HCS Prelims Mains Exam Material | Online Exam Preparation | 2018

HCS Prelims Mains Exam Material | Online Exam Preparation | 2018

HCS Prelims Mains Exam Material | Online Exam Preparation | 2018

HCS Prelims Mains Exam Material | Online Exam Preparation | 2018

HCS Prelims Mains Exam Material | Online Exam Preparation | 2018

Imperialism and Colonialism

Imperialism in Africa

North Africa:

  • Algeria, on the north coast of Africa, was conquered by France in 1830, but it took her about 40 years to suppress the Algerian resistance.
  • It ‘was the most profitable of France’s colonial possessions, providing her a vast market for French goods
  • To the east of Algeria is Tunisia which was coveted by France, England and Italy

Morocco:

  • Morocco is situated on the north coast of Africa, just south of Gibraltar and thus it is very important to the western entrance of the Mediterranean.
  • Both France and Italy wanted to claim it as their territory
  • The two countries agreed, in 1900, to the French occupation of Morocco and to the Italian occupation of Tripoli and Cyrenaica, to the east of Tunisia

Egypt

  • Egypt was a province of the Turkish empire when the scramble for colonies began in the nineteenth century.
  • It was ruled by a representative of the Turkish Sultan, called Pasha
  • Since the time of Napoleon, France had been interested in Egypt
  • A French company had gained a concession from Ismail Pasha, the Governor of Egypt, to dig a canal across the isthmus of Suez.
  • Sudan, or what was earlier known as Egyptian Sudan, was jointly exploited by Egypt and Britain.
  • A Sudanese leader who had proclaimed himself the Mandi had succeeded in overthrowing Egyptian and British control over Sudan.
  • Sudan came under British rule.
  • The French at this time tried to occupy southern parts of Sudan but were forced to withdraw by the British
  • France, however, was given a free hand to extend her control over what was known as western Sudan and the Sahara
  • With these gains, France was able to connect her equatorial conquests with her west and north African conquests.

HCS Prelims Mains Exam Material

अफ्रीका में साम्राज्यवाद

उत्तरी अफ्रीका :

  • अफ्रीका के उत्तरी तट पर बसे अल्जीरिया पर 1830 में फ्रांस ने विजय प्राप्त कर ली थी, किंतु अल्जीरियाई लोगों के प्रतिरोध का दमन करने में उसे 40 वर्ष लग गए |
  • यह फ्रांस की सबसे लाभदायक  औपनिवेशिक संपत्ति थी, जिसने उसे फ्रांसीसी वस्तुओं के लिए एक विशाल बाज़ार प्रदान किया था |
  • अल्जीरिया के पूर्व में ट्यूनीशिया था जिसे जीतने की लालसा फ्रांस, इंग्लैंड तथा इटली को थी |

मोरक्को :

  • मोरोक्को, जिब्राल्टर के बिल्कुल दक्षिण में ,  अफ्रीका के उत्तरी तट पर स्थित है तथा इसलिए भूमध्य में पश्चिमी प्रवेश के लिए यह काफी महत्वपूर्ण था |
  • फ्रांस तथा इटली दोनों इसपर अपने प्रदेश के रूप में दावा करना चाहते थे |
  • 1900 में  इन दोनों देशों ने मोरक्को पर फ्रांस के अधिपत्य को स्वीकार कर लिया तथा त्रिपोली एवं  ट्यूनीशिया के पूर्व में सिरेनेइका पर इटली के अधिपत्य को स्वीकार कर लिया |

मिस्र

  • जब उन्नीसवीं शतब्दी में उपनिवेशों के लिए संघर्ष शुरू हुआ उस वक्त मिस्र तुर्की साम्राज्य का एक प्रांत था |
  • इसपर तुर्की के सुल्तान के पाशा नामक प्रतिनिधि द्वारा शासन किया जाता था |
  • नेपोलियन के समय से ही, फ़्रांस की दिलचस्पी मिस्र में थी |
  • एक फ्रांसीसी कंपनी को मिस्र के गवर्नर इस्माइल पाशा से स्वेज के नगरडमरूमध्य के किनारे  एक नहर बनाने की छूट मिली |
  • सूडान, अथवा जिसे पहले इजिप्टीयन सूडान के नाम से जाना जाता था, का शोषण मिस्र तथा ब्रिटेन दोनों ने संयुक्त रूप से किया |
  • एक सूडानी नेता जिसने खुद को मंडी घोषित किया था, सूडान से ब्रिटिश तथा मिस्र के नियंन्त्रण को उखाड़ फेकने में सफल रहा |
  • सूडान ब्रिटिश शासन के अंतर्गत आ गया |
  • इस समय फ्रांस ने सूडान के दक्षिणी भागों पर कब्ज़ा करने की कोशिश की तथा अंग्रेजों ने उसे वापस जाने पर मजबूर कर दिया |
  • फ़्रांस को हालाँकि पश्चिमी सूडान तथा सहारा पर अपने नियंत्रण को विस्तारित करने की खुली छूट दी गयी |
  • इन प्राप्तियों के साथ , फ़्रांस अब अपने भूमध्यीय उपनिवेशों को अपने पश्चिमी एवं उत्तरी अफ़्रीकी उपनिवेशों के साथ जोड़ने में सक्षम था |

Imperialism

The Americas and the Pacific:

  • By 1820s, almost all countries of the Americas had gained their independence from Spain and Portugal.
  • Only a few colonies were left like Cuba and Puerto Rico under Spanish rule and a few others under British, French, Dutch and Danish rule.
  • The United states in the nineteenth century emerged as the biggest power in the Americas.
  • The forces that had led to the emergence of imperialism in Europe and later in Japan also led to the emergence of the United States as a major imperialist power by the later half of the nineteenth century.
  • After the USA-Spanish War, the Philippines had become a U.S. colony.

Big Stick Policy/ Dollar diplomacy:

  • The policy of the United States was described as the ‘Big Stick’ policy and one of an ‘international policeman’ .
  • The extension of the USA influence through economic investments in the region is known as the ‘Dollar diplomacy’.
  • The economic and political domination of South America was facilitated by the absence of strong governments in the countries of South America.

Panama Canal

  • One of the major acquisitions by the United States was the Panama Canal.
  • A French company had started the construction of the canal in the Isthmus of Panama in Colombia.

Effects of Imperialism:

  • By 1914, almost all parts of the non-industrialized world had come under or indirect control of a few industrialized countries.
  • Most countries of Africa had lost their political freedom and were ruled by one or other country.

साम्राज्यवाद

अमेरिका तथा प्रशांत महासागर :

  • 1820 के दशक में, अमेरिकी महाद्वीप के लगभग सभी देशों को पुर्तगाल तथा स्पेन से स्वतंत्रता मिल चुकी थी |
  • स्पेन के शासन में क्यूबा तथा पोर्टो रिको जैसे केवल कुछ ही उपनिवेश बाकी थे तथा कुछ उपनिवेशों पर अंग्रेज, फ्रांसीसी, डच, तथा डेनिश का शासन था |
  • उन्नीसवीं शताब्दी में संयुक्त राज्य (यूएस) अमेरिकी देशों में सबसे बड़ी शक्ति बनकर उभरा|
  • वे ताकतें, जो यूरोप तथा बाद में जापान में साम्राज्यवाद के उदय की वजह बनीं थीं, वाही ताकतें उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में एक प्रमुख साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में संयुक्त राज्य के उदय की वजह बनीं |
  • संयुक्त राज्य अमेरिका तथा स्पेन के बीच युद्ध के बाद, फिलीपींस अमेरिका का एक उपनिवेश बन गया |  

बड़ी छड़ी नीति/ डॉलर कूटनीति :

  • संयुक्त राज्य की नीति की व्याख्या “बिग स्टिक नीति” तथा एक “अंतर्राष्ट्रीय पुलिस अधिकारी” के रूप में की गयी है |
  • क्षेत्र में आर्थिक निवेशों के माध्यम से  संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रभाव के विस्तार को “डॉलर कूटनीति” के नाम से जाना जाता है |
  • दक्षिण अमेरिका के आर्थिक तथा राजनीतिक प्रभुत्व दक्षिण अमेरिका में मजबूत सरकारों की अनुपस्थिति ने सुगम बना दिया |

पनामा नहर

  • संयुक्त राज्य द्वारा किये गए प्रमुख अधिग्रहणों में से एक पनामा नहर का अधिग्रहण था |
  • कोलंबिया में एक फ्रांसीसी कंपनी ने नहर के स्थलडमरूमध्य का निर्माण शुरू किया था |

साम्राज्यवाद के प्रभाव :

  • 1914 तक, गैर-औद्योगीकृत विश्व के लगभग सभी भाग कुछ औद्योगीकृत देशों के अंतर्गत अथवा अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रण में आ चुके थे |
  • अफ्रीका के अधिकांश देशों ने अपनी राजनीतिक स्वतंत्रता खो दी थी तथा उनपर किसी अन्य देश का शासन था |

Economic Backwardness:

  • Imperialism led to destruction of local industries.
  • For example, During imperialist rule, India’s  indigenous textile industry was destroyed and she became an importer of British cloth.

Racism:

  • Imperialism also bred racial arrogance and discrimination.
  • In their colonies, the white rulers and settlers discriminated against the local inhabitants who were considered inferior to them.

Struggle against Imperialism:

  • At every step, the imperialist powers met with the resistance of peoples they were trying to enslave.
  • Even when the conquest by arms was decisive, foreign rule that ensued was never peaceful for the rulers.
  • The conquered peoples organized movements not merely to overthrow foreign rule but also to develop their countries into modern nations.
  • In a sense, these movements against imperialism were international in character
  • People striving for freedom in one country supported the cause of peoples in other countries.
  • Most of the nineteenth century and the first quarter of the twentieth century were the years in which the nations of the western world held Asia and Africa as their colonial possessions.
  • In the later years of this period of imperialism, about two thirds of the world’s population was living under the rule of one foreign government or the other.
  • The empires acquired by the European nations were the largest in world history.
  • Despite the ‘gentlemen’s agreements’, there was a continuous effort among the western powers to redivide the world as between themselves but never with any consideration for the welfare of the people to whom the territory really belonged.

आर्थिक पिछड़ापन :

  • साम्राज्यवाद स्थानीय उद्योगों के विनाश की वजह बना |
  • उदाहरण के लिए, साम्राज्यवादी शासन के दौरान, भारत के स्वदेशी सूती वस्त्र उद्योग का विनाश हो गया तथा भारत ब्रिटिश वस्त्रों का एक आयातक बन गया |

नस्लवाद :

  • साम्राज्यवाद ने नस्लीय अहंकार तथा भेदभाव को भी बढ़ा दिया |
  • अपने उपनिवेशों में, गोरे शासक तथा उनके द्वारा बसाए गए लोग स्थानीय निवासियों के खिलाफ भेदभाव करते थे जिन्हें उनके सामने तुच्छ अथवा निम्न समझा जाता था |

साम्राज्यवाद के विरुद्ध संघर्ष :

  • प्रत्येक कदम पर, साम्राज्यवादी शक्तियों को उन लोगों के प्रतिरोध का सामना करना पड़ा जिन्हें वे गुलाम बनाना चाहते थे |
  • यहाँ तक कि जब विजय का निर्णय हथियारों से होता था तब भी लागू किया गया विदेशी शासन कभी भी शासकों के लिए शांतिपूर्ण नहीं रहा |
  • जिन लोगों पर विजय प्राप्त किया गया, उन लोगों ने ना केवल विदेशी शासन को उखाड़ फेकने बल्कि अपने देश को भी आधुनिक राष्ट्रों के रूप में विकसित करने के लिए आंदोलन किया |
  • एक तरह से, साम्राज्यवाद के खिलाफ हुए ये आंदोलन अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति के थे |
  • एक देश में स्वतंत्रता की माँग कर रहे लोग अन्य देशों में लोगों की माँग का समर्थन करते थे |
  • उन्नीसवीं शताब्दी के अधिकांश वर्ष तथा बीसवीं शताब्दी के एक चौथाई वर्ष वे वर्ष थे जिसमें पश्चिमी दुनिया के देशों ने एशिया तथा अफ्रीका के देशों को अपनी औपनिवेशिक संपत्ति बनाकर रखा था |
  • इस साम्राज्यवाद की अवधि में बाद के वर्षों में, दुनिया की लगभग दो तिहाई आबादी विदेशी सरकार अथवा अन्य किसी सरकार के शासन में रह रही थी |
  • यूरोपीय देशों द्वारा अधिग्रहित किये गए राष्ट्र विश्व इतिहास में सबसे बड़े थे |
  • जबानी समझौतों के बावजूद पश्चिमी शक्तियों द्वारा विश्व को अपने बीच पुनः विभाजित करने का प्रयास लगातार चलता रहा किंतु उनलोगों के कल्याण पर कभी भी विचार नहीं किया गया जिनका वास्तव में वह क्षेत्र था |  

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!