HCS Sociology Notes 2018 || Haryana Civil Services Exam – Exam Preparation

HCS Sociology Notes 2018 || Haryana Civil Services Exam – Exam Preparation

HCS Sociology Notes 2018 || Haryana Civil Services Exam – Exam Preparation

HCS Sociology Notes 2018 || Haryana Civil Services Exam – Exam Preparation

HCS Sociology Notes 2018 || Haryana Civil Services Exam – Exam Preparation

Marx – Historical Materialism-

Marx : Historical Materialism or Dialectical Materialism:

  • Marx proposed the materialistic view – the most real version of the world must be the one we can actually touch and feel. For materialistic thinkers, the really real world is not the one we create in our minds but the crowded, noisy physical world that surrounds us. If we want to know about real reality, and provide a truthful account of it, social theory must begin with an analysis of real things and not become preoccupied with their ‘ideal’ representation in our thoughts.

Underlying assumption of Materialistic view of Marx:

  • In Marx’s view man is a social being. Marx regards man as both the producer and the product of society. Man makes society and himself by his own actions. History is therefore the process of man’s self – creation.
  • Man is also a product of society. He is shaped by the social relationships and systems of thought he creates. An understanding of human history therefore involves an examination of these relationships. The various parts of society like economic, political, legal and religious institutions can only be understood in terms of their mutual effect.
  • The history of human society is a process of tension and conflict. According to Marx, apart from the communities based on primitive communism at the dawn of history, all societies are divided into social groups known as classes. The relationship between classes is one of antagonism and conflict. Class conflict forms the basis of the dialectic of social change. Social change proceeds from contradictions built into society which are a source of tension and ultimately the source of open conflict and radical change. In Marx’s view, ‘The history of all hitherto existing society is the history of the class struggle’.

मार्क्स – ऐतिहासिक भौतिकवाद-

मार्क्स : ऐतिहासिक भौतिकवाद या द्वंदात्मक भौतिकवाद :

  • मार्क्स ने भौतिकवाद दृष्टिकोण को प्रस्तावित किया – दुनिया का एक सबसे असली संस्करण होना चाहिए जिसे हम छू और महसूस कर सके | भौतिकवादी विचारकों के लिए, वास्तविक असली दुनिया वह नहीं है जो हम मन में बनाते हैं, बल्कि भीड़भाड़, शोरगुल वाली भौतिक दुनिया है जो हमारे चारों ओर है | यदि हम असली वास्तविकता को जानना चाहते हैं, इसकी सही जानकारी देना चाहते हैं, तो सामाजिक सिद्धांतों को वास्तविक वस्तुओं के एक विश्लेषण के साथ प्रारम्भ होना चाहिए और हमारे विचारों में उनके ‘आदर्श’ प्रतिनिधित्व के साथ चिंताकुल नहीं होना चाहिए |

मार्क्स के भौतिकवाद दृष्टिकोण की अन्तर्निहित मान्यता :

  • मार्क्स के दृष्टि में मनुष्य एक सामाजिक जीव है | मार्क्स ने मनुष्य को समाज का उत्पादक व उत्पाद दोनों माना है | मनुष्य ओने कार्यों द्वारा समाज व खुद को बनाता है | इतिहास इसलिए मनष्य के स्व निर्माण की प्रक्रिया है |
  • मनुष्य समाज का एक उत्पाद भी है | वह स्वयं निर्मित सामाजिक संबंधों व  विचारों के प्रणालियों द्वारा बनता है | इसलिए मानव इतिहास की समझ में इन संबंधों के जांच शामिल होती है | आर्थिक, राजनीतिक, क़ानूनी और धार्मिक संस्थाओं जैसे समाज के विभिन्न भागों को उनके साझे प्रभाव के सन्दर्भ में समझा जा सकता है |
  • मानव समाज का इतिहास तनाव व मतभेदों की प्रक्रिया है | मार्क्स के अनुसार, इतिहास के प्रारंभ में प्राचीन साम्यवाद पर आधारित समुदायों से अलग, सभी समाजों को सामाजिक समूहों में बांटा गया जिसे वर्ग कहा जाता है | वर्गों के बीच सम्बन्ध विरोध और संघर्ष का है | वर्ग संघर्ष सामाजिक परिवर्तन के द्वंद का आधार का निर्माण करते हैं | सामाजिक परिवर्तन समाज में निर्मित विरोधाभासों से उत्पन्न होते हैं जो तनाव का स्रोत होते हैं और अंत में खुले मतभेद व कट्टरपंथी परिवर्तन का स्रोत होते हैं | मार्क्स के दृष्टि में, ‘ अब तक  अस्तित्व में मौजूद सभी समाजों का इतिहास वर्ग संघर्ष का इतिहास है |’

HCS Sociology Notes 2018
Idea of dialectic:

  • Marx’s view of history is based on the idea of the dialectic.
  • Dialectical movement represents a struggle of opposites, a conflict of contradictions. The struggle between incompatible forces grows in intensity until there is a final collision which creates a new set of forces on a higher level of development. The dialectical process then begins again as the contradictions between this new set of forces interact and conflict, and propel change.
  • Hegel saw historical change as a dialectical movement of men’s ideas and thoughts. But Marx argued that the source of change lies in contradictions in the economic system in particular and in society in general.
  • As Marx gives priority to economic factors, to ‘material life’, Marx’s view of history is also known as ‘dialectical materialism’. Since men’s ideas are primarily a reflection of the social relationships of economic production, they do not provide the main source of change. It is in contradictions and conflict in the economic system that the major dynamic for social change lies.

Historical Materialism:

  • Marx argues that, ‘The first historical act is, therefore, the production of material life’. Man must work together to produce the goods and services necessary for life. From the social relationships involved in production develops a ‘mode of life’ which can be seen as expression of these relationships. Marx quotes ‘As individuals express their life so they are. What they are, therefore, coincides with their production, with what they produce and how they produce it’. Thus the nature of man and the nature of society as a whole derive mainly from the production of material life.
  • According to Marx, the major contradictions which propel change are found in the economic infrastructure of society. At the dawn of human history, when man supposedly lived in a state of primitive communism, the forces of production and products of labour were communally owned. Therefore, there were no conflict of interest between individuals and groups.
  • With emergence of private property and private ownership of the forces of production, one group gained at the expense of the other.
  • A conflict of interest exists between the minority who own the forces of production and the majority who perform productive labour. The tension and conflict generated by this contradiction is the major dynamic of social change.
  • Marx says that ‘it is not the consciousness of men that determines their being, but on the contrary, their social being determines their consciousness’.
  • The primary aspect of man’s social being is the social relationships are largely reproduced in terms of ideas, concepts, laws and religious beliefs, they are seen as normal and natural.
  • When the law legitimizes the rights of private property, when religious beliefs justify economic arrangements and the dominant concepts of the age define them as natural and inevitable, men will be largely unaware of the contradictions they contain. Therefore the contradictions within the economic infrastructure are compounded by the contradiction between man’s consciousness and objective reality. This consciousness presents a distorted picture of reality since it fails to reveal the basic conflicts of interest which exist in the world which man has created.
  • Historical materialism is both a perspective as well as the methodology. As a perspective, it looks for the causes of development and change in human society in the material conditions or the economic structure of society. As a methodology, it seeks to examine the social structure and explain social change in terms of the dialectical movement of forces of production and relations of production in the mode of production of a given society.
  • According to Friedrich Engels, historical materialism “designates that view of the course of history, which seeks the ultimate causes and the great moving power of all important historic events in the economic development of society, in the changes in the modes of production and exchange, with the consequent division of society into district classes and the struggles of these classes”.

द्वन्द का विचार :

  • मार्क्स के दृष्टि में इतिहास द्वन्द के विचार पर आधारित है |
  • द्वन्द आन्दोलन विपरीत पसृस्थितियों का संघर्ष, विरोधाभासों के मतभेद को प्रदर्शित करता है | असंगत बलों के बीच संघर्ष तीव्रता से तब तक बढ़ता जाता है जब तक कि अंतिम टकराव न हो जाए जो कि विकास के बड़े स्तर पर बलों के एक नए समूह का निर्माण करते हैं | द्वंदात्मक प्रक्रिया फिर शुरू होती है जब बलों के नए समूह के बीच विरोधाभास परस्पर मिलते हैं और संघर्ष होता है और परिवर्तन आगे बढ़ता है |
  • हेगल ने ऐतिहासिक परिवर्तन को मनुष्य के विचारों व सोच के द्वंदात्मक आन्दोलन के रूप में देखा | लेकिन मार्क्स का तर्क यह था कि परिवतन के स्रोत विशेष रूप से आर्थिक प्रणाली में विरोधाभासों में निहित है और सामान्य रूप से समाज में |
  • मार्क्स आर्थिक कारकों को, ‘भौतिक जीवन’ को प्राथमिकता देते हैं, इसलिए मार्क्स के दृष्टि में इतिहास को ‘द्वंदात्मक भौतिकवाद’ से भी जाना जाता है | चूँकि मनुष्य के विचार आर्थिक उत्पादन के सामाजिक संबंधों के मुख्यतः प्रतिबिम्ब हैं, वे परिवर्तन के मुख्य स्रोत नहीं प्रदान करते हैं | यह आर्थिक प्रणाली में विरोधाभासों व मतभेदों में है जिमें सामाजिक परिवर्तन के लिए प्रमुख गति निहित होती है |

ऐतिहासिक भौतिकवाद :

  • मार्क का तर्क है “भौतिक जीवन का उत्पादन ही पहला ऐतिहासिक कार्य है |” मनुष्यों को जीवन के लिए अनिवार्य वस्तुओं व सेवाओं के उत्पादन के लिए साथ में कार्य करना चाहिए | उत्पादन में शामिल सामाजिक सम्बन्धों से ‘जीवन का तरीका’ विकसित होता है जिसे इन संबंधों के अभिव्यक्ति के रूप में देखा जा सकता है | मार्क्स ने कहा है ‘जैसे व्यक्ति अपनी जिन्दगी को व्यक्त करते हैं वैसे ही जिंदगियां भी | वे जो हैं, इसलिए, अपने उत्पादन के साथ मेल खाते हैं, वे जो भी उत्पादन करते हैं और जैसे भी उत्पादन करते हैं |’ इस प्रकार मनुष्य की प्रवृत्ति और समाज की प्रवृत्ति पूर्णतः भौतिक जीवन के उत्पादन से मुख्यतः प्राप्त होती है |
  • मार्क्स के अनुसार, प्रमुख विरोधाभासें जिनसे परिवर्तन आगे बढती हैं समाज के आर्थिक सरंचना में पाए जाते हैं | मानव इतिहास के प्रारंभ में, जब मनुष्य आदिमानव साम्यवाद  की एकं अवस्था में रहने के लिए माना जाता था, उत्पादन के बल और श्रम के उत्पाद सांप्रदायिक के स्वामित्व में थी | इसलिए व्यक्तियों व समूहों के हितों का कोई मतभेद नहीं था |
  • उत्पादन के बलों के निजी स्वामित्व व निजी संपत्ति के उद्भव के साथ एक समूह को लाभ दूसरे की कीमत पर प्राप्त हुआ |
  • अल्पसंख्यक जो उत्पादन के बलों के स्वामी है और बहुसंख्यक जो उत्पादकीय श्रम का कार्य करते हैं के बीच हितों का तकराव है | इस विरोधाभास द्वारा उत्पन्न तनाव व टकराव सामाजिक परिवर्तन की मुख्य गति है |
  • मार्क्स कहते हैं ‘यह मनुष्य की चेतना नहीं है  जो उनके अस्तित्व का निर्धारण करती है, बल्कि इसके विपरीत ये उनका सामाजिक अस्तित्व है जो उनकी चेतना का निर्धारण करता है |’
  • मानव के सामाजिक अस्तित्व का प्रमुख पहलू सामाजिक सम्बन्ध हैं जो विचारों, धारणाओं, नियमों और धार्मिक विश्वासों के सन्दर्भ में बड़े रूप में पुनः निर्मित होते हैं , वे प्राकृतिक और सामान्य रूप में देखे जा सकते हैं |
  • जब नियम निजी संपत्ति के अधिकारों को वैधता प्रदान करते हैं, जब धार्मिक विश्वास आर्थिक व्यवस्थाओं को सही सिद्ध करते हैं और आयु के प्रभावी धारणाएं उन्हें प्राकृतिक और अपरिहार्य रूप में परिभाषित करते हैं, मनुष्य उन विरोधाभासों से बड़े पैमाने पर अनजान रहेंगे जिसे वे रखते हैं | इसलिए आर्थिक सरंचनाओं के अन्दर विरोधाभास मनुष्य की चेतना और निष्पक्ष वास्तविकता से जुड़े हुए हैं | यह चेतना वास्तविकता का एक विकरित चित्र प्रस्तुत करता है क्योंकि यह उन हितों के मूल मतभेदों को उजागर करने में असफल सिद्ध होता है जो उस दुनिया में मौजूद है जिसे इंसान ने बनाया है
  • फ्रेडरिक एंजलस के अनुसार, ऐतिहासिक भौतिकवाद “इतिहास के उस समय के दृष्टि से सम्बंधित है, विनिमय और उत्पादन के तरीकों में परिवर्तन में विशिष्ट वर्गों में  समाज के परिणामस्वरूप विभाजन और इन वर्गों के संघर्ष के साथ समाज के आर्थिक विकास में सभी महत्वपूर्ण घटनाओं के बड़ी गतिशील शक्तियां और अंतिम कारणों की खोज करता है 
  • ऐतिहासिक भौतिकवाद परिप्रेक्ष्य के साथ-साथ प्रणाली विज्ञान भी है | एक परिप्रेक्ष्य के रूप में, यह समाज के आर्थिक सरंचना या भौतिक अवस्थाओं में मानव समाज में परिवर्तन व विकास के कारणों की खोज करता है | एक प्रणाली के रूप में, यह सामाजिक सरंचना का परीक्षण करता है और एक मौजूद समाज के उत्पादन के तरीके में उत्पादन के सम्बन्ध और उत्पादन के बलों के द्वंदात्मक आन्दोलन के सन्दर्भ में सामाजिक परिवातनों की व्याख्या करता है |
  • मार्क्स के अनुसार, वितरण व उत्पादन के आर्थिक प्रणाली समाज के मूल सरंचना का का निर्माण करती है जिनपर अन्य सभी सामाजिक संस्थाएं बनाए जाते हैं |
  • एंजलस के अनुसार, “…..  तत्काल सामग्री का उत्पादन निर्वाह, और परिणामस्वरूप, किसी दिए गए लोगों द्वारा या किसी दिए गए युग के दौरान प्राप्त आर्थिक विकास की डिग्री, जिस पर राज्य संस्थानों, कानूनी धारणाओं, कला पर विचार, और यहां तक कि धर्म पर, संबंधित लोगों का विकास किया गया है |”

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!