Indian Polity Study Content | Parliament | UPSC IAS Exam

Indian Polity Study Content | Parliament | UPSC IAS Exam

Indian Polity Study Content | Parliament | UPSC IAS Exam

Indian Polity Study Content | Parliament | UPSC IAS Exam

Indian Polity Study Content | Parliament | UPSC IAS Exam

Art. 79/अनु. 79:

Constitution of Parliament/संसद का गठन :

“There shall be a Parliament for the Union which shall consist of the President and two Houses to be known respectively as the Council of States and the House of the people.”/“संघ के लिए एक संसद होगी जो राष्ट्रपति और दो सदनों से मिलकर बनेगी जिनके नाम क्रमशः राज्य सभा और लोक सभा होंगे ।”

Parliament consists of/संसद में शामिल हैं:

  • President/राष्ट्रपति
  • Council of States/राज्यसभा
  • House of the People/लोकसभा

President is not a member of either House of Parliament but he is a part of Parliament. He can summon both the Houses of Parliament, dissolves the House of the People and gives his assent before any legislation comes into effect./राष्ट्रपति संसद के किसी भी सदन का सदस्य नहीं हैं लेकिन वह संसद का एक हिस्सा हैं। वह संसद के दोनों सदनों को बुला सकता है, लोक सभा को भंग कर सकता है और किसी कानून को लागू करने से पहले अपनी सहमति देता है।

Council of States (Rajya Sabha)   

Art. 80/अनु. 80:

Composition of Council of States/राज्य सभा की सरंचना :

  1. Maximum strength of Council of States is 250./राज्य सभा की अधिकतम सदस्य संख्या 250 है।
  2. 238 should be representatives of states and union territories (elected indirectly) and 12 are nominated by the President./238 राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के प्रतिनिधियों (अप्रत्यक्ष रूप से चुने गए) के रूप में और 12 राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किये जाते हैं।
  3. Present strength of Council of States is 245, where 229 represents the states, 4 members represents the union territories and 12 nominated by the President./राज्य सभा की वर्तमान सदस्यों की संख्या  245 है, जहां 229 सदस्य राज्यों का प्रतिनिधित्व करते हैं , 4 सदस्य केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करते हैं और 12 राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत हैं।

Composition of Council of States:-

Allocation of seats in Council of States(4th Schedule of Constitution)/राज्य सभा में सीटों का आबंटन (संविधान की चौथी अनुसूची):

  • Representation of States/राज्यों का प्रतिनिधित्व
  • Representation of Union Territories/केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व
  • Nominated Members / मनोनीत सदस्य

Representation of states:/राज्यों का प्रतिनिधित्व:

  1. Representative of states are elected by elected members of state legislative assemblies (Indirect Election)./राज्यों के प्रतिनिधि राज्य विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्यों द्वारा चुने जाते हैं (अप्रत्यक्ष चुनाव)।
  2. Election held in accordance with system of proportional representation by means of single transferable vote./चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के अनुसार एकल संक्रमणीय  मत के माध्यम से आयोजित होते हैं ।
  3. Seats are allocated on the basis of population. 1 seat for each million of population for first 5 million and thereafter 1 seat for every 2 million population./सीटों का आवंटन आबादी के आधार पर की जाती हैं। पहली पचास लाख के प्रत्येक दस लाख जनसंख्या के लिए 1 सीट और उसके बाद प्रत्येक बीस लाख की आबादी के लिए 1 सीट।

Representation of Union Territories/संघ शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व:

  1. Representatives are indirectly elected by members of an electoral college specially constituted for this purpose./प्रतिनिधियों का निर्वाचन अप्रत्यक्ष रूप से इस प्रयोजन के लिए विशेष रूप से गठित एक निर्वाचक मंडल  के सदस्यों द्वारा किया जाता है।
  2. Election is held in accordance with the system of proportional representation by means of single transferable vote./चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के अनुसार एकल संक्रमणीय  मत के माध्यम से आयोजित होते हैं ।
  3. Only Delhi and Puducherry have representation in Council of States, population of other 5 Union Territories is too small./केवल दिल्ली और पुडुचेरी का प्रतिनिधित्व राज्य सभा में  है, अन्य 5 केंद्रशासित प्रदेशों की आबादी बहुत कम है |
  4. Electoral college of Delhi and Puducherry consists of the elected members of the Legislative Assembly of Delhi and Puducherry respectively./दिल्ली और पुदुच्चेरी के निर्वाचक मंडल  में क्रमशः दिल्ली और पुडुचेरी विधान सभा के निर्वाचित सदस्य होते हैं।

Nominated Members/मनोनीत सदस्य:

President nominates 12 members to Rajya Sabha who have specialisation in art, literature, science and social service to give a chance to eminent personalities./राष्ट्रपति राज्य सभा के 12 सदस्यों को मनोनीत करता है, जिन्होंने कला, साहित्य, विज्ञान और समाज सेवा में विशेषज्ञता हासिल की है, ताकि प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों को मौका मिलें ।

Composition of the House of the People:

Art. 81/अनु. 81:

Composition of the House of the People(Lok Sabha)/लोक स

भा की संरचना:

  1. Maximum strength is 552./अधिकतम सदस्य संख्या 552 है।
  2. 530 are to be representatives of the states, 20 members are to be representatives of the union territories and 2 members are to be nominated by president from the Anglo- Indian community./530 राज्यों के प्रतिनिधियों होते  हैं , 20 सदस्य केंद्रशासित प्रदेशों के प्रतिनिधि होते हैं  और 2 सदस्यों को राष्ट्रपति द्वारा आंग्ल -भारतीय समुदाय से मनोनीत किया जाता है।
  3. Presently, Lok Sabha has 545 members, 530 repr
  4. esents the states, 13 represents the union territories and 2 Anglo-Indian nominated by the President./वर्तमान में, लोकसभा में 545 सदस्य हैं, 530 राज्यों का प्रतिनिधित्व करते हैं, 13 केंद्रशासित प्रदेशों के प्रतिनिधि है और राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत 2  सदस्य आंग्ल-भारतीय समुदाय को प्रतिनिधित्व करते हैं ।

Representation of States/राज्यों का प्रतिनिधित्व:

  1. Representatives are directly elected by the people from the territorial constituencies in the states on the principle of Universal Adult Franchise./प्रतिनिधि सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार के सिद्धांत पर राज्यों के क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्रों के लोगों द्वारा सीधे चुने जाते हैं।
  2. Universal Adult Franchise means every Indian citizen of age 18 and above who is not disqualified under any law is eligible to vote. 61st Constitutional Amendment Act reduced the age from 21 to 18 years./सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार  का मतलब है कि 18 वर्ष से अधिक आयु के हर भारतीय नागरिक जो कि किसी भी कानून के तहत अयोग्य नहीं हैं, वोट देने के योग्य हैं। 61 वें संवैधानिक संशोधन अधिनियम ने आयु को 21 से 18 साल तक घटा दिया।

Composition of the House of the People:

Representation of Union Territories/केंद्रशासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व:

  1. Constitution empowers Parliament to prescribe manner of election of choosing representatives of union territories in the Lok Sabha./संविधान संसद को लोक सभा में केंद्र शासित प्रदेशों के प्रतिनिधियों के चयन के चुनाव के तरीके को निर्धारित करने की शक्ति देता है।
  2. Parliament enacted Union Territories(Direct Election to the House of the People Act), by which members of Lok Sabha from union territories are also chosen by direct election./संसद ने केंद्रशासित प्रदेशों को अधिनियमित किया (लोक सभा प्रत्यक्ष चुनाव अधिनियम ), जिसके द्वारा प्रत्यक्ष चुनाव के द्वारा केंद्रशासित प्रदेशों से लोक सभा के सदस्य भी  चुने जाते हैं

Nominated Members/मनोनीत सदस्य:

  1. President can nominate 2 members from the Anglo- Indian community if the community is not adequately represented in the Lok Sabha./यदि लोकसभा में समुदाय का पर्याप्त रूप से प्रतिनिधित्व नहीं है, तो राष्ट्रपति आंग्ल-भारतीय समुदाय से 2 सदस्यों को मनोनीत कर सकता है ।
  2. 95th Amendment Act extended this provision till 2020 rather than 1960 as prescribed earlier./95 वें संशोधन कानून ने इस प्रावधान को 1960 के बजाय 2020 तक बढ़ाया, जैसा कि पहले निर्धारित किया गया था ।

System of Elections to Lok Sabha:-

Territorial Constituencies/क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्र:

For Lok Sabha elections, each state is divided into territorial constituencies./लोकसभा चुनावों के लिए प्रत्येक राज्य को क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्रों में बांटा गया है।

Two provisions/2 प्रावधान:

  1. Each state is given a number of seats in Lok Sabha, so that the ratio between the number of seats and its population is same for all state./प्रत्येक राज्य को लोकसभा में कई सीटें मिलती हैं, ताकि सभी राज्यों के लिए संख्या और उसकी आबादी के बीच का अनुपात एक ही हो।   

 Each state is divided into territorial constituencies, such that the ratio between the population of each constituency and the number of seats allotted it same throughout the state./प्रत्येक राज्य क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्रों में  इस प्रकार विभाजित किया जाता है, कि प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र की आबादी और इसे आवंटित किया गया सीटों के बीच के अनुपात पूरे राज्य में समान हो ।

These provisions ensure the uniformity of representation between the different states and between the different constituencies in the same state./ये प्रावधान अलग-अलग राज्यों और एक ही राज्य के विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों के बीच प्रतिनिधित्व की समानता सुनिश्चित करते हैं।

Why not Proportional Representation? / आनुपातिक प्रतिनिधित्व क्यों नहीं ?

Difficulty in understanding of process/प्रक्रिया को समझने में कठिनाई |

It may lead to increase in political parties leading to unstable government./इससे राजनीतिक दलों में बढ़ोतरी हो सकती है जिससे सरकार अस्थिर हो सकती है।

Decreases importance of voters/मतदाताओं के महत्व को घटाता है |

Bye-election/Biennial/उप-चुनाव / द्विवार्षिक:

  1. The election held to fill a vacancy arising because of reasons other than by retirement of a member on the expiration of his term of office./एक सदस्य की पद की समाप्ति पर सेवानिवृत्ति के अलावा अन्य कारणों के कारण उत्पन्न रिक्ति को भरने के लिए चुनाव।
  2. Such member elected remains the member for the remainder of the term./निर्वाचित सदस्य शेष अवधि के सदस्य रहेगा।

Readjustment After each Census:

Art. 82/अनु. 82:

Readjustment after each Census/प्रत्येक जनगणना के पश्चात पुनः समायोजन:

  1. After each population census, a readjustment is to be made in allocation of seats in the Lok Sabha to the states and division of each state into territorial constituencies./प्रत्येक आबादी जनगणना के बाद, राज्यों का लोकसभा में सीटों के आवंटन और प्रत्येक राज्य के क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्रों में विभाजन के लिए एक समायोजन किया जाता है।
  2. Parliament has the authority to determine the manner in which it has to be done./संसद को उस तरीके का निर्धारण करने का अधिकार है जिसमें यह किया जाना है ।
  3. Presently, allocation of seats in the Lok Sabha to the seats is done on the basis of 1971 level. Delimitation (fixing boundaries) of constituencies is done on the basis of 2001 census./वर्तमान में, लोकसभा में सीटों का आवंटन 1971 के स्तर के आधार पर किया जाता है। 2001 की जनगणना के आधार पर निर्वाचन क्षेत्र की सीमा निर्धारण (सीमा तय करने) की गई है।

Duration of Houses of Parliament:

Art. 83/अनु.  83:

Duration of the Houses of the Parliament/संसद के सदनों की अवधि:

Duration of Rajya Sabha/राज्य सभा की अवधि:

  1. It is permanent House and is not subject to dissolution./यह स्थायी घर है और विघटन का विषय नहीं है |
  2. Retiring members are eligible for re-election and re-nomination any number of times./सेवानिवृत्त सदस्य कई बार पुनः निर्वाचन और फिर से मनोनीत होने के लिए पात्र हैं।
  3. Members are elected by the elected members of the State Legislative Assemblies for a 6 year term (provided by Parliament in the Representation of People Act, 1951), in accordance with the system of proportional representation by means of single transferable vote./निर्वाचित सदस्य  राज्य विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्यों द्वारा 6 साल की अवधि के लिए (लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 में  संसद द्वारा प्रदत्त) आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के अनुसार एकल संक्रमणीय मत के माध्यम से निर्वाचित किये जाते हैं।
  4. No seats are reserved for SCs and STs in the Rajya Sabha./राज्यसभा में अनुसूचित जाती और अनुसूचित जनजाति के लिए कोई सीट आरक्षित नहीं है।

Duration of Lok Sabha/लोकसभा की अवधि:

  1. Tenure is 5 years, but can be dissolved earlier by President./कार्यकाल 5 साल है, लेकिन राष्ट्रपति द्वारा पहले भंग किया जा सकता है |
  2. Its life can be extended by Parliament beyond the 5 year term, when proclamation of Emergency under Art. 352 is in force./अनु. 352 को प्रयोग में लेकर इसके तहत आपातकाल की घोषणा करते हुए, इसका जीवन 5 साल की अवधि से आगे संसद द्वारा बढ़ाया जा सकता है।
  3. But Parliament cannot extend the normal life of the Lok Sabha more than 1 year at a time./लेकिन संसद लोकसभा के सामान्य जीवन को एक समय 1 वर्ष से अधिक नहीं बढ़ा सकती है।
  4. Also, extension cannot continue for more than 6 months after the Proclamation of Emergency comes to an end./इसके अलावा, आपातकाल की घोषणा समाप्त होने के 6 महीनों से अधिक समय तक कार्यकाल का विस्तार जारी नहीं हो सकता।


Qualifications for Membership of Parliament:

  Art. 84/अनु. 84:

Qualifications for membership of Parliament/संसद की सदस्यता के लिए अर्हता :

  1. He must be a citizen of India./वह भारत का नागरिक होना चाहिए।
  2. He must make and subscribe oath before the person authorised by the Election Commission./चुनाव आयोग द्वारा प्राधिकृत व्यक्ति के समक्ष उसे शपथ लेनी चाहिए और उस पर अपना हस्ताक्षर करना  चाहिए।
  3. He must be at least 30 years of age in case of Rajya Sabha and at least 25 years in case of Lok Sabha./वह राज्यसभा के मामले में 30 वर्ष से कम उम्र के नहीं हो और लोकसभा के मामले में 25 वर्ष से कम उम्र का नहीं हो।
  4. He must possess other qualifications prescribed by Parliament./उसमें संसद द्वारा निर्धारित अन्य योग्यताएं होने चाहिए।

Qualifications for Membership of Parliament:-

Additional qualifications under Representation of People Act (1951)/लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम (1951) के तहत अतिरिक्त योग्यता  :

  1. He must be registered as an elector for a parliamentary constituency in case of both Lok Sabha and Rajya Sabha. But requirement that a candidate contesting a seat to Rajya Sabha should be an elector in that particular state was removed./वह लोकसभा और राज्यसभा दोनों के मामले में संसदीय निर्वाचन क्षेत्र के लिए एक निर्वाचक के रूप में पंजीकृत होना चाहिए। लेकिन इस मांग को कि राज्य सभा के लिए एक सीट पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार को उस राज्य विशेष में निर्वाचक होना आवयश्यक है, हटा दिया गया ।
  2. If he wants to contest a seat reserved for SC or ST, he must be a member of that tribe in any state or union territory. He can also contest from a general seat./यदि वह अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट से चुनाव लड़ना चाहता है, तो वह किसी भी राज्य या केंद्रशासित प्रदेश में उस जनजाति का सदस्य होना चाहिए। वह सामान्य सीट से भी चुनाव लड़ सकता है ।

  Disqualifications of Members of Parliament:

  

Vacation of Seats/सीटों की रिक्ति :

Art. 101/अनु. 101:

Various causes/विभिन्न कारण  :

  • Double Membership/दो सदस्यता
  • Disqualification/अयोग्यता
  • Resignation/इस्तीफा
  • Absence/अनुपस्थिति
  • Other causes/अन्य कारण

Double Membership/दो सदस्यता:

A person cannot be a member of both Houses of Parliament at the same time./एक व्यक्ति संसद के दोनों सदनों का एक ही समय में सदस्य नहीं हो सकता है।

Representation of People Act (1951) provides/लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम (1951) सुचना देता है:

  1. If a person is elected to both the Houses of Parliament, he must intimate within 10 days in which House he wants to serve, otherwise his seat in Rajya Sabha becomes vacant./अगर किसी व्यक्ति को संसद के दोनों सदनों के लिए चुना जाता है, तो उसे 10 दिनों के भीतर सूचित करना होता है कि वह किस सदन में सेवा करना चाहता है, अन्यथा राज्यसभा में उनकी सीट रिक्त हो जाती है।
  2. If a sitting member of one House is also elected to another House, his seat in the first House becomes vacant./यदि एक सदन के वर्तमान सदस्य दूसरे सदन के लिए भी चुना जाता है, तो पहले सदन में उसकी सीट रिक्त हो जाती है।
  3. If a person is elected to 2 seats in a House, he should decide one, otherwise both seats become vacant./अगर किसी व्यक्ति को सदन में 2 सीटों के लिए चुना जाता है, तो उसे एक सीट का फैसला करना होता है, अन्यथा दोनों सीटें रिक्त हो जाती है ।

Disqualification/निरर्हता:

If a member of either House of Parliament is disqualified under Art. 102(1) and 102(2)./संसद के किसी भी सदन का सदस्य अनु. 102 (1) और 102 (2) के तहत अयोग्य हो जाता है |

Resignation/इस्तीफा:

A member may resign his seat by writing to the Chairman of Rajya Sabha or Speaker of Lok Sabha, as case maybe. Seat becomes vacant when resignation is accepted./एक सदस्य राज्य सभा के अध्यक्ष या लोकसभा के अध्यक्ष को लिखकर अपनी सीट से इस्तीफा दे सकता है, जैसा विषय हो | जब इस्तीफा स्वीकार किया जाता है तो सीट रिक्त हो जाती है।

Absence/अनुपस्थिति:

If a member of either House absents himself from House without its permission for more than 60 days, the House may declare his seat vacant. In calculating 60 days time period, period for which House is prorogued or adjourned for more than 4 consecutive days, is not taken into account./अगर किसी सदन का सदस्य 60 दिनों से अधिक समय के लिए बिना अनुमति के सदन से खुद को अनुपस्थित करता है, तो सदन उसकी सीट रिक्त घोषित कर सकती है। 60 दिनों की अवधि की गणना में, जिस अवधि के लिए सदन को लगातार 4 दिनों से अधिक समय से खारिज या स्थगित किया जाता है, उसे ध्यान में नहीं रखा जाता है।

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)    IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC IAS(Prelims+Mains)

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!