Mission HCS Sociology | Online Study Content | Exam Preparation 2018

Mission HCS Sociology | Online Study Content | Exam Preparation 2018

Mission HCS Sociology | Online Study Content | Exam Preparation 2018

Mission HCS Sociology | Online Study Content | Exam Preparation 2018

Mission HCS Sociology | Online Study Content | Exam Preparation 2018

Weber – Ideal Types-

  • While social science is value relevant, it must also be value-neutral, according to Weber. Weber stresses that there is a fundamental difference between “existential knowledge” and “normative knowledge”. Every person has his values and the choice of these values is always subjective. Consequently, science can never state an opinion on “true” values, but must rather limit itself to analyzing the effects of various actions.

Ideal Types:

  • To solve the problem of the relationship of science to values and the value-neutrality of science. Weber developed ideal-type methodology.
  • Weber states that social reality by its very nature is infinitely complex and cannot be comprehended in its totality by the human mind. Therefore, selectivity is unavoidable and in order to exercise selectivity sociologists should build “ideal types”.
  • There is a reality gap between the ideas and concepts used by social theorists and the really real world, which they try to explain. Weber suggested that this could be advantageous. Given that we are free to make up whatever concepts we like, it might be useful for social theorists to develop concepts that represent the purest form, or ‘ideal type’, of a particular phenomenon. Ex., Sociologists have developed the ideal-typical descriptions of ‘nuclear family’ and ‘extended family’ as part of their methodology.
  • Ideal types provide a way of conceptualising differences even if the ideal type is never obtained in its pure form. Weber uses the technique of ideal type in his own analysis of social action, religious ideology, and authority specifically bureaucracy.
  • An ideal type is a mental construct that the investigator uses to approach the complex reality, and its utility lies in its “success in revealing concrete phenomena in their interdependence, their causal conditions and their significance”.
  • The investigator arrives at the ideal type through “the one-sided accentuation of one or more point of view and by the synthesis of a great many diffuse, discrete, more or less present and occasionally absent concrete individual phenomena, which are arranged according to those one-sidedly emphasized viewpoints into  a unified analytical construct”.
  • An ideal type is an analytical construct that serves the investigator as a measuring rod to ascertain similarities as well as deviations in concrete cases.
  • It is a mental construct, an organization of intelligible relations within a historical entity, formed by exaggerating certain essential features of a given phenomenon so that no case of that phenomenon falls within the definitional framework. Ideal types do not and cannot mirror the reality faithfully. Ex., as constructed by Weber, the ideal type of capitalism did not fully describe any of the various types of capitalism – mercantile, entrepreneurial etc.
  • For Weber, an ideal type is strictly a “methodological device”. The ideal type is a rational grid for logical observation and analysis.
  • Weber uses his ideal-type methodology in part to reject the idea that science can capture reality “as it is objectively”. As a Neo-Kantian, Weber believed that concepts (ideal types) are always creations of human reason that never have a counterpart in reality. This also applies to the “laws”. When Weber discusses Marx he says the laws Marx and the Marxists thought they had found in history and in bourgeois society were actually nothing but ideal types. As ideal types, they have an important significance if they are used in a comparison with reality, but according to Weber they are actually dangerous if we believe that they are empirically valid.

Mission HCS Sociology
वेबर- आदर्श भेद-

  • जहाँ सामाजिक विज्ञान मूल्यपरक है, वेबर के अनुसार इसे मूल्य-तटस्थ भी होना चाहिये | वेबर ने इस बात पर जोर डाला कि “अस्तित्ववान ज्ञान” और “मानक ज्ञान” के बीच एक मूल अंतर है | प्रत्येक व्यक्ति के अपने मूल्य होते हैं और इन मूल्यों का चयन हमेशा व्यक्तिपरक होता है | परिणामस्वरूप, विज्ञान “सत्य” मूल्यों पर कोई भी अपना पक्ष नहीं रख सकता है, लेकिन खुद को विभिन्न कार्यों के प्रभावों के विश्लेषण तक सीमित रखना चाहिए |

आदर्श भेद :

  • मूल्य और विज्ञान के मूल्य-तटस्थता के प्रति विज्ञान के सम्बन्ध की समस्या के समाधान के लिए वेबर ने आदर्श भेद प्रणाली विज्ञान को विकसित किया |
  • वेबर ने बताया कि सामाजिक वास्तविकता अपनी प्रकृति में अनंत रूपी जटिल है और मानव मन द्वारा इसकी सम्पूर्णता में समझाई नहीं जा सकती | इसलिए चयनात्मकता अपरिहार्य है और चयनात्मकता के निष्पादन के क्रम में समाजशास्त्रियों को “आदर्श भेद” बनाना चाहिए |
  • सामाजिक सिद्धान्तवादियों और वास्तविक असली दुनिया द्वारा प्रयोग किये जाने वाले विचारों व धारणाओं, जिन्हें वे वर्णित करने की कोशिश करते हैं, के बीच एक वास्तविकता अंतर है | वेबर ने सुझाव दिया कि यह लाभप्रद हो सकता है | यह देखते हुए कि हम अपनी पसंद के धारणाओं को बनाने के लिए स्वतन्त्र है, जो कि एक विशेष घटना के शुद्धतम रूप या “आदर्श प्रकार” को प्रतिनिधित्व करने वाली धारणाओं को विकसित करने में सामाजिक सिद्धान्तकारों के लिए सहयोगी हो सकता है | उदाहरण; समाजशास्त्रियों ने अपनी प्रणाली विज्ञान के हिस्से के रूप में ‘एकल परिवार’ और ‘विस्तृत परिवार’ के आदर्श-विशिष्ट विवरण विकसित किये हैं |
  • आदर्श प्रकार अंतरों को संकल्पनाकृत करने के तरीके को प्रदान करता है भले ही आदर्श प्रकार अपने शुद्ध रूप में नहीं प्राप्त किया गया हो | वेबर आदर्श प्रकार के तकनीक का प्रयोग सामाजिक क्रिया, धार्मिक विचार और विशेष रूप से नौकरशाही प्राधिकार के अपने विश्लेषण में प्रयोग करते हैं |
  • एक आदर्श प्रकार मानसिक निर्माण है जो एक जांचकर्ता जटिल वास्तविकता से संपर्क बनाने के लिए प्रयोग करता है और इसका उपयोग “उनकी परस्पर निर्भरता, उनकी कारणीय परिस्थितियों और उनके महत्त्व में ठोस घटनाओं में इसकी सफलता प्रकट करने” में निहित है |
  • जांचकर्ता “एक या अधिक दृष्टिकोण के एक तरफ़ा बल और एक अधिक फ़ैल, असतत, करीब-करीब और कभी कभी अनुपस्थित ठोस व्यक्तिगत घटनाओं के संश्लेषण, जिन्हें एक तरफ़ा जोर डाली गई दृष्टिकोणों के अनुसार  एकीकृत विश्लेषणात्मक निर्माण में व्यवस्थित किया जाता है” द्वारा आदर्श प्रकार पर आते हैं |
  • एक आदर्श प्रकार एक विश्लेषणात्मक निर्माण है जो जांचकर्ता को एक मापन माध्यम के रूप में ठोस मामलों में विचलनों के साथ साथ समानताओं को प्राप्त करने में सहयोग करता है |
  • यह एक मानसिक निर्माण है, एक एतिहासिक इसकी के भीतर सुगम संबंधों का एक संगठन है, जो एक दिए हुए घटना के कुछ अनिवार्य विशेषताओं को अतिशयोक्ति कर निर्मित होता है ताकि पारिभाषिक ढाँचे के भीतर इस घटना का कोई भी मामला न आये | आदर्श प्रकार ईमानदारी से वास्तविकता का न तो दर्पण बनाते हैं और न बना सकते हैं | उदाहरण; वेबर अनुसार निर्मित , पूंजीवाद का आदर्श प्रकार ने पूंजीवाद के विभिन्न प्रकारों – व्यापारिक, उद्यमशीलता इत्यादि में से किसी को भी पूर्ण रूप से वर्णित नहीं किया |
  • वेबर के लिए, एक आदर्श प्रकार एक दृढ “पद्धतिगत उपकरण” है | आदर्श प्रकार तार्किक अवलोकन और विश्लेषण के लिए एक विवेकी ग्रिड है |
  • वेबर अपने आदर्श-प्रकार प्रणाली विज्ञान का प्रयोग उस विचार को अस्वीकार करने में प्रयोग करते हैं कि विज्ञान वास्तविकता को बता सकता है “क्योंकि यह निष्पक्ष है” | एक नव-कान्तियन के रुप में, वेबर का विश्वास था कि धारणाएँ (आदर्श प्रकार) हमेशा मानव कारण के सृजन रहे हैं जिसका वास्तविकता में कोई कभी कोई प्रतिरूप नहीं होता है | यह “नियमों” पर भी लागू होता है | जब वेबर मार्क्स की चर्चा करते हैं, उनका कहना है मार्क्स और मार्क्सवादियों ने जिन नियमों को सोचा कि उन्होंने इसे इतिहास और श्रमजीवी समाजों में पाया है वे और कुछ नहीं सिर्फ आदर्श प्रकार थे | आदर्श प्रकार के रूप में, यदि वास्तविकता के साथ एक तुलना में उनका प्रयोग किया जाता है तो इनकी एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है, लेकिन वेबर के अनुसार ये वास्तविक रूप में खतरनाक है यदि हम ये विश्वास करे कि ये अनुभवजन्य रूप से वैध है |

Important elements of Weber’s methodology:

  • The methodology of sociology consists in building ideal types of social behaviour and applying Verstehen method to explain this. Weber’s general conception of the nature of social reality influenced other approaches. The origin of symbolic interactionism can be traced to Max Weber’s argument that people act according to their interpretation of the meaning of their social world. Alfred Schutz was inspired by the ideas of Max Weber. He contributed to the rise of phenomenological approach which gave rise to ethnomethodological approach in sociology.
  • Causal pluralism – The social reality is very complex and therefore no social phenomena can be explained adequately in terms of a single cause.
  • Weber also stresses on the value-neutrality of social science methodology. He argues that since social science deals with phenomena that are value-laden, the researcher, both in choosing what to study and in reporting his findings, has to be aware of his own value and of the value-content of the phenomenon she is researching.
  • Weber notes that values are not objective material entities and cannot be assessed, measured or compared in an entirely logical and dispassionate way. Social-theoretical knowledge is the product of subjective judgement, is partial and selective, and, in at least some respects, arbitrary.

वेबर की प्रणाली विज्ञान के महत्वपूर्ण तत्व :

  • समाजशास्त्र की प्रणाली विज्ञान सामाजिक व्यावहार के आदर्श प्रकार के निर्माण में और इसको व्याख्या करने के लिए वेर्सेहें प्रणाली को लागू करने में निहित है | वेबर की सामाजिक वास्तविकता की प्रकृति के सामान्य अवधारणा अन्य दृष्टिकोणों से प्रभावित होती हैं | प्रतीकात्मक परस्परवाद के मूल को मैक्स वेबर के इस तर्क में ढूंढा जा सकता है कि लोग ओने सामाजिक दुनिया के अर्थ के अपने व्याख्या के अनुसार कार्य करते हैं | अल्फ्रेड शुत्ज़ मैक्स वेबर के विचारों से प्रभावित थे | उन्होंने अभूतपूर्व दृष्टिकोण के उदय में योगदान दिया जिसने समाजशास्त्र में नृवंशविज्ञान दृष्टिकोण को जन्म दिया |
  • कारणीय बहुलता : सामाजिक वास्तविकता अत्यधिक जटिल है और इसलिए एक एकल कारण के संदर्भ में किसी सामाजिक घटना को नहीं वर्णित किया जा सकता |
  • वेबर ने सामाजिक विज्ञान कार्यप्रणाली के मूल्य-तटस्थता पर भी जोर दिया | उनका तर्क है कि चूँकि सामाजिक विज्ञान उन घटनाओं से समबन्धित होता है जो कि मूल्य-लादेन है, शोधकर्ता को अध्ययन करने योग्य विषय को चयन करने में और उसके निष्कर्षों को रिपोर्ट करने में उसके स्वयं के महत्त्व के और उस घटना, जिसका वह अध्ययन कर रही है, के मूल्य-सामग्री के बारे में पता होना चाहिए |
  • वेबर इस बात को महत्वपूर्ण बताते हैं कि मूल्य निष्पक्ष भौतिक इकाई नहीं हैं और इनका पूरी तरह तर्कसंगत और निपुण तरीके से मूल्याङ्कन, मापन या तुलना नहीं किया जा सकता है | सामाजिक-सैद्धांतिक ज्ञान व्यक्तिपरक निर्णय का उत्पाद है, आंशिक और चयनात्मक है और कुछ मामलों में कुछ हद तक कम से कम मनमाना हैं |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!