IAS UPSC Ecology Notes | Online Exam Preparation 2018

IAS UPSC Ecology Notes | Online Exam Preparation 2018

IAS UPSC Ecology Notes | Online Exam Preparation 2018

IAS UPSC Ecology Notes | Online Exam Preparation 2018

IAS UPSC Ecology Notes | Online Exam Preparation 2018

Wildlife protection act, 1972 with amendment act of 2003 and 2006/2003 तथा 2006 के संशोधन अधिनियम के साथ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 |

  • The act provides for the protection of wild animals, birds and plants and matters connected with them, with a view to ensure the ecological and environmental security of India./यह अधिनियम भारत के पारिस्थितिक एवं पर्यावरणीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से वन्य जीवों, पक्षियों, एवं पादपों तथा उनसे सम्बंधित मामलों के लिए संरक्षण की व्यवस्था करता है |
  • Extends to whole of India, except the state of Jammu and Kashmir which has its own wildlife act./यह जम्मू एवं कश्मीर, जिसका अपना वन्यजीव अधिनियम है, को छोड़कर समूचे भारत में लागू होता है |
  • It provides for prohibition on use of animal traps except under certain circumstances/यह कुछ विशेष  परिस्थितियों को छोड़कर पशुओं के शिकार पर प्रतिबन्ध लगाता है |
  • It provides for protection of hunting rights of the scheduled tribes of Andaman and Nicobar Islands./यह अंडमान तथा निकोबार के अनुसूचित जनजातियों के शिकार अधिकारों के लिए सुरक्षा की व्यवस्था करता है |
  • Has provision for the convention on International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora (CITES)/इसमें जंगली पादप तथा प्राणिजात में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर सम्मलेन का प्रावधान है |
  • It has six schedules which have varying degrees of protection/इसमें छः अनुसूचियां हैं जिनमें संरक्षण के अलग अलग कोण हैं |
  • Species listed in Schedule I and part II of schedule II get absolute protection- offences under these are prescribed the highest penalties./प्रथम अनुसूची तथा द्वितीय अनुसूची के दूसरे भाग  में सूचीबद्ध प्रजातियाँ को पूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाती है – इसके अंतर्गत अपराधों के लिए उच्चतम दंड निर्धारित हैं |
  • Species listed in Schedule III and schedule IV are also protected, but the penalties are much lower./तृतीय अनुसूची तथा चतुर्थ अनुसूची में  सूचीबद्ध प्रजातियाँ को भी सुरक्षा प्रदान की जाती है किन्तु दंड काफी कम हैं |
  • Schedule V includes the animals which may be hunted, they are called “vermin” eg. common crow, fruit bats, mice and rats only./पांचवी अनुसूची में वे पशु आते हैं जिनका शिकार किया जा सकता है, उन्हें “हानिकारक  जानवर” कहा जाता है | उदाहरण – साधारण कौवा, फलाहारी चमगादड़ चुहिया तथा चूहे |
  • The plants in schedule VI are prohibited from cultivation and planting. These plants are beddomes cycad, blue vanda, kuth, ladies slipper orchids, Pitcher plant, red vanda/छठी अनुसूची के पौधों की खेती करना  तथा उन्हें रोपना निषेध है | ये पादप हैं – बेडडोम्स सिसैड, नीले वांडा, कूठ, लेडीज स्लिपर आर्किड, घटपर्णी, लाल वांडा, |
  • Schedule 3- hyaena, hog deer, nilgai, goral, sponges, barking deer etc/तीसरी अनुसूची : लकडबग्घा, हॉग डियर, नीलगाय, गोरल,  स्पोंगेस, भौकने वाला हिरण आदि |
  • Schedule 4- mangooses, vultures etc./चौथी अनुसूची : नेवले, गिद्ध आदि |
  • Schedule 2- rhesus macaque, dhole, bengal porcupine, king cobra, flying squirrel, himalayan brown beer, etc./दूसरी अनुसूची – रिसास मैकाक, सोनकुत्ता, बंगाल साही, नागराज, उड़ने वाली गिलहरी, हिमालयी भूरा हिरण आदि |
  • Schedule 1- lion tailed macaque, rhinoceros, great indian bustard, norcondam hornbill, nicobar megapode, black buck etc/प्रथम अनुसूची : शेर की पूँछ वाला बन्दर, गैंडे, ग्रेट इंडियन बस्टर्ड,

The act constitute a National Board for Wildlife that/यह अधिनियम राष्ट्रीय वन्यजीव बोर्ड का गठन करता है जो –

  1. Provides guidelines for farming policies and advising Central and State government on promotion of wildlife conservation and controlling poaching and illegal trade of wildlife and its products./कृषि नीतियों के लिए दिशा-निर्देश प्रदान करता है तथा राज्य एवं केंद्र सरकारों को वन्यजीव संरक्षण एवं वन्य जीवों तथा उनके उत्पादों के अवैध व्यापार तथा अवैध शिकार को नियंत्रित करने के लिए परामर्श देता है|
  2. Making recommendations for setting up and managing national parks, sanctuaries and other protected Areas./राष्ट्रीय उद्यानों, अभ्यारण्य, तथा अन्य संरक्षित क्षेत्रों  की स्थापना तथा प्रबंधन के लिए सिफारिशें करता है |
  3. Suggesting measures for improvement of wildlife conservation./वन्यजीव संरक्षण में सुधार के लिए उपाय बताता है |
  • It also sets up National Tiger Conservation authority./यह राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण की स्थापना भी करता है |
  • The act sets up various provisions related to trade and penalties for hunting the animals in wild./यह अधिनियम वनों में जानवरों के शिकार के लिए कई दंडों एवं व्यापार से सम्बंधित विभिन्न प्रावधानों की स्थापना करता है |
  • Five kinds of protected areas can be notified in this act- these are Sanctuaries, National Parks, No grazing, conservation reserves, community reserves, tiger reserve./इस अधिनियम में पांच प्रकार के संरक्षित क्षेत्र चिन्हित किये जा सकते हैं – अभ्यारण्य, राष्ट्रीय उद्यान, चराई रहित, संरक्षण आगार, समुदाय आगार, बाघ आगार |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!