Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate of Haryana- Geography Study Material & Notes in English/Hindi

Climate, Soils and rivers of Haryana

Climate

Haryana has continental climate with extreme heat in summer and bitter cold winters. Rainfall is low and erratic.

  1. Temperature : Very hot summers and very cold winters are characteristics of haryana’s climate. The maximum temperature in May and June reaches 48 degrees. January is the coldest month with the temperature reaching almost freezing temperature(0 degree).
  2. Rainfall : The rainy season is from July to September. The range of rains vary from 160mm to 751mm. Rainfall is unevenly distributed with Shiwalik hills being the wettest. The average rainfall in state is 45 cm.

जलवायु

हरियाणा की जलवायु महाद्वीपीय है।यहाँ ग्रीष्मकालीन मौसम में अधिक गर्मी और सर्दी में अधिक सर्दी होती है। यहाँ वर्षा कम और अनियमित है।

  1. तापमान : बहुत तेज गर्मी और बहुत अधिक सर्दी हरियाणा की पहचान है।यहाँ मई और जून में अधिकतम तापमान 48 डिग्री तक पहुंचता है। जनवरी सबसे ठंडा महीना है जहां तापमान लगभग ठंडे तापमान (0 डिग्री) तक पहुंच जाता है।
  2. बारिश : बरसात का मौसम जुलाई से सितंबर तक होता है। बारिश की सीमा 160 मिमी से 751 मिमी तक भिन्न-भिन्न होती है। यहाँ वर्षा असमान रूप से वितरित है शिवलिक पहाड़ियों में सबसे ज्यादा बारिश होती है | राज्य में वर्षा का औसत  45 सेमी है।

Rivers and Lakes

  1. Yamuna – It enters Haryana near Kalesar forest in Yamuna Nagar district. It flows along the districts of Yamuna Nagar, Karnal, Panipat, Sonipat and leaves Haryana near Hasanpur in district Faridabad.
  2. Ghaggar – It is a seasonal river. It is believed to be the remaining evidence of the river Saraswati. It enters Haryana near Pinjore. It passes through Ambala and Hisar and then enters Rajasthan.

नदियां और झीलें

  1. यमुना – यह यमुना नगर जिले के कालेसर जंगल के पास से हरियाणा में प्रवेश करती है। यह यमुना नगर, करनाल, पानीपत, सोनीपत जिलों से होकर बहती है और फरीदाबाद में हसनपुर के पास हरियाणा से बाहर निकलती  है।
  2. घग्गर – यह एक मौसमी नदी है। माना जाता है कि यह सरस्वती नदी का शेष सबूत है। यह पिंजौर के पास से हरियाणा में प्रवेश करती है। यह अंबाला और हिसार से गुजरती है और फिर राजस्थान में प्रवेश करता है।

Soils

  1. Very light soil :

This soil is rich in lime. It is also known as sandy loam soil. This soil dries very soon and have very weak power of soaking water. This soil is found in dry places like southern parts of sirsa, Hisar, Fatehabad, Bhiwani and Mahendragarh.

  1. Light Soil :

It is a soil with mixed  characteristics of sandy loam soil and loam soils. This soil is rich in sand and comparatively high power of soaking water. This soil is found in Hisar, Bhiwani, Rewari, Sirsa, Jhajjar and Gurugram.

मृदा

  1. बहुत हल्की मिट्टी :

यह मिट्टी चूना में समृद्ध है। इसे बलुआ दोमट मिटटी के रूप में भी जाना जाता है। यह मिट्टी बहुत जल्द सूख जाती है और इसकी पानी सोखने की शक्ति बहुत कमजोर होती है। यह मिट्टी सिरसा, हिसार, फतेहाबाद, भिवानी और महेंद्रगढ़ के दक्षिणी हिस्सों जैसे शुष्क स्थानों में पाई जाती है।

  1. लाइट मृदा :

यह बलुआ दोमट मिटटी और दोमट मिटटी के बीच की मिटटी होती है। यह मिट्टी बालू में समृद्ध है और इसकी पानी सोखने की शक्ति तुलनात्मक रूप से अच्छी है। यह मिट्टी हिसार, भिवानी, रेवारी, सिरसा, झज्जर और गुरुग्राम में पाई जाती है।

 

For More Articles You Can Visit On Below Links :

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time.

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)

IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    

  RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC  IAS (Prelims+Mains+Interview)

Click Here to subscribe Our YouTube Channel

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!