HCS Examination 2018 | Online Study Material | RAS PCS Exam Preparation

HCS Examination 2018 | Online Study Material | RAS PCS Exam Preparation

HCS Examination 2018 | Online Study Material | RAS PCS Exam Preparation

HCS Examination 2018 | Online Study Material | RAS PCS Exam Preparation

HCS Examination 2018 | Online Study Material | RAS PCS Exam Preparation

Japan as an Imperialist Power –

  • Japan started on her program of imperialist expansion in the last decade of the nineteenth century
  • Western countries had tried to establish their foothold there
  • 1853: American warships under Commodore Perry had, after a show of force, compelled the Japanese to open their country to American shipping and trade
  • This was followed by similar agreements by Japan with Britain, Holland, France and Russia.
  • However, Japan escaped the experience and fate of other Asian countries.
  • 1867: After a change in government, known as Meiji Restoration, Japan began to modernize her economy
  • Within a few decades, she became one of the most industrialized countries of the world but the forces that made many of the Western countries imperialist were also active in the case of Japan.
  • Japan had few raw materials to support her industries so she looked for lands that had them and for markets to sell her manufactured goods
  • China provided ample opportunities for Japan’s imperialist designs and the Anglo Japanese Treaty of 1902 recognized her as a power of equal standing with the great European powers.
  • In 1904-5 she defeated Russia and in 1910, Korea became a colony of Japan.
  • Japan had become a great power and could expand further at the cost of China if the Western powers would only allow her to do so
  • Japan’s rise as an imperialist power helped to show that imperialism was not limited to any one people or region
  • Rather, it was the result of greed for economic and political power which could distort the policy of any country regardless of its race or cultural claims.
  • Thus, almost all of Asia had been swallowed up by the imperialist countries by the early years of the twentieth century.

साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में जापान:

  • उन्नीसवीं शताब्दी के अंतिम दशक में जापान ने अपना साम्राज्यवादी विस्तार आरम्भ कर diya |
  • पश्चिमी देशों ने भी वहां अपना पैर जमाने की कोशिश की थी
  • 1853: कमोडोर पेरी के नेतृत्व में अमेरिका ने जापान को अपनी सैन्य शक्ति का भय दिखाकर उसे शिपिंग और व्यापार के लिए मजबूर किया |
  • इसके बाद जापान ने हॉलैंड, फ्रांस और रूस के साथ समान समझौते किए गए।
  • हालांकि, जापान के हालत अन्य एशियाई देशों जैसे नहीं थे |
  • 1867: सरकार में बदलाव के बाद, जिसे मेइजी पुनर्स्थापन के नाम से जाना जाता है,  जापान की अर्थव्यवस्था ने तरक्की की |
  • कुछ दशकों के भीतर, जापान दुनिया के सबसे अधिक औद्योगिक देशों में से एक बन गया ,जिन कारकों से अन्य पश्चिमी देश साम्राज्य्वादी बने थे, वे कारक जापान में भी सक्रिय थे |
  • जापान में उसके उद्योगों को गति प्रदान करने के लिए कच्ची सामग्रियां थीं, इसलिए इसकी तलाश केवल अपने उत्पादों को बेचने के लिए बाज़ार खोजने की जरूरत थी |
  • चीन ने जापान के साम्राज्यवादी विस्तार को पर्याप्त अवसर प्रदान किए और आंग्ल-जापानी संधि ने उसे अन्य शक्तिशाली यूरोपीय देशों के बराबर ला कर खड़ा कर दिया |
  • 1904-5 में उसने रूस को हराया और 1910 में, कोरिया जापान की एक उपनिवेश बन गई
  • अब जापान एक  शक्तिशाली देश था और वह चीन पर भी कब्जा कर सकता था यदि पश्चिमी देश उसकी राह में रोड़ा न बने |
  • साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में जापान के उदय ने यह सिद्ध कर दिया की साम्राज्यवाद केवल किसी विशेष क्षेत्र अथवा किन्ही विशेष लोगों तक ही सिमित नहीं है|
  • इसके बजाय, यह आर्थिक और राजनीतिक शक्ति की लालच का परिणाम था, जो किसी भी देश की जाति अथवा सांस्कृतिक माहौल के बावजूद उसकी नीति को विकृत कर सकता था  

Imperialism in Africa:

  • In the later part of the fifteenth century, a new phase began in the history of some parts of Africa.
  • Besides the establishment of commercial relations with some parts of Africa, this phase was characterized by slave trade
  • Till about the last quarter of the nineteenth century, European control over Africa extended over about one-fifth of the territory of the continent.
  • However, within a few years almost the entire continent was partitioned among various European imperialist countries though it took them much longer to establish their effective occupation

Slave Trade:

  • The European penetration of Africa from the late fifteenth century onwards was confined for a long time mainly to certain coastal areas
  • Even these limited contacts led to the most tragic and disastrous consequences for the people of Africa, i.e. the purchase and sale of people-the slave trade.
  • African villages were raided by slave traders and people were captured and handed over to the European traders
  • Some African chiefs also took part in the slave trade by trading slaves in exchange for firearms which the European traders sold to them.
  • The Europeans themselves also raided the villages and enslaved the people, who were then transported.
  • When the demand for slaves in America increased, they were sent directly from Africa by the trade
  • Millions of Africans were uprooted from their homes and were taken in ships as inanimate objects and in such unhygienic conditions that the sailors on the ships often revolted
  • By early nineteenth century, trade in slaves lost its importance in the system of colonial exploitation.
  • Slavery was also a hindrance if the interior of Africa was to be opened to colonial exploitation

अफ्रीका में साम्राज्यवाद:

  • पंद्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में ,अफ्रीका के कुछ भागों के इतिहास में एक नया चरण शुरू हुआ।
  • अफ्रीका के कुछ हिस्सों के साथ व्यापारिक सबंधों के अलावा यह काल खंड दास व्यापार का परिचायक था |
  • उन्नीसवीं सदी की आखिरी तिमाही तक,अफ्रीका महाद्वीप पर यूरोपीय नियंत्रण लगभग 1 /5 गुणा तक बढ़ गया था |
  • हालांकि, कुछ वर्षों के भीतर लगभग पूरे महाद्वीप पर विभिन्न यूरोपीय साम्राज्यवादी देशों का प्रभाव था, इसलिए इन देशों का अपना अपना व्यापार स्थापित करने में थोड़ा अधिक समय लगा |

ग़ुलामों का व्यापार:

  • पंद्रहवीं शताब्दी के बाद से लम्बे समय तक यूरोपीय प्रभाव मुख्य रूप से अफ्रीका कुछ तटीय क्षेत्रों  तक सीमित था
  • हालांकि यह नाममात्र प्रभाव भी अफ्रीका के लोगों के दुखद और विनाशकारी साबित हुआ क्यूंकि इसी के साथ ही गुलामों का व्यापार शुरू हो गया |
  • दास व्यापारियों द्वारा अफ्रीकी गांवों पर धावा बोल दिया जाता और लोगों को पकड़कर यूरोपीय व्यापारियों को सौंप दिया गया
  • कुछ अफ्रीकी नेता भी यूरोपीय व्यापारियों से हथियार खरीदने के लिए गुलामों का व्यापार करते थे |
  • यूरोपियों ने स्वयं भी कई गांवों पर धावा बोला तथा लोगों गुलाम बनाकर उन्हें व्यापारिक केंद्र तक पहुंचा दिया |
  • जब अमेरिका में दासों की मांग में वृद्धि हुई तो गुलाम व्यापार को प्रत्यक्ष रूप से आरम्भ कर दिया गया |
  • लाखों अफ्रीकी लोगों को उनके घर से उठा कर उन्हें मैली एवं दूषित जहाज़ों में निर्जीव वस्तुओं की भांति ठूंस ठूंस कर ले जाया था ,जिसका नाविक कई बार विरोध भी करते थे |
  • उन्नीसवीं सदी के प्रारंभ में, गुलामों के व्यापार ने औपनिवेशिक शोषण की कुव्यवस्था में अपना महत्व खो गया।
  • यदि औपनिवेशिक शोषण अफ्रीका के आंतरिक भागों तक पहुँच जाता तो गुलामी इसके लिए एक बहुत बड़ी बाधा बन सकती थी |

HCS Examination 2018
Scramble for Africa:

  • The interior of Africa was almost unknown to the Europeans up to about the middle of the nineteenth century.
  • The coastal regions were largely in the hands of the old trading nations —the Portuguese, the Dutch, the English and the French
  • They had set up their forts there.
  • There were only two places where the European rule extended deep into the interior. In the north the French had conquered Algeria and in the south the English had occupied Cape Colony for     their commerce with India.
  • It had earlier been a Dutch colony where a number of Europeans, mainly the Dutch, had settled.
  • These settlers, known as Boers, had taken to farming. This was the only part of Africa where a large number of Europeans were settled
  • Within a few years, however, a scramble for colonies began and almost the entire continent had been cut up and divided among European powers

अफ्रीका के लिए संघर्ष

  • लगभग 19 वीं शताब्दी के मध्य तक अफ्रीका का आंतरिक भाग यूरोपियों के लिए अनजान था |
  • तटीय क्षेत्रों पर बड़े पैमाने पर पुराने व्यापारिक राष्ट्रों -पुर्तगाल, डच, ब्रिटेन और फ्रेंच का कब्जा था
  • उन्होंने वहां अपने किले स्थापित कर दिए थे |
  • केवल दो जगहें ऐसी थीं जहां यूरोपीय शक्तियों ने वहां के आंतरिक भागों में अपनी पैठ बनाई | उत्तर में फ्रेंच ने अल्जीरिया पर विजय प्राप्त की थी और दक्षिण में अंग्रेज़ों ने भारत के साथ अपने व्यापार के लिए केप कॉलोनी पर कब्जा कर लिया था।
  • यह शुरुआत में एक डच उपनिवेश था जहाँ पर यूरोपीय बस गए थे इनमे से अधिकांश डच थे |
  • इन लोगों को बॉयर कहा जाता था एवं  ये खेती करते थे | यह अफ्रीका का एकमात्र स्थान था जहाँ बड़ी संख्या में यूरोपीय बस गए थे |
  • कुछ वर्षों के भीतर उपनिवेशों के लिए एक संघर्ष शुरू हो गया और पूरा महाद्वीप विभिन्न यूरोपीय देशों के प्रभाव वाले क्षेत्रों में बंट गया

Explorer, Traders and Missionaries:

  • They played their respective roles in the conquest of Africa.
  • The explorers aroused the Europeans’ interest in Africa.
  • The missionaries saw the continent as a place for spreading the message of Christianity.
  • The interests created by explorers and missionaries were soon used by the traders.
  • Western governments supported all these interests by sending troops, and the stage was set for conquest.
  • The economic might of the imperialist powers was much greater than the economic resources of the African states
  • The latter did not have the resources to fight a long war
  • In terms of military strength, the imperialist countries were far more powerful than the African states
  • The Africans had outdated firearms which had been sold to them by the Europeans.
  • Politically, like Indian states in the eighteenth century, the African states were not united
  • There were conflicts between states and within states.

खोजकर्ता, व्यापारी और मिशनरी:

  • उन्होंने अफ्रीका विजय में अपनी अपनी भूमिका निभाई
  • खोजकर्ताओं ने अफ्रीका में यूरोपीय लोगों की दिलचस्पी को जगाया
  • मिशनरी ने अफ्रीका को ईसाई धर्म के संदेश के प्रसार के लिए एक उपयुक्त स्थान के रूप में देखा।
  • खोजकर्ता और मिशनरियों द्वारा बनाई गई रुचियों का उपयोग व्यापारियों ने अपने व्यापार के लिए किया |
  • पश्चिमी सरकारों ने सैनिकों को भेजकर इन सभी कारकों का समर्थन किया और विजय के लिए जमीन तैयार की |
  • अफ्रीकी राज्यों के आर्थिक संसाधनों की तुलना में साम्राज्यवादी शक्तियों की आर्थिक शक्ति बहुत अधिक थी
  • इसके अतिरिक्त लम्बा युद्ध लड़ने के लिए उनके पास पर्याप्त संसाधन भी नहीं थे |
  • सैन्य शक्ति के संदर्भ में, साम्राज्यवादी देश अफ्रीकी राज्यों की तुलना में कहीं ज्यादा शक्तिशाली थे
  • अफ्रीकियों के पास पुरानी तकनीक के अस्त्र-शस्त्र थे जो यूरोपियों ने ही उनको बेचे थे |
  • अठारहवीं सदी में भारतीय राज्यों की तरह अफ्रीकी राज्य भी राजनीतिक रूप से एकजुट नहीं थे |
  • राज्यों का आपस में संघर्ष रहता था |

West and Central Africa:

  • In 1878, with the financial assistance of King Leopold II of Belgium, H M. Stanley founded the International Congo Association which made over 400 treaties with African chiefs .
  • They did not understand that by placing their ‘marks’ on bits of paper they were transferring their land to the Congo Association in exchange for cloth or other articles of no great value.
  • Stanley acquired large tracts of land by these methods.
  • In 1885, some 2.3 million square kilometres, rich in rubber and ivory, became the ‘Congo Free State’ with Leopold as its king.
  • Stanley called the occupation of Congo (the present Zaire) ‘a unique humanitarian and political enterprise’, but it began with brutal exploitation of the Congo people
  • They were forced to collect rubber and ivory .
  • The treatment of the Congolese people was so bad that even other colonial powers were shocked (soldiers of the Congo Free State chopped off the hands of the defiant villagers and brought them as souvenirs).
  • In 1908, Leopold was compelled to hand over the Congo Free State to the Belgian government, and it became known as Belgian Congo

पश्चिम और मध्य अफ्रीका:

  • 1878 में, बेल्जियम के राजा लियोपोल्ड द्वितीय की वित्तीय सहायता के साथ, एच.एम. स्टेनली ने अंतर्राष्ट्रीय कांगो संघ की स्थापना की, जिसने अफ्रीकी प्रमुखों के साथ 400 से अधिक संधियां की।
  • उन्हें यह नहीं पता था कि वे अपने प्रभावी क्षेत्रों की जानकारी लिखित में देकर कांगो एसोसिएशन को कपड़ों अथवा अन्य मूल्यहीन वस्तुओं के बदले अपने जमीन दे रहे थे |
  • इन युक्तियों के माध्यम से स्टेनली ने बड़े पैमाने पर भूमि का अधिग्रहण किया।
  • 1885 में, लगभग 2.3 मिलियन वर्ग किलोमीटर क्षेत्र जहाँ रबर और हाथीदांत प्रचुर मात्रा में थे , काँगो के अधीन आ गए जिन पर  लियोपोल्ड का शासन था |
  • स्टेनली ने कांगो (ज़ैरे) के कब्जे को  ‘एक अद्वितीय मानवतावादी और राजनीतिक उद्यम’ कहा, लेकिन इसी के साथ ही कांगो के लोगों का क्रूर शोषण शुरू हो गया |
  • उन्हें रबर और हाथीदांत इकट्ठा करने के लिए मजबूर किया गया |
  • कांगो के लोगों के साथ बहुत बुरा व्यवहार किया जाता था, कांगो के सैनिक विद्रोही गावं वालों के हाथ काट देते और राजा को स्मृति चिह्न के रूप में पेश करते थे | यह स्थिति देखकर अन्य औपनिवेशिक शक्तियों  को भी गहरा धक्का लगा |
  • 1908 में, लियोपोल्ड ने मजबूरन  कांगो फ्री स्टेट को बेल्जियम की सरकार को सौंप दिया अब इस बेल्जियम कांगो के रूप में जाना जाने लगा |
  • धीरे-धीरे, कांगो के सोने, हीरा, यूरेनियम, लकड़ी और तांबा, उसके रबड़ और हाथीदांत से ज्यादा महत्वपूर्ण बन गए।

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!