HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

HCS 2018 Sociology Notes | Online Exam Preparation | PCS RAS Examination

Classification of Power:-

  • According to Weber, Power is defined as, “the chance of a man or a number of men to realize their own will in a communal action even against the resistance of others who are participating in the action”.
  • Power is an aspect of social relationships.
  • An individual or group do not hold power in isolation, they hold it in relation  to others.
  • Power is therefore, power over others.

Depending on the circumstances surrounding its use, sociologists classify power in two categories:

  • Legitimate Power: When power is used in a way that is generally recognised as socially right and necessary, it is called legitimate power.
  • Illegitimate Power: Power used to control others without the support of social approval is referred to as illegitimate power.
  • Authority is that form of power which is accepted as legitimate, as right and just, and therefore obeyed on that basis.
  • When power is legitimized it becomes authority and only then it is accepted by people voluntarily.
  • Coercion is that form of power which is not regarded as legitimate by those subject to it.
  • E.g. Govt. agents demanding and receiving sales tax from a shopkeeper are using legitimate power; gangsters demanding and receiving protection money from the same shopkeeper by threat of violence uses illegitimate power.
  • When power gets institutionalized and comes to be accepted as legitimate by those  on whom it is being exercised, it is termed authority.
  • Max Weber argued that the nature of authority is shaped by the manner in which legitimacy is acquired.
  • Weber identified three ideal types of authority systems:
    1. Traditional Authority
    2. Charismatic Authority
    3. Legal-Rational Authority

Traditional Authority

  • The traditional authority is the characteristic of those societies where the ‘traditional action’ is predominant.
  • Traditional action is based on established custom.
  • An individual acts in a certain way because of an ingrained habit, because things have always been done that way.
  • In such societies where traditional action is a predominant mode of behaviour, exercise of power is seen as legitimate when it is consonance with the tradition and conforms to the customary rules.
  • Such type of authority was termed by Weber as Traditional Authority.

Weber identified two forms of traditional authority:

  1. Patriarchalism
  2. Patrimonialism

Patriarchalism

  • In Patriarchalism, authority is distributed on the basis of gerontocratic principles.
  • Thus the right to exercise authority is vested in the eldest male member.
  • This type of authority is found in case of very small scale societies like the Bushmen of Kalahari desert or in case of extended kin groups in agrarian societies like lineage or joint families in India.

Patrimonialism

  • According to Weber, patriarchal domination has developed by having subordinate sons of the patriarch or other dependents take over land and authority from the ruler, and a patrimonial state can develop from it.
  • In the patrimonial states, such as Egypt under the Pharaohs, ancient China, the Inca state, the Jesuit state in Paraguay, or Russia under the czars, the ruler controls his country like a giant princely estate.
  • The master exercises unlimited power over his subjects, the military force and the legal system.
  • Patrimonial dominance is a typical example of the traditional exercise of power in which the legitimacy of the ruler and the relationships between him and his subjects are derived from tradition.
  • Patrimonialism is characterized by the existence of hereditary office of a king or a chief and an administrative staff consisting of courtiers and favourites who together from a nascent bureaucracy.
  • The king or the chief exercises absolute and arbitrary power according to customary rules.

शक्ति का वर्गीकरण –

  • वेबर ने, शक्ति को, “किसी एक व्यक्ति व व्यक्तियों के एक समूह का एक सांप्रदायिक क्रिया में उनके स्वयं के इच्छा को उसी क्रिया में भाग ले रहे अन्य के विरोध के विरुद्ध पहचानने के अवसर” के रूप में परिभाषित किया है |
  • शक्ति सामाजिक संबंधों का एक पहलू है |
  • एक व्यक्ति या समूह शक्ति अधिग्रहण व्यक्तिगत सम्बन्ध में नहीं, बल्कि अन्य के संबंधों में करते हैं |
  • इसलिए शक्ति, अन्यों के ऊपर शासन है |

इसके प्रयोग के आसपास की परिस्थितियों के आधार पर समाजशास्त्रियों ने शक्ति का वर्गीकरण दो श्रेणियों में किया है :

  • वैध शक्ति : जब शक्तियों का प्रयोग उस विधि में किया जाता है जो कि सामान्यतः सामाजिक रूप से उचित व अनिवार्य हो, तो इसे वैध शक्ति कहा जाता है |
  • अवैध शक्ति : जब शक्तियों का प्रयोग सामाजिक सहमति के बिना दूसरों पर नियन्त्रण करने के लिए किया जाता है तो इसे अवैध शक्ति कहा जाता है |
  • जब शक्ति वैध होती है तो यह प्राधिकार बन जाता है और सिर्फ तभी लोगों द्वारा इसे एच्छिक रूप से स्वीकार किया जाता है |
  • उदाहरण के लिए सरकारी सेवकों का दुकानदारों से विक्रय कर की मांग करना व उसे प्राप्त करना, वैध शक्तियों का प्रयोग करना है | वही दूसरी तरफ गैंगस्टर्स का हिंसा के प्रयोग द्वारा धमकी देकर समान दुकानदारों से मांग करना व उसे प्राप्त करना अवैध शक्तियों का प्रयोग करना है |
  • जन शक्तियां संस्थात्मक हो जाती है और उनके द्वारा, जिनपर इनका प्रयोग किया जाता है, इसे वैध रूप में स्वीकार किया जाता है तो इसे प्राधिकार शब्द से जाना जाता है |
  • मैक्स वेबर ने तर्क दिया कि प्राधिकार का स्वरूप उन तरीकों द्वारा निर्मित होता है जिसमें इसे वैधता की आवश्यकता होती है |
  • वेबर ने प्राधिकार प्रणालियों को तीन आदर्श प्रकार की व्याख्या की हैं :
    1. पारंपरिक प्राधिकार
    2. करिश्माई प्राधिकार
    3. क़ानूनी-तर्कसंगत प्राधिकार

प्राधिकार प्रणालियाँ

  • पारंपरिक प्राधिकार उन समाजों की विशेषता है जहाँ ‘पारंपरिक क्रिया’ प्रभावी है |
  • पारंपरिक क्रिया स्थापित रीतियों पर आधारित होती है |
  • एक व्यक्ति एक पक्की आदत के कारण एक निश्चित तरीके से कार्य करता है, क्योंकि चीजें हमेशा उन्ही तरीकों से की जाती रही हैं |
  • ऐसे समाजों में जहाँ पारंपरिक क्रिया व्यवहार का एक प्रभावी तरीका है, तो शक्ति का प्रयोग वैध रूप में देखा जाता है जब यह परंपरा के अनुरूप होती है व परंपरागत नियमों के अनुरूप होता है |
  • इस प्रकार के प्राधिकार को वेबर ने पारंपरिक प्राधिकार के रूप में परिभाषित किया है |
  • वेबर ने पारंपरिक प्राधिकार के दो प्रारूपों की व्याख्या की है :
  1. पित्तंत्रात्वाद
  2. वंशवाद

पित्तंत्रात्वाद

  • पित्तंत्रात्वाद में, अधिकार का वितरण वृद्ध-तंत्री सिद्धांतों के आधार पर किया जाता है |
  • इस प्रकार शक्तियों के प्रयोग का अधिकार सबसे बुजुर्ग सदस्य में निहित होता है |
  • इस प्रकार के प्राधिकार लघु स्तरीय समाजों जैसे कालाहारी मरुभूमि के बुशमेन या भारत में संयुक्त परिवारों या वंशावली जैसे कृषि समाजों में विस्तारित परिजन समूह के मामले में देखा जा सकता है |

वंशवाद

  • वेबर के अनुसार, कुलपति या अन्य आश्रितों के अधीनस्थ के बेटे द्वारा पितृसत्तात्मक वर्चस्व का विकास हुआ है जो कि शासक से भूमि व अधिकार को ले लेते हैं व इससे एक वंशवाद राष्ट्र की स्थापना की जा सकती है |
  • सत्तारूढ़ राष्ट्रों में जैसे मिस्त्र के फिरौन, प्राचीन चीन, इन्का राज्य, पैराग्वे में ईसाई राज्य या रूस के ज़ार में शासक अपने देश का नियंत्रण एक विशाल राजसी संपत्ति की तरह करता है |
  • शासक अपने प्रजा, सैन्य शक्ति व क़ानूनी प्रणाली के ऊपर असीमित शक्तियों का प्रयोग करता है |
  • वंशावली का प्रभुत्व शक्ति के पारंपरिक प्रयोग का एक प्रमुख उदाहरण है जिसमें शासक की वैधता और उसके व उसके प्रजा के बीच के सम्बन्ध परंपरा से उत्पन्न होते हैं |
  • वंशवाद को एक राजा या एक प्रमुख के वंशानुगत पद के अस्तित्व और दरबारियों व प्रियों से सजे हुए प्रशासनिक स्टाफ, जो  एक नए नौकरशाही से बनता है, के द्वारा बताया जाता है |
  • राजा या प्रमुख परम्परावादी नियमों के अनुसार पूर्ण व विवेकाधीन शक्तियों का प्रयोग करता है |

Charismatic Authority

  • Charisma refers to a certain quality of an individual’s personality by virtue of which he is set apart from ordinary men and treated as endowed with supernatural, superhuman or exceptional power or qualities.
  • These qualities are regarded as of divine origin and on the basis of them the individual concerned is treated as a leader and is revered.
  • Charismatic authority gains prominence in the times of crisis when other forms of authority prove inadequate to deal with the situation.
  • At such times, heroes who help to win the wars or people with the reputation for therapeutic wisdom come to regarded as saviours in times of epidemics or prophets in times of general moral crisis come to acquire charismatic authority.
  • The charismatic staff is chosen in terms of the charismatic qualities of its members not on the basis of social privilege or from the point of view of social loyalty.
  • There is nothing as appointment, career or promotion. There is only a call of the leader on the basis of his charismatic qualities.
  • There is no hierarchy, the leader merely intervenes in general or in individual cases when he considers the members of his staff inadequate to a task which they have been entrusted with.
  • Often there is no definite sphere of authority and of competence though there may be territorial mission.
  • There is no such thing as salary or benefit. Followers lived primarily in communal relationship with their leaders.
  • There is no system of formal rules or legal principles or judicial process oriented to them.
  • The charismatic movement, with its charismatic authority differs on several important points from both traditional organizations and bureaucracy.
  • Charisma is a force that is fundamentally outside everyday life and whether it be political or religious charisma, it is a revolutionary force in history that is capable of breaking down both traditional and rational patterns of living.
  • The forces of a charismatic leader lies outside the routine of everyday life and the problem arises when it is incorporated in a routine everyday life.
  • Weber termed it as “Routinization of Charisma” happens when the leader and the followers want to make ‘it possible to participate in normal family relations or at least to enjoy a secure social position.
  • When this happens charismatic message is changed into dogma, doctrine, regulations, law or rigid tradition and the charismatic movement develops into either a traditional or a bureaucratic organization or a combination of both.

करिश्माई प्राधिकार

  • करिश्मा का अर्थ एक व्यक्ति के व्यक्तित्व के एक निश्चित विशेषता जिसके कारण उसे साधारण व्यक्तियों से अलग कर लिया जाता है और अलौकिक, अमानवीय या असाधारण शक्तियों या विशेषताओं से संपन्न की तरह माना जाता है |
  • इन विशेषताओं को दिव्य मूल की तरह माना जाता है और इसके आधार पर सम्बंधित व्यक्ति को नेता माना जाता है और सम्मानित किया जाता है |
  • संकट के समय करिश्माई प्राधिकरण का महत्त्व कई गुना बढ़ जाता है जब परिस्थिति से निपटने के लिए प्राधिकरण के अन्य रूप अपर्याप्त साबित हो जाते हैं |
  • ऐसे परिस्थितियों में, वे नायक जो युद्ध जीतने में सहायक होते हैं या चिकित्सीय ज्ञान के लिए प्रसिद्ध व्यक्ति महामारी के समय रक्षक के रूप में माने जाते हैं या सामान्य नैतिक संकट, जो कि करिश्माई प्राधिकार के लिए उत्पन्न होते हैं, के समय भविष्यवक्ता के रूप में माने जाते हैं |
  • करिश्माई स्टाफ इसके सदस्यों के करिश्माई गुणों के सन्दर्भों में चयन किये जाते हैं न कि सामाजिक विशेषाधिकार के आधार पर या सामाजिक वफादारी के दृष्टिकोण से |
  • इसमें नियुक्ति, करियर या पदोन्नति जैसी कोई परिस्थिति नहीं होती है | इसमें सिर्फ और सिर्फ एक सदस्य की करिश्माई गुणों के आधार पर नेता के रूप में उसका चयन किया जाता है |
  • इसमें कोई पदक्रम नहीं होता है, नेता सिर्फ सामान्य या व्यक्तिगत मामलों में ही हस्तक्षेप करता है जब वह अपने स्टाफ के सदस्यों को उस कार्य के लिए अपर्याप्त मानता है जो उन्हें सौंपी जाती है |
  • प्रायः प्राधिकार या क्षमता का कोई निश्चित क्षेत्र नहीं होता है, हालाँकि कोई क्षेत्रीय मिशन हो सकता है |
  • इसमें वेतन या लाभ जैसी कोई वस्तु नहीं होती है | अनुयायी अपने नेताओं के साथ सांप्रदायिक रिश्ते में मुख्यतः रहते हैं |
  • इसमें लोगों से जुड़े हुए औपचारिक नियमों या क़ानूनी सिद्धांतों या न्यायिक प्रक्रिया की कोई व्यवस्था नहीं होती है |
  • करिश्माई आन्दोलन, अपने करिश्माई प्राधिकार के साथ कई महत्वपूर्ण दृष्टिकोणों जैसे कि पारंपरिक संगठनों व नौकरशाही दोनों में ही परिवर्तित होते हैं |
  • चाहे यह करिश्मा राजनीतिक हो या धार्मिक, यह एक ताकत है जो कि मूल रूप से दैनिक जीवन से अलग होता है और यह इतिहास में एक क्रांतिकारी ताकत है जो लोगों के पारंपरिक व विवेकी दोनों तरह के शैलियों को तोड़ने में सक्षम है |
  • एक करिश्माई नेता की शक्तियां दैनिक जीवन के दिनचर्या से अलग होती हैं और समस्या तब उत्पन्न होती हैं जब इसे दैनिक जीवन के दिनचर्या के साथ शामिल किया जाता है |
  • वेबर ने कहा है कि “करिश्मा का दिनचर्याकरण” तब होता है जब नेता व उसके अनुयायी चाहते हैं कि यह संभव हो कि सामान्य पारिवारिक सम्बन्ध भी इसमें भागीदार बनें व या कम से कम एक सुरक्षित सामाजिक स्थिति के वे हिस्सेदार बनकर उसका आनंद लें |
  • जब यह स्थिति उत्पन्न होती है तो करिश्माई सन्देश, सिद्धांतवाद या डॉक्ट्रिन, विनियमन, कानून या अनम्य परंपरा में परिवर्तित हो जाता है और करिश्माई आन्दोलन या तो एक पारंपरिक या एक नौकरशाही संगठन या दोनों का एक समुच्चय में विकसित हो जाता है |

Reasons behind instability of charismatic authority

  • Charismatic authority is the product of a crisis situation and lasts so long as the crisis lasts. Once the crisis is over, it has to adapted to everyday matters.
  • Striving for security – This means legitimizing on one hand of the position of authority and on the other hand of the economic advantages enjoyed by the followers of the leader.
  • Objective necessity of adaptation of the patterns of order, of the organization and of the administrative staff to the normal, everyday needs and conditions of carrying on the administration.
  • There is a problem of succession which renders charismatic authority unstable since basis of authority is the personal charisma of the leader.
  • Discontinuity is inevitable since it is not easy to find a successor who also possesses those charismatic qualities.
  • One of the solutions to the problem of discontinuity is to transform the charisma of the individual into the charisma of the office which can be translated to every incumbent of the office by ritual means. E.g. the transmission of the charisma of a royal authority by anointing or by coronation.

करिश्माई प्राधिकरण के अस्थायित्व के कारण

  • करिश्माई प्राधिकरण एक आपातकालीन परिस्थिति की देन है और जब तक यह संकट नहीं ख़त्म हो जाता है तब तक यह प्राधिकरण भी चलता रहता है | एक बार संकट के ख़त्म होने के बाद, इसे दैनिक मामलों को अपनाना ही पड़ता है |
  • सुरक्षा हेतु प्रयासरत – इसका अर्थ है कि प्राधिकार के एक तरफ वैध होना और दूसरी तरफ नेता के अनुयायी द्वारा आर्थिक लाभों का आनंद लेना |
  • आदेश, संगठन व प्रशासनिक स्टाफ के शैलियों को सामान्य, दैनिक जरूरतों व प्रशासन के संचालित परिस्थितियों में अपनाये जाने का अनिवार्य लक्ष्य |
  • इसमें उत्तराधिकार की समस्या होती है जो कि करिश्माई प्राधिकरण को अस्थायी बना देता है क्योंकि प्राधिकरण का आधार नेता का निजी करिश्मा होता है |
  • इसकी निरंतरता का समापन होना अपरिहार्य है क्योंकि इसमें यह संभव नहीं होता है कि समान करिश्माई गुणों वाले किसी एक उत्तराधिकारी का चयन किया जा सके |
  • निरंतरता के समापन का एक समाधान यह है कि निजी करिश्मा को पद की करिश्मा में परिवर्तित कर दिया जाए, जिसका हस्तांतरण अनुष्ठानी माध्यमों द्वारा पद के प्रत्येक पदधारी में किया जा सकता है | उदाहरण के लिए एक शाही प्राधिकरण के करिश्मा का अभिषेक या राज्याभिषेक द्वारा संचरण |

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!