Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Maratha Empire | History Study Material & Notes- Haryana Special

Haryana During Maratha Period

  • After the death of Aurangzeb, Anarchy spread everywhere. Civil war broke out between the sons of Aurangzeb.
  • Taking the advantage of this situation, the local Sardars became independent but the situation of haryana became worst.
  • Many local powers emerged here too but they maintained the peace and order in their regions. Faujdar Khan in Farukh Nagar, Rao Nand Ram in Rewari, Shahdad Khan in Hisar, and Menjombal Khan in Kunjpura were main among them.
  • The regions of Rohtak, Panipat, Sonipat, and Karnal were under Mughals only for the name. In such circumstances, the Marathas came.

मराठा शासनकाल के दौरान हरियाणा

  • औरंगज़ेब की मृत्यु के बाद चारों तरफ अराजकता फैल गई। औंरगजेब के पुत्रों में गृहयुद्ध आंरभ हो गया।
  • इस रिथति का लाभ उठाकर स्थानीय सरदार स्वतंत्र हो गए। लेकिन हरियाणा की स्थिति काफी खराब हो गई।
  • यहां भी कई स्थानीय शक्तियां उभरकर आ गई पर उन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में शांति तथा व्यवस्था को कायम रखा। इनमें फरुख नगर में फौजदार खां, बल्लभगढ़ में गोपाल सिंह, रेवाड़ी में राव नंदराम, हिसार में सहदाद खां और कुंजपुरा में मेनजोंबल खा मुख्य थे।
  • रोहतक, पानीपत, सोनीपत और करनाल के क्षेत्र केवल नाममात्र के ही मुगलों के अधीन थे। ऐसी परिस्थितियों में मराठों का आगमन हुआ।

Third Battle of Panipat

  • When Ahmed Shah Abdali got the news of the rights of the Marathas on Punjab, he left Kabul in 1761 AD and moved towards Punjab.
  • At this time he also got the support of Nawab of Ruhla and Nawab of Awadh. Soon he took control of Punjab and reached Tarawadi via Lahore, Goindwal Sirhind and Ambala .
  • Here, Peshwa sent Sadashiv Rao Bhau to fight the invaders, and gave an army to his son, Vishwas Rao and sent him  to the north.
  • Malhar Rao Janak ji and Jat Raja Surajmal met on the way, near chambal and came along with him.

पानीपत का तीसरा युद्ध

  • जब अहमदशाह अब्दाली को पंजाब पर मराठों के अधिकार का समाचार मिला तो वह 1761 ई० में काबुल छोड़कर पंजाब की तरफ बढ़ा।
  • इस समय उसे रूहेला और अवध के नवाब का सहयोग भी प्राप्त था। शीघ्र ही उसने पंजाब पर अधिकार कर लिया और लाहौर, गोइंदवाल सरहीद, अंबाला होते हुए तरावड़ी तक आ पहुंचा।
  • इधर पेशवा ने आक्रमणकारी का मुकाबला करने के लिए सदाशिव राव भाऊ, और अपने बेटे विश्वास राव को एक सेना देकर जिसके पास सैनिक साजो सामान तथा पैसे की कमी थी उत्तर की तरफ रवाना किया।
  • रास्ते में चंबल के पास मल्हार राव जनको जी और जाट राजा सूरजमल भी उसके साथ आ मिले।

Maratha reinstatement

  • Due to the death of Mirza Najaf, the Delhi Darbar was once again haunted by political conspiracy.
  • Badshah Shah Alam who was very old at this time was unable to stop them. So he invited Maratha Sardar Mahadji Scindia to help.
  • Scindia reached Delhi for this immediately. Nobody had the courage to oppose Scindia.
  • Emperor immediately appointed Scindia as the Chief General of the Imperial Army and the Director of State of Delhi.

मराठों का पुनःअधिकार  

  • मिर्जा नजफ के मरते ही दिल्ली दरबार एक बार फिर राजनैतिक षड़यंत्रे का अड्डा बन गया।
  • बादशाह शाह आलम जो इस समय बहुत बूढा हो चुका था इन्हें रोकने में असमर्थ था। अतः उसने मराठा सरदार महादजी सिंधिया को सहायता करने के लिए आमंत्रित किया।
  • सिंधिया इसके लिए तुरंत दिल्ली आ पहुंचा। किसी में भी इतना साहस नहीं था कि सिंधिया को विरोध कर सके।
  • बादशाह ने तुरंत सिंधिया को शाही सेना का प्रधान सेनापति और दिल्ली राज्य का संचालक नियुक्त कर दिया।

For More Articles You Can Visit On Below Links :

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!