UPSC/HCS/RAS Civil Service Day 36 Art and Culture-Bhakti Movement MCQ

UPSC/HCS/RAS Civil Service Day 36 Art and Culture-Bhakti Movement MCQ

UPSC/HCS/RAS Civil Service Day 36 Art and Culture-Bhakti Movement MCQ

UPSC/HCS/RAS Civil Service Day 36 Art and Culture-Bhakti Movement MCQ

 

 

Dear aspirants,

Welcome to Frontier IAS online coaching classes. Frontier IAS is a part of Pinnacle New Era Education Pvt. Ltd.  Frontier IAS provides guidance for the preparation of UPSC/HCS/RAS Civil Service. Frontier IAS has started Indian Art and Culture questions series for UPSC/HCS/RAS aspirants.

Questions from Indian art and culture come in both prelims and mains (GS1) in UPSC Civil Service Examination. In GS1, the syllabus of Indian culture covers the salient aspects of Art Forms, Literature and Architecture from ancient to modern times. This is a very easy topic if you get a basic idea regarding what to study and what not to study in Indian culture. Clearing the basic ideas on key topics will help you improve your score. Practising these MCQs provided by us can help you improve your knowledge and perform better in the actual exam.

Frontier IAS team brings you an MCQ series on various topics of Indian Art and Culture. You can solve it in your leisure time and use your time more productively while surfing the internet. So, here comes UPSC/HCS/RAS Civil Service Day 36 Art and Culture-Bhakti Movement MCQ.

Frontier IAS

 

UPSC/HCS/RAS Civil Service Day 36 Art and Culture-Bhakti Movement MCQ

Q1. Consider the following statements about Bhakti movement./ भक्ति आन्दोलन के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें|

  1. It wanted to bring direct relation with God surpassing priests and intermediaries./ यह बिचौलियों तथा पुजारियों से श्रेष्ठ होकर ईश्वर के साथ प्रत्यक्ष सम्बन्ध लाना चाहता था |
  2. It originated in Nashik and then spread to South India./ इसकी उत्पत्ति नासिक में हुई तथा फिर यह दक्षिण भारत में फ़ैल गया |
  3. Nayanars (Vishnu devotees) and Alwars (Shiva devotees) are the two main groups of Bhakti saints./ भक्ति संतों के दो प्रमुख समूह नायनार ( विष्णु भक्त) तथा अलवार( शिव भक्त) हैं |
  4. Vernacular languages were used to make it popular./ इसे लोकप्रिय बनाने के लिए स्थानीय भाषाओं का इस्तेमाल किया गया था|

Select the correct code/ सही विकल्प का चयन करें:

  1. 1 and 4/ 1 और 4
  2. 2 and 3/2 और 3
  3. 1, 3 and 4/1,3  और 4
  4. 1, 2, 3 and 4/1,2,3 और 4

 

Q2. Which of the following statements are true about Bhakti movement in North India (Vaishnavite movement)?/ उत्तर भारत में भक्ति आन्दोलन (वैष्णव आन्दोलन)  के बारे में निम्नलिखित कौन से कथन सत्य हैं?

  1. It focused on the life of Krishna as a focal point of devotion./ यह भक्ति के केंद्र बिंदु के रूप में कृष्ण के जीवन पर केन्द्रित था|
  2. It mainly concentrated on the childhood of Krishna which became part of Bhagavata Purana./ इसने मुख्य रूप से कृष्ण के बचपन पर ध्यान केन्द्रित किया जो भागवत पुराण का हिस्सा बना |
  3. Bhakti saints undertook the translation of these works to local language./ भक्ति संतों ने इन कार्यों का स्थानीय भाषाओं में अनुवाद प्रारम्भ किया |

Select the correct code/ सही विकल्प का चयन करें:

  1. 1 only/ केवल 1
  2. 2 and 3/ 2 और 3
  3. 1 and 2/1 और 2
  4. 1, 2 and 3/1,2, और 3

 

Q3. The following statements are about characteristics of Bhakti movement. Identify the correct answer./ निम्नलिखित कथन भक्ति आन्दोलन की विशेषताओं के बारे में हैं| सही कथन की पहचान करें|

  1. One has to surrender before God to liberate from the Earth /पृथ्वी से मोक्ष प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को ईश्वर के समक्ष आत्मसमर्पण करना होता है|
  2. The saints believed that one can worship many number of Gods with Bhakti./ संत यह विश्वास करते थे की कोई व्यक्ति भक्ति के साथ कई ईश्वरों की पूजा कर सकता है |
  3. Belief in the brotherhood/ भातृत्व में विश्वास
  4. Followed the system of guru and shishya/ गुरु तथा शिष्य की प्रणाली का अनुगमन

Select the correct code/ सही विकल्प का चयन करें:

  1. 3 and 4/3 और 4
  2. 1 and 2/1 और 2
  3. 1, 3 and 4/1,3 और 4
  4. 1, 2, 3 and 4/1,2,3 और 4

 

Q4. Bhakti movement was started with certain objectives. Identify them from the following statements./ भक्ति आन्दोलन की शुरुआत कुछ निश्चित उद्देश्यों के साथ की गयी थी | निम्नलिखित कथनों में से उनकी पहचान करें |

  1. To fight the discrimination of people based on caste, creed and religion./ धर्म, जाति तथा वर्ण के आधार पर लोगों के भेदभाव से लड़ना |
  2. It opposed sati practice and the female infanticide. / इसने कन्या भ्रूण हत्या तथा सती प्रथा का विरोध किया |
  3. It proposed women to renounce worldly life and join community-based kirtans./ इसने महिलाओं को सांसारिक बेड़ियाँ त्याग देने तथा समुदाय आधारित कीर्तनों में शामिल होने का प्रस्ताव दिया|
  4. It opposed all the other religions except Hinduism./ हिन्दू धर्म के अलावा इसने बाकी सभी धर्मों का विरोध किया |

Select the correct code/ सही विकल्प का चयन करें:

  1. 1 and 4/1 और 4
  2. 3 and 4/3 और 4
  3. 1, 2 and 3/1,2, और 3
  4. 2, 3 and 4/2,3 और 4

 

Q5. The following are some statements about the important personalities of Bhakti movement./ निम्न कथन भक्ति आन्दोलन के प्रमुख व्यक्तित्वों के बारे में हैं|

  1. Kabir believed in oneness of God and rejected idol worshipping and pujas./ कबीर ईश्वर के एकत्व में विश्वास करते थे तथा उन्होंने मूर्ति पूजा तथा अन्य पूजनों का विरोध किया |
  2. Guru Nanak supported sacrifices to God but rejected rituals./ गुरु नानक ने बलिदानों का समर्थन किया किन्तु अनुष्ठानों को नकार दिया |
  3. According to Guru Nanak, one can attain salvation by living the life of a householder./ गुरु नानक के अनुसार, व्यक्ति गृहस्थ जीवन जी कर मुक्ति की प्राप्ति कर सकता है |
  4. The works of Guru Nanak were also compiled in Guru Granth Sahib./ गुरु नानक की रचनाओं को गुरु ग्रन्थ साहिब में भी संकलित किया गया था |

Select the correct code/ सही विकल्प का चयन करें :

  1. 1 and 3/ 1 और 3
  2. 1, 3 and 4/1,3 और 4
  3. 2 and 4/2 और 4
  4. 1, 2, 3 and 4/ 1,2,3 और 4

 

Frontier IAS

 

Answers:

1.Correct option is (a) 1 and 4/1 और 4

Explanation:

  • Bhakti movement meant to take the message of God directly to people without any intermediaries and priests./ भक्ति आन्दोलन का उद्देश्य ईश्वर के संदेशों को बिना बिचौलियों एवं पुजारियों के सीधे लोगों तक ले जाना था |
  • It was originated in Tamil Nadu between 7th and 12th century at the time of Sufi movement. Later, it was spread to North India by the end of 15th century./ इसकी उत्पत्ति सूफी आन्दोलन के समय तमिलनाडु में 7वीं से 12वीं शताब्दी के बीच हुई | इसके बाद, 15वीं शताब्दी तक यह उत्तर भारत में फ़ैल गया |
  • The two main groups of Bhakti movement are: Nayanars (Shiva devotees) and Alvars (Vishnu devotees)./ भक्ति आन्दोलन के दो प्रमुख समूह हैं: नायनार (शिव भक्त) तथा अलवार (विष्णु भक्त)
  • The poetry is mainly focused on the love between God and devotee./ कविताएं मुख्य रूप से ईश्वर तथा भक्त के बीच प्रेम पर केन्द्रित होती हैं |
  • The poetry was written in vernacular languages like Telugu and Tamil so that people can understand easily./ कवितायें स्थानीय भाषाओं जैसे तेलगु तथा तमिल में लिखी गयी थीं ताकि लोग आसानी से समझ सकें |

 

2.Correct option is (d) 1, 2 and 3/1,2 और 3

Explanation:

  • The Bhakti movement was heavily influenced by Vaishnavite movement which focussed on the life of lord Krishna./ भक्ति आन्दोलन वैष्णव आन्दोलन से काफी ज्यादा प्रभावित था जिसने कृष्ण के जीवन पर ध्यान केन्द्रित किया |
  • It concentrated mainly on the younger follies and early childhood of Krishna which became part of Bhagavata Purana./ इसने मुख्य रूप से कृष्ण के बचपन तथा यौवन की शरारतो पर ध्यान केन्द्रित किया जो भागवत पुराण का हिस्सा बना|
  • In order to reach out more to the common people, Bhakti saints translated these works in Sanskrit to local languages like Hindi, Marathi, Bengali, kashmiri, Rajasthani, Punjabi and Assamese./ अधिक से अधिक आम जनों तक पंहुचने के लिए, भक्ति संतों ने संस्कृत में लिखित रचनाओं का स्थानीय भाषाओं जैसे हिन्दी, मराठी, बंगाली, कश्मीरी, राजस्थानी, पंजाबी तथा असमिया आदि  में अनुवाद किया  |
  • Some of the Bhakti saints in North India are Surdas, Kabir, Namdev, Bihari, Guru Nanak, Shankaradeva, Chandidas, Chaitanya Mahaprabhu, Jnanadeva, Lalla etc./ सूरदास, कबीर, नामदेव, बिहारी, गुरु नानक, शंकरदेव, चंडीदास, चैतन्य महाप्रभु, जनंदेव, लल्ल आदि उत्तर भारत के कुछ प्रमुख भक्ति संत हैं |

 

3.Correct option is (c) 1, 3 and 4/ 1,3 और 4

Explanation:

  • There are two forms of worship in Hinduism: Saguna (Worship of God in the form of images) or Nirguna (formless worship)./ हिन्दू धर्म में भक्ति के दो रूप हैं: सगुण ( मूर्तियों के रूप में ईश्वर की पूजा) तथा निर्गुण ( निराकार पूजा)
  • They believed in oneness of God./ वे ईश्वर के एकत्व में विश्वास करते थे|
  • According to them, one has to surrender oneself before God to attain liberation from this Earth./ उनके अनुसार, पृथ्वी से मोक्ष प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को ईश्वर के समक्ष समर्पण करना होता है|
  • They believed in the brotherhood of the human beings like Sufi philosophy./सूफी दर्शन की भांति, वे  मनुष्यों के भातृत्व में विश्वास करते थे |
  • They also followed the system of Guru and Shishya./ उन्होंने गुरु तथा शिष्य की प्रणाली का भी  अनुगमन किया |

 

4.Correct option is (c) 1, 2 and 3/1,2 और 3

Explanation:

  • The main objective of Bhakti movement was to fight against the discrimination of humans on the basis of caste, creed and religion./ भक्ति आन्दोलन का मुख्य उद्देश्य धर्म, जाति तथा पंथ के आधार पर मनुष्यों के भेदभाव से लड़ना था|
  • The saints rejected institutionalised religion and proposed several reforms. But they didn’t opposed all the other religions except Hinduism. In fact, it supported sufi philosophy./ संतों ने संस्थागत धर्म को नकार दिया तथा कई सुधारों का प्रस्ताव दिया | किन्तु, उन्होंने हिन्दू धर्म के अलावा  अन्य सभी धर्मों का विरोध नहीं किया | बल्कि इसने तो सूफी दर्शन का समर्थन किया |
  • The movement raised voice against sati practice and female infanticide. It also asked women to leave all their bindings and join community-based kirtans./ इस आन्दोलन ने सती प्रथा तथा भ्रूण हत्या के खिलाफ आवाज़ उठाई | इसने महिलाओं से अपनी सभी बेड़ियों को तोड़ने तथा सामुदायिक कीर्तन में शामिल होने को कहा |

 

5.Correct option is (b) 1, 3 and 4/1,3 और 4

Explanation:

Kabir/ कबीर:

  • Believed that the creator is one who is called by different names./  वे मानते थे कि सृष्टिकर्ता एक है जो अलग अलग नामों से पुकारा जाता है |
  • Rejected icon worshipping and other pujas/ मूर्ति पूजा तथा अन्य पूजनों का विरोध किया |
  • Supported praying with simplicity/ सरलता तथा प्रार्थना का समर्थन किया |

Guru Nanak/ गुरु नानक

  • denounced idol worship, sacrifices, piligrimage of holy shrines and rituals./ मूर्ति पूजा, बलिदानों, धार्मिक स्थलों की तीर्थयात्रा तथा अनुष्ठानों की निंदा की |
  • One should be pure at heart, character and conduct/ व्यक्ति का ह्रदय, चरित्र तथा आचरण शुद्ध होना चाहिए|
  • One needs to live the life of a householder to attain salvation/ व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त करने के लिए गृहस्थ जीवन जीने की आवश्यकता है |

His works were compiled in Guru Granth Sahib/ उनकी रचनाओं का संकलन गुरु ग्रन्थ साहिब में किया गया था |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)    IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC IAS(Prelims+Mains)

 

All the best!!

 

You may like similar other articles click here

 

No Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!