was also a major income to the royal treasury.

Sangam Society

  • Five-fold division of lands:
  • Kurinji (hilly tracks)
  • Mullai (pastoral)
  • Marudam (agricultural)
  • Neydal (coastal) and Palai (desert).
  • The people living in these five divisions had their respective chief occupations as well as gods for worship.
  • Kurinji: chief deity was Murugan, chief occupation was hunting and honey collection.
  • Mullai: chief deity Mayon (Vishnu), chief occupation was cattle-rearing and dealing with dairy products.
  • Marudam: chief deity Indira, chief occupation was agriculture.
  • Neydal: chief deity Varunan, chief occupation was fishing and salt manufacturing.
  • Palai: chief deity Korravai, chief occupation was robbery.
  • Korravai ancient goddess of war and victory and mother of Murugan,

Position of Women

  • Women poets like Avvaiyar, Nachchellaiyar, and Kakkaipadiniyar flourished in this period and contributed to Tamil literature.
  • Karpu or Chaste life was considered the highest virtue of women.
  • Love marriage was a common practice.
  • Women were allowed to choose their life partners.

पांड्य शासक

पाण्ड्य

  • इन्होने आधुनिक तमिलनाडु के दक्षिणी भाग पर शासन किया था |
  • इनकी राजधानी मदुरै थी जो वैगाई नदी के किनारे पर स्थित थी |
  • पाण्ड्य का उल्लेख सबसे पहले मेगस्थनीज़ ने किया है,उनके अनुसार पाण्ड्य मोतियों के लिए प्रसिद्ध थे |
  • पाण्ड्य साम्राज्य में आधुनिक तमिलनाडु के तिरूनेलवेली,रामन्द,मदुरै जैसे जिले शामिल है |
  • रोमन साम्राज्य के साथ व्यापार से पांड्य शासकों ने लाभ कमाया एवं रोमन सम्राट ऑगस्टस से लेकर ट्रोजन तक दूत भेजे |
  • संगम काल की राजव्यवस्था
  • संगम काल के दौरान सरकार का स्वरूप  वंशानुगत था |
  • राजा अपने निर्णयों के लिए मंत्रियों,न्यायालय कवि एवं शाही न्यायालय से विचार विमर्श करते थे |

राजाओं द्वारा अपनाये गए शीर्षक-

  • चेर : वनवरम्बन,वनावन, कुत्तुवन,इरमपोराई और विलावर |
  • चोल: शेन्नी ,वाल्वन और किली
  • पांड्य: थेन्नावर एवं मिनावर

प्रत्येक संगम राजवंश का एक शाही प्रतीक था:-

  • चोल – बाघ
  • चेर -धनुष
  • पांड्य-मत्स्य

राजा की सहायता के लिए अधिकारियों का एक बड़ा समूह था जो पांच परिषदों में विभाजित था |

ये थे-

  • मंत्री (अमैच्यार)
  • पुरोहित्तार (पुरोहित )
  • सेनापत्तियार (सेनानायक)
  • दुत्तार (राजदूत)
  • ओररि (गुप्तचर)
  • प्रत्येक राजा की एक नियमित सेना थी एवं उनसे संबंधित कडिमारम वृक्ष (संरक्षक वृक्ष) था |
  • राज्य की आय का प्रमुख स्रोत भू-राजस्व था | विदेशी व्यापार पर सीमा शुल्क लगता था |
  • पट्टिनप्पलाई- सीमा शुल्क एकत्र करने वाला अधिकारी जिसकी नियुक्ति पुहार बंदरगाह पर थी
  • युद्ध में लूट का माल भी  शाही खजाने के लिए भी एक बड़ी आय थी।

संगम काल का समाज

  • पांच तह वाली भू व्यवस्था थी-
  • कुरिंजी (पहाड़ी क्षेत्र)
  • मुल्लई (चारागाह संबंधी)
  • मरुदम (कृषि के लिए )
  • नेयदल (तटीय क्षेत्र) एवं  पलाई (रेगिस्तान)
  • इन सभी पांच भागों में निवास करने वाले लोगों का मुख्य व्यवसाय था और पूजा के लिए विशिष्ट देवता भी थे |
  • कुरिंजी: मुख्य देवता मुरुगन थे, मुख्य व्यवसाय शिकार और शहद संग्रह था।
  • मुल्लई:मुख्य देवता मेयन (विष्णु) थे,इनका मुख्य व्यवसाय पशु-पालन और दुग्ध निर्मित पदार्थों का व्यापार |
  • मरुदम : इंद्र मुख्य देवता थे,इनका मुख्य व्यवसाय  कृषि था |
  • नेयदल :इनके  मुख्य देवता वरुण थे , मुख्य व्यवसाय मछली पकड़ना और नमक उत्पादन था।
  • पल्लई : मुख्य देवी कोर्रवाइ थी एवं इनका मुख्य  व्यवसाय डकैती था |
  • कोरनाबाई  युद्द और विजय की देवी थी एवं मुरुगन की माँ थी |

महिलाओं की स्थिति

  • अव्वैयर,नच्चेलियर,ककईपेडिनियार जैसी कवियत्रियाँ इस काल में फली फूली एवं  तमिल साहित्य में अपना योगदान दिया।
  • पवित्र जीवन ही महिला का सर्वोच्च गुण माना जाता था।
  • प्रेम विवाह एक आम बात थी |
  • महिलाओं को अपने जीवन साथी चुनने की अनुमति थी।

Economy

  • The life of widows was miserable.
  • The practice of Sati was also prevalent in the higher strata of society.

Fine Arts

  • Panar and Viraliyar – singing bards
  • Kanigaiyar – dance person
  • Koothu – most famous form of entertainment

Economy of the Sangam Age

  • Agriculture – chief occupation.
  • Common crop – Rice.
  • Other crops – Ragi, sugarcane, cotton, pepper, ginger, turmeric, cinnamon and a variety of fruits
  • Jack fruit and pepper were famous in the Chera country.
  • Chief crop in the Chola and Pandya country – Paddy

Others

  • The handicrafts of the Sangam period were popular and included weaving, metal works and carpentry, ship building and making of ornaments using beads, stones and ivory.
  • Spinning and weaving of cotton and silk clothes attained a high quality.
  • There was a great demand in the western world for the cotton clothes woven at Uraiyur.

Trade

  • Flourished during this period
  • Merchants carried the goods on the carts and on animal-back from place to place.
  • Internal trade was mostly based on the barter system.
  • External trade was carried between South India and the Greek kingdoms.
  • The port city of Puhar became an emporium of foreign trade, as big ships entered this port with precious goods.
  • Other ports of commercial activity include Tondi, Musiri, Korkai, Arikkamedu and Marakkanam.
  • The author of Periplus provides the most valuable information on foreign trade and he was the critic of India as it drained Rome’s gold.
  • Main exports – cotton fabrics, spices like pepper, ginger, cardamom, cinnamon and turmeric, ivory products, pearls and precious stones.
  • Chief imports – Gold, horses and sweet wine.

संगम काल की अर्थव्यवस्था

  • विधवाओं की स्थिति दयनीय थी |
  • समाज में  सती प्रथा का भी प्रचलन था |

ललित कला

  • पानार और विरलीयार – गायन बोर्ड
  • कणगीयर – नृतक
  • कुथु – मनोरंजन का सबसे प्रसिद्ध रूप

संगम काल की अर्थव्यवस्था

  • कृषि – मुख्य व्यवसाय
  • सामान्य फसल – चावल
  • अन्य फसल – रागी, गन्ना, कपास, काली मिर्च, अदरक, हल्दी, दालचीनी और कई प्रकार के फल
  • चेर साम्राज्य में कटहल फल और काली मिर्च प्रसिद्ध थे |
  • चोल और पांड्य साम्राज्य की मुख्य फसल धान थी

अन्य

  • संगम काल के हस्तशिल्प लोकप्रिय थे और इसमें बुनाई, धातु कर्म ,बढ़ईगीरी, जहाज निर्माण और मोती, पत्थर और हाथी दांत का उपयोग करके गहने  बनाना शामिल था |
  • सूती और रेशम कपड़ों की कताई-बुनाई उच्च गुणवत्ता वाली होती थी |
  • पश्चिमी देशों में उरैयुर में निर्मित सूती वस्त्रों की बहुत मांग थी |

व्यापार

  • इस काल में व्यापार में फला -फूला |
  • व्यापारी अपना सामान छकड़ा गाडी एवं जानवरों की पीठ पर लादते थे |
  • आंतरिक व्यापार ज्यादातर वस्तु विनिमय प्रणाली पर आधारित था।
  • दक्षिण भारत और ग्रीक राज्यों के बीच बाह्य व्यापार किया गया था।
  • पुहार बंदरगाह शहर विदेशी व्यापार का एक विक्रय केन्द्र बन गया, क्योंकि बड़े जहाजों द्वारा इन बंदरगाहों पर सामान लाया गया |
  • अन्य वाणिज्यिक गतिविधियों वाली बंदरगाह- टोन्डी,मुज़िरी, कोरकाई, अरिककमेडू और मर्ककनम |
  • परिनौकायन के लेखक विदेशी व्यापार के बारे में सबसे महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं और ये भारत के आलोचक थे क्योंकि इससे रोम के सोने का व्यापार ठप हो गया था |
  • मुख्य निर्यात – सूती कपड़े, मसाले जैसे काली मिर्च, अदरक, इलायची, दालचीनी और हल्दी, हाथीदांत उत्पाद, मोती और कीमती पत्थर |
  • मुख्य आयात – सोने, घोड़े और मीठी शराब

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!