HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

HCS Prelims Mains 2018 Study Notes (History) || Online Preparation

Industrial Revolution

Competition in trade and rise of Imperialism:

Tariff Barriers:

  • As England was the first country where industries developed, she gained almost complete control over world markets.
  • Even when people in other countries began to use machines they found they could not compete with England’s low prices.
  • Governments passed laws that required the payment of such a High tax on imported British manufactures that similar products made locally sold more as they were cheaper.
  • The levy of tariffs to protect new industries became a widespread practice.

Consequences of Industrialisation

  • Before the Industrial Revolution, most of the population of the world lived in villages and was dependent on agriculture.
  • Almost all economic needs of man were met within the village itself.
  • The towns and Cities that had arisen since the beginning of civilization were, centres of craft and of political and administrative control.

Positive impact of Industrialisation

  • The Industrial Revolution brought countries and peoples together.
  • Industrial Revolution created an international consciousness among peoples because the developments in one place began to influence the developments in other places.

Condition of industrial workers:

  • The Industrial Revolution produced a vast number of landless, toolless workers, who were wholly dependent on an employer.
  • They had to accept whatever wage the employer offered, for there were usually more workers than jobs.
  • Women and children were employed even in mines because they could be hired for less money.
  • Often they had to work from 15 to 18 hours a day with no rest periods.

HCS Prelims Mains 2018

व्यापार में प्रतिस्पर्धा तथा साम्राज्यवाद का उदय :

प्रशुल्क बाधाएँ :

  • चूँकि इंग्लैंड पहला देश था जहाँ उद्योगों का विकास हुआ, इसलिए उसने पूरे विश्व के बाज़ारों पर लगभग पूरी पकड़ बना ली |
  • यहाँ तक कि जब अन्य देशों के लोगों ने मशीनों का प्रयोग करना शुरू किया तो उन्होंने पाया कि वे इंग्लैंड की कम कीमतों का मुकाबला नहीं कर सकते हैं |
  • सरकारों ने  उन कानूनों को पारित किया जिनके तहत आयातित ब्रिटिश वस्तुओं पर उच्च कर के भुगतान को आवश्यक बनाया गया ताकि स्थानीय स्तर पर उत्पादित समरूप वस्तुओं को सस्ती होने के कारण  अधिक बेचा जा सके |
  • नए उद्योगों को संरक्षित करने के लिए प्रशुल्क उगाही का कार्य एक व्यापक चलन बन गया |

औद्योगीकरण के परिणाम

  • औद्योगिक क्रांति के पहले, विश्व की आबादी गाँवों में रहती थी तथा कृषि पर निर्भर थी |
  • मनुष्य की लगभग सभी आर्थिक आवश्यकताएँ गाँव में ही पूरी हो जाती थीं |
  • शहर तथा कस्बे जिनका उदय सभ्यता की शुरुआत से हुआ था, वे शिल्प तथा राजनीतिक एवं प्रशासनिक नियंत्रण के केंद्र थे |

औद्योगीकरण के सकारात्मक प्रभाव

  • औद्योगिक क्रांति लोगों तथा विभिन्न राष्ट्रों  को एकसाथ लेकर आयी|
  • औद्योगिक क्रांति ने लोगों के बीच  अंतर्राष्ट्रीय चेतना का निर्माण किया क्योंकि एक स्थान पर हुए विकास ने अन्य स्थानों पर विकास को प्रभावित किया |

औद्योगिक श्रमिकों की हालत :

  • औद्योगिक क्रांति ने बड़ी संख्या में भूमिहीन, साधनहीन  श्रमिकों को जन्म दिया जो पूरी तरह से नियोक्ता पर निर्भर थे |
  • नियोक्ता जो भी मजूदरी देता था, उन्हें स्वीकार करना पड़ता था, क्योंकि नौकरियों से अधिक संख्या श्रमिकों की थी |
  • महिलाओं तथा बच्चों से यहाँ तक कि खानों में भी काम करवाया जाता था क्योंकि उन्हें कम पैसे देकर काम पर रखा जा सकता था |
  • अक्सर उन्हें बिना किसी विश्राम अवधि के 15 से 18 घंटे काम करना पड़ता था |

Efforts to improve working conditions in industry

Labour Laws

  • A few humanitarian reformers and some landowners who were jealous of big businessmen combined with English workers to get the first laws to improve conditions of work.   
  • In 1802, England passed its first Factory Act, limiting the hours of work for children to twelve a day.

Trade Unions

  • Many of the laws to protect workers have been due to the pressure from workers’ trade unions.
  • When the English workers first formed trade unions, employers called them ‘unlawful combinations’ and laws were passed to curb such ‘evils’.

Right to vote:

  • English industrial workers did not have the right to vote in those days.
  • In the thirties and forties of the 19th century, a movement known as the ‘Chartist Movement‘, was launched to get the right of vote for workers.
  • Though the movement declined by the fifties of the 19th century, left its influence and through the Acts of 1867, 1882, 1918 and 1929 all adult citizens were enfranchised.

Government responsibility and Industrialisation

Laissez-faire

  • Protection for industrial workers could not have taken place without a change in the ideas of the responsibilities of governments.
  • When the Industrial Revolution was gaining strength in England and the same was generally true in other countries, the growing belief was that governments should not interfere with business and industry.

उद्योग में कार्यकारी परिस्थितियों को सुधारने के प्रयास :

श्रमिकों के लिए नियम

  • कुछ मानवीय सुधारक और कुछ जमींदार जो बड़े व्यवसायियों से ईर्ष्या करते थे, वे स्थानीय मजदूरों के साथ मिलकर काम की स्थिति में सुधार के लिए पहला कानून पारित करवाना चाहते थे |
  • 1802 में, इंग्लैंड में प्रथम कारखाना अधिनियम पारित किया गया, जिसमें बच्चों के कार्य के घंटे एक दिन में बारह तक सीमित कर दिए |

ट्रेड यूनियन

  • श्रमिकों की सुरक्षा वाले कई क़ानून श्रमिकों के ट्रेड यूनियन के तरफ से दबाव की वजह से बनाए गए थे|
  • जब अंग्रेज श्रमिकों ने पहली बार ट्रेड यूनियन बनाया, तब नियोक्ताओं ने उन्हें गैर-कानूनी संगठन कहा तथा इस तरह की बुराइयों को नियंत्रित करने के लिए कई क़ानून पारित किये गए |

मतदान का अधिकार :

  • अंग्रेज औद्योगिक श्रमिकों के पास उन दिनों वोट डालने का अधिकार नहीं था |
  • 19वीं शताब्दी के 30 एवं 40 के दशक में, श्रमिकों के लिए मतदान का अधिकार प्राप्त करने के उद्देश्य से एक आंदोलन की शुरुआत की गयी जिसे चार्टर आंदोलन के रूप में जाना गया |
  • हालाँकि उन्नीसवीं शताब्दी के 50वें दशक में यह आंदोलन समाप्त हो गया किंतु इसके प्रभावस्वरूप 1867, 1882, 1918 तथा 1929 के अधिनियमों के द्वारा सभी वयस्क नागरिकों को मताधिकार दे दिया गया

सरकार की जिम्मेदारी तथा औद्योगीकरण

अहस्तक्षेप (बीच में ना आने की नीति )

  • सरकार की जिम्मेदारियों के विचारों में परिवर्तन के बिना औद्योगिक श्रमिकों का संरक्षण नहीं किया जा सकता था |
  • जब औद्यगिक क्रांति इंग्लैंड में मजबूत हो रही थी तथा अन्य देशों में भी सामान्यतः ऐसा ही हो रहा था तो, उभरती हुई  मान्यता यह थी कि सरकार को व्यापार तथा उद्योग में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए |

Developments in Europe and America in the 18th and 19th century:

  • The basic features of these developments were the growth of democratic political systems, nationalism and socialism.
  • These developments began first in certain parts of Europe.
  • Since then, particularly from the 19th century, the establishment of democratic political systems and of independent states based on nationalism have been among the primary aims of peoples the world over.

Revolutionary and Nationalist movements

Feudalism to Nation states:

  • Under feudalism, societies were divided into classes some of which were privileged while the others were exploited.
  • A man’s entire life was determined at the time of his birth, depending on the class into which he was born.
  • Two main classes in the feudal society were feudal lords and serfs.
  • The political systems of the time were also determined by the prevailing social and economic system.

Middle class:

  • In economic life, this class gradually became very important.
  • However, it was obstructed in its growth by the outdated political systems based on privilege.
  • It could grow only if it also held the political power.

Working class:

  • This class also was opposed to the autocratic political systems.
  • Serfdom had declined in some countries but in most other countries of Europe, it was still the dominant feature of the social system.
  • There were many revolts of the serfs but they were suppressed.
  • However, during the period from the 17th to the 19th centuries, there arose movements in different parts of Europe to overthrow the existing political systems.

18वीं तथा 19वीं शताब्दी में अमेरिका तथा यूरोप में विकास :

  • इस विकास की बुनियादी विशेषताएँ लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रणालियों, राष्ट्रवाद तथा समाजवाद का विकास थीं |
  • ये घटनाक्रम  पहले यूरोप के कुछ हिस्सों में शुरू हुआ |  
  • तब से, विशेष रूप से 19वीं शताब्दी से, लोकतांत्रिक राजनीतिक व्यवस्था तथा राष्ट्रवाद आधारित स्वतंत्र राज्यों की स्थापना पूरे विश्व के लोगों के प्रमुख उद्देश्यों में शामिल थी |

सामंतवाद से राज्यों तक :

  • सामंतवाद के अंतर्गत समाज वर्गों में विभाजित था जिसमें से कुछ वर्ग के पास विशेषाधिकार होते थे, जबकि अन्य वर्ग शोषित थे |  
  • व्यक्ति का पूरा जीवन उसके जन्म के समय निर्धारित हो जाता था , जो इस बात पर निर्भर करती था  कि उसका जन्म किस वर्ग में हुआ है |
  • सामंतवादी समाज में दो प्रमुख वर्ग – सामंत तथा दास थे |
  • उस समय की राजनीतिक व्यवस्थायें भी प्रचलित सामाजिक तथा आर्थिक व्यवस्था द्वारा निर्धारित की जाती थीं |

मध्य वर्ग :

  • आर्थिक जीवन में, वर्ग धीरे-धीरे बहुत महत्वपूर्ण हो गया |
  • लेकिन, विशेषाधिकार पर आधारित पुरानी राजनीतिक व्यवस्थाओं ने इसकी उत्पत्ति में बाधाएँ उत्पन्न की |
  • इसका विकास केवल तभी हो सकता था जब इसके पास भी राजनीतिक सत्ता होती |

श्रमिक वर्ग:

  • यह वर्ग भी निरंकुश एकतंत्रीय राजनीतिक व्यवस्था के खिलाफ था |
  • कुछ देशों में दासत्व की समाप्ति हो गयी किंतु यूरोप के अधिकांश अन्य देशों में, यह अभी भी सामाजिक व्यवस्था की प्रभावी विशेषता बना हुआ था |
  • गुलामों ने कई विद्रोह किये किंतु उनका दमन कर दिया गया |
  • लेकिन, 17वीं से 19वीं शताब्दी की अवधि के दौरान, यूरोप के विभिन्न भागों में वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था को उखाड़ फेंकने  के लिए कई आंदोलन हुए |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!