Major Festivals of Rajasthan – RAS 2018 | RAS GK | Exam Preparation

Major Festivals of Rajasthan – RAS 2018 | RAS GK | Exam Preparation

Major Festivals of Rajasthan – RAS 2018 | RAS GK | Exam Preparation

Major Festivals of Rajasthan – RAS 2018 | RAS GK | Exam Preparation

Major Festivals of Rajasthan – RAS 2018 | RAS GK | Exam Preparation

Major festivals of Rajasthan –

(A) Major festivals of the Hindus: –

1.Shravani Teej Or Chhoti Teej: –

  • This is mainly a festival of women in which women fast for their husband’s long life. On this day, ‘Teej Mata’ sawari  is organized in Jaipur.
  • Along with Teej, it is considered  the arrival of festivals which end with the Gangaur.

2.Raksha Bandhan (Shravan Purnima): –

  • This festival symbolized by the love of brother and sister, the sisters tie colorful rakhis on the brothers arm and  wishes for her brother’s life. Brother takes the pledge of protecting his sister.
  • On this day, both of the main entrances of the house portrait  of Shravan Kumar is made and he is worshipped. It is also called ‘nariyal Poornima’. On the day of Rakshabandhan, A Shivling of the ice is built at the famous pilgrim site Amarnath.

3.Big Teej / Saturi Teej / Kajali Teej (Bhadr Krishna ): –

    • This festival is celebrated by women for longevity and goodwill, in which women hold fast the whole day and take the food only after having a glimpse of the moon in the night.
    • On this day the women hear the story of Teej mother after worshiping Neem. Sattu is eaten on this day.

4. Old Teej (Bhadr Krishna-3): –

  • On this day, cows are worshipped after fasting the whole day. Seven dough of flour are made for seven cows and after feeding the cows, they eadt food.

5. Hal Shashthi (Bhadrapad Krishna-6): –

  • This festival is celebrated as the birth anniversary of Shri Balram Ji, the elder brother of Krishna Lord.
  • Plough is worshiped on this day and cow’s milk and curd are not consumed. This fast is performed by women having a son .

6. Ub Chhath (Bhadra Krishna-6): –

  • Fasting is done on this day and after bathing in the evening, worshiping the sun god with sandalwood and flowers is given as ardha.
  • Afterwards, they remain standing up to Moonrise. After Moonrise, the devotees open their fast by performing ritual worship. This fast is also called ‘Chandan Shashthi Vrat’.

7. Krishna Janmashtami (Bhadrapad Krishna-8):

  • It is celebrated in the form of Krishna birth anniversary. On this day the Jhaankies are decorated related to  the life of Lord Krishna in the temples. After fasting all day, at night at twelve o’clock, on the birth of Shri Krishna, food is served by the arti and special pooja of Shri Krishna.

8. Goga Navami (Bhadrapad Krishna-9): –

  • On this day folk god Gogaji is worshiped. In the district of Hanumangarh, the fair fills  at ‘Gogamadi’. 

9. Bachbaras (Bhadrapad Krishna 12): –

  • On this day, women having sons fast for their son’s goodwill. The items made from wheat, barley and cow’s milk are not used on this day and food made with sprouted gram, peas, moth and mustard is taken. Cow and calves are served on this day.

10. Satiyaan Amavas: –

  • The new moon of bhaadva is called the satiya amavasya.

11. Haratalika Teej (Bhadrapad Shukla 3): –

  • This festival is celebrated with the worship of Gauri-Shankar. All  women can do this fast. Parvati and Shiva are worshiped after the fasting the whole day and after bathing in the evening. 
  • Thirteen types of sweet dishes are made.

12. Shiva Chaturthi (Bhadrapad Shukla 4): –

  • On this day, women fast and make make foor for their parents in law. food is  cooked with ghee, jaggery, salt etc.

13. Ganesh Chaturthi (Bhadrapad Shukla 4): –

  • It is celebrated with great pomp throughout India. Vigyan Vinayak Shri Ganesh is at the highest place among deities. His vehicle is a rat and Modak is his favorite food.
  • In Maharashtra, this festival is celebrated specially and after  the procession, the statue of Ganapati is immersed in water. People Celebrate this festival in the form of Ganesh’s birthday. 
  • In the temples, Idols of Ganesh ji are decorated and the devotees offer Laddus.

14. Rishi Panchami (Bhadrapad Shukla-5): –

  • On this day, the Ganga bath is a special honor. This fast is done for the cleansing of known-unknown sins. The story is heard after worshiping Ganesh ji’s kalash, Navagraha and Satya Rishi and Arundhati. Rakhi is celebrated on this day in the Maheshwari society.

15. Radhashtami (Bhadrapad Shukla 8): –

  • It is celebrated as the birth of Radha ji. On this day a fair is organized in Nimbarka center of Ajmer in ‘Salamabad’. 

16. Shraadhudkha (Bhadrapad Purnima): –

  • From this day, sarvapitra Shraadh paksh starts and  continues till ashwin amavasya. In this period, Shraddha is done. It is auspicious to devote  to the elderly on the date of death and to feed the Brahmin.

17. Sanjhi: –

  • In this festival, for 15 days ( Bhadra Purnima to Ashwani Amavasya ), Unmarried  girls form different connotations & perform puja.

18. Navratra: –

  • It is celebrated twice a year. The first Navratra  is from Chaitra Shukla Ekam to Navami and the second from Ashwin Shukla Ekam to Navami. 
  • Durga is worshiped for nine days and Ramayana is recited. On the 9th day, 9 Unmarried girls are fed food. Navaratri of Chaitra is also called ‘Vasanthi Navaratri’.

19. Durgashtami (Ashwin Shukla 8): –

  • It is celebrated exclusively throughout India, especially in West Bengal. This day Goddess Durga is worshiped.

20. Dussehra (Ashwin Shukla-10): –

  • This festival is celebrated throughout India. On this day Lord Rama slaughtered Ravana and conquered evil. Therefore it is also called Vijaya Dashmi. The effigies of Ravana, Kumbhakaran and Meghnath are burnt at sunset on this day. 
  • In Rajasthan, there is a huge fair of Dussehra in Kota city and in Mysore city of India. The Shamy tree (Khejahi) is worshiped on Dussehra and the sight of Lilatas bird  is considered auspicious.

 

Major Festivals
21. Shradh Purnima (Ashwin Purnima): –

  • Ashwin Purnima is called Shradh Purnima. It is also called Ras Purnima. People fast on this day.

22. Karwa Chauth (Karthik Krishna-4): –

  • This festival is the most beloved festival of women. On this day married ladies fast, and in the evening, moon is prayed by giving ardhya to the moon. 
  • ladies Wish for the husband’s health, longevity.

23. Ahoi Ashtami (Karthik Krishna-8): –

  • On this day, the daughter-in-law of women have  fast even without drinking water. On the wall, the portrait of syau mata and her children are made, and in the evening the ardhya is given to the moon.

24. Tulsi Ekadashi (Karthik Krishna 13): –

  • Tulsi is worshiped on this day. The glory of a plant named Tulsi is also described in the scriptures along with valid texts. Tulsi is also considered as Vishnu Priya.

25. Dhanteras (Karthik Krishna-13): –

  • Dhanvantri Vadhya Ji is worshiped on this day. Yamraaj is also worshiped on this day. 
  • For the yam, the lamp is made of flour and kept on the main door of the house. Buying new utensils is considered auspicious on this day.

26. Roop Chaturdashi (Karthik Krishna 14): –

  • This festival is related to cleanliness and beauty. Therefore, on this day the house is cleansed  by washing and cleaning it. This day chhoti Deepawali is also celebrated.

27. Deepawali (Karthik Amavasya): –

  • This is the biggest festival of Hindus. On this day, Lord Ram returned after fourteen years of exile. This festival is also a festival of Lakshmi.
  • The beginning of Vikram Samvat is also considered from this day. It is also considered as Nirvana Day of Lord Mahavir, founder of Arya Samaj – Maharshi Dayanand and Lord Mahavira. 
  • On this day, Vaishyas change their accounts and make a statement of profit and loss throughout the year.
  • On this day home , shops and city are well decorated. All wear new clothes, sweets are made, Lakshmi is worshiped in the evening and firecrackers are burst.

28. Govardhan Pooja and Annakoot (Kartik Shukla-1): –

  • Gowardhana is worshiped with cow dung during dawn, and Annakoota made from 56 type of dishes is offered in the temple.

29. Bhaiyadooj (Kartik Shukla-2): –

  • The main goal of this festival is to establish a strong relationship and affection of brother and sister.
  • On this day, sisters by placing tilak on brother, wishes for his healthy and long-life. It is also celebrated as Yama II.

30. Goposhtami (Kartik Shukla-8): –

  • Cow and calf are worshiped on this day. It is believed that all the wishes are fulfilled on this day by giving food to them, and going around them with them for a while.

 

 

Major Festivals of Rajasthan – RAS 2018 | RAS GK | Exam Preparation

Major-festivals-of-Rajasthan-Part-1

 

(A) हिन्दुओं के प्रमुख त्यौहार :-

  • श्रावणी तीज या छोटी तीज :-
  • यह मुख्यतः स्त्रियों का त्यौहार है जिसमें स्त्रियाँ अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत करती हैं। जयपुर में इस दिन ‘तीज माता’ की सवारी निकाली जाती है।
  • तीज के साथ ही मुख्यतः त्योहारों का आगमन माना जाता है जो गणगौर के साथ समाप्त होता है।

2.  रक्षा बंधन (श्रावण पूर्णिमा) :-

  • भाई व बहिन के प्रेम के प्रतीक इस त्यौहार के दिन बहनें अपने भाइयों की  कलाइयों पर रंगबिरंगी राखियाँ बाँध कर रक्षा का वचन लेती हैं व उनके जीवन की मंगलकामना करती हैं।
  • इस दिन घर के प्रमुख द्वार के दोनों और श्रवण कुमार के चित्र बनाकर पूजन करते हैं। इसे ‘नारियल पूर्णिमा’ भी कहते हैं। रक्षाबंधन के दिन भारत के प्रसिद्ध तीर्थ अमरनाथ में बर्फ का शिवलिंग बनता है।

3.  बड़ी तीज/ सातुड़ी तीज/ कजली तीज (भाद्र कृष्णा 3) :-

  • यह त्यौहार स्त्रियों द्वारा सुहाग की दीर्घायु व मंगलकामना के लिए मनाया जाता है,जिसमें स्त्रियों दिन भर निराहार रखकर रात्रि को चन्द्रमा के दर्शन कर अर्ध्य देकर भोजन ग्रहण करती हैं।
  • इस दिन संध्या पश्चात स्त्रियाँ नीम की पूजा कर तीज  माता की कहानी सुनती हैं। इस दिन सत्तू खाया जाता है। 

4. बूढ़ी तीज ( भाद्र कृष्णा-3) :-

  • इस दिन व्रत रखकर गायों का पूजन करते है सात गायों के लिए आटे की सात लोई बनाकर उन्हें खिलाकर कर ही भोजन ग्रहण किया जाता है।

5.  हल षष्ठी (भाद्रपद कृष्णा-6) :-

  • यह त्यौहार कृष्ण भगवान के ज्येष्ठ भ्राता श्री बलराम जी के जनमोत्स्व के रूप में मनाया जाता है।
  • इस दिन हल की पूजा की जाती है व गाय के दूध और दही का सेवन नहीं किया जाता। इस व्रत को पुत्रवती स्त्रियाँ करती है।

6. ऊब छठ (भाद्र कृष्णा-6) :-

  • इस दिन उपवास किया जाता है व सायंकाल को स्नान करके सूर्य भगवान की चंदन व पुष्प  से पूजा कर अर्ध्य दिया जाता है।
  • ततपश्चात चन्द्रोदय तक खड़े ही रहते हैं। चन्द्रोदय के पश्चात चन्द्रमा को अर्ध्य देकर पूजा व्रत  पूजा कर व्रत खोलते है। इस व्रत को ‘चंदन षष्ठी व्रत’ भी कहा जाता है।

7.   कृष्ण जन्माष्टमी (भाद्रपद कृष्णा -8) :-

  • इसे कृष्ण जन्मोत्स्व के रूप में मनाया जाता है। इस दिन मंदिरों में श्री कृष्ण के जीवन से संबंधित झाँकियाँ सजाई जाती है। पुरे दिन उपवास के बाद रात बारह बजे श्री कृष्ण जन्म होने पर श्री कृष्ण की आरती व विशेष पूजा-अर्चना करके भोजन किया जाता है।

8.   गोगा नवमी (भाद्रपद कृष्णा-9) :-

  • इस दिन लोकदेवता गोगाजी की पूजा की जाती है। हनुमानगढ़ जिले में ‘गोगामेड़ी’ नामक स्थान पर मेला भरता है। 

9. बछबारस (भाद्रपद कृष्णा 12) :-

  • इस दिन पुत्रवती स्त्रियाँ पुत्र की मंगलकामना के लिए व्रत करती हैं। इस दिन गेहूँ, जौ और गाय के दूध से बनी वस्तुओं का प्रयोग नहीं किया जाता है तथा अंकुरित चने, मटर, मोठ व मुंग युक्त भोजन किया जाता है। इस दिन गाय व बछड़ों की सेवा की जाती है।

10. सतियाँ अमावस :-

  • भादवा बदी अमावस्या को सतियाँ की अमावस कहते हैं।

11.  हरतालिका तीज (भाद्रपद शुक्ला 3) :-

  • इस पर्व को गौरी-शंकर का पूजन करके मनाया जाता है। इस व्रत को सभी प्रकार की स्त्रियाँ  कर सकते हैं। पुरे दिन निराहार रहकर सायंकाल स्नानादि के पश्चात् पार्वती व शिव की पूजा की जाती है।   
  • तेरह प्रकार के मीठे  व्यंजन बनाकर कल्पे जाते हैं।

12. शिवा चतुर्थी (भाद्रपद शुक्ला 4) :-

  • इस दिन स्त्रियाँ उपवास करती है तथा अपने सास-ससुर को घी, गुड़, लवण आदि से बना भोजन करती हैं।

13. गणेश चतुर्थी (भाद्रपद शुक्ला 4) :-

  • इसे सम्पूर्ण भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। विघ्न विनायक श्री गणेश जी को देवताओं में सर्वोच्च स्थान प्राप्त है। इनका वाहन चूहा है व मोदक इनका प्रिय भोग है।
  • महाराष्ट्र में यह त्यौहार विशिष्ट रूप से मनाया जाता है व जुलुस निकालकर गणपति की प्रतिमा को जल में विसर्जित किया जाता है। इस पर्व को गणेश जन्मोत्स्व के रूप में मनाते है। 
  • मंदिरों में गणेश जी की झाकियाँ सजाई जाती है व श्रद्धालुगण लड्डू चढ़ाते हैं।

14. ऋषि पंचमी (भाद्रपद शुक्ला-5) :-

  • इस दिन गंगा स्नान का विशेष महात्म्य है। यह व्रत जाने-अनजाने हुए पापों के प्रक्षालन हेतु किया जाता है। गणेश जी का कलश, नवग्रह तथा सप्त ऋषि व अंधरुति की पूजा करके कथा सुनी जाती है। माहेश्वरी समाज में राखी इस दिन मनाई जाती है।

15. राधाष्टमी (भाद्रपद  शुक्ला 8) :-

  • यह राधा जी के जन्म के रूप में मनाया जाता है। इस दिन अजमेर की निम्बार्क पीठ ‘सलेमाबाद’ में मेला मेला भरता है। 

16.  श्राद्धुपक्ष (भाद्रपद पूर्णिमा) :-

  • इस दिन से सर्वपितृ श्राद्ध पक्ष प्रारम्भ हो जाता है तथा आश्विन अमावस्या तक चलता है। इस अवधि में श्राद्ध किया जाता है। बुजुर्गों की मृत्यु तिथि के दिन श्रद्धापूर्वक तर्पण और ब्राह्मण को भोजन कराना ही श्राद्ध है।

17. साँझी  :-

  • इस त्यौहार में 15 दिन तक (भाद्र पूर्णिमा से अश्विन अमवस्या) कुँवरी कन्याएँ भाँति-भाँति की संझ्याएँ बनाती हैं व पूजा करती है।

18. नवरात्रा :-

  • यह वर्ष में दो बार मनाए जाते है। प्रथम नवरात्रा चैत्र शुक्ला एकम से नवमी तक व द्वितीय  आश्विन शुक्ला एकम से नवमी तक होते हैं। 
  • नौ दिन तक दुर्गा की पूजा की जाती है व रामायण का पाठ किया जाता है। नवें दिन  9 कुँवारी कन्याओं को भोजन कराया जाता है। चैत्र मास की नवरात्रि को ‘वासंतीय नवरात्रि’ भी कहते है।

19. दुर्गाष्टमी (आश्विन शुक्ला 8) :-

  • यह सम्पूर्ण भारत में विशेषतः प.बंगाल में उल्लासपूर्वक मनायी जाती है। इस दिन देवी दुर्गा की पूजा की जाती है।

20.  दशहरा (आश्विन शुक्ला-10) :-

  • यह त्यौहार सम्पूर्ण भारत में मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम ने रावण का वध कर बुराई पर विजय पाई थी। इसलिए इसे विजयादशमी भी कहते है। इस दिन सूर्यास्त होते ही रावण, कुम्भकरण व मेघनाथ के पुतले जलाए जाते हैं। 
  • राजस्थान में कोटा शहर में तथा भारत के मैसूर शहर में दशहरे का बहुत बड़ा मेला लगता है। दशहारे पर शमी वृक्ष (खेजड़ी) की पूजा की जाती है और लीलटास पक्षी का दर्शन शुभ माना जाता है।

21. शरद पूर्णिमा (आश्विन पूर्णिमा ):-

  • आश्विन पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। इसे रास पूर्णिमा भी कहते हैं। । इस दिन व्रत किया जाता है।

22. करवा चौथ (कार्तिक कृष्णा – 4) :-

  • यह त्यौहार स्त्रियों का सर्वाधिक प्रिय त्यौहार है। इस दिन सुहागिन स्त्रियाँ व्रत करती हैं व सायंकाल चंद्रोदय पर चन्द्रमा को अध्र्य देकर भोजन किया जाता है। 
  • पति के स्वास्थ्य, दीर्घायु एवं मंगल की कामना करती हैं।

23. अहोई अष्टमी (कार्तिक कृष्णा-8) :-

  • इस दिन पुत्रवती स्त्रियाँ निर्जल व्रत करती है। दीवार पर स्याऊ माता व उसके बच्चे बनाए जाते हैं व शाम को चन्द्रमा को अर्ध्य देकर भोजन किया जाता है।

24. तुलसी एकादशी (कार्तिक कृष्णा 13) :-

  • इस दिन तुलसी की पूजा की जाती है। तुलसी नामक पौधे की महिमा वैधक ग्रंथों के साथ-साथ धर्मशास्त्रों में भी वर्णित की गई हैं। तुलसी को विष्णु प्रिया भी माना गया है।

25. धनतेरस (कार्तिक कृष्णा-13) :-

  • इस दिन धन्वंतरि वैध जी का पूजन किया जाता है। इस दिन यमराज का भी पूजन किया जाता है। 
  • यम के लिए आटे का दीपक बनाकर घर के मुख्य द्वार पर रखा जाता है। इस दिन नए बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है।

26. रूप चतुर्दशी (कार्तिक कृष्णा 14) :-

  • इस पर्व का संबंध स्वच्छता व सौंदर्य से हैं। इसलिए इस दिन घर की सफाई करके चुने से पोतकर उसे स्वच्छ किया जाता है। इस दिन छोटी दीपावली भी मनाई जाती है।

27. दीपावली (कार्तिक अमावस्या) :-

  • यह हिन्दुओं का सबसे बड़ा त्यौहार है। इस दिन भगवान राम चौदह वर्ष का वनवास पूर्ण करके आयोध्या लोटे थे। यह पर्व लक्ष्मी का उत्सव है।
  • विक्रम संवत का प्रारम्भ भी इसी दिन से माना जाता है। यह आर्य समाज के संस्थापक महर्षि दयानन्द व भगवान महावीर का निर्वाण दिवस भी माना जाता है। 
  • इस दिन वैश्य लोग अपने-अपने बही खाते बदलते हैं और वर्ष भर की लाभ-हानि का विवरण बनाते है
  • इस दिन घर, दुकानों व शहर को खूब सजाया सँवारा जाता है। सभी नए कपड़े पहनते हैं, मिठाइयाँ बनाई जाती है, शाम को लक्ष्मी पूजन किया जाता है व पटाखे छोड़े जाते हैं।

28.  गोवर्धन पूजा व अन्नकूट (कार्तिक शुक्ला-1)

  • इस दिन प्रभात के समय गौ के गोबर से गोवर्धन की पूजा की जाती है व छप्पन्न प्रकार के पकवानों से बने अन्नकूट से मंदिर में भोग लगाया जाता है।

29.  भैयादूज (कार्तिक शुक्ला-2) :-

  • इस पर्व का प्रमुख लक्ष्य भाई-बहन के पावन संबंध तथा प्रेमभाव की स्थापना करना है। 
  • इस दिन बहने भाई के तिलक लगाकर उनके स्वस्थ व दीर्घायु होने की मंगलकामना करती हैं। इसे यम द्वितीय के रूप में भी मनाया जाता है।

30. गोपष्टमी (कार्तिक शुक्ला-8) :-

  • इस दिन गाय व बछड़े का पूजन किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन गौओं को ग्रास देकर, उनकी परिक्रमा करके थोड़ी दूर तक उनके साथ जाने से समस्त मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं। 

 

For More Important Articles You Can Visit On Below Links :

RAS 2018 Ancient Civilization of Rajasthhan | Rajasthan GK | 

Rajasthan Art and Culture – Custom and Costumes of Rajasthan Part 1/3 | RAS 2018

RAS 2018 | Rajasthan Art and Culture- Rajasthani Language Part 1/2 | Rajasthan GK

Tribes of Rajasthan Part 2/3 | Rajasthan GK | Rajasthan Art and Culture | RAS 2018

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!