HCS Complete Study Notes (History) | Online Exam Preparation- IAS

HCS Complete Study Notes (History) | Online Exam Preparation- IAS

HCS Complete Study Notes (History) | Online Exam Preparation- IAS

HCS Complete Study Notes (History) | Online Exam Preparation- IAS

HCS Complete Study Notes (History) | Online Exam Preparation- IAS

Russian revolution and World from 1919 to World War II

Russian Revolution

  • Czar’s manifesto aroused the people and prepared them for revolution.
  • It drew soldiers and the peoples of non-Russian nationalities into close contact with the Russian revolutionaries.
  • Hoping to satisfy his imperial ambitions by annexing Constantinople and the Straits of the Dardanelles, the Czar took Russia into the First World War.
  • This proved fatal and brought about the final breakdown of the Russian autocracy.
  • Corruption in the state resulted in great suffering among the people. There was a shortage of bread.
  • The Russian army suffered heavy reverses. By February 1917, 600,000 soldiers had been killed in war.
  • The condition was ripe for a revolution.

Beginning of the Revolution:

  • Minor incidents usually ‘set off revolutions.
  • In the case of the Russian Revolution it was a demonstration by working-class women trying to purchase bread.
  • A general strike of workers followed, in which soldiers and others soon joined.
  • Soon the revolutionaries took Moscow, the Czar gave up his throne and the first Provisional Government was formed on 15 March.
  • The fall of the Czar is known as the February Revolution because, according to old Russian calendar, it occurred on 27 February 1917.
  • The fall of the Czar, however, marked only the beginning of the revolution.
  • As head of the Petrograd Soviet, he was one of the most outstanding leaders of the November uprising.
  • An All Russian Congress of Soviets met on the same day and assumed full political power.
  • This event which took place on 7 November is known as the October Revolution because of the corresponding date of the old Russian calendar, 25 October.
  • These first acts of the new government were hailed as the beginning of the era of socialism.
  • The October Revolution had been almost completely peaceful.
  • However, soon the new state was involved in a civil war.

HCS Complete Study Notes

रूस की क्रांति

  • जार के घोषणापत्र ने लोगों को भड़का दिया तथा उन्हें क्रांति के लिए तैयार कर दिया |
  • इसने सैनिकों तथा गैर-रुसी राष्ट्रवादियों को रुसी क्रांतिकारियों के साथ निकट संपर्क में आकर्षित किया |
  • कस्तुन्तुनिया (कांस्टेंटिनोपल ) तथा दार्दानेल्ज़ की जलसंधि पर कब्ज़ा करके अपनी साम्राज्यवादी महत्वाकांक्षाओं को संतुष्ट करने की उम्मीद में, जार ने रूस को प्रथम विश्व युद्ध में धकेल दिया |
  • यह कदम घातक सिद्ध हुआ तथा रुसी निरंकुश राजतंत्र का पतन लेकर आया |
  • देश में भ्रष्टाचार की वजह से लोगों को बहुत पीड़ा होती थी | देश में रोटी की कमी थी |
  • रुसी सेनाओं को भारी पराजयों का सामना करना पड़ा था | फरवरी 1917 तक, 600,000 सैनिक युद्ध में मारे जा चुके थे |
  • यह स्थिति क्रांति के लिए परिपक्व थी |

क्रांति की शुरुआत :

  • क्रांति अक्सर छोटी या मामूली घटनाओं से शुरू होती है |
  • रुसी क्रांति के मामले में, यह कामकाजी वर्ग की महिलाओं द्वारा एक प्रदर्शन था जो वे रोटी खरीदने के लिए कर रही थीं |
  • इसके बाद श्रमिकों की एक सामान्य हड़ताल हुई जिसमें शीघ्र ही सैनिक एवं अन्य लोग भी शामिल हो गए |
  • जल्द ही, क्रांतिकारियों ने मॉस्को पर अधिकार कर लिया, एवं जार ने अपनी गद्दी त्याग दी तथा प्रथम अस्थायी सरकार का गठन 15 मार्च को हुआ |
  • जार के पतन को फरवरी क्रांति के नाम से जाना जाता है क्योंकि पुराने रुसी कैलेंडर के अनुसार, यह घटना 27 फरवरी 1917 को हुई |
  • जार के पतन ने, हालाँकि, केवल क्रांति की शुरुआत को चिन्हित किया |
  • पेट्रोग्राद सोवियत के अध्यक्ष के रूप में, वह नवम्बर विद्रोह के सबसे उत्कृष्ट नेताओं में से एक था |
  • अखिल रुसी सोवियत कांग्रेस की बैठक उसी दिन हुई तथा पूर्ण राज-सत्ता ग्रहण कर लिया |
  • 7 नवंबर को घटित हुई इस घटना को पुराने रुसी कैलेंडर की इसी तारीख, 25 अक्टूबर के कारण   अक्टूबर क्रांति के नाम से जाना जाता है |
  • नयी सरकार के इन नए अधिनियमों का स्वागत समाजवाद के युग की शुरुआत के रूप में किया गया |
  • अक्टूबर क्रांति लगभग शांतिपूर्ण रही थी |
  • हालाँकि शीघ्र ही नया राष्ट्र गृहयुद्ध में उलझ गया |

Consequences of revolution:

  • The overthrow of autocracy and the destruction of the aristocracy and the power of the church were the first achievements of the Russian Revolution
  • The Czarist empire was transformed into a new state called the Union of Soviet Socialist Republics (U.S.S.R) for short Soviet Union.
  • The policies of the new state were to be directed to the realization of the old socialist ideal, ‘from each according to his capacity, to each according to his work’.
  • Economic planning by the state was adopted to build a technologically advanced economy at a fast rate and to eliminate glaring inequalities in society.
  • Work became an essential requirement for every person there was no unearned income to live on.
  • The right to work became a constitutional right and it became the duty of the state to provide employment to every individual.
  • After about 70 years of the revolution, the system collapsed and in 1991 the Soviet Union ceased to exist as a state.
  • In its impact on the world, the Russian Revolution had few parallels in history.
  • The ideas of socialism which the socialist movement had been advocating and which the Russian Revolution espoused were intended for universal application.
  • The Russian Revolution was the first successful revolution in history which proclaimed the building of a socialist society as its objective.

Comintern:

  • Soon after the revolution, the Communist International (also known as the Third International or Comintern) was formed for promoting revolutions on an international scale.
  • The split in the socialist movement was done at the time of the First World War
  • The left wing sections in many socialist parties now formed themselves into communist parties and they affiliated themselves to the Comintern.
  • However, the formation of communist parties in many countries of the world with the objective of bringing about revolution and following common policies was a major consequence of the Russian Revolution.
  • With the formation of the Comintern, the socialist movement was divided into two sections – socialist and communist.
  • There were many differences between them on the methods of bringing about socialism and about the concept of socialism itself.
  • Many problems which were considered national began to be looked upon as concerns of the world as a whole.
  • The universality and internationalism which were fundamental principles of socialist ideology from the beginning were totally opposed to imperialism.

क्रांति के परिणाम :

  • निरंकुश राजतंत्र तथा कुलीनतंत्र एवं चर्च की शक्तियों का विनाश इस रुसी क्रांति की प्रथम उपलब्धियाँ थीं |
  • जार के साम्राज्य को एक नए राज्य में परिवर्तित कर दिया गया जिसे छोटे सोवियत संघ के लिए  सोवियत समाजवादी गणतंत्रों का संघ कहा      गया|
  • नए राष्ट्र की नीतियाँ पुराने समाजवादी आदर्शों की प्राप्ति के लिए निर्दिष्ट थीं, अर्थात् – “हरेक से अपनी क्षमतानुसार, हरेक को उसके कार्यानुसार” |
  • राष्ट्र द्वारा आर्थिक नियोजन को अपनाया गया ताकि तीव्र गति से तकनीकी रूप से एक उन्नत अर्थव्यवस्था का निर्माण किया जा सके तथा समाज में अतिस्पष्ट असमानताओं को दूर किया जा सके  |
  • कार्य करना प्रत्येक व्यक्ति के लिए एक अनिवार्य आवश्यकता बन गया क्योंकि गुज़ारा करने के लिए अब कोई अनर्जित आय नहीं थी |
  • कार्य करने का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार बन गया तथा प्रत्येक व्यक्ति को रोज़गार प्रदान करना राज्य का कर्त्तव्य हो गया |
  • क्रांति के करीब 70 वर्षों के बाद, यह व्यवस्था भंग हो गयी तथा वर्ष 1991 में सोवियत संघ का एक राष्ट्र के रूप में अस्तित्व समाप्त हो गया |
  • विश्व पर इसके प्रभाव में, इतिहास में रुसी क्रांति की कुछ समानताएं थीं |
  • समाजवाद की जिस विचारधारा की वकालत समाजवादी आंदोलन में की जा रही थी तथा जिसका समर्थन रुसी क्रांति में किया गया था, वह विचारधारा सर्वव्यापी प्रयोग के लिए अभिप्रेत थी |
  • रुसी क्रांति इतिहास की पहली सफल क्रांति थी जिसने अपने उद्देश्य के रूप में समाजवादी समाज के निर्माण की घोषणा की थी |

कम्युनिस्ट इंटरनेशनल (Comintern) :

  • क्रांति के बाद शीघ्र ही, कम्युनिस्ट इंटरनेशनल (जिसे तृतीय इंटरनेशनल या  Comintern के नाम से भी जाना जाता है ) का निर्माण अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्रांतियों को प्रोत्साहित करने  के लिए किया गया था |
  • समाजवादी आन्दोलन में दरार प्रथम विश्व युद्ध के समय पड़ी थी |
  • कई समाजवादी दलों में वामपंथी वर्गों ने अपने आप को साम्यवादी दलों में शामिल कर लिया तथा उन्होंने खुद को कम्युनिस्ट इंटरनेशनल से सम्बद्ध कर लिया |
  • हालाँकि, क्रांति लाने तथा साझा नीतियों का पालन करने के उद्देश्य से विश्व के कई देशों में साम्यवादी दलों का गठन रुसी क्रांति का एक प्रमुख परिणाम था |
  • कम्युनिस्ट इंटरनेशनल के निर्माण के साथ ही समाजवादी आंदोलन दो वर्गों – समाजवादी तथा साम्यवादी, में विभाजित हो गया |
  • समाजवाद को लाने के तरीकों तथा स्वयं समाजवाद की अवधारणा को लेकर ही उनमें काफी मतभेद थे |
  • कई समस्याएँ जिन्हें राष्ट्रीय माना जाता था, उन्हें पूरे विश्व की समस्याओं के रूप में देखा जाने लगा |
  • अन्तर्राष्ट्रवाद तथा सार्वभौमिकता जो शुरुआत से ही समाजवादी विचारधारा के बुनियादी सिद्धांत थे, वे पूरी तरह से साम्राज्यवाद का विरोध करते थे |  

World between World war I and World war II:

  • Hardly twenty years had passed since the end of the First World War, when, in 1939, the Second World War broke out.
  • It was the most destructive war in history which affected the life of the people in every part of the globe.

Between the wars

  • The twenty years between the First and Second World Wars were a period of tremendous changes all over the world.
  • Many developments took place in Europe which paved the way for the outbreak of the Second World War.
  • A major economic crisis took place during this period which affected almost every part of the world
  • In Asia and Africa, the period saw an unprecedented awakening of the peoples which found its fulfilment after the Second World War.

Europe between the wars:

  • The misery caused by the First World War influenced the political developments in many countries.
  • Germany became a republic.
  • The proclamation of the republic did not satisfy the German revolutionaries who attempted another uprising in January 1919. The uprising was, however, suppressed.
  • However, within a few years in many countries of Europe, the socialist movements were defeated and dictatorial governments came to power.
  • These governments not only suppressed socialist movements but also destroyed democracy.
  • The emergence of dictatorial governments in Europe in this period had dangerous consequences not only for the peoples of Europe but for the whole world.

प्रथम एवं द्वितीय विश्व युद्ध के बीच दुनिया :

  • प्रथम विश्व युद्ध को समाप्त हुए मुश्किल से 20 वर्ष ही हुए थे कि वर्ष 1939 में द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हो गया |
  • यह इतिहास का सबसे विनाशकारी युद्ध था जिसने दुनिया के हर भाग में लोगों के जीवन को प्रभावित किया |

युद्धों के बीच

  • प्रथम एवं द्वितीय विश्व युद्ध के बीच के 20 वर्ष समूचे विश्व में महत्वपूर्ण बदलावों की अवधि थे |
  • यूरोप में कई ऐसी घटनाएँ घटित हुईं जिन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत का मार्ग तैयार किया|
  • इस अवधि के दौरान एक बड़ी आर्थिक मंदी आई जिसने विश्व के लगभग सभी भागों को प्रभावित किया |
  • एशिया तथा अफ्रीका में, इस अवधि में लोगों में अभूतपूर्व उत्तेजना देखी गयी जिसकी संतृप्ति द्वितीय विश्व युद्ध के बाद हुई |

युद्धों के बीच यूरोप :

  • प्रथम विश्व युद्ध की वजह से उत्पन्न विपत्तियों ने कई देशों के राजनीतिक विकास पर प्रभाव डाला |
  • जर्मनी एक गणतंत्र हो गया |
  • गणतांत्रिक होने की घोषणा जर्मन क्रांतिकारियों को संतुष्ट नहीं कर पायी जिन्होंने जनवरी 1919 में एक अन्य विद्रोह का प्रयास किया | हालाँकि, इस विद्रोह का दमन कर दिया गया |
  • हालाँकि, कुछ वर्षों के भीतर ही यूरोप के कई देशों में, समाजवादी आन्दोलनों को नाकाम कर दिया गया  तथा तानाशाह सरकारें सत्ता में आ गयीं |
  • इन सरकारों ने ना केवल समाजवादी आंदोलनों का दमन किया बल्कि लोकतंत्र को भी भंग कर दिया |
  • यूरोप में तानाशाही सरकारों का उदय ना केवल लोगों बल्कि पूरी दुनिया पर खतरनाक परिणामों को लेकर आया |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

 

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!