HCS Online Preparation | Sociology Study Material | Important Topics

HCS Online Preparation | Sociology Study Material | Important Topics

HCS Online Preparation | Sociology Study Material | Important Topics

HCS Online Preparation | Sociology Study Material | Important Topics

HCS Online Preparation | Sociology Study Material | Important Topics

Important Concepts-

महत्वपूर्ण अवधारणायें-

Sociological Imagination-

  • C. Wright Mills used the expression ‘the sociological imagination’ to demonstrate how sociological theories help us to see familiar situations in new ways or give us insights into unfamiliar situations.
  • According to Mills, the sociological imagination can help in differentiating between personal troubles and public issues. The sociological imagination is the ability to link our personal lives and experiences with our social world.
  • He tells how personal troubles occur within the ‘character of the individual and within the range of his immediate relationships with others’, whereas public issues are a ‘public matter- some values cherished by public which they feel are threatened’. According to Mills, an individual may be able to solve a trouble, but a public issue can only be resolved by society and its social structures. For ex., one person unemployed is his own personal trouble but unemployment on  a large level is a public issue.
  • The sociological imagination challenges the view that the problem is ‘natural’ or based on individual limitations.  It tells how the problem is rooted in society and emphasizes the structural bases of social problems. Individuals may have agency, the ability to make their own choices, but their actions and choices are regulated or limited by the realities of the social structure.
  • According to Jeanne Ballantine and Keith Roberts, sociologists examine the software and hardware of society.  The software is our culture that act as a guideline for living. A culture includes norms, values and beliefs. The hardware includes the social structures that bring order to our lives like positions that we occupy in society, social groups to which we belong and social institutions.

समाजवादी कल्पना-

  • सी. राइट मिल्स ने ‘समाजवादी कल्पना’ शब्द का प्रयोग यह दर्शाने के लिए किया है कि कैसे समाजवादी सिद्धांत परिचित परिस्थितियां नए तरह से देखने में हमें मदद करते हैं या अपरिचित परिस्थितियों में मार्ग दिखाते हैं |
  • मिल्स के अनुसार, समाजवादी कल्पना व्यक्तिगत समस्या और सार्वजानिक मामलों में अंतर करने में मदद कर सकती है | समाजवादी कल्पना हमारे व्यक्तिगत जिन्दगी और अनुभवों को हमारे सामाजिक दुनिया के साथ जोड़ने की क्षमता है |
  • वह बताते हैं कि कैसे व्यक्तिगत समस्याएं ‘एक व्यक्ति के चरित्र और उसके दूसरों के साथ निकट संबंधों के सीमा के अन्दर’ होती है, जबकि सार्वजनिक परेशानियां ‘सार्वजनिक मुद्दे हैं – कुछ ऐसी बातें जिन्हें लोग समझते हैं कि ये उनके लिए खतरा है’ | मिल्स के अनुसार, एक व्यक्ति एक समस्या का समाधान करने में सक्षम हो सकता है, लेकिन सार्वजनिक समस्या का समाधान सिर्फ समाज और इसके सामाजिक सरंचना द्वारा ही हो सकता है | उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति जो बेरोजगार है ये उसकी अपनी निजी समस्या है जबकि बड़े पैमाने पर बेरोजगारी एक सार्वजनिक समस्या है |
  • सामाजिक सोच को देखते हुए यह समस्या सामने आती है कि समस्या ‘प्राकृतिक’ है या निजी सीमाओं पर आधारित है | यह बताता है कि समस्या समाज में कैसे निहित है और सामाजिक समस्याओं का सरंचनात्मक आधार पर प्रभाव डालता है |व्यक्तियों में एजेंसी हो सकती है, अपनी पसंद बनाने की क्षमता हो सकती है, लेकिन उनके पसंद और कार्य सामाजिक सरंचना के वास्तविकता द्वारा सीमित या विनियमित होते हैं |
  • जेंने बेलेन्टाइन और कीथ रोबर्ट्स के अनुसार, समाजशास्त्री समाज के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की जांच करते हैं | सोफ्टवेयर हमारी संस्कृति है जो जीवनयापन के लिए दिशानिर्देश की तरह कार्य करती है | एक संस्कृति में अनुशासन, महत्त्व और विश्वास शामिल होते हैं | हार्डवेयर में सामाजिक सरंचना होती है जो हमारे जीवन में एक अनुशासन लाती है जैसे कि वे पद जो समाज में हम ग्रहण किये रहते हैं, वे सामाजिक समूह जिनमें हम शामिल रहते हैं और सामाजिक संस्थाएं |

Society-

  • Generally, Society consists of the intricate network of social relationships by which every human being is interconnected with his fellowmen.
  • Reciprocal recognition and commonness are the essential features of every social relationship. This reciprocal and mutual recognition, accompanied with feeling of ‘commonness’ may be the ‘conscience of kind’ as said by Giddings, the ‘we-feeling’ of Cooley, or a ‘common propensity’ of W.I. Thomas.
  • Society is a group of individuals held together by certain enduring relationships in the pursuance of common ends. The elements of unity, plurality, stability and community are the characteristics of a society.

HCS Online Preparation
समाज-

  • सामान्यतः, समाज सामाजिक रिश्तों के एक जटिल जाल से बना होता हुआ है जिससे हर इंसान अपने प्रियजनों से जुड़ा हुआ है |
  • पारस्परिक मान्यता और समानता हर सामाजिक रिश्ते के अनिवार्य विशेषताएं हैं | यह पारस्परिक और आपसी पहचान, ‘समानता’ के अहसास से जुड़ी होती है, या जैसा कि गिदिंग्स ने कहा है कि ‘विवेक की तरह’ या कोली के ‘हम-भावना’ या डबल्यू. आई. थॉमस के ‘समान प्रवृत्ति’ से जुड़ी हो सकती है |
  • समाज सामान्य अंत के अनुसरण में कुछ स्थायी संबंधों द्वारा साथ जुड़े हुए व्यक्तियों का एक समूह है | समाज की विशेषता एकता, बहुलता, स्थिरता और समुदाय के तत्व हैं 

Features of Society necessary to understand social theory:

  • Society consists of the social institutions and social relationships that are both concrete and abstract at the same time. Some features of society are necessary to understand social theory.
  • It is the abstract nature of much of society and our experiences in society that necessitates the need for social theory.
  • Another feature of society necessary for theorizing it is that it is patterned, i.e., society and humans living in it follow routines and have regularities that are open to theorizing by sociologists.

समाज की विशेषताएं जो सामाजिक सिद्धांत समझने के लिए अनिवार्य हैं :

  • समाज में सामाजिक संस्थाएं और सामाजिक रिश्तें हैं जो कि एक ही समय पर ठोस और सार दोनों हैं | समाज की कुछ विशेषताएं सामाजिक सिद्धांत को समझने के लिए आवश्यक हैं |
  • समाज की दूसरी विशेषता जो सिद्धांत निर्माण करने के लिए आवश्यक है कि यह एक निश्चित प्रर्रूप वाली है, अर्थात् इसमें रहने वाले समाज और इंसान एक समान दिनचर्या का पालन करते हैं और उनकी नियमितता होती हैं जो कि समाजशास्त्रियों द्वारा सिद्धांत निर्माण करने के लिए स्वतन्त्र होती हैं |

Sociology Theory-

Theory:

A sociological theory is a set of ideas which explains how society or aspects of society work.

Features of theory:

  • It is a generalized statement about a social phenomenon.
  • It tries to explain social phenomenon citing reasons why differences occur in society and why changes are occurring. It helps in predicting future patterns and influencing social policies to benefit society.
  • Theoretical statements should be allowed to be checked by others who are not involved in their development.

The subject matter of social theory:

  • The subject matter of social theory is human society and the related social activities.
  • For sociologists and social theorists, it is the patterns of social interactions between social actors and how these are affected by social contexts that matters. Social theory is involved in identifying and describing the elements that make up social interaction (social actors, contexts, practices) and developing sensible propositions about the dynamic processes taking place between them.

समाजवादी सिद्धांत-

सिद्धांत :

एक समाजवादी सिद्धांत विचारों का एक सेट है जो यह वर्णन करता है कि किस समाज या उनके पहलू कार्य करते हैं |

सिद्धांत की विशेषताएं :

  • यह एक सामाजिक स्थिति के बारे में सामान्यीकृत विवरण है |
  • यह सामाजिक घटनाओं का हवाला देते हुए बताने की कोशिश करता है कि समाज में क्यों अंतर पैदा होती हैं और क्यों परिवर्तन होते हैं | यह भविष्य के पैटर्न का पूर्वानुमान करने और समाज के हित के लिए सामाजिक नीतियों को प्रभावित करने में मदद करता है |
  • सैद्धांतिक विवरणों को उन अन्य व्यक्तियों द्वारा जांचा जाने की अनुमति मिलनी चाहिए जो इनके निर्माण में शामिल नहीं हैं |

सामाजिक सिद्धांत की विषय-वस्तु :

  • सामाजिक सिद्धांत की विषय-वस्तु मानव समाज और सम्बंधित सामाजिक गतिविधियाँ हैं |
  • समाजशास्त्रियों और सामाजिक सिद्धान्तवादियों के लिए, यह सामाजिक व्यक्तियों के बीच सामाजिक सम्बन्ध का प्रारूप है और यह है कि कैसे ये सामाजिक सन्दर्भों से प्रभावित होते हैं,  बस महत्वपूर्ण है | सामाजिक सिद्धांत उन तत्वों की पहचान और वर्णन करने में शामिल है जो सामाजिक संपर्क (सामाजिक अभिनेता, सन्दर्भों, प्रथाओं ) का निर्माण करते हैं और इनके बीच होने वाले गतिशील प्रक्रियाओं के बारे में समझदारी भरा प्रस्तावों का विकास करते हैं |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!