Haryana Budget Analysis 2018-19 || Best Study Material- Haryana Economy

Haryana Budget Analysis 2018-19 || Best Study Material- Haryana Economy

Haryana Budget Analysis 2018-19 || Best Study Material- Haryana Economy

Haryana Budget Analysis 2018-19 || Best Study Material- Haryana Economy

Haryana Budget Analysis 2018-19 || Best Study Material- Haryana Economy

Haryana Budget Analysis 2018-19

  • The Finance Minister of Haryana, Captain Abhimanyu, presented the Budget for financial year 2018-19 on March 9, 2018.

Budget Highlights  –

  • The Gross State Domestic Product of Haryana for 2018-19 (at current prices) is estimated to be Rs 6,87,572 crore. This is 13% higher than the revised estimates for 2017-18.  
  • Total expenditure for 2018-19 is estimated to be Rs 1,02,733 crore, a 9.7% increase over the revised estimates of 2017-18. In 2017-18, there was an increase of Rs 1,301 crore (1.4%) in the expenditure over the budget estimates.

हरियाणा बजट विश्लेषण 2018-19

  • हरियाणा के वित्त मंत्री, कप्तान अभिमन्यु ने 9 मार्च, 2018 को वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए बजट प्रस्तुत किया।

बजट के मुख्य बिंदु-

  • 2018-19 (मौजूदा कीमतों पर) के लिए हरियाणा का  राज्य सकल घरेलू उत्पाद 6,87,572 करोड़ रुपये होने का अनुमान है। यह 2017-18 के संशोधित अनुमानों की तुलना से 13% अधिक है।
  • 2018-19 के लिए कुल व्यय 1,02,733 करोड़ रुपये होने का अनुमान है, यह 2017-18 के संशोधित अनुमानों में 9.7% की वृद्धि है। 2017-18 में, व्यय में बजट के अनुमान से 1,301 करोड़ रुपये (1.4%) की वृद्धि हुई ।

Expenditure in 2018-19 –

  • Capital expenditure for 2018-19 is proposed to be Rs 17,546 crore, which is an increase of 14% over the revised estimates of 2017-18. This includes  expenditure which affects the assets and liabilities of the state, and leads to creation of assets (such as bridges and hospital), and repayment of loans, among others.
  • Revenue expenditure for 2018-19 is proposed to be Rs 85,187 crore, which is an increase of 9% over revised estimates of 2017-18. This expenditure includes payment of salaries, maintenance, etc.

2018-19 में व्यय –

  • 2018-19 के लिए पूंजीगत व्यय 17,546 करोड़ रुपये होने का प्रस्ताव है, जो 2017-18 के संशोधित अनुमानों पर 14% की वृद्धि है। यह व्यय राज्य की संपत्तियों और देनदारियों को प्रभावित करता है, और इसमें संपत्तियों के निर्माण (जैसे पुलों और अस्पताल), और ऋण के पुनर्भुगतान भी शामिल है।
  • 2018-19 के लिए राजस्व व्यय 85,187 करोड़ रुपये होने का प्रस्ताव है, इसमें 2017-18 के संशोधित अनुमानों में 9% की वृद्धि है। इस व्यय में वेतन, रखरखाव इत्यादि का भुगतान भी शामिल है।

Receipts in 2018-19

  • The total revenue receipts for 2018-19 are estimated to be Rs 76,933 crore, an increase of 9.8% over the revised estimates of 2017-18. Of this, Rs 60,434 crore will be raised by the state through its own resources (79% of the revenue receipts), and Rs 16,499 crore will be devolved by the centre in the form of grants and the state’s share in taxes (21% of the revenue receipts).

2018-19 में प्राप्तियां –

  • 2017-19 के लिए कुल राजस्व प्राप्तियां 2017-18 के संशोधित अनुमानों के मुकाबले 9 .8% की वृद्धि के साथ 76, 9 33 करोड़ रुपये होने का अनुमान है। इनमें से 60,434 करोड़ रुपये राज्य द्वारा अपने संसाधनों (राजस्व प्राप्तियों का 79%) के माध्यम से उठाए जाएंगे, और 16,49 9 करोड़ रुपये अनुदान के रूप में केंद्र द्वारा और करों में राज्य का हिस्सा (21% राजस्व प्राप्तियां) दिया जायेगा।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!