HCS History Online Preparation || Study Content for 2018 HCS Exam

HCS History Online Preparation || Study Content for 2018 HCS Exam

HCS History Online Preparation || Study Content for 2018 HCS Exam

HCS History Online Preparation || Study Content for 2018 HCS Exam

HCS History Online Preparation || Study Content for 2018 HCS Exam

Unification of Germany

Revolutionary movement in Europe

  • The period after 1815 saw the emergence of revolutionary activity in every country in Europe.
  • In some countries, the aim of the revolutionaries was the overthrow of autocratic rulers and the abolition of serfdom.
  • In some, it was the overthrow of foreign rule and in some others it was social, political and economic reforms.
  • Nationalism emerged as a major force in this period.
  • Revolutionaries fighting for independence did not fight for their independence alone or against the despotism of their rulers only.
  • They were united into a kind of international brotherhood of peoples against all despots.
  • The South American revolutionaries O’Higgins, Simon Bolivar and San Martin fought for the independence of many countries in South America.

Holy Alliance

  • In 1815, the rulers of Austria, Britain, Russia and Prussia formed an alliance.
  • One of the major declared aims of this alliance was to suppress any attempt by the people to overthrow a ruler whom these countries considered the ‘legitimate’ ruler of the country.
  • The new ruler of France also soon joined this alliance.

Holy Alliance:

  • Austria, Russia and Prussia had formed another alliance which they called the Holy Alliance.
  • This alliance which many other rulers also joined was even more openly opposed to democratic ideas and movements than the first.
  • After 1815 the rulers of Europe tried to suppress all movements for freedom and democracy in their own as well as in other countries.
  • In 1821, for example, Austria sent her armies into Naples and Piedmont in Italy to suppress the uprisings that had taken place there.

Revolutions of 1848

  • Within a few years after the revolts of 1830 had been suppressed, the revolutionary movements in Europe again gained momentum.
  • In 1848, revolutions broke out in almost every country of Europe, which dealt a mortal blow to the countries of the Holy Alliance.
  • Early in 1848, there was a revolt in Italy.

HCS History Online Preparation

यूरोप में क्रांतिकारी आंदोलन

  • 1815 के बाद की अवधि में यूरोप के प्रत्येक देश में क्रांतिकारी गतिविधियों का उदय देखा गया |
  • कुछ देशों में, क्रांतिकारियों का लक्ष्य निरंकुश शासकों को हटाना  तथा दास प्रथा का उन्मूलन करना था |
  • कुछ देशों में यह लक्ष्य विदेशी शासन को उखाड़ फेकना था तथा कुछ देशों में यह लक्ष्य सामजिक, आर्थिक तथा राजनीतिक सुधार थे |
  • इस अवधि में राष्ट्रवाद का उदय एक प्रमुख शक्ति के रूप में हुआ |
  • स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करने वाले क्रांतिकारी केवल अपनी आज़ादी अथवा तानाशाही के खिलाफ नही लड़ रहे थे |
  • वे सभी तानाशाहों के विरुद्ध एक अन्तर्राष्ट्रीय भाईचारा प्रदर्शित करने के लिए एकत्र हुए थे |
  • दक्षिण अमेरिकी क्रांतिकारियों – ओ’हिगिंस, साइमन बोलिवर, तथा सैन मार्टिन ने दक्षिण अमेरिका के कई देशों की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी |

पवित्र गठबंधन

  • 1815 में  ऑस्ट्रिया, ब्रिटेन, रूस, तथा पर्शिया  के शासकों ने एक गठबंधन बनाया |
  • इस गठबंधन के प्रमुख घोषित लक्ष्य में से एक लोगों द्वारा किसी ऐसे शासक को उखाड़ने का कोई प्रयास रोकना था जिसे ये देश के लोग  ‘वैध’ शासक मानते हो |
  • फ़्रांस का नया शासक भी जल्द ही इस गठबंधन में शामिल हो गया |

पवित्र संघ:

  • ऑस्ट्रिया, रूस तथा प्रशा ने एक अन्य संगठन का निर्माण किया जिसे उन्होंने पवित्र संघ कहा |
  • ये गठबंधन, जिसमें अन्य शासक भी शामिल हो गए थे ,लोकतांत्रिक विचारों तथा आंदोलनों का  पहले से कही ज्यादा खुले तौर पर विरोध करता था|
  • 1815 के बाद, यूरोप के शासकों ने ना सिर्फ अपने देश बल्कि अन्य देशों में भी  स्वतंत्रता तथा लोकतंत्र के लिए किये गए सभी आंदोलनों को कुचलने का प्रयास किया |
  • उदाहरण के लिए, 1821 में, ऑस्ट्रिया ने अपनी सेनाओं को नेपाल तथा इटली के पिडमोंट में वहां हो रहे विद्रोहों का दमन करने के लिए भेजा |

1848 की क्रांति

  • 1830 की क्रांति के दमन के  कुछ वर्षों बाद ही, यूरोप में क्रांतिकारी आंदोलनों को एक बार फिर से गति मिलने लगी |
  • 1848 में, यूरोप के लगभग सभी देशों में क्रांति शुरू हो गयी, जिसने पवित्र संघ में शामिल देशों को घातक झटका दिया |
  • 1848 की शुरुआत में, इटली में एक क्रांति हुई |

Growth of Democracy in England

  • This had resulted in the establishment of the supremacy of Parliament in England.
  • However, Parliament at that time was not a truly democratic institution.
  • The right to vote was limited to a very small percentage of the population.
  • Throughout the eighteenth and nineteenth centuries, the demand for making Parliament’ a democratic institution grew.
  • Campaigns to extend the right to vote to every citizen were waged.
  • Until 1832, representation in Parliament was based not on population but on election districts- counties and boroughs.
  • Many of these were no longer populated except for a few houses, while new towns and cities with large populations had no representation.
  • Under the Act of 1832, the old unpopulated areas or ‘rotten boroughs’, were abolished and their seats were given to new towns and cities.

Unification of Germany:

  • One of the major features of the 19th century history of Europe was the struggles for national unification and independence.
  • In the 18th century, Germany was divided into a number of states.
  • Some of these states were very small and did not extend beyond the limits of a city.
  • During the Napoleonic wars, many of these states ceased to exist.

Problems of divided Germany

  • The division of Germany into a number of states had hampered the economic development of Germany.
  • The social and political system in these states was also very backward.
  • With the growth of national consciousness, particularly after the French Revolution, the people of these states had started demanding the national unification of Germany, establishment of democratic government and social and economic reforms.

इंग्लैंड में लोकतंत्र का विकास

  • इसका परिणाम इंग्लैंड में संसद की सर्वोच्चता के रूप में हुआ |
  • हालाँकि, उस समय संसद वास्तव में एक लोकतान्त्रिक संस्थान नहीं थी |
  • मतदान का अधिकार आबादी के बेहद कम हिस्से तक सीमित था |
  • 18वीं तथा 19वीं सदी के दौरान, संसद को एक लोकतांत्रिक संस्थान बनाने की माँग उठने लगी |
  • मतदान के अधिकार को प्रत्येक नागरिक तक पंहुचाने वाले अभियान चलाये  गये |
  • इनमे से अधिकांश उन क्षेत्रों को प्रतिनिधित्व मिला जहाँ केवल कुछ ही परिवार रहते थे , जबकि विशाल आबादी वाले नए कस्बों तथा शहरों का कोई प्रतिनिधित्व नहीं था
  • 1832 के अधिनियम के तहत, पुराने कम आबादी वाले क्षेत्रों अथवा नाम मात्र नगरों  को समाप्त कर दिया गया तथा उनकी सीटें नए कस्बों तथा शहरों को दे दी गयीं |

जर्मनी का एकीकरण :

  • 19वीं शताब्दी के इतिहास की प्रमुख विशेषताओं में से एक राष्ट्रीय एकीकरण तथा स्वतंत्रता के लिए संघर्ष थी |
  • 18वीं शताब्दी में, जर्मनी कई राज्यों में विभाजित था|
  • इनमें से कुछ राज्य काफी छोटे थे तथा एक शहर की सीमाओं से अधिक उनका विस्तार नहीं था |
  • नेपोलियन के साथ युद्धों के दौरान, इनमें से कई राज्यों का अस्तित्व समाप्त हो गया |

विभाजित जर्मनी की समस्याएँ :

  • कई राज्यों में जर्मनी के विभाजन ने जर्मनी के आर्थिक विकास को रोक दिया था |
  • इन राज्यों में सामाजिक तथा राजनीतिक व्यवस्था भी पिछड़ी हुई थी |
  • विशेष रूप से फ्रांस की क्रांति के बाद विकसित हुई राष्ट्रीय चेतना की वजह से, इन राज्यों के लोगों ने जर्मनी के राष्ट्रीय एकीकरण, लोकतांत्रिक सरकार की स्थापना तथा सामाजिक एवं आर्थिक सुधारों की माँग शुरू कर दी थी |

Bismarck Policy

  • With the failure of the revolution of 1848 to unify Germany, one phase in the struggle for unification came to an end.
  • Now Germany was to be unified not into a democratic country by the efforts of revolutionaries but by the rulers into a militaristic empire.
  • The leader of this policy was Bismarck who belonged to a Prussian aristocratic family.
  • He wanted to achieve the unification of Germany under the leadership of the Prussian monarchy.
  • He described his policy of unification as one of ‘blood and iron’.
  • The policy of ‘blood and iron’ meant a policy of war.
  • The first aim he pursued was the elimination of Austria from the Germanic Confederation.

Fall of Louis Bonaparte:

  • In 1870, Louis Bonaparte, whose power had begun to collapse, declared war on Prussia in the hope of maintaining his empire through a military victory.
  • The war was partly provoked by Bismarck.
  • It proved disastrous for the empire of Louis Bonaparte.
  • The French armies were defeated and the French emperor was captured.
  • After her defeat, France finally became a republic.
  • It took place at Versailles in France, in the palace of the French kings.
  • After her unification, Germany emerged as a very strong power in Europe.
  • It underwent heavy industrialization in a very short period and soon joined the scramble for colonies.
  • However, the militarism which made Germany into a great power was to prove disastrous to the people of Germany in the years to come.

बिस्मार्क नीति :

  • जर्मनी को एकीकृत करने की 1848 की क्रांति की असफलता के साथ ही, एकीकरण हेतु संघर्ष का एक चरण समाप्त हो गया |
  • अब जर्मनी को क्रांतिकारियों के प्रयासों द्वारा लोकतांत्रिक देश के रूप में एकीकृत ना करके शासकों के द्वारा एक सैन्य साम्राज्य में एकीकृत करने का प्रस्ताव दिया गया |
  • इस नीति का नेता बिस्मार्क था जो पर्शिया  के कुलीन परिवार में पैदा हुआ था |
  • वह जर्मनी का एकीकरण पर्शिया राजतंत्र के नेतृत्व में प्राप्त करना चाहता था |
  • उसने अपनी नीति की व्याख्या “रक्त एवं लौह” की नीति के रूप में की |
  • ऑस्ट्रिया को जर्मन महासंघ से बाहर करना उसका प्रथम लक्ष्य था |

लुइ बोनापार्ट का पतन :

  • 1870 में, लुइ बोनापार्ट , जिसकी शक्तियाँ कमज़ोर पड़ने लगी थीं, ने एक सैन्य विजय के माध्यम से अपने साम्राज्य को बनाए रखने की उम्मीद में  पर्शिया के साथ युद्ध की घोषणा कर दी |
  • यह युद्ध अंशतः बिस्मार्क के द्वारा भड़काया गया था |
  • यह लुइ बोनापार्ट के साम्राज्य के लिए  विनाशकारी साबित हुआ |
  • फ़्रांस की सेनाओं को हार मिली तथा फ़्रांस के साम्राज्य पर कब्ज़ा कर लिया गया |
  • अपनी हार के बाद, फ़्रांस अंततः एक गणतंत्र बन गया |
  • यह बेहद कम अवधि में भारी औद्योगीकरण से होकर गुजरा तथा जल्द ही उपनिवेशों के संघर्ष में शामिल हो गया |
  • हालाँकि, सैन्यवाद, जिसने जर्मनी को एक महाशक्ति बनाया, आने वाले वर्षों में जर्मनी के लोगों के लिए भयानक साबित हुआ |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!