Indian Polity Federal System UPSC IAS Study Notes 2018

Indian Polity Federal System UPSC IAS Study Notes 2018

Indian Polity Federal System UPSC IAS Study Notes 2018

Indian Polity Federal System UPSC IAS Study Notes 2018

Indian Polity Federal System UPSC IAS Study Notes 2018

Federal System/संघीय प्रणाली –

  • The government is classified into unitary and federal on the basis of the nature of relations between the national government and the regional government./सरकार राष्ट्रीय सरकार और क्षेत्रीय सरकार के रिश्ते के आधार पर दो भागों में वर्गीकृत किया गया हैं जो कि एकल व संघीय है |
  • A unitary government is the one in which all the powers are vested in the national government and if the regional governments exists, they derive their authority from the national government. Ex. Britain, France, Japan, China, Italy, Belgium, Norway, Sweden, Spain etc./ एकल सरकार वह है, जिसमें समस्त शक्तियां एवं कार्य राष्ट्रीय सरकार में निहित होती है और यदि क्षेत्रीय सरकार अस्तित्व में होती है तो वे राष्ट्रीय सरकार से अपना प्राधिकार लेती है | जैसे- ब्रिटेन, फ़्रांस, जापान, चीन, इटली, बेल्जियम, नार्वे, स्वीडन,स्पेन इत्यादि |
  • A federal government is one in which powers are divided between the national government and the regional governments by the Constitution itself and both operate in their respective jurisdictions independently. Ex. US, Switzerland, Australia, Canada, Russia, Brazil, Argentina etc./एक संघीय सरकार वह है,जिसमें संविधान के द्वारा राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सरकार के बीच शक्तियों का विभाजन होता है और दोनों ही अपने न्यायक्षेत्र में स्वतंत्रतापूर्वक कार्य करते हैं | जैसे- संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, रूस, ब्राजील, अर्जेंटीना इत्यादि |
  • In a federal model, the national government is known as the Federal government or the Central government or the Union government and the regional government is known as the state government or the provincial government./संघीय व्यवस्था में राष्ट्रीय सरकार को केन्द्रीय सरकार भी कहते है क्षेत्रीय सरकार को  राजकीय सरकार या प्रांतीय सरकार भी कहते हैं |

Federal System/संघीय प्रणाली –

  • Federation is derived from a Latin word foedus which means ‘treaty’ or ‘agreement’./संघ शासन एक लैटिन शब्द फोएदस से लिया गया है जिसका अर्थ होता है ‘संधि’ या ‘समझौता’ |
  • A federation is a new state (political system) which is formed through a treaty or an agreement between the various units./संघ शासन एक नया राज्य (राजनीतिक व्यवस्था) है, जिसे विभिन्न इकाइयों के बीच संधि या समझौते के तहत निर्मित किया जाता है |
  • The units of federation are known by various names like states (as in US) or cantons (as in Switzerland) or provinces (as in Canada) or republics (as in Russia)./संघों की इकाइयों के विभिन्न नाम जैसे- राज्य ( संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में ), कैंटोन ( स्विट्जरलैंड में  ), प्रान्त ( कनाडा में ), और गणतंत्र ( रूस में ) |
  • A federation can be formed in 2 ways by way of integration or by way of disintegration./संघ शासन दो रूपों में निर्मित होता है – एकीकरण व विभेदीकरण द्वारा |
  • In the first case, a number of military weak or economically backward states (independent) come together to form a big and a strong union as in US (oldest federation). It was formed in 1787 following the American Revolution (1775-83). It comprises of 50 states (originally 13 states)./पहले मामले में, सैनिक कमजोरी वाले या आर्थिक रूप से पिछड़े राज्य ( स्वतन्त्र ) मिलकर एक बड़े व मजबूत संघ का निर्माण करते है, जैसा कि अमेरिका में ( सबसे पुराना संघ शासन ) | यह अमेरिकी क्रांति ( 1775-83 ) के बाद 1787 में बना | इसमें 50 राज्य वर्तमान में है ( प्रारंभ में 13 ) |
  • In the second case, a big unitary state is converted into federation by granting autonomy to the provinces to promote regional interest as in Canada. The Canadian federation was formed in 1867 and comprises of 10 provinces (originally 4 provinces)./दूसरे मामले में, एक बड़ा एकीकृत राज्य संघ में परिवर्तित हो जाता है, जहा राज्यों को स्वायत्तता क्षेत्रीय हितों को बढ़ावा देने हेतु दिया जाता है जैसा कि कनाडा में | कनाडा संघ 1867 में बनाया गया था और इसमें 10 राज्य शामिल है ( प्रारंभ में 4 )
  • The framers of the Constitution adopted the federal system because of large size of the country and its socio cultural diversity. It ensures effective governance and reconciles national unity with the regional autonomy./संविधान निर्माता ने देश के विशाल आकर और सांस्कृतिक विविधता के कारण संघीय प्रणाली को चुना | यह कुशल शासन सुनिश्चित करता है और क्षेत्रीय स्वायत्तता के साथ राष्ट्रीय एकता में भी वृद्धि करता है | 

The Indian federal system is based on the Canadian model (have a strong centre). It resembles Canadian federation/भारतीय संघ प्रणाली कनाडा की संघीय प्रणाली  (एक अत्यंत सशक्त केंद्र ) पर आधारित है | यह कनाडा की संघीय व्यवस्था से समान है –

  • In its formation (i.e., by way of disintegration)./इसके निर्माण में ( जैसे कि विखंडित होने के तरीके )
  • In its preference to the term ‘Union’./‘संघ’ शब्द के प्रमुखता के प्रयोग में |
  • In its centralising tendency (vesting more powers in the centre)./इसके केन्द्रीयकरण की प्रवृत्ति में ( केंद्र में अधिक शक्तियां निहित होने के कारण ) |

Federal Features of Indian Constitution /भारतीय संविधान की संघीय विशेषताएं –

Dual Polity/द्वैध राज्पद्धति –

  • The Constitution establishes a dual polity consisting the Union at the Centre and the states at the periphery./संविधान में संघ स्तर पर केंद्र एवं राज्य स्तर पर राज्पद्धति को अपनाया गया |
  • Each deals with specific matters assigned to them./दोनों अपने निर्दिष्ट मामलों को देखती है जो उन्हें प्रदान की गई हैं |

Written Constitution/लिखित संविधान –

  • Indian Constitution is the lengthiest Constitution of the world./भारतीय संविधान दुनिया का सबसे विस्तृत संविधान है |

Federal System/संघीय प्रणाली –

Division of Powers/शक्तियों का विभाजन –

  1. The Constitution divides the powers between the Centre and the states in terms of Union List, State List and Concurrent List in the Seventh Schedule./संविधान सातवें अनुसूची में शामिल केन्द्र सूची, राज्य सूची और समवर्ती सूची (दोनों से सम्बंधित सूची) में केंद्र और राज्य के बीच शक्तियों का विभाजन किया गया है |
  2. The Union List consists of 100 subjects (originally 97), the State List 61 subjects (originally 66) and the Concurrent List 52 subjects (originally 47)./केंद्र सूची में 100 विषय शामिल है ( मूलतः 97 ), राज्य सूची में 61 विषय ( मूलतः 66 ) और समवर्ती सूची में 52 विषय ( मूलतः 47 ) शामिल हैं |
  3. The ‘residuary’ subjects (not given in any of the three lists) are given to the Centre./‘अवशेषीय’ विषय ( जो किसी भी सूची में शामिल  नहीं है ) केंद्र को सौंपे जाते हैं |

Supremacy of the Constitution/संविधान की सर्वोच्चता –

  1. The Constitution is the Supreme law of the land./संविधान देश का सर्वोच्च कानून है |
  2. The laws enacted by the Centre and the states in order to be valid should conform to the provisions of the Constitution./केंद्र या राज्य सरकार द्वारा प्रभावी कानून को वैध होने के लिए संविधान के प्रावधान को पुष्टि करना चाहिए |

Rigid Constitution/कठोर संविधान –

  • The provisions which are concerned with the federal structure (centre-state relations and judicial organisations) can be amended only by special majority of the Parliament and approval of half of the state legislatures./वे प्रावधान जो संघीय सरंचना ( यथा केंद्र-राज्य सम्बन्ध एवं न्यायिक संगठन ) से सम्बंधित है, संसद के विशेष बहुमत एवं सम्बंधित राज्यों में से आधे से अधिक की स्वीकृति द्वारा ही सिर्फ संशोधित की जा सकती है |

Independent Judiciary/स्वतन्त्र न्यायपालिका –

  • The Constitution establishes an independent judiciary headed by the Supreme Court to protect the supremacy of the Constitution by exercising the power of judicial review and to settle disputes between the Centre and the states or between the states./संविधान ने उच्चतम न्यायलय के नेतृत्व में स्वतन्त्र न्यायपालिका की स्थापना न्यायिक समीक्षा की शक्ति का उपयोग कर संविधान की सर्वोच्चता का सरंक्षण करने के लिए और राज्य एवं केंद्र या राज्यों के बीच के विवाद को सुलझाने के लिए किया है |

Bicameralism/द्विसद्नियता –

  • The Constitution provides for bicameral legislature consisting of Rajya Sabha and Lok Sabha./संविधान के अंतर्गत द्विसदन विधायिका में लोक सभा और राज्य सभा शामिल होते हैं |

Unitary Features of Indian Constitution/भारतीय संविधान की एकात्मक विशेषताएं –

Strong Centre/सशक्त केंद्र –

  • The division of powers is in favour of centre./शक्तियों का विभाजन केंद्र के पक्ष की बात है |
  • The Union List contains more subjects than the State List./केंद्र सूची में राज्य सूची से ज्यादा विषय है |
  • The more important subjects have been included in the Union List./अत्यधिक महत्वपूर्ण विषयों को केंद्र सूची में शामिल किया गया है |
  • The Centre has overriding authority over the Concurrent List./समवर्ती सूची में केंद्र को सशक्त बनाया गया है |
  • The residuary powers are also in the hands of centre./अवशेषीय शक्तियां भी केंद्र के हाथों में है |

States not indestructible/राज्य अनश्वर नहीं –

  • The Parliament can by unilateral action change the area, boundaries or name of any state. It requires only a simple majority./संसद एकतरफा कार्यवाही द्वारा किसी राज्य के क्षेत्र, सीमा या नाम को बदल सकती है | इसे सिर्फ एक साधारण बहुमत की आवश्यकता होती है |
  • The Indian Federation is “an indestructible Union of destructible states”./भारतीय संघ ‘विभाज्य राज्यों का एक अविनाशी संघ है|’
  • The American Federation is “an indestructible Union of indestructible states”./अमेरिकी संघ ‘अविनाशी राज्यों का एक विनाशी संघ है|’

Single Constitution/एकल संविधान –

  • Usually, in a federation, the states have the right to frame their own Constitution separate from that of the Centre./ सामान्यत, एक संघ में राज्यों को यह हक़ होता है कि वे केंद्र से अलग अपना एक संविधान बनाए |
  • But India has a single Constitution except in case of Jammu and Kashmir./लेकिन भारत के पास जम्मू और कश्मीर को छोड़ एक संविधान है |

Flexibility of the Constitution/संविधान का लचीलापन –

  • A large part of the Constitution can be amended by the unilateral action of the Parliament, either by simple majority or by special majority./ संविधान का एक वृहद् हिस्सा सिर्फ संसद के एकतरफा कार्य द्वारा साधारण या विशेष बहुमत से संशोधन किया जा सकता है |
  • The power to initiate an amendment to the Constitution lies only with the centre./संविधान के किसी संशोधन को शरू करने की शक्ति सिर्फ केंद्र के पास है |

No equality in state representation/राज्यों के प्रतिनिधित्व में समानता नहीं –

  • The states are given representation in the Rajya Sabha on the basis of population./राज्य सभा में राज्यों को भागीदारी जनसँख्या के आधार पर होती है |

Emergency Provisions/आपातकालीन प्रावधान –

  • During an emergency, the Centre becomes more powerful and the states go into the total control of the centre, converting the federal structure into a unitary one./आपातकाल के दौरान, केंद्र और अधिक शक्तिशाली बन जाता है और राज्य केंद्र के पूर्ण नियंत्रण में चला जाता है | इस प्रकार संघीय व्यवस्था एकात्मक व्यवस्था में तब्दील हो जाती है |

Single Citizenship/एकल नागरिकता –

  • There is only Indian citizenship and no separate state citizenship./यहाँ सिर्फ भारतीय नागरिकता है और कोई अलग राज्य की नागरिकता नहीं है |
  • Federal states like US, Australia, Switzerland have dual citizenship (national citizenship as well as state citizenship)./संघीय राज्य जैसे कि संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, स्विटज़रलैंड में दोहरी नागरिकता होती है ( राष्ट्रीय नागरिकता और साथ ही साथ राज्य नागरिकता ) |

Integrated Judiciary/एकीकृत न्यायपालिका –

  • The single system of Judiciary with Supreme Court at the top and the high courts below it, enforces both the Central laws as well as the state laws./एकात्मक न्यायपालिका जिसमें उच्चतम न्यायालय सबसे ऊपर है और इसके अधीन उच्च न्यायालय होते हैं, जो केन्द्रीय कानून और राज्य कानून दोनों को लागू करता है |
  • In US, there is a double system of courts whereby the federal laws are enforced by the federal judiciary and the state laws by the state judiciary./संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में न्यायालय की दोहरी व्यवस्था है जहा संघीय कानून संघीय न्यायपालिका द्वारा लागू होते हैं और राज्य कानून राज्य न्यायपलिका द्वारा |

Critical Evaluation of the Federal System/संघीय प्रणाली का आलोचनात्मक मूल्यांकन –

  • K C Wheare described the Constitution of India as “quasi-federal”. He remarked that “Indian Union is a unitary state with subsidiary federal features rather than a federal state with subsidiary unitary features”./के. सी. व्हेयर ने भारतीय संविधान को “अल्प-संघीय” कहा है | उन्होंने कहा है कि “भारतीय संघ सहायक एकात्मक गुणों के साथ संघीय राष्ट्र होने के बजाय सहायक संघीय गुणों क साथ एकात्मक राष्ट्र है |”
  • According to K Santhanam, the dominance of the Centre in the financial sphere and the dependence of the states upon the Central grants and the emergence of a powerful planning commission have increased the unitary bias of the Constitution./के. संथानम के अनुसार, वित्तीय मामले में केंद्र का प्रभुत्व और राज्यों की केन्द्रीय अनुदान पर निर्भरता और शक्तिशाली योजना आयोग का उद्भव ने संविधान के एकात्मक पक्ष को और बढ़ाया है |
  • Paul Appleby characterises the Indian system as “extremely federal”./पॉल एप्पलबी ने भारतीय व्यवस्था को “अत्यधिक संघीय” की संज्ञा दी है |
  • Morris Jones termed it as a “bargaining federalism”./मोरिस जोंस ने इसे “सहमति वाला संघ” कहा है |
  • Ivor Jennings has described it as a “federation with a strong centralising tendency”./आइवर जेंनिंग्स ने इसे  “मजबूत केंद्र वाला संघ” कहा है |
  • Granville Austin called Indian federalism as a “cooperative federalism”. He said that though the Constitution of India has created a strong central government, it has not made the state government weak./ग्रेनविल ऑस्टिन ने भारतीय संघ को “सहकारी संघ” कहा है | उन्होंने कहा कि भले ही भारत के संविधान ने शक्तिशाली  केंद्र सरकार का निर्माण किया, पर इसने राज्य सरकार को कमजोर बना दिया |
  • Dr. B R Ambedkar said that the Constitution is a Federal Constitution as it establishes a dual polity and both the Union and the states are created by the Constitution and derive their respective authority from the Constitution. Also the Constitution can be both unitary as well as federal according to the requirements of the time. The states are in no way dependent upon the centre for their legislative and executive authority. The legislative and executive authority is given to centre and the states by the Constitution itself./डॉ. बी. आर. अम्बेडकर ने कहा कि संविधान एक संघीय संविधान है क्युंकी यह द्वैध राजपद्धति की स्थापना करता है और केंद्र एवं राज्य दोनों ही संविधान से बनाए गए हैं और दोनों अपनी शक्तियां संविधान से ही लेते हैं | समय की जरुरत के अनुसार यह एकात्मक और संघीय दोनों हो सकता है | राज्य अपने विधायिका और कार्यपालिका के प्राधिकार के लिए केंद्र पर बिलकुल भी निर्भर नहीं है | संविधान के द्वारा विधायिका और कार्यपालिका का प्राधिकार केंद्र और राज्य दोनों को दिया गया है | 
  • In Bommai case (1994), the Supreme Court held that the Constitution is federal and characterised federalism as its ‘basic feature’./बोम्बे मामले में ( 1994 ) उच्चतम न्यायालय ने निर्णय दिया कि संविधान संघीय है और यह इसकी ‘मूल विशेषता’ है | 

The federalism in India represents a compromise between the following two conflicting considerations/भारतीय संघीय व्यवस्था निम्नलिखित दो संघर्षों के बीच सहमति का प्रतिनिधित्व करती है:

  • Normal division of powers under which states enjoy autonomy within their own spheres; and/सामान्यतः शक्तियों के विभाजन के तहत राज्य स्वायत्त होते हुए अपना कार्य करते हैं | और ;
  • Need for national integrity and a strong Union government under exceptional circumstances./राष्ट्रीय एकता की आवश्यकता और विशेष परिस्थितियों में एक मजबूत केंद्र सरकार |

Following trends in the working of the Indian political system reflects its federal spirit/भारतीय राजपद्धति के निम्नलिखित कार्य संघीय व्यवस्था के सूचक हैं

  • Territorial disputes between states. Ex. Between Maharashtra and Karnataka over Belgaum./राज्यों के बीच क्षेत्रीय विवाद | जैसे कि महाराष्ट्र और कर्णाटक के बीच बेलगाम के मसले पर |
  • Disputes between states over sharing of river water. Ex. Between Karnataka and Tamil Nadu over Cauvery water./नदी जल बंटवारे को लेकर राज्यों के बीच विवाद | जैसे कि कर्णाटक और तमिलनाडू के बीच कावेरी जल के लिए |
  • Emergence of regional parties and their coming to power in states like Andhra Pradesh, Tamil Nadu etc./क्षेत्रीय दलों का उद्भव और आन्ध्र प्रदेश और तमिलनाडु इत्यादि राज्यों में उनका सत्ता में आना |
  • The creation of new states to fulfil the regional aspirations./क्षेत्रीय आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए नए राज्यों का निर्माण |
  • Demand of the states for more financial grants from the Centre to meet their development needs./केंद्र से अधिक वित्तीय अनुदान के लिए राज्यों की मांग उनके विकास की जरूरतों को पूरा करने के लिए |
  • Assertion of autonomy by the states and their resistance to the interference from the Centre./राज्यों द्वारा स्वायत्तता को निरूपित करना और केंद्र से हस्तक्षेप करने के लिए उनके प्रतिरोध।
  • Supreme Court’s imposition of several procedural limitations on the use of Art. 356 (President’s Rule in the States) by the Centre./अनुच्छेद 356 के उपयोग पर सुप्रीम कोर्ट ने कई प्रक्रियात्मक सीमाएं केंद्र द्वारा लागू की हैं  (राज्यों में राष्ट्रपति शासन) |

 

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!