HCS Pre cum Main Exam Complete Study Notes (History) | HCS 2018

HCS Pre cum Main Exam Complete Study Notes (History) | HCS 2018

HCS Pre cum Main Exam Complete Study Notes (History) | HCS 2018

HCS Pre cum Main Exam Complete Study Notes (History) | HCS 2018

HCS Pre cum Main Exam Complete Study Notes (History) | HCS 2018

Imperialism and Colonialism

Imperialism

Factors that helped the rise of Imperialism (contd..):

  • The Spanish rule in Americas had resulted large-scale extermination of original inhabitants/Native-Americans.
  • Because they were forced to work in gold/silver mines and were massacred, if resisted.
  • Foreigners brought new diseases, and Native Americans had no immunity against them.

1. Improvement in Transport and Communication:

  • The Industrial Revolution brought drastic changes in transport and communication.
  • Steamship could carry goods much faster than the old sailing vessels.
  • The imperialist countries built railroads and inland waterways in the conquered areas, with the help of cheap local labor.

2. Rise of extreme nationalism:

  • Later part of 19th century was a period of intense nationalism
  • Germany and Italy had just succeeded in becoming unified nations.
  • Nationalism in the late 19th century came to be associated with chauvinism.

3. Mind diversion:

  • Colonies helped to ensure social peace and prevented socialist revolution at home by taking the minds of the working class off their misery.

Fear and security

  • Initially, colonies were acquired to get cheap raw material and market to sell finished products.
  • But then Imperialist countries started acquiring places for their military or strategic importance also.

HCS Pre cum Main Exam

साम्राज्यवाद  

साम्राज्यवाद के उदय के कारण-

  • अमेरिका में स्पेनिश शासन के फलस्वरूप मूल निवासियों / मूल-अमेरिकियों का बड़े पैमाने पर शोषण किया गया |
  • क्यूंकि उन्हें  सोने / चांदी की खानों में काम करने के लिए मजबूर किया गया , यदि वे मना करते तो उनकी हत्या कर दी जाती |
  • विदेशी नए नए रोग लेकर आये और मूल अमेरिकियों के पास उनसे लड़ने की कोई प्रतिरक्षा नहीं थी।

1. परिवहन और संचार में सुधार:

  • औद्योगिक क्रांति से परिवहन और संचार में भारी परिवर्तन आया |
  • आधुनिक पोत पुराने नौकायन जहाजों की तुलना में सामान बहुत तेज़ी से ला सकते थे |
  • सस्ते स्थानीय मजदूरों की मदद से साम्राज्यवादी देशों ने विजय प्राप्त क्षेत्रों में रेलमार्ग और अंतर्देशीय जलमार्ग बनाये |

2. चरम राष्ट्रवाद का उदय:

  • 19 वीं शताब्दी का उत्तरार्द्ध चरम राष्ट्रवाद का काल था|
  • जर्मनी और इटली का एकीकरण इसी काल में हुआ था |
  • 19 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में राष्ट्रवाद, अंधराष्ट्रीयता के साथ जुड़ गया |

3. मानसिक व्यपवर्तन

  • उपनिवेशों ने सामाजिक शांति सुनिश्चित करने में मदद की और अपने दुख से कामकाजी वर्ग का मन मोह लेते हुए गृह क्षेत्र में समाजवादी क्रांति को रोका ।

भय और सुरक्षा

  • प्रारंभ में, उपनिवेशों का अधिग्रहण सस्ते कच्चे माल की प्राप्ति और निर्मित उत्पादों को बेचने के लिए किया गया था |
  • लेकिन बाद में , साम्राज्यवादी देशों ने अपने सैन्य या सामरिक महत्व के लिए इन क्षेत्रों पर कब्जा करना शुरू कर दिया |

Conditions that Favored Imperialism in Asia and Africa:

  • Biggest factor was lack of industrialization.

1. Military Strength:

  • Asian and African state did not have the economic might of imperialist powers- to fight a long war. 
  • They fought with axes, bows and outdated firearms while Europeans had new rifles and a “maxim-gun” (a fast firing machine gun) and the naval artillery to pound the coastal cities of their enemies while Indian and Arab ships didn’t have guns.

2. Internal Rivalries:

  • Politically, Asian and African states were not united.
  • There were Conflicts between states and within states, the ruler vs. chiefs, warlords, merchants etc.
  • Hence they often sought the support of Europeans against their rivals.

3. No Empires

  • In the ancient and mediaeval times, powerful empires had existed in Asia and Africa but during 19th century their governments became very weak.
  • They still followed the old ways of governing, even though they had outlived their usefulness.

Imperialism in China

  • Imperialist domination of China began with what are known as the Opium Wars
  • Before these wars, only two ports were open to foreign traders
  • British merchants bought Chinese tea, silk and other goods, but there was no market for British goods in China.
  • The British merchants started smuggling opium into China on a large scale.

एशिया और अफ्रीका में साम्राज्यवाद के पक्ष में कारक:

  • सबसे बड़ा कारक था उद्योगों का अभाव |

1. सैन्य शक्ति:

  • एशियाई और अफ्रीकी राज्य में साम्राज्यवादी शक्तियों की से युद्ध करने कि आर्थिक ताकत नहीं थी |
  • वे कुल्हाड़ियों, धनुष और पुराने शस्त्रों  से लड़ते थे जबकि यूरोपीय देशों के पास नयी प्रकार कि राइफल एवं मैक्सिम गन एवं नौसेना तोपखाने थे जिनके द्वारा वे अपने शत्रु देशों के तटीय इलाकों पर धावा बोल सकते  थे जबकि भारतीय और अरब लोगों के पास बंदूकें नहीं थी |

2. आंतरिक प्रतिद्वंद्विता:

  • एशियाई और अफ्रीकी राज्य राजनीतिक रूप से एकजुट नहीं थे।
  • यहाँ राज्य का अन्य राज्य के साथ, राज्य का स्वयं के भीतर, राजा का मुखिया, सरदार, व्यापारी आदि से मतभेद रहता था |
  • अतएव वे प्रायः अपने प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ गोरों का समर्थन माँगते थे |

3. किसी भी साम्राज्य का ना होना

  • प्राचीन और मध्यकालीन काल में, एशिया और अफ्रीका में शक्तिशाली साम्राज्य थे लेकिन 19 वीं सदी के दौरान या तो इनका पतन हो चूका था या फिर ये अप्रभावी हो चुके थे |
  • अब भी वे पुराने और अप्रचलित ढंग से शासन कर रहे थे|

चीन में साम्राज्यवाद

  • चीन का साम्राज्यवादी वर्चस्व अफीम युद्ध के साथ शुरू हुआ |
  • इन युद्धों से पहले,चीन में विदेशी व्यापार के लिए केवल दो बंदरगाह ही थे |
  • ब्रिटिश व्यापारियों ने चीन से चाय, रेशम और अन्य सामान खरीदे, लेकिन चीन में ब्रिटिश माल के लिए कोई बाजार नहीं था।
  • बड़े पैमाने पर ब्रिटिश व्यापारियों ने चीन में अफीम की तस्करी शुरू कर दी थी।

Imperialism in South and Southeast Asia:

  • South and Southeast Asia includes Nepal, Burma, Sri Lanka, Malaya, Indonesia, IndoChina, Thailand and the Philippines
  • Even before the rise of the new imperialism, many of these countries were dominated by the Europeans
  • Sri Lanka was occupied by the Portuguese, then by the Dutch, and later by the British

IndoChina

  • The area in SouthEast Asia once called Indo-China consists of Laos, Cambodia and Vietnam.
  • When England was fighting China over the opium trade, France was trying to extend her commerce in IndoChina.

Burma:

  • In 1880, the king of Burma gave France the right to build a railway from Tonkin to Mandalay
  • The French were trying to dominate all of SouthEast Asia.
  • The British government, fearing French expansion, started a war with Burma.

Imperialism in Central and Western Asia:

  • England and Russia were rivals in the struggle to control Central Asia, Iran (Persia), Afghanistan and Tibet.
  • The Russian empire succeeded in annexing almost all of Central Asia in the second half of the nineteenth century.
  • The conflict between England and Russia came to a head over Iran and Afghanistan
  • Besides some minor economic interests in these countries, Britain was mainly concerned about defending her conquests in India against the expansion of Russia in Central Asia.

दक्षिण और दक्षिण-पूर्व एशिया में साम्राज्यवाद:

  • दक्षिण और दक्षिणपूर्व एशिया में नेपाल, बर्मा, श्रीलंका, मलाया, इंडोनेशिया, इंडो-चाइना, थाईलैंड और फिलीपींस शामिल हैं|
  • नए साम्राज्यवाद के उदय से पहले भी, इन देशों पर कई यूरोपीय देशों का प्रभुत्व था |
  • श्रीलंका पर पुर्तगालियों का कब्जा था, उसके बाद डच आये और बाद में अंग्रेजों ने इसे कब्जा कर लिया था

इंडो-चीन

  • दक्षिण पूर्व एशिया में इंडो-चीन क्षेत्र में लाओस, कंबोडिया और वियतनाम शामिल थे।
  • जब इंग्लैंड अफ़ीम व्यापार पर चीन से लड़ रहा था, तब फ्रांस इंडो-चीन में अपना व्यापार बढ़ाने की कोशिश कर रहा था।

बर्मा:

  • 1880 में, बर्मा के राजा ने फ्रांस को टोंकिन से माण्डले तक रेलवे लाइन बनाने का अधिकार दे दिया |
  • फ्रेंच सभी दक्षिण पूर्व एशिया पर कब्जा करने कि कोशिश कर रहे थे |
  • ब्रिटिश सरकार ने फ्रांसीसी विस्तार के डर से बर्मा के साथ युद्ध शुरू कर दिया |

मध्य और पश्चिमी एशिया में साम्राज्यवाद:

  • इंग्लैंड और रूस, मध्य एशिया, ईरान (फारस), अफगानिस्तान और तिब्बत पर अपना आधिपत्य स्थापित करने के लिए संघर्ष करने वाले प्रमुख प्रतिद्वंदी थे |
  • उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्ध में लगभग पूरे मध्य एशिया पर रूस का आधिपत्य हो चूका था |
  • इंग्लैंड और रूस के बीच का संघर्ष अब ईरान और अफगानिस्तान कि ओर स्थानांतरित हो गया |
  • इन देशों में कुछ मामूली आर्थिक हितों के अतिरिक्त , ब्रिटेन का एकमात्र लक्ष्य भारत में अपने प्रतिद्वंदी रूस ,के मध्य एशिया के विजय रथ को रोकना था

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!