Mission HCS Exam 2018 | Imperialism And Colonialism | History Notes

Mission HCS Exam 2018 | Imperialism And Colonialism | History Notes

Mission HCS Exam 2018 | Imperialism And Colonialism | History Notes

Mission HCS Exam 2018 | Imperialism And Colonialism | History Notes

Mission HCS Exam 2018 | Imperialism And Colonialism | History Notes

Imperialism And Colonialism

Japan as an Imperialist Power:

  • Japan started on her program of imperialist expansion in the last decade of the nineteenth century
  • Western countries had tried to establish their foothold there
  • 1853: American warships under Commodore Perry had, after a show of force, compelled the Japanese to open their country to American shipping and trade
  • 1867: After a change in government, known as Meiji Restoration, Japan began to modernize her economy
  • Within a few decades, she became one of the most industrialized countries of the world but the forces that made many of the Western countries imperialist were also active in the case of Japan.
  • Japan had few raw materials to support her industries so she looked for lands that had them and for markets to sell her manufactured goods

Imperialism in Africa

  • In the later part of the fifteenth century, a new phase began in the history of some parts of Africa.
  • Besides the establishment of commercial relations with some parts of Africa, this phase was characterized by slave trade
  • Till about the last quarter of the nineteenth century, European control over Africa extended over about one-fifth of the territory of the continent.

Slave Trade:

  • The European penetration of Africa from the late fifteenth century onwards was confined for a long time mainly to certain coastal areas
  • Even these limited contacts led to the most tragic and disastrous consequences for the people of Africa, i.e. the purchase and sale of people-the slave trade.
  • African villages were raided by slave traders and people were captured and handed over to the European traders

History Notes

साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में जापान

  • उन्नीसवीं शताब्दी के अंतिम दशक में जापान ने अपना साम्राज्यवादी विस्तार आरम्भ कर diya |
  • पश्चिमी देशों ने भी वहां अपना पैर जमाने की कोशिश की थी
  • 1853: कमोडोर पेरी के नेतृत्व में अमेरिका ने जापान को अपनी सैन्य शक्ति का भय दिखाकर उसे शिपिंग और व्यापार के लिए मजबूर किया |
  • 1867: सरकार में बदलाव के बाद, जिसे मेइजी पुनर्स्थापन के नाम से जाना जाता है,  जापान की अर्थव्यवस्था ने तरक्की की |
  • कुछ दशकों के भीतर, जापान दुनिया के सबसे अधिक औद्योगिक देशों में से एक बन गया ,जिन कारकों से अन्य पश्चिमी देश साम्राज्य्वादी बने थे, वे कारक जापान में भी सक्रिय थे |
  • जापान में उसके उद्योगों को गति प्रदान करने के लिए कच्ची सामग्रियां थीं, इसलिए इसकी तलाश केवल अपने उत्पादों को बेचने के लिए बाज़ार खोजने की जरूरत थी |

अफ्रीका में साम्राज्यवाद:

  • पंद्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में ,अफ्रीका के कुछ भागों के इतिहास में एक नया चरण शुरू हुआ।
  • अफ्रीका के कुछ हिस्सों के साथ व्यापारिक सबंधों के अलावा यह काल खंड दास व्यापार का परिचायक था |
  • उन्नीसवीं सदी की आखिरी तिमाही तक,अफ्रीका महाद्वीप पर यूरोपीय नियंत्रण लगभग 1 /5 गुणा तक बढ़ गया था |

ग़ुलामों का व्यापार:

  • पंद्रहवीं शताब्दी के बाद से लम्बे समय तक यूरोपीय प्रभाव मुख्य रूप से अफ्रीका कुछ तटीय क्षेत्रों  तक सीमित था
  • हालांकि यह नाममात्र प्रभाव भी अफ्रीका के लोगों के दुखद और विनाशकारी साबित हुआ क्यूंकि इसी के साथ ही गुलामों का व्यापार शुरू हो गया |
  • दास व्यापारियों द्वारा अफ्रीकी गांवों पर धावा बोल दिया जाता और लोगों को पकड़कर यूरोपीय व्यापारियों को सौंप दिया गया

Explorer, Traders and Missionaries:

  • They played their respective roles in the conquest of Africa.
  • The explorers aroused the Europeans’ interest in Africa.
  • The missionaries saw the continent as a place for spreading the message of Christianity.
  • The interests created by explorers and missionaries were soon used by the traders.
  • The economic might of the imperialist powers was much greater than the economic resources of the African states
  • The latter did not have the resources to fight a long war
  • In terms of military strength, the imperialist countries were far more powerful than the African states
  • The Africans had outdated firearms which had been sold to them by the Europeans.

West and Central Africa:

  • In 1878, with the financial assistance of King Leopold II of Belgium, H M. Stanley founded the International Congo Association which made over 400 treaties with African chiefs .
  • They did not understand that by placing their ‘marks’ on bits of paper they were transferring their land to the Congo Association in exchange for cloth or other articles of no great value.
  • Stanley acquired large tracts of land by these methods.
  • In 1885, some 2.3 million square kilometres, rich in rubber and ivory, became the ‘Congo Free State’ with Leopold as its king.

French Congo:

  • When Stanley was carving out the empire for King Leopold in Congo, a Frenchman, de Brazza, was active north of the Congo river
  • Following the methods of Stanley, de Brazza won the area for France, this area became what was until recently called the French Congo with its capital town named Brazzaville, after de Brazza.
  • On Africa’s west coast, Senegal had been occupied by France earlier.
  • Now France set out to extend her empire in West Africa. Soon she obtained Dahomey (present Benin), the Ivory Coast and French Guinea.

खोजकर्ता, व्यापारी और मिशनरी:

  • उन्होंने अफ्रीका विजय में अपनी अपनी भूमिका निभाई
  • खोजकर्ताओं ने अफ्रीका में यूरोपीय लोगों की दिलचस्पी को जगाया
  • मिशनरी ने अफ्रीका को ईसाई धर्म के संदेश के प्रसार के लिए एक उपयुक्त स्थान के रूप में देखा।
  • खोजकर्ता और मिशनरियों द्वारा बनाई गई रुचियों का उपयोग व्यापारियों ने अपने व्यापार के लिए किया |
  • अफ्रीकी राज्यों के आर्थिक संसाधनों की तुलना में साम्राज्यवादी शक्तियों की आर्थिक शक्ति बहुत अधिक थी
  • इसके अतिरिक्त लम्बा युद्ध लड़ने के लिए उनके पास पर्याप्त संसाधन भी नहीं थे |
  • सैन्य शक्ति के संदर्भ में, साम्राज्यवादी देश अफ्रीकी राज्यों की तुलना में कहीं ज्यादा शक्तिशाली थे
  • अफ्रीकियों के पास पुरानी तकनीक के अस्त्र-शस्त्र थे जो यूरोपियों ने ही उनको बेचे थे |

पश्चिम और मध्य अफ्रीका:

  • 1878 में, बेल्जियम के राजा लियोपोल्ड द्वितीय की वित्तीय सहायता के साथ, एच.एम. स्टेनली ने अंतर्राष्ट्रीय कांगो संघ की स्थापना की, जिसने अफ्रीकी प्रमुखों के साथ 400 से अधिक संधियां की।
  • उन्हें यह नहीं पता था कि वे अपने प्रभावी क्षेत्रों की जानकारी लिखित में देकर कांगो एसोसिएशन को कपड़ों अथवा अन्य मूल्यहीन वस्तुओं के बदले अपने जमीन दे रहे थे |
  • इन युक्तियों के माध्यम से स्टेनली ने बड़े पैमाने पर भूमि का अधिग्रहण किया।
  • 1885 में, लगभग 2.3 मिलियन वर्ग किलोमीटर क्षेत्र जहाँ रबर और हाथीदांत प्रचुर मात्रा में थे , काँगो के अधीन आ गए जिन पर  लियोपोल्ड का शासन था |

फ्रेंच कांगो:

  • जब स्टेनली कांगो में राजा लियोपोल्ड के साम्राज्य की सीमा का निर्धारण कर रहे थे तो एक अन्य फ्रांसीसी, डे ब्राज़ा, कांगो नदी के उत्तर में सक्रिय था |
  • स्टेनली की नीति का ही अनुसरण करते हुए ,ब्राज़ा ने फ्रांस के लिए उस क्षेत्र को जीत लिया, ब्राज़ा की जीत के बाद इस क्षेत्र को फ्रेंच कांगों कहा जाने लगा तथा ब्राज़िविले इसकी राजधानी बनी |
  • अफ्रीका के पश्चिमी तट पर स्थित सेनेगल पर फ्रांस का कब्जा था।
  • अब फ्रांस पश्चिम अफ्रीका में अपने साम्राज्य का विस्तार कर सकता था | जल्द ही उसने डाहोमी (वर्तमान बेनिन), आइवरी कोस्ट और फ्रेंच गिनी को अपने अधीन कर लिया

Imperialism in Africa

South Africa:

  • In South Africa, the Dutch had established the Cape Colony, which the British took over in the early nineteenth century.
  • The Dutch settlers, known as Boers, then went north and set up two states, the Orange Free State and the Transvaal.

Rhodesia

  • The English adventurer, Cecil Rhodes, came to south Africa in 1870, made a fortune in mining diamond and gold of this region and gave his name to an African colony Rhodesia.
  • Northern Rhodesia is now independent and is called Zambia.
  • Southern Rhodesia which became an independent nation in April 1980 is Zimbabwe.
  • Rhodes became famous as a great philanthropist who founded the ‘Rhodes scholarships’, but he was first of all a profiteer and empire builder.

East Africa:

  • Except for the Portuguese, possession of a part of Mozambique, East Africa had not been occupied by any European power before 1884.
  • In that year a German adventurer, named Karl Peters, came to the coastal region.
  • Using bribery and threats, he persuaded some rulers to sign agreements placing themselves under German protection
  • The ruler of Zanzibar who claimed East Africa as his property got a strip of coast land, 1600 kilometres long and 16 kilometres deep
  • The Northern half of this strip was reorganized as a British sphere of influence, and the southern part Tanganyika, a German sphere of influence.
  • These were later occupied by England and Germany

अफ्रीका में साम्राज्यवाद

दक्षिण अफ्रीका:

  • दक्षिण अफ्रीका में, डच ने केप कॉलोनी की स्थापना की थी, जिस पर अंग्रेजों ने उन्नीसवीं शताब्दी की शुरुआत कब्जा कर लिया था |
  • डच निवासी जिन्हें बोआर कहा जाता था, उत्तर की ओर गए एवं दो राज्यों ऑरेंज फ्री स्टेट और ट्रांसवाल का गठन किया।

रोडेशिया

  • 1870 में दक्षिण अफ्रीका में अंग्रेजी एडवेंचरर, सेसिल रोड्स ने इस क्षेत्र के सोने और हीरे के खनन को आरम्भ किया और इसे अपना नाम रोड्सिया दिया
  • उत्तरी रोड्सिया अब एक स्वतंत्र देश है और इसे ज़ाम्बिया कहा जाता है |
  • दक्षिणी रोडेशिया जो 1980 में एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अस्तित्व में आया अब उसे जिम्बाब्वे कहा जाता है|
  • रोड्स एक महान समाज-सेवी के रूप में प्रसिद्ध हुए जिन्होंने रोड्स स्कोलरशिप की शुरुआत की, लेकिन अंत में वह अपने उपनिवेशों का विस्तार करने वाले और व्यापार द्वारा लाभ कमाने वाले व्यक्ति ही थे |

पूर्वी अफ्रीका

  • पुर्तगालियों को छोड़कर, जिनका मोज़ाम्बिक के एक हिस्से पर कब्जा था , 1884 से पहले किसी भी यूरोपीय देश का पूर्वी अफ्रीका का कब्जा नहीं था |
  • इस वर्ष एक अन्य जर्मन खोजकर्ता कार्ल पीटर ने तटीय क्षेत्रों में प्रवेश किया
  • रिश्वतखोरी और धमकियों का इस्तेमाल करते हुए, उन्होंने कुछ शासकों को जर्मन सुरक्षा का आश्वासन देते हुए कई समझौतों पर हस्ताक्षर करवाए |
  • ज़ांज़ीबार के शासक, जिसने पूर्वी अफ्रीका को अपने राज्य के रूप में दावा पेश किया था, उसे केवल तटीय भूमि का एक खंड ही मिला जो 1600 किलोमीटर लंबा और 16 किलोमीटर गहरा था |
  • इस खंड का उत्तरी भाग ब्रिटिश का प्रभावी क्षेत्र था जबकि दक्षिणी भाग तांगान्यीका जर्मन प्रभाव वाला क्षेत्र था |
  • बाद में इन पर  इंग्लैंड और जर्मनी द्वारा कब्जा कर लिया गया |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!