HCS Exam 2018 Study Material of Geography || Online Exam Preparation

HCS Exam 2018 Study Material of Geography || Online Exam Preparation

HCS Exam 2018 Study Material of Geography || Online Exam Preparation

HCS Exam 2018 Study Material of Geography || Online Exam Preparation

HCS Exam 2018 Study Material of Geography || Online Exam Preparation

Industries

Chemical  Industries

  • The Chemical industry in India  contributes approximately 2.11 per cent of the GDP (2016).
  • It is the third largest in Asia and occupies the twelfth place in the world in term of its size.
  • It comprises both large and small scale manufacturing units.
  • Rapid growth has been recorded in both inorganic and organic sectors.

Location factor:

  • Raw materials: Used for the manufacture of chemicals and are bulky and weight losing. So, some of the plants develop within raw material source.
  • The development of science and technology
  • Steady demand of the products.

Fertilizer  Industries

  • The Fertilizer industry is centred around the production of nitrogenous fertilizers (mainly urea), phosphatic fertilizers and ammonium phosphate (DAP) and complex fertilizers which have a combination of nitrogen (N), Phosphate (P) and Potash (K)
  • India is the second largest producer of nitrogenous fertilizers
  • There are 57 fertilizer units manufacturing nitrogenous and complex nitrogenous fertilizers

Localization & Distribution:

  • Closely related to petrochemicals.
  • About 70 per cent of the plants producing nitrogenous fertilizer use naphtha as the basic raw material. That is why most of the fertilizer plants are located near the oil refineries.

Cement Industries

  • Cement is essential for construction activity such as building houses, factories, bridges, roads, airports, dams and other commercial establishments
  • Requires bulky and heavy raw material like limestone, silica, alumina and gypsum
  • The industry has strategically located plants in Gujarat that have suitable access to the market in the Gulf countries

Location factor:

  • Presence of raw materials like gypsum, limestone, water
  • Presence of power source
  • Labour for the factory

HCS Exam 2018 Study Material

रसायन उद्योग

  • भारत में रासायनिक उद्योग सकल घरेलु उत्पाद (2016) का लगभग 2.11% का योगदान करता है।
  • यह एशिया में तीसरा सबसे बड़ा और विश्व में  आकार की दृष्टि में बारहवें स्थान पर है।
  • इसमें वृहत्त तथा लघु दोनों प्रकार की  विनिर्माण इकाइयां शामिल हैं|
  • अकार्बनिक और कार्बनिक दोनों  क्षेत्रों में तीव्र वृद्धि दर्ज की गई है।

स्थान कारक:

  • कच्चा माल : रसायनों के निर्माण के लिए प्रयुक्त कच्चा माल  भारी और भार-ह्रास वाला होता है इसलिए, कुछ संयंत्र कच्चे माल के स्रोत के भीतर विकसित होते हैं।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी का विकास
  • उत्पादों की निरंतर मांग

उर्वरक उद्योग

  • उर्वरक उद्योग नाइट्रोजन उर्वरकों (मुख्य रूप से यूरिया), फॉस्फेटिक उर्वरक और अमोनियम फॉस्फेट (डीएपी) और मिश्रित उर्वरकों के उत्पादन के आसपास केंद्रित होता है जिसमें नाइट्रोजन (एन), फॉस्फेट (पी) और पोटाश (के) का संयोजन होता है।
  • भारत नाइट्रोजनी  उर्वरकों का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है
  • नाइट्रोजनी  और मिश्रित नाइट्रोजन उर्वरक बनाने वाले 57 उर्वरक इकाइयां हैं

स्थानीयकरण और वितरण:

  • पेट्रोरसायन से सम्बंधित
  • नाइट्रोजनी उर्वरक उत्पादन करने वाले लगभग 70 प्रतिशत संयंत्रों कच्चे माल के रूप में नाफ्था का उपयोग करते हैं । यही कारण है कि ज्यादातर उर्वरक संयंत्र तेल शोधन शालाओं  के पास स्थित हैं।

सीमेंट उद्योग

  • सीमेंट निर्माण कार्य के लिए जरूरी है जैसे घरों, कारखानों, पुलों, सड़कों, हवाई अड्डों, बांधों और अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के निर्माण
  • भारी तथा स्थूल कच्चे माल  जैसे – चूना पत्थर, सिलिका, एल्यूमिना और जिप्सम की आवश्यकता होती है|
  • सामरिक दृष्टिकोण से इस उद्योग की इकाईयां  गुजरात में लगाई गयी है जो खाड़ी देशों में बाजार तक पहुंच के लिए उपयुक्त है|

स्थान कारक:

  • जिप्सम, चूना पत्थर, पानी जैसे कच्चे माल की उपलब्धता
  • शक्ति स्रोत की उपलब्धता
  • कारखाने के लिए श्रमिक

Cotton  Industries

  • Cotton textile industry comprises of three sectors: mill sector, handloom and powerloom.
  • The share of large mill, handloom and powerloom sector in the total production of cotton cloth in 1998-99 was 5.4 per cent, 20.6 per cent and 74 per cent respectively.
  • The Cotton and synthetic fiber textile industry has made tremendous progress Per capita availability of cloth from both the types was 15 meters only in 1960-61.

Distribution: Cotton Textile Industry

  • Cotton textile industry is one of the most widely distributed industries in our country.
  • Located in more than 88 centers in different parts of the country. But majority of them still located in the cotton growing areas of the Great Plains and peninsular India.

Jute Industries

  • Jute is a rainfed crop with little need for fertilizer or pesticides.
  • The production is concentrated in India and Bangladesh.
  • India with overall of 66% of world’s production tops the production of jute.
  • Bangladesh with 25% lies at second position followed way behind by China with 3%.

Locational factors for high concentration of jute mills in Hugli basin are as follows:

  • The Ganga-Brahmaputra delta grows about 90 per cent of India’s jute and provides raw material to jute mills here.
  • Coal: from Raniganj fields
  • Adequate water supply is available.  for processing, washing and dyeing jute.

Sugar Industries

  • Sugar industry is the second largest agro-based industry of India.
  • If we take Gur, Khandsari and Sugar together, then India becomes the largest producer of sugar product in the world. This industry employs about 2.5 lakh people.

Distribution

  • Most of the sugar mills are concentrated in six states, namely Uttar Pradesh, Bihar, Maharashtra, Tamil Nadu, Karnataka and Andhra Pradesh.
  • Maharashtra is the largest producer.

सूती वस्त्र उद्योग

  • सूती वस्त्र उद्योग  में तीन क्षेत्र: मिल , हथकरघा और बिजलीघर शामिल हैं।
  • 1998-99 में सूती कपड़े के कुल उत्पादन में बड़ी मिल , हथकरघा और बिजलीघर क्षेत्र का हिस्सा क्रमशः 5.4 प्रतिशत, 20.6 प्रतिशत और 74 प्रतिशत था।
  • सूती तथा कृत्रिम रेशा वस्त्र उद्योग  ने काफी प्रगति की है, दोनों प्रकार की  प्रति व्यक्ति कपड़े की उपलब्धता 1960-61 में केवल 15 मीटर थी।

वितरण: सूती वस्त्र उद्योग

  • सूती  वस्त्र उद्योग हमारे देश में सबसे व्यापक रूप से वितरित उद्योगों में से एक है।
  • देश के विभिन्न हिस्सों में 88 से अधिक केन्द्रों में स्थित है  लेकिन उनमें से अधिकांश अभी भी मैदानों और प्रायद्वीपीय भारत के कपास उत्पादन क्षेत्रों में स्थित हैं।

पटसन उद्योग  

  • पटसन वर्षा-आश्रित फसल है जिसमे उर्वरक या कीटनाशक की काम जरुरत  होती है |
  • उत्पादन भारत और बांग्लादेश में केंद्रित है|
  • दुनिया के 66% उत्पादन के साथ भारत पटसन के  उत्पादन में सबसे ऊपर है।
  • दूसरे स्थान पर बांग्लादेश 25% और  चीन 3% के साथ बहुत पीछे है।

हुग्ली बेसिन में पटसन  मिलों की उच्च केन्द्रीयता  के लिए स्थानीय कारक निम्नानुसार हैं:

  • गंगा-ब्रह्मपुत्र डेल्टा भारत के जूट का लगभग 90 प्रतिशत उपजाता  है और यहां पटसन मिलों को कच्चा माल प्रदान करता है।
  • कोयला: रानीगंज क्षेत्र  से
  • प्रसंस्करण, धोने और डाइंग के लिए पर्याप्त पानी की आपूर्ति उपलब्ध है।

चीनी उद्योग

  • चीनी उद्योग भारत का दूसरा सबसे बड़ा कृषि आधारित उद्योग है।
  • अगर हम एक साथ गुर, खांडसरी और चीनी को ले लें  , तो भारत दुनिया में चीनी उत्पाद का सबसे बड़ा उत्पादक है। इस उद्योग में करीब 2.5 लाख लोग काम करते हैं।

वितरण

  • अधिकांश चीनी मिलों को छह राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में स्थित  है।
  • महाराष्ट्र सबसे बड़ा उत्पादक है

Pharmaceutical Industries

  • One of the oldest industry in India.
  • At the top of the chart amongst India’s science- based industries with wide ranging capabilities in the complex field of drug manufacture and technology.
  • The drugs and pharmaceutical units are mostly located in Kolkata, Mumbai, Ahmedabad, Vadodara, Delhi, Pune, Rishikesh, Hyderabad, Kanpur, Indore and Jaipur.

Industrial Corridor

The Industrial corridor programme concentrates on infrastructural development of Cities with the objective to expand manufacturing and services base.

  • The industrial corridors in India are:

a) Delhi-Mumbai Industrial Corridor

  • Being developed in co-operation with the government of Japan
  • Runs across the six states of Uttar Pradesh, Haryana, Madhya Pradesh, Rajasthan, Gujarat and Maharashtra.

b) Amritsar-Kolkata corridor

  • Will be developed in a band of 150-200 km on either side of the Eastern Dedicated Freight Corridor (EDFC) in a phased manner.
  • Spread across a belt comprising seven states-Punjab, Haryana, Uttar Pradesh, Uttarakhand, Bihar, Jharkhand and West Bengal

c) Chennai-Bangalore Industrial Corridor

  • Plans to come up along Chennai, Sriperumbudur, Chittoor, Palamaner, Ranipet, Bangarpet, Ponnapanthangal, Bangarupalem, Hoskote and Bangalore.
  • Being developed in co-operation with the government of Japan.

Major Industrial region of India

Kolkata – Hooghly Belt

  • Old and important region of the country
  • Cotton textile, silks, jute engineering ,chemical and pharmaceuticals, leather and footwear industries are located here.
  • Facilitated with rich hinterland of Ganga, Brahmaputra Plain, and the enough availability of good coal, cheap local labour and the port facility of Kolkata.
  • Experiencing stagnation and relative decline in industrial growth in recent years.

Reasons for decline:

  • High degree of congestion
  • Gradual filling of Kolkata port making the shipping facilities somewhat difficult
  • Paucity of space
  • Shortage of drinking water and civic amenities
  • Environmental pollution

Mathura-Delhi-Saharanpur-Ambala belt

  • It has the advantage of the proximity of the national capital; availability of cheap raw materials; nearness of large market and regular supply of power.
  • Spreads in two separate belts running in north-south direction between Faridabad and Ambala in Haryana and Mathura and Saharanpur in Uttar Pradesh.

औषधि उद्योग

  • यह भारत के प्राचीनतम उद्योग में से एक है |
  • यह भारत के  विज्ञान-आधारित उद्योगों के चार्ट में शीर्ष स्थान पर है दवा निर्माण और प्रौद्योगिकी के जटिल क्षेत्र में इस उद्योग की क्षमताएं व्यापक है |
  • दवाईयों और औषध उद्योग की ज्यादातर इकाइयां कोलकाता, मुंबई, अहमदाबाद, वडोदरा, दिल्ली, पुणे, ऋषिकेश, हैदराबाद, कानपुर, इंदौर और जयपुर में स्थित हैं।

औद्योगिक कॉरिडोर

औद्योगिक कॉरिडोर कार्यक्रम शहरों के बुनियादी ढांचागत विकास पर जोर देता है जिसका उद्देश्य  विनिर्माण और सेवाओं के आधार का विस्तार करना है |

  • भारत के औद्योगिक कॉरिडोर है –

a) दिल्ली-मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर

  • यह जापान की सरकार के साथ सहयोग से विकसित हुआ है |
  • यह उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे  छह राज्यों से गुजरता है |

b) अमृतसर-कोलकाता कॉरिडोर

  • यह पूर्वी डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के दोनों तरफ 150-200 किमी के एक बैंड में चरणबद्ध तरीके विकसित किया जाएगा
  • यह सात राज्यों-पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के एक बेल्ट में फैला हुआ है |

c) चेन्नई-बैंगलोर औद्योगिक कॉरिडोर

  • चेन्नई , श्रीपेरंबदुर ,चित्तूर ,पालमनेर, रानीपेट, बंगारपेट, पोन्नापंथनगल,बंगारुपालेम ,होस्कॉट और बंगलौर |
  • यह जापान की सरकार के सहयोग के साथ विकसित किया गया है |

भारत के प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र

कोलकाता – हुगली बेल्ट

  • देश का प्राचीन और महत्वपूर्ण क्षेत्र है |
  • सूती वस्त्र, रेशम, जूट इंजीनियरिंग, रसायन और औषधि उद्योग, चमड़ और फुटवियर उद्योग यहां स्थित हैं।
  • यह गंगा ब्रह्मपुत्र मैदान के आंतरिक क्षेत्रों से समृद्ध है एवं अच्छा कोयला,सस्ते  स्थानीय श्रमिक और कोलकाता बंदरगाह की सुगमता यहाँ उपलब्ध है |
  • हाल के वर्षों में  स्थिरता और औद्योगिक विकास में तुलनात्मक गिरावट देखी गई है |

पतन के कारण:-

  • संकुलन की अधिकता
  • कोलकाता बंदरगाह का धीरे-धीरे भरना परिवहन में अड़चन उत्पन्न कर रहा है |
  • जगह की कमी
  • पीने के पानी और नागरिक सुविधाओं की कमी
  • पर्यावरण प्रदूषण

मथुरा-दिल्ली-सहारनपुर-अंबाला बेल्ट

  • राष्ट्रीय राजधानी की निकटता , सस्ते कच्चे माल की उपलब्धता; बड़े बाजार की निकटता और बिजली की नियमित आपूर्ति का इस बेल्ट को लाभ मिला है |
  • यह उत्तर-दक्षिण दिशा में दो अलग-अलग बेल्ट हरियाणा के फरीदाबाद और अंबाला एवं  उत्तर प्रदेश में मथुरा और सहारनपुर के मध्य में विस्तारित है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!