HCS Exam Preparation : Geography Study Material for IAS | UPSC Exam

HCS Exam Preparation : Geography Study Material for IAS | UPSC Exam

HCS Exam Preparation : Geography Study Material for IAS | UPSC Exam

HCS Exam Preparation : Geography Study Material for IAS | UPSC Exam

HCS Exam Preparation : Geography Study Material for IAS | UPSC Exam

Indian Monsoon

Monsoon

  • The term monsoon has been derived from the Arabic word mausim or from the Malayan word monsin.
  • Monsoons are seasonal winds (Rhythmic wind movements) which reverse their direction with the change of season.
  • They flow from sea to land during the summer and from land to sea during winter.
  • Monsoons are peculiar to Indian Subcontinent, SouthEast Asia, parts of Central Western Africa etc (more pronounced in the Indian Subcontinent).

Features of Indian monsoon:

  • Unique weather phenomenon
  • Seasonal reversal of winds
  • Sudden Onset (Sudden rain start)
  • Gradual Advance
  • Gradual retreat

South west Monsoon

Factors responsible for south-west monsoon formation

  • Intense heating of Tibetan plateau during summer months (low pressure).
  • Permanent high pressure cell in the South Indian Ocean (east to north-east of Madagascar in summer).

Factors that influence the onset of south-west monsoons

  • Subtropical Jet Stream (STJ).
  • Tropical Easterly Jet (African Easterly Jet).

HCS Exam Preparation

मानसून

  • मानसून शब्द अरबी शब्द मौसिम अथवा मलायी के मोन्सिन शब्द से लिया गया है |
  • मानसून मौसमी हवाएं हैं (ये लयबद्ध वायु परिसंचरण है ),ये मौसम परिवर्तन के साथ अपनी दिशाएं भी बदल लेती है |
  • गर्मियों के दौरान ये समुन्द्र से भूमि की ओर तथा सर्दियों में भूमि से समुन्द्र की ओर प्रवाहित करती है,
  • भारतीय उपमहाद्वीप, दक्षिण पूर्व एशिया, मध्य पश्चिमी अफ्रीका के कुछ हिस्सों का मानसून विशेष प्रकार का होता है |

भारतीय मानसून की विशेषताएं:

  • अद्वितीय मौसम परिघटना |
  • पवनों का मौसमी उत्क्रमण |
  • आकस्मिक रूप से शुरू होना  (अचानक बारिश शुरू होना )
  • धीरे धीरे आगे बढ़ना |
  • धीरे-धीरे पलायन करते है |

दक्षिण-पश्चिम मानसून

दक्षिण-पश्चिम मानसून के निर्माण के लिए उत्तरदायी कारक

  • गर्मियों के महीनों में तिब्बती पठार का तीव्रता से गर्म होना (निम्न दाब)
  • दक्षिण हिंद महासागर में स्थायी उच्च दाब वाली कोष्ठिका होती है (गर्मियों में मेडागास्कर के पूर्व से पूर्वोत्तर तक )

दक्षिण-पश्चिमी मानसून के आरंभ पर प्रभाव डालने वाले कारक

  • उपोष्णकटिबंधीय जेट धारा
  • उष्णकटिबंधीय पूर्वी जेट (अफ्रीकी पूर्वी जेट)

Onset of  South west Monsoon

Initiation of Summer Monsoon

  • The rain in the south-west monsoon season begins rather abruptly.
  • This sudden onset of the moisture-laden winds associated with violent thunder and lightning is often termed as the “break” or “burst” of the monsoons.
  • The southwest monsoon typically breaks over Indian Territory by around 25 May, when it lashes the Andaman and Nicobar Islands in the Bay of Bengal.
  • On average, South India receives more rainfall than North India
  • However, Northeast India receives the most precipitation.
  • Differential heating of land and sea during the summer months is the mechanism which sets the stage for the monsoon winds to drift towards the subcontinent.

The Arabian Sea branch:

  • The monsoon winds originating over the Arabian Sea further split into three branches:

First branch is obstructed by the Western Ghats:

  • Winds climb the slopes of the Western Ghats–>becomes cooler–>moisture retention capacity reduces—>windward side of the Sahyadris and Western Coastal Plain receive very heavy rainfall (250 cm and 400 cm).

Second branch of the Arabian Sea: Monsoon strikes the coast north of Mumbai.

  • Moving along the Narmada and Tapi river valleys, these winds cause rainfall in extensive areas of central India.
  • The Chotanagpur plateau gets 15 cm rainfall from this part of the branch.

Third branch of Arabian sea:

  • Monsoon wind strikes the Saurashtra Peninsula and the Kachchh–> passes over west Rajasthan and along the Aravallis, causing only a scanty rainfall.
  • In Punjab and Haryana, it too joins the Bay of Bengal branch, and cause rains in the western Himalayas.

दक्षिण-पश्चिम मानसून की शुरुआत

ग्रीष्मकालीन मानसून की शुरुआत

  • दक्षिण-पश्चिमी मॉनसून मौसम में अकस्मात ही शुरू हो जाती है |
  • इस प्रकार की नमीयुक्त पवनों के उत्पन्न होने का संबंध प्रचंड तूफ़ान एवं तड़ित से होता है,इसे मानसून का भंजन अथवा प्रस्फोट कहा जाता है |
  • दक्षिणपश्चिम मॉनसून आमतौर पर 25 मई के आसपास भारतीय सीमा में खंडित हो जाता है , इस समय यह बंगाल की खाड़ी अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह पर आघात करता है |
  • औसतन, दक्षिण भारत में  उत्तरी भारत की तुलना अधिक वर्षा होती है
  • यद्यपि पूर्वोत्तर भारत में सबसे अधिक वर्षण होता है |
  • गर्मियों में स्थल तथा जल का विभेदी तापन एक प्रक्रिया है जो मानसून पवनों को उपमहाद्वीप की ओर गति करने के लिए एक आधार प्रदान करती है |

अरब सागर की मानसून पवनें

  • अरब सागर से उत्पन्न होने वाली मानसून पवने आगे तीन शाखाओं में बंटती है-
  • इसकी एक शाखा को पश्चिमी घाट रोकते है | अतः ये पवनें तत्काल ठंडी हो जाती है एवं इनकी आर्द्रता कम हो जाती है, ये सह्याद्रि की पवनाभिमुखी ढाल तथा पश्चिमी तटीय मैदान पर 250 से 400 सेंटीमीटर के बीच भारी वर्षा करती है |

अरब सागर से उठने वाली मानसून की दूसरी शाखा 

  • मुंबई के उत्तर में नर्मदा और तापी नदियों की घाटियों से होकर मध्य भारत में दूर तक वर्षा करती है |
  • छोटा नागपुर पठार में इस शाखा से 15 सेंटीमीटर वर्षा होती है |

अरबसागर  मानसून की तीसरी शाखा

  • सौराष्ट्र प्रायद्वीप और कच्छ से टकराती है वहां से यह अरावली के साथ साथ पश्चिमी राजस्थान को लांघती है और बहुत कम वर्षा करती है |
  • पंजाब और हरियाणा में भी यह बंगाल की खाड़ी से आने वाली मानसून की शाखा मिल जाती है तथा पश्चिमी हिमालय में वर्षा करती है |

Arabian sea branch vs Bay of Bengal branch

  • The Arabian Sea branch is stronger than the Bay of Bengal branch.
  • 65% of the humidity brought by the monsoon comes from the Arabian Sea whereas the monsoon coming from the Bay of Bengal contributes only 35% to the humidity.
  • In the Gangetic Plains, the two branches merge into one.
  • By the time they reach the Punjab their moisture is largely spent.

Northeast Monsoon

  • During October-November, with the apparent movement of the sun towards the south, the monsoon trough or the low-pressure trough over the northern plains becomes weaker.
  • This is gradually replaced by a high-pressure system.
  • The south-west monsoon winds weaken and start withdrawing gradually.
  • By the beginning of October, the monsoon withdraws from the Northern Plains.

Factors responsible for north-east monsoon formation

  • Formation and strengthening of high pressure cells over Tibetan plateau and Siberian Plateau in winter.
  • Westward migration and subsequent weakening of high pressure cell in the Southern Indian Ocean.

Winter Rainfall in South India

  • While travelling towards the Indian Ocean, the dry cold wind picks up some moisture from the Bay of Bengal and pours it over peninsular India and parts of Sri Lanka
  • Cities like Madras, which get less rain from the Southwest Monsoon, receive rain from this Monsoon.
  • About 50% to 60% of the rain received by the state of Tamil Nadu is from the Northeast Monsoon.

Arabian sea branch vs Bay of Bengal branch

  • अरब सागर शाखा बंगाल की खाड़ी वाली शाखा से ज्यादा मजबूत होती है।
  • मॉनसून की  65% आर्द्रता अरब सागर से आती है, जबकि बंगाल की खाड़ी से आने वाले मानसून नमी में केवल 35% योगदान देते है।
  • गंगा के मैदानों में, दो शाखाएं एक में विलय हो जाती हैं |
  • पंजाब में पहुँचते पहुँचते इनकी अधिकांश आर्द्रता समाप्त हो जाती है |

पूर्वोत्तर मानसून

  • अक्तूबर-नवंबर के दौरान दक्षिण की तरफ सूर्य के आभासी गति के कारण मानसून गर्त या निम्न दाब वाला गर्त, उत्तरी मैदानों के ऊपर शिथिल हो जाता है |
  • धीरे धीरे उच्च दाब प्रणाली इसका स्थान ले लेती है |
  • दक्षिण-पश्चिम मानसून शिथिल हो जाते है तथा धीरे धीरे पीछे की ओर हटने लगते है |
  • अक्तूबर के आरम्भ में मानसून पवनें उत्तर के मैदान से पलायन कर जाती है |

उत्तर-पूर्वी मानसून निर्माण के लिए उत्तरदायी कारक

  • सर्दियों में तिब्बती पठार और साइबेरियाई पठार पर उच्च दाब वाले कोष्ठ का निर्माण होना तथा इनका सुदृढ़ीकरण |
  • दक्षिणी हिंद महासागर में उच्च दाब वाले कक्षों का पश्चिम की ओर गमन करना एवं तत्पश्चात इनका क्षीण होना |

दक्षिण भारत में शीतकालीन वर्षा

  • जब शुष्क शीत पवनें  हिंद महासागर की तरफ गति करती है तो ये  बंगाल की खाड़ी से आर्द्रता लेकर इसे प्रायद्वीपीय भारत और श्रीलंका के कुछ हिस्सों में बिखेर देती है |
  • मद्रास जैसे शहर जो दक्षिण-पश्चिमी मॉनसून से कम वर्षा प्राप्त करते है,वे इसी मानसून से वर्षा ग्रहण करते है |
  • तमिलनाडु राज्य में होने वाली वर्षा में से लगभग 50% से 60% पूर्वोत्तर मानसून से प्राप्त होती है

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!