Indian Polity Notes Citizenship | UPSC IAS Preparation Online

Indian Polity Notes Citizenship | UPSC IAS Preparation Online

Indian Polity Notes Citizenship | UPSC IAS Preparation Online

Indian Polity Notes Citizenship | UPSC IAS Preparation Online

Indian Polity Notes Citizenship | UPSC IAS Preparation Online

Citizenship/नागरिकता –

Citizenship/नागरिकता:

  • India has 2 kinds of people- citizens and aliens./भारत में 2 प्रकार के लोग रहते हैं – नागरिक और विदेशी |
  • A citizen is a person who enjoys full membership of the country in which he lives. They enjoy all civil and political rights./एक नागरिक वह व्यक्ति होता है जो देश की सदस्यता के हर अधिकार का आनंद लेता है जिसमें वह रहता है | वह समस्त नागरिक और राजनैतिक अधिकार का आनंद लेता है |
  • Aliens are the citizens of other countries and do not enjoy all the civil and political rights./विदेशी दूसरे देश के नागरिक होते है और उनके पास का नागरिक और राजनैतिक अधिकार नहीं होते हैं |
  • There are 2 types of aliens, friendly aliens (citizens of country having friendly relations with India) or enemy aliens (citizens of country that is at war with India)./दो तरह के विदेशी होते हैं, विदेशी मित्र ( भारत के साथ मैत्री सम्बन्ध रखने वाले देश के नागरिक ) और विदेशी शत्रु ( भारत के साथ युद्ध करने वाले देश के नागरिक ) |

In India, the Constitution gives all the Fundamental rights to citizens but denies some of the rights to aliens like/भारत में संविधान इसके नागरिकों को समस्त मौलिक अधिकार देता है लेकिन विदेशियों को कुछ अधिकार नहीं देता है, उदहारण स्वरूप:

  • Right against discrimination on grounds of religion, race, caste, sex or place of birth (Art. 15)./धर्म, मूल वंश, जाति, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव के विरुद्ध अधिकार ( अनु. 15 ) |
  • Right to equality of opportunity in the matter of public employment (Art. 16)./लोक नियोजन के विषय में समता का अधिकार ( अनु. 16 ) |
  • Right to freedom of speech and expressions, assembly, association, movement, residence and profession (Art. 19)./भाषण, अभिव्यक्ति, सभा, संघ, आन्दोलन, निवास व् व्यवसाय की स्वतंत्रता का अधिकार ( अनु. 19 ) |
  • Cultural and educational rights (Art. 29 and 30)./सांस्कृतिक और शैक्षणिक अधिकार ( अनु. 30 )
  • Right to vote in elections to the Lok Sabha and state legislative assembly./लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनाव में मतदान का अधिकार |
  • Right to contest for the membership of the Parliament and the state legislature./संसद एवं राज्य विधानमंडल की सदस्यता के लिए चुनाव लड़ने का अधिकार |
  • Eligibility to hold certain public officers like President of India, Vice-President of India, judges of the Supreme Court and the High Courts, Governors of states, Attorney General, Advocate General etc./सार्वजनिक पदों को ग्रहण करने की योग्यता का अधिकार जैसे – भारत का राष्ट्रपति, भारत का उप-राष्ट्रपति, उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय के न्यायाधीश, राज्यों के राज्यपाल, महान्यायवादी, महाधिवक्ता इत्यादि |

Single Citizenship/एकल नागरिकता :

  • India has single citizenship for the whole of India to emphasize the unity and integrity of India./भारत में पुरे भारत के लिए एकल नागरिकता है जिससे भारत की एकता और अखंडता दिखें |
  • Some countries like US have double citizenship, 1 citizenship for country and 1 for State./कुछ देश जैसे संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में दोहरी नागरिकता होती है, एक नागरिकता देश के लिए और एक राज्य के लिए |
  • In India, all citizens enjoy the same political and civil rights of citizenship all over the country and no discrimination is made between them. But there are some discriminations made under Art. 15, Art. 16, Art. 19 and in case of Jammu & Kashmir./भारत में सभी नागरिक पूरे देश में नागरिक और राजनीतिक अधिकार का आनंद लेते है और उनके बीच किसी भी तरह का भेदभाव नहीं होता | लेकिन जम्मू और कश्मीर के मामले में अनुच्छेद 15, अनुच्छेद 16, अनुच्छेद 19 के तहत कुछ भेदभाव किये जाते हैं |

Indian Citizenship Act, 1955/भारत नागरिकता अधिनियम, 1955:

  • This act provides for the acquisition and loss of citizenship of India after the commencement of the Constitution./यह अधिनियम संविधान लागू होने के बाद अर्जन एवं समाप्ति के बारे में बताता है |
  • This act has been amended in 1986, 1992, 2003 and 2005./इस अधिनियम को 1986, 1992, 2003 और 2005 में संशोधित किया गया |
  • The Citizenship Act, 1955 provided for the Commonwealth citizenship according to which every person who is a citizen of a commonwealth country, shall by virtue of that citizenship, have the status of commonwealth citizenship in India. But, this provision was repealed by the Citizenship (Amendment) Act, 2003./नागरिकता अधिनियम, 1955 राष्ट्रमंडल नागरिकता के बारे में भी बताता है जिसके अनुसार प्रत्येक व्यक्ति जो राष्ट्रमंडल देश का नागरिक हो, इस नागरिकता के गुण के द्वारा भारत में उसे राष्ट्रमंडल नागरिकता का स्थान प्राप्त होगा | लेकिन इस प्रावधान को नागरिकता ( संशोधित ) अधिनियम, 2003 से बदल दिया गया |

Constitutional Provisions/संवैधानिक प्रावधान –

Art. 5/अनु. 5:

Citizenship at the commencement of the Constitution/संविधान के प्रारंभ पर नागरिकता –

  • Every person who has domicile in the territory of India and/एक व्यक्ति जो भारत का मूल निवासी है और
    1. Who was born in the territory of India; or/उसका जन्म भारत में हुआ हो; या
    2. Either of whose parents was born in the territory of India; or/उसके माता-पिता में से किसी एक का जन्म भारत में हुआ हो; या
    3. Who has been ordinarily resident in the territory of India for atleast 5 years immediately preceding such commencement;/संविधान लागू होने के 5 वर्ष पूर्व से वह भारत में रह रहा हो;

Shall be a citizen of India. /भारत का नागरिक होगा |

Art. 6/अनु. 6:

Rights of citizenship of certain persons who have migrated to India from Pakistan/पाकिस्तान से भारत में प्रवास करने वाले कुछ व्यक्तियों के नागरिकता के अधिकार :

A person who migrated to India from Pakistan became an Indian citizen if he or either of his parents or grandparents was born in undivided India and/एक व्यक्ति जो पाकिस्तान से भारत आया हो और यदि उसके माता-पिता या दादा-दादी अविभाजित भारत में पैदा हुए हो तो वह भारत का नागरिक बन जाता है और :

  1. He migrated to India before July 19, 1948 and had been ordinarily resident in India since then; or/वह 19 जुलाई, 1948 से पूर्व भारत स्थानांतरित हुआ हो और तब से वह भारत का सामान्यतः निवासी रहा हो; या
  2. He migrated to India on or after July 19, 1948  and he had been registered as a citizen of India. A person could only be registered if he had been residing in India for 6 months preceding the date of his application for registration./वह 19 जुलाई, 1948 को या उसके बाद भारत में स्थानांतरित हुआ हो और वह भारत के नागरिक के रूप में पंजीकृत हो | एक व्यक्ति सिर्फ तभी पंजीकृत हो सकता है जब वह अपने पंजीकरण के आवेदन से 6 महीने तक भारत में रह रहा हो |

Art. 7/अनु. 7;

Rights of citizenship of certain migrants to Pakistan/पाकिस्तान को प्रवास करने वाले कुछ व्यक्तियों के नागरिकता के अधिकार :

A person who migrated to Pakistan from India after March 1, 1947, but later returned to India for resettlement could become an Indian citizen. For this, he had to be resident in India for six months before the date of his application for registration./एक व्यक्ति जो 1 मार्च, 1947 के बाद भारत से पाकिस्तान स्थानांतरित हो गया हो, लेकिन बाद में भारत फिर से पुनर्निवास के लिए लौट आये तो वह भारत का नागरिक बन जाता है | इसके लिए उसे पंजीकरण के आवेदन से 6 महीने पहले से भारत का निवासी रहना चाहिए |

Art. 8/अनु. 8:

Rights of citizenship of certain persons of Indian origin residing outside India/भारत के बाहर रहने वाले भारतीय मूल के कुछ व्यक्तियों के नागरिकता के अधिकार :

A person who, or any of whose parents or grandparents, was born in undivided India but who is ordinarily residing outside India shall become an Indian citizen if he has been registered as a citizen of India by the diplomat of India in the country of his residence, whether before or after the commencement of the Constitution./एक व्यक्ति जिसके माता-पिता या दादा-दादी अविभाजित भारत में पैदा हुए हो लेकिन वह भारत के बाहर रह रहा हो, भारत का नागरिक बन सकता है यदि उसने भारत के नागरिक के रूप में पंजीकरण अपने देश में भारत के कूटनीतिज्ञ द्वारा किया हो, चाहे यह संविधान की शुरुआत के पहले हुआ हो या बाद में |

Art. 9/अनु. 9:

Persons voluntarily acquiring citizenship of a foreign state not to be citizens/विदेशी राज्य की नागरिकता स्वेच्छा से अर्जित करने वाले व्यक्तियों का नागरिक होना :

No person shall be a citizen of India or be deemed to be a citizen of India, if he has voluntarily acquired the citizenship of a foreign state./वह व्यक्ति भारत का नागरिक नहीं होगा या नहीं समझा जायेगा जो स्वेच्छा से किसी अन्य देश की नागरिकता स्वीकार कर लेगा |

Art. 10/अनु. 10:

Continuance of the rights of citizenship/नागरिकता के अधिकार का बने रहना :

Every person who is or is deemed to be a citizen of India shall continue to be such citizen, subject to the provisions of any law made by Parliament./प्रत्येक व्यक्ति जो भारत का नागरिक है या समझा जाता है, नागरिक बना रहेगा जो संसद द्वारा किसी कानून के प्रावधान के अधीन है |

Art. 11/अनु. 11:

Parliament to regulate the right of citizenship by law/संसद द्वारा नागरिकता के अधिकार का कानून द्वारा विनियमन किया जाना :

Parliament shall have the power to make any provision with respect to the acquisition and termination of citizenship and all other matters relating to citizenship./संसद को यह अधिकार प्राप्त है कि वह नागरिकता के अर्जन और समाप्ति तथा नागरिकता से सम्बंधित अन्य सभी विषयों के सम्बन्ध में कानून बना सकती है |

Acquisition of Indian Citizenship/भारतीय नागरिकता का अर्जन :

Citizenship can be acquired by an individual in following ways/किसी व्यक्ति द्वारा नागरिकता निम्नलिखित तरीकों से प्राप्त किया जा सकता है :

  • By Birth/जन्म द्वारा
  • By Descent/वंश द्वारा
  • By Registration/पंजीकरण द्वारा
  • By Naturalisation/प्रक्रितिकरण द्वारा
  • By Incorporation of New Territory/क्षेत्र समाविष्टि द्वारा

Acquisition of Indian Citizenship – By Birth/भारतीय नागरिकता का अर्जन – जन्म द्वारा :

By Birth/जन्म द्वारा:

  • A person born in India on or after 26th January 1950 but before 1st July, 1987 is citizen of India by birth irrespective of the nationality of his parents./भारत में 26 जनवरी, 1950 को या उसके बाद परन्तु 1 जुलाई, 1947 से पूर्व जन्मा व्यक्ति अपने माता-पिता की राष्ट्रीयता के बावजूद भारत का नागरिक होगा |
  • A person born in India on or after 1st July, 1987 but before 3rd December, 2004 is considered citizen of India by birth if either of his parents is a citizen of India at the time of his birth./भारत में 1 जुलाई, 1987 के बाद परन्तु 3 दिसम्बर, 2004 से पहले जन्मा व्यक्ति केवल तभी भारत का नागरिक माना जाएगा जब उसके जन्म के समय उसके माता-पिता में से कोई एक भारत का नागरिक हो |
  • A person born in India on or after 3rd December, 2004 is considered citizen of India by birth if both the parents are citizens of India or one of the parents is a citizen of India and the other is not an illegal migrant at the time of his birth./एक व्यक्ति जिसका जन्म 3 दिसम्बर, 2004 को या उसके बाद भारत में हुआ हो तो वह उसी दशा में भारत के नागरिक माना जाएगा, यदि उसके माता-पिता दोनों उसके जन्म के समय भारत के नागरिक हो या माता-पिता में से कोई एक उस समय भारत का नागरिक हो तथा दूसरा अवैध प्रवासी न हो |

By Descent/वंश द्वारा :

  • A person born outside India on or after 26th January 1950 but before 10th December 1992, is a citizen of India by descent, if his father was a citizen of India by birth at the time of his birth; or/कोई व्यक्ति जिसका जन्म 26 जनवरी, 1950 को या उसके बाद परन्तु 10 दिसम्बर, 1992 से पूर्व भारत के बाहर हुआ हो तो वह वंश के आधार पर भारत का नागरिक बन सकता है यदि उसके जन्म के समय उसका पिता भारत का नागरिक हो |
  • A person born outside India on or after 10th December 1992 but before 3rd December, 2004, is considered as a citizen of India if either of his parents was a citizen of India by birth at the time of his birth;/यदि किसी व्यक्ति का जन्म 10 दिसम्बर, 1992 को या उसके बाद परन्तु 3 दिसम्बर, 2004 से पहले भारत के बाहर हुआ हो तो वह भारत का नागरिक हो सकता है यदि उसके माता-पिता में से कोई एक उसके जन्म के समय भारत का नागरिक हो;
  • In both these cases, if the parent was a citizen of India by descent, the person shall not be a citizen of India, unless birth is registered at an Indian Consulate within one year from the date of birth or with the permission of the Central Government, after the expiry of this period./उपरोक्त दोनों मामलों में यदि माता-पिता वंश द्वारा भारत के नागरिक हो तो वह व्यक्ति भारत का नागरिक नहीं बन सकता जब तक कि उसके जन्म का पंजीकरण उसके जन्म के एक वर्ष के भीतर भारतीय कांसुलेट द्वारा नहीं किया जाए या केंद्र सरकार की सहमति से इस अवधि के बाद पंजीकरण न हुआ हो |

By Registration/पंजीकरण द्वारा :

  • Persons of Indian origin who are ordinarily resident in India for 7 years before making application (throughout the period of 12 months immediately before making application and for 6 years in the aggregate in the 8 years preceding the 12 months.); or/भारतीय मूल का व्यक्ति, जो नागरिकता प्राप्ति का आवेदन देने से ठीक पूर्व सात वर्ष भारत में रह चुका हो (आवेदन करने से पहले 12 माह की अवधि के दौरान और अगले 12 महीनों के बाद 8 वर्षों में कुल में 6 साल के लिए); या
  • PIOs who are ordinarily resident in any country or place outside undivided India; or/भारतीय मूल का व्यक्ति जो अविभाजित भारत के बाहर या किसी अन्य देश में रह रहा हो |
  • Persons married to a citizen of India, who are ordinarily resident in India for 7 years; or/वह व्यक्ति जिसने भारतीय नागरिक से विवाह किया हो और वह भारत में 7 वर्षों से सामान्यतः रह रहा हो; या
  • Minor children whose both parents are Indian; or/वैसे नाबालिग बच्चे जिनके माता-पिता दोनों भारतीय हो; या
  • Persons of full age whose both parents are registered as citizens of India; or/पूरी आयु का वह व्यक्ति जिसके माता-पिता भारतीय नागरिक के रूप में पंजीकृत हो; या
  • Persons of full age who or either of the parents were earlier citizen of Independent India and is ordinarily resident in India for 12 months immediately before making application; or/कोई व्यक्ति, जो पूरी क्षमता तथा आयु का हो तथा वह या उसके माता-पिता स्वतन्त्र भारत के नागरिक के रूप में पंजीकृत हो और वह पंजीकरण का इस प्रकार का आवेदन देने से 12 महीने पहले से साधारणतः निवास कर रहा हो; या
  • Persons of full age and capacity registered as an OVERSEAS CITIZEN OF INDIA (OCI) Cardholder for 5 years and ordinarily resident in India for 12 months before making application./कोई व्यक्ति जो पूरी आयु तथा क्षमता का हो तथा वह समुद्रपार किसी देश के नागरिक के रूप में 5 वर्ष से पंजीकृत हो तथा वह इस प्रकार का आवेदन देने से 12 महीने पहले से साधारणतः निवास कर रहा हो | 

By Naturalisation/प्रक्रितिकरण द्वारा:

  • Citizenship of India by naturalisation can be acquired by a foreigner (not illegal migrant) who is ordinarily resident in India for 12 years (throughout the period of 12 months immediately preceding the date of application and for 11 years in the aggregate in the 14 years preceding the 12 months) and other qualifications as specified in Third Schedule to the Act./एक विदेशी ( अवैध प्रवासी नहीं हो ) और जो 12 सालों से भारत में सामान्यतः निवासी रह रहा हो ( आवेदन देने से ठीक पूर्व 12 महीने के दौरान और इस 12 महीनों से पूर्व 14 वर्षों में 11 वर्षों के लिए ) और अन्य योग्यताएं जो कानून  के तीसरी अनुसूची में हो |
  • If in the opinion of the Central Government, the applicant is a person who has rendered distinguished service to the cause of Science, Philosophy, Art, Literature, World Peace or Human progress, it may waive all or any of the conditions./यदि केंद्र सरकार की सोच में आवेदक ने विज्ञानं, दर्शन, कला, साहित्य, विश्व शांति या मानव उन्नति से सम्बंधित विशेष सेवा दिया हो तो यह सारे या किसी अन्य शर्त को हटा सकती है | 

By Incorporation of New Territory/क्षेत्र समाविष्टि द्वारा:

  • If any foreign territory becomes a part of India, the Government of India specifies the persons who among the people of the territory shall be citizens of India./किसी विदेशी क्षेत्र द्वारा भारत का हिस्सा बनने पर भारत सरकार उस क्षेत्र से सम्बंधित विशेष व्यक्तियों को भारत का नागरिक घोषित कर सकती है |
  • Such persons become the citizens of India from the notified date./ऐसे व्यक्ति किसी उल्लेखित तिथि से भारत के नागरिक होते हैं |
  • Ex. When Pondicherry became a part of India, the Government issued Citizenship (Pondicherry) Order, 1962./उदहारण के लिए जब पुडुचेरी भारत का हिस्सा बना तो भारत सरकार ने नागरिकता ( पुडुचेरी )आदेश, 1962 जारी किया |

Loss of Indian Citizenship/नागरिकता की समाप्ति:

The Citizenship Act, 1955, prescribes 3 ways in which an individual can lose his citizenship/नागरिकता अधिनियम, 1955 में किसी व्यक्ति के उसके नागरिकता के समाप्ति के तीन तरीके बताए गए हैं :

  • By Renunciation/स्वैच्छिक त्याग द्वारा
  • By Termination/बर्खास्तगी द्वारा
  • By Deprivation/वंचित करने द्वारा

By Renunciation/स्वैच्छिक त्याग द्वारा:

  • A citizen of India can lose his citizenship upon registration of the declaration of renouncing his citizenship./एक भारतीय नागरिक अपनी नागरिकता की पंजीकरण को स्वैच्छिक त्याग की घोषणा कर समाप्त कर सकता है |
  • If such declaration is made during a war in which India is engaged, its registration shall be withheld by the Central Government./यदि ऐसी कोई घोषणा किसी युद्ध के दौरान की जाती है तो केंद्र सरकार इसके पंजीकरण को एक तरफ रख सकती है |
  • Minor children of such persons also cease to be a citizen, with an option to resume the citizenship of India within 1 year of attaining full age./ऐसे व्यक्ति का नाबालिग बच्चा भी नागरिक नहीं रहता, हालाँकि पूरी आयु के होने के 1 वर्ष के भीतर उसे नागरिकता मिल जाती है |

By Termination/बर्खास्तगी द्वारा:

Any citizen of India who voluntarily acquires the citizenship of another country shall cease to be a citizen of India./यदि कोई भारतीय स्वेच्छा से किसी अन्य देश का नागरिकता ग्रहण कर ले तो उसकी नागरिकता स्वयं बर्खास्त हो जाएगी |

By Deprivation/वंचित करने द्वारा :

It is a compulsory termination of Indian citizenship by the Central Government if,/केंद्र सरकार द्वारा भारतीय नागरिकता को आवश्यक रूप से बर्खास्त करना होगा यदि,

  • The citizen has obtained citizenship by fraud/यदि नागरिकता फर्जी तरीके से प्राप्त की गई हो
  • The citizen has shown disloyalty to the Constitution of India/यदि नागरिक ने संविधान के प्रति अनादर जताया हो
  • The citizen has unlawfully traded or communicated with the enemy during a war/यदि नागरिक ने युद्ध के दौरान गैर-क़ानूनी रूप से शत्रु के साथ सम्बन्ध स्थापित किया हुआ हो या व्यापर किया हुआ हो;
  • The citizen has, within 5 years after registration or naturalisation, been imprisoned in any country for 2 years/पंजीकरण या प्राकृतिक नागरिकता के 5 वर्ष के दौरान नागरिक को किसी देश में 2 वर्ष की कैद की सजा हुई हो |

Non-Resident Indian (NRI)/गैर-निवासी भारतीय ( एनआरआई ):

  • A NRI is a citizen of India, whose stay in India is less than 182 days during the preceding financial year and stayed abroad for employment, business  or vocation outside India or stays abroad under circumstances indicating an intention for an uncertain duration of stay./एक एनआरआई भारत का नागरिक होता है, जो पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान 182 दिन से कम भारत में ठहरा हो और विदेश में रोजगार, व्यापार या पेशा के कारण भारत के बाहर और विदेश में ऐसी परिस्थितियों के कारण जो एक अनिश्चित समय के लिए उसे ठहरने पे मजबूर करता है |
  • They are allowed to be registered as voters in constituencies as per address indicated in their passports./उन्हें अपने निर्वाचन क्षेत्र में अपने पासपोर्ट के पते के  अनुसार पंजीकरण करना होगा |
  • NRI’s don’t require VISA to visit India./इन्हें भारत आने के लिए वीसा की आवश्यकता नहीं होती |

Person of Indian Origin (PIO)/भारतीय मूल का व्यक्ति:

  • A PIO (not being a citizen of Pakistan or Bangladesh or Sri Lanka or Afghanistan or China or Iran or Nepal or Bhutan) is a person, who,/एक भारतीय मूल का व्यक्ति ( पाकिस्तान, बंगलादेश, श्री लंका, चीन, अफगानिस्तान, ईरान, नेपाल या भूटान के नागरिक नहीं हो ) वह व्यक्ति है, जो
    • At any time, held Indian passport, or/जो हर समय भारतीय पासपोर्ट को रखे रहता है , या
    • Who or either of whose father or whose grandfather was a citizen of India by virtue of Constitution of India or the Citizenship Act, 1955./वह या उसके पिता या उसके दादा भारतीय नागरिकता अधिनियम, 1955 के गुणों के कारण भारत का नागरिक होगा |
  • PIO requires VISA for any trip of India and is required to register at local FRRO (Foreign Regional Registration Office) in India upon arrival./भारतीय मूल के व्यक्ति को हर बार भारत आने क लिए एक वीसा की आवश्यकता होती है और इसका पंजीकरण विदेश स्थानीय ऑफिस में करवाया जाता है |
  • PIO and OCI are not granted voting rights./भारतीय मूल का व्यक्ति को मतदान का अधिकार नहीं दिए गए हैं |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)    IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC IAS(Prelims+Mains)

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!