HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

HCS Complete Study Material | Online Study Notes | Geography

Geophysical Phenomenon : Volcanism

Volcanism

  • Volcanism is the phenomenon of eruption of molten rock (magma) onto the surface of the Earth or a solid-surface planet or moon, where lava, pyroclastics and volcanic gases erupt through a break in the surface called a vent.
  • Such vents or openings occur in those parts of the earth’s crust where the rock strata are relatively weak.

Causes of Volcanism

  • Tremendous amount of heat generated by the chemical reactions of radioactive substances deep within the interior of the earth.
  • Heat captured at the center of earth during earth’s formation.

Lava types in Volcanism

Andesitic/ Acidic /Composite / Strato Volcanic lava

  • Highly viscous lava with a high melting point.
  • Light-colored, of low density
  • Have a high percentage of silica.
  • They flow slowly and seldom travel far before solidifying. The resultant cone is therefore steep sided.

Basic or Basaltic or Shield lava

  • Hottest lavas, about 1,000°C. (1,830°F.) and are highly fluid.
  • Dark colored like basalt
  • Rich in iron and magnesium but poor in silica.

HCS Complete Study Material

ज्वालामुखीयता

  • ज्वालामुखीयता  पृथ्वी अथवा किसी कठोर सतह वाले ग्रह या चन्द्रमा  की सतह पर पिघली हुई चट्टान (मैग्मा) का विस्फोट है जहाँ लावा, पायरोप्लास्टिक और ज्वालामुखीय गैसें सतह के विखंडित होने से निकलने लगती है जिसे निकास नालिका (वेंट) कहते  है |
  • इस तरह की निकास नलिका अथवा छिद्र पृथ्व्वी की पर्पटी के उस भाग में पाए जाते है जहाँ पर चट्टान की सतह अपेक्षाकृत दुर्बल हो |

ज्वालामुखी के कारण

  • पृथ्वी के गहन आंतरिक भाग में रेडियोधर्मी पदार्थों के रासायनिक अभिक्रियाओं द्वारा प्रचुर मात्रा में ऊष्मा का निकलना |
  • पृथ्वी के गठन के दौरान पृथ्वी के केंद्र पर ऊष्मा का एकत्रित होना |

ज्वालामुखी में  लावा के प्रकार

एंडेसाइट/अम्लीय/मिश्रित/सयोंजक ज्वालामुखी लावा

  • लावा अत्यधिक शयन एवं उच्च गलनांक वाला होता है |
  • रंग में हल्का एवं निम्न घनत्व वाला होता है |
  • सिलिका का उच्च प्रतिशत पाया जाता है |
  • जमने से पहले ये धीरे धीरे चलते है कभी कभी लम्बी दुरी तक भी | इसलिए परिणामस्वरूप जो शंकु बनता है वह सीधे किनारे का होता है |

बेसाल्टिक अथवा शील्ड लावा

  • सबसे अधिक गर्म लावा, लगभग 1,000 डिग्री सेल्सियस (1,830 डिग्री फ़ारेनहाइट) और अत्यधिक प्रवाही है।
  • बेसाल्ट की तरह यह गहरे रंग का होता है |
  • लौह और मैग्नीशियम में समृद्ध लेकिन सिलिका की कमी होती है |

Types of volcanoes

On the basis of nature of eruption

Active Volcano:

  • Keeps on ejecting volcanic material at frequent intervals.

Example: Mt Etna (Italy), Mt Stromboli -Lighthouse of the Mediterranean sea, Barren Island in India.

Dormant Volcano:

  • One in which eruption has not occurred for a long time but can occur any time in future.

Cinder Cone Volcanoes:

  • Cinders are extrusive igneous rocks.
  • A more modern name for cinder is Scoria.
  • Cinder cones are the simplest type of volcano.

Caldera:

  • These are the most explosive of the earth’s volcanoes.
  • Usually so explosive that when they erupt they tend to collapse on themselves rather than building any tall structure.

Mid-Ocean Ridge Volcanoes

  • These volcanoes occur in the oceanic areas.
  • There is a system of mid-ocean ridges more than 70,000 km long that stretches through all the ocean basins.

ज्वालामुखी के प्रकार

विस्फोट की प्रकृति के आधार पर

सक्रिय ज्वालामुखी:

  • यह लगातार अंतराल पर ज्वालामुखी सामग्री को निकालते रहता है।

उदाहरण: माउंट एटना (इटली), माउंट स्ट्रोंबोली- भूमध्यसागरीय का बिजली घर , भारत में बैरन द्वीप

निष्क्रिय ज्वालामुखी:

  • जिन में विस्फोट लंबे समय तक नहीं हुआ है, लेकिन भविष्य में किसी भी समय हो सकता है।

सिंडर शंकु ज्वालामुखी:

  • सिंडर निःस्त्रावण की आग्नेय चट्टानें है |
  • सिंडर का आधुनिक नाम स्कोरिया है।
  • सिंडर शंकु ज्वालामुखी का सबसे सरल प्रकार है |

ज्वालामुखी कुंड

  • ये पृथ्वी पर पाए जाने वाले सबसे अधिक विस्फोटक ज्वालामुखी हैं |
  • आम तौर पर ये इतने विस्फोटक होते हैं कि जब इनमे विस्फोट होता है तब वे ऊँचा ढांचा बनाने की बजाय स्वयं नीचे धंस जाते है |

मध्य महासागरीय कटक ज्वालामुखी

  • इन ज्वालामुखियों का उद्गार महासागरों में होता है |
  • मध्य महासागरीय कटक एक श्रृंखला है जो 70,000 किमी से अधिक लंबी है और जो सभी महासागरीय बेसिनों में फैली  है |

Distribution of volcanoes in the world

  • Since the 16th century, around 480 volcanoes have been reported to be active.
  • Of these, nearly 400 are located in and around the Pacific Ocean and 80 are in the mid-world belt across the Mediterranean Sea, Alpine-Himalayan belt and in the Atlantic and Indian Oceans.

Regions with active volcanism along ‘Pacific Ring of Fire’

  • Aleutian Islands into Kam­chatka, Japan, the Philippines, and Indonesia Pacific islands of Solomon, New Hebrides, Tonga and North Island, New Zealand.
  • Andes to Central America (particularly Guatemala, Costa Rica and Nicaragua), Mexico and right up to Alaska.

Great Rift region

  • In Africa some volcanoes are found along the East African Rift Valley.

Example:

  • Kilimanjaro and Mt. Kenya, both probably extinct.
  • The only active volcano of West Africa is Mt. Cameroon.
  • There are some volcanic cones in Madagascar, but active eruption has not been known so far.

The West Indian islands

  • The West Indian islands have experienced some violent ex­plosions in recent times. E.g. Pelee.
  • The Lesser Antilles (Part of West Indies Islands) are made up mainly of volcanic islands and some of them still bear signs of volcanic liveliness.

Mediterranean volcanism

  • Mainly associated with the Alpine folds, e.g. Vesuvius, Stromboli (Light House of the Mediterranean) and those of the Aegean islands.

Destructive Effects of Volcanoes

  • Can be a greatly damaging natural disaster. The damage is caused by advancing lava which engulfs whole cities.
  • Showers of cinders and bombs can cause damage to life.
  • Violent earthquakes associated with the volcanic activity and mudflows of volcanic ash saturated by heavy rain can bury nearby places.

विश्व में ज्वालामुखियों का आबंटन

  • 16 वीं शताब्दी के बाद से लगभग 480 ज्वालामुखी सक्रिय पाए गए हैं।
  • इनमें से लगभग 400 प्रशांत महासागर में और 80 विश्व बेल्ट में भूमध्य सागर के आस पास, अल्पाइन-हिमालयन बेल्ट और अटलांटिक और हिन्द महासागर में पाए जाते है |   

‘प्रशांत रिंग ऑफ़ फायर’ में  सक्रिय ज्वालामुखी क्षेत्र:-

  • अल्यूत द्वीपसमूह में कमचटका,जापान फिलीपींस और सोलोमन के इंडोनेशिया प्रशांत द्वीपों में  न्यू हेब्रिड्स, टोंगा और उत्तरी द्वीप न्यूज़ीलैंड |
  • एंडिस से मध्य अमेरिका (विशेष रूप से ग्वाटेमाला, कोस्टा रिका और निकारागुआ), मैक्सिको एवं दायी ओर  अलास्का तक

ग्रेट रिफ्ट क्षेत्र

  • अफ्रीका में पूर्वी अफ्रीकी रिफ्ट घाटी के साथ कुछ ज्वालामुखी पाए जाते हैं।

उदाहरण:

  • किलिमंजारो और माउंट केन्या, दोनों लगभग मृत ज्वालामुखी है |
  • पश्चिम अफ्रीका का एकमात्र सक्रिय ज्वालामुखी माउंट कैमरून है
  • मेडागास्कर में कुछ ज्वालामुखीय शंकु हैं, लेकिन सक्रिय विस्फोट अब तक ज्ञात नहीं है |

पश्चिम भारतीय द्वीपसमूह

  • पश्चिम भारतीय द्वीपों ने हाल के दिनों में कुछ तीव्र विस्फोट झेलें है जैसे माऊंट  पीली
  • लघु एंटिल्स (वेस्ट इंडीज द्वीपसमूह का हिस्सा) मुख्य रूप से ज्वालामुखीय द्वीपों के बने होते हैं और इनमें से कुछ अभी भी ज्वालामुखीय जीवंतता के संकेत देते हैं |

भूमध्य ज्वालामुखीवाद

  • यह मुख्य रूप से अल्पाइन वलितों से संबंधित है जैसे वेसुवियस पर्वत,स्ट्राम्बोली  (भूमध्य सागर का बिजली घर) एवं वे सब जो एजियन द्वीपों में है |

ज्वालामुखी के विध्वंसकारक प्रभाव

  • यह बहुत ही हानिकारक प्राकृतिक आपदा हो सकता है
  • लावा की मात्रा बढ़ने से सारा शहर खतरे की चपेट में आ सकता है |
  • सिंडरों और बम के झड़ने से जीवन को भी नुकसान पहुँचता है |

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply